Ayurvedic Beauty Secrets

अपनी स्किन पर कोई भी केमिकल लगाए बिना खूबसूरत त्वचा पाना चाहती हैं, तो आपको .. आयुर्वेदिक ब्यूटी सीक्रेट्स ज़रूर जानने चाहिए. आयुर्वेदिक ब्यूटी सीक्रेट्स में हैं दादीमां के ख़ज़ाने में छुपे खूबसूरती के वो नुस्खे, जो मिनटों में आपकी त्वचा को सुंदर बनाते हैं और आपको देते हैं एक नई रंगत. आप भी ये आयुर्वेदिक ब्यूटी सीक्रेट्स ट्राई कीजिए और पाइए सुंदर और स्वस्थ त्वचा.

आयुर्वेदिक स्किन टाइप
आयुर्वेद के अनुसार कफ़, पित्त और वात आपकी त्वचा को भी प्रभावित करता है, इसलिए आपके लिए यह जानना ज़रूरी है कि आयुर्वेद के अनुसार आपकी स्किन का टाइप क्या है.

वात स्किन टाइप
वात दोष ड्राई, कूल और हल्का होता है, इसलिए वात स्किन भी पतली, ड्राई और छूने पर ठंडी लगती है. कभी-कभी आपकी स्किन बहुत ज़्यादा ड्राई हो जाती है. इस स्किन टाइपवालों में उम्र बढ़ने पर झुर्रियां जल्दी नज़र आती हैं.

वात स्किन टाइप की केयर कैसे करें?
1) क्लींज़िंग के लिए हर्बल और होममेड क्लींज़र्स का इस्तेमाल करें, ताकि स्किन बहुत ज़्यादा ड्राई न हो.
2) क्लींज़िंग के तुरंत बाद मॉइश्‍चराइज़ ज़रूर करें.
3) कोकोनट, आल्मंड, सेसमे और ऑलिव ऑयल का इस्तेमाल आपकी स्किन पर बेस्ट रिज़ल्ट देगा.
4) इसके अलावा आप शिया बटर और शहद को भी अपने स्किन केयर में शामिल करें.
5) डायट में ड्रायफ्रूट्स, एवोकैडो और फैटी फिश शामिल करें.

यह भी पढ़ें: हल्दी के ये 10 उबटन निखारते हैं दुल्हन का रूप (10 Best Haldi Ubtan For Indian Brides To Get Glowing Skin Naturally)

पित्त स्किन टाइप
पित्त स्किन गोरी, गुलाबी, सॉफ्ट और छूने पर गर्म और थोड़ी मोटी महसूस होती है. जब पित्त बिगड़ता है, तो चेहरे पर रैशेज़, मुंहासे और छोटे-छोटे दाने नज़र आते हैं.

पित्त स्किन टाइप की केयर कैसे करें?
1) केमिकल प्रोडक्ट्स से जितना हो सके दूर रहें, वरना स्किन में इरिटेशन और इंफ्लेमेशन होगी.
2) अपने स्किन केयर में कोकोनट, ग्रेपसीड, लैवेंडर, रोज़ और टी ट्री ऑयल शामिल करें.
3) कोशिश करें फ्रेगरेंस फ्री प्रोडक्ट्स चुनें.
4) तरबूज़, चेरीज़, कीवी, पाइनेप्पल और पेर अपने डायट में शामिल करें.
5) खाने में टमाटर और विनेगर अवॉइड करें, क्योंकि ये एसिडिक फूड आपकी त्वचा के लिए ठीक नहीं.

कफ़ स्किन टाइप
कफ़ स्किन ऑयली, छूने पर मोटी और बाक़ी दोनों स्किन टाइप से ज़्यादा सॉफ्ट होती है. अगर आपके बाल काले, मोटे और ऑयली हैं, तो आपकी स्किन टाइप कफ़ है.

कफ़ स्किन टाइप की केयर कैसे करें?
1) आपकी स्किन टाइप के लिए क्लींज़िंग बहुत ज़रूरी है. ख़ासतौर से रात को चेहरा क्लींज़ करके ही सोएं.
2) अपनी स्किन को बहुत ज़्यादा ड्राई करने की कोशिश न करें, क्योंकि इसका परिणाम उल्टा हो सकता है. माइल्ड क्लींज़र्स का इस्तेमाल करें.
3) ऐसे मॉइश्‍चराइज़र्स का इस्तेमाल करें, जो लाइट और नरिशिंग हों.
4) रोज़मेरी और पेपरमिंट हर्ब्स आपकी स्किन के लिए उपयोगी हैं.
5) तला-स्पाइसी खाने से बचें. डेयरी प्रोडक्ट्स भी कम इस्तेमाल करें. इससे आपकी स्किन हेल्दी व ग्लोइंग नज़र आएगी.
6) लंच में आप खाने के साथ फ्रूट और वेजीटेबल जूस लें.

यह भी पढ़ें: 10 फेयरनेस स्क्रब से मिनटों में पाएं गोरी और बेदाग़ त्वचा (10 Best Homemade Fairness Scrub For Fair And Glowing Skin)

आयुर्वेदिक स्किन केयर
आयुर्वेद के अनुसार हमें अपनी स्किन का ख़्याल हमेशा मौसम के अनुरूप रखना चाहिए. जहां बारिश और सर्दियों में हमें त्वचा को एसेंशियल ऑयल्स से मॉइश्‍चराइज़ और प्रोटेक्ट करना चाहिए, वहीं गर्मियों में त्वचा को कूल और हाइड्रेटेड रखने के लिए गुलाब और एलोवीरा का इस्तेमाल करना चाहिए. स्किन केयर के लिए और क्या करना चाहिए आइए जानते हैं.

1) दिन की शुरुआत हर्बल ऑयल मसाज से करें. नहाने से पहले पूरी बॉडी को कम-से-कम 10 मिनट तक मसाज करें. इससे त्वचा मॉइश्‍चराइज़्ड रहती है और रक्तसंचार बेहतर होता है, जिससे स्किन में एक नई चमक आती है.
2) ऑयल मसाज के लिए आप सेसमे या सनफ्लावर ऑयल का इस्तेमाल कर सकती हैं.
3) हफ़्ते में एक बार नहाने से पहले पूरे शरीर की ड्राई ब्रशिंग करें. आयुर्वेद में इसे घर्षण कहते हैं, जिससे डेड स्किन की लेयर निकल जाती है और स्किन में ग्लो आता है. इसके लिए आप सिल्क ग्लव्स, सॉफ्ट स्पॉन्ज या ड्राई ब्रश का इस्तेमाल कर सकती हैं.
4) अगर आप स्किन रैशेज़ या एक्ज़िमा से परेशान रहती हैं, तो सैंडलवुड ऑयल आपके लिए परफेक्ट रेमेडी है. इसे रोज़ाना इस्तेमाल करें.
5) त्वचा को डिटॉक्स करने के लिए नीम की पत्तियों को पानी में उबालकर भाप लें. यह रोमछिद्र में मौजूद गंदगी को सा़फ़ करके त्वचा में चमक लाता है.
6) चेहरे पर संतरे का रस या नींबू का रस लगाने से त्वचा को विटामिन सी का बेहतरीन डोज़ मिलता है. हेल्दी स्किन के लिए 15 दिन में ये रेमेडी एक बार ज़रूर ट्राई करें.
7) स्किन प्रॉब्लम्स से छुटकारा दिलाने में तुलसी बेहद कारगर होती है. प्रॉब्लम फ्री स्किन के लिए रोज़ाना तुलसी का रस चेहरे पर लगाएं.
8) गुलाबजल एक बेहतरीन क्लींज़र और टोनर है, लेकिन सुबह के व़क्त इसे इस्तेमाल करना स्किन के लिए ज़्यादा फ़ायदेमंद होता है.
9) नारियल तेल में कूलिंग इफेक्ट होता है, इसलिए इसे रोज़ाना इस्तेमाल करें. आप चाहें, तो नारियल तेल की बजाय देशी घी भी चेहरे और शरीर पर लगा सकती हैं.
10) मुरझाए हुए चेहरे में नई जान डालने के लिए गुलाब की पंखुड़ियों में शक्कर मिलाकर फेशियल स्क्रब तैयार करें और हफ़्ते में दो बार इस्तेमाल करें.

जानें ड्रीमगर्ल हेमा मालिनी की खूबसूरती का राज़, देखें वीडियो:


11) कच्चे दूध में कॉटन बॉल डुबोकर पूरे चेहरे को क्लीन करें. कच्चा दूध एक बेहतरीन क्लींज़र का काम करता है. इसके अलावा हफ़्ते में एक बार नहाने के पानी में दूध मिलाकर नहाएं. इसमें मौजूद फैट्स और लैक्टिक एसिड से त्वचा में नई चमक आ जाएगी.
12) पिंपल्स से जल्द छुटकारा पाने के लिए रात को नीम का तेल स़िर्फ पिंपलवाली जगह पर लगाकर सो जाएं. सुबह आपको काफ़ी फ़र्क़ नज़र आएगा.
13) कोमल, निखरी और जवां त्वचा के लिए एलोवीरा कोे अपने डेली रूटीन में शामिल करें. यह एक मल्टीपर्पज़ हर्ब है. इसका पल्प चेहरे पर लगाने के अलावा आप इसे जूस में मिलाकर भी पी सकती हैं. साथ ही इसे आप टोनर की तरह भी इस्तेमाल कर सकती हैं.
14) मंजिष्ठा हेल्दी स्किन के लिए एक बेहतरीन आयुर्वेदिक औषधि है. यह तेल, पाउडर और टैबलेट के रूप में उपलब्ध है. आप चाहें, तो इसे फेस मास्क में भी इस्तेमाल कर सकती हैं या फिर खाने में ले सकती हैं.
15) झुर्रियों से बचने के लिए मेथीदाने की चाय पीएं. एक कप पानी में एक टेबलस्पून मेथीदाना डालकर उबाल लें. छानकर उसमें एक टीस्पून शहद मिलाकर पीएं.
16) केमिकल बेस्ड मेकअप रिमूवर की बजाय नारियल तेल या फिर विटामिन ई से रोज़ाना मेकअप रिमूव करें.
17) ग्लोइंग स्किन के लिए डेली डायट में सनफ्लावर सीड्स, बादाम, पिस्ता और अलसी शामिल करें. इनमें मौजूद ओमेगा3 फैटी एसिड आपकी त्वचा को हेल्दी बनाए रखता है.
18) बहुत ज़्यादा मीठा या नमकीन खानेवालों को थोड़ा कंट्रोल करना चाहिए, बहुत ज़्यादा नमक और शक्कर स्किन में मौजूद कोलाजन और इलास्टिन को प्रभावित करता है. कोलाजन और इलास्टिन हमारी त्वचा को टोन्ड और रिंकल फ्री रखने में मदद करती हैं.

आयुर्वेदिक हेयर केयर
1) डैमेज्ड और दोमुंहे बालों को रिपेयर करने के लिए कैस्टर ऑयल बेहतरीन रेमेडी है. रात को सोते समय बालों में लगाएं और सुबह बाल धो लें.
2) अगर आपके बाल बेजान और रूखेे नज़र आते हैं, तो रात को बालों में ऑलिव ऑयल लगाएं.
3) महीने में एक बार बालों को एसेंशियल ऑयल ट्रीटमेंट दें. लैवेंडर, रोज़मेरी, सैंडलवुड या फिर नीलगिरि ऑयल इसके लिए बेस्ट ऑप्शन्स हैं.
4) लंबे बालों को हफ़्ते में 2-3 बार धोना काफ़ी है. बार-बार धोने से बाल कमज़ोर और ड्राई हो जाते हैं.
5) अगर आपको बाल गिरने-टूटने की समस्या है, तो रात को सोते समय भृंगराज या कलौंजी का तेल लगाकर सोएं.

यह भी पढ़ें: क्या आप भी चेहरे पर वैक्सिंग कराती हैं? जानें कितना सुरक्षित है फेस वैक्सिंग (Is Face Waxing Safe?)

ओरल ब्यूटी
1) मोतियों से चमकते दांत आपकी ख़ूबसूरती में चार चांद लगा देते हैं, इसलिए ज़रूरी है कि ओरल ब्यूटी का भी ख़ास ख़्याल रखें.
2) भुनी हुई फिटकरी और सेंधा नमक मिलाकर बबूल की दातून से दांत साफ़ करें. इससे दांतों की चमक बढ़ जाती है.
3) बेकिंग सोडा और बेंटोनाइट क्ले टूथ पाउडर मिलाकर हफ़्ते में एक बार दांतों को क्लीन करें.
4) आयुर्वेद में ऑयल पुलिंग भी बहुत मायने रखता है. सुबह सोकर उठने के बाद वर्जिन कोकोनट ऑयल या फिर तिल के तेल से ऑयल पुलिंग करें. इसके लिए दो टीस्पून तेल मुंह में डालकर घुमाएं. 10-15 मिनट तक ऑयल पुलिंग के बाद गर्म पानी से गरारे करें. यह न सिर्फ ओरल हेल्थ के लिए फ़ायदेमंद है, बल्कि डाइजेशन के साथ-साथ स्किन हेल्थ के लिए भी ज़रूरी है.

– संतारा सिंह