Tag Archives: birth anniversary

जन्मदिन पर विशेषः जगजीत सिंह के बेहतरीन ५ नग़में, क्या आपके कलेक्शन में हैं ये गाने? (5 Classic Ghazals By Jagjit Singh On His Birthday)

Jagjit singh

jagjit-singh552

8 फरवरी 1941 को राजस्थान के श्रीगंगानगर में जन्में जगजीत सिंह नें क़रीब 4 दशकों तक लोगों को अपनी मखमली आवाज़ से मंत्रमुग्ध किया. बेहद साधारण परिवार में जन्में जगजीत सिंह को ग़ज़ल की दुनिया में ख़ुद को स्थापित करने के लिए काफ़ी संघर्ष करना पड़ा, लेकिन अपनी जादुई मखमली आवाज़ की बदौलत उन्होंने ग़ज़ल गायिकी में वो मुक़ाम हासिल कर लिया कि उन्हें ग़ज़ल सम्राट की उपाधी दे दी गई. अपने करियर के शुरुआती दौर में जगजीत सिंह को विज्ञापन फिल्मों के लिए जिंगल गाने का अवसर मिला था. इसी दौरान उनकी मुलाकात चित्रा दत्ता से हुई. 1969 में जगजीत सिंह ने चित्रा से शादी कर ली. इसके बाद जगजीत-चित्रा की जोड़ी ने कई एलबमों में अपनी खनकती आवाज़ का जादू दिखाया.

साल 2003 में जगजीत सिंह को भारत सरकार की ओर से पद्मभूषण से सम्मानित किया गया. 10 अक्टूबर 2011 को इस दुनिया को अलविदा कहने वाले इस महान फनकार के सुपरहिट गानों की लिस्ट बहुत लंबी है. आज उनकी बर्थ एनिवर्सरी पर आप भी सुनिए उनके कुछ दिल को छू लेने वाले नग़में.

 


मेरी सहेली (Meri Saheli) की ओर से जगजीत साहब को उनकी बर्थ एनिवर्सरी पर नमन!

बर्थ एनिवर्सरी- बचपन से ही आसमान की सैर करना चाहती थीं कल्पना चावला (Birth Anniversary: Remembering Kalpana Chawla)

Birth Anniversary, Remembering Kalpana Chawla

Birth Anniversary, Remembering Kalpana Chawla

अंतरिक्ष में जानेवाली भारतीय मूल की पहली महिला बनने का गौरव हासिल करनेवाली कल्पना चावला का जीवन भले ही बहुत छोटा था, मगर इस छोटी सी ज़िंदगी में उन्होंने वो कर दिखाया जो लाखों लड़कियों के लिए प्रेरणास्रोत बन गया. कल्पना चावला की बर्थ एनिवर्सरी के मौ़के पर आइए, आपको बताते हैं उनसे जुड़ी कुछ ख़ास बातें.

* कल्पना चावला का जन्म 17 मार्च 1962 में करनाल में हुआ था.

* करनाल के टैगोर स्कूल से शुरुआती पढ़ाई के बाद कल्पना ने 1982 में चंडीगढ़ इंजीनियरिंग कॉलेज से एरोनॉटिकल इंजीनियरिंग की डिग्री और 1984 से टेक्सास यूनिवर्सिटी से एयरोस्पेस इंजीनियरिंग की डिग्री ली.

* कल्पना जेआरडी टाटा (जो पायलट होने के साथ ही नामी बिज़नेसमेन भी थे) से बहुत प्रभावित और प्रेरित थीं.

* 1988 में उन्होंने नासा के लिए काम करना शुरू किया और यही उनकी ज़िंदगी का टर्निंग पॉइंट था.

* अंतरिक्ष की सैर का उनका सपना पूरा हुआ 1997 में, जब कल्पना चावला ने स्पेस शटल कोलम्बिया से पहली अंतरिक्ष यात्रा की.

* अंतरिक्ष की पहली यात्रा के दौरान उन्होंने अंतरिक्ष मे 372 घंटे बिताए और पृथ्वी की 252 परिक्रमाएं पूरी की.

* कल्पना ने स्पेस के लिए दूसरी उड़ान 2003 में कोलंबिया शटल से भरी और ये उनकी ज़िंदगी की आख़िरी उड़ान साबित हुई. 01 फरवरी 2003 को  कोलम्बिया स्पेस शटल लैंडिंग से पहले ही दुर्घटनाग्रस्त हो गया और कल्पना के साथ बाकी सभी 6 अंतरिक्ष यात्रियों की मृत्यु हो गई.

यह भी पढ़ें: Landmark Judgement: ‘इच्छा मृत्यु’ को सुप्रीम कोर्ट ने दी हरी झंडी

स्वामी विवेकानंद जयंती: एक युवा, जिसने साधु बनकर दुनिया को असली भारत की पहचान कराई (Swami Vivekanand Jayanti: Power Of Youth)

Swami Vivekanand Jayanti, Power Of Youth

Swami Vivekanand Jayanti, Power Of Youth

भारत में हर साल 12 जनवरी को स्वामी विवेकानंद (Swami Vivekanand) जयंती के अवसर पर राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है.

12 जनवरी 1863 में जन्मे स्वामी जी का नाम नरेंद्र नाथ दत्त था. उनके पिताजी प्रख्यात वकील थे. कॉन्वेंट में पढ़े स्वामी जी बचपन से ही काफ़ी जिज्ञासु थे और उनकी इसी जिज्ञासा ने उन्हें ईश्‍वर को समझने व सनातन धर्म को जानने की दिशा में आगे बढ़ाया.

शिकागो में दिया उनका भाषण आज भी सबके बीच प्रसिद्ध है, जहां उन्होंने भारत व सनातन धर्म का इतनी संवेदनशीलता व गहराई से प्रतिनिधित्व किया था कि हम सब आज भी गौरवांवित महसूस करते हैं.

स्वामीजी ने ही दुनिया को बताया था कि असली भारत, यहां की संस्कृति और सभ्यता दरअसल क्या है.

रामकृष्ण परमहंस के इस प्रिय शिष्य ने हमें धर्म को देखने का एक नया व वैज्ञानिक नज़रिया दे दिया. यही वजह है कि उनका नाम आते ही हम एक अलग ही अनुभूति से गुज़रते हैं.

उनके जन्मदिवस को युवा दिवस के तौर पर मनाया जाता है.

यह भी पढ़ें: राहुल द्रविड़ को मिला बेटे समित से परफेक्ट बर्थडे गिफ्ट…

स्वामी विवेकानंद के विचार

  • उठो, जागो और तब तक नहीं रुको जब तक लक्ष्य ना प्राप्त हो जाये.
  • ब्रह्माण्ड की सारी शक्तियां पहले से हमारी हैं. वो हम ही हैं जो अपनी आंखों पर हाथ रख लेते हैं और फिर रोते हैं कि कितना अन्धकार है!
  • अगर धन दूसरों की भलाई करने में मदद करे, तो इसका कुछ मूल्य है, अन्यथा ये सिर्फ बुराई का एक ढेर है और इससे जितना जल्दी छुटकारा मिल जाये उतना बेहतर है.
  • उठो मेरे शेरो, इस भ्रम को मिटा दो कि तुम निर्बल हो, तुम एक अमर आत्मा हो, स्वच्छंद जीव हो, धन्य हो, सनातन हो, तुम तत्व नहीं हो, ना ही शरीर हो, तत्व तुम्हारा सेवक है तुम तत्व के सेवक नहीं हो.
  • खुद को कमज़ोर समझना सबसे बड़ा पाप है.
  • कभी मत सोचिये कि आत्मा के लिए कुछ असंभव है. ऐसा सोचना सबसे बड़ा विधर्म है. अगर कोई पाप है, तो वो ये कहना कि तुम निर्बल हो या अन्य निर्बल हैं.
  • उस व्यक्ति ने अमरत्व प्राप्त कर लिया है, जो किसी सांसारिक वस्तु से व्याकुल नहीं होता.
  • एक शब्द में, यह आदर्श है कि तुम परमात्मा हो.

[amazon_link asins=’9384401102,9350486059,9350486083,8128831801,8188672041,8175054034,B073GYW7W2′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’ddb69d68-f756-11e7-86d9-85d1d5d5d384′]

मिर्ज़ा ग़ालिब… एक ख़्याल! गूगल ने भी बनाया डूडल (Remembering Mirza Ghalib)

Remembering Mirza Ghalib
…चंद तस्वीर-ऐ-बुतां, चंद हसीनों के खतूत बाद मरने के मेरे घर से यह सामान निकला

  • मिर्ज़ा ग़ालिब एक ऐसा नाम है, जिनके लिए शायर या महान जैसे शब्द भी छोटे लगते हैं…
  • उनके 220 वें जन्मदिन पर हमारी तरफ से नमन
  • गूगल ने भी उनकी याद में ख़ास डूडल बनाया है.
  • उनका जन्म 27 दिसम्बर 1796 को आगरा में हुआ था और 15 फरवरी 1869 को वो दुनिया को अलविदा कह गए.
  • ग़ालिब मुग़ल काल के आख़िरी शासक बहादुर शाह ज़फ़र के दरबारी कवि भी रहे थे.
  • ग़ालिब को मुख्यतः उनकी उर्दू ग़ज़लों को लिए याद किया जाता है.
  • आप भी पढ़ें उनकी शायरी

यह भी पढ़ें: कोमल मन और अटल इरादे… जानें अटलजी की ये दिलचस्प बातें… 

हम रहें यूँ तश्ना-ऐ-लब पैगाम के
खत लिखेंगे गरचे मतलब कुछ न हो
हम तो आशिक़ हैं तुम्हारे नाम के
इश्क़ ने ग़ालिब निकम्मा कर दिया
वरना हम भी आदमी थे काम के

मैं नादान था जो वफ़ा को तलाश करता रहा ग़ालिब
यह न सोचा के एक दिन अपनी साँस भी बेवफा हो जाएगी

बे-वजह नहीं रोता इश्क़ में कोई ग़ालिब
जिसे खुद से बढ़ कर चाहो वो रूलाता ज़रूर है

तेरी दुआओं में असर हो तो मस्जिद को हिला के दिखा
नहीं तो दो घूँट पी और मस्जिद को हिलता देख

लफ़्ज़ों की तरतीब मुझे बांधनी नहीं आती “ग़ालिब”
हम तुम को याद करते हैं सीधी सी बात है

[amazon_link asins=’8129114119,B071H26TZY,8170286921,9350726254′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’11e73d9d-eaca-11e7-a74a-933c4948e6b0′]

बर्थ एनीवर्सरी: बाल गंगाधर तिलक… एक नेता से लोकनायक तक का सफ़र! (Remembering Bal Gangadhar Tilak: Unknown Facts About Him)

bal-gangadhar-tilak

  • Birth Anniversary: बाल गंगाधर तिलक… एक नेता से लोकनायक तक का सफ़र! (Remembering Bal Gangadhar Tilak: Unknown Facts About Him)
  • भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में पहले लोकप्रिय नेता बाल गंगाधर तिलक को मेरी सहेली की ओर से नमन!
  • 23 जुलाई 1856 में जन्मे केशव गंगाधर तिलक न स़िर्फ स्वतंत्रता सेनानी थे, वे एक बेहतरीन वकील, विचारक, शिक्षक, विद्वान व समाज सुधारक भी थे.
  • उनका जन्म महाराष्ट्र के रत्नागिरी के एक गांव में हुआ था. आधुनिक शिक्षा पाने के बाद इन्होंने लोगों को जगाने का काम किया.
  • शुरुआती दौर में ये शिक्षक के रूप में कार्य करते रहे, लेकिन समाज व देशक के प्रति इनके लगाव ने इन्हें जल्द ही जनता का सबसे बड़ा नायक बना दिया.
  • ये अंग्रेज़ी शिक्षा के विरोधी थे, क्योंकि इनका मानना था कि यह भारतीय संस्कृति के प्रति हमें अनादर सिखाती है और हम में अपने ही देश व लोगों के प्रति मन में घृणा व हीन भावना भरती है.
  • उनकी लोकप्रियता का आलम यह था कि उन्हें लोकमान्य की उपाधि मिल गई, जिसका अर्थ है लोगों द्वारा नायक के रूप में स्वीकृत यानी लोकनायक के रूप में सभी ने उन्हें स्वीकारा.
  • उनके काम व व्यक्तित्व के क़द के आगे ब्रिटिश शासन भी उनसे घबराता था. उनका प्रसिद्ध नारा, जो मूल रूप से मराठी में दिया गया था, “स्वराज्य हा माझा जन्मसिद्ध हक्क आहे आणि तो मी मिळवणारच” यानी स्वराज मेरा जन्मसिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर रहूंगा, काफ़ी लोगों के दिलों को छू गया था और उनके मन में आज़ादी की लौ जगा गया था.
  • आज़ादी की लड़ाई में ये नरम दल के विरोधी थे, इसलिए लाला लाजपत राय और बिपिन चंद्र पाल के साथ ये गरम दल का हिस्सा थे. इन तीनों को ही लाल-बाल-पाल के नाम से जाना जाता था.
  • अंग्रेज़ इन्हें ‘भारतीय अशांति के पिता’ कहा करते थे और इन्हें हिंदू राष्ट्रवाद का पिता भी कहा जाता है.
  • जनजागृति के लिए इन्होंने कई अख़बार व पत्र-पत्रिकाएं भी प्रकाशित कीं और कई शिक्षण संस्थान भी खोले.
  • तिलक ने अनेक पुस्तकें लिखीं, लेकिन श्रीमद्भगवद्गीता की व्याख्या को लेकर मांडले जेल में लिखी गई गीता-रहस्य सर्वोत्कृष्ट है, जिसका कई भाषाओं में अनुवाद भी हुआ है.
  • जनता को एकता के सूत्र में बांधनेवाले तिलक ने ही गणेशोत्सव और शिवाजी समारोह जैसे सामाजिक कार्यक्रमों की शुरुआत की थी. तिलक ने अंग्रेज़ों की नींद हराम कर रखी थी और अपनी आख़िरी सांस तक वो देश की आज़ादी के लिए लड़ते रहे.
  • 1 अगस्त 1920 को उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया.
  • ऐसे प्रखर नेता को उनकी बर्थ एनीवर्सरी पर हम याद व नमन करते हैं.

Birth Anniversary: संजीदा संजीव के चुलबुले अंदाज़! (Remembering Sanjeev Kumar: A Versatile Hero And An Effortless Actor)

संजीदा संजीव के चुलबुले अंदाज़

Capture (2)

Birth Anniversary: संजीदा संजीव के चुलबुले अंदाज़! (Remembering Sanjeev Kumar: A Versatile Hero And An Effortless Actor)
  • आंखों में संजीदगी, पर होंठों पर कभी मासूम, तो कभी शरारती मुस्कान… कुछ ऐसा ही अंदाज़ था संजीव कुमार का. बात अदाकारी की करें, तो लगता है जैसे ये लफ़्ज़ ही उनके लिए बना हो.
  • हर क़िरदार में ख़ुद को इस तरह ढाल लेना कि देखनेवाला मंत्रमुग्ध हो जाए. संजीव यानी हरिभाई जरीवाला का जन्म 9 जुलाई 1938 को गुजरात के मध्यम वर्गीय परिवार में हुआ था.
  • संजीव की बचपन से ही अभिनय में रुचि थी, यही शौक उन्हें पहले थिएटर की तरफ़ और फिर मायानगरी मुंबई तक ले आया.
  • शुरुआत में उन्हें हम हिंदुस्तानी फिल्म में एक छोटा-सा रोल करने का अवसर मिला और संजीव जैसे उम्दा कलाकार ने इस अवसर को ही अपनी पहचान बना ली, क्योंकि इसके बाद उन्होंने जो भी फिल्में बतौर सहयोगी कलाकार या लीड रोल भी कीं, तो उनसे उनका क़द बढ़ता ही चला गया.
  • संघर्ष जैसी फिल्म ने उन्हें एक पायदान और ऊपर पहुंचा दिया, क्योंकि यहां उनके सामने थे दिलीप कुमार, लेकिन संजीव (Sanjeev Kumar) के सहज अभिनय को देखकर वो भी उनके फैन हुए बिना नहीं रह सके.
  • आंधी, मौसम और खिलौना जैसी फिल्मों ने उन्हें एक संजीदा कलाकार के रूप में दर्शकों के दिलों में ख़ास जगह दिलाई, तो वहीं सीता और गीता, मनचली और अंगूर जैसी फिल्मों में उनकी कॉमिक टाइमिंग और चुलबुले अंदाज़ ने सबको अपना दीवाना बना दिया.
  • शोले के ठाकुर का बदला हो या फिर जानी दुश्मन का वो बेबस पिता, जिसमें एक बुरी आत्मा का कब्ज़ा होता है, त्रिशूल की निगेटिव भूमिका हो या पति पत्नी और वो का बेवफ़ा पति- सबमें ख़ूब जंचे संजीव!
  • खिलौना में एक पागल शायर का रोल, कोशिश में गूंगे-बहरे पति की भूमिका, अनामिका में एक धोखा खाए प्रेमी व लेखक या फिर सिलसिला में एक सीधे-सादे डॉक्टर, जो अपनी पत्नी की बेवफ़ाई को भी आसानी से माफ़ कर देता है- इस तरह के तमाम रोल्स से न्याय संजीव कुमार के अलावा शायद ही कोई कर पाता.
  • लेकिन उनकी सबसे यादगार फिल्म रही नया दिन, नई रात, जिसने उन्हें देश के सबसे बेहतरीन अभिनेताओं की फेहरिस्त में खड़ा कर दिया.
  • रोमांस का बादशाह कहें या कॉमेडी किंग, ट्रेजेडी का मास्टर कहें या इमोशन्स का पैकेज- संजीव कुमार वाकई एक कंप्लीट एक्टर थे.
  • 6 नवंबर 1985 को संजीव ने दुनिया को अलविदा कह दिया था. उनकी बर्थ एनीवर्सरी पर हम उन्हें नम आंखों से याद करते हैं.
देखिए उनके अलग अंदाज़ इन गानों के माध्यम से-

फिल्म: आंधी, गाना- तेरे बिना ज़िंदगी से कोई शिकवा तो नहीं…

फिल्म: मौसम, गाना- छड़ी से छड़ी कैसी गले में पड़ी

फिल्म: मनचली, गाना- मनचली कहां चली…

फिल्म: सीता और गीता, गाना- हवा के साथ-साथ, घटा के संग-संग

फिल्म: मौसम, दिल ढूंढ़ता है फिर वही फुर्सत के रात-दिन…

बर्थ एनीवर्सरी: गुरु दत्त… एक सोच, एक ख़्याल… एक मिसाल, एक सवाल- जानें अनकही बातें! (Birth Anniversary: Facts You Should Not Miss About Guru Dutt)

बर्थ एनीवर्सरी: गुरु दत्त

gurudutt

हैप्पी बर्थ एनीवर्सरी- गुरु दत्त: एक सोच, एक ख़्याल… एक मिसाल, एक सवाल- जानें अनकही बातें! Birth Anniversary: Facts You Should Not Miss About Guru Dutt
  • गुरु दत्त (Guru Dutt) अपने आप में एक मिसाल का नाम है. जी हां, वो न स़िर्फ एक मंजे हुए अभिनेता (Actor) थे, बल्कि एक बेहतरीन निर्देशक (Director) भी थे.
  • कला को पहचानने की उनमें ग़ज़ब की क्षमता थी.
  • अपने ख़्यालों को, अपनी सोच को किस तरह से रूपहले पर्दे पर जीवंत होते देखा जा सकता है, इसे परखने की उनकी कला के सभी कायल थे.
  • यही वजह है कि आज भी इस अभिनेता का नाम आते ही मन में सम्मान और आंखों में कुछ सवाल भी उभर आते हैं.
  • सम्मान उनके कौशल के लिए और सवाल उनकी निजी ज़िंदगी के लिए… जी हां, आज भी गुरु दत्त सबके लिए एक पहेली या एक सवाल बने हुए हैं.

Dreamer

  • उनकी निजी ज़िंदगी के बारे में बहुत कुछ कहा, लिखा गया, लेकिन आज भी वो सवाल बरक़रार हैं कि आख़िर क्यों इतना टैलेंटेड एक्टर, इतना युवा निर्माता-निर्देशक दुनिया को इस तरह से छोड़ गया था.
  • उनकी बर्थ एनीवर्सरी पर आज हम उन्हें एक मिसाल के रूप में याद करेंगे.
  • बोलती आंखों और गहरी सोचवाले गुरु दत्त का जन्म 9 जुलाई 1925 को बैंगलोर (आज बैंगलुरू) में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था. बहुत कम लोग जानते हैं कि उनका असली नाम वसंत कुमार शिवशंकर पादुकोण था.
  • उनका बचपन कलकत्ता (अभी कोलकाता) में गुज़रा था, यही वजह है कि उनकी निजी जीवन पर भी वहां की संस्कृति का काफ़ी प्रभाव पड़ा था, यही वजह है कि उनकी फिल्मों में भी वहां की छाप नज़र आती है.

Guru-Dutt

  • गुरु दत्त ने कलकत्ता में टेलीफोन ऑपरेट की नौकरी से शुरुआत की थी, लेकिन उनका कलाप्रेमी मन मशीनों में उलझकर नहीं रहना चाहता था, यही वजह है कि उन्होंने जल्द ही मुंबई का रुख़ कर लिया और जल्द ही बॉलीवुड में एक मुकाम हासिल किया.
  • उनकी फ़िल्में- प्यासा, साहिब बीबी और गुलाम, काग़ज़ के फूल, चौदहवीं का चांद आज भी एक बेंचमार्क हैं.
  • यही वजह है कि प्यासा और काग़ज़ के फूल को टाइम पत्रिका (Time Magazine) की 100 सर्वश्रेष्ठ फिल्मों की सूचि में शामिल किया गया और साइट एंड साउंड आलोचकों और निर्देशकों के सर्वेक्षण में गुरु दत्त को सबसे बड़े निर्देशकों में जगह मिली.
  • वर्ष 2010 में सीएनएन (CNN) के ऑल टाइम 25 सर्वश्रेष्ठ एशियाई अभिनेताओं में गुरु दत्त भी शामिल हुए.
  • उनके हुनर के चलते ही उन्हें भारत का ऑर्सन वेल्स (Orson Welles) भी हा जाता था.
  • बहुत कम लोग ही जानते हैं कि गुरु दत्त कोरियोग्राफी का भी हुनर जानते थे और ख़ुद बहुत अच्छे कोरियोग्राफर भी थे.

21waheeda-rehman3

  • बात उनकी निजी ज़िंदगी की करें, तो गीता दत्त से उनकी शादी हुई, लेकिन कहा जाता है कि शादी, प्यार और भावनाओं की कश्मकश ही उनकी आत्महत्या का कारण बनी.
  • वहीदा रहमान (Waheeda Rehman) जैसी अदाकारा को उन्होंने ने ही बॉलीवुड में एंट्री दिलाई और वो उनकी कला से इतने प्रभावित थे कि वहीदा के लाख मना करने के बाद भी उन्होंने उन्हें फिल्मों में काम करने के लिए तैयार कर लिया.
  • वहीदा के अलावा जॉनी वॉकर भी गुरु दत्त की ही खोज माने जाते हैं. अपने करियर की शुरुआत में देवानंद (Dev Anand) और रहमान से उनकी जो दोस्ती हुई, वो दोस्ती और भी गहरी हुई और ताउम्र वो दोनों उनके अच्छे दोस्तों में गिने जाते रहे.
  • देवानंद से दोस्ती के चलते ही उन्हें नवकेतन (Navketan) की फिल्म बाज़ी (Bazi) के निर्देशन का मौका मिला, जहां सभी ने उनकी हुनर को पहचाना.
  • देवानंद ने ही एक बार उनके बारे में कहा था कि गुरु दत्त असफलता को पचा नहीं पाते.
  • इसी तरह उनकी पड़ोसी रह चुकी नादिरा ने भी कहा था कि वो हमेशा एक डिप्रेशन में रहते थे, क्योंकि वो यह महसूस करते थे कि अपने रिश्तों और फिल्मों को वो इतना नहीं दे पा रहे, जितना वो देना चाहते हैं.

Lack-of-Mass-Appeal

  • 10 अक्टूबर 1964 को गुरु दत्त ने ज़िंदगी को छोड़ मौत का दामन थाम लिया और हमने एक होनहार कलाकार बहुत जल्द खो दिया. उनकी बर्थ एनीवर्सरी पर उन्हें दिल से नमन करते हैं.
देखते हैं गुरु दत्त की उत्कृष्ट फिल्मों के दिल को छू लेने वाले गीत…

फिल्म: प्यासा, गाना: जाने वो कैसे लोग थे जिनके प्यार को प्यार मिला…

फिल्म: चौदहवीं का चांद, गाना: चौदहवीं का चांद हो या आफताब हो…

फिल्म: प्यासा, गाना: ये महलों ये तख्तों ये ताजों की दुनिया… ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है…

फिल्म: प्यासा, गाना: हम आपकी आंखों में इस दिल को सजा दें तो…

फिल्म: साहिब बीबी और गुलाम, गाना: भंवरा बड़ा नादान हाय…

बर्थ एनीवर्सरी: आर.डी.बर्मन से ‘पंचम दा’ बनने का सफ़र रहा यादगार, देखें पंचम दा के 10 बेहतरीन गानें (Happy Birthday Pancham Da)

RD Burman Songs, birthday, panchamda

rd-burman_759_express-archive-photo (1)संगीत के जादूगर पंचम दा को आज भी म्यूज़िक इंडस्ट्री का गुरु माना जाता है. म्यूज़िक के साथ जो एक्सपेरिमेंट्स उन्होंने किए हैं, वो शायद ही किसे ने किए होंगे. संगीतकार एस. डी बर्मन के बेटे आर.डी.बर्मन यानी पंचम दा संगीत की दुनिया में तब क्रांति ले आए, जब उन्होंने गानों में अलग तरह की आवाज़ें, म्यूज़िकल इंस्ट्रूमेंट्स से अलग-अलग तरह की धुनें बनाने लगे. पंचम दा ने ऐसा संगीत बनाया, जिसकी कल्पना किसेे ने नहीं की थी. महज़ नौ साल की उम्र में अपना पहला गाना कंपोज़ करने वाले पंचम दा ने कैबरे को भी अपने गाने के ज़रिए एक नई पहचान दी. उन्होंने अपने 33 साल के करियर में हर तरह का संगीत बनाया और आज की जेनेरेशन के लिए एक मिसाल कायम कर गए. बॉलीवुड में पंचम दा के नाम से मशहूर आर.डी.बर्मन को यह नाम दिया अशोक कुमार ने, जब उन्होंने बर्मन साहब को संगीत के पांचों सुर सा रे गा मा पा… गाते हुए सुना. उनकी आख़िरी फिल्म रही 1942 ए लव स्टोरी, जिसके गानों ने सबके दिलों को एक बार फिर छू लिया था. 4 जनवरी 1994 को उन्होंने इस दुनिया को अलविदा कह दिया, लेकिन उनके गाने हमेशा उनकी याद दिलाते रहेंगे.

आज पंचम दा की बर्थ एनीवर्सरी है. आइए, उन्हें याद करते हुए उनके कुछ बेहतरीन गाने देखते हैं.

फिल्म- इजाज़त

फिल्म- अलग-अलग

फिल्म- हरे रामा हरे कृष्णा

फिल्म- कटी पतंग

फिल्म- अमर प्रेम

फिल्म- आंधी

फिल्म- हम किसी से कम नहीं

फिल्म- कारवां

फिल्म- शोले

फिल्म- आप की कसम

 

बर्थ एनीवर्सरी: सत्यजीत रे ने दी थी दिल छू लेने वाले पल को फिल्म में लेने की सलाह- अपर्णा सेन (Remembering Satyajit Ray On His 96th Birth Anniversary)

सत्यजीत रे

Satyajit-Ray-header (1)

अभिनेत्री अपर्णा सेन 36 चौरंगी लेन के साथ निर्देशन में कदम रखने वाली थीं और तब उन्हें निर्देशन की सबसे मूल्यवान सलाह मिली थी. भारतीय फिल्म के मील के पत्थर माने जाने वाले सत्यजीत रे ने अपर्णा से कहा था, “इस फिल्म में दर्शकों के दिल को छू लेने वाला कोई पल निर्मित कर पाई हो या नहीं.”

यह वाक्य अपर्णा को नई राह दिखाने वाला साबित हुआ. महान फिल्मकार रे के ये वाक्य अपर्णा के लिए किसी ख़ज़ाने से कम नहीं थे इतना ही नहीं रे ने अपर्णा को लीक से हटकर भारत में अंग्रेजी में फिल्में बनाने के लिए प्रोत्साहित किया.

राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता अपर्णा सेन ने सत्यजीत रे की पुरानी यादें ताज़ा करते हुए कहा, “मुझे नहीं लगता कि उनके बिना मेरी पहली फिल्म बन पाती. उन्होंने जब मेरी पहली फिल्म 36 चौरंगी लेन की कहानी पढ़ी तो बोले बहुत अच्छा, इसमें दिल को छू लेने वाली बात है. इसे ज़रूर बनाओ.” जब मैंने उनसे पूछा कि कैसे बनाऊं तो उन्होंने कहा था “सबसे पहले, फिल्म बनाने के लिए एक निर्माता खोजो.” अपर्णा ने बताया कि रे ने ही उन्हें निर्माता के लिए उस समय के जाने-माने अभिनेता शशि कपूर से मिलने के लिए कहा था.

अपर्णा ने बताया, “जब मैंने अपनी फिल्म की कहानी के अंग्रेजी में होने को लेकर संशय जाहिर किया तो उन्होंने (रे) मुझे आश्वस्त किया था कि अब भारत में अंग्रेजी में फिल्में बनाने का समय आ गया है. जब मैंने फिल्म पूरी कर ली तब उन्होंने पूछा था कि फिल्म कैसी बनी है? मैंने संदेह के साथ कहा कि इसमें कई गलतियां हैं. लेकिन उन्होंने मुझे बीच में रोककर अपनी दमदार आवाज में कहा निश्चित तौर पर इसमें गलतियां होंगी. अपनी पहली ही फिल्म से तुम क्या उम्मीद करती हो?”

अपर्णा ने बताया कि तब रे ने उनसे पूछा था कि तुम इसमें दर्शकों के दिल को छू लेने वाला कोई पल गढ़ पाई हो या नहीं? अपर्णा ने बताया कि उस दिन मुझे एक सीख मिली. कोई फिल्म तकनीकी रूप से नायाब शॉट की श्रृंखला भर नहीं होती, बल्कि फिल्म उन ख़ास पलों के इर्द-गिर्द सिमटी होती है, जो दर्शकों को छू ले और फिल्म ख़त्म होने के बाद भी याद रह जाए. अपर्णा के लिए रे एक मार्गदर्शक और बाद के दिनों में करीबी मित्र रहे. अपर्णा के पिता चिदानंद दासगुप्ता जाने माने फिल्म समीक्षक थे और रे के दोस्त थे.

अपर्णा ने सत्यजीत रे की फिल्म तीन कन्या के एक हिस्से समाप्ति से 14 वर्ष की आयु में अभिनय की शुरुआत की थी. इस फिल्म से जुड़ी यादें ताज़ा करते हुए अपर्णा बताती हैं, “मुझे याद है रे फिल्म में मेरे किरदार मृन्मोयी के आखिरी दृश्य की शूटिंग कर रहे थे, जिसमें मृन्मोई इस संतोष और विश्वास में दिखती है कि उसका पति उससे प्रेम करता है. रे ने मुझसे अंग्रेजी में कहा अपने अंगूठे का सिरा मुंह में रखो और प्रेम भरी बेहतरीन चीज़ों के बारे में सोचो. यह महान फिल्मकार के एक 14 वर्षीय बच्ची से अभिनय करा लेने का बेहतरीन नमूना था, क्योंकि इतनी छोटी अवस्था में मैं रोमांस और प्रेम के विचार से ही असहज और संकोच से भर जाती या मुझे इस तरह के प्रेम की कल्पना ही नहीं होती.”

एक संवेदनशील निर्देशक के रूप में रे के विकसित होने की व्याख्या करते हुए अपर्णा उन आलोचनाओं को सिरे से खारिज कर देती हैं, जिसमें कहा जाता है कि रे ने विदेशों में भारत की गरीबी को बेचने का काम किया. अपर्णा कहती हैं, “रे एक शहरी शिक्षित मध्यम वर्गीय परिवार से थे, इसके बावजूद उन्होंने अपनी पहली फिल्म पाथेर पांचाली के लिए ग्रामीण इलाके के गरीब परिवार की कहानी को चुना. फिल्म ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर 11 पुरस्कार जीते.
अपर्णा ने कहा, “रे पर भारत की गरीबी को विदेशों में बेचने का आरोप लगा. इसके उलट उन्होंने देश में गरीब तबके को एक पहचान दिलाई और उन्हें पूरे सम्मान के साथ अपनी फिल्मों में जगह दी. अपने दर्शकों के सामने गरीबों को बराबरी के साथ पेश किया और उन्हें अपने ही देश के इन दुर्भाग्यशाली लोगों से परिचित कराया और उनके दुखों और ख़ुशियों के प्रति एहसास जगाया.”

गुरु नानक जयंती: गुरु नानक देव के 5 उपदेश, जो बदल देंगे जीवन (Birth Anniversary Of Guru Nanak )

Dhan-Guru-Nanak1

सिखों के प्रथम गुरु नानक देव का जन्म 15 अप्रैल 1469 को पंजाब (अब पाकिस्तान) में हुआ था. इनके अनुयायी इन्हें प्यार से गुरु नानक, नानक देवजी, नानकशाह और बाबा नानक के नाम से भी पुकारते हैं. नानक जब 8 साल के थे तभी स्कूल छोड़ दिया था, क्योंकि इनका पढ़ने में मन नहीं लगता था. संसार से विमुक्ति और ईश्‍वर में रुचि ने इन्हें अध्यात्म की ओर मोड़ दिया. आगे चलकर नानक ने सिख धर्म की स्थापना की और नानक से गुरु नानक देव बन गए.

गुरु नानक देव के 5 उपदेश

गुरु नानक देव ने ही इक ओंकार का नारा दिया. जिसका अर्थ है, ईश्‍वर एक है. वह सभी जगह मौजूद है. हम सबका पिता वही है, इसलिए सबके साथ प्रेमपूर्वक रहना चाहिए.

किसी भी तरह के लोभ को त्यागकर अपने हाथों से मेहनत कर और न्यायोचित तरीक़ों से धन का अर्जन करना चाहिए.

कभी भी किसी का हक नहीं छीनना चाहिए, बल्कि मेहनत और ईमानदारी की कमाई में से ज़रूरतमंदों की भी मदद करनी चाहिए.

स्त्री-जाति का आदर करना चाहिए.

संसार को जीतने से पहले स्वयं अपने विकारों और बुराइयों पर विजय पाना अति आवश्यक है.

बर्थ एनीवर्सरी: जेमिनी के रंगों को गूगल ने भी सजाया! ( Jamini Roy: Google Placed An Image As Doodle To Honour His Work On His Birth Anniversary)

Jamini Roy

jamini-roy

बर्थ एनीवर्सरी: जेमिनी के रंगों को गूगल ने भी सजाया! (Jamini Roy: Google Placed An Image As Doodle To Honour His Work On His Birth Anniversary)

  • कुछ ख़ास ही होते हैं वो लोग जिनकी भावनाओं के रंग जब कल्पना में सजकर ब्रश का आकार लेकर कैनवास पर उतर आते हैं, तो उनकी हर कृति नायाब ही बनती हैं.
  • ऐसे ही एक शख़्स रहे हैं जेमिनी रॉय, जो अपनी उत्कृष्ट पेंटिंग्स व लेखन के लिए भी काफ़ी मशहूर रह चुके हैं.
  • 11 अप्रैल 1887 को बंगाल में जन्मे जेमिनी 1954 में पद्म भूषण से नवाज़े जा चुके हैं और उनकी मज़बूत शख़्सियत का अंदाज़ा इसी से लगाया जा सकता है कि उनकी बर्थ एनीवर्सरी पर गूगल (Google) ने भी अपने डूडल (Doodle) को उनकी यादों के रंगों से सजाकर उन्हें समर्पित किया है.
  • जेमिनी की ख़ासियत यह रही कि उन्होंने भारतीय संस्कृति व परंपराओं को अपनी पेंटिंग में जगह दी.

Jamini Roy

  • वो कालीघाट पेंटिंग्स से काफ़ी प्रभावित थे और उन्होंने पश्‍चिम की जगह देश की स्थानीय परंपराओं और जनजातियों को अपनी पेंटिग्स की प्रेरणा बनाया.
  • उन्हें अपनी पेंटिंग्स के लिए कई इनाम मिले और भारत सरकार ने भी उन्हें पद्म भूषण से नवाज़ा.
  • 24 अप्रैल 1972 को उन्होंने इस दुनिया को अलविदा कह दिया था, लेकिन अपने पीछे वो अपनी यादों के कई उत्कृष्ट रंग छोड़ गए थे, जिन्हें देखकर आज भी मन उन रंगों में खोकर मंत्रमुग्ध हो जाता है.
  • उनकी बर्थ एनीवर्सरी पर उन्हें नमन करते हैं.

बर्थ एनिवर्सरी: फारुख़ शेख़ की 6 दिलचस्प बातें, जो नहीं जानती दुनिया (Birth Anniversary: 6 Interesting Things About farooq sheikh)

फारुख़ शेख़

 

फारुख़ शेख़

चेहरे पर सादगी, आंखों में मासूमियत और लबों पर भोली-सी मुस्कान… एक सीधा-सादा शख़्स, लेकिन व्यक्तित्व उतना ही आकर्षक और अदाकारी का अंदाज़ दिल ही नहीं, रूह को छू जानेवाला. जी हां, ज़िंदगी को ज़िंदादिली से जीना फारुख़ शेख़ को बेहतर तरी़के से आता था. फिल्म नूरी का एक अल्हड़-सा रोमांटिक नौजवान हो या फिर फिल्म ये जवानी है दिवानी का इमोशनल व परिपक्व पिता… उमराव जान फिल्म में निभाया नवाबी अंदाज़ हो या फिल्म साथ-साथ का राह से भटका इंसान… हर रोल में परफेक्ट थे फारुख़ शेख़. इंडस्ट्री में भले ही कम काम किया, लेकिन जो भी किया, उसे आज भी लोग याद करते हैं. गमन से लेकर फिल्म बाज़ार तक के उनके तमाम रोल काबिले तारीफ़ थे. अगर बात फिल्मों से हटकर उनकी शख़्सियत की करें, तो फारुख़ शेख़ उन ख़ुशमिज़ाज इंसानों में से थे, जो अपनी ख़ुशी के साथ-साथ आसपास के माहौल को भी ख़ुश रखने की कोशिश करते थे. फिल्म के सेट से लेकर अपने पड़ोसियों तक के दिल-ओ-जान में फारुख़ साहब कुछ इस क़दर बस गए कि इस दुनिया से रुख़सत होने के बाद भी उन्हें लोग याद करते हैं. फिल्म इंडस्ट्री के इस असाधारण अभिनेता की आज बर्थ एनिवर्सरी है. इस मौ़के पर आइए, जानते हैं फारुख़ साहब से जुड़ी कुछ दिलचस्प बातें.

♣ फारुख़ शेख़ को आदत थी कि वो अपना लंच बॉक्स साथ में लेकर जाते थे. स़िर्फ अपना ही नहीं, कभी-कभी तो वो पूरे क्रू मेंबर्स के लिए घर से बिरयानी बनाकर ले जाते थे. उनकी ये दिलदारी आज भी सबको याद है.

♣ फारुख़ शेख़ ने लॉ की पढ़ाई की थी.

♣ फारुख़ के पिता ख़ुद एक वकील थे और वो चाहते थे कि फारुख़ भी वकील ही बनें.

♣ फारुख़ शेख़ की पहली कमाई 750 रु थी.

♣ फारुख़ शेख़ की आख़िरी फिल्म यंगिस्तान थी.

♣ हर फ्राइडे को फारुख़ साहब काम करने से बचते थे. इसका एक कारण था शुक्रवार की नमाज़ अदा करना. वो बहुत ही धार्मिक प्रवृत्ति के थे.