alert

आज सुबह से ही बेहद ख़ामोश-सी है, मानो वो आनेवाले तूफ़ान की अगुवाई कर रही हो. जैसा कि हम सभी जानते हैं मौसम विभाग ने सावधान किया है आनेवाले निसर्ग तूफ़ान को लेकर, अब फिल्मी सितारे भी इसे लेकर चिंतित है और अपनी तरफ़ से लोगों को सावधान कर रहे हैं.
प्रियंका चोपड़ा, माधुरी दीक्षित, ट्विंकल खन्ना और अक्षय कुमार ने मुंबईवासियों को अलर्ट किया है. अक्षय कुमार ने एक वीडियो शेयर करके लोगों को निसर्ग तूफ़ान से बचने और सावधानी रखने की गुज़ारिश की है.
प्रियंका चोपड़ा ने जो विदेश में रह रही हैं भी चिंता जताई है. अपनी मां, भाई और मुुंबईकर की सुरक्षा को लेकर उन्होंने चिंता प्रकट की है और सभी को सावधान रहने की है सलाह दी है.
उनके अनुसार कोरोना वायरस का कहर क्या कम था, जो उस पर यह निसर्ग तूफ़ान अपना कोहराम मचा रहा है. उनके भाई-मां सहित क़रीब 20 मिलियन लोग जो मुंबई में रह रहे हैं, उनकी सुरक्षा की उन्होंने प्रार्थना की और सभी को अपना ख़्याल रखने का आग्रह किया.
माधुरी दीक्षित ने भी आज की सुबह कुछ ज़्यादा ही शांत है कि बात कही. रिमझिम बारिश हो रही है, पर इसके बावजूद तूफ़ान का डर भी बना हुआ है. इसी के साथ उन्होंने फूल-पत्तियों की फोटो शेयर की.
ट्विंकल खन्ना ने चाय की कप के साथ समंदर का किनारा और वहां की हलचल को दिखाते हुए मुंबईवासियों को सेफ रहने के लिए अलर्ट किया और कहा कि सुरक्षित रहें.
मौसम विभाग के अनुसार क़रीब 138 साल के बाद आज मुंबई से होकर इस तरह का कोई तूफ़ान गुज़रनेवाला है. हज़ारों पुलिसकर्मी सुरक्षा में डटे हुए हैं. इस साइक्लोन के मद्देनजर एनडीआरएफ ने बीएमसी अस्पतालों सहित सभी विभाग ने सावधानीपूर्वक तटीय इलाकों के लोगों को भी सुरक्षित स्थानों पर भेज दिया है. मंगलवार सुबह से ही मुंबई और आसपास के सभी इलाकों में बारिश हो रही है. रातभर तेज बारिश हुई और अब बुधवार सुबह से ही लगातार बारिश हो रही है. अनुमान है कि आज दोपहर तीन बजे के बाद अलीबाग के तट से निसर्ग तूफ़ान टकरा सकता है. ऐसे में 100 से 120 किलोमीटर की रफ़्तार से हवा चल सकती है. अनुमानित तीन से चार घंटे तक इसका असर दिखने की संभावना है. साथ ही 200 एमएम से अधिक बारिश हो सकती है. इन सभी को देखते हुए सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए दस हज़ार से अधिक पुलिस को तैनात किया गया है. एनडीआरएफ की 10 टीमें भी बनाई गई है. सभी नागरिकों को एहतियात बरतने की सलाह दी गई है.

सावधानियां…

  • लोग घर पर ही रहें.
  • पेड़ों के नीचे यदि आपकी कार, वाहन आदि है, तो हटा ले.
  • ज़रूरत ना होने पर घर के मेन इलेक्ट्रिक स्विच बंद कर दे.
  • गैस सिलेंडर बंद रखें.
  • कांच की खिड़कियों पर सपोर्ट के लिए कुछ लगाएं. * ख़तरनाक इमारतों पर ना जाए.
  • समंदर के किनारे जाने से बचे.
  • खुली जगह में ज़्यादा समय तक ना रहें.
  • पालतू जानवरों को घर से बाहर ना जाने दें.
  • मौसम विभाग से मौसम की जानकारी लेते रहे.
    एक बात का विशेष ध्यान रखें तूफ़ान को लेकर किसी भी तरह की कोई भी अफ़वाह पर ध्यान ना दें. यह बहुत ज़रूरी है. अक्सर ऐसा देखा गया है कि जब कभी कोई तूफ़ान या कुछ होता है, तो अफ़वाहों का बाज़ार भी गर्म हो जाता है. इसलिए जागरूक रहें.. स्वस्थ रहें.. सुरक्षित रहें…
kshay Kumar, Priyanka Chopra, Madhuri Dixit, Twinkle Khanna Alerted for Nisarga Cyclone
cyclone nisarga bmc message
cyclone nisarga bmc message
cyclone nisarga bmc message
cyclone nisarga bmc message
cyclone nisarga bmc message

Dilnashee Mehendi Designs (E-Book)

Rs.30
150 Tasty Sabjiya Recipes

150 Tasty Sabjiya Recipes

Rs.30
Sex Guide (E-Book)

Sex Guide (E-Book)

Rs.150

घर की सुख-शांति व समृद्धि के लिए वास्तु के नियमों का पालन करने के साथ ही कुछ ग़लतियों से बचना भी ज़रूरी है.

 

12

* शुक्रवार व पूर्णिमा के दिन भूल कर भी न रोएं. इस दिन रोने से प्रतिष्ठा पर आंच आ सकती है और घर में भी क्लेश हो सकता है.

* घर में कभी मकड़ी के जाले न लगें इसका ख़ास ध्यान रखें, इससे लक्ष्मी का आगमन रुक सकता है.

* तिजोरी का मुंह उत्तर या पूर्व में शुभ होता है और यदि सामने खिड़की हो तो और भी उत्तम होता है. तिजोरी में किसी व्यक्ति से प्राप्त इत्र या सुगंधित  द्रव्य आदि न रखें, इससे आर्थिक त्रासदी व ऋण बढ़ सकता है.

* घर में टूटी मशीनें, टूटी कुर्सियां, टूटे कांच इत्यादि को संजोकर न रखें. ऐसा करने से कर्ज़ से कभी मुक्ति नहीं मिलती.

* सीढ़ियां मकान के दक्षिण, पश्‍चिम या नैऋत्य कोण में होनी चाहिए. सीढ़ियां ईशान कोण में बिल्कुल न हों. सीढ़ियों का चढ़ाव पश्‍चिम या दक्षिण में  होना चाहिए. सीढ़ियों की संख्या 10, 20, 30 इस प्रकार न हो.

* नए मकान में नए सामान का ही प्रयोग करना चाहिए. लोहा, लकड़ी, ईंट, पत्थर इत्यादि पुराना प्रयोग नहीं करना चाहिए. आजकल आर्थिक कारणों  से पुराने लोहे व लकड़ी का इस्तेमाल भी नये मकानों में लोग करते हैं, परन्तु यह उचित नहीं. ऐसा करने से वास्तुदोष का प्रभाव बढ़ सकता है.

* फर्श का ढलान किसी भी हालत में दक्षिण में न हो. इससे क़ानून या संबंधों में वाद-विवाद की स्थिति पैदा हो सकती है.

* यदि आप भी अक्सर दरवाज़े के पीछे खूंटी पर अपनी ड्रेस या कपड़े आदि टांग देते हैं, तो अपनी इस आदत को बदल दीजिए, क्योंकि ऐसा करने से  आप बेवजह अपमानित हो सकते हैं.

* यदि मटका चटक गया है, तो उसी दिन इसे हटा दें. इसी तरह चप्पल के ऊपर चप्पल न रखें. ये मानसिक अशांति के संकेत माने जाते हैं.

* ईशान भाग अधिक ऊंचा हो तो आर्थिक प्रगति में बाधा आएगी. साथ ही अन्य परेशानियां भी आ सकती हैं.

4

* फर्नीचर का आकार गोल, त्रिकोण या षट्कोण न हो. इससे बनते कार्य रुक सकते हैं.

* घर के अंदर रामायण, महाभारत एवं अन्य प्रकार के युद्ध दृश्य आदि के चित्र या इसी तरह की कलाकृति या फिर उदास अथवा रुदन करते मनुष्य का  चित्र एवं अशुभ पक्षियों तथा कबूतर, कौआ, बाज, उल्लू आदि के चित्रों को भी नहीं लगाना चाहिए. स़िर्फ सौम्य स्वरूप चित्रों को ही सजावट हेतु घर में  लगाना चाहिए. ऐसा करने से घर का वातावरण ख़ुशहाल बना रहता है.

* कभी भी रोता हुआ चेहरा दर्पण में न देखें. ऐसा करने से कार्यों में बाधाएं आती हैं तथा अपमान का सामना भी करना पड़ सकता है.

* झा़ड़ू को पैर न लगाएं और न ही उसे क्रॉस करें, ऐसा करने से धन में कमी व कमरदर्द की समस्या हो सकती है.

* भूमि के आसपास ज़मीन में रहनेवाले जानवरों के बिल, गड्ढे, कीचड़, गंदा नाला नहीं होना चाहिए. इससे संतान पक्ष को हानि हो सकती है.

* किसी भी कमरे में झूमर या पंखा ठीक बीचोंबीच न लगाएं.

* दान या दक्षिणा देते समय मुंह पूर्व की ओर रखें, पश्‍चिम या दक्षिण में बिल्कुल न करें.

* चौराहे पर स्थित घरों में किसी-न-किसी कारण से अपयश बना रहता है. अतः इससे बचें.

* मकान बनवाते समय सबसे पहले ईशान कोण में भूमिगत पानी की टंकी या कुआं बनवाएं और उसी जल से चारदीवारी बनवाएं.