Ayurvedic

आपका फिटनेस लक्ष्य जो भी हो, आप इसे आयुर्वेद तरीक़े से प्राप्त कर सकते हैं. सुनने में अच्छा लग रहा है? निश्चित रूप से, यह हो सकता है. करोना के कारण महामारी से उपजी शहरी जीवनशैली संबंधी बीमारियों ने हमें आयुर्वेद के लिए प्रेरित किया ही है. आयुर्वेद के गुणों व लाभों का उपयोग हम ख़ुद को सेहतमंद और चुस्त-दुरुस्त रखने में कर सकते हैं.
आयुर्वेद की प्राचीन स्वास्थ्य प्रणाली जीवन, दीर्घायु और आपके समग्र कल्याण पर केंद्रित है- यह शारीरिक, मानसिक या आध्यात्मिक हो. आत्म-चिकित्सा के विज्ञान के रूप में, आयुर्वेद विभिन्न आहार, जीवनशैली, मालिश और औषधीय जड़ी-बूटियों को शामिल करता है, जो आपके स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करते हैं. इस सन्दर्भ में डॉ. दीपेश महेंद्र वाघमारे, जो मिलेनियम हर्बल केयर के चिकित्सा सलाहकार कार्यकारी हैं, ने कई उपयोगी बातें बताई. जानते हैं कि आयुर्वेद फिट रहने में कैसे मदद करता है.

आपको ऊर्जावान बनाए रखता है…
क्या आप दिनभर के काम के बाद सुस्त महसूस करते हैं? क्या आपको सुबह उठने और जिम की क्लास या अपने योग सत्रों को पूरा करने के लिए उत्साह की कमी महसूस होती है? ऐसी स्तिथि में कॉफी या स्टेरॉयड इसका समाधान नहीं है. आपके शरीर को सुस्ती दूर करने के लिए आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों की आवश्यकता होती है. अश्वगंधा, ब्राह्मी और तुलसी जैसी जड़ी-बूटियां आपके शरीर के शारीरिक और मानसिक तनाव में लचीलापन बढ़ाकर आपकी ऊर्जा बढ़ा सकती हैं. यह दिनभर अच्छा महसूस करने में भी मदद करती हैं. ऊर्जावान बने रहने के लिए इन जड़ी-बूटियों के गर्म काढ़े से अपने दिन की शुरुआत करें.

बेहतर शारीरिक क्षमता
अगर आप बहुत ज़्यादा एक्सरसाइज़ कर रहे हैं, तो आपके स्टैमिना भी तेजी से कम होता है. मनोवैज्ञानिक तनाव और शारीरिक गतिविधि को पारस्परिक रूप से संबंधित माना जाता है. ध्यान रहे कि स्टैमिना की कमी भी एक तनावग्रस्त दिमाग़ का परिणाम है. अश्वगंधा, ब्राह्मी और शतावरी जैसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां शक्ति को बढ़ाने और मांसपेशियों को ऑक्सीजन की उपलब्धता बढ़ानेे में मदद करती हैं. यह आपको मानसिक रूप से भी आराम देती हैं.
अपने दैनिक आहार में धनिया के बीज, दालचीनी, जीरा और नट्स जैसे बादाम के साथ मसाले मिलाएं. सभी सही और पर्याप्त अनुपात में मिश्रित होते हैं, जो शरीर को ऊर्जावान बनाते हैं.

मेटाबॉलिज्म में वृद्धि
यदि आपके पास एक सेलुलर मेटाबॉलिज्म है, तो आपके फिटनेस के सबसे तेज़ परिणाम प्राप्त किए जा सकते हैं. गुडूची (टीनोस्पोरा कॉर्डिफ़ोलिया) जैसी आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियां आपके आंत-स्वास्थ्य को ठीक करने में मदद करती हैं. यह आंतों में अच्छी आंत माइक्रोबायोम को बढ़ाती है, जो एक लघु-श्रृंखला फैटी एसिड का उत्पादन करती है और शरीर में वसा के भंडार को विनियमित करने में मदद करती है. सामान्य सीमा के भीतर रक्त शर्करा के स्तर को बनाए रखने में सहायता करती है.
दालचीनी जैसे मसाले आपके शरीर में वसा कोशिकाओं के निर्माण को रोकने में मदद कर सकते हैं, जबकि हल्दी या हल्दी में मौजूद करक्यूमिन वसा कोशिकाओं को प्रभावी ढंग से जलाने और शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाने में मदद करता है.
अपने नियमित आहार में काली मिर्च को शामिल करने से आपके मेटाबॉलिज्म को इसके थर्मोजेनिक प्रभाव होते हैं. एक ग्लास जीरे के पानी के साथ लेनेे सेे मदद मिल सकती है. एक ग्लास पानी में एक चम्मच जीरा उबालें. इसे सुबह लेना अधिक फायदेमंद है.

स्वस्थ शरीर
प्राचीन आयुर्वेदाचार्यों ने ‘Balaardh’ की अवधारणा की वकालत की. इसका मतलब है कि किसी भी तरह के कठोर अभ्यास के लिए शरीर की पूरी शक्ति का केवल 50% भाग का उपयोग होता है. आधुनिक फिटनेस विशेषज्ञ भी जोरदार व्यायाम सत्रों के बीच 24 घंटे के आराम की सलाह देते हैं, ताकि शरीर को पूरी तरह से ठीक हो सके.
तिल के बीज के तेल के साथ एक अभ्यंग (आत्म-मालिश) जोड़ों, मांसपेशियों और ऊतकों में दर्द से राहत के लिए एक पारंपरिक प्रक्रिया है.
हल्दी और अदरक जैसी जड़ी-बूटियां सूजन को कम करने में मदद करती हैं.
अश्वगंधा और बाला मांसपेशियों को मज़बूत बनाने और पोषण करने में जादुई हैं.
प्रोटीन से भरपूर फलियों को शामिल करने से आपकी मांसपेशियां मज़बूत होती हैं.
बादाम, खजूर, केसर और घी आपको पर्याप्त रूप से फिर से जीवंत करते हैं. इससे कठिन और कठोर वर्कआउट सत्रों से तेजी से उबरने में मदद कर सकते हैं.

लचीलापन
फिटनेस में हड्डी और जोड़ों के स्वास्थ्य का विशेष ध्यान रखना होगा. क्रीक्स और दर्द कम उम्र से ही आपके गति में बाधा उत्पन्न करने लगते हैं, मुख्यतः अस्वस्थ जीवनशैली के कारण महिलाओं को तीस की उम्र से ही ध्यान रखना चाहिए. आयुर्वेद कई जड़ी-बूटियों की सलाह देता है, जो पारंपरिक रूप से हड्डी की ताकत, जोड़ों के लचीलेपन में सुधार और दर्द को कम करने के लिए उपयोग किए जाते हैं.
हडजोड, सलाई गुग्गुल, अश्वगंधा और बाला जैसी जड़ी-बूटियां हड्डी की कोशिका के होमियोस्टेसिस को बहाल करने, हड्डी में सुधार और सूजन को कम करने में लाभदायक है.
दशमूल (10 जड़ी-बूटियों की जड़ें) तेल भी जोड़ों और मांसपेशियों की कठोरता को कम करने में सहायक है. इससे लचीलेपन में भी सुधार होता है.

अच्छी नींद
अच्छी नींद हमेशा ही शरीर के लिए महत्वपूर्ण है. जब आपका शरीर ख़ुद को ठीक करने और उसकी मरम्मत करने में सक्षम हो, तो आपकी फिटनेस व्यवस्था को अच्छी नींद के साथ संतुलित करना चाहिए, ताकि आप अगले दिन एक बार फिर से मैट हिट करने के लिए दौड़ें.
ब्राह्मी, शंखपुष्पी, सर्पगंधा, वचा और अश्वगंधा ऐसी आवश्यक जड़ी-बूटियां हैं, जो आपके नर्वस सिस्टम को आराम देती हैं, मानसिक थकान से राहत दिलाती हैं और आपके दिमाग़ पर शांत प्रभाव डालती हैं. आयुर्वेद स्वास्थ्य की अवधारणा का पुनर्मूल्यांकन करने के लिए एक प्राचीन लेकिन अत्यंत प्रासंगिक प्रणाली है, सही लक्ष्य निर्धारित करें और सभी फिट रहें.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ें: पुरुष बांझपन के कारण और उन्हें कैसे दूर किया जाए? (Male Infertility- Symptoms, Causes And Treatment)

आयुर्वेद में हर चीज़ का आसान उपाय मिल जाता है, वो भी बिना किसी साइडइफेक्ट के. चेहरे के दाग़-धब्बे यदि आपकी रंगत बिगाड़ रहे हैं, तो ये 17 आयुर्वेदिक घरेलू नुस्ख़े (Ayurvedic Home Remedies) आपके बहुत काम आएंगे.

Ayurvedic Home Remedies for Dark Spots
* मसूर की दाल घी में भून लें और फिर इसका चूर्ण बना लें. इस चूर्ण को दूध में मिलाकर उबटन की तरह चेहरे पर मलें. यह उबटन सूखने तक लगाकर रखें, फिर चेहरा धो लें. इसके नियमित प्रयोग से मुंहासे और झाइयां कुछ समय बाद ही गायब हो जाते हैं.
* गेहूं का चोकर लगभग 100 ग्राम लेकर उसे शाम को एक कप में भिगोकर रख दें. सुबह उसे मसल कर चेहरे पर हल्की-हल्की मालिश करें. मुंहासों और चेहरे के दाग़-धब्बों से छुटकारा मिल जाएगा.

यह भी पढ़ें: 2 दिनों में पाएं मुंहासों से छुटकारा

* जामुन की गुठलियों को पानी में पीसकर लेप करें, इससे कील-मुंहासों के दाग़ ख़त्म हो जाते हैं.
* कलौंजी को सिरके में पीसकर रात के समय चेहरे पर लेप करके सुबह धो लें. इससे मुंहासे मिटते हैं.
* 30-40 ग्राम अजवाइन बारीक़ पीस कर 25-30 ग्राम दही में मिलाकर रात को मुंहासों पर लगाएं. सुबह कुनकुने पानी से चेहरा धो लें. मुंहासे साफ़ हो जाएंगे. इस प्रयोग से चेहरे की सुंदरता भी निखरती है और आंखों के नीचे उभरने वाले काले धब्बे भी मिट जाते हैं.
* आंवला और तिल बराबर मात्रा में लेकर उन्हें दूध में पीसकर मुंह पर मलने से चेचक के दाग़ कम होने लगते हैं.
* चिरौंजी, मसूर की दाल और पीली सरसों, तीनों का बारीक चूर्ण बनाएं. रात में गर्म पानी से मुंह धोकर इसका लेप करें.
* मसूर की दाल इतने पानी में भिगोएं कि वह भीगकर उस पानी को अच्छी तरह सोख लें. फिर उस दाल को पीसकर दूध या दही में मिलाकर सुबह शाम दो बार चेहरे पर लगा कर मलें. कुछ देर बाद कुनकुने पानी से चेहरा धो डालें. चेहरे के दाग़ मिट जाएंगे और सुंदरता बढ़ जाएगी.
* रात को सोने से पहले चेहरे पर दही की मलाई से मालिश करें. पंद्रह मिनट बाद धोकर सो जाएं. इससे रूखापन, झाइयां और दाग़ मिट जाते हैं.
* हल्के गर्म दूध से मालिश करें, चेहरे की रंगत निखर जाएगी.

यह भी पढ़ें: Ooops!!! 6 ग़लतियां जो आपके बालों को करती हैं ख़राब

Ayurvedic Home Remedies for Dark Spots

* एक दिन का बासी मट्ठा सुबह नहाने से पहले चेहरे पर मलें और 10 मिनट बाद स्नान कर लें.
* नींबू मलने से भी झाइयां व दाग़ ठीक हो जाते हैं और चेहरे पर चमक व निखार आ जाता है.
* चेहरे की झाइयों और झुर्रियों को मिटाने के लिए नींबू का रस और शहद मिलाकर चेहरे पर लगाएं और नियमपूर्वक जैतून के तेल से चेहरे पर मालिश करें.
* अगर एक सप्ताह तक रोज़ाना एक कप मूली का रस निकाल कर सेवन करें, तो चेहरे के सारे दाग़ अपने आप ग़ायब हो जाएंगे.
* जामुन की गुठलियों को घिस कर चेहरे पर लगाने से मुंहासे दूर होते हैं और झाइयों से भरा चेहरा साफ़ होने लगता है.
* शहद को नमक और सिरके में मिलाकर मलने से झाइयां मिटती हैं.
* मसूर को नींबू के रस के साथ पीसकर लेप करने या मलने से चेहरे की झाईं मिटती हैं.

यह भी पढ़ें: गोरी रंगत पाने के जांचे-परखे नुस्खे