Tag Archives: attractions

पहला अफेयर: एक ख़ूबसूरत लम्हा (Pahla Affair: Ek Khoobsurat Lamha)

Love Stories in Hindi

पहला अफेयर: एक ख़ूबसूरत लम्हा (Pahla Affair: Ek Khoobsurat Lamha)

एक बार व़क्त का सबसे ख़ूबसूरत लम्हा गिरा कहीं, उसे देखकर सारी कायनात उसकी दीवानी हो गई और उसके स्पर्श की चाह में सारी हवाओं का रुख़ बदल गया. गुलाब भी उसके होंठों को छूने के लिए तरसने लगे. उस बहार का नाम शैलजा था, लेकिन इस नाम से कभी किसी ने उसे नहीं पुकारा होगा… सभी उसे शैलू कहते थे. अपने इस निकनेम से वह बड़ी मासूम और अल्हड़ लगती थी.

हमारे कॉलेज में आज उसका पहला दिन था और एक बार उसे जिसने भी देखा, वह उसके रूप का दीवाना हो गया. उसे चाहनेवालों की संख्या मतदाता सूची की तरह लंबी थी. जब से शैलू मेरे जीवन में आई थी, मेरी ज़िंदगी का हर लम्हा ख़ुशगवार हो गया था.

साथ पढ़ते हुए अपने कॉलेज की पढ़ाई हमने पूरी कर ली, तो मुझसे लौटकर आने की बात कहकर वह दूसरे शहर अपने घर चली गई. लेकिन उसके बाद लौटकर नहीं आ सकी और मैं न जाने किस उम्मीद पर उसका इंतज़ार करता रहा. व़क्त गुज़रता चला गया, मैं उसे भुला तो न सका, पर ज़िंदगी में आगे ज़रूर बढ़ गया.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: इंतज़ार (Pahla Affair: Intezar)

लेकिन इधर कुछ दिनों से अचानक न जाने कितनी बार, कितने ब्लैंक कॉल्स आने लगे और कल रात मैंने उस एक कॉल पर अनायास ही तीन बार फिर से फोन लगाकर जानना चाहा कि यह किसका कॉल था. तीन बार में भी कोई आवाज़ नहीं आई, लेकिन चौथी बार उसकी आवाज़ सुनाई दी. न जाने अंतर्मन ने कैसे जान लिया था कि वह जो बात नहीं कर रहा, वह ज़रूर कोई मेरा अपना ही है और उसकी आवाज़ की कशिश को आज भी मैं नहीं भूल पाया था.

बीस साल पहले मैंने उसे खो दिया और आज इतने सालों बाद रात के दो बजे महज़ वो आवाज़ सुनकर उसके नाम से मैंने उसे पुकारा, तो ख़ुशी के मारे वो भावुक होती चली गई. फिर उसके शब्द भीगने लगे थे. मेरे लिए दुनिया का यह सबसे सुखद आश्‍चर्य था. जाने इन बीस सालों में वह ज़िंदगी के किन हालात से गुज़री होगी और जाने मेरा ये फोन नंबर उसने कहां से, किस तरह से लिया होगा.

और आज एक ही बार की लंबी बातचीत में हमने कॉलेज के अंतिम दिनों के एक-एक पल को न जाने कितनी बार जीया. हम दोनों को अब तक सब कुछ वैसा ही याद था, जैसा हम साथ चलते-चलते पीछे व़क्त की दहलीज़ पर छोड़ आए थे. उसके लहज़े में छिपा दर्द और उदासी मैंने महसूस कर ली थी. एक बेहद अंतरंग रिश्ते के पुनर्जीवित होने की ख़ुशी उसे मुझसे अधिक थी. लेकिन मैं अपनी सुखी ज़िंदगी में व्यस्त था. उसके जीवन के रेगिस्तान को एक क़तरा शबनम भी न दे सका. शायद उसे भी यह एहसास हो गया और वह मुझसे दूर, बहुत दूर चली गई और इस बार मैंने उसे हमेशा के लिए खो दिया था.

कहां मिलता है कोई दिल की गहराइयों से चाहनेवाला…
मेरे पास अब ज़िंदगीभर के लिए उसकी यादों के सिवा कुछ भी नहीं बचा. मैं उसे कभी भुला नहीं सकता था, उसे भुलाने में तो सदियां लग जाएंगी, पर उसकी यादें मेरे जीने का सहारा बनी रहेंगी… ताउम्र!

– तरुण राजवानी

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: रॉन्ग नंबर (Pahla Affair: Wrong Number)