April Fool

Yuvraj Singh

क्रिकेटर युवराज सिंह अपने छक्के और मज़ाकिया व्यवहार की वजह से टीम के चहेता खिलाड़ी हैं. जब भी वो टीम में रहते हैं खिलाड़ियों का हंस-हंसकर हाल बुरा हो जाता है. अपने इसी अंदाज़ में एक तारीख़ को युवराज ने शिखर धवन कोे अप्रैल फूल बनाया. युवराज इस समय इतने सीरियस थे कि धवन को ख़बर तक नहीं लगी कि यूवी उन्हें उल्लू बना रहे हैं.

युवराज और धवन जिम में थे. दोनों ही जिम में एक्सरसाइज़ करने पहुंचे थे. यूवी एक्सरसाइज़ कर रहे थे और धवन स्वीमिंग पूल में तैर रहे थे. तभी यूवी ने धवन को इशारों-इशारों में बताया कि उनकी पत्नी का फोन है कुछ अर्जेंट बात करनी है. शिखर इस बात पर पूल से बाहर निकले और सामने रखी टेबल पर अपने बैग से मोबाइल निकालने लगे. तभी युवराज ज़ोर-ज़ोर से हंसने लगे. तब धवन समझ गए कि वो अप्रैल फूल बन गए.

Yuvraj Singh

शिखर ने युवराज से पूछा कि क्या सच में उन्होनें धवन को अप्रैल फूल बनाया है? इस पर यूवी हंसकर हां कहते हैं. दोनों खिलाड़ी हंसने लगते हैं.

आप भी देखिए ये प्यारा-सा वीडियो.

 

 

 

 

Soup and Salad Recipes

Soup and Salad Recipes (E-Book)

Rs.30

Gujrathi Receipe (E-Book)

Rs.30
Best Mehendi Designs (E-Book)

Best Mehendi Designs (E-Book)

Rs.30

Film April Fool 2

अप्रैल की पहली तारीख़ यानी मूर्ख बनाने का सुनहरा अवसर. इसमें फिल्मी सितारे भी ख़ूब फूल बनते रहे हैं. आइए, कुछ ऐसे ही दिलचस्प वाक्ये के बारे में जानते हैं.

 

अमिताभ के नाम पर अप्रैल फूल बनाया

एक बार अजय देवगन ने एक मशहूर पीआर को मैसेज करके अमिताभ बच्चन के घर पर पहुंचने के लिए कहा. उस पीआर ने इस बात को गंभीरता से लेते हुए अमितजी के घर पर सुबह-सुबह पहुंच गया. अमितजी के पूछने पर कहने लगा कि आपने ही तो मैसेज करके बुलाया है. अमितजी ताज्जुब में पड़ गए कि भला मैंने कब बुलाया. लेकिन जब काफ़ी पूछताछ की गई तब पता चला कि यह बदमाशी अजय देवगन की थी. दरअसल, अजय देवगन के पास एक सॉफ्टवेयर था, जिससे वे किसी के नंबर से किसी को भी मैसेज कर सकते थे. इसी का फ़ायदा उठाकर उन्होंने अमिताभ और पीआर दोनों को ही अप्रैल फूल बना डाला.

 

विद्या ने खाया मुक्का

हुआ यूं कि किसी ने फर्स्ट अप्रैल के दिन विद्या बालन को एक तोहफ़ा भेजा. उन्होंने बड़ी ख़ुशी के साथ उस तोह़फे को खोला, तो अंदर से
स्प्रिंगवाला एक पंचिंग बैग निकला और साथ में एक ज़ोरदार मुक्का उनके मुंह पर लगा. एक पल के लिए वे स्तब्ध रह गईं. बाद में उनकी समझ में आया कि किसी ने उन्हें बेव़कूफ़ बनाया.

 

जब शाहरुख बने बेव़कूफ़

कुछ साल पहले शाहरुख ख़ान की एक प्रेस कॉन्फ्रेंस पहली अप्रैल को ही थी. इत्तेफ़ाक़ से वे उस दिन देरी से आए. जब वे वहां पर पहुंचे, तब सभी मीडिया के लोग, ख़ासकर
पत्रकार तबका उन्हें बॉयकॉट करके जाने लगा. शाहरुख बेहद हैरान-परेशान हो गए. उनकी समझ में नहीं आ रहा था कि वे क्या करें और उनसे ऐसी क्या ग़लती हो गई कि सभी मीडियावाले प्रेस कॉन्फ्रेंस छोड़कर जा रहे हैं. बाद में सभी पत्रकार हंसने-मुस्कुराने लगे, तो उन्हें समझ में आया कि वे बेव़कूफ़ बन गए हैं. इसी वाक्ये से शाहरुख ने यह क़बूल किया कि पत्रकारों से बेहतर कोई और मूर्ख नहीं बना सकता.

आलिया हुई गंजी

पहली अप्रैल को किसी ने यह अफ़वाह उड़ा दी कि आलिया भट्ट अपनी एक फिल्म के लिए बाल्ट यानी गंजी होनेवाली हैं. यह ख़बर इस कदर आग की तरह फैली कि सच जानने के लिए आलिया को लगातार फोन आने लगे. मज़ेदार बात यह थी कि आलिया ख़ुद इससे अनजान थीं कि उन्हें ऐसा कोई रोल मिला है. दिनभर वे सभी को जवाब देते-देते परेशान हो गईं. बाद में पता चला कि किसी ने उन्हें अप्रैल फूल बनाया.

 

सोनाक्षी की शैतानियां

एक बार सोनाक्षी सिन्हा ने अपनी एक टीचर को और अपने बेस्ट फ्रेंड को जिसका टीचर पर क्रश था, बेव़कूफ़ बनाकर लंच पर इन्वाइट किया. फिर वहां पर वे भी अपनी पूरी गैंग के साथ पहुंची. उसके बाद सभी ने मिलकर उन दोनों की जो हजामत की कि पूछो मत. सोनाक्षी आज भी अपने इन शैतानियों को याद करके हंस पड़ती हैं.

 

करीना के प्रेग्नेंट होने की अफ़वाह

कुछ सालों पहले एक मशहूर वेबसाइट ने यह ख़बर फैला दी थी कि करीना कपूर तीन महीने की प्रेग्नेंट है. यह ख़बर सोशल मीडिया पर इस कदर वायरल हुई कि करीना ने जो फिल्में साइन की थीं उनके प्रोड्यूसर्स ने उन्हें लगातार फोन करके, पूछताछ करके परेशान कर डाला. और फिर अगले दिन उस वेबसाइट ने सफ़ाई दी कि यह ख़बर अप्रैल फूल के लिए थी.

 

जब सनी लियोन बनी फूल

अप्रैल फूल का शिकार तो सनी लियोन भी हो चुकी हैं. फर्स्ट अप्रैल को उन्हें किसी ने फोन किया और कहा की एक मशहूर फिल्ममेकर उन्हें अपनी फिल्म में लेना चाहते हैं और कहानी पर डिसकस करने के लिए उन्हें ताज लैंड होटल (मुंबई) में बुलाया है. सनी बताए गए समय पर वहां पहुंची, पर वहां पर कोई भी नहीं आया. काफ़ी इंतज़ार करने के बाद जब उन्होंने फोन करके जानने की कोशिश की, तो पता चला कि वे तो अप्रैल फूल बन चुकी हैं.

– ऊषा गुप्ता