कहानी- सामनेवाली खिड़की 1 (Story Series- Samnewali Khidki 1)

आंगन में मां धूप सेंक रही थीं, “हो गई सफ़ाई बेटी?” मेरे होंठों पर हल्की-सी मुस्कान तैर गई. रोज़ यही ...

कहानी- सामनेवाली खिड़की 2 (Story Series- Samnewali Khidki 2)

रात में बिस्तर पर करवटें बदलती रही, पता नहीं कैसा शख़्स है वो. पूरे मुहल्ले में किसी से भी उसका ...

कहानी- सामनेवाली खिड़की 3 (Story Series- Samnewali Khidki 3)

मुझे रह-रहकर रोना आ रहा था. आंसुओं से धुंधलाई आंखों से मैंने उस कमरे का मुआयना किया. व्हीलचेयर, ...