कहानी- लाखों में…1 (Story Series- Lakhon Mein…1)

नैना ने झटके से अपना वॉर्डरोब खोला. एक सरसरी नज़र डालकर पट बंद करके वहीं बैठ गई. दिल धड़का. वह तो ...

कहानी- लाखों में…2 (Story Series- Lakhon Mein…2)

“पापा, आप समझ नहीं रहे हैं. गिटार के प्रति उसकी दीवानगी इस कदर है कि मैं सामने बैठी हूं, नहीं हूं, ...

कहानी- लाखों में…3 (Story Series- Lakhon Mein…3)

“ओफ़्फ़ो मम्मी! आप क्या जानो आर्टिस्ट क्या होता है? सुर साधना किसे कहते हैं? पिछले एक हफ़्ते से ...