Tag Archives: athlete

गोल्डन गर्ल हिमा दास को देश का सलाम (Nation Salutes Hima Das)

  • Hima Das

महीने भर में दौड़ में पांचवा गोल्ड मेडल जीतकर हिमा दास ने इतिहास रच दिया. बधाई+कॉन्ग्रैचुलेशन्स हिमा! गोल्डन जर्नी बरकरार है..

Hima Das

आख़िरकार महीनेभर के अंदर हिमा ने 5 वां गोल्ड भी जीत ही लिया. इस तरह भारत की उड़न परी ने जुलाई महीने में एक और गोल्ड मेडल अपने नाम कर लिया. उन्होंने चेक गणराज्य में नोवे मेस्टो नाड मेटुजी ग्रां प्री में महिलाओं की 400 मीटर रेस में 52.09 सेकंड का समय लेते हुए गोल्ड जीता.
भारत की स्टार धाविका हिमा ने अपने मेहनत, लगन व जज़्बे से हर किसी को प्रभावित किया. आज हर कोई खिलाड़ी, नेता, अभिनेता, सिलेब्रिटीज हिमा दास की उपलब्धियों की तारीफ कर रहे हैं और उन्हें बधाई दे रहे हैं. हिमा भी नम्रतापूर्वक सभी को धन्यवाद देते हुए बधाई स्वीकार कर रही हैं. प्रधानमंत्री से लेकर राष्ट्रपति तक, फिल्म स्टार से लेकर स्पोर्ट्स स्टार तक सभी हिमा दास की लगातार स्वर्णिम जीत को सलाम कर रहे हैं.
बिग बी अमिताभ बच्चनजी ने तो यहां तक कह दिया कि हम सबको आप पर गर्व है हिमा दासजी, आपने भारत का नाम स्वर्ण अक्षरों में लिख दिया!..
ऐक्टर अक्षय कुमार हिमा के प्रदर्शन से इस कदर प्रभावित हुए कि उन्होंने बधाई देते हुए उन पर फिल्म बनाने का प्रस्ताव भी रख दिया. अजय देवगन, तापसी पन्नूू, रवीना टंडन, विवेक ओबेरॉय, प्रीति जिंटा, अर्जुन कपूर, सोनम कपूर आदि फिल्म स्टार्स ने भी हिमा को ढेर सारी बधाइयां दीं.

Hima Das
आज हिमा युवा खिलाड़ियों के लिए एक रोल मॉडल बनकर उभर रही हैं. देश को हिमा दास पर गर्व है. ऐसा लगता है जैसे कल की ही बात हो, जब पिछ्ले साल 2018 में एआईआईएफ वर्ल्ड कप अंडर 20 चैम्पियनशिप के 400 मीटर रेस में उड़न परी हिमा ने गोल्ड जीतकर इतिहास रच दिया था. वे पहली भारतीय खिलाड़ी बनीं, जिन्होंने इस प्रतियोगिता में यह कारनामा कर दिखाया. इसके पहले एथलीट पी. टी. उषा, मिल्खा सिंह इसके क़रीब भर ही पहुंच पाए थे.

Hima Das
मेरी सहेली की तरफ़ से हिमा दास को उनकी तमाम उपलब्धियों के लिए बहुत-बहुत बधाइयां!.. साथ ही जीत का सिलसिला यूं ही बरकरार रहें, इसकी ढेर सारी शुभकामनाएं!…

– ऊषा गुप्ता

Hima Das

यह भी पढ़े: हिमा दास की गोल्डन दौड़… (Hima Das Wins Fourth International Gold Medal In 15 Days)

 

हिमा दास की गोल्डन दौड़… (Hima Das Wins Fourth International Gold Medal In 15 Days)

विदेश में 15 दिनों में चार गोल्ड मेडल जीत देश का नाम किया रौशन…

भारत की उड़नपरी असम की स्टार धाविका हिमा दास (Hima Das) ने पंद्रह दिनों में चार गोल्ड मेडल (Gold Medal) जीतकर देश का नाम दुनियाभर में रौशन कर दिया. उन्होंने न केवल ख़ुद को, बल्कि देश को कई बार गौरवान्वित होने का मौक़ा दिया. टैलेंटेड यंग स्प्रिंटर ने विदेश में चार अलग-अलग प्रतियोगिता में 200 मीटर की दौड़ में चार स्वर्ण पदक जीतकर अपने हुनर का लोहा मनवाया.

Hima Das

स्वर्णिम सफ़र

* इसी महीने यानी जुलाई की दो तारीख़ को पोलैंड के पोज़नान एथलेटिक्स ग्रांड प्रिक्स में हिमा दास ने 200 मीटर के रेस में 23.65 सेकंड समय लेते हुए अपना साल 2019 का पहला गोल्ड मेडल जीता.

* जीत के सिलसिले को बरक़रार रखते हुए आठ जुलाई को कुंटो एथलेटिक्स प्रतियोगिता में 23.97 सेकंड का समय निकालकर उन्होंने दूसरा स्वर्ण पदक भी जीत लिया.

* उनके जीतने का जुनून इस कदर चरम पर था कि 14 जुलाई को हुए क्लांदो मेमोरियल एथलेटिक्स टूर्नामेंट के 200 मीटर के ही रेस में 23.43 सेकंड में पूरा करते हुए हिमा ने जीत की व गोल्ड की हैट्रिक मारी.

* अपने ज़बर्दस्त दौड़ को जारी रखते हुए उन्होंने चेक गणराज्य में 17 जुलाई को हुए टाबोर एथलेटिक्स प्रतियोगिता में एक बार फिर 200 मीटर की दौड़ में गोल्ड पर बाजी मारी. अपने चौथे गोल्ड को हासिल करने के लिए उन्होंने मात्र 23.25 सेकंड का समय लिया, जो उनके नेशनल रिकॉर्ड के काफ़ी क़रीब रहा. गौर करनेवाली बात यह है कि इसी दौड़ में भारत की ही धाविका वी. के विसमाया ने 23.43 सेकंड का समय लेते हुए रजत पदक जीता. खिलाड़ियों को बहुत-बहुत बधाई!

अचीवमेंट्स

* हिमा दास वर्ल्ड जूनियर चैंपियन हैं.

* 400 मीटर के रेस में नेशनल रिकॉर्ड होल्डर हैं और उनका सर्वश्रेष्ठ समय 23.10 है, जो अभी तक जीते चारों पदक में वे इसके क़रीब भी नहीं पहुंच पाई हैं.

* वे आईएएएफ वर्ल्ड अंडर 20 एथलेटिक्स चैंपियनशिप की 400 मीटर रेस टूर्नामेंट में गोल्ड मेडल जीतनेवाली पहली भारतीय महिला एथलिट हैं.

* 400 मीटर के रेस में भी 51.46 सेकंड का समय लेकर सोने के तमगे पर उन्होंने कब्ज़ा जमाया.

* हिमा ने हाल ही में गुवाहाटी में हुए इंटर स्टेट चैंपियनशिप में भी स्वर्ण पदक जीता.

* साल 2018 में जकार्ता में हुए 18 वें एशियन गेम्स में 400 मीटर में नेशनल रिकॉर्ड तोड़ते हुए सिल्वर मेडल जीता था.

* एक तरफ़ जहां हिमा दास का राज्य असम बाढ़ के कहर से जूझ रहा हैे, तो दूसरी तरफ़ अपनी मेहनत-लगन और मज़बूत इरादों के साथ हिमा असम व भारत का नाम रौशन कर रही हैं.

* उन्होंने अपनी आधी तनख़्वाह भी बाढ़ पीड़ितों की मदद के लिए दी है.

* पीठदर्द की समस्या से जूझने के बावजूद दिनोंदिन हिमा बेहतरीन प्रदर्शन कर रही हैं. वेलडन!

सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन

* 100 मीटर में 11.74 सेकंड

* 200 मीटर में 23.10 सेकंड

* 400 मीटर में 50.79 सेकंड

* 4द400 मीटर रिले में 3.33.61 में.

पर्सनल लाइफ

* हिमा दास का जन्म 9 जनवरी, 2000 को असम के नगांव जिले के कांधूलिमारी गांव में हुआ था.

* माता-पिता जोनाली व रोनजीत दास की चावल की खेती है.

* वे चार भाई-बहनों में सबसे छोटी हैं.

* हिमा स्कूल के दिनों में लड़कों के साथ फुटबॉल खेलती थीं और इसी में अपना करियर बनना चाहती थीं.

* जवाहर नवोदय स्कूल के पीटी टीचर शमशुल हक की सलाह पर उन्होंने दौड़ना शुरू किया.

* ट्रैक एंड फील्ड की इस प्रतिभावान खिलाड़ी के कोच निपोन दास हैं.

* वे ढिंग एक्सप्रेस के नाम से मशहूर हैं.

भविष्य में होनेवाली अन्य प्रतियोगिता के लिए मेरी सहेली की ओर से ढेर सारी शुभकामनाएं! ऑल द बेस्ट!

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ेगोल्डन गर्ल हिमा दास को देश का सलाम (Nation Salutes Hima Das)

गोल्डन गर्ल हिमा दास की कामयाबी ने प्रधानमंत्री मोदी को किया भावुक (Seeing Her Passionately Search For The Tricolour Touched Me Deeply: PM Narendra Modi)

 

Athlete Hima Das

भारतीय ऐथ्लीट हिमा दास ने गुरुवार को आईएएएफ विश्व अंडर २० एथलेटिक्स चैम्पीयन्शिप की ४०० मीटर दौड़ में गोल्ड मेडल जीतकर इतिहास रच दिया है.

ये चैम्पीयन्शिप फ़िनलैंड के टेम्पेयर शहर में हुई थी. ऐसा करके अब हिमा ट्रैक स्पर्धा में गोल्ड मेडल जीतनेवाली पहली भारतीय खिलाड़ी बन गई हैं.

प्रधानमंत्री मोदी ने भी उनकी तारीफ़ करते हुए उन्हें बधाई दी… मोदी जी ने कहा…जीत के बाद तिरंगे के लिए जो प्यार हिमा के जज़्बे में दिखा और राष्ट्रगान के समय उनका भावुक होना मेरे मन को भीतर तक छू गया! यह देखने के बाद आख़िर किस भारतीय की आँखें नम ना होंगी!

आप देखें प्रधानमंत्री मोदी ने जो वीडियो ट्विटर पर शेयर किया

असम की रहनेवाली हिमा १८ साल की हैं और ग़रीब किसान की बेटी हैं… हम सबको उनपर गर्व है!

– गीता शर्मा

यह भी पढ़ें: संपत्ति में हक़ मांगनेवाली लड़कियों को नहीं मिलता आज भी सम्मान…