bhumika

अपने ज़माने की टॉप एक्ट्रेसेज़ में से एक स्मिता पाटिल ने फिल्मी दुनिया में मशहूर होने के लिए हिरोइन के गोरे होने की सोच को बदला था. सांवले-सलोने रंग-रूप और तीखे नैन-नक्श वाली यह बेहतरीन अदाकारा लाखों-करोड़ों दिलों पर राज करती थी. वो न स़िर्फ अपनी अदायगी के लिए मशहूर थीं, बल्कि अपने विनम्र स्वभाव के लिए भी जानी जाती थीं. महज़ 31 साल की छोटी-सी उम्र में वो इस दुनिया को छोड़कर चली गईं. आइए, इस बेहतरीन अदाकारा के जीवन से जुड़ी कुछ अनजानी बातों से आपको रू-ब-रू कराते हैं.

Smita Patil

 

– बॉलीवुड की बेहतरीन अदाकाराओं में एक स्मिता पाटिल का जन्म 17 अक्टूबर, 1955 को महाराष्ट्र में हुआ था.
– स्मिता पाटिल के पिता पुणे के राजनेता शिवाजीराव गिरधर पाटिल और उनकी मां विद्याताई पाटिल एक सामाजिक कार्यकर्ता थीं.
– उनका नाम स्मिता रखे जाने के पीछे एक बड़ी दिलचस्प कहानी है. दरअसल, जन्म के समय उनके चेहरे पर एक मुस्कराहट थी और यही मुस्कराहट देखकर उनकी मां ने उनका नाम स्मिता रख दिया.

Smita Patil

Smita Patil

Smita Patil
– स्मिता पाटिल एक एक्टिव फेमिनिस्ट थीं और बहुत-सी महिला संस्थाओं से भी जुड़ी थीं. वो ख़ासतौर से मध्यमवर्गीय महिलाओं को अपने अधिकारों के प्रति जागरूक करती थीं.
– हिंदी और मराठी की 80 से ज़्यादा फिल्मों में बेहतरीन अदाकारी और अभिनय के ज़रिए वो लाखों दिलों पर राज करने लगी थीं.
– स्मिता ने अपनी पढ़ाई जन्म स्थली पुणे से ही की. यहां पर ही उन्होंने फिल्म एंड टेलीविज़न इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया से ग्रैजुएशन किया.
– बहुत ही कम लोगों को पता है कि 1970 की शुरुआती दौर में अपने बॉलीवुड डेब्यू से पहले स्मिता पाटिल दूरदर्शन में बतौर न्यूज़ रीडर काम करती थीं. साथ ही वो एक कुशल फोटोग्राफर भी थीं.

Smita Patil Smita Patil
– फिल्म भूमिका के लिए स्मिता पाटिल को नेशनल अवॉर्ड मिला था, जिसकी इनामी राशि उन्होंने नारी सशक्तिकरण के लिए दान कर दी थी.
– स्मिता केवल 10 सालों तक ही फिल्मों में काम कर पाई थीं, लेकिन वो दस साल दर्शकों ने ख़ूबसूरती और अभिनय की एक नई मिसाल देखी.

Smita Patil

Smita Patil

– राज बब्बर ने स्मिता पाटिल से शादी करने के लिए अपनी पत्नी नादिरा बब्बर को छोड़ दिया था, जिसके बाद बहुत-सी महिला संस्थाओं ने उन्हें ‘घर तोड़नेवाली’ तक कह दिया था.
– स्मिता और राज बब्बर ने वारिस, आकर्षण, आवाम, मिर्च-मसाला, इंसानियत के दुश्मन और दहलीज़ जैसी फिल्मोें में एक साथ काम किया था. उनकी जोड़ी दर्शकों में काफ़ी पॉप्युलर थी.

 

Smita Patil

Smita Patil

 

– भूमिका, मंडी, चक्र, मिर्च-मसाला, अर्थ, आख़िर क्यों जैसी यादगार फिल्मों में उनके दमदार अभिनय को आज भी दर्शक सराहते हैं. उनके अभिनय के लाखों-करोड़ों आज भी दीवाने हैं.
– स्मिता पाटिल ने अभिनेता राज बब्बर से शादी की थी, लेकिन बेटे प्रतीक बब्बर को जन्म देने के दो हफ़्ते के भीतर ही डिलीवरी के कॉम्प्लीकेशन्स के कारण उनकी डेथ हो गई थी.
– स्मिता पाटिल की अंतिम इच्छा थी कि मरने के बाद उन्हें सुहागन की तरह सजाया जाए. इस इच्छा के पीछे की कहानी यह है कि एक बार स्मिता ने एक्टर राजकुमार को लेटकर मेकअप कराते हुए देखा था, तभी उन्होंने अपने मेकअप आर्टिस्ट को भी ऐसे ही मेकअप करने को कहा था, पर उन्होंने मना कर दिया था. उन्होंने कहा था कि मुझे ऐसा लगेगा कि मैं किसी मुर्दे का मेकअप कर रहा हूं. लेकिन उनकी अंतिम इच्छा का सम्मान करते हुए उनके मेकअप आर्टिस्ट ने सुहागन की तरह उनका मेकअप किया था.

– अनीता सिंह

यह भी पढ़ें: करीना कपूर ने शर्मिला टैगोर को तैमूर और इनाया में से किसी एक को चुनने को कहा, जानिए शर्मिला टैगोर का जवाब (Kareena Kapoor Asks Sharmila Tagore To Choose Among Taimur-Inaaya-Sara-Ibrahim; Her Response Is Every Grandma Ever)

Smita-Patil

अपने सशक्त अभिनय के लिए जानी जाने वाली स्मिता पाटिल का आज जन्मदिन है. 17 अक्टूबर, 1956 को पुणे के एक मराठी परिवार में स्मिता का जन्म हुआ था. उनके पिता शिवाजीराव पाटिल महाराष्ट्र सरकार में मंत्री थे और मां विद्या ताई पाटिल सामाजिक कार्यकर्ता थीं. अपने केवल 10 साल के फिल्मी करियर में स्मिता पाटिल ने अपने अभिनय से वो छाप छोड़ी है, जिसे दर्शक और इनके फैन्स आज भी याद करते हैं. स्मिता पाटिल के जीवन के बारे में लोग कम जानते हैं, क्योंकि वो मीडिया से दूर ही रहती थीं और अपनी लाइफ को प्राइवेट रखना पसंद करती थीं. उनके जन्मदिन के मौक़े पर आइए, जानते हैं उनके बारे में कुछ अनसुनी बातें.

  • उनका नाम रखे जाने के पीछे एक कहानी है. स्मिता का मतलब होता है हल्की-सी मुस्कान, जब उनका जन्म हुआ, तो उनके चेहरे पर एक प्यारी-सी मुस्कान थी, जिसे देखकर उनकी मां ने उनका नाम स्मिता रख दिया.
  • फिल्मों में आने से पहले स्मिता न्यूज़ रीडर थीं. बॉम्बे दूरदर्शन चैनल पर वो मराठी में न्यूज़ पढ़ा करती थीं.
  • पर्दे पर ज़्यादातर भारतीय कपड़ों में नज़र आने वाली स्मिता को रियल लाइफ में जीन्स पहनना बेहद पसंद था. टीवी पर समाचार पढ़ने के लिए साड़ी पहनना ज़रूरी था, इसलिए स्मिता जीन्स पर ही साड़ी लपेट लिया करती थीं.
  • स्मिता पाटिल के नाम पर आज बॉलीवुड में अवॉर्ड भी दिए जाते हैं ‘स्मिता पाटिल अवॉर्ड’.
  • फिल्म भूमिका और चक्र में दमदार अभिनय के लिए उन्हें दो बार नेशनल अवॉर्ड से पुरस्कृत किया गया. इसके अलावा साल 1985 में उन्हें पद्मश्री अवार्ड से भी सम्मानित किया गया.
  • प्यारी-सी मुस्कान वाली स्मिता महज़ 31 साल की उम्र में सबको अलविदा कह गईं. 13 दिसंबर, 1986 को बेटे प्रतीक बब्बर को जन्म देने के दो सप्ताह बाद उनका निधन हो गया. उनकी मौत पर रहस्य अब भी बना हुआ है.