Tag Archives: app

अब डिप्रेशन दूर भगाएगा किराये का बॉयफ्रेंड… रेंट ए बॉयफ्रेंड ऐप, एक अनोखी पहल! (RABF: This App Lets You Rent A Boyfriend To Cure Depression)

RABF App
अब डिप्रेशन दूर भगाएगा किराये का बॉयफ्रेंड… रेंट ए बॉयफ्रेंड ऐप, एक अनोखी पहल! (RABF: This App Lets You Rent A Boyfriend To Cure Depression)

आज की तारीख़ में हर दूसरा व्यक्ति डिप्रेशन का शिकार हो जाता है. कहीं न कहीं हम भी अपने जीवन में कभी न कभी तो डिप्रेशन यानी अवसाद के दौर से गुज़रते हैं, उस व़क्त ज़िंदगी बेकार लगने लगती है और यही डिप्रेशन यदि बढ़ता जाता है, तो सुसाइड तक पहुंच सकता है.
डिप्रेशन को दूर करने का एक अनोखा तरीक़ा कौशल प्रकाश ने खोज निकाला है. उन्होंने मुंबई में एक ऐप लॉन्च किया है, जो अकेलेपन से जूझ रहे डिप्रेस्ड लोगों को पार्टनर यानी साथी प्रोवाइड करता है. रेंट ए बॉयफ्रेंड (RABF) यह ऐप मुंबई बेस्ड है. इसमें शारीरिक यानी फिज़िकल रिलेशन नहीं होता, इमोशनल स्तर पर आपको बेहतर महसूस करवाया जाता है.
कौशल प्रकाश को यह आइडिया अपने अनुभव के आधार पर ही आया. वो ख़ुद डिप्रेशन का शिकार थे और अब वो दूसरों की मदद करना चाहते हैं.

यह भी पढ़ें: भारत में डोमेस्टिक वॉयलेंस से 40% अधिक मौतें… (Domestic Violence In India)

RABF App
यही नहीं इस ऐप में टोल फ्री नंबर भी होगा, जहां लोग कॉल करके प्रोफेशनल्स की मदद ले सकेंगे और उनसे अपनी समस्या शेयर कर सकेंगे.

RABF की वेबसाइट पर इससे संबंधित सारी डिटेल्स हैं. आप सेलिब्रिटी, मॉडल से लेकर आम आदमी को चुन सकते हैं. सेलेब्स का रेट 3000 प्रति घंटे के हिसाब से होगा, मॉडल्स 2000, वहीं आम आदमी आपको 300-400 तक में मिल सकेंगे. यह वेबसाइट पूरी तरह से कमिशन बेसिस पर काम करती है, जहां 70% कमाई बॉफ्रेंड्स को दी जाती है.

– गीता शर्मा

यह भी पढ़ें: आपके ख़र्चों पर नज़र रखेंगे ये 9 ऐप्स (9 Smart Apps For Your Monthly Budget)

आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ ऐप- मेरी सहेली (Ayurvedic Home Remedies App: Meri Saheli)

Ayurvedic Home Remedies App

Ayurvedic Home Remedies (1)

हम भले ही अपनी सेहत के प्रति कितनी ही सावधानी बरतें, लेकिन आजकल की लाइफस्टाइल और खान-पान की आदतें हमारे स्वास्थ्य को बुरी तरह प्रभावित कर रही हैं. हमारी इम्यूनिटी कमज़ोर हो रही है और हम बहुत जल्द ही रोगों की चपेट में आ जाते हैं. हमेशा थकान व तनाव महसूस करते हैं. इन सबके बीच भी सबसे बड़ी समस्या यह है कि हम चाहकर भी डॉक्टर के पास नहीं जा पाते, क्योंकि समय ही नहीं है. लेकिन यदि हमें कुछ ऐसे घरेलू नुस्ख़ों के बारे में पता चल जाए, जिनसे न स़िर्फ हम स्वस्थ रह सकते हैं, बल्कि उनके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं हैं, तो इससे बेहतर क्या हो सकता है?

ऐप इंस्टॉल करने के लिए यहां क्लिक करें Ayurvedic Home Remedies

प्राचीन काल से ही ये नुस्ख़े चले आ रहे हैं. हमारी दादी-नानी इनके बारे में ख़ूब जानती थीं और इनका उपयोग भी करती थीं. हमारे ऋषि-मुनियों की सदियों से चली आ रही इसी परंपरा को आयुर्वेद ने भी अपनाया. हमारे किचन में ही बहुत-से ऐसे मसाले और खाने-पीने की चीज़ें हैं, जिनकी औषधीय गुण हमें चकित कर देंगे. लेकिन कौन-सी चीज़ किस रोग के लिए है और किस मसाले का क्या औषधीय उपयोग है, यह जानना भी ज़रूरी है.

इसी बात को ध्यान में रखते हुए मेरी सहेली लेकर आई है आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ ऐप. सिर से लेकर पांव तक के समस्त रोगों को इस ऐप में कवर किया गया है और लगभग 2000 आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ दी गई हैं. बच्चों के रोग हों, महिलाओं के या फिर कोई भी आम व गंभीर रोग- सबकी सरल घरेलू उपाय इस ऐप में दिए गए हैं.
आज की बिज़ी लाइफ में एक ऐसा ऐप, जो आपसे बस एक क्लिक की दूरी पर है, भला इससे ज़्यादा और क्या चाहिए आपको?

क्या-क्या है ऐप में?
– शरीर के विभिन्न अंगों को आसानी से पहचानने के लिए टैप और टच की सुविधा.
– हर अंग से संबंधित बीमारी की विस्तार से जानकारी.
– हर बीमारी के लक्षण.
– बीमारी के कारण.
– हर बीमारी का आयुर्वेदिक उपचार व उपाय.
– किचन में मौजूद सामग्री से हर बीमारी के उपचार की जानकारी.
– हेल्थ यानी स्वास्थ्य संबंधी लेख, मेरी सहेली की वेबसाइट से- www.merisaheli.com
ऐप इंस्टॉल करने के लिए यहां क्लिक करें – Ayurvedic Home Remedies

What an Idea! अक्षय कुमार ऐप के ज़रिए करेंगे शहीदों के परिवार की मदद (Akshay Kumar’s App Idea to Support Shaheed families)

565389-akshay-kumar-app (1)खिलाड़ियों के खिलाड़ी अक्षय कुमार का नया आइडिया कमाल का है. अक्षय ने सोशल मीडिया पर ये आइडिया अपने वीडियो के ज़रिए शेयर भी किया है. अक्षय एक ऐसा ऐप बनाना चाहते हैं, जिसके ज़रिए लोग शहीदों के परिवार वालों की सीधे-सीधे मदद कर पाएंगे.

5 मिनट 40 सेकंड के इस वीडियो में अक्षय ने कहा कि क्यों न हम शहीदों के परिवार वालों को और लोगों को एक कॉमन जगह पर मिलवा दें. अक्षय ने ये भी कहा कि ये आइडिया डायरेक्ट उनके दिल से निकला है, हो सकता है कि ये आइडिया एकदम बेकार हो या एकदम हिट हो.

अक्षय एक ऐसी वेबसाइट या मोबाइल ऐप बनाना चाह रहे हैं, जहां शहीद जवान के एक क़रीबी जैसे- पिता, माता, पत्नी की डिटेल इस ऐप पर आ जाए उनके वेरिफाइड एकाउंट डिटेल्स के साथ. रिपोर्ट आ जाए, ताकि जिसे भी शहीदों के परिवार वालों की मदद करनी है, वो डायरेक्ट बिना किसी के बीच में आए परिवार की मदद कर सके. हर कोई अपनी मर्ज़ी और हैसियत के मुताबिक़ पैसे डोनेट कर सकता है, जैसे ही शहीद के परिवार वाले के एकाउंट में 15 लाख रुपए जमा हो जाएंगे, वो एकाउंट ऐप से हटा दिया जाएगा.

अक्षय ने ये भी कहा कि अगर इतनी बड़ी आबादी से 15 हज़ार लोग भी 100 रुपए डाल दें, तो सिर्फ 4 घंटे में परिवार को 15 लाख रुपए मिल जाएंगे. बिना कोई फॉर्म भरे या दफ़्तरों के चक्कर लगाए उनके बच्चों का भविष्य सुरक्षित हो जाएगा.

उन्होंने ये भी कहा, ”अगर आप सब की परमिशन है, तो मैं ये वेबसाइट और ऐप आर्म्ड फोर्सेस की मदद और सरकार की परमिशन से ख़ुद ही बनवा लूंगा. आज हम सब की लाइफ है, क्योंकि वो (जवान) बंदूक तान के बैठा है दिन रात, अगर हम ये काम कर गए तो ये सबसे बड़ा सैल्यूट होगा जवानों के लिए. जय हिंद.”

– प्रियंका सिंह

मोबाइल पेमेंट ऐप ‘भीम’ में क्या है ख़ास? (Bhim app: Everything you want to know about the app)

bhim app
कैशलेस अर्थव्यवस्था की ओर एक और मज़बूत क़दम बढ़ाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ‘भीम (Bhim) ऐप’ लॉन्च किया है. ‘भीम’ का पूरा नाम- भारत इंटरफेस फॉर मनी है. इस ऐप के ज़रिए डिजिटल पेमेंट्स को बढ़ावा मिलेगा. इसे नेशनल पेमेंट्स कॉर्पोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) ने बनाया है.

   bhim revised

    क्या ख़ास है ‘भीम’ (Bhim) में?

  • इसकी सबसे ख़ास बात यह है कि इसमें  आपको बार-बार अकाउंट नंबर डालने की ज़रूरत नहीं पड़ेगी. बस, एक बार अकाउंट नंबर रजिस्टर करें और आसानी से डिजिटल पेमेंट करें.
  • इसकी दूसरी सबसे ख़ास बात है कि यह ऐप बिना इंटरनेट के भी काम करेगा.
  • इसमें टठ कोड भी दिया गया है, जिससे आप सामान ख़रीदने के बाद आसानी से पेमेंट कर सकते हैं. इसके लिए आपको स़िर्फ दुकानदार का टठ कोड स्कैन करके पेमेंट करना होगा.
  • पेमेंट्स करने के साथ-साथ आप अपने बैंक अकाउंट का बैलेंस भी चेक कर सकते हैं.
  • इसमें कस्टम पेमेंट ऐड करने की सुविधा है.
  • इस ऐप में मिनिमम पेमेंट लिमिट 10 हज़ार और मैक्सिमम 20 हज़ार रुपए है.
    यह भी पढ़ें: सफल करियर के लिए चुनें बेस्ट करियर ऐप्स और वेबसाइट्स

    कैसे ऑपरेट करें ‘भीम’?

  • यह एक फ्री ऐप है, तो इसे बस डाउनलोड कर इंस्टॉल करें. 
  • इसके बाद स़िर्फ एक बार आपको अपना बैंक अकाउंट नंबर रजिस्टर करना होगा और एक
    यूपीआई (UPI) पिनकोड जनरेट करना होगा.
  • इसके बाद आपका मोबाइल नंबर ही आपका पेमेंट ऐड्रेस होगा.
  • इंटरनेट कनेक्शन न होने पर आप अपने मोबाइल से USSD कोड +99# डालकर ऑपरेट कर सकते हैं.
  • फिलहाल यह ऐप हिंदी और अंगे़्रजी दो भाषाओं में है, पर जल्द ही अन्य क्षेत्रीय भाषाएं भी इसमें शामिल की जाएंगी.
  • यह ऐप एंड्रॉयड और आईओएस दोनों के लिए उपलब्ध है.

यह भी पढ़ें: स्मार्टफोन आंखों के लिए है हानिकारक

 

न बैंकों को करेगा सपोर्ट:

– Allahabad Bank
– Andhra Bank
– Axis Bank
– Bank of Baroda
– Bank of Maharashtra
– Canara Bank
– Catholic Syrian Bank
– Central Bank of India
– DCB Bank
– Dena Bank
– Federal Bank
– HDFC Bank
– ICICI Bank
– IDBI Bank
– IDFC Bank
– Indian Bank
– Indian Overseas Bank
– IndusInd Bank
– Karnataka Bank
– Karur Vysya Bank
– Kotak Mahindra Bank
– Oriental Bank of Commerce
– Punjab National Bank
– RBL Bank
– South Indian Bank
– Standard Chartered Bank
– State Bank of India
– Syndicate Bank
– Union Bank of India
– United Bank of India
– Vijaya Bank

– अनीता सिंह

लेटेस्ट ऐप्स और टेक्नोलॉजी से जुड़े आर्टिकल्स पढ़ें

‘एयरसेवा’ ऐप व वेबसाइट से तनावमुक्त होगा हवाई सफ़र (Airsewa app & website for hassle free air travel)

airsewa
airsewa
हाल ही में हवाई यात्रा से जुड़ी कई ख़बरें सुर्ख़ियों में बनी रहीं. इसमें कहीं खाने में कॉकरोच का मिलना, तो कहीं फ्लाइट में देरी के कारण हवाई यात्रियों को काफ़ी द़िक्क़तों का सामना करना पड़ा. हवाई यात्रियों की इन्हीं द़िक्क़तों को दूर करने के लिए एविएशन मिनिस्ट्री ने ‘एयरसेवा’ (AirSewa) ऐप और वेबसाइट लॉन्च किया है.

कितनी फ़ायदेमंद है एयर सेवा (AirSewa)?

– एयरसेवा के ज़रिए आप हवाई यात्रा से जुड़ी किसी भी तरह की शिकायत यहां दर्ज कर सकते हैं.
– फ्लाइट स्टेटस की सही जानकारी मिलेगी. अगर फ्लाइट डिले है, तो उसकी जानकारी भी आपको यहां मिलेगी.
– टिकट ख़रीदने और रिफंड आदि के लिए लंबी कतारों की शिकायत ख़त्म करने की कोशिश की जाएगी.
– सामान खो जाने की शिकायत दर्ज करने पर जल्द कार्रवाई की जा सकेगी.

क्या करना होगा?

– अगर आप भी अक्सर हवाई यात्रा करते हैं, तो किसी भी तरह की परेशानी से बचने के लिए सबसे पहले अपने मोबाइल में एयरसेवा (Airsewa) का ऐप इंस्टॉल करें.
– इसमें आप ऑनलाइन शिकायत दर्ज कराने के अलावा उससे जुड़ा ऑडियो या वीडियो भी अपलोड कर सकते हैं.
– शिकायत दर्ज करने पर आपको एक यूनीक रेफरेंस नंबर दिया जाएगा, जिसकी जानकारी आपको ईमेल या एसएमएस के ज़रिए भी मिलेगी.
– ऐप या वेबसाइट पर रेफरेंस नंबर से आप अपनी शिकायत पर हो रही कार्रवाई को ट्रैक भी कर सकते हैं.
– इसमें फीडबैक का ऑप्शन भी दिया गया है, जिसके ज़रिए आप अपने अनुभव शेयर कर सकते हैं.

मंत्रों का हेल्थ कनेक्शन (Healing Power Of Mantras)

कभी भी आपके ज़ेहन में यह बात आई  है कि मंत्रों का क्या और कितना महत्व है? मंत्रों की शक्ति और उनके हेल्थ बेनिफिट्स के बारे में अक्सर हम सुनते रहते हैं, लेकिन शायद ही कभी हमने हेल्थ और मंत्र के साइंटिफिक कनेक्शन को जानने की कोशिश की हो. अगर हम मंत्रों के हेल्थ कनेक्शन को जान जाएंगे, तो ज़ाहिर है उन्हें बेहतर तरी़के से अपने जीवन में अपनाकर हेल्दी और बेहतर ज़िंदगी जी सकेंगे.
Featured
साउंड इज़ पावर
–    मंत्र दरअसल साउंड यानी ध्वनि होते हैं और विज्ञान कहता है, ध्वनि ऊर्जा के सिवा कुछ नहीं है. यानी मंत्र का सीधा मतलब है- एनर्जी. मंत्र जप करने का अर्थ है शक्ति के विभिन्न स्तर को महसूस करना.
–   एक ही ध्वनि अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग परिणाम देती है. विज्ञान यह भी कहता है कि मनुष्य शरीर ऊर्जा का एक घना रूप है. जब किसी ख़ास मंत्र का ख़ास उद्देश्य के लिए जाप किया जाए, तो शरीर की एनर्जी को बेहतर व पूर्ण रूप से महसूस किया जा सकता है.
विज्ञान और मंत्र
–    मंत्र किस तरह से हमारे जीवन व हेल्थ को प्रभावित करते हैं, इसका वर्णन वेदों में हज़ारों वर्ष पूर्व ही किया गया है. लेकिन इसके वैज्ञानिक आधार की खोज अब तक जारी थी. मंत्र और साइंस में बहुत ही गहरा कनेक्शन है.
–   मंत्रों की एक निश्‍चित फ्रिक्वेंसी होती है. मंत्रों के नियमित जाप से हमारे शरीर के नर्वस सिस्टम में एक रिदम में दबाव यानी प्रेशर पैदा होता है, जिससे हमारे चक्र जाग जाते हैं और शरीर एवं मस्तिष्क में एनर्जी पैदा होती है.
–   मंत्रों के उच्चारण से जो फ्रिक्वेंसी पैदा होती है, उसका सकारात्मक असर हमारे शरीर व मन पर पड़ता है, साथ ही मंत्रों को लगातार पढ़ने से जीभ व तालु में जो संपर्क होता है, ॐ के उच्चारण के व़क्त जो ध्वनि नाभि से आती है, उन सबका असर शरीर के प्रेशर पॉइंट्स पर पड़ता है, जिससे हम हेल्दी और एनर्जेटिक महसूस करते हैं.
–    मंत्रों का साइंटिफिक कनेक्शन इसी बात से साबित होता है कि हाल ही में नासा ने सूर्य की ध्वनि को यूनिवर्स में रिकॉर्ड करके उसे कंप्रेस किया, ताकि हम उसे सुन सकें. सुनने पर यह पूरी तरह से साबित हो गया कि यह ध्वनि ठीक वही मंत्र है, जिसका वर्णन वेदों में हज़ारों वर्ष पूर्व किया गया है और यह मंत्र है- ॐ जिसे लगातार सुनने पर एक विशेष प्रकार का कंपन महसूस होता है यानी नासा ने अब इस मान्यता की पुष्टि कर दी है कि मंत्रों का हमारे मन-मस्तिष्क पर कितना गहरा प्रभाव पड़ता है.
–    ओहायो यूनिवर्सिटी के शोध के मुताबिक भी यह साबित हुआ है कि ध्यान यानी डीप मेडिटेशन से लोगों की रोगप्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है. यही नहीं, जो लोग रोज़ाना ध्यान करते हैं, उन्हें ब्रेस्ट कैंसर का ख़तरा भी कम हो जाता है, साथ ही मांसपेशियों के दर्द से भी राहत मिलती है.
–    शोधों में भी यह पाया गया कि कई मरीज़ों पर मंत्र के काफ़ी सकारात्मक नतीजे देखने को मिलते हैं. साउंड व मंत्रों पर किए गए रिसर्च से यह पता चलता है कि निश्‍चित साउंड फ्रिक्वेंसी हमारे माइंड को विशेष प्रकार की आरामदायक परिस्थिति में पहुंचा देती हैं, जिसे वैज्ञानिक भाषा में अल्फा स्टेट कहा जाता है.
–    ध्वनि की शक्ति अपार है. ध्वनि से बड़ी-बड़ी इमारतें, पुल और यहां तक कि इंसान का तंत्रिका तंत्र यानी नर्वस सिस्टम तक प्रभावित हो सकता है. जैसेकि राग दीपक के सही जाप से दीप जलाए जा सकते हैं, राग मल्हार से बारिश करवाई जा
सकती है.
–    आज विज्ञान की बदौलत हम सभी जानते हैं कि विशेष तरंगों को इंसानी कान नहीं सुन सकते, लेकिन सोनोग्राफी एवं अल्ट्रासाउंड के द्वारा आज हम विभिन्न प्रकार के असाध्य रोगों से निजात पा सकते हैं. कई प्रकार के प्रयोगों से पता चलता है कि एक विशेष प्रकार की ध्वनि सुनाने पर मुर्गियों ने अपने पंख गिरा दिए व पेड़-पौधे एवं फसलें सूख गईं.
–    शब्दों की ताक़त अपार है. अगर कुछ उत्साहवर्द्धक शब्द सैनिकों में नई जान डालकर एक हारे हुए युद्ध को जिता सकते हैं, तो कुछ अपशब्द बड़े से बड़े और गहरे रिश्ते-नाते तोड़ भी देते हैं.
धर्म या अंधविश्‍वास नहीं, ये है विज्ञान
–    अक्सर लोग आज भी इसी ग़लतफ़हमी में हैं कि मंत्रों का संबंध किसी विशेष धर्म से है, जबकि तमाम साइंटिफिक रिसर्च और शोधों से यह साफ़ हो चुका है कि मंत्रों का आधार विज्ञान है. धर्म से इनका कोई संबंध नहीं, इसीलिए हर धर्म व समुदाय के लोग इनका प्रयोग करके स्वास्थ्य लाभ ले सकते हैं.
–    मंत्र का यदि गूढ़ अर्थ जानें, तो मन का मतलब है- माइंड और त्र का अर्थ है तरंग या कंपन. मंत्रों के जप से जो कंपन होता है, वह न स़िर्फ हमारे मस्तिष्क को प्रभावित करता है, बल्कि मंत्रोच्चारण के समय श्‍वास-प्रश्‍वास की क्रिया व रिदम हमारे ग्लांड्स पर असर डालते हैं, जिसका सीधा प्रभाव हमारी हेल्थ पर होता है.
–    मंत्र जप के व़क्त हम ध्यानावस्था में पहुंच जाते हैं और हमारा मस्तिष्क अल्फा स्टेट में, जिससे नर्वस सिस्टम बैलेंस होता है और तनाव दूर होता है.
–   मंत्रों के नियमित जप से इम्यूनिटी बढ़ती है, क्योंकि इनका प्रभाव मस्तिष्क और नर्वस सिस्टम पर इस तरह से होता है, जिससे हमारे
हार्मोंस प्रभावित होते हैं. सेरोटोनिन और डोपामाइन को हैप्पीनेस हार्मोंस कहा जाता है, मंत्रों के सकारात्मक प्रभाव से हैप्पी
हार्मोंस रिलीज़ होकर मस्तिष्क को सुखद अवस्था में पहुंचाते हैं. स़िर्फ इतना ही नहीं, हमारे मूड से लेकर भूख और नींद तक से जुड़े मस्तिष्क के केंद्रों को यह प्रभावित करके हार्मोंस के स्तर को बैलेंस करते हैं, जिससे हमारी इम्यूनिटी बेहतर होती है.
हॉवर्ड मेडिकल स्कूल ने बताए मेडिटेशन के फ़ायदे
–    हॉवर्ड मेडिकल स्कूल ने अपने रिसर्च में पाया कि जो लोग नियमित रूप से ध्यान करते हैं, उनके ‘डिसीज़ फाइटिंग जींस’ यानी बीमारियों से लड़नेवाले जींस अधिक एक्टिव रहते हैं.
–    दरअसल, ध्यान की अवस्था में मस्तिष्क शांत हो जाता है और तनावरहित होने पर बीमारियों से लड़नेवाले हार्मोंस क्रियाशील होते हैं और बीमारी उत्पन्न करनेवाले हार्मोंस कम होते हैं.
–    शोधकर्ताओं के अनुसार मेडिटेशन का पूरा लाभ पाने के लिए ॐ का उच्चारण भी करना चाहिए.
ॐ के जप के फ़ायदे
–    शरीर के टॉक्सिन्स निकल जाते हैं.
–    वोकल कॉर्ड और गले की मांसपेशियों को मज़बूती मिलती है. ख़ासतौर से बढ़ती उम्र में यह और भी फ़ायदेमंद है.
–    ॐ के नियमित उच्चारण से जो कंपन पैदा होता है, उसका असर वोकल कॉर्ड और साइनस पर भी पड़ता है.
–   यह रक्तचाप व थायरॉइड को नियंत्रित करता है.
–    कुछ लोगों के निजी अनुभव तो यह भी कहते हैं कि ॐ के जप से उनका वज़न भी नियंत्रित रहता है, क्योंकि इसके वाइब्रेशन्स पूरे शरीर को प्रभावित करते हैं और बढ़ते वज़न को कम करते हैं.
‘मेरी सहेली’ की सिस्टर ऑर्गनाइज़ेशन ‘द वर्ल्ड बियॉन्ड’ के ‘वैदिक हीलिंग मंत्रा’ मोबाइल ऐप से पाएं हेल्दी लाइफ, वो भी फ्री ऑफ कॉस्ट!
मंत्रों के इस हेल्थ कनेक्शन को देखते हुए ‘मेरी सहेली’ की सिस्टर ऑर्गनाइज़ेशन ‘द वर्ल्ड बियॉन्ड’ ने ‘वैदिक हीलिंग मंत्रा’ मोबाइल ऐप लॉन्च किया है, जिसमें विभिन्न समस्याओं के लिए अलग-अलग मंत्र दिए हैं. इस तरह एक्सपर्ट्स की मदद से विभिन्न समस्याओं के लिए वेदों से मंत्रों को संकलित किया है. वैदिक हीलिंग मंत्रा ऐप एंड्रॉयड और आइओएस दोनों के लिए उपलब्ध है, वो भी मुफ़्त, तो आज ही अपना फोन उठाएं और वैदिक हीलिंग मंत्रा ऐप फ्री डाउनलोड करें.
For Android– https://play.google.com/store/apps/details?id=com.pioneer.mantra.firstscreentab&hl=en
For IOS– https://itunes.apple.com/us/app/vedic-healing-mantras/id1075803563?mt=8