Tag Archives: Benefits of banana

औषधीय गुणों से भरपूर केला (Health Benefits of Banana)

Health Benefits of Banana

Health Benefits of Banana

केले में प्रचुर मात्रा में प्रोटीन, आयरन, मैग्नीशियम व विटामिन बी 6 है. केला खाने से कब्ज़ व गैस की समस्या दूर होती है. हर रोज़ केले व दूध का सेवन करने से तंदुरुस्ती बढ़ने के साथ-साथ शरीर में ख़ून की मात्रा भी बढ़ती है. केले में पाए जानेवाले फाइबर से पाचन क्रिया अच्छी रहती है. यह खून को पतला कर धमनियों में ख़ून के संचालन को भी ठीक करता है. दरअसल, इसमें पाया जानेवाला मैग्नीशियम शरीर में जाकर रक्त में कोलेस्ट्रॉल की मात्रा को कम करता है. कोलेस्ट्रॉल की मात्रा कम होने से धमनियों में रक्त का संचालन सही रहता है.

* पीलिया यानी जॉन्डिस के मरीज़ को कच्चा या अधपका केला खिलाने से फ़ायदा होता है.

* पेचिश होने पर पके केले को मसलकर नमक और पिसा जीरा मिलाकर मरीज़ को खिलाएं.

* जीभ पर पड़े छालों को दूर करने के लिए दो-तीन दिन तक लगातार सुबह दही के साथ केला खाएं और इसके बाद ही कुछ खाएं. छाले ठीक हो जाएंगे.

* सूखी खांसी होने पर दो केले को मिक्सर में पीसकर उसमें दूध व स़फेद इलायची मिलाकर पीने से राहत मिलती है.

* यदि प्रदर रोग की समस्या हो, तो केला व दूध की खीर बनाकर हर रोज़ सुबह-शाम खाएं या फिर भोजन करने के बाद दो केले नियमित रूप से लें.

* दस्त यानी लूज़ मोशन होने पर पके हुए केले को मक्खन की तरह फेंटकर उसमें थोड़ी-सी कुछ दाने मिश्री मिलाकर दिनभर में दो-तीन बार खाने से राहत मिलती है.

* यदि चोट लग जाए और ख़ून बंद न हो, तो वहां पर केले के डंठल का रस लगाएं या फिर केले का छिलका लगाने से भी लाभ होता है.

यह भी पढ़े: तिल के 11 अमेज़िंग हेल्थ बेनिफिट्स

* बेचैनी व घबराहट होने पर पके हुए केले को फेंटकर उसमें एक टीस्पून मिश्री व एक छोटी इलायची पीसकर मिलाएं और खाएं.

* दाद होने पर केले के गूदे को नींबू के रस में पीसकर पेस्ट बनाकर दाद पर लगाएं.

* अल्सर की शिकायत होने पर कच्चा केला खाने से लाभ होता है.

* यदि आपको बार-बार यूरिन होने की समस्या है, तो केले के रस में घी मिलाकर पीएं.

* जलने पर केले को मसलकर जले हुए स्थान पर लगाएं.

* छोटे बच्चे को दस्त हो, तो पके केले को इतना घोंटें कि वह मक्खन की तरह पतला हो जाए और इसे बच्चे को चटा दें. दस्त बंद हो जाएगा.

* पके केले को घी के साथ खाने से पित्त रोग तुरंत शांत होता है.

* एक पका हुआ केला मीठे दूध के साथ लगातार आठ दिन तक सेवन करने से नकसीर की समस्या दूर हो जाती है.

* दो केले को एक टीस्पून शहद में मिलाकर खाने से सीने के दर्द में आराम मिलता है.

* बाल गिरने की समस्या होने पर केले के गूदे में नींबू का रस मिलाकर बालों में लगाएं.

यह भी पढ़े: बदहज़मी दूर करने के 20 कारगर उपाय

सुपर टिप

ब्लड प्रेशर की समस्या होने पर नियमित रूप से केला खाएं. यह रक्त की अशुद्धियों को दूर करने के साथ-साथ शरीर में रक्त के बहाव को भी सही करता है.

रिसर्च

रिसर्च के अनुसार, अवसाद यानी डिप्रेशन के मरीज़ों के लिए केला फ़ायदेमंद है. दरअसल, केले में ऐसे प्रोटीन पाए जाते हैं, जो शरीर को रिलैक्स करते हैं. इसी कारण डिप्रेशन के मरीज़ जब भी केला खाते हैं, तो उन्हें आराम मिलता है.

हेल्थ अलर्ट

केला फ़ायदेमंद तो है, पर इसमें कुछ परहेज़ भी रखें.

* रात में केला न खाएं.

* केला खाने के बाद पानी न पीएं.

* पाचनशक्ति कमज़ोर होने पर इसे न खाएं.

* गठिया और डायबिटीज़ के मरीज़ भी इसे न खाएं.

* केला खाली पेट न खाकर भोजन के बाद ही खाएं, तो अधिक लाभप्रद होगा, क्योंकि यह कब्ज़नाशक और पाचक दोनों है.

– नरेंद्र भुल्लर

दादी मां के अन्य घरेलू नुस्ख़े/होम रेमेडीज़ जानने के लिए यहां क्लिक करें-  Dadi Ma Ka Khazana

एक्सरसाइज़ का पूरा फ़ायदा उठाने के लिए ये खाएं (Super Foods To maximise The Benefits Of Workout)

Benefits Of Workout

डायट व फिटनेस एक साथ चलते हैं. हम जो भी खाते हैं, उसका सीधा असर एक्सरसाइज़ और उसके नतीजों पर पड़ता है. वर्कआउट का पूरा लाभ उठाना है तो आपके लिए यह जानना बहुत ज़रूरी है कि एक्सरसाइज़ के बाद आपके शरीर को कब, क्या व कितनी मात्रा में चाहिए?

Benefits Of Workout

ऑमलेट
अंडा प्रोटीन का बेहतरीन स्रोत है. एक अंडे में 70 कैलोरी व 6.3 ग्राम प्रोटीन पाया जाता है. और आपको यह तो पता ही होगा कि मसल्स बनाने के लिए प्रोटीन का सेवन कितना ज़रूरी होता है. अतः वर्कआउट के बाद ख़ूब सारी सब्ज़ियां मिला हुआ वेजिटेबल ऑमलेट टेस्टी भी होता है और फ़ायदेमंद भी.

ओटमील
वर्कआउट के बाद ओटमील खाने से ब्लड में शुगर का फ्लो धीरे-धीरे होता है. आप चाहें तो इसमें फ्रूट्स भी मिला सकते हैं. फ्रूट्स मिलाने से इसमें तरल पदार्थ की मात्रा बढ़ जाती है. जिससे शरीर हाइड्रेट रहता है.

केला
केले में भरपूर मात्रा में गुड कार्ब्स पाए जाते हैं, जिनकी वर्कआउट के बाद हमारे शरीर को ज़रूरत होती है. ये कार्ब्स शरीर में ग्लाइकोजेन के स्तर को बढ़ाने व क्षतिग्रस्त मांसपेशियों को ठीक करने में मदद करते हैं. ये हमारे शरीर को भरपूर मात्रा में पोटैशियम भी देते हैं.

वेजिटेबल सैंडविच 

Benefits Of Workout
ब्राउन ब्रेड से बने वेजिटेबल सैंडविच या पनीर सैंडविच में कार्बोहाइड्रेट के साथ-साथ भरपूर मात्रा में प्रोटीन भी पाया जाता है. अगर आप नॉनवेज खाते हैं तो एग या चिकन सैंडविच भी बेहतरीन विकल्प है. आप चाहें तो पीनट बटर सैंडविच भी खा सकते हैं.

ग्रिल्ड चिकन 
आप भुना हुआ चिकन व हरी सब्ज़ियां भी खा सकते हैं. चिकन में मौजूद लीन प्रोटीन्स व कार्बोहाइड्रेट पेट भरने में मदद करते हैं. इसे और हेल्दी बनाने के लिए चिकन को ऑलिव ऑयल में पकाएं और उसमें नमक की मात्रा कम रखें. अगर आप वर्कआउट के बाद सलाद खाना चाहते हैं तो साथ में कम से आधा कप होल ग्रेन्स, जैसे-ब्राउन राइस, पास्ता या कीन्वा ग्रहण करें.

ये भी पढ़ेंः फ्लैट टमी के लिए पीएं ये 5 ड्रिंक्स

भुना हुआ शकरकन्द
1 या 2 शकरकन्द को अवन या गैस पर भूनकर खाएं. शकरकन्द कॉम्पलेक्स कार्बोहाइड्रेट्स से भरपूर होता है. जो वर्कआउट के कारण शरीर में घटे हुए ग्लाइकोजेन को स्तर को पुनः प्राप्त करने में मदद करता है.

चॉकलेट मिल्क

Benefits Of Workout
यदि आप प्रोटीन शेक पी-पीकर ऊब चुके हैं तो टेस्टी चॉकलेट मिल्क शेक ट्राई कीजिए. इसमें मांसपेशियों की रिकवरी के लिए सभी ज़रूरी प्रोटीन्स, कैल्शियम, सोडियम व कार्बोहाइड्रेट्स मौजूद होते हैं, जो वर्कआउट के बाद थकी हुई मांसपेशियों को ऊर्जा प्रदान करने के साथ-साथ ग्लाइकोजेन लेवल बढ़ाने में भी मदद करते हैं.

वे प्रोटीन
वे प्रोटीन का सेवन करने से शरीर में इन्सुलिन के निर्माण की गति बढ़ती है. ग़ौरतलब है कि इन्सुलिन ग्लूकोज़ को एब्जॉर्ब करने व ऊर्जा प्राप्त करने में मांसपेशियों की मदद करता है. इसे आप दूध या फिर पानी के साथ ले सकते हैं. वे प्रोटीन शरीर को आवश्यक अमिनो एसिड्स भी प्रदान करता है. यदि आप प्रोटीन पाउडर नहीं लेना चाहते तो 1 ग्लास सोया मिल्क, 100 ग्राम लो फैट पनीर, 1 प्लेट
स्प्राउट्स या 1-2 बेसन का चीला खाएं. ये खाद्य पदार्थ प्रोटीन के बढ़िया स्रोत हैं.

ड्राय फ्रूट्स
अगर आप बहुत जल्दी में हैं और आपके पास नाश्ता बनाने के लिए समय नहीं है तो मुट्ठी भर ड्राय फ्रूट्स का सेवन करें. ड्राय फ्रूट्स में भरपूर मात्रा में प्रोटीन पाया जाता है, जो मसल्स बनाने में मदद करता है.

ये भी पढ़ेंः आख़िर क्यों नहीं घटता मोटापा

फ्रूट सलाद
ताज़े फलों में भरपूर मात्रा में हेल्दी व आसानी से पचने वाले कार्बोहाइड्रेस, मिनरल्स व एंजाइम्स पाए जाते हैं. एंजाइम्स न्यूट्रिएंट्स को ब्रेक करने में मदद करते हैं, जिससे एक्सरसाइज़ के कारण थकी हुई मांसपेशियों को नई जान मिलती है. अतः मौसमी फलों से बना फ्रूट सलाद ग्रहण कीजिए.

घी

Benefits Of Workout
घी मांसपेशियों को चिकनाई प्रदान करने व शरीर की रोग-प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है. बहुतों को लगता है कि घी मोटापा बढ़ाता है, जबकि वास्तविकता यह है कि घी में फैटी एसिड पाया जाता है, जो लाइपोलिटिक होता है. यह फैट को ब्रेक करने में मदद करता है. घी में ट्रान्स फैट्स नहीं होते. इसलिए शरीरिक ताक़त को बनाए रखने के लिए रोज़ाना एक टेबलस्पून घी का सेवन करें.

कितना व कब खाएं?
कठिन एक्सरसाइज़ करने के बाद शरीर को रिकवर करने के लिए उचित मात्रा में पौष्टिक भोजन ग्रहण करना बहुत ज़रूरी होता है.
इंटरनैशनल सोसायटी ऑफ़ स्पोर्ट्स मेडिसिन के जनरल के अनुसार, वर्कआउट के तुरंत बाद थोड़ा कार्बोहाइड्रेट व थोड़ा प्रोटीन लेना बेहद फ़ायदेमंद होता है. अगर आप मसल्स बनाना चाहते हैं तो वर्कआइट ख़त्म होने के 15 मिनट के अंदर ही 20-25 ग्राम प्रोटीन और 30 से 35 ग्राम कार्बोहाइड्रेट ग्रहण करें. यदि आप वज़न घटाना चाहते हैं तो थोड़ी देर बाद खाएं, लेकिन एक्सरसाइज़ व खाने के बीच का अंतर 45 से 1 घंटे से ज़्यादा नहीं होना चाहिए.

ये भी पढ़ेंः 5 हाई कैलोरी फूड्स, जो वेट लॉस के लिए हैं ज़रूरी