कहानी- व़क्त का एक टुकड़ा