कहानी- हरी गोद 1 (Story Series- Hari Godh 1)

कहने को तो पूरा परिवार देवी मां का परम भक्त था, लगभग रोज़ ही किसी न किसी घर में देवी मां के नाम पर ...

कहानी- हरी गोद 2 (Story Series- Hari Godh 2)

“वो क्या रोकता. वो तो अपनी मां का पिछलग्गू था. मैंने भी सोचा, परे हटाओ ऐसे मरद को, जो दुख-दरद में ...

कहानी- हरी गोद 3 (Story Series- Hari Godh 3)

“आत्मा की मुक्ति अपने अच्छे-बुरे कर्मों से होती है, किसी कर्मकांड से नहीं और आज एक बात कान ...