ayurvedic home remedies

एसिडिटी, कब्ज़, दस्त, उल्टी, पेटदर्द आदि के कारण यदि आपको भी इनडाइजेशन या अपच की तकलीफ रहती है, तो अपच व बदहज़मी के ये 5 आयुर्वेदिक उपचार आपके बहुत काम आएंगे. इनडाइजेशन या अपच होने पर ये 5 आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ तुरंत राहत देती हैं, इसलिए इनडाइजेशन या अपच के 5 आयुर्वेदिक उपचार ज़रूर ट्राई करें.

Indigestion

ये हैं इनडाइजेशन या अपच के 5 आयुर्वेदिक उपचार

1) यदि आपको एसिडिटी की तकलीफ रहती है और कुछ भी खाते ही एसिडिटी बढ़ जाती है, तो पांच-छह तुलसी की पत्तियां या सौंफ चबाएं. ऐसा करने से एसिडिटी की तकलीफ से छुटकारा मिलता है.

2) जिन लोगों को कब्ज़ की तकलीफ रहती है, उन्हें अपच की शिकायत भी रहती है. यदि आपको भी कब्ज़ की तकलीफ रहती है, तो रोज़ाना आधा ग्लास गुनगुने पानी के साथ आधा टीस्पून भुना हुआ जीरा पाउडर लें. ऐसा करने से कब्ज़ में राहत मिलती है.

3) यदि आपको दस्त के कारण अपच की समस्या हो रही है, तो दो टेबलस्पून दही में आधा-आधा टीस्पून मेथीदाना और जीरा मिलाकर खाएं. दिन में तीन बार ऐसा करने से दस्त में तुरंत आराम मिलता है और खाना भी ठीक से पचता है.

यह भी पढ़ें: कोरोना लॉकडाउन में सर्दी, खांसी, जुकाम से बचने के लिए करें ये 10 घरेलू उपाय (10 Home Remedies To Prevent Cough And Cold In Corona Lockdown)

4) यदि आपको पेटदर्द, अपच या बदहज़मी की तकलीफ रहती है, तो 1 ग्लास गरम पानी में चुटकीभर हींग और चुटकीभर काला नमक मिलाकर दिन में दो-तीन बार पीएं. आपको जल्दी ही आराम मिलेगा.

5) यदि आपको उल्टी हो रही है, जिसके कारण आपका खाया हुआ खाना बाहर आ जाता है, तो 1-1 टीस्पून अदरक का रस और नींबू का रस मिलाकर दिन में 2-3 बार लें. ऐसा करने से उल्टी में आराम मिलता है.

पीरियड के दर्द से छुटकारा पाने के 5 आसान घरेलू उपाय जानने के लिए देखें ये वीडियो:

10 आयुर्वेदिक फेस पैक मिनटों में आपके चेहरे की चमक बढ़ा देते हैं. ये आयुर्वेदिक फेस पैक आपको बाज़ार से खरीदने की ज़रूरत नहीं है. आपके किचन में मौजूद सामग्री से ही आप ये फेस पैक बना सकती हैं. केमिकलयुक्त ब्यूटी प्रोडक्ट्स आपकी त्वचा को नुक्सान पहुंचा सकते हैं, इसलिए घर पर बनाएं ये 10 आयुर्वेदिक फेस पैक और मिनटों बढ़ाएं अपने चेहरे की चमक.

Ayurvedic Face Packs For Glowing Skin

1) नैचुरल ग्लो पाने के लिए लगाएं ये आयुर्वेदिक फेस पैक
बाउल में एक पूरी तरह पका हुआ केला, 2 टेबलस्पून पिसा हुआ ओट्स (जई), थोड़ा-सा दूध या क्रीम, चुटकीभर जायफल और 2 टेबलस्पून गेहूं का आटा लेकर अच्छी तरह मिलाएं और गाढ़ा पेस्ट बनाएं. इस आयुर्वेदिक फेस पैक को चेहरे पर 10-15 मिनट लगाकर छोड़ दें. फिर पानी से चेहरा धोएं. आपके चेहरे पर नैचुरल ग्लो आ जाएगा.

2) चेहरे की चमक बढ़ाने के लिए लगाएं ये आयुर्वेदिक फेस पैक
1 टीस्पून कद्दूकस किए हुए सेब में 1-1 टीस्पून दही और नींबू का रस मिलाकर पेस्ट बनाएं. चेहरे पर 15 मिनट तक लगाएं. ठंडे पानी से चेहरा धो लें. ये एक स्किन ब्राइटनिंग मास्क है और इसे लगाने से चेहरे की चमक बढ़ती है.

3) चेहरे में नया निखार लाने के लिए लगाएं ये आयुर्वेदिक फेस पैक
एक सेब को उबालकर छील लें और अच्छी तरह मैश कर लें. इसमें 1 टीस्पून मैश किया हुआ केला और 1 टीस्पून मलाई मिलाकर चेहरे पर लगाएं. 20 मिनट बाद धो लें. त्वचा में नया निखार आ जाएगा.

4) हेल्दी स्किन के लिए लगाएं ये आयुर्वेदिक फेस पैक
एक पपीते को छोटे-छोटे टुकड़ों में काट लें और इसे एक टेबलस्पून चंदन पाउडर के साथ मिलाकर पेस्ट बना लें. इस मिश्रण को चेहरे और गर्दन पर लगाकर 20 मिनट के लिए छोड़ दें, फिर ठंडे पानी से चेहरा धो लें. ये हेल्दी स्किन के लिए रेग्युलर फेस पैक है.

यह भी पढ़ें: डार्क सर्कल दूर करने के आसान घरेलू उपाय (Natural Home Remedies To Remove Dark Circles)

Ayurvedic Face Packs For Glowing Skin

5) इंस्टेंट फ्रेश लुक पाने के लिए लगाएं ये आयुर्वेदिक फेस पैक
संतरे के जूस में दही मिलाकर चेहरे पर लगाएं. 15-20 मिनट बाद चेहरा धो लें. ये आयुर्वेदिक फेस पैक आपको तुरंत फ्रेश लुक देगा.

6) चेहरे का चिपचिपापन दूर करने के लिए लगाएं ये आयुर्वेदिक फेस पैक
8 काजू को दरदरा पीस लें. इसमें आधा कप ऑरेंज जूस मिलाकर पेस्ट बनाएं. इस पैक को चेहरे और गर्दन पर लगाएं. ऑयली स्किन वाले अपनी त्वचा का चिपचिपापन दूर करने के लिए ये आयुर्वेदिक फेस पैक यूज़ कर सकते हैं.

7) चेहरे में नई ताज़गी लाने के लिए लगाएं ये आयुर्वेदिक फेस पैक
स्ट्रॉबेरी को कद्दूकस करके छाछ में अच्छी तरह मिला लें. फिर इस आयुर्वेदिक फेस पैक को चेहरे पर लगाएं. इस फेस पैक से थकी त्वचा में नई ताज़गी आ जाती है.

झुर्रियों से छुटकारा पाने के 5 घरेलू उपाय जानने के लिए देखें ये वीडियो:

8) मुंहासों के दाग़-धब्बे हटाने के लिए लगाएं ये आयुर्वेदिक फेस पैक
मसूर दाल को रातभर भिगोकर रखें. सुबह इसे पीसकर इसमें कच्चा दूध मिलाकर चेहरे पर लगाएं. 20 मिनट बाद चेहरा धो लें. इस आयुर्वेदिक फेस पैक से त्वचा की अंदर तक सफाई होती है, स्किन सॉफ्ट होती है और मुंहासों के दाग़-धब्बे से भी छुटकारा मिलता है.

9) त्वचा को गोरा बनाने के लिए लगाएं ये आयुर्वेदिक फेस पैक
1 टीस्पून उड़द दाल और 4 बादाम रातभर पानी में भिगोकर रखें. सुबह इन्हें साथ में पीसकर चेहरे पर लगाएं और 30 मिनट बाद धो लें. ये प्रोटीन मास्क स्किन को पोषण देने के साथ ही ब्लीच का काम भी करता है.

10) त्वचा को कोमलता और ठंडक देने के लिए लगाएं ये आयुर्वेदिक फेस पैक
कद्दू को पकाकर मैश कर लें. 2 टीस्पून कद्दू की प्यूरी में 1 टीस्पून शहद और 1/4 टीस्पून दूध मिलाएं. चेहरे पर लगाएं. 10-15 मिनट बाद गुनगुने पानी से धो लें. ये आयुर्वेदिक फेस पैक त्वचा को कोमलता और ठंडक देता है.

यह भी पढ़ें: क्या आप भी चेहरे पर वैक्सिंग कराती हैं? जानें कितना सुरक्षित है फेस वैक्सिंग (Is Face Waxing Safe?)

Home Remedies For Cataract

मोतियाबिंद (Home Remedies For Cataract)  आंखों की पुतलियों या दृष्टि पटल के पर्दों पर छाई परान्धता को कहते हैं. यह जैसे-जैसे पकता है, वैसे-वैसे दृष्टि धुंधली होती जाती है. इस रोग में आंखों की काली पुतलियों में स़फेद मोती जैसा बिंदु उत्पन्न हो जाता है, जिससे व्यक्ति की देखने की क्षमता कम हो जाती है. इसमें आंखों को सभी चीज़ें धुंधली नज़र आती हैं. तेज़ प्रकाश में देखना मुश्किल हो जाता है.

* सौंफ और धनिया को समान मात्रा में लेकर उसमें भूरी शक्कर मिलाएं. इसे 10-10 ग्राम की मात्रा में सुबह-शाम सेवन करने से लाभ होता है.
* 6 बादाम और 7 कालीमिर्च को पीसकर पानी मिलाकर छलनी से छान लें. उसमें मिश्री मिलाकर पीने से लाभ होता है.
* 10 ग्राम गिलोय के रस में 1-1 टीस्पून सेंधा नमक व शहद मिलाकर बारीक़ पीसकर रख लें. इसे काजल की तरह आंखों में लगाएं.
* त्रिफला को पानी में पीसकर पेस्ट बना लें. इसे आंखों पर रखकर पट्टी बांध दें.
* 10 मि.ली. प्याज़ का रस, 10 मि.ली. शहद, 2 ग्राम भीमसेनी कपूर- तीनों को अच्छी तरह मिलाकर बॉटल में भरकर रख लें. रात को सोते समय आंखों में लगाएं. सुबह भी ऐसा करें. इससे मोतियाबिंद में काफ़ी लाभ होता है.
* गाजर, पालक और आंवले के रस का सेवन करने से मोतियाबिंद बढ़ता नहीं और दो-तीन महीने में ही कटकर साफ़ हो जाता है.
* एक चम्मच पिसा हुआ धनिया एक कप पानी में उबालकर छान लें. ठंडा होने पर आंखों में डालें. इस प्रयोग से मोतियाबिंद ठीक हो जाता है.
* आंखों की तकलीफ़ हो, तो गाय का दूध ज़्यादा पीएं. मेथी, भिंडी, पालक, केला, अंगूर, सेब, नारंगी, अनार आदि अधिक खाएं. खट्टी व तीखी चीज़ें न खाएं. तेज़ रोशनी और मानसिक तनाव से भी बचना ज़रूरी है, क्योंकि इनकी वजह से तकली़फें और भी बढ़ सकती हैं.

यह भी पढ़े: नींबू के 19 चमत्कारी फ़ायदे

यह भी पढ़े: स्वादिष्ट खजूर के 10 अनोखे फ़ायदे

मोतियाबिंद का अचूक इलाज
* बहुत पुरानी ईंट का टुकड़ा पीसकर छान लीजिए. ख़ूब बारीक़ होना आवश्यक है. फिर उसे आक के दूध में भिगोकर रख दें. कुछ समय बाद दूध सूख जाएगा, तब उसके 10 ग्राम चूरे में 5-6 लौंग पीसकर मिला दें. उसी चूरे को बार-बार दिन में 5-6 बार सूंघें. इसे सूंघने पर मोतियाबिंद का जाला साफ़ हो जाता है. यह प्रयोग गांव-कस्बों में आज भी प्रचलित है.

सुपर टिप
लहसुन आंखों के लेंस को साफ़ करता है. हर रोज़ लहसुन की दो कलियां चबाने से मोतियाबिंद व आंखों की अन्य तकलीफ़ों में लाभ होता है.

– मूरत गुप्ता

 दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें-  Dadi Ma Ka Khazana

 

Ayurvedic Home Remedies (1)

हम भले ही अपनी सेहत के प्रति कितनी ही सावधानी बरतें, लेकिन आजकल की लाइफस्टाइल और खान-पान की आदतें हमारे स्वास्थ्य को बुरी तरह प्रभावित कर रही हैं. हमारी इम्यूनिटी कमज़ोर हो रही है और हम बहुत जल्द ही रोगों की चपेट में आ जाते हैं. हमेशा थकान व तनाव महसूस करते हैं. इन सबके बीच भी सबसे बड़ी समस्या यह है कि हम चाहकर भी डॉक्टर के पास नहीं जा पाते, क्योंकि समय ही नहीं है. लेकिन यदि हमें कुछ ऐसे घरेलू नुस्ख़ों के बारे में पता चल जाए, जिनसे न स़िर्फ हम स्वस्थ रह सकते हैं, बल्कि उनके कोई साइड इफेक्ट्स भी नहीं हैं, तो इससे बेहतर क्या हो सकता है?

ऐप इंस्टॉल करने के लिए यहां क्लिक करें Ayurvedic Home Remedies

प्राचीन काल से ही ये नुस्ख़े चले आ रहे हैं. हमारी दादी-नानी इनके बारे में ख़ूब जानती थीं और इनका उपयोग भी करती थीं. हमारे ऋषि-मुनियों की सदियों से चली आ रही इसी परंपरा को आयुर्वेद ने भी अपनाया. हमारे किचन में ही बहुत-से ऐसे मसाले और खाने-पीने की चीज़ें हैं, जिनकी औषधीय गुण हमें चकित कर देंगे. लेकिन कौन-सी चीज़ किस रोग के लिए है और किस मसाले का क्या औषधीय उपयोग है, यह जानना भी ज़रूरी है.

इसी बात को ध्यान में रखते हुए मेरी सहेली लेकर आई है आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ ऐप. सिर से लेकर पांव तक के समस्त रोगों को इस ऐप में कवर किया गया है और लगभग 2000 आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ दी गई हैं. बच्चों के रोग हों, महिलाओं के या फिर कोई भी आम व गंभीर रोग- सबकी सरल घरेलू उपाय इस ऐप में दिए गए हैं.
आज की बिज़ी लाइफ में एक ऐसा ऐप, जो आपसे बस एक क्लिक की दूरी पर है, भला इससे ज़्यादा और क्या चाहिए आपको?

क्या-क्या है ऐप में?
– शरीर के विभिन्न अंगों को आसानी से पहचानने के लिए टैप और टच की सुविधा.
– हर अंग से संबंधित बीमारी की विस्तार से जानकारी.
– हर बीमारी के लक्षण.
– बीमारी के कारण.
– हर बीमारी का आयुर्वेदिक उपचार व उपाय.
– किचन में मौजूद सामग्री से हर बीमारी के उपचार की जानकारी.
– हेल्थ यानी स्वास्थ्य संबंधी लेख, मेरी सहेली की वेबसाइट से- www.merisaheli.com
ऐप इंस्टॉल करने के लिए यहां क्लिक करें – Ayurvedic Home Remedies