बर्थडे स्पेशल

बॉलीवुड की कई फ़िल्मों में अपने अभिनय से दर्शकों के दिलों को जीतने वाले हैंडसम एक्टर सिद्धार्थ मल्होत्रा आज अपना बर्थडे सेलिब्रेट कर रहे हैं. सिद्धार्थ मल्होत्रा का जन्म 16 जनवरी 1985 को दिल्ली में हुआ था. उन्होंने दिल्ली में अपनी स्कूली पढ़ाई और कॉलेज की पढ़ाई पूरी की थी. महज 18 साल की उम्र में ही सिद्धार्थ मल्होत्रा ने मॉडलिंग की दुनिया में कदम रखा, लेकिन किस्मत को शायद कुछ और ही मंजूर था, इसलिए एक कामयाब मॉडल होते हुए भी वो बॉलीवुड के ‘एक विलेन’ बन गए. सिद्धार्थ मल्होत्रा के बर्थडे पर चलिए जानते हैं उनकी ज़िंदगी से जुड़ी खास बातें.

Siddharth Malhotra
Picture Courtesy: Instagram

बॉलीवुड के मशहूर एक्टर होने के साथ-साथ सिद्धार्थ मल्होत्रा मॉडलिंग की दुनिया का एक मशहूर चेहरा भी हैं. बताया जाता है कि शुरुआत में अपने निजी खर्चों को पूरा करने के लिए सिद्धार्थ ने मॉडलिंग शुरु की थी, लेकिन बाद में उन्होंने लंबे समय तक मॉडलिंग की दुनिया में काम किया. उन्होंने सिर्फ देश ही नहीं, बल्कि विदेशों में भी मॉडलिंग करके खूब शोहरत हासिल की. लंबे समय तक मॉडलिंग करने के बाद उन्होंने फ़िल्मी दुनिया का रुख किया.

Siddharth Malhotra
Picture Courtesy: Instagram

एक इंटरव्यू में सिद्धार्थ ने अपने करियर के शुरुआत दिनों का ज़िक्र करते हुए बताया था कि उन्होंने फ़िल्म ‘दोस्ताना’ में बतौर असिस्टेंट डायरेक्टर काम करने से पहले एडवर्टाइज़िंग में भी अपनी किस्मत आज़माई थी. साल 2008 में उन्हें प्रियंका चोपड़ा के अपोज़िट फ़िल्म ‘फैशन’ में काम करने का ऑफर मिला, लेकिन मॉडलिंग मैगज़ीन के साथ हुए करार की वजह से यह फ़िल्म उनके हाथ से निकल गई. यह भी पढ़ें: Birthday Special: नील नितिन मुकेश के तीन नामों के पीछे छुपा है यह राज़, जानें एक्टर की ज़िंदगी से जुड़े कुछ ऐसे ही अनसुने किस्से (What is Secret Behind The Three Names of Neil Nitin Mukesh, Know Some Unknown Facts About the Actor)

Siddharth Malhotra
Picture Courtesy: Instagram

बॉलीवुड के फेमस फ़िल्म मेकर करण जौहर ने सिद्धार्थ मल्होत्रा को फ़िल्म ‘माय नेम इज़ खान’ में सह निर्देशक के तौर पर काम करने का मौका दिया था. इसके बाद उन्होंने साल 2012 में करण जौहर की फ़िल्म ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ से बतौर एक्टर अपने करियर की शुरुआत की थी. इसी फ़िल्म से उनके साथ एक्टर वरुण धवन और अभिनेत्री आलिया भट्ट ने भी अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत की थी.

Siddharth Malhotra
Picture Courtesy: Instagram

हालांकि साल 2014 में आई फ़िल्म ‘एक विलेन’ सिद्धार्थ के फ़िल्मी करियर की सबसे कामयाब फ़िल्म साबित हुई. बॉक्स ऑफिस पर इस फ़िल्म ने धमाल मचा दिया और ‘एक विलेन’ बने सिद्धार्थ ने अपनी दमदार एक्टिंग से दर्शकों का दिल जीत लिया. यहां तक कि सलमान खान भी उनकी एक्टिंग से बेहद प्रभावित हुए और उन्हें एक डिज़ाइनर घड़ी तोहफे में दी.

Siddharth Malhotra
Picture Courtesy: Instagram

बता दें कि फ़िल्मी दुनिया में अपने लिए जगह बनाना सिद्धार्थ के लिए इतना आसान भी नहीं था. एक्टर ने एक इंटरव्यू में बताया था कि वो अपने पहले ऑडिशन में रिजेक्ट हो गए थे, जिसके बाद उन्हें एक ऐड में काम करने का ऑफर मिला. हालांकि इसके बाद भी उन्हें कई बार रिजेक्शन का सामना करना पड़ा, बावजूद इसके उन्होंने हार नहीं मानी और आज उनका नाम बॉलीवुड के बड़े सितारों में शुमार है.

Siddharth Malhotra
Picture Courtesy: Instagram

बेशक सिद्धार्थ एक अच्छे एक्टर हैं, लेकिन वो एक शानदार रग्बी खिलाड़ी भी हैं. उन्हें प्रकृति से खास लगाव है, इसलिए उन्हें जब भी मौका मिलता है वो प्रकृति की गोद में अपना समय बिताना पसंद करते हैं. सिद्धार्थ अपनी फिटनेस का भी खास तौर पर ख्याल रखते हैं. उनका कहना है कि अगर वो एक्सराइज़ नहीं करते हैं तो उन्हें बेचैनी होती है. एक्सरसाइज़ करने के अलावा वो हफ्ते में दो बार रनिंग और स्विमिंग करना पसंद करते हैं.

Siddharth Malhotra
Picture Courtesy: Instagram

अपनी फ़िल्मों से ज्यादा सिद्धार्थ मल्होत्रा अपनी लव लाइफ को लेकर सुर्खियां बटोरते रहते हैं. उनका नाम सबसे पहले आलिया भट्ट से जुड़ा था, लेकिन कुछ समय बाद दोनों का ब्रेकअप हो गया. इसके बाद सिद्धार्थ का नाम कैटरीना कैफ के साथ जुड़ा और अब कियारा आडवाणी के साथ रिलेशनशिप को लेकर सिद्धार्थ सुर्खियों में हैं. कई मौकों पर सिद्धार्थ और कियारा को साथ में स्पॉट किया गया है. यह भी पढ़ें: #BirthdaySpecial रितिक रोशन- कृष 3 के सेट पर कंगना के साथ कुछ ग़लतफ़हमियां हुई थीं… (Happy Birthday To Hrithik Roshan)

Siddharth Malhotra
Picture Courtesy: Instagram

गौरतलब है कि साल 2012 में करण जौहर की फ़िल्म ‘स्टूडेंट ऑफ द ईयर’ से अपने फ़िल्मी सफर की शुरुआत करने वाले सिद्धार्थ मल्होत्रा ‘एक विलेन’, ‘मरजावां’, ‘कपूर एंड सन्स’, ‘हंसी तो फंसी’, ‘बार-बार देखो’, ‘जबरिया जोड़ी’, ‘ब्रदर’, ‘इत्तेफाक’ और ‘अय्यार’ जैसी कई फ़िल्मों में नज़र आ चुके हैं. बॉलीवुड के इस यंग एक्टर को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं.

बॉलीवुड के हैंडसम एक्टर्स में शुमार नील नितिन मुकेश आज 38 साल के हो गए हैं. उनका जन्म 15 जनवरी 1982 को मुंबई में हुआ था. फ़िल्मी बैकग्राउंड से होने के कारण शुरुआत से ही नील नितिन मुकेश की एक्टिंग में दिलचस्पी रही है. नील नितिन मुकेश मशहूर गायक नितिन मुकेश के बेटे हैं और अनुभवी गायक मुकेश के पोते हैं. एक इंटरव्यू के दौरान नील ने यह कुबूल किया था कि सिंगिंग उनका शौक है, लेकिन एक्टिंग उनका जुनून है. बेशक नील ने कई फ़िल्मों में अपनी दमदार एक्टिंग से दर्शकों के दिलों में एक खास जगह बनाई है, लेकिन सोलो सुपरहिट फ़िल्म देने में उन्हें अब तक कोई खास कामयाबी नहीं मिली है.

क्या आपने कभी यह सोचा है कि नील नितिन मुकेश नाम के पीछे आखिर कौन सा राज़ छुपा है? चलिए नील नितिन मुकेश के बर्थडे के इस खास मौके पर जानते हैं उनकी ज़िंदगी से जुड़े कुछ अनसुने किस्से…

Neil Nitin Mukesh

नील नितिन मुकेश का नाम बॉलीवुड की स्वर कोकिला लता मंगेशकर ने एस्ट्रोनॉट नील आर्मस्ट्रांग के नाम पर रखा था. आपको जानकर हैरानी होगी कि वो अक्सर अपने तीन नामों को लेकर किसी न किसी मज़ाक का हिस्सा बन जाते हैं. हालांकि उनका असली नाम नील नितिन मुकेश चंद माथुर है. एक्टर ने अपने तीन नामों के रहस्य के बारे एक इंटरव्यू के दौरान बताया था. यह भी पढ़ें: #BirthdaySpecial रितिक रोशन- कृष 3 के सेट पर कंगना के साथ कुछ ग़लतफ़हमियां हुई थीं… (Happy Birthday To Hrithik Roshan)

Neil Nitin Mukesh

उन्होंने खुलासा किया था कि मेरा असली नाम नील माथुर है. यह कॉलेज में एडमिशन पाने के दौरान का वाकया है, जब मैं एडमिशन पाने से लगभग चूक गया था, तभी अचानक चपरासी ‘कल्चरल कोटा’ कहकर चिल्लाता है. ऐसे में मेरे पास फॉर्म पाने का कोई और रास्ता नज़र नहीं आया. इस आखिरी मौके को मैं अपने हाथ से जाने नहीं देना चाहता था, इसलिए मैंने अपना नाम नील नितिन मुकेश बताया, ताकि मेरे फैमिली बैकग्राउंड के आधार पर मुझे एडमिशन मिल सके.

Neil Nitin Mukesh

एक्टर की मानें तो इन तीन नामों के महत्व का एहसास उन्हें तब हुआ, जब प्रिसिंपल ने उन्हें अपने ऑफिस में बुलाया और बताया कि नील आप इन तीन अद्वितीय नामों के ज़रिए तीन पीढ़ियों को आगे ले जा रहे हैं. इन नामों के ज़रिए आप अपने माता-पिता को गौरवान्वित करें. प्रिसिंपल की बात सुनने के बाद उन्होंने इस नाम के साथ आगे बढ़ने का फैसला किया और आज उन्हें अपने नाम पर बहुत गर्व है.

Neil Nitin Mukesh

नील ने श्रीराम राघवन की थ्रिलर फ़िल्म ‘जॉनी गद्दार’ से बॉलीवुड में अपने करियर की शुरुआत की थी. इस फ़िल्म के लिए उन्हें फ़िल्मफेयर बेस्ट डेब्यू के लिए नॉमिनेट भी किया गया. इसके बाद उन्होंने ‘आ देखें ज़रा’, ‘न्यूयॉर्क’, ‘जेल’, ‘लफंगे-परिंदे’, ‘प्लेयर्स’ और ‘साहो’ जैसी कई फ़िल्मों में काम किया. हालांकि नील ने बाल कलाकार के तौर पर ‘विजय’ और ‘जैसी करनी वैसी भरनी’ फ़िल्म में भी काम किया था.

Neil Nitin Mukesh

अपने कॉलेज के दिनों में नील नितिन मुकेश आदित्य चोपड़ा की फ़िल्म ‘मुझसे दोस्ती करोगे’ के लिए असिस्टेंट डायरेक्टर के तौर पर काम किया था. एक्टर का कहना है उन्हें पहले लीड रोड प्ले करने का ऑफर मिला था, लेकिन वो एक लव स्टोरी से अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत नहीं करना चाहते थे, इसलिए उन्होंने इंतज़ार करने का विकल्प चुना.

Neil Nitin Mukesh

एक बेहतरीन एक्टर होने के साथ-साथ नील एक कमाल के मिमिक्री कलाकर भी हैं. वो मिथुन चक्रवर्ती, देव आनंद, सलमान खान और राज कपूर जैसे कई मशहूर सितारों की नकल कर सकते हैं.

Neil Nitin Mukesh

नील अपने बचपन को याद कर बताते हैं कि एक बच्चे के तौर पर वो अपने पिता और दादा के सिंगिंग प्रोफेशन को समझ नहीं पाते थे. उन्हें लगता था कि राज कपूर ही खुद गाने गाते हैं. उन्हें इस बात का एहसास तब तक नहीं हुआ, जब तक उन्होंने फ़िल्म ‘विजय’ के एक गाने के लिए खुद लिप सिंक नहीं किया.

Neil Nitin Mukesh

नील की लव लाइफ की बात करें तो उनका नाम फैशन डिज़ाइनर प्रियंका भाटिया के साथ जुड़ा था. बॉलीवुड में डेब्यू करने के बाद से ही नील और प्रियंका के रिलेशनशिप की खबरें सुर्खियां बटोरने लगी थीं, लेकिन दोनों का रिश्ता चंद दिनों का मेहमान निकला.

Neil Nitin Mukesh

इसके बाद साल 2010 में फ़िल्म ‘लफंगे-परिंदे’ में निल और दीपिका पादुकोण की जोड़ी नज़र आई थी. इस फ़िल्म के बाद दीपिका और नील के रिलेशनशिप की खबरें सामने आईं. यह भी पढ़ें: BirthdaySpecial दीपिका पादुकोण को लेकर इस स्टार को रहा है क्रश और उनकी फेवरेट भी हैं.. (Happy Birthday To Deepika Padukone)

Neil Nitin Mukesh

गौरतलब है कि नील नितिन मुकेश ने साल 2017 में रुक्मिनी सहाय से अरेंज मैरिज करके सबको चौंका दिया था. नील और रुक्मिनी की एक प्यारी सी बेटी भी है, जिसका नाम नुर्वी है. नील अक्सर अपनी बेटी की प्यारी तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर करते रहते हैं और फैन्स भी बेटी और पापा की क्यूट जोड़ी को बहुत पसंद करते हैं. नील नितिन मुकेश को उनके जन्मदिन की ढेर सारी शुभकामनाएं.

हिंदी सिनेमा जगत के ‘शोमैन’ कहे जाने वाले दिवंगत अभिनेता, निर्माता, निर्देशक राज कपूर का आज जन्मदिन हैं. उनका जन्म 14 दिसंबर 1924 को पाकिस्तान के पेशावर में हुआ था. उनका पूरा नाम रणबीर राज कपूर था. भले ही राज कपूर एक रसूखदार खानदार से ताल्लुक रखते थे, लेकिन उन्हें अपने करियर के लिए कड़ी मेहनत करनी पड़ी. फ़िल्म इंडस्ट्री में बतौर क्लैपर बॉय अपने करियर की शुरुआत करने वाले राज कपूर को एक थप्पड़ भी खाना पड़ा था. उनका नाम हिंदी सिनेमा की दिग्गज अभिनेत्री नरगिस से जुड़ा. कहा जाता है कि जब वे पहली बार नरगिस से मिले थे, तब उनका भोलापन उन्हें भा गया था. चलिए बॉलीवुड के शोमैन राज कपूर के जन्मदिन पर उनकी प्रेम कहानी के साथ ही जानते हैं उनकी ज़िंदगी का दिलचस्प सफर.

पाकिस्तान के पेशावर में जन्मे राज कपूर अपने पिता पृथ्वीराज कपूर के साथ मुंबई आए और मायानगरी मुंबई में अपनी ज़िंदगी की एक नई शुरुआत की. पिता पृथ्वीराज कपूर ने कहा था कि बेटा अगर नीचे से शुरुआत करोगे तो ऊपर तक जाओगे. उन्होंने पिता की इस बात पर अमल करते हुए 17 साल की उम्र में बतौर क्लैपर बॉय अपने करियर की शुरुआत की.

Raj Kapoor

कहा जाता है कि निर्देशक केदार शर्मा की एक फ़िल्म में बतौर क्लैपर बॉय उन्होंने एक बार इतनी ज़ोर से क्लैप किया कि फ़िल्म के हीरो की नकली दाढ़ी उसमें फंस गई. उनकी इस हरकत से गुस्साए केदार शर्मा ने उन्हें एक जोरदार चांटा मार दिया. इसी निर्देशक ने आगे चलकर अपनी फ़िल्म ‘नीलकमल’ में राज कपूर को बतौर नायक लिया था. यह भी पढ़ें: Birthday Special: ‘ट्रैजेडी किंग’ दिलीप कुमार के 10 दमदार फ़िल्मी डायलॉग, जो जीवन की वास्तविकता के हैं बेहद करीब (Birthday Special: Top 10 filmy dialogues of Bollywood’s Tragedy King Dilip Kumar)

Raj Kapoor

एक समय हिंदी सिनेमा पर राज करने वाले राज कपूर ने एक्टिंग कहीं से सीखी नहीं थी, बल्कि ये कला उन्हें विरासत में मिली थी. दरअसल, राज कपूर अपने पिता पृथ्वीराज कपूर के साथ रंगमंच पर काम करते थे और उनके अभिनय करियर की शुरुआत पृथ्वीराज थिएटर के मंच से ही हुई थी.

Raj Kapoor

राज कपूर की पढ़ाई-लिखाई की बात करें तो उनका मन पढ़ाई में नहीं लगता था, लिहाजा उन्होंने पढ़ाई छोड़ दी. राज कपूर ने साल 1935 में फ़िल्म ‘इकबाल’ में बतौर बला कलाकार काम किया, लेकिन बतौर लीड एक्टर उनकी पहली फ़िल्म ‘नीलकमल’ थी, जिसमें मधुबाला उनके अपोज़िट थीं.

Raj Kapoor

आपको जानकर हैरानी होगी कि बॉलीवुड फ़िल्मों में राज कपूर ने ही न्यूड सीन्स देने की शुरुआत की थी. उन्होंने मेरा नाम जोकर और बॉबी जैसी कई फ़िल्मों में बोल्ड सीन्स फिल्माए थे. बतौर डायरेक्टर और प्रोड्यूसर राज कपूर की पहली फ़िल्म ‘आग’ थी.

Raj Kapoor

कहा जाता है कि राज कपूर को बचपन से ही सफेद साड़ी बेहद पसंद थी. जब वे छोटे थे, तब उन्होंने एक महिला को सफेद साड़ी में देखा था और सफेद साड़ी वाली महिला पर उनका दिल आ गया था. बॉलीवुड के शोमैन ने हिंदी सिनेमा को एक अलग पहचान ही नहीं दी, बल्कि वो किरदार में इस कदर रम जाते थे कि उनकी अदायगी से लोग सहज ही जुड़ जाते थे.

Raj Kapoor

नरगिस और राज कपूर की लव स्टोरी हिंदी सिनेमा की सबसे चर्चित प्रेम कहानियों में से एक रही है. कहा जाता है कि नरगिस से उनकी मुलकात बिल्कुल फ़िल्मी अंदाज़ में हुई थी. एक बार राज कपूर फ़िल्म के सिलसिले में नगरिस की मां जद्दनबाई से मिलने गए थे, लेकिन वो घर पर नहीं थीं. लिहाजा नरगिस ने आकर दरवाज़ा खोला, पर उनके हाथ में बेसन लगा हुआ था जो उनकी गाल पर भी लग गया. पहली मुलाकात में नरगिस का यह भोलापन देख राज कपूर उनके कायल हो गए.

Raj Kapoor

बताया जाता है कि राज कपूर ने नरगिस से अपनी पहली मुलाकात के उस लम्हे को हूबहू फिल्म ‘बॉबी’ में फ़िल्माया था. राज कपूर और नरगिस ने एक साथ पहली बार फ़िल्म ‘आग’ में काम किया था. इसके बाद दोनों ने करीब 16 फ़िल्मों में साथ काम किया और करीब नौ सालों तक राज कपूर और नरगिस की जोड़ी ने दर्शकों का खूब मनोरंजन किया. उस दौर में इस जोड़ी को सुपरहिट माना जाता था.

Raj Kapoor

शादीशुदा होने के बावजूद वे नरगिस से बेहद प्यार करते थे और उनसे शादी करना चाहते थे, लेकिन उनके पिता पृथ्वीराज कपूर इस रिश्ते के सख्त खिलाफ थे. वहीं राज कपूर से शादी करने का कोई कानूनी रास्ता निकालने की उम्मीद लेकर नरगिस महाराष्ट्र के तत्कालीन गृहमंत्री मोरारजी देसाई से मिलने गई थीं, लेकिन काफी कोशिशों के बाद भी इनकी प्रेम कहानी शादी की मंज़िल तक नहीं पहुंच सकी. यह भी पढ़ें: बर्थडे स्पेशल: 98 साल के हुए बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता दिलीप कुमार, जानें ट्रैजेड़ी किंग के जीवन से जुड़े दिलचस्प किस्से (Happy Birthday Dilip Kumar, know Interesting Facts About the Veteran Actor And Tragedy King of Bollywood)

Raj Kapoor

बताया जाता है कि फ़िल्म ‘आवारा’ की शूटिंग के दौरान एक गाने को फ़िल्माने में राज कपूर ने 8 लाख रुपए खर्च कर दिए, जबकि पूरी फ़िल्म पर 12 लाख रुपए ही खर्च हुए थे. फ़िल्म जब ओवर बजट हो गई, तब नरगिस ने अपने गहने बेचकर राज कपूर की मदद की थी. आरके स्टूडियो बैनर के तले नरगिस की आखिरी फ़िल्म ‘जागते रहो’ थी.

Raj Kapoor

गौरतलब है कि हिंदी सिनेमा में महत्वपूर्ण योगदान देने वाले शोमैन राज कपूर को साल 1971 में पद्मभूषण, साल 1987 में सिनेमा के सर्वोच्च सम्मान ‘दादा साहब फाल्के पुरस्कार’ से नवाज़ा गया था, जबकि साल 1960 की फ़िल्म ‘अनाड़ी’ और साल 1962 की फ़िल्म ‘जिस देश में गंगा बहती है’ के लिए बेस्ट एक्टर फ़िल्म फेयर अवॉर्ड से राज कपूर को सम्मानित किया गया था.

बॉलीवुड की खूबसूरत अभिनेत्रियों में शुमार दीया मिर्ज़ा आज अपना बर्थडे सेलिब्रेट कर रही हैं. दीया मिर्ज़ा हिंदी सिनेमा की एक ऐसी एक्ट्रेस हैं जिन्हें खूबसूरती का पर्याय माना जाता है. सबसे दिलचस्प बात तो यह है कि उन्होंने अपनी पहली ही फ़िल्म से दर्शकों के दिलों में अपने लिए खास जगह बना ली. भले ही दीया बॉलीवुड की चुनिंदा फ़िल्मों में नज़र आई हों, लेकिन वह हमेशा अपनी दमदार अदायगी से दर्शकों का दिल जीतने में कामयाब रही हैं. अपने चेहरे की मीठी मुस्कान से फैन्स के दिलों को चुराने वाली इस अदाकारा का जन्म 9 दिसंबर 1981 को हैदराबाद में हुआ था. दीया ने साल 2000 में ब्यूटी पेजेंट मिस एशिया पेसिफिक इंटरनेशनल का ख़िताब अपने नाम किया था. इस ख़िताब को जीतने के एक साल बाद ही दीया ने फ़िल्मी दुनिया का रुख किया और उनकी पहली ही फ़िल्म ने उन्हें रातोंरात स्टार बना दिया. चलिए दीया मिर्जा के जन्मदिन के इस बेहद खास मौके पर देखते हैं उनकी खूबसूरत और अनदेखी तस्वीरें. इसके साथ ही जानते हैं उनकी ज़िंदगी से जुड़ी खास बातें.

हैदराबाद में जन्मीं दीया मिर्ज़ा के पिता फ्रैंक हैंडरिच जर्मन मूल के ग्राफिक्स एंड इंडस्ट्रियल फेयर डिज़ाइनर-आर्किटेक्ट थे, जबकि उनकी मां एक भारतीय बंगाली परिवार से हैं. बताया जाता है कि जब दीया की उम्र महज साढ़े चार साल थी, तभी उनके माता-पिता का तलाक हो गया.

Dia Mirza

पति से अलग होने के बाद दीया की मां ने हैदराबाद के अहमद मिर्ज़ा से शादी कर ली. दीया के सौतेले पिता ने दीया को न सिर्फ अपनाया, बल्कि अपना सरनेम भी दिया. दीया ने अपनी पढ़ाई हैदराबाद से ही की है. यह भी पढ़ें: Happy Birthday: ‘ओ रे पिया’ से लेकर ‘मेरे रश्के कमर’ तक, यहां देखें राहत फतेह अली खान के दिल को छू लेने वाले बेहतरीन गाने (Happy Birthday: From ‘O Re Piya’ To ‘Mere Rashke Qamar’, Here Are Some Heart Touching Songs of Rahat Fateh Ali)

Dia Mirza

दीया ने साल 2000 में ‘फेमिना मिस इंडिया’ में पार्टिसिपेट किया था, जिसमें वो सेकेंड रनर-अप रही थीं. इसके बाद उन्होंने ‘मिस एशिया पेसिफिक’ का ख़िताब अपने नाम किया.

Dia Mirza

सबसे दिलचस्प बात तो यह है कि दीया की इस जीत के साथ इंटरनेशनल ब्यूटी पेजेंट्स प्लेटफॉर्म पर भारत की यह तीसरी अपलब्धि बन गई थी, क्योंकि दीया से पहले लारा दत्ता ने मिस यूनिवर्स और प्रियंका चोपड़ा ने मिस वर्ल्ड का खिताब जीता था.

Dia Mirza

मिस एशिया पेसिफिक का ख़िताब जीतने के बाद साल 2001 में दीया ने अभिनेता आर माधवन के साथ फ़िल्म ‘रहना है तेरे दिल में’ के ज़रिए अपने बॉलीवुड करियर की शुरुआत की थी. दीया ने महज़ 19 साल की उम्र में बॉलीवुड डेब्यू किया था और पहली ही फ़िल्म ने उन्हें रातोंरात स्टार बना दिया. यह भी पढ़ें: आमिर खान की बेटी इरा खान का हॉट अंदाज़, यलो बिकिनी पहन बाथ टब में चिल करती आई नज़र! (Hottest Look: Aamir Khan’s Daughter Ira Khan Shares Picture In A Yellow Bikini)

Dia Mirza

पहली फिल्म से ही दर्शकों की के दिलों में अपनी खास जगह बनाने वाली दीया ने इसके बाद ‘दम’, ‘दीवानापन’, ‘तुमको ना भूल पाएंगे’, ‘परीणिता’, ‘दस’, ‘लगे रहो मुन्नाभाई’, ‘सलाम मुंबई’, ‘तुमसा नहीं देखा’, ‘संजू’ और ‘थप्पड़’ जैसी कई फ़िल्मों में काम किया. उनकी हर फ़िल्म में दर्शकों ने उनके किरदार को काफी पंसद किया.

Dia Mirza

बात करें दीया की पर्सनल लाइफ की तो उन्होंने अक्टूबर 2014 में अपने लॉन्ग टाइम बॉयफ्रेंड साहिल संघा के साथ शादी कर ली. कपल ने बहुत ही सादगी के साथ दिल्ली में आर्य समाज के रीति-रिवाज से शादी की थी.

Dia Mirza

हालांकि शादी के कुछ समय बाद ही दीया और उनके पति साहिल के बीच कड़वाहट आने लगी. उनकी शादी ज्यादा समय तक नहीं चल सकी और कपल ने शादी के पांच साल बाद साल 2019 में तलाक ले लिया.

Dia Mirza

दोनों का इस तरह से अलग हो जाना उनके फैन्स के लिए बेहद चौंकाने वाला था, लेकिन बाद में एक्ट्रेस ने बताया कि दोनों आपसी सहमति से अलग हुए हैं और तलाक के बाद भी दोनों के बीच दोस्ती का रिश्ता बरकरार है. यह भी पढ़ें: Birthday Special: बिकिनी पहनकर तहलका मचाने से लेकर शादी के बाद नाम बदलने तक, जानें अभिनेत्री शर्मिला टैगोर की ज़िंदगी से जुड़ी दिलचस्प बातें (Birthday Special: From Wearing Bikini to Changing Name After Marriage, Here Are Some Interesting Facts About Veteran Actress Sharmila Tagore)

गौरतलब है कि दीया को पिछली फ़िल्म ‘थप्पड़’ में देखा गया था, जिसमें उन्होंने सपोर्टिव किरदार निभाया था. इस फ़िल्म में भी उन्होंने हर बार की तरह अपनी एक्टिंग से लोगों का दिल जीता. उन्हें वेब सीरीज़ में भी देखा जा चुका है. वे ज़ी फाइव के सीरीज़ ‘काफिर’ में मोहित रैना के साथ नज़र आ चुकी हैं. इस सीरीज़ में मोहित रैना और दीया मिर्ज़ा के काम को दर्शकों की काफी सराहना मिल चुकी है.

हिंदी सिनेमा की दिग्गज अदाकारा शर्मिला टैगोर आज अपना 76वां जन्मदिन मना रही हैं. शर्मिला टैगोर अपने ज़माने की सबसे बोल्ड और खूबसूरत अदाकारा मानी जाती हैं. इस अदाकारा की कातिलाना हंसी और सुंदरता के लाखों लोग कायल हुआ करते थे. शर्मिला टैगोर का जन्म 8 दिसंबर 1946 को हैदराबाद में हुआ था. वह ऐसी पहली इंडियन एक्ट्रेस थीं, जिन्होंने फ़िल्मफेयर मैग्ज़ीन के कवर पेज के लिए बिकिनी पहनकर पूरी इंडस्ट्री में तहलका मचा दिया था. यहां तक कि मंसूर अली खान पटौदी से शादी करने के बाद उन्होंने अपना नाम तक बदल लिया था. हालांकि उनके जीवन में कई उतार-चढ़ाव भी आए जिनसे भागने के बजाय उन्होंने डटकर उनका सामना किया. चलिए बॉलीवुड की इस बोल्ड और खूबसूरत अदाकारा के जन्मदिन पर जानते हैं उनकी ज़िंदगी से जुड़े कुछ दिलचस्प किस्से.

अपने ज़माने की खूबसूरत अभिनेत्री रह चुकीं शर्मिला टैगोर का चार्म अब भी बरकरार है. हैदराबाद में जन्मीं शर्मिला के पिता गितेन्द्रनाथ टैगोर, ‘टैगोर एल्गिन मिल्स’ के मालिक थे. शर्मिला हिंदू बंगाली परिवार से ताल्लुक रखती हैं, जबकि उनका निकाह मुस्लिम परिवार में हुआ.

Sharmila Tagore

उन्होंने अपने फ़िल्मी करियर की शुरुआत सौमित्र चटर्जी के साथ की थी और उनके साथ कई फ़िल्मों में नजर आई थीं. उनके फ़िल्मी करियर का आगाज़ साल 1959 में फिल्म निर्माता सत्यजीत रे की फ़िल्म ‘अपुर संसार’ से हुआ था, लेकिन फ़िल्म ‘कश्मीर की कली’ ने न सिर्फ रातों रात उन्हें स्टार बना दिया, बल्कि इस फ़िल्म ने उनकी ज़िंदगी भी बदल दी. यह भी पढ़ें: सैफ अली खान ने फिर दिया विवादित बयान, सीताहरण पर ये बात कहने के बाद आये लोगों के निशाने पर (Saif Ali Khan Again Triggered Controversy, His Remarks On ‘Seeta Haran’ Enraged Fans)

Sharmila Tagore

दरअसल, साल 1964 में रिलीज़ हुई फ़िल्म ‘कश्मीर की कली’ में शर्मिला टैगोर की खूबसूरती देख लाखों फैन्स उनके दीवाने हो गए. उनकी खूबसूरती के अलावा उनकी दिलकश अदायगी ने भी दर्शकों का दिल जीत लिया और उनके अभिनय की जमकर सराहना की गई.

Sharmila Tagore

शर्मिला अपने ज़माने की एक ऐसी अभिनेत्री हैं, जिन्होंने सबसे पहले बिकिनी में पहनकर सबको चौंका दिया था. फ़िल्म ‘एन इवनिंग इन पेरिस’ में पहली बार शर्मिला ने बिकिनी में सीन दिया था. ऐसा बोल्ड सीन देकर उन्होंने हिंदी सिनेमा जगत में तहलका मचा दिया था.

Sharmila Tagore

फ़िल्म में बिकिनी पहनने के अलावा साल 1968 में उन्होंने फ़िल्म फेयर मैगजीन के लिए बिकिनी में फोटोशूट कराया था, लेकिन ‘एन इवनिंग इन पेरिस’ में बिकिनी पहनने के कारण उनकी रातों की नींद उड़ गई थी. दरसअल, यह वाकया उस दौरान हुआ था, जब मंसूर अली खान पटौदी से उनका प्यार परवान चढ़ रहा था. यह भी पढ़ें: देव आनंद कभी शर्ट का ऊपरी बटन क्यों नहीं खोलते थे? गर्दन झुकाने के उनके वो गजब अंदाज के पीछे क्या था सच? जानिए लेजेंड एक्टर से जुड़ी ऐसी ही कई अनकही बातें (Remembering Dev Anand on his Death Anniversary, Know Untold Stories From The Legend’s Life)

Sharmila Tagore

जब शर्मिला को पता चला कि उनकी होने वाली सास उनसे मिलने आ रही हैं तो उनकी टेंशन बढ़ गई थी. शर्मिला को इस बात की चिंता सता रही थी कि कहीं उनकी सास ने बिकिनी वाली फोटोज़ देख ली तो शादी से मना कर देंगी. यह सोचकर उन्होंने फौरन फ़िल्म के प्रोड्यूसर को फोन करके मुंबई में लगे अपने बिकनी वाले सभी पोस्टर्स को हटाने के लिए कहा.

Sharmila Tagore

बताया जाता है कि बिकिनी में शर्मिला की फोटो देखने के बाद लोगों को लगा था कि दोनों का रिश्ता इस बोल्ड तस्वीर की वजह से टूट जाएगा, लेकिन ऐसा कुछ होने के बजाय दोनों ने उसी साल यानी 27 दिसंबर 1969 को निकाह कर लिया. पटौदी के नवाब और भारतीय क्रिकेटर मंसूर अली खान पटौदी से शादी करने के बाद शर्मिला ने इस्लाम धर्म कबूल करते हुए अपना नाम आयशा सुल्ताना खान रख लिया था.

Sharmila Tagore

कहा जाता है कि शर्मिला टैगोर और मंसूर अली खान पटौदी की मुलाकात एक पार्टी में हुई थी. पटौदी के नवाब को फ़िल्मों का शौक नहीं था, लेकिन पहली मुलाकात में ही शर्मिला की दिलकश मुस्कान देखकर वो अपना दिल हार बैठे थे. इसके बाद दोनों के बीच मुलाकातों का सिलसिला बढ़ने लगा और दोनों की प्रेम कहानी परवान चढ़ने लगी.

Sharmila Tagore

बेशक शर्मिला टैगोर बीते दौर की एक सक्सेसफुल अभिनेत्री रहीं हैं और उन्होंने कई एक्टर्स के साथ काम भी किया है, लेकिन राजेश खन्ना और शर्मिला टैगोर की जोड़ी सुपरहिट रही है. इस ऑनस्क्रीन कपल को काफी पसंद किया जाता रहा है. दोनों ने ‘आराधना’, ‘सफर’, ‘अमर प्रेम’, ‘छोटी बहू’, ‘दाग’ और ‘आविष्कार’ जैसी 6 सुपरहिट फिल्मों काम किया है. यह भी पढें:Birthday Special: बॉलीवुड के ‘हीमैन’ धर्मेंद्र का 85वां बर्थडे, जानें उन्होंने कैसे तय किया एक आम इंसान से सुपरस्टार बनने तक का सफ़र (Veteran Actor Dharmendra is Celebrating His 85th Birthday, Know Interesting Facts About The ‘He-Man’ of Indian Cinema)


Sharmila Tagore

गौरतलब है कि शर्मिला को फ़िल्मों में शानदार अभिनय के लिए दो बार ‘नेशनल फ़िल्म अवॉर्ड’ और दो बार ‘फिल्मफेयर अवॉर्ड’ से सम्मानित किया जा चुका है. हिंदी सिनेमा में अहम योगदान देने वाली शर्मिला टैगोर सेंसर बोर्ड की अध्यक्षा भी रह चुकी हैं. बहरहाल, नवाब मंसूर अली खान पटौदी के निधन के बाद शर्मिला ने अपने परिवार की ज़िम्मेदारी को बखूबी निभाया है. भारतीय सिनेमा की इस दिग्गज आदाकारा को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं.

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता और हिंदी सिनेमा के हीमैन धर्मेंद्र आज अपना 85वां जन्मदिन मना रहे हैं. उनका जन्म 8 दिसंबर 1935 को पंजाब के फगवाड़ा में हुआ था. फगवाड़ा उनकी बुआ का शहर है, जबकि धर्मेंद्र का पैतृक गांव लुधियाना जिले में स्थित साहेनवाल है. उनका पूरा नाम धरम सिंह देओल है और उन्होंने अपनी स्कूली पढ़ाई फगवाड़ा के आर्य हाई स्कूल एवं रामगढ़िया स्कूल से की थी, लेकिन वे मैट्रिक तक ही पढ़ाई कर पाए. महज़ 19 साल की उम्र में उनकी शादी हो गई थी. कहा जाता है कि जब उन्हें बॉलीवुड की ड्रीमगर्ल हेमा मालिनी से प्यार हुआ तो उनसे शादी करने के लिए धर्मेंद्र ने इस्लाम धर्म भी अपना लिया. वे हिंदी सिनेमा के एक ऐसे कलाकर हैं, जिन्होंने अपने किरदारों की विविधता से हमेशा दर्शकों का दिल जीता है. उनकी निज़ी ज़िंदगी ही नहीं, बल्कि एक आम इंसान से बॉलीवुड का सुपरस्टार बनने तक का उनका सफ़र भी काफी रोचक रहा है. चलिए धर्मेंद्र जी के बर्थडे पर जानते हैं उनकी ज़िंदगी के सफर से जुड़े रोचक किस्से.

हिंदी सिनेमा में कदम रखने से पहले अभिनेता धर्मेंद्र रेलवे में क्लर्क हुआ करते थे और उन्हें सवा सौ रुपए बतौर सैलरी मिलती थी, लेकिन उनकी किस्मत में तो कुछ और ही लिखा था.

Dharmendra

कहा जाता है कि फ़िल्मफेयर की तरफ से आयोजित ‘टैलेंट हंट प्रतियोगिता’ में धर्मेंद्र ने कई प्रतियोगियों को पीछे छोड़कर जीत हासिल की थी. सबसे दिलचस्प बात तो यह है कि उन्होंने अभिनय कहीं से सीखा ही नहीं था, बावजूद इसके वे विजयी हुए. यह भी पढ़ें: राज बब्बर से प्यार करने लगी थीं रेखा, जब प्यार में दिल टूटा तो नंगे पैर ही मुंबई की सड़कों पर दौड़ी थीं एक्ट्रेस (Rekha’s Love Affair With Raj Babbar, When Actress Ran Barefoot On Mumbai Streets After An Argument With Raj Babbar)

Dharmendra

टैलेंट हंट प्रतियोगिता जीतने के बाद धर्मेंद्र मुंबई आ गए, लेकिन उनके लिए हिंदी सिनेमा में पहचान बनाने की राह बेहद मुश्किल और चुनौतियों से भरी हुई थी. सपनों की नगरी मुंबई में आने के बाद उन्हें फ़िल्मों में आने के लिए कड़ा संघर्ष करना पड़ा.

Dharmendra

पैसे न होने के कारण धर्मेंद्र जी फ़िल्म निर्माताओं के दफ्तर के चक्कर लगाने के लिए मीलों पैदल चलते थे. वे पैदल इसलिए चलते थे, ताकि कुछ पैसे बचाकर खाना खा सकें. संघर्ष के दिनों में कई बार वे चने खाकर सो जाते थे, लेकिन कभी-कभी तो उन्हें चने भी नसीब नहीं होते थे.

Dharmendra

काफी संघर्षों के बाद आखिरकार अर्जुन हिंगोरानी ने उन्हें 51 रुपए देकर फ़िल्म ‘दिल भी तेरा हम भी तेरे’ के लिए साइन किया. साल 1960 में उन्होंने एक्ट्रेस कुमकुम के साथ इसी फ़िल्म के ज़रिए अपने करियर की शुरुआत की. यह भी पढ़ें: Birthday Special: एक्टर बोमन ईरानी के दमदार फिल्मी डायलॉग, जिनके जरिए उन्होंने जीता दर्शकों का दिल (Birthday Special: Popular Dialogues of Actor Boman Irani, Through Which He wins the Hearts of Audience)

Dharmendra

हालांकि धर्मेंद्र को बॉलीवुड में पहचान मीना कुमारी से साथ आई फ़िल्म ‘फूल और पत्थर’ से मिली. यह उनके फ़िल्मी करियर की पहली हिट फ़िल्म थी. इस फ़िल्म से हिंदी सिनेमा में अपनी पहचान बनाने वाले धर्मेंद्र को फिर कभी पीछे मुड़कर नहीं देखना पड़ा.

Dharmendra

एक दिन कुछ ऐसा हुआ कि धर्मेंद्र राज कुमार से काफी गुस्सा हो गए. दरअसल, राज कुमार जितेंद्र और धर्मेंद्र के बीच फर्क नहीं समझ पाते थे. यही वजह है कि धर्मेंद्र को जितेंद्र के नाम से पुकारा करते थे. एक बार जब धर्मेंद्र ने उनकी इस आदत पर नाराज़गी जताई तो राज कुमार ने कहा कि मेरे लिए राजेंद्र हो, जितेंद्र हो, धर्मेंद्र हो या फिर कोई बंदर, क्या फर्क पड़ता है? राज कुमार की इसी बात को लेकर धर्मेंद्र काफी गुस्सा हो गए थे.

Dharmendra

उनकी पर्सनल लाइफ की बात करें तो साल 1954 में उन्होंने प्रकाश कौर से शादी की थी. उस दौरान धर्मेंद्र ने फ़िल्मों में काम करना शुरू नहीं किया था. प्रकाश कौर से उन्हें चार बच्चे हैं दो बेटे और दो बेटियां, जिनके नाम सनी देओल, बॉबी देओल, अजेता और विजेता है.

Dharmendra

जब उन्होंने बॉलीवुड में कदम रखा तो उनकी मुलाकात हेमा मालिनी से हुई. शादीशुदा होने के बावजूद खुद से 13 साल छोटी हेमा मालिनी पर उनका दिल आ गया. धर्मेंद्र के शादीशुदा होने वजह से हेमा का परिवार भी इस रिश्ते के खिलाफ था. धर्मेंद्र और हेमा की सुपहिट जोड़ी ने एक साथ करीब 25 फिल्मों में काम किया.

Dharmendra

उस जमाने में ड्रीम गर्ल के नाम से फेमस हेमा मालिनी के साथ धर्मेंद्र शादी करना चाहते थे. अपनी पहली पत्नी को तलाक दिए बगैर धर्मेंद्र ने हेमा मालिनी से शादी की और इसके लिए उन्होंने इस्लाम धर्म को कुबूल किया था. धर्मेंद्र ने दूसरी शादी करने के लिए अपना नाम दिलावर खान रखा. बता दें कि हेमा मालिनी से उन्हें दो बेटियां ईशा देओल और अहाना देओल हैं.

Dharmendra

फ़िल्मों में हीमैन के तौर पर अपनी पहचान बनाने वाले धर्मेंद्र अपने आप में अभिनय का एक लंबा अनुभव समेटे हुए हैं. अपने ज़माने में हिंदी सिनेमा के सुपरस्टार धर्मेंद्र राजनीति से भी जुड़े. वे साल 2004 से साल 2009 तक बीकानेर से बीजेपी के सांसद रहे, लेकिन उन्हें राजनीति ज़्यादा रास नहीं आई.

Dharmendra

धर्मेंद्र एक ऐसे दिग्गज कलाकार हैं, जिन्होंने पिछले 50 साल में हिंदी सिनेमा में आए बदलावों को न सिर्फ करीब से देखा है, बल्कि इन बदलावों को स्वीकार भी किया है. उन्होंने अपने फ़िल्मी करियर में लगभग 250 फ़िल्में की हैं, जो अपने तरह का एक रिकॉर्ड ही है. यह भी पढ़ें: देव आनंद कभी शर्ट का ऊपरी बटन क्यों नहीं खोलते थे? गर्दन झुकाने के उनके वो गजब अंदाज के पीछे क्या था सच? जानिए लेजेंड एक्टर से जुड़ी ऐसी ही कई अनकही बातें (Remembering Dev Anand on his Death Anniversary, Know Untold Stories From The Legend’s Life)

Dharmendra

उन्होंने फ़िल्म इंडस्ट्री के लगभग हर बड़े प्रोड्यूसर-डायरेक्टर के साथ काम किया है. दमदार एक्शन के लिए हीमैन के तौर पर मशहूर धर्मेंद्र ने ‘सीता और गीता’, ‘चरस’, ‘हकीकत’, ‘कयामत’, ‘यकीन’, ‘लोफर’, ‘द बर्निंग ट्रेन’, ‘चुपके-चुपके’, ‘आए दिन बहार के’, ‘आया सावन झूम के’, ‘सत्यकाम’ और ‘शोले’ जैसी कई बेहतरीन फ़िल्मों में बेमिसाल अभिनय किया है.

Dharmendra

चाहे हेमा मालिनी हो या शर्मिला टैगोर, उस दौर की सभी हीरोइनों के साथ धर्मेंद्र की जोड़ी दर्शकों को बेहद पंसद आती थी. साल 2000 के बाद धर्मेंद्र ने ‘किस किस की किस्मत’, ‘अपने’, ‘जॉनी गद्दार’ जैसी फ़िल्मों में अपने अभिनय से दर्शकों का दिल जीता.

Dharmendra

साल 2011 में रिलीज़ हुई दो फ़िल्मों ‘यमला पगला दीवाना’ और ‘टेल मी ओ खुदा’ में भी धर्मेंद्र नज़र आए थे. उन्होंने बतौर प्रोड्यूसर ‘घायल’, ‘बरसात’, ‘इंडियन’, ‘सोचा न था’ और ‘अपने’ जैसी फ़िल्मों को प्रोड्यूस किया है. बेशक एक आम इंसान से बॉलीवुड के सुपरस्टार बनने तक का उनका सफर बेहद ही दिलचस्प रहा है. बॉलीवुड के हीमैन धर्मेंद्र जी को जन्मदिन की ढेरों शुभकामनाएं.