कहानी- मन्नत के सिक्के