कहानी- सपने का दुख 1 (Story Series- Sapne Ka Dukh 1)

यह मज़ाक जैसा ही तो है कि किसी ब्लैंक कॉल करनेवाले व्यक्ति के प्रेम में डूब जाऊं. बिना आवाज़ सुने, ...

कहानी- सपने का दुख 2 (Story Series- Sapne Ka Dukh 2)

मैं काफ़ी देर तक ऐसे ही खड़ी रही. दिल हां करता और दिमाग़ मानने को तैयार न था. अजीब कशमकश थी. लग रहा था ...

कहानी- सपने का दुख 3 (Story Series- Sapne Ka Dukh 3)

हमने आंखों से ज़्यादा बात की थी. शायद हम आंखों की भाषा ज़्यादा समझते थे. एक दिन वो मुझे दिखा. मैंने ...