asha bhonsle

बच्चे हर मां-बाप के लिए उनकी जिंदगी की सबसे बेशकीमती तोहफा होते हैं. चाहे आम मां-बाप हों या सेलेब्रिटीज़, सबकी जान अपने बच्चों में जान बसती है, लेकिन कभी-कभार जिंदगी में ऐसे हादसे हो जाते हैं जब बच्चों को लेकर देखे गए तमाम सपने पल भर में टूट जाते हैं. जब अपने बच्चों को खोने का दर्द झेलना पड़ता है. कई ऐसे स्टार्स और सेलेब्रिटीज़ भी हैं जिन्हें अपनी जिंदगी में औलाद खोने का दर्द सहना पड़ा है. आइए जानते हैं इन स्टार्स के बारे में….

शेखर सुमन: 4 साल की उम्र में दिल की बीमारी से हुई बेटे की मौत

Shekhar Suman


शेखर सुमन के बेटे अध्ययन सुमन के बारे में तो सब जानते हैं, लेकिन शेखर का एक और बेटा था जो अध्य्यन से बड़ा था, जिसका नाम आयुष था. आयुष का जन्म 4 अप्रैल 1983 को हुआ था, लेकिन 1990 के आखिर में पता चला कि आयुष को जन्मजात को दिल की बीमारी है. आयुष ने 4 साल इस बीमारी से जंग लड़ी, लेकिन 22 जून 1994 को 11 साल की उम्र में आयुष का निधन(Death) हो गया. आयुष को दुनिया छोड़कर गए 26 साल का वक्त बीत चुका है, लेकिन बेटे को खोने का गम शेखर सुमन के दिल में आज भी नासूर की तरह चुभता है.

गोविंदा: 4 महीने की प्रीमेच्योर को खो दिया

Govinda


अपनी कॉमेडी से सबको हंसाने वाले गोविंदा भी पहली औलाद को खोने का दुख झेल चुके हैं. वे भी अपनी पहली बेटी को खोने के गम से गुजरे हैं. दरअसल गोविंदा और उनकी पत्नी सुनिता को पहली संतान के रूप में बेटी हुई थी, जिसका जन्म प्रीमेच्योर हुआ था. इसके बाद वो सिर्फ 4 महीने सर्वाइव कर पाई. बेटी को खोने के बाद गोविंदा बुरी तरह से टूट गए थे, उन्हें काफी टाइम लगा था इस दुख से उबरने में.

प्रकाश राज: बस एक फुट ऊंची टेबल से गिरने से हो गई थी 5 साल के बेटे की मौत

Prakash Raj


प्रकाश राज बॉलीवुड और साउथ फिल्मों के बेहतरीन एक्टर हैं और पर्दे पर भले ही वो खलनायकों का किरदार निभाते हों, लेकिन उनकी जिंदगी आसान नहीं रही, लेकिन उन्होंने भी 5 साल के बेटे को अचानक खो दिया, जिसके बाद पूरी तरह उनकी जिंदगी बदल गई. उनका बेटा सिद्धू पतंग उड़ाते हुए केवल एक फुट ऊंची टेबल से गिर गया था. इसके कुछ महीने बाद उसे दौरे पड़ने लगे, जिसके बाद उसकी मौत हो गई. उसकी मौत इतनी अचानक हुई कि किसी को समझ नहीं आया कि क्या वजह थी. बेटे की मौत किसी भी दूसरे दुख से ज्यादा दुखद थी प्रकाश राज के लिए. प्रकाश राज ने एक इंटरव्यू में अपने बेटे को खोने का दुख साझा किया था, “उसे मैंने अपने खेतों में जलाया था, मैं कई बार वहां जाकर बैठता हूं. वहां जाकर मुझे लगता है कि मैं कितना लाचार हूं. जिंदगी का कोई भरोसा नहीं है और यह बहुत छोटी है. नेचर के सामने आप बहुत कमजोर हो. मुझे अपनी बेटियों से बहुत प्यार है, लेकिन अब भी मैं अपने बेटे को बहुत याद करता हूं.”

आशा भोसले: डिप्रेशन में गोली मारकर सूसाइड कर लिया बेटी वर्षा ने

Asha Bhosle


2002 में लेजेंडरी सिंगर आशा भोंसले की बेटी वर्षा भोसले ने अपनी लाइसेंसी पिस्तौल से खुद को गोली मारकर खुदखुशी कर ली थी. उनकी उम्र 56 वर्ष थी. बताया जाता है कि 1998 में अपने पति से तलाक के बाद से ही वर्षा डिप्रेशन में थीं और कई बार पहले भी सुसाइड की कोशिश कर चुकी थीं. आखिर 2002 में यही डिप्रेशन उनकी मौत का कारण बना. आशा भोसले के लिए भी बेटी को इस तरह खोना बहुत बड़ा शॉक था.

जगजीत सिंह: उस शाम गजल गाते रहे जगजीत सिंह, रुके तो आ गई बेटे की मौत की खबर

Jagjit Singh


गज़ल की एक नई तासीर से दुनिया को परिचित कराने वाले जगजीत सिंह हालांकि अब हमारे बीच नहीं हैं, लेकिन जिस ‘दर्द’ और ‘आह’ को हम जगजीत सिंह की ग़ज़लों में महसूस करते हैं उस दर्द को जगजीत सिंह ने अपनी असल जिंदगी में भी जीया था. साल 1990 का वो दिन जब जगजीत सिंह अपनी आवाज से ग़ज़ल की महफिल को रोशन कर रहे थे. महफिल खत्म होते ही मनहूस खबर आई कि उनके इकलौते बेटे विवेक सिंह की लंदन में एक सड़क हादसे में मौत हो गई. बेटे के अचानक चले जाने के ग़म ने जगजीत को भी कई महीनों तक खामोश कर दिया. जगजीत सिंह की पत्नी चित्रा सिंह तो इस सदमे को बर्दाश्त ही नहीं कर सकीं और इसके बाद ग़ज़ल की दुनिया में उनकी आवाज़ कई सालों तक खामोश रही. कहते हैं बेटे की मौत के 6 महीने बाद जब जगजीत सिंह वापस ग़ज़ल गायकी की दुनिया में लौटे तो उनकी आवाज में बेटे के खोने का दर्द साफ नज़र आया और उसके बाद उनकी आवाज़ का यही दर्द उन्हें ग़ज़ल गायकी में एक अलग ऊंचाई पर ले गया.

मोहम्मद अजहरुद्दीन: 19 साल के बेटे ने एक्सीडेंट में गंवाई जान

Mohammad azharuddin


भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान मोहम्मद अजहरुद्दीन भी जवान बेटे को खोने का गम झेल चुके हैं. उनका बेटा अयाज़ महज़ 19 साल का था, जब उसका रोड एक्सीडेंट हो गया था. बताया जाता है कि इस एक्सीडेंट में उसे गम्भीर चोटें आई थीं, जिसके कुछ दिनों बाद उसकी मौत हो गयी थी. जवान बेटे को खोने के दुख से अजहरुद्दीन अब तक उबर नहीं पाए हैं.