Bhabhiji ghar per hai

टीवी के पॉप्युलर शो भाबीजी घर पर हैं में अनीता भाभी का किरदार निभानेवाली सौम्या टंडन घर-घर में मशहूर हैं. शो में हप्पू सिंह उन्हें प्यार से ‘गोरी मेम’ कहते हैं और आज यही सौम्या की पहचान बन गई है. आपको शायद पता नहीं कि सौम्या एक बेहतरीन अदाकारा होने के साथ-साथ लाजवाब ऐंकर, कवियत्री और परफॉर्मर भी हैं. अपने करियर में उन्होंने कई बड़े शोज़ होस्ट किए हैं, जिसके लिए उन्हें बेस्ट ऐंकर का अवॉर्ड भी मिल चुका है. टीवी इंडस्ट्री में कदम रखने से पहले क्या करती थीं भाभीजी और क्यों उनका गोरापन ही बन गया उनके करियर का दुश्मन, आइए जानते हैं.

Saumya Tandon

अब तक आपने सुना होगा कि सांवली रंगत के कारण फलां ऐक्ट्रेस को काम नहीं मिला या उनके साथ अच्छा सुलूक नहीं किया गया, लेकिन ऐसा पहली बार सुनने में आ रहा है कि किसी का गोरापन भी उसका दुश्मन बन सकता है. जी हां, टीवी की मशहूर गोरी मेम सौम्या टंडन को उनकी गोरी रंगत की वजह से कई इंटरनेशल प्रोजेक्ट्स से हाथ धोना पड़ा. दरअसल हुआ यूं कि इन प्रोजेस्ट्स के लिए उन्हें एक इंडियन लड़की की ज़रूरत थी, लेकिन उन फॉरेन प्रोजेक्टसवालों की सोच ऐसी है कि इंडियन लड़कियां सांवली ही होती हैं. सौम्या ने एक इंटरव्यू में बताया कि उन्हें विश्वास नहीं हो रहा था कि कोई इंडियन लड़की इतनी गोरी कैसे हो सकती है. उनका मानना है कि अमेरिका और ब्रिटेन जैसे पश्चिमी देशों की लड़कियां ही गोरी होती हैं.

Saumya Tandon

उन्होंने मुझे साफ़ मना कर दिया कि हम किसी सांवली लड़की को ही इस प्रोजेक्ट के लिए लेंगे. आपने ध्यान दिया होगा कि आज भी जब उन्हें अपने शो में इंडियन, पाकिस्तानी या बांग्लादेशी लड़की दिखानी होती है, तो वे किसी सांवली लड़कियां को ही लेते हैं जो कि एकदम ग़लत है. सौम्या ने यह भी कहा कि हमारे देश में आज भी लोग गोरेपन को सुंदरता से जोड़कर देखते हैं, जो कि ग़लत है, हर रंग ख़ूबसूरत होता है.

Saumya Tandon
Saumya Tandon

3 नवंबर, 1984 को उज्जैन में जन्मी सौम्या बेहद ख़ूबसूरत हैं और यही कारण है कि साल 2006 में एक मशहूर मैगज़ीन के लिए हुए कवर गर्ल कॉन्टेस्ट में फर्स्ट रनरअप बनी थीं. सौम्या के पिता लेखक थे और उज्जैन यूनिवर्सिटी से बतौर प्रोफेसर जुड़े थे.

Saumya Tandon
Saumya Tandon
Saumya Tandon

बात करें उनकी निजी ज़िंदगी के बारे में तो साल 2016 में सौम्या ने अपने बॉयफ्रेंड सौरभ देवेंद्र सिंह के संग सात फेरे लेकर शादी के पवित्र बंधन में बंध गईं. पिछले साल 19 जनवरी को ही सौम्या ने एक प्यारे से बेटे को जन्म दिया था. लॉकडाउन में सौम्या को अपने बेटे के साथ भरपूर क्वालिटी समय बिताने को मिला. सौम्या ने लॉकडाउन के दौरान कई डांस वीडिओज़ भी शेयर किए और अपनी पाककला की भी ख़ूबसूरत झलक दिखाई.

Saumya Tandon
Saumya Tandon
Saumya Tandon

ऐंकरिंग की बात करें तो सौम्या ने बॉर्नविटा क्विज़ कॉन्टेस्ट से शुरुआत की, जिसके बाद उन्होंने मल्लिका ए किचन, कॉमेडी सर्कस के तानसेन, ज़ोर का झटका: टोटल वाइपआउट, डांस इंडिया डांस और एंटरटेनमेंट की रात जैसे कई शोज़ को कई सीज़न्स तक होस्ट किया. डांस इंडिया डांस के लिए उन्हें बेस्ट ऐंकर का अवॉर्ड भी मिला.

Saumya Tandon

फिल्मों की बात करें तो उन्होंने जब वी मेट फ़िल्म से बॉलीवुड में बतौर सपोर्टिंग ऐक्ट्रेस डेब्यू किया. फ़िल्म में उन्होंने करीना कपूर की बहन रूप ढिल्लन का किरदार निभाया था. इसके अलावा उन्होंने 2011 में पंजाबी फ़िल्म वेलकम तो पंजाब में काम किया था.

एक अच्छी ऐक्ट्रेस होने के साथ साथ उन्हें शेरो शायरी और गज़लों का भी शौक है. कहने की बात नहीं है कि सौम्या में उनके पापा की लेखनी के गुण आए हैं. कविताएं लिखना और पढ़ना उनका शौक है. हाल ही में उन्होंने बताया कि लॉकडाउन के दौरान मिले समय का सदुपयोग करने के लिए वो एक शॉर्ट फिल्म की स्क्रिप्ट लिख रही हैं.

भाबीजी घर पर हैं की अनीता भाभी को आप कितना पसंद करते हैं, हमें ज़रूर बताएं?

यह भी पढ़ें: बॉलीवुड एक्ट्रेस का झुमका लव, इनके झुमके देखकर दंग रह जाएंगी आप (Bollywood Actress In Jhumka Earrings)

जब एक साउंड रिकॉर्डिस्ट ने ‘भाभीजी घर पर हैं’ सीरियल की अंगूरी भाभी यानी शुभांगी अत्रे का मज़ाक उड़ाया और कहा कि इनका कुछ नहीं होने वाला, तो इस पर शुभांगी अत्रे ने क्या जवाब दिया. इतनी पॉप्युलर एक्ट्रेस के लिए आखिर एक साउंड रिकॉर्डिस्ट ने ऐसा क्यों कहा? अंगूरी भाभी उर्फ शुभांगी अत्रे से इस बात की सच्चाई जानने के लिए हमने उनसे बात की और सच्चाई का पता लगाया. आइए, हम आपको शुभांगी अत्रे से हुई हमारी बातचीत के कुछ दिलचस्प किस्से बताते हैं.  

Angoori Bhabhi Shubhangi Atre

शुभांगी, आजकल लॉकडाउन में आप क्या कर रही हैं? 
जैसा कि आप जानती हैं, लॉकडाउन में घर में कोई डोमेस्टिक हेल्प नहीं है, तो सुबह का आधा दिन तो घर के कामों में ही निकल जाता है. मेरे पति पियूष और बेटी आशी घर के कामों में मेरा हाथ बंटाते हैं, इसलिए मिल जुलकर काम आसानी से हो जाता है. हम मध्यप्रदेश से हैं और आप तो जानती हैं कि मध्यप्रदेश के लोग खाने के लिए जीते हैं. हमारे घर में हम तीनों ही फूडी हैं और मेरी बेटी मुझे लिस्ट दे देती है कि हम क्या-क्या खाएंगे. मुझे भी खाना बनाने का बहुत शौक है इसलिए मैं रोज़ कुछ न कुछ नया बनाने की कोशिश करती रहती हूं. हमारे घर में सबको पनीर बहुत पसंद है इसलिए लॉकडाउन में मैंने कड़ाही पनीर, बटर पनीर मसाला, पनीर दोप्याज़ा जैसी पनीर की बहुत सारी रेसिपीज़ बनाई हैं. कल मैंने अमृतसरी कुलचे और छोले बनाए थे. खाना बनाने के अलावा मुझे डांस का भी शौक है, मैंने कथक सीखा है इसलिए जब भी टाइम मिलता है मैं डांस जरूर करती हूं. सोशल मीडिया पर आप मेरे डांस वीडियो देख सकते हैं. हम लोग बहुत बिज़ी रहते हैं इसलिए हम घर पर चुपचाप बैठ नहीं सकते, लॉकडाउन में भी हम कुछ न कुछ नया ट्राई करते रहते हैं.

लॉकडाउन में आपकी बेटी आपसे क्या सवाल करती है?
मेरी बेटी जब पूछती है कि कब लॉकडाउन खुलेगा, हम बाहर कब जाएंगे, तो मेरे पास उसके सवालों का कोई जवाब नहीं होता. मैं सोचती हूं कि हमने अपने बच्चों के लिए कैसा भविष्य बना दिया है. हमने प्रकृति का इतना नुकसान कर दिया है कि इसका खामियाजा हमारी अगली पीढ़ी को भुगतना पड़ रहा है. इस लॉकडाउन ने बहुत से लोगों का नज़रिया बदल दिया है. अब लोगों को ये समझ आने लगा है कि ज़िंदगी से बढ़कर कुछ नहीं, एक छोटे-से वायरस ने पूरी दुनिया को घरों में बंद होने पर मजबूर कर दिया है. एक वायरस यदि इतनी तबाही मचा सकता है, तो सोचिए, यदि प्रकृति अपने रौद्र रूप में आएगी, तो क्या होगा. हमें अपनी ज़िंदगी के लिए ऊपर वाले को शुक्रिया कहना चाहिए और हर जीव की कद्र करनी चाहिए. हमारे लिए ये सीखने का समय है. यदि हम प्रकृति से कुछ ले रहे हैं, तो हमें प्रकृति को लौटाना भी होगा. अगर आपने एक पेड़ काटा है, तो आपको दो पेड़ लगाने होंगे. एक समय में डायनासोर इतनी भारी मात्रा में इसीलिए बढ़ गए थे, क्योंकि उन्होंने किसी और को पनपने ही नहीं दिया. फिर एक समय ऐसा आया जब इस दुनिया से डायनासोर ही लुप्त हो गए. हम इंसान भी तो यही कर रहे हैं, हमने पेड़ काट दिए, नदियां दूषित कर दी, हवा को प्रदूषित कर दिया, अब प्रकृति हमें सज़ा दी रही है. बाढ़, तूफ़ान, भूकंप के साथ-साथ अब हम कोरोना से भी जूझ रहे हैं. यदि हम अब भी नहीं सुधरे, तो हमें इसके और बुरे परिणाम भुगतने पड़ सकते हैं. लॉकडाउन का एक फायदा ये भी हुआ है कि इस दौरान प्रकृति ने खुद को हील किया है और अब प्रकृति ज्यादा खूबसूरत हो गई है. लॉकडाउन में हमारे कई नए दोस्त भी बन गए हैं. इन दिनों हमारे लॉन में कई नए-नए पक्षी आने लगे हैं, हमने इन्हें पहले कभी यहां नहीं देखा था. पिछले हफ्ते हमारे लॉन में एक किंगफिशर भी आया था. अब हम उन पक्षियों के लिए पानी रखते हैं, उन्हें दाना डालते हैं.

यह भी पढ़ें: ‘नागिन 5’ में नजर आ सकती हैं बिगबॉस 12 विनर दीपिका कक्कड़, एकता कपूर जल्द ला रही हैं नया सीजन (Bigg Boss 12 Winner Dipika Kakar May Be Seen In Ekta Kapoor Upcoming Show Naagin 5)

Angoori Bhabhi Shubhangi Atre

क्या आप बचपन से एक्टर ही बनना चाहती थीं?
हां, ये मेरा बचपन का सपना था कि मैं एक्टर बनूं, लेकिन मेरी फैमिली को लगता था कि ये कैसे हो पाएगा. एक्टिंग में करियर बनाने के लिए मुझे मुंबई भेजने से मेरे पैरेंट्स डरते थे. मैंने कथक सीखा है और बहुत छोटी उम्र से ही मैंने कई शहरों में कथक के परफॉर्मेंस शुरू कर दिए थे. जब मैं ग्यारहवीं में थी, तब मैंने कथक में नेशनल कॉम्पटीशन जीता था. एक्टिंग का चांस मुझे तब मिला जब मेरी बेटी का जन्म हो चुका था. हमारी लव मैरिज हुई है. शादी के बाद पीयूष को पुणे में एक अच्छा ऑफर मिला, तो हम पुणे आ गए. तब तक मैं मां बन चुकी थी. फिर एक दिन पीयूष ने बताया कि एक एडवरटाइजिंग एजेंसी को एक शैम्पू के लिए मॉडल चाहिए, ग्लैमर इंडस्ट्री में वो मेरा पहला काम था. मैंने प्रिया हर्बल शैम्पू के लिए पहला ऐड किया था, जिसके लिए मुझे ढाई हजार रुपये मिले थे. वो मेरी एक्टिंग की पहली कमाई थी. तब मेरे फोटोग्राफर ने कहा कि तुम्हारा इंडियन फेस है, तुम्हें टीवी या फिल्म के लिए ट्राई करना चाहिए. मैंने उनसे कहा कि मैं काम करना चाहती हूं, लेकिन मैं इस इंडस्ट्री में किसी को जानती नहीं हूं.

बालाजी में आपकी एंट्री कैसे हुई?
उस समय (वर्ष 2006) पुणे में बालाजी के ऑडिशन हो रहे थे. इसे आप डेस्टिनी कह सकती हैं, मेरे पहले ऑडिशन में ही मुझे बालाजी में काम करने का मौका मिला और हम मुंबई आ गए. ‘कसौटी ज़िंदगी की’ सीरियल में एक-डेढ़ महीने काम करने के बाद एकता कपूर ने मुझे ‘कस्तूरी’ सीरियल का टाइटल कैरेक्टर दे दिया और वहां से मुझे एक नई पहचान मिली. लेकिन वो दौर मेरे लिए आसान नहीं था, मेरी बेटी उस समय 11 महीने की थी और मुझे उसके साथ समय बिताने का टाइम ही नहीं मिलता था. उस समय पीयूष ही आशी की पूरी ज़िम्मेदारी निभा रहे थे. उस वक़्त मैं ख़ुश भी थी, क्योंकि मैं अपने सपने को जी रही थी, लेकिन इसके लिए मुझे मेरी बेटी से दूर रहना पड़ता था. आज मैं जो भी हूं, उसका क्रेडिट मैं एकता कपूर को दूंगी. मैं उस वक़्त बहुत रॉ थी, फिर भी एकता ने मुझे लीड रोल दिया. मुझे लगता है कि कामयाबी का सफर बहुत आसान होना भी नहीं चाहिए, क्योंकि मुश्किल समय आपको स्ट्रॉन्ग बनाता है.

Angoori Bhabhi Shubhangi Atre

अंगूरी भाभी का किरदार आपको कैसे मिला?
अंगूरी भाभी के लिए बहुत सारे लोगों का नाम सामने आया था. उस समय हर कोई ये जानना चाहता था कि अब अंगूरी भाभी कौन बनेगी. जब इस रोल के लिए मेरी मीटिंग हुई थी, उस वक़्त ही ये एक नेशनल न्यूज़ बन गई थी. अंगूरी भाभी का कैरेक्टर मेरे लिए एक्टिंग से ज्यादा लोगों की उम्मीदों पर खरा उतरना था. उस वक़्त मेरे शो के प्रोड्यूसर और डायरेक्टर ने मुझसे कहा था कि अगले एक-दो महीनों तक सोशल साइट्स को मत देखना, क्योंकि लोग तुलना करेंगे और इससे आपका स्ट्रेस बढ़ेगा. आप सिर्फ अपने काम पर ध्यान दो. ‘भाभीजी घर पर हैं’ सीरियल के लिए जब मेरा सलेक्शन हुआ, तो मैं एक अच्छे रोल की तलाश में थी, तब मैंने ये नहीं सोचा था कि मुझ पर इतनी बड़ी ज़िम्मेदारी है. मैंने अपना काम पूरी ईमानदारी से किया और दर्शकों को मेरा काम पसंद आया. अंगूरी भाभी का कैरेक्टर इतना अच्छा है कि ये रोल करने में किसी भी एक्ट्रेस को बहुत मज़ा आएगा. अंगूरी भाभी भावुक भी है, मासूम भी है, मॉडर्न भी है… इस कैरेक्टर में बहुत सारे शेड्स हैं इसलिए मुझे ये कैरेक्टर बहुत पसंद है.

अंगूरी भाभी के कैरेक्टर के लिए आपको किस तरह के कॉम्प्लिमेंट्स मिलते हैं?
लोग जब मुझे किसी इवेंट या एयरपोर्ट पर देखते हैं, तो कई लोग हैरानी से पूछते हैं कि आप तो अंगूरी भाभी से बिल्कुल अलग हैं. कई दर्शकों को लगता है कि मैं रियल लाइफ में भी भाभीजी वाले गेटअप में ही रहती हूं. एक बार यूपी से स्कूल के बच्चों की ट्रिप हमारे सेट पर आई थी, तब अंगूरी भाभी का कैरेक्टर शुरू किए हुए मुझे एक-दो महीने ही हुए थे. उस समय कई स्टूडेंट्स ने मुझसे कहा था कि अब हम जब आंख बंद करके देखते हैं, तो हमें आप ही अंगूरी भाभी नज़र आती हैं, वो कॉम्प्लिमेंट मेरे लिए बहुत बड़ा था. अब तो मैं अंगूरी भाभी के किरदार में पूरी तरह ढल गई हूं, लेकिन शुरू में लोगों की मुझसे बहुत सारी उम्मीदें थीं.

यह भी पढ़ें: अपने पति से बहुत ज़्यादा अमीर हैं ये 5 टीवी एक्ट्रेस, क्या पैसा आता है इनके रिश्ते के बीच? (5 TV Actresses Who Are Richer Than Their Husbands)

Angoori Bhabhi Shubhangi Atre

आपका बचपन कहां बीता है?
मेरा बचपन मध्यप्रदेश में बीता है और मेरी पढ़ाई भी वहीँ हुई है. बचपन की बहुत सारी खट्टी-मीठी यादें हैं. हम तीन बहनें हैं और मैं सबसे छोटी हूं. बचपन में मेरी बीच वाली बहन और मेरी खूब लड़ाई होती थी, यहां तक कि हम मॉस्किटो मैट लगाने को लेकर भी झगड़ते थे. एक दिन वो मॉस्किटो मैट लगाती थी और एक दिन मैं, लेकिन संडे कौन लगाएगा, ये मसला सुलझाने के लिए मेरे उस दिन मेरे पापा मॉस्किटो मैट लगाना पड़ता था. हम सब मिलकर चाट खाने जाते थे. आज हम वो सब बातें याद करके बहुत हंसते हैं. मैंने इंदौर में ही अपनी पढ़ाई की है. बीएससी के बाद मैंने एमबीए किया. मैंने कॉलेज के दिनों में लेक्चर बंक करके बहुत सारी फिल्में देखी हैं और ये बात मैं अब अपने पैरेंट्स को बताती हूं. एक बार जब अटेंडेंस को लेकर मेरा नाम आया था, तो मैं डर गई थी कि अब घर में सबको पता चल जाएगा, लेकिन पैरेंट्स को बुलाने की नौबत नहीं आई और मैं बच गई. मुझे पानीपुरी बहुत पसंद है, लेकिन अब मैं पहले की तरह ठेले पर जाकर पानीपुरी नहीं खा सकती, ये चीज़ मैं बहुत मिस करती हूं. हालांकि कई बार मैं खुद को रोक नहीं पाती और चुपचाप ठेले पर जाकर पानीपुरी खा लेती हूं, जब तक लोग मुझे पहचानते हैं, तब तक मैं 5-6 पानीपुरी खा चुकी होती हूं.

एक साउंड रिकॉर्डिस्ट ने आपका मज़ाज क्यों उड़ाया था?
जब मैं ‘कसौटी ज़िंदगी की’ सीरियल कर रही थी, तब मैं बिल्कुल रॉ थी, मेरे लिए इस इंडस्ट्री की हर चीज़ नई थी. शुरू में मुझे कैमरे की भाषा समझ नहीं आती थी, मुझे समझ नहीं आता था कि मुझे कहां लुक देना है. डायलॉग याद होते हुए भी कई बार मैं कैमरे के सामने फंबल करने लगती थी. उस वक़्त एक साउंड रिकॉर्डिस्ट ने मेरा मज़ाक उड़ाया था. उन्होंने कहा, “इनका कुछ नहीं होने वाला.” उनकी वो बात मुझे इतनी चुभ गई कि मैंने उसे एक चैलेंज तरह लिया और अपने काम पर बहुत मेहनत की. पांच-छह महीने बाद जब मैं ‘कस्तूरी’ शो कर रही थी, तब वो साउंड रिकॉर्डिस्ट मेरे पास आए और बोले, “मैं अपने उस दिन के शब्द वापस लेता हूं, तुम वाकई एक स्टार हो.” उस दिन उन्होंने मुझे बहुत सारी ब्लेसिंग्स दी. कई बार किसी का मज़ाक उड़ाना भी आपके लिए तरक्की के रास्ते खोल देता है, मेरे साथ भी ऐसा ही हुआ.

यह भी पढ़ें: 5 टीवी एक्ट्रेस साड़ी में लगती हैं बेहद खूबसूरत (5 TV Actress Looks Stunning In Saree)

Angoori Bhabhi Shubhangi Atre

आप शूटिंग में इतनी बिज़ी रहती हैं, फिर बेटी के लिए समय कैसे निकाल पाती हैं?
मैंने हमेशा अपनी बेटी को क्वालिटी टाइम दिया है और वो मेरे काम को समझती है. मुझे लगता है कि जब बच्चे घर में ऐसा माहौल देखते हैं, जहां उनके पैरेंट्स अपना काम बहुत मेहनत से करते हैं, तो वो भी उन्हें देखकर वैसा ही करने लगते हैं. बच्चे मां-बाप को देखकर सीखते हैं, आपको इसके लिए अलग से कुछ करने की जरूरत नहीं होती. वर्किंग मदर के बच्चे जल्दी आत्मनिर्भर बनते हैं. हमारे घर में सबके पास अपनी-अपनी चाबी है और सब अपना काम नियम से करते हैं और सभी अपने काम के लिए बहुत मेहनत करते हैं.
– कमला बडोनी

जैसा कि हमने आपको बताया था कि भाबीजी घर पर हैं (Bhabiji Ghar Par Hain) कि गोरी मैम (Gori Mam) उर्फ सौम्या टंडन (Saumya Tandon) ने 14 जनवरी को बेटे (Son) को जन्म (Birth) दिया. एक मशहूर अखबार में बेटे के जन्म की पुष्टी करते हुए सौम्या ने कहा था कि मैं रेग्युलर चेकअप के लिए गई थी. लेकिन कुछ मेडिकल कारण से मुझे इसी दिन डिलीवरी के लिए अस्पताल में भर्ती कर लिया गया. अब बेटे के जन्म के बाद वे अस्पताल से डिसचार्ज होकर घर आ गई हैं..

Saumya Tandon

उन्होंने सोशल मीडिया पर बेटे की पहले पिक्चर शेयर करते हुए लिखा, ”आवर बंडल ऑफ जॉय. ”

Saumya Tandon's Son

उन्होंने ट्वीटर पर एक और पिक शेयर करते हुए लिखा,”हमारी दुनिया में प्रवेश करते हुए और वो सीधे मेरे दिल में उतर गया.”

Saumya Tandon's Son First Pic

मां बनने के बाद दिए इंटरव्यू में सौम्या ने कहा,”कि बेटे को गोंद लेते ही मेरे पति तो ख़ुशी के मारे चांद पर पहुंच गए. लेकिन मुझे इस एहसास को स्वीकार करने में 12 घंटे लगे, क्योंकि मैं दर्द में थी. मुझे उससे कनेक्ट होने में थो़ड़ा समय लगा. जहां मेरे पति उससे घंटों बात करते रहते हैं, यहां तक कि जब वो सोता भी रहता है, वहीं मेरा उसके साथ कनेक्शन धीरे-धीरे जुड़ रहा है. मेरे पति मुझसे ज़्यादा उत्साहित और ख़ुश हैं.”

Saumya Tandon's Son First Pics

जब उनसे पूछा गया कि क्या आपने बेटे को नाम सोचा है तो सौम्या ने कहा कि अभी तक कुछ फिक्स नहीं किया है. चूंकि मेरी डिलीवरी थोड़ी जल्दी हो गई इसलिए नाम तय करने का समय नहीं मिला. मेरे पति बहुत से नाम सुझा रहे हैं. दोस्त और रिश्तेदारों की तरफ़ से सुझाव आ रहे हैं. लेकिन अभी तक तय नहीं हुआ है.
आपको बता दें कि सौम्या ने सोशल मीडिया पर फैन्स से भी नाम के सुझाव मांगें हैं.

Saumya Tandon

काम पर लौटने से जुड़े सवाल का जवाब देते हुए सौम्या ने कहा कि मैं पहले एक मां हूं और बच्चा मेरी पहली प्राथमिकता है, लेकिन मैं एक्टिंग को भी बैक सीट पर नहीं रखना चाहती, क्योंकि एक्टिंग मेरी पहचान है. शुरुआत के कुछ महीने बेबी के साथ बिताने के बाद मैं काम पर लौटने की कोशिश करूंगी, लेकिन ऐसे प्रोजेक्ट पर काम करना पसंद करूंगी जहां थोड़ा कम समय देना पड़े और जहां मैं अपने बच्चे को लेकर जा सकूं.ताकि पर्सनल और प्रोफेशनल लाइफ में बैलेंस बना रहे.

प्रेग्नेंसी वेट से जुड़े सवाल पर जवाब देते हुए सौम्या ने कहा कि,”डिलीवरी के दिन तक मैं योग करती रही. यहां तक कि जिस दिन डिलीवरी हुआ, उस दिन भी मैंने 30 सूर्य नमस्कार और 60 स्कवाट्स किए गए. इसलिए प्रेग्नेंसी के दौरान मैंने सिर्फ़ 12 किलो पुटऑन किया और अब बच्चे के जन्म के बाद सिर्फ 5 किलो ज़्यादा है. जो आराम से कम हो जाएगा.”

ये भी पढ़ेंः इस वजह से फिल्मों में प्रवेश नहीं कर रही हैं अमिताभ की पोती नव्या (Shweta Bachchan Admits She Kept Her Daughter Navya Naveli Nanda Away From Bollywood)