Amol Gupte

Shraddha Kapoor

बॉक्सर मैरी कॉम के बाद अब दूसरी महिला खिलाड़ी पर बायोपिक बनने जा रही है. ये खिलाड़ी कोई और नहीं, बल्कि भारत की स्टार और पूर्व नंबर 1 बैडमिंटन प्लेयर साइना नेहवाल हैं. साइना नेहवाल की ज़िंदगी पर अमोल गुप्ते एक फिल्म बना रहे हैं. फिल्म की चर्चा तो बहुत पहले से थी, लेकिन इसके स्टारकास्ट को लेकर दुविधा थी. शुरुआत में एक बार ये हुआ था कि इस रोल को दीपिका पादुकोण निभाएंगी, लेकिन अब श्रद्धा कपूर के नाम की फाइनल मुहर लग गई है.

खेल प्रेमियों के लिए ये बेहद ख़ुशी की बात है कि उन्हें एक और बायोपिक देखने को मिलेगा. इस फिल्म पर निर्देशक अमोल गुप्ते की टीम रिसर्च में लग गई है. फिल्म को भूषण कुमार प्रोड्यूस करेंगे. साइना इन दिनों बैडमिंटन एशिया चैंपियनशिप के लिए चीन में हैं. इस खबर पर प्रतिक्रिया जताते हुए साइना ने कहा, वाह! मुझे फिल्म के बारे में तो जानकारी थी, लेकिन कास्टिंग के बारे में पता नहीं था. यह शानदार रहेगा, यदि श्रद्धा मेरी भूमिका में हों, क्योंकि वह बेहद टैलंटेड और मेहनती ऐक्ट्रेस हैं. मुझे यक़ीन है कि वह इस रोल के साथ पूरा न्याय करेंगी.

श्रद्धा कपूर भी अपने इस रोल से काफ़ी ख़ुश हैं. उन्होंने कहा कि ज़्यादातर लड़कियां अपने स्कूल के दिनों में कभी न कभी बैडमिंटन खेलती ही हैं. मुझे लगता है कि मैं काफी लकी हूं कि मुझे साइना का किरदार निभाने का मौका मिल रहा है, जो केवल दुनिया की नंबर वन बैडमिंटन प्लेयर ही नहीं, बल्कि एक यूथ आइकन भी हैं. मुझे अपने इस रोल की शुरुआत का बेसब्री से इंतज़ार है. श्रद्धा नेे अपने सोशल मीडिया पेज पर इस फिल्म से रिलेटेड कई पोस्ट किए.

हम आपको बता दें कि साइना अपने आप पर बनने वाली फिल्म से बहुत एक्साइटेड हैं. साथ ही वो इस बात से भी ख़ुश हैं कि उनका रोल कोई और नहीं, बल्कि उनकी अच्छी दोस्त श्रद्धा कपूर निभा रही हैं. साइना कहती हैं कि काफ़ी लोग कहते हैं कि वो और श्रद्धा एक जैसी दिखती हैं. ऐसे में फिल्म में श्रद्धा का चुना जाना पूरी तरह से बेहतरीन लग रहा है.

अब सारा दारोमदार श्रद्धा पर है कि वो फिल्म में कैसा अभिनय करती हैं. दर्शकों ने प्रियंका चोपड़ा को मैरी कॉम के रोल में देखकर बहुत सराहा था. फैन्स से लेकर क्रिटिक तक ने प्रियंका के अभिनय को सराहा था. इतना ही नहीं, जब मिल्खा सिंह पर फिल्म बनी थी, तो उसमें फरहान अख़्तर ने भी ज़बर्दस्त अभिनय किया था. इन दोनों की परफॉर्मेंस को देखकर श्रद्धा से लोगों की उम्मीदें बढ़ना लाज़मी है.