Balika Vadhu

जानी-मानी और टीवी और फिल्मों की बेहतरीन एक्ट्रेस सुरेखा सीकरी का निधन हो गया है. आज सुबह 75 साल की उम्र में कार्डियक अरेस्‍ट के चलते उन्‍होंने आखिरी सांस ली. पॉपुलर टीवी शो ‘बालिका वधू’ में दादी सा का रोल निभाकर घर घर में पॉपुलर होनेवाली सुरेखा सीकरी के निधन से टीवी वर्ल्ड में शोक की लहर है. नेशनल फ‍िल्‍म पुरस्‍कार विजेता सुरेखा सीकरी ने आज मुंबई में आखिरी सांस ली. उनके मैनेजर ने उनके निधन की पुष्टि की है.

Surekha Sikri

बता दें कि सुरेखा जी की हेल्थ पिछले काफी टाइम से ठीक नहीं चल रही थी. पिछले साल जब से उन्हें दूसरी बार ब्रेन स्ट्रोक हुआ था, तभी से वे तकलीफ में थीं. ब्रेन स्ट्रोक के बाद सुरेखा पर इलाज का भी बहुत ज़्यादा असर नहीं हो रहा था. ब्रेन स्ट्रोक के बाद वह लंबे समय तक अस्‍पताल में रही थीं. उनके लंग्स में पानी भर गया था और दवाईयों का जैसा असर होना चाहिए, वैसा नहीं हो रहा था.

Surekha Sikri

सुरेखा सीकरी दो बार ब्रेन स्ट्रोक झेल चुकी थीं. इससे पहले नवंबर 2018 में फिल्म ‘बधाई हो’ की रिलीज़ होने के बाद भी उन्हें ब्रेन स्ट्रोक हुआ था. स्ट्रोक की वजह से एक्ट्रेस पैरालाइज़्ड हो गईं थीं. लेकिन एक्ट्रेस की तबियत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा था. वो ठीक तो हो गईं, लेकिन ज्यादा काम नहीं कर पाईं. इस वजह से उनकी फाइनांशियल कंडीशन भी खराब हो गई थी. रिपोर्ट्स के मुताबिक सुरेखा सीकरी का एक महीने का दवाईयों का खर्च 2 लाख रुपये से ज्यादा था. वहीं कोरोना वायरस के बीच 65 साल से ज्यादा उम्र के एक्टर्स के काम करने पर पाबंदी लगाने से वो शूटिंग नहीं कर पा रही थीं और इसे लेकर उन्होंने अपनी नाराजगी भी जाहिर की थी. एक्ट्रेस ने कहा था कि उन्हें पैसों की जरूरत है, लेकिन वो उन्हें दान में नहीं चाहिए बल्कि वो खुद उन्हें कमाना चाहती हैं.

Surekha Sikri

सुरेखा का जन्म उत्तर प्रदेश में हुआ था. 1971 में सुरेखा ने नेशनल स्कूल ऑफ ड्रामा से ग्रेजुएशन किया था. सुरेखा के पिता एयरफोर्स में और माता टीचर थीं. सुरेखा ने हेमंत रेगे से शादी की थी और उनका एक बेटा है जिसका नाम राहुल सीकरी है. सुरेखा ने इंडस्ट्री में अपनी एक्टिंग के बदौलत एक खास पहचान बनाई थी. उन्होंने ‘तमस’, ‘बधाई हो’, ‘मम्मो’, ‘नजर’, ‘सलीम लंगड़े पे मत रो’, ‘जुबैदा’, ‘कली सलवार’, ‘रेनकोट’, ‘हमको दीवाना कर गए’ और ‘शीर कोरमा’ जैसी फिल्मों में बेहतरीन एक्टिंग की थी. वह तीन बार नेशनल अवॉर्ड भी जीत चुकी थीं.

Surekha Sikri

सुरेखा सीकरी के निधन से बॉलीवुड और टीवी जगत में शोक की लहर है. एंटरटेनमेंट इंडस्ट्री से जुड़े सेलेब्स ने सुरेखा सीकरी के निधन पर दुख जताया है. सोशल मीडिया पर भी फैंस समेत सेलेब्स सुरेखा सीकरी को श्रद्धांजलि दे रहे हैं.

Surekha Sikri

‘बालिका वधू’ टीवी का एक ऐसा शो रहा है, जिसे दर्शकों का भरपूर प्यार मिला है. इस सीरियल के लिए लोगों की दीवानगी का आलम तो यह था कि शो के टेलीकास्ट होने से पहले ही परिवार के सभी लोग टीवी स्क्रीन के सामने बैठ जाते थे. अगर यह सीरियल आपका भी पसंदीदा रहा है और आज भी आप इसे मिस करते हैं को आपके लिए खुशखबरी है. जी हां, अविका गौर की ‘बालिका वधू’ की टीवी पर वापसी होने जा रही है और यह सीरियल एक बार फिर से दर्शकों का मनोरंजन करने के लिए तैयार है. अविका गौर ने खुद यह खुशखबरी इंस्टाग्राम के ज़रिए अपने फैन्स को दी है.

Avika Gaur
फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम
Avika Gaur
फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम

आपको बता दें कि अविका गौर की ‘बालिका वधू’ का पहली बार प्रीमियर 21 जुलाई 2008 को किया गया था, जिसके बाद साल 2016 तक इस सीरियल के 2 हजार से भी ज्यादा एपिसोड टेलीकास्ट किए गए. इस सीरियल को न सिर्फ दर्शकों ने खूब पसंद किया, बल्कि इसके तमाम कलाकारों को भी सर-आंखों पर बिठाया. अब एक बार फिर यह सीरियल कलर्स टीवी पर प्रसारित होने जा रहा है. अविका गौर ने अपने ऑफिशियल इंस्टाग्राम हैंडल पर अपने आंनदी वाले किरदार की एक तस्वीर पोस्ट करते हुए कैप्शन लिखा है- “It’s back.. on @colorstv & @antv_official #grateful #balikavadhu (sic).”

इससे पहले हाल ही में कलर्स टीवी ने यंग अविका गौर की एक तस्वीर शेयर की थी, जिसमें अविका दुल्हन के लिबास में नज़र आ रही थीं. इस तस्वीर के साथ चैनल ने उल्लेख किया कि शो को फिर से प्रसारित किया जाएगा. इसके साथ ही शो के टेलीकास्ट का भी समय बताया गया. उन्होंने कैप्शन दिया- ‘जग्या की नई बिंदणी का स्वागत करने आ रहे हैं ना आप! देखिए बालिका वधू फिर से, शाम 4.30 बजे सिर्फ कलर्स पर…’

बात करें बालिका वधू सीरियल की तो यह शो ग्रामीण राजस्थान की एक बालिका वधू के जीवन, उसके संघर्ष और उसकी यात्रा को दर्शाता है. इस सीरियल में अविका गौर, दिवंगत अभिनेत्री प्रत्यूषा बनर्जी, शशांक व्यास, अविनाश मुखर्जी, सुरेखा सीकरी, माही विज और अन्य कई कलाकारों ने दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया है. इस शो के कलाकारों ने अपनी दमदार अदायगी से दर्शकों के दिलों में अपने लिए खास जगह भी बनाई है.

Avika Gaur
फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम
Avika Gaur
फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम

शो में आनंदी की भूमिका को लेकर अविका गौर ने कहा था कि बालिका वधू उनके लिए एक फिल्म स्कूल की तरह था. अविका की मानें तो बालिका वधू ने उनकी ज़िंदगी को पूरी तरह से बदल दिया था और उन्हें इसी शो के दौरान बहुत सी चीजें सीखने का मौका भी मिला. अविका जब 9 साल की थीं, तभी उन्होंने इस शो के साथ अपना टेलीविज़न डेब्यू किया था. अविका के लिए इस शो में काम करना एक शौक और जुनून था, जिसने उन्हें आगे बढ़ने का मौका दिया. बालिका वधू एक फिल्म स्कूल की तरह था, जहां सीरियल की आनंदी ने अभियन की बारीकियां सीखीं.

Avika Gaur
फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम
Avika Gaur
फोटो सौजन्य: इंस्टाग्राम

गौरतलब है कि ‘बालिका वधू’ के अलावा अविका गौर को ‘ससुराल सिमर का’ में भी देखा जा चुका है. इसके अलावा रोहित शेट्टी की ‘खतरों के खिलाड़ी 9’ में भी वो नज़र आ चुकी हैं. अविका को आखिरी बार छोटे पर्दे के तेलुगु शो ‘सिक्स्थ सेंस एस3’ में देखा गया था. इन दिनों अविका अपने जबरदस्त ट्रांसफॉर्मेशन और अपने बॉयफ्रेंड को लेकर अक्सर सुर्खियों में बनी रहती हैं.

क्राइम पेट्रोल शो के होस्ट अनूप सोनी ने क्यों छोड़ा ये पॉपुलर शो? पिछले आठ सालों से अनूप सोनी क्राइम पेट्रोल शो के अहम हिस्सा रहे हैं और उन्होंने इस शो को बहुत लोकप्रिय बनाया है. फिर ऐसा क्या हुआ कि अनूप सोनी ने क्राइम पेट्रोल शो को छोड़ दिया. इसके बारे में अनूप सोनी ने कहा ये…

Anup Soni

अनूप सोनी पिछले आठ सालों से क्राइम पेट्रोल शो होस्ट कर रहे हैं और उनका ये शो दर्शकों को बहुत पसंद है. अनूप सोनी को भी इस शो में काम करना बहुत अच्छा लगता है. अनूप सोनी कहते हैं, “क्राइम पेट्रोल शो में मेरी दर्शकों से सीधी बात होती है इसलिए मैं इस शो को बहुत एंजॉय करता हूं.” बता दें कि ‘बालिका वधू’ शो में अनूप सोनी का किरदार भैरोसिंह भी दर्शकों को बहुत पसंद आया था. लेकिन अब अनूप सोनी ‘क्राइम पेट्रोल’ शो छोड़ रहे हैं. बॉलीवुड हंगामा को दिए इंटरव्यू में अनूप सोनी ने बताया कि वो पिछले आठ सालों क्राइम पेट्रोल शो कर रहे हैं और उन्होंने इस शो को बहुत एंजॉय किया, लेकिन इस शो में उनका इतना टाइम चला जाता है जिसके चलते वो और कोई रोल नहीं कर पा रहे हैं. एक कलाकार के रूप में अनूप सोनी हर तरह के किरदार निभाना चाहते हैं, इसीलिए उन्होंने क्राइम पेट्रोल शो से ब्रेक लिया है. जल्द ही दर्शक अनूप सोनी को अलग-अलग किरदारों में देख सकेंगे.

Anup Soni

जब हमारी अनूप सोनी से बात हुई, तो हमने उनसे उनकी एक्टिंग और पर्सनल लाइफ के बारे में कुछ सवाल पूछे, जिनका जवाब अनूप सोनी ने इस तरह दिया:

आपको कब लगा कि आपको एक्टर बनना है?
बचपन से ही मुझे एक्टिंग का शौक़ था, लेकिन मैं ये नहीं जानता था कि एक्टर बनने के लिए मुझे क्या करना चाहिए. तब मुझे लगता था फिल्म इंडस्ट्री के लोग नॉर्मल नहीं हैं. ये एक अलग ही दुनिया के होते होंगे, हमारे जैसे नहीं होते होंगे. कभी-कभी मैं सोचता था कि ये इंसान भी हैं या नहीं. तब मुझे लगता था कि मैं तो आम इंसान हूं, मैं कैसे एक्टर बन सकता हूं. बड़े होकर भी मन में एक्टर बनने की ख़्वाहिश ज्यूं की त्यूं थी.

एक्टिंग की दुनिया में आपके करियर की शुरुआत कैसे हुई?
मुझे एक्टिंग का शौक था इसलिए पढ़ाई के साथ-साथ मैं थिएटर भी करता था. फिर किसी ने नेशनल स्कूल ऑफ़ ड्रामा के बारे में बताया. वहां एडमिशन आसानी से नहीं मिलता, लेकिन जब मुझे मिल गया तो मैं कन्फ्यूज़ हो गया. फिर सोचा, तीन साल का कोर्स करके देख लेना चाहिए. इसके लिए लॉ की पढ़ाई बीच में ही छूट गई. फिर जब काम करने के लिए मैं मुंबई आया (1995 में), तो मुझे ये भी पता नहीं था कि ईस्ट और वेस्ट कहां है, लोगों को काम के लिए अप्रोच कैसे करते हैं? शुरू के दो-तीन साल मुझे बहुत संघर्ष करना पड़ा. उस दौरान मैंने किशोर नमित कपूर के एक्टिंग स्कूल में पढ़ाया भी है (तब अनूप वहां वॉइस और स्पीच की क्लासेस लेते थे). तारा देशपांडे, प्रिया गिल, अपूर्व अग्निहोत्री, मनीष गोयल, अक्षय खन्ना आदि मेरे स्टूडेंट्स थे और मैं उनकी ही एज ग्रुप का था तब. एक-डेढ़ साल बाद मैंने वो काम ये सोचकर छोड़ दिया कि यदि मैं यही करता रहा, तो एक्टिंग नहीं कर पाऊंगा और इस शहर में टीचर बनकर ही रह जाऊंगा. फिर मैंने सीहॉक्स सीरियल में काम किया, जिसे फिल्म रावन के डायरेक्टर अनुपम सिन्हा ने बनाया था. उसके बाद मुझे पीछे मुड़कर देखने की ज़रूरत नहीं पड़ी. मुझे एक के बाद एक काम मिलता गया और काम की कभी कोई कमी नहीं रही.

Anup Soni

क्या आपके पैरेंट्स भी चाहते थे कि आप एक्टर बनें?
मेरी परवरिश एक मिडलक्लास परिवार में हुई. पापा नौकरी करते थे, हम मुंबई जैसे बड़े शहर में कभी नहीं रहे. जयपुर, फरीदाबाद जैसे छोटे शहरों में मेरा बचपन गुज़रा. हां, मेरी पढ़ाई बहुत अच्छे माहौल में हुई, क्योंकि मेरे पैरेंट्स चाहते थे कि मैं एज्युकेशन में ही कुछ करूं. मैं लॉ कर रहा था और साथ में सीए भी, लेकिन एक्टिंग का शौक मुझे इस इंडस्ट्री में ले आया.

आप ईश्‍वर या भाग्य में कितना विश्‍वास करते हैं?
मेहनत तो कई लोग करते हैं, लेकिन उसका फल सभी को एक जैसा नहीं मिलता, इसे भाग्य ही तो कहेंगे. हां, इसका ये मतलब नहीं कि मेहनत करना ही छोड़ दें. हमें अपनी तरफ़ से हमेशा मेहनत करते रहना चाहिए.

Anup Soni

आप हमेशा फिट नज़र आते हैं, आपकी फिटनेस का राज़ क्या है?
आपका कितने फ़िट हैं, ये 35% एक्सरसाइज़ और 65% आप क्या खाते हैं इस पर निर्भर करता है. मैं हमेशा इन दोनों को मेन्टेन करने की कोशिश करता हूं.

कामयाबी के लिए क्या क्वालिटी जरूरी है?
क़ामयाबी पाने का कोई अलग फॉर्मूला नहीं है. सक्सेस के लिए सबसे पहले तो आपका क्लियर होना ज़रूरी है कि आप क्या करना चाहते हैं? मुझे जो भी काम मिला, मैंने उसे पूरी ईमानदारी से किया इसलिए मेरे पास काम की कभी कमी नहीं रही.

‘बालिका वधू’ शो में सुमित्रा का किरदार निभाने वाली एक्ट्रेस स्मिता बंसल को इस सीरियल ने एक नई पहचान दी और इसके बाद वो घर-घर में मशहूर हो गईं. स्मिता को ‘बालिका बधू’ सीरियल के लिए बेस्ट सपोर्टिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड मिला है. इसके अलावा स्मिता ने कोरा काग़ज़, अमानत, आशीर्वाद, सरहदें, नच बलिए 5, जाना ना दिल से दूर आदि शोज़ में भी काम किया है. स्मिता बंसल ने सिद्धार्थ निगम के साथ सुपरनैचुरल शो ‘अलादीन- नाम तो सुना ही होगा’ में भी काम किया, इस शो में स्मिता का किरदार बहुत अलग था और इस शो में उनके काम को काफी पसंद किया गया. दो बेटियों की मां स्मिता बंसल घर और करियर दोनों की ज़िम्मेदारियां बख़ूबी निभा रही हैं. जब हमारी स्मिता से मुलाक़ात हुई, तो हमें उनकी ज़िंदगी के कई अनछुए पहलू जानने को मिले:

Smita Bansal

1) आपके लिए डेली सोप में काम करते हुए घर और करियर दोनों को संभालना कितना चैलेंजिंग होता है?
हां, मुश्किल काम तो है, लेकिन इस मामले में मैं लकी हूं, क्योंकि मैं जॉइंट फैमिली में रहती हूं और मुझे मेरी सासूमां का बहुत सपोर्ट है. वो घर में सब कुछ इतनी अच्छी तरह मैनेज कर लेती हैं कि मुझे कोई दिक्कत नहीं होती. वर्किंग वुमन के लिए परिवार का सपोर्ट होना बहुत ज़रूरी होता है, वरना काम के साथ-साथ बच्चों की परवरिश आसान नहीं है.

Smita Bansal

2) क्या वर्किंग वुमन के मन में बच्चों को कम समय दे पाने का अपराधबोध रहता है?
मैं ऐसा नहीं मानती, मेरे ख़्याल से बच्चों को क्वांटिटी टाइम की बजाय क्वालिटी टाइम देना ज़्यादा ज़रूरी है. चाहे वर्किंग वुमन हो या होममेकर, बच्चों की परवरिश पर दोनों को बहुत ध्यान देना पड़ता है. आजकल एक्सपोज़र इतना ज़्यादा हो गया है कि बच्चों को अच्छी-बुरी दोनों जानकारियां मिल रही हैं. वर्किंग वुमन को बाहर की दुनिया की जानकारी रहती है इसलिए वो अपने बच्चों को अच्छी तरह गाइड कर पाती है. मैं अपने बच्चों को बहुत टाइम नहीं दे पाती, लेकिन शाम को जब मैं काम से घर लौटती हूं, तो उसके बाद सारा टाइम अपनी बेटियों के साथ रहती हूं. उस समय हमारे बीच कोई नहीं होता, फोन, टीवी, गेम्स कुछ भी नहीं. उस समय मैं उनकी दिनभर की बातें सुनती हूं, उनसे उनकी पढ़ाई, फ्रेंड्स और अन्य एक्टिविटीज़ के बारे में जानती हूं और उन्हें भी ये सब अच्छा लगता है.

Smita Bansal

3) क्या आपको दोनों बेटियों के बीच सिबलिंग राइवलरी की समस्या देखने को मिलती है?
मेरी दोनों बेटियों के बीच नौ साल का फर्क है इसलिए उनके बीच सिबलिंग राइवलरी जैसी कोई समस्या देखने को नहीं मिलती, उल्टे मेरी बड़ी बेटी अपनी छोटी बहन का बहुत ध्यान रखती है. दोनों के व्यवहार में भी बहुत फर्क है. मेरी बड़ी बेटी जितनी शांत है, छोटी उतनी ही शरारती है, उसे हर व़क्त अटेंशन चाहिए होता है और इसके लिए वो अलग-अलग तरह की शरारतें करती रहती है.

4) अपनी बड़ी बेटी के साथ आपका रिश्ता कैसा है?
सच कहूं तो मेरी बड़ी बेटी स्टाशा अब मेरी बेस्ट फ्रेंड हो गई है. मैं जब भी स्टाशा के साथ होती हूं तो मुझे किसी फ्रेंड की ज़रूरत महसूस नहीं होती. हम दोनों साथ मिलकर शॉपिंग, फिल्म, रेस्टॉरेंट वगैरह जाते हैं और मुझे उसका साथ बहुत अच्छा लगता है. वो एक फ्रेंड की तरह मेरे मन की बात पढ़ लेती है. जब कभी मेरा मूड ठीक नहीं रहता, तो वो अपनी छोटी बहन को कमरे से बाहर लेकर चली जाती है. वो समझती है कि मम्मा थकी हुई हैं और उन्हें इस समय आराम करना चाहिए. उसे भी जब मुझसे कुछ कहना होता है, तो मैं उसकी बॉडी लैंग्वैज से समझ जाती हूं कि वो मुझसे कुछ कहना चाहती है. स्टाशा मुझसे अपनी हर बात शेयर करती है.

यह भी पढ़ें: ‘बालिका वधू’ की गहना यानी एक्ट्रेस नेहा मार्दा के साथ ख़ास मुलाक़ात, नेहा मार्दा के बारे में ये 16 बातें नहीं जानते होंगे आप (Exclusive Interview: 16 Things You May Not Know About ‘Balika Vadhu’ Actress Neha Marda)

Smita Bansal

5) क्या आपका अपनी मां से भी ऐसा ही रिश्ता है जैसा आपकी बेटी का आपसे है?
हां, मैं भी अपनी मां के बहुत क्लोज़ हूं और मैंने उनसे कभी कोई बात नहीं छुपाई. मां भी मुझसे हर बात शेयर करती हैं. टीनएज में प्युबर्टी पीरियड शुरू होने से पहले ही मां ने मुझे समझा दिया था कि अब तुम्हारे शरीर में ये बदलाव आएंगे और मुझे भी मां के मुंह से ऐसी बातें सुनने में कोई हिचक महसूस नहीं हुई. जब मैं अपने करियर के सिलसिले में मुंबई आई, तो दूर रहते हुए भी मैं अपनी हर बात मां से शेयर करती थी. अंकुश से मेरे अ़फेयर की बात भी मैंने सबसे पहले अपनी मां को ही बताई थी. जिस तरह मैं अपनी मां से हर बात शेयर करती हूं, स्टाशा भी उसी तरह मुझे अपनी हर बात बताती है. शायद हर मां-बेटी की बॉन्डिंग ऐसी ही होती है.

Smita Bansal

6) मां बनने के बाद औरत की ज़िंदगी में क्या बदलाव आते हैं?
मां बनकर मुझे जो ख़ुशी मिली, वो किसी और चीज़ से कभी नहीं मिल सकती. मां बनने का एहसास औरत को कंप्लीट बनाता है. उसे लगता है कि उसकी ज़िंदगी के कुछ मायने हैं. मां बनने के बाद औरत डिप्रेस्ड नहीं रहती, हर चीज़ को पॉज़िटिव तरी़के से देखने लगती है. एक औरत अपने बच्चे के लिए जो करती है, वो शायद किसी और के लिए न कर पाए. उसके सारे सपने, सारी ख़ुशियां उसके बच्चों तक ही सिमट जाती हैं. उसे हर वो काम करना अच्छा लगता है, जो उसके बच्चे को ख़ुशी दे, जिसमें उसके बच्चे की भलाई छिपी हो.

Smita Bansal

7) क्या अब आपकी बेटी आपकी चीज़ें शेयर करती है?
मेरी बेटी स्टाशा जब भी कहीं बाहर जाने के लिए तैयार होती है, तो अपने छोड़कर मेरे फुटवेयर पहन लेती है. मैं चाहे उसे कितने भी फुटवेयर दिला दूं, फिर भी उसकी नज़र मेरे फुटवेयर्स पर ही रहती है. सच कहूं, तो बेटी के साथ अपनी चीज़ें शेयर करना अच्छा लगता है. मेरी ही तरह अपने बढ़ते बच्चों के साथ अपनी चीज़ें शेयर करना शायद सभी पैरेंट्स को अच्छा लगता होगा.

8) जब आप पहली बार मां बनीं तो वो अनुभव कैसा था?
मेरी सिज़ेरियन डिलीवरी हुई थी (जयपुर में यानी स्मिता के मायके में) और जब मुझे होश आया तो मैंने डॉक्टर से पूछा कि मुझे बेटा हुआ है या बेटी, जब डॉक्टर ने बेटी कहा, तो मैंने तुरंत पूछा, “गोरी है ना?” मेरे सवाल पर डॉक्टर और मेरी मां मुझे हैरानी से देखने लगे. इतना पूछकर मैं फिर बेहोश हो गई थी, लेकिन मेरे घर वाले आज तक मुझे इस बात के लिए चिढ़ाते हैं. कहते हैं, लोग पूछते हैं कि बच्चा हेल्दी है या नहीं, लेकिन तुम पूछ रही हो, बच्ची गोरी है या नहीं.

यह भी पढ़ें: स्वरागिनी सीरियल की रागिनी यानी तेजस्वी प्रकाश के बारे में ये 16 बातें नहीं जानते होंगे आप (16 Things You May Not Know About ‘Swaragini’ Actress Tejaswi Prakash)

Smita Bansal

9) आप किस तरह के रोल करना पसंद करती हैं?
मां बनने के बाद मैं रोल सिलेक्ट करते समय अपने बच्चों के बारे में सोचती हूं. मैं इस बात का ध्यान रखती हूं कि मैं ऐसा कोई रोल न करूं, जिससे मेरे बच्चों को ये लगे कि अरे, मम्मा ये क्या कर रही हैं. अब मैं बहुत सोच-समझकर अपने रोल सलेक्ट करती हूं.

10) आपका ब्यूटी सीक्रेट क्या है?
मेरी मुस्कान ही मेरा ब्यूटी सीक्रेट है. चेहरे पर हमेशा प्यारी-सी मुस्कान ज़रूरी है. आपकी मुस्कान आपको दुनिया की सबसे ख़ूबसूरत औरत बना देती है.

Smita Bansal

11) आप किस तरह के कपड़े पहनना पसंद करती हैं?  
मैं इंडियन और वेस्टर्न दोनों आउटफिट पहनना पसंद करती हूं. मैं ओकेज़न के हिसाब से आउटफिट सलेक्ट करती हूं.

12) क्या आपको शॉपिंग करना पसंद है?
मुझे शॉपिंग करना पसंद है, लेकिन मैं अपनी लिमिट अच्छी तरह जानती हूं. ऐसा नहीं है कि मैं शॉपिंग के बिना रह ही नहीं सकती.

यह भी पढ़ें: क्या आप जानते हैं टीवी सीरियल्स को डेली सोप क्यों कहते हैं? (Why Are TV Serials Called Daily Soap?)

Smita Bansal

13) आपका फेवरेट फूड क्या है?
मुझे प्योर देसी खाना पसंद है और मैं पूरी ज़िंदगी इंडियन फूड ही खाना चाहूंगी.

14) आपका फेवरेट हॉलिडे डेस्टिनेशन क्या है?
पेरिस मेरा फेवरेट हॉलिडे डेस्टिनेशन है.
– कमला बडोनी 

बालिका वधू, डोली अरमानों की जैसे धारावाहिकों में अपने सशक्त अभिनय से दर्शकों के दिलों में ख़ास जगह बनाने वाली नेहा मार्दा अब अपनी मैरिड लाइफ एंजॉय कर रही हैं. मुंबई की एक्ट्रेस पटना के लड़के से शादी करके कैसा महसूस कर रही हैं, शादी के बाद ज़िंदगी में क्या बदलाव आए? ऐसे ही दिलचस्प सवालों के जवाब जानने के लिए हमने नेहा मार्दा से बात की.

Neha Marda

1) नेहा, अब आप डेली सोप में काम क्यों नहीं करतीं?
शादी के बाद मैं अब अधिकतर समय पटना में रहती हूं इसलिए डेली सोप कर पाना मेरे लिए मुश्किल हो जाता है. शादी के बाद जब मैं डोली अरमानों की सीरियल में काम कर रही थी, तो आयुष्मान मुझसे मिलने मुंबई आ जाते थे, लेकिन मैं देर रात घर लौटती थी और सुबह जल्दी चली जाती थी. मैं उनके लिए बिल्कुल भी व़क्त नहीं निकाल पा रही थी. दो साल तक काम करने के बाद मैंने तय कर लिया कि मैं इस तरह काम नहीं कर सकती और मैंने डोली अरमानों की सीरियल छोड़ दिया. जब मैं डोली अरमानों की कर रही थी, तो मुझे झलक दिख ला जा का ऑफर मिला, लेकिन ज़ी टीवी के साथ कमिटमेंट था इसलिए मैं वो शो भी नहीं कर पाई. फिर ‘डोली अरमानों की’ छोड़ने के बाद जब मेरी झलक दिखला जा में वाइल्ड कार्ड एंट्री हुई, तो उसमें भी एलिमिनेट होना पड़ा, क्योंकि परिवार में किसी की मौत हो गई थी. अब मैं ऐसा काम करना चाहती हूं जिसमें मैं 15-20 दिन में अपना काम ख़त्म करके अपने घर आ सकूं. डेली सोप में काम करने का फिलहाल कोई इरादा नहीं है, क्योंकि इसमें बहुत समय देना पड़ता है जो मैं दे नहीं सकती. जब मैं मुंबई में काम करती हूं, तो आयुष्मान 10 दिन के लिए मुंबई आ जाते हैं और मैं भी 10 दिन के लिए पटना चली जाती हूं. इस तरह हम एक-दूसरे के साथ व़क्त गुज़ार लेते हैं. दूर रहते हैं इसलिए मिलने की चाहत बढ़ती जाती है और हम एक-दूसरे का साथ बहुत एंजॉय करते हैं.

Neha Marda

2) क्या आपकी अरेंज मैरिज है?
हां, हमारी अरेंज मैरिज है. मेरी परवरिश बिज़नेस फैमिली में हुई है इसलिए मैं ससुराल भी ऐसा ही चाहती थी. मैंने ये कभी नहीं चाहा कि मैं ग्लैमर इंडस्ट्री के किसी लड़के से शादी करूं. अलग-अलग फील्ड के लोगों के पास शेयर करने के लिए बहुत कुछ होता है. अपनी ही फील्ड के लड़के से शादी करती तो हम एक ही टॉपिक पर लड़ते रहते. आयुष्मान से पहले मैं दो-तीन लड़कों से मिली थी, लेकिन उन्हें देखकर मुझे वो फीलिंग नहीं आई कि उनसे मैं शादी कर लूं. आयुष्मान से मिलते ही मुझे ये महसूस हो गया था कि यही मेरा जीवनसाथी है. मैं ऐसे लड़के से शादी करना चाहती थी जो चश्मा पहनता हो, इंटेलेक्चुअल दिखता हो, उसके पास बड़ी डिग्री हो. आयुष्मान में मुझे वो सारी क्वालिटीज़ दिखीं इसलिए मैंने हां कर दी. आयुष्मान के चेहरे पर हमेशा मुस्कान रहती है जो मुझे बहुत अच्छी लगती है.

Neha Marda

3) आप पटना में शादी करने के लिए कैसे राजी हो गईं?
जब मेरे लिए शादी का रिश्ता आया तो मैंने मना कर दिया था. मैंने मां से कहा कि मैं पटना में नहीं रह सकती. तब मां ने कहा था कि शहर मायने नहीं रखता, जीवनसाथी मायने रखता है. आयुष्मान ने भी शादी के लिए मना कर दिया था. उनका मानना था कि एक एक्ट्रेस पटना में नहीं रह सकेगी. हम दोनों के पैरेंट्स ने कहा, एक बार मिल लो, पसंद न आए तो ना कह देना. फिर आयुष्मान मुझसे मिलने मुंबई आए. जब हम मिले तो हमने अपना फैसला बदल दिया और शादी के लिए हां कर दी. फिर आयुष्मान ने मुझसे कहा कि तुम एक बार पटना आकर देख लो, उसके बाद ही कोई फैसला करना. मैं अपनी फैमिली (मम्मी-पापा, भैया-भाभी) के साथ जब पटना जा रही थी और हमारे फ्लाइट के टिकट बुक हुए, तो मैं ये जानकर बहुत ख़ुश हुई कि पटना में एयरपोर्ट भी है. मुझे लगा था वहां एयरपोर्ट नहीं होगा. फिर जब मैं पटना पहुंची तो वहां का इंफ्रास्टक्चर देखरक हैरान रह गई. मैंने सोचा था कि वहां पर मुझे गाय, बकरी, भैंस देखने को मिलेगी, लेकिन वहां तो सबकुछ अलग ही था. हां, पटना में मुंबई जैसी फ्रीडम नहीं है, लेकिन जितना मैंने बिहार के बारे में सुना था, उससे कहीं ज़्यादा पाया.

4) आपको शादी के बाद क्या कुछ एडजस्ट करना पड़ा?
लड़कियों से अक्सर ये सवाल किया जाता है कि शादी के बाद ससुराल में उन्होंने कैसे एडजस्ट किया, लेकिन ऐसा नहीं है कि सिर्फ लड़कियां ही एडजस्ट करती हैं, लड़के के घरवालों को भी एडजस्ट करना पड़ता है, क्योंकि उनके घर में नया सदस्य आ रहा होता है. सच कहूं तो शादी के बाद मेरी सास ने मेरी मां की जगह ले ली, उन्होंने मुझे कभी किसी चीज़ की कमी महसूस नहीं होने दी. वो मुझे अपनी बेटी की तरह प्यार करती हैं. मेरी ननद (अदिति) की तरह ही वो मेरा ख़्याल रखती हैं.

यह भी पढ़ें: स्वरागिनी सीरियल की रागिनी यानी तेजस्वी प्रकाश के बारे में ये 16 बातें नहीं जानते होंगे आप (16 Things You May Not Know About ‘Swaragini’ Actress Tejaswi Prakash)

Neha Marda

5) शादी के बाद एक्टिंग को लेकर आपके ससुराल वालों का क्या रिएक्शन था?
मेरी शादी पटना के लड़के से हो रही थी इसलिए शादी के बाद ग्लैमर इंडस्ट्री में काम करना मुमकिन नहीं था इसलिए बालिका बधू छोड़ने के बाद मैंने अपने आप को मेंटली तैयार कर लिया था कि शादी के बाद मुझे काम नहीं करना है. मैं ज्वेलरी डिज़ाइनर हूं, तो मैंने सोच लिया था कि मैं अपने इसी प्रोफेशन को आगे बढ़ाउंगी. मैंने अपना काम भी शुरू कर दिया था, लेकिन मेरे पति और सास शायद मेरे मन की बात समझ रहे थे. एक दिन मेरी सास ने मुझसे कहा कि तुम यहां ख़ुश तो होे, लेकिन पूरी तरह से ख़ुश नहीं हो. उन्होंने मुझसे पूछा कि तुम फिर से एक्टिंग करना चाहती हो, तो मैंने कहा यही एक ऐसा काम है जिसे मैं दिल से करती हूं. तब उन्होंने मुझसे कहा कि शादी का मतलब अपना करियर ख़त्म कर देना या अपनी ख़ुशियों का बलिदान कर देना नहीं होता, तुम चाहो तो अपना काम फिर शुरू कर सकती हो. सच कहूं तो ये मेरी ज़िंदगी का टर्निंग प्वाइंट था. उसके बाद मैंने डोली अरमानों की सीरियल किया. एक औरत को इससे ज़्यादा और क्या चाहिए कि उसका लाइफ पार्टनर और घरवाले उसे समझें, उसे आगे बढ़ने का मौक़ा दें.

6) आप बेबी कब प्लान कर रही हैं?
हर फैमिली की तरह मेरा परिवार भी चाहता है कि अब हम बच्चे के बारे में सोचें, लेकिन इसके लिए उन्होंने हम पर कभी दबाव नहीं डाला. हां, अब हम इसके लिए प्लानिंग कर रहे हैं. जब भी ईश्वर ये स्टोरी लिखना चाहते हैं या लिखना शुरू करेंगे, सबको इसके बारे में पता चल जाएगा.

Neha Marda

7) ‘बालिका वधू’ और ‘डोली अरमानों की’ इन दोनों शोज़ में से आपको अपना कौन सा किरदार ज्यादा पसंद है?
मेरे दोनों किरदार समाज का आईना हैं. ‘बालिका वधू’ में मैंने बाल विवाह प्रथा को उजागर करता किरदार निभाया, जिसमें वंश को आगे बढ़ाने के लिए एक 13 साल की बच्ची का विवाह एक अधेड़ उम्र के व्यक्ति के साथ कर दिया जाता है. आज भी कई जगहों पर ऐसा होता है, लोग पैसों के लिए अपनी बेटी को बेच देते हैं. लड़कियों को वंश आगे बढ़ाने का माध्यम और पुरुष की शारीरिक ज़रूरत पूरा करने का साधन मात्र समझा जाता है. इसी तरह ‘डोली अरमानों की’ सीरियल में मैंने अपने किरदार के माध्यम से घरेलू हिंसा जैसे महत्वपूर्ण मुद्दे पर काम किया है, जिसमें झांसी जैसे छोटे शहर में रहने वाली लड़की शादी के बाद पति के शोषण का शिकार बनती है और अपने साथ हो रहे अत्याचार के ख़िलाफ़ आवाज उठाकर उसे तलाक़ देती है और पति को जेल भेज देती है. वो दूसरी शादी कर समाज को ये मैसेज देना चाहती है कि एक शादी यदि सफल न हो, तो ज़िंदगी ख़त्म नहीं हो जाती, ज़िंदगी को एक और मौक़ा दिया जाना चाहिए. प्यार दोबारा भी हो सकता है.

8) आपको क्या लगता है, क्या आज भी महिलाओं पर पहले जैसा अत्याचार होता है?
हमारे समाज में ऐसी कई महिलाएं हैं जो किटी पार्टी में पति की तारीफ़ करती नहीं थकतीं और घर पर उसी से मार खाती हैं. यहां तक कि पढ़ी-लिखी महिलाएं भी पति से पिटती हैं और मुंह तक नहीं खोलतीं. इसकी एक वजह उनका आत्मनिर्भर न होना भी है, लेकिन आप यदि आत्मनिर्भर नहीं हैं तो इसका ये मतलब नहीं कि आप किसी की प्रताड़ना सहें. महिलाओं को अपने अधिकारों की जानकारी होनी चाहिए और उसके लिए आवाज़ भी उठानी चाहिए. आजकल तो कम पढ़ी-लिखी महिलाओं के लिए भी रोजगार के कई विकल्प हैं. पति कमाता है इसलिए उसकी हर ज़्यादती सहना कहां का न्याय है? कई महिलाओं को तो ये भी मालूम होता है कि उनके पति का एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर है, फिर भी वो कुछ नहीं कहतीं. महिलाओं की यही कमज़ोरी पुरुषों को क्राइम करने के लिए उकसाती है. अपने हक़ के लिए या ग़लत बात के लिए आवाज़ उठाना ज़रूरी है.

यह भी पढ़ें: अविका गोर, हिना खान, महिमा मकवाना, कांची सिंह से लेकर सारा खान तक… बहुत छोटी उम्र में बहू का रोल निभाया है इन 8 टीवी एक्ट्रेस ने, एक की उम्र तो सिर्फ 12 साल थी (Avika Gor, Hina Khan, Mahima Makwana, Kanchi Singh, Sara Khan… These 8 TV Actresses Played Role Of Bahu At Very Young Age)

Neha Marda

9) आपके जीवन में सबसे बड़ा रोल किसका है?
मां का मेरे जीवन में बहुत बड़ा रोल है. मां ने हम पर कभी कोई चीज़ थोपी नहीं है, उन्होंने अपनी दिनचर्या में वो चीज़ें शामिल की और हम उन्हें देखते-देखते सारी चीज़ें सीख गए. सुबह उठकर मां भजन-आरती गाया करती थीं इसलिए उन्हें सुनते-सुनते हमें भी सारे भजन याद हो गए. मैंने अपने घर में रामायण भी सुनी है और गीता भी. मां ने हमें कल्चरली स्ट्रॉन्ग बनाया, दुनिया की समझ दी, सही-ग़लत में फर्क करना सिखाया. बच्चों को उपदेश देने की बजाय उन चीज़ों पर ख़ुद अमल करके बच्चों को वो सारी चीज़ें सिखाई जा सकती हैं. मैं चाहती हूं कि मैं अपने बच्चों को भी ऐसे ही संस्कार दे पाऊं. जब बच्चा बीमार होता है, तो दूसरों की मांएं रात-रात जागती हैं, उसके पास बैठी रहती हैं, लेकिन मेरी मां ने कभी ऐसा नहीं किया. जब मैं बीमार होती थी, तो मां बगल के रूम में टीवी देखती थीं, लेकिन मेरे पास नहीं बैठती थीं. तब मुझे मां बड़ी कठोर लगती थीं, क्योंकि तब मैं ये नहीं जानती थी कि मां ऐसा क्यों करती हैं. फिर जब मैं मुंबई में अकेले रहती थी, तो बीमार होने पर किसी से कोई उम्मीद नहीं रखती थी. मैं ये जानती थी कि मेरी समस्या मुझे ही सुलझानी है. मुझे कोई देखने वाला नहीं है इसलिए ख़ुद का ध्यान रखना है और जल्दी ठीक हो जाना है. दरअसल, बचपन में कठोर बनकर मां हमें इसी की ट्रेनिंग दे रही थीं.

10) क्या आपको सजना-संवरना अच्छा लगता है?
हां, मुझे सजना-संवरना बहुत अच्छा लगता है. त्योहार या किसी भी ख़ास मौ़के पर मैं बहुत एक्साइटेड हो जाती हूं. घर की सजावट से लेकर पंडित बुलाना, बन-संवरकर तैयार हो जाना, हर चीज़ में बढ़-चढ़कर हिस्सा लेना मुझे बहुत पसंद है. आप मुझे लाउड कह सकती हैं. ख़ास मौ़के पर साड़ी, लहंगा-चोली पहनना मुझे बहुत पसंद है. मैं ख़ुद को जितना सजा लूं, उतना कम है. नथ, बिछिया, पायल… मैं सब कुछ पहन लेती हूं.

Neha Marda

11) आपका फिटनेस मंत्र क्या है?
फिटनेस के लिए मैं योगा करती हूं. मैं सुबह 4-5 बजे उठकर एक क्रिया करती हूं जो पंद्रह मिनट में पूरी हो जाती है. इसका बहुत फ़ायदा होता है. एक तो आप ब्रह्म मुहूर्त में उठ जाते हैं और क्रिया करते हैं इसलिए इसका माइंड-बॉडी-सोल सब पर अच्छा असर होता है. पॉज़िटिव एनर्जी मिलती है. यदि आप अपनी दिनचर्या में ये पंद्रह मिनट शामिल कर लें तो आपको इसका आपको बहुत फ़ायदा मिलता है. मैं जिम नहीं जाती, कोई वर्कआउट भी नहीं करती. हमारे घर में सबकी डायट अलग है, कुक सबके हिसाब से खाना बना लेते हैं. मैं हर चीज़ खाती हूं, लेकिन इस बात का ध्यान रखती हूं कि लिमिट में खाऊं. मैं जब कभी ज़्यादा खाती हूं तो आयुष्मान को बहुत ख़ुशी होती है.

Neha Marda

12) आपका स्किन केयर रूटीन क्या है?
मैं ये मानती हूं कि अच्छी स्किन के लिए बैलेंस डायट बहुत ज़रूरी है. अच्छी स्किन के लिए मैं ख़ूब सारा पानी पीती हूं ताकि पेट ठंडा रहे. साथ ही खीरा, पपीता आदि खाती हूं. जो लोग सोचते हैं डायट में कार्ब शामिल नहीं करना है, वो ग़लत हैं, ऐसा करने से स्किन ख़राब हो जाती है, डायट में कार्ब होना भी ज़रूरी है. और हां, अच्छा दिखना है तो हमेशा ख़ुश रहिए, सबकुछ खाइए, लेकिन लिमिट में.

13) क्या आपको मेकअप करना अच्छा लगता है?
मैं मेकअप कम ही करती हूं. शूटिंग के अलावा मैं मेकअप नहीं करती. हां, लिपग्लॉस और काजल मैं हमेशा लगाती हूं.

14) आपको कैसे कपड़े पहनना पसंद है?
मुझे शॉर्ट ड्रेसेज़ पहनना बहुत पसंद है. ये मुझ पर अच्छे लगते हैं. लॉन्ग ड्रेसेज मैं नहीं पहन पाती. जीन्स मुझे बहुत ज़्यादा पसंद नहीं.

यह भी पढ़ें: टीवी सीरियल की 15 फेमस जोड़ियां, आपकी फेवरेट जोड़ी कौन सी है? (15 Most Popular On-Screen Jodis Of Indian TV Serial)

Neha Marda

15) आपका ख़ास शौक क्या है?
ड्राइविंग मेरा ख़ास शौक है. ड्राइविंग करना मुझे बहुत पसंद है. जिस दिन मुझे कोई काम नहीं होता, उस दिन मैं ड्राइवर को गाड़ी छूने भी नहीं देती, मैं ही ड्राइव करती हूं.

16) क्या आपको कुकिंग का शौक है?
मुझे कुकिंग का बहुत शौक नहीं है, लेकिन मैंने कभी अगर चाय भी बना ली तो पूरे घर में हंगामा हो जाता है कि आज बहूरानी ने अपने हाथों से चाय बनाई है.

– कमला बडोनी

अविका गौर की इमेज हमारे सामने एक चब्बी सी चुलबुली सी लड़की की ही थी लेकिन बीते कुछ सालों में उनमें काफ़ी बदलाव आया है और उन्होंने अपना लुक भी काफ़ी बदला है और इसके लिए कड़ी मेहनत भी की है.

वो अक्सर अपनी पिक्स सोशल मीडिया पर शेयर करती रहती हैं और हाल ही में उनके लेटेस्ट फोटोशूट की तस्वीरें इंटरनेट पर आग लगा रही हैं. वो इसमें लग रही हैं बेहद सेक्सी और हॉट. साथ ही उनकी फ़िटनेस भी साफ़ नज़र आ रही है.

टीवी सेलेब्स उनकी पोस्ट पर काफ़ी कमेंट्स कर रहे हैं और फैंस भी उनकी तस्वीरों को काफ़ी पसंद कर रहे हैं.

Avika Gor
Avika Gor
Avika Gor
Avika Gor

जितनी हॉट वो इन तस्वीरों में लग रही हैं इतनी ही प्यारी ट्रेडिशनल लुक में भी लगती हैं.

Avika Gor
Avika Gor
Avika Gor

यह भी पढ़ें: इस फेस्टिवल बॉलीवुड स्टाइल सीक्वेन साड़ी ट्राई करें और इन एक्ट्रेसेस की तरह दिखें स्टाइलिश और एलीगेंट! (Festival Fashion Goals: Top Bollywood Actresses In Sequin Saree)

दिव्यांका की फैन फ़ॉलोइंग बहुत ज़्यादा है और हो भी क्यों ना वो टीवी की आदर्श बहू जो हैं. बचपन से ही दिव्यांका बहुत बहादुर थीं. वो मिस भोपाल भी रह चुकी हैं. देखें उनकी अनसीन तस्वीरें अभी से लेकर बचपन तक की इस वीडीयो के ज़रिए.

जेनी टीवी इंडस्ट्री की सबसे चहेती स्टार हैं. लेकिन कम ही लोग जानते हैं कि आज इतनी हॉट दिखनेवाली जेनिफ़र बतौर चाइल्ड आर्टिस्ट भी काफ़ी काम कर चुकी हैं और आप उन्हें उनके कैरेक्टर के नाम से पहचानते भी हैं. देखें उनका रिवाइंड लुक अभी से लेकर बचपन तक की इन अनदेखी तस्वीरों में.

दिया और बाती हम में भाभो के किरदार से मशहूर नीलू राजस्थान से हैं और कई राजस्थानी फ़िल्मों में काम भी कर चुकी हैं. देखें इस टैलेंटेड एक्ट्रेस का रिवाइंड लुक- कैसी दिखती थीं वो यंग एज में और अपनी शादी के वक़्त!

स्मिता बंसल को आज बालिका वधू की प्यारी सासू मां के रूप में सब जानते हैं लेकिन वो काफ़ी अरसे से टीवी में काम कर रही हैं. देखें उनका रिवाइंड लुक.

यह भी पढ़ें: देखें टीवी एक्टर्स के रिवाइंड लुक्स, कैसे नज़र आते थे यंग एज में, कुछ को तो पहचान ही नहीं पाएंगे (Rewind Looks Of Popular TV Actors)

वक़्त इंसान को क्या क्या नहीं दिखा और सिखा जाता है। कोरोना ने भी पूरी दुनिया को एक बुरा वक़्त और बुरा दौर दिखा दिया है. इसकी मार हर वर्ग और तबके पर पड़ी और हैरानी तो तब हुई जब सिनेमा और टीवी की चकाचौंध में एक मुक़ाम रखनेवाले भी इससे अछूते नहीं रहे.

भला कौन सोच सकता है कि बालिका वधू, सुजाता और कुछ तो लोग कहेंगे जैसे इतने मशहूर और सुपरहिट शो को डायरेक्ट करनेवाले रामवृक्ष गौड़ अपने गाँव में सब्ज़ियाँ बेचते नज़र आएँगे.

Balika Vadhu TV Show Director


रामवृक्ष आज़मगढ़ में रह रहे हैं और वो लॉकडाउन के चलते यहां चले आए थे. मुंबई में भी काम बंद था जिस वजह से वो वहां भी नहीं रह सकते थे. आज वो परिवार का पेट पालने के लिए सब्ज़ी का ठेला लगाते हैं. हालाँकि रामवृक्ष और उनके परिवार को कोई शिकायत नहीं है. वो अब भी काफ़ी आशावादी हैं और उनका मानना है कि बुरा वक़्त भी गुज़र जाएगा और वो फिर से मुंबई आकर अपनी ज़िंदगी आगे बढ़ाएँगे.

Balika Vadhu TV Show Director

रामवृक्ष ने ना सिर्फ़ टीवी सीरियल्स का निर्देशन किया है बल्कि फ़िल्मी दुनिया में भी उन्हें 22 साल का अनुभव है. वो कई बड़े कलाकारों के साथ काम कर चुके हैं. 25 से अधिक सीरियल्स का निर्देशन कर चुके रामवृक्ष 2002 में मुंबई आए थे. यहां काफ़ी संघर्ष किया. बिजली विभाग में भी काम किया. सहायक निर्देशक के तौर पर भी काम किया और उन्हें निर्देशन इतना भा गया कि इसी को अपना करियर बना लिया। उनके काम को काफ़ी सराहा भी गया.
लेकिन फ़िलहाल वो अपने पिताजी के सब्ज़ी बेचनेवाले काम से संतुष्ट हैं और बस अच्छे दिनों का इंतज़ार कर रहे हैं.

यह भी पढ़ें: कोकिला मोदी से लेकर कमोलिका तक, देखें अपने फेवरेट टीवी स्टार्स के रिवाइंड लुक्स! (Watch Rewind Looks Of Your Favourite TV Actresses)

बालिका वधू की दादी सा उर्फ सुरेखा सीखरी की हालत क्रिटिकल है और फिलहाल हॉस्पिटल में हैं. रिपोर्ट के अनुसार सुरेखा सीखरी आज सुबह 11 बजे के करीब अपने घर में जूस पी रही थीं,  तभी अचानक बेहोश होकर गिर पड़ी थीं. उस समय उनके पास घर पर उनकी देखभाल करने वाली नर्स थी और वही उन्हें हॉस्पिटल ले गईं. उनकी हालत देखकर उन्हें आईसीयू में रखा गया है.

Surekha Sikri

नर्स ने बताया कि सुरेखा जी को ब्रेन स्ट्रोक हुआ है और फिलहाल वो क्रिटी केयर अस्पताल में आईसीयू में हैं. सुरेखा जी को होश आ गया है और उनकी फैमिली भी अब उनके पास है. बता दें कि पहले उनकी नर्स ने कहा था कि अन्य हॉस्पिटल चूंकि ज्यादा फीस चार्ज करते और उनके पास इतने भी पैसे नहीं कि ढंग से इलाज करा सकें. सुरेखा की देखभाल कर रही नर्स ने बॉलीवुड से अपील भी की थी कि वे सुरेखा की मदद के लिए आगे आएं, लेकिन बाद में नर्स ने कहा कि  “चूंकि अब उनका परिवार उनके साथ है और वे सब सुरेखा जी के पास आ गए हैं इसलिए सुरेखा जी के इलाज के खर्चे का सारा जिम्मा उनकी फैमिली ने संभाल लिया है और उन्हें अब फाइनेंशियल हेल्प की जरुरत नहीं है.”


2 साल पहले भी हुआ था ब्रेन स्ट्रो

Surekha Sikri


सुरेखा सीकरी को इससे पहले नवंबर 2018 में फिल्म ‘बधाई हो’ की रिलीज़ होने के बाद भी ब्रेन स्ट्रोक हुआ था. स्ट्रोक की वजह से एक्ट्रेस पैरालाइज़्ड हो गईं थीं. लेकिन एक्ट्रेस की तबियत में धीरे-धीरे सुधार हो रहा था, एक्ट्रेस की देखभाल के लिए उनके घर पर एक नर्स भी मौजूद थीं. वो धीरे धीरे ठीक तो हो रही थीं, लेकिन ज्यादा काम नहीं कर पाने का उन पर फाइनांशियल असर हुआ है. जानकारी के मुताबिक सुरेखा सीकरी का एक महीने का दवाईयों का खर्च 2 लाख रुपये से ज्यादा है.

कई महीनों से शूटिंग नहीं कर रहीं 

Surekha Sikri


सुरेखा सीकरी लॉकडाउन में घर पर ही हैं और पिछले काफी वक्त से शूटिंग भी नहीं कर रही थीं. एक इंटरव्यू में सुरेखा ने बताया था कि फिल्म ‘बधाई हो’ की रिलीज के एक महीने बाद ही उन्हें स्ट्रोक हुआ था, जिसके बाद वह ज्यादा कुछ नहीं खा पाती थीं और इस कारण वो बहुत कमज़ोर हो गई थीं. इस बीच उनके फाइनांशियल क्राइसेस में होने की खबरें भी आई थीं.

नहीं ली किसी से फाइनेंशियल हेल्प, कहा, ‘मुझे काम दीजिए, मैं इज्जत से कमाना चाहती हूं’

Surekha Sikri


दरअसल कोरोना वायरस के बीच 65 साल से ज्यादा उम्र के एक्टर्स के काम करने पर पाबंदी लगाने से वो शूटिंग कर भी नहीं पा रही हैं. इसे लेकर उन्होंने अपनी नाराजगी भी जाहिर की थी. एक्ट्रेस ने कहा था कि उन्हें पैसों की जरूरत है लेकिन वो उन्हें दान में नहीं चाहिए बल्कि वो खुद उन्हें कमाना चाहती हैं. एक्ट्रेस ने कहा था, ”मैं लोगों के बीच यह गलत इंप्रेशन नहीं पैदा करना चाहती कि मैं लोगों से पैसों के लिए मदद मांग रही हूं. मैं दान नहीं चाहती. हां कई लोगों ने मुझसे संपर्क किया और मैं उनकी आभारी हूं, लेकिन मैंने किसी से कोई मदद नहीं ली है. मुझे काम दीजिए, मैं इज्जत से कमाना चाहती हूं.”

3 बार जीता नेशनल अवॉर्ड 

Surekha Sikri


सुरेखा सीकरी एक बेहतरीन एक्ट्रेस हैं. वे ‘तमस’, ‘बधाई हो’, ‘मम्मो’, ‘नजर’, ‘सलीम लंगड़े पे मत रो’, ‘जुबैदा’, ‘कली सलवार’, ‘रेनकोट’, ‘हमको दीवाना कर गए’ और ‘शीर कोरमा’ जैसी फिल्मों में बेहतरीन एक्टिंग की हैं. वह तीन बार नेशनल अवॉर्ड भी जीत चुकी हैं.

‘मेरी सहेली’ फैमिली एक्ट्रेस के जल्द स्वस्थ होने की कामना करती है.

दूरदर्शन पर ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ के प्रसारण को दर्शकों ने बहुत किया. ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ के प्रसारण ने दूरदर्शन को नंबर वन चैनल बना दिया है. दूरदर्शन की बढ़ती लोकप्रियता को देखते हुए बाकी चैनलों ने भी पौराणिक सीरियल दिखाने शुरू कर दिए हैं. इसके साथ ही अन्य चैनल्स ने अपने पुराने पॉप्युलर टीवी सीरियल्स फिर से दिखाने का फैसला कर लिया है. लॉकडाउन के चलते किसी भी सीरियल की शूटिंग नहीं हो पा रही है, ऐसे में पुराने हिट टीवी शो एक बार फिर टीवी पर दिखाए जाने लगे हैं. एकता कपूर ने तो अपनी वेब सीरीज़ को भी टीवी पर दिखाना शुरू कर दिया है. दूरदर्शन पर ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ के प्रसारण की अपार सफलता के बाद अब हम पांच, खिचड़ी, ऑफिस ऑफिस, सीआईडी, बालिका वधू, आहट, सारा भाई VS साराभाई लोकप्रिय सीरियल्स भी शुरू हो गए हैं.

Old Serials

‘रामायण’ और ‘महाभारत’ के बाद टीवी पर फिर शुरू हुआ पुराने सीरियल्स का दौर
दूरदर्शन पर ‘रामायण’ और ‘महाभारत’ के प्रसारण की अपार सफलता के बाद अब टीवी फिर से पुराने सीरियल्स का दौर शुरू हो गया है. देखिए किस चैनल पर होगा कौन-से टीवी शो का प्रसारण:

1) हम पांच : ज़ी टीवी
प्रसारण का समय: रोज़ाना दोपहर 12 बजे

Hum Paanch

2) खिचड़ी : स्टार भारत
प्रसारण का समय: सुबह 11 बजे

यह भी पढ़ें: #ViralPicture टीवी के ‘राम’ यानी अरुण गोविल की जवानी की तस्वीर सोशल मीडिया पर शेयर की उनकी भाभी तबस्सुम ने (Actress Tabassum Shared A Rare Picture Of Actor Arun Govil)

khichdi cast

3) ऑफिस-ऑफिस : सब टीवी
प्रसारण का समय: सोम- शुक्र, शाम 6 बजे और रात 10 बजे

Chala Mussaddi office office the film

4) सारा भाई VS साराभाई : स्टार भारत
प्रसारण का समय : सोम-शुक्र, सुबह 10 बजे

यह भी पढ़ें: लॉकडाउन की वजह से गांव में फंसी टीवी एक्ट्रेस रतन राजपूत ऐसे एंजॉय कर रही हैं गांव का सादा जीवन (TV Actress Ratan Rajput Is Stuck In The Village In Lockdown)

Sarabhai vs Sarabhai

5) बालिका वधू : कलर्स
प्रसारण का समय : सोम- शुक्र, शाम 6 बजे

Balika Vadhu

6) आहट : सोनी टीवी
प्रसारण का समय : शुक्र, रात 12 बजे

aahat

टीवी पर दिखाए जाने वाले इन सीरियल्स में से आपको कौन-सा टीवी शो सबसे ज़्यादा पसंद है, हमें कमेंट करके ज़रूर बताएं.

रणबीर कपूर और आलिया भट्ट पहली बार फिल्म ब्रहमास्त्र में दिखेंगे, लेकिन बहुत कम लोगों को पता है कि इसके पहले बालिका वधू फिल्म के लिए आलिया-रणबीर को साइन किया गया था. संजय लीला भंसाली की इस फिल्म का फोटोशूट भी हुआ था. तब जहां रणबीर 20 साल के थे, वहीं आलिया मात्र 11 साल की थीं.

Ranbir Kapoor And Alia Bhatt

आलिया भट्ट ने उन दिनों की बातों को शेयर करते हुए कहा- जब मैं पहली बार रणबीर से मिली थी, तब वे संजय लीला भंसाली के सहायक निर्देशक के रूप मे काम कर रहे थे. उस समय मैं काफ़ी शर्मीले स्वभाव की थी. इस कारण जब बालिका वधू के लिए हमारा फोटोशूट हो रहा था, तब पोज़ देने के लिए मैं रणबीर के कंधे पर अपना सिर भी ठीक से नहीं रख पा रही थी…

Ranbir Kapoor And Alia Bhatt

बालिका वधू का प्रोजेक्ट संजय लीला भंसाली ने तो बड़ी उम्मीद के साथ शुरू किया था, पर यह फिल्म कई कारणों से बन नहीं पाई.

रणबीर आलिया के एक्ट्रेस बनने के पहले से ही उनके फैन थे. आलिया की हाइवे मूवी में वे रणबीर को इतनी अच्छी लगी थीं कि उन्होंने आलिया को अमिताभ बच्चन तक कह डाला यानी वे यंग होने के साथ इतनी अधिक टैलेंटेड हैं. आलिया के इतनी कम उम्र में बेहतरीन अदाकारी ने उन्हें आलिया का मुरीद बना डाला. शायद यह भी एक वजह रही होगी दोनों के क़रीब आने की, लेकिन लोग उनके उम्र के फासले को अक्सर जताते रहते हैं कि आलिया 26 साल की हैं और रणबीर 37 के हैं. दोनों के बीच उम्र का काफ़ी फासला है.

फ़िलहाल आलिया भट्ट, रणबीर कपूर, अमिताभ बच्चन व ब्रहमास्त्र की टीम हिमाचल प्रदेश के मनाली में फिल्म की शूटिंग कर रही है. जहां कुछ एक्शन शॉट्स और गाने का फिल्मांकन हो रहा है. अयान मुखर्जी निर्देशित ब्रहमास्त्र सुपरहीरो फिल्म है, जो अगले साल रिलीज़ होनेवाली है.

amitabh bachchan

इसमें रणबीर-आलिया के अलावा अमिताभ बच्चन भी मुख्य भूमिका में है. पिछले दिनों अमिताभ बच्चन ने ब्रहमास्त्र फिल्म की शूटिंग के दरमियान हिमाचल की वादियों में माइनस थ्री डिग्री में कंपकंपाती ठंड में सुरक्षात्मक गियर के साथ अपने लुक को शेयर किया था. लोगों ने इसे ख़ूब पसंद किया था. बेटी श्‍वेता बच्चन भी डैडी कूल… कमेंट देनेे से ख़ुद को रोक नहीं पाईं.

https://www.instagram.com/p/B5ijz1WBX4w/

इनके अलावा मौनी रॉय और नागार्जुन भी ख़ास रोल में है. निर्माता के रूप में करण जौहर, रणबीर कपूर और नमित मल्होत्रा हैं. इसमें संगीत का जादू प्रीतम बिखेरेंगे, पर अब वो कितना चलेगा, वो तो आनेवाला व़क्त ही बताएगा. वैसे लोेगों को तो हॉट लव बर्ड्स आलिया-रणबीर को पहली बार एक साथ देखने की बेक़रारी अधिक है. हो भी क्यों न, काफ़ी समय से ये प्रेमी जोड़ा साथ-साथ कभी देश-विदेश में, तो कभी दोस्तों, परिवार के साथ घूम-फिर रहे हैं. ख़ास मौक़ों पर ख़ुशियां साझा कर रहे हैं. अब देखेंगे कि इनका ब्रहमास्त्र दर्शकों को लुभाता है या उलझाता है.

Ranbir Kapoor And Alia BhattRanbir Kapoor And Alia BhattRanbir Kapoor And Alia Bhatt

Ranbir Kapoor And Alia Bhatt Ranbir Kapoor And Alia BhattRanbir Kapoor And Alia Bhatt

यह भी पढ़ेरितिक रोशन ने जीता दशक के सबसे सेक्सी एशियाई पुरुष का खिताब, शाहिद व टाइगर को मिली ये रैंक (Hrithik Roshan Voted Sexiest Asian Male Of The Decade In UK Poll)

1607109_259820017511184_970140498_n (1)

छोटी-सी उम्र में बड़ी उड़ान भरने वाली अविका गौर आज अपना 20वां बर्थडे मना रहीं हैं. 30 जून 1997 को मुंबई के एक गुजराती फैमिली में जन्मी अविका ने 12 साल की उम्र में टेलिविज़न पर आनंदी की भूमिका निभाई और घर-घर में चर्चित हुईं. बालिका वधु के रूप में अविका को सर्वश्रेष्ठ बाल कलाकार आईटीए पुरस्कार से सम्मानित भी किया गया है.

यह भी पढ़ें: आ गया ‘जग्गा जासूस’! ब्रेकअप के बाद भी रणबीर-कैटरीना की ज़बरदस्त केमेस्ट्री

अविका को बचपन से ही अभिनय का बहुत शौक था, इसलिए वो बचपन से ही फैशन शो में भी हिस्सा लेती रही हैं. बालिका वधु के अलावा अविका ने राजकुमार आर्यन में राजकुमारी भैरवी, मेरी आवाज को मिल गई रोशनी, करम अपना अपना, स्शश्श्श… फिर कोई है, चलती का नाम गाड़ी, ससुराल सिमर का में भी अपने अभिनय के जादू से सभी को मोहित किया है. टेलेविज़न के अलावा अविका ने कई फिल्में भी की हैं. पाठशाला और तेज़ जैसी फिल्मों में काम कर चुकी अविका साउथ की फिल्में भी की हैं.

मेरी सहेली की ओर से अविका को ए वेरी हैप्पी बर्थ डे.

बॉलीवुड और टीवी से जुड़ी और ख़बरों के लिए क्लिक करें.

×