Anup Soni


बॉलीवुड और टेलीविजन इंडस्ट्री में लिंकअप और ब्रेकअप तो कॉमन बात है ही. यहां शादी, तलाक और फिर शादी भी बड़ी नॉर्मल सी बात है, क्योंकि हमारे एक्टर-एक्ट्रेसेस टूटे हुए रिश्तों का बोझ नहीं ढोते, बल्कि लाइफ में मूव ऑन करने में यकीन करते हैं. आज हम टेलीविजन के कुछ ऐसे एक्टर्स की बात करेंगे, जिनकी पहली शादी हुई फेल, तो उन्होंने दूसरा चांस लिया और आज इंडस्ट्री के मोस्ट अडोरेबल कपल्स कहलाते हैं.

हितेन तेजवानी

Hiten Tejwani

टीवी के क्यूटेस्ट कपल्स में से एक हितेन तेजवानी और गौरी प्रधान की शादी को 16 साल हो गए हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि गौरी हितेन की दूसरी पत्नी हैं. हितेन की पहली शादी सिर्फ 11 महीने ही टिकी थी. लेकिन उनकी आपस में बनी नहीं और 2001 में उनका तलाक हो गया. हितेन को गौरी पहली नज़र में ही पसंद आ गई थीं. दोनों ‘क्योंकि सास भी कभी बहू थी’ और ‘कुटुंब’ के सेट पर करीब आए और दोनों में प्यार हो गया. 2004 में दोनों ने शादी कर ली. इनका एक बेटा और बेटी भी है और दोनों एक दूसरे के साथ बेहद खुश हैं.

रोनित रॉय

Ronit Roy

टीवी के पॉपुलर एक्टर्स में से एक रोनित रॉय की अपनी पत्नी नीलम बोस से गजब की केमिस्ट्री है. नीलम रोनित की दूसरी पत्नी हैं. रोनित रॉय को पहoopली शादी से ओना नाम की एक बेटी थी, लेकिन तलाक होने के बाद उनकी एक्स वाइफ बेटी के साथ यूएस चली गई थीं. तलाक के बाद नीलम सिंह से मुलाकात होने पर पहली ही नजर में रोनित रॉय उन्हें अपना दिल दे बैठे थे. लगभग साढ़े तीन सालों तक डेट करने के बाद दोनों ने शादी की. दोनों की शादी को 17 साल हो चुके हैं. रोनित और नीलम को इंडस्ट्री का पावर कपल कहा जाता है.

करण सिंह ग्रोवर

Karan Singh Grover

एक्टर करण सिंह ग्रोवर टीवी का एक जाना-माना नाम हैं, लेकिन प्यार के मामले में वो कुछ ज़्यादा ही दिलफेंक रहे हैं और दो नहीं, बल्कि तीन शादियां कर चुके हैं. करण की पहली पत्नी ऋद्धा निगम थी, लेकिन शादी के महज़ 8 महीने बाद दोनों का तलाक हो गया था.i इसके बाद एक्ट्रेस जेनिफर विंगेट के साथ भी उनकी शादी सिर्फ 2 साल टिक पाई थी. इसके बाद उनका दिल बोल्ड एंड ब्यूटीफुल बिपाशा बासु पर आ गया और 4 साल पहले उन्होंने बिपाशा से शादी कर ली और दोनों में परफेक्ट केमिस्ट्री नज़र आती है.


अनूप सोनी

Anoop Soni


छोटे पर्दे से लेकर बड़े पर्दे तक दर्शकों को इंप्रेस करनेवाले बालिका वधु और क्राइम पेट्रोल फेम अनूप सोनी और जूही बब्बर की शादी को 9 साल हो चुके हैं. जूही और अनूप दोनों की ही ये दूसरी शादी है. अनूप की पहली पत्नी रितू सोनी थीं. रिपोर्ट्स के अनुसार शादीशुदा और दो बेटियों के पिता अनूप थिएटर करते करते जूही के प्यार में पड़ गए थे. जब रितु को शक हुआ, तो उसने अनूप की कॉल डिटेल्स निकलवाई और आखिरकार सच्चाई सामने आ गई और दोनों ने अलग होने का फैसला कर लिया. अनूप ने अपनी दोनों बेटियों की जिम्मेदारी उठाने से भी इंकार कर दिया था. बाद में अनूप ने जूही से शादी कर ली. बता दें, अनूप से पहले जूही ने भी बिजॉय नांबियार से शादी की थी. लेकिन शादी के दो साल बाद ही दोनों अलग हो गए थे.


समीर सोनी

Sameer Soni

हैंडसम हंक समीर की पहली शादी मॉडल और एक्ट्रेस राजलक्ष्मी के साथ हुई थी, लेकिन सिर्फ एक साल के बाद ही दोनों में तलाक हो गया. इसके बाद समीर का दिल नीलम पर आ गया, नीलम का भी अपने बिजनेस मैन पति से तलाक हो चुका था. कुछ टाइम तक डेट करने के बाद 2011 में दोनों ने शादी कर ली. उनकी शादी को 9 साल हो चुके हैं और दोनों हैप्पीली मैरीड कपल हैं. उधर समीर से तलाक के बाद राजलक्ष्मी ने भी बॉलीवुड एक्टर राहुल रॉय से शादी कर ली थी. लेकिन 4 साल बाद उनका राहुल से भी तलाक हो गया था.

सचिन त्यागी

Sachin Tyagi

टीवी के मोस्ट एडोरेबल कपल हैं रक्षंदा खान और सचिन त्यागी. सीरियल ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ में सचिन त्यागी मनीष गोएनका के रोल में नज़र आ रहे हैं। रक्षंदा के साथ सचिन की दूसरी शादी है। लेकिन ये रिश्ता दोनों के लिए हो आसान नहीं था. दोनों ही पहले की रिलेशनशिप का बैगेज साथ लेकर आए थे। सचिन की पहले शादी हो चुकी थी, जिससे उनके दो बच्चे हैं, वहीं रक्षंदा खान साजिद खान के साथ रिलेशनशिप में रही थीं. लेकिन ना तो सचिन की पहली शादी और ना ही रक्षंदा का धर्म इनके प्यार के आगे दीवार बन पाया और दोनों शादी के इतने सालों बाद भी टेलीविजन के लवेबल कपल्स में से एक हैं. रक्षंदा और सचिन एक बेटी भी है.

इतनी शिद्दत से मैंने तुम्हें पाने की कोशिश की है
कि हर ज़र्रे ने मुझे तुमसे मिलाने की साजिश की है…

कहते हैं, अगर किसी चीज़ को दिल से चाहो, तो पूरी क़ायनात उसे तुमसे मिलाने की कोशिश में लग जाती है…
शाहरुख़ ख़ान की फिल्म ओम शांति ओम के ये डायलॉग्स स़िर्फ डायलॉग नहीं हैं, इनका वास्ता असल ज़िंदगी से भी है. जी हां, ख़्वाब यकीन में बदल जाते हैं यदि आपकी कोशिश सच्ची है. यकीन न हो तो इन टेलीविज़न स्टार्स से जान लीजिए. इनके अनुभवों से आपको ये यकीन हो जाएगा कि नामुमकिन कुछ भी नहीं.

TV Celebrities, Success Mantras

सरगुन मेहता (Sargun Mehta)
ईश्‍वर कह लीजिए या यूनिवर्स मेरा उसमें अटूट विश्‍वास है. मशहूर मीडिया प्रोफेशनल ओपरा विनफ्रे ने अपने एक इंटरव्यू में कहा था कि मैं मेहनत करती जा रही थी और मेरे लिए लक सही समय पर सही जगह रखा हुआ था. मैं भी यही मानती हूं, आपको मेहनत करते हुए ख़ुद को अपने लक के लिए तैयार रखना चाहिए, वो ज़रूर आपके पास आएगा. यदि आप सच्चे दिल से पूरी ताक़त लगाकर कोई काम करते हैं, तो यूनिवर्स आपको आपकी चीज़ उतनी ही शिद्दत से सौंप देता है.

TV Celebrities, Success Mantras

रवि दुबे (Ravi Dubey)
आपकी लाइफ वैसे डिज़ाइन होती है जैसे आप सोचते हैं. यदि मैं ग्लैमर इंडस्ट्री की बात करूं, तो यहां पर भी यही बात लागू होती है. यदि आपको लगता है कि ये इंडस्ट्री आपकी दोस्त नहीं दुश्मन है, तो आपको वैसे ही लोग मिलेंगे, लेकिन आप यदि पॉज़िटिव रहेंगे तो आपके साथ सबकुछ पॉज़िटिव होता चला जाएगा. मैं बहुत आशावादी हूं और हर चीज़ में पॉज़िटिविटी ढूंढ़ता हूं इसलिए मेरे साथ सबकुछ पॉज़िटिव ही होता है.

TV Celebrities, Success Mantras

दिशा वाकाणी (Disha Vakani)
आप किसी भी क्षेत्र में जाएं, मेहनत तो आपको करनी ही पड़ेगी और आप यदि मेहनती हैं तो आपको काम मिलेगा ही. हां, कभी-कभी समय अच्छा नहीं होता, तो दिक्कतें आती हैं, लेकिन देर-सवेर मेहनत का फल मिलता ही है. लक हमारा इंतज़ार कर रहा होता है, हमें बस चलते जाना होता है.

यह भी पढ़ें: दया बेन बनीं मां, बेटी को दिया जन्म

TV Celebrities, Success Mantras

अनूप सोनी (Anup Soni)
मेहनत तो कई लोग करते हैं, लेकिन उसका फल सभी को एक जैसा नहीं मिलता. लेकिन इसका ये मतलब नहीं कि मेहनत करना ही छोड़ दें. हमें अपनी तरफ़ से हमेशा मेहनत करते रहना चाहिए, एक न एक दिन हमें उसका फल ज़रूर मिलता है.

यह भी पढ़ें: श्वेता तिवारी और अभिनव कोहली की शादी में दरार?

TV Celebrities, Success Mantras

आप भी पा सकते हैं मनचाही मुराद
आप पूरे विश्‍वास के साथ ईश्‍वर के सामने अपनी कोई मुराद रखते हैं और जल्दी ही आपकी वो ख़्वाहिश पूरी हो जाती है. आपका ईश्‍वर के प्रति विश्‍वास और बढ़ जाता है. आप फिर कोई ख़्वाहिश करते हैं और वो भी पूरी हो जाती है. ईश्‍वर के प्रति विश्‍वास के साथ-साथ अब आपका कॉन्फिडेंस भी बढ़ने लगता है. आप अपनी ख़्वाहिशों पर और ़ज़्यादा फोकस करने लगते हैं. आप दिनरात अपनी इच्छाओं को पूरा करने के बारे में ही सोचते रहते हैं और इसी दिशा में काम भी करते रहते हैं. जल्दी ही आप वो सबकुछ पा लेते हैं जिसकी कभी आपने कामना की थी. ये सब इसलिए हो पाता है, क्योंकि आप लगातार अपनी इच्छाओं के बारे में सोच-सोचकर अपनी फ्रीक्वेंसी ब्रह्मांड तक पहुंचा रहे होते हैं, जिससे आपके चारों तरफ पॉज़िटिव वातावरण तैयार हो जाता है और आपकी हर ख़्वाहिश पूरी होती चली जाती है.

यह भी पढ़ें: ख़ुद पर भरोसा रखें 

क्योंकि नामुमकिन कुछ भी नहीं
दुनिया के हर सफल व्यक्ति का इतिहास उठाकर देख लीजिए, आप पाएंगे कि उनके वहां तक पहुंचने में उनकी कोशिशों के साथ-साथ उनकी इच्छा और सपनों का भी उतना ही योगदान था. दरअसल, जब हमारे मन में कोई विचार आता है या हम किसी चीज़ को अपने नज़रिए से देखने लगते हैं तो सृजन की प्रक्रिया शुरू हो जाती है और घटनाएं, वातावरण हमारी सोच के मुताबिक बनने लगता है.

तरीक़ा आसान है
हमारा वर्तमान हमारे अतीत का आईना होता है, क्योंकि हम वही बनते हैं जो हम बनना चाहते हैं. आपने कभी न कभी इस बात को ज़रूर महसूस किया होगा कि आपने जिस चीज़ की ख़्वाहिश बड़ी शिद्दत से की थी, वो देर-सवेर आपको मिल ही गई. इसकी सबसे बड़ी वजह है आपकी उम्मीद, आपका विश्‍वास, जो अप्रत्यक्ष रूप से भी आपको अपनी ख़्वाहिश के और क़रीब लाने का काम लगातार करता रहता है.

यूं पाएं मनचाही मुराद
मनचाही मुराद पाने का सबसे आसान तरीक़ा यह है कि ख़ुद को चुंबक मानकर सोचें कि दूसरा चुंबक भी आपकी तरफ़ आकर्षित होगा. जब आप ऐसा सोचने लगेंगे तो आपकी ख़्वाहिश से मिलती-जुलती चीज़ें भी आपकी तरफ़ आकर्षित होने लगेंगी. इस तरह आपके चारों तरफ़ पॉज़िटिव वातावरण बनता चला जाएगा और आपकी उम्मीदों के साथ-साथ आपका आत्मविश्‍वास भी बढ़ता जाएगा और देर-सवेर आपको मनचाही मुराद मिल ही जाएगी. ऐसा इसलिए होता है, क्योंकि हमारे आज के विचार ही हमारा भविष्य तय करते हैं. हम जिस चीज़ के बारे में सबसे ़ज़्यादा सोचते हैं, जिस चीज़ पर सबसे ़ज़्यादा ध्यान केंद्रित करते हैं, वो आगे चलकर हमारे जीवन में शामिल हो ही जाती है. अतः आप भी यदि अपने जीवन में कोई ख़ास चीज़ पाना चाहते हैं, तो उसके बारे में अभी से सोचना शुरू कर दीजिए.

यह भी पढ़ें: ऑल राउंडर नहीं, एक्सपर्ट कहलाते हैं नंबर 1

* क़ामयाबी का मूल मंत्र: आप क्या चाहते हैं? इस बारे में आपकी सोच क्लियर होनी चाहिए.
* जीवन मंत्र: दूसरों को बदलने के बजाय ख़ुद को बदलें. यकीन मानिए, आपको हर चीज़ अच्छी लगने लगेगी.
* ईश्‍वर के प्रति आस्था: आज के हाई टेक युग में भी ईश्‍वर के प्रति आस्था इस बात का प्रतीक है कि हम अपनी चाहत को पूरा करने के लिए ईश्‍वर को माध्यम बनाकर मनचाही मुराद पा लेते हैं.

– कमला बडोनी