कहानी- अर्द्धविराम