Tag Archives: birth control

कंडोम न इस्तेमाल करने के बहाने, आपका बहाना क्या है? (Ridiculous Excuses By Men For Not Using Condoms)

Ridiculous Excuses By Men For Not Using Condoms

आज भी हमारे देश में ज़्यादातर लोग सेक्स में कंडोम को उतना महत्व नहीं देते, जितना देना चाहिए. कंडोम न स़िर्फ अनचाहे गर्भ से बचाता है, बल्कि यौन रोगों से भी बचाता है. यह सब जानते हुए भी बहुत से लोग इसके इस्तेमाल से कतराते हैं. ऐसे बहुत-से लोग है, जो इसे फ़िज़ूलख़र्ची मानते हैं. उन्हें लगता है कि एक ही पार्टनर से संबंध बनानेवालों को इसकी कोई ज़रूरत नहीं. इसकी लंबी फेहरिश्त है, जो इन्हीं की तरह इसे न इस्तेमाल करने के हज़ारों बहाने देते हैं. ऐसे ही कुछ बहानों के बारे में हम आपको बता रहे हैं.

– मुझे एसटीआई की फ़िक्र नहीं

कंडोम न इस्तेमाल करने का यह सबसे आम बहाना है. इन्हें ऐसा लगता है कि इन्हें एसटीआई नहीं होगा और अगर हुआ भी तो एंटीबायोटिक्स ले लेंगे. लेकिन आपको बता दें कि कंडोम भी आपको सभी एसटीआई से सुरक्षित नहीं कर पाता. कंडोम इस्तेमाल करने के बावजूद हर्पिस और सिफिलिस जैसी यौग रोगों से आपको सुरक्षित नहीं रख पाता यानी 98% ही एसटीआई से आपको सुरक्षित रखता है. अब आप ही सोचिए 100% ख़तरा मोल लेना सही है या 98% सुरक्षित रहना. आपकी सुरक्षा आपके हाथ में है. कंडोम इस्तेमाल करें और एसटीआई से बचें.

– पार्टनर इस्तेमाल करने के लिए दबाव नहीं डालती

यह भी एक और बहाना है, जो ज़्यादातर पुरुष बनाते हैं. वो अपनी पूरी ज़िम्मेदारी यह कहकर पार्टनर पर डाल देते हैं कि वो उन्हें कंडोम इस्तेमाल करने के लिए फोर्स नहीं करती, इसलिए वो ज़रूरी नहीं समझते. यहां बात दबाव डालने की होनी ही नहीं चाहिए, यह तो आपको समझना है कि आपको अपनी और अपने पार्टनर की सेहत का ख़्याल रखना है या नहीं. आप दोनों स्वस्थ रहेंगे, तभी अपनी सेक्स लाइफ एंजॉय कर पाएंगे, इसलिए बेवजह के बहाने छोड़िए और कंडोम इस्तेमाल करने को तवज्जो दीजिए.

– उसे फेंकना बहुत मुश्किल का काम है

इस्तेमाल के बाद कंडोम को संभालकर टिश्यू पेपर में लपेटकर डस्टबिन में डालना होता है, लेकिन अगर इसे भी अब आप बहाना बनाएंगे, तो हाइजीन का ख़्याल कैसे रखेंगे. ज़्यादातर लोगों को इस्तेमाल किए हुए कंडोम को उतारने में उकताहट होती है और फिर बेड से उठकर जाने में आलस भी आता है, इसलिए वो कंडोम इस्तेमाल ही नहीं करते. आप अपने बेड के बगल में ही एक छोटा-सा डस्टबिन रखें. रात को सोते समय टिश्यू पेपर का पैकेट साइड टेबल पर रखें. इस तरह आपको बेड से उठकर जाना भी नहीं पड़ेगा.

यह भी पढ़ें: जानें वो 10 कारण जो आपको ऑर्गैज़्म से वंचित रख रहे हैं? (10 Reasons You’re Not Having An Orgasm)

– पार्टनर पिल्स लेती है

सर्वे में शामिल 40% लोगों ने कहा कि वो इसलिए कंडोम इस्तेमाल करने की ज़रूरत महसूस नहीं करते, क्योंकि उनकी पार्टनर बर्थ कंट्रोल पिल्स लेती है. ज़्यादातर लोग आज भी इसे गर्भनिरोधक की तरह ही इस्तेमाल करते हैं, जबकि यह उससे कहीं बढ़कर है. यह न स़िर्फ अनचाहे गर्भ से आपको बचाता है, बल्कि कई तरह के यौग रोगों से भी आपकी सुरक्षा करता है.

– फैमिली प्लानिंग नहीं करनी

यह भी एक बहुत अच्छा बहाना है कि फैमिली प्लानिंग नहीं करनी, इसलिए कंडोम इस्तेमाल नहीं करते. हम आपको पहले ही बता चुके हैं कि कंडोम स़िर्फ प्रेग्नेंसी रोकने के लिए नहीं है, बल्कि यह एसटीआई से भी आपको सुरक्षित रखता है. जहां तक बात प्रेग्नेंसी की है, तो महीने के कुछ दिनों में ही आपकी पार्टनर फर्टाइल होती है, जब कंसीव करने की संभावना होती है, उसके अलावा बाकी के दिनों में आप कंडोम इस्तेमाल कर सकते हैं.

– पार्टनर का इंट्रेस्ट चला जाता है

कुछ लोग यह भी बहाना बनाते हैं कि कंडोम पहनने में इतना समय लग जाता है कि तब तक पार्टनर का इंट्रेस्ट चला जाता है. ऐसे में दोबारा उसे मूड में लाना बहुत मुश्किल हो जाता है और यही कारण है कि मैं कंडोम नहीं पहनता. अब यह क्या बात हुई भला? कंडोम पहनने में स़िर्फ कुछ सेकंड्स लगते हैं, ऐसे में इंट्रेस्ट ख़त्म होने का सवाल ही नहीं उठता, तो ये फ़ालतू के बहाने छोड़िए और कंडोम इस्तेमाल करना शुरू करें.

– अनीता सिंह

यह भी पढ़ें: माथे पर क्यों किस करते हैं पार्टनर्स? (What It Means When Partner Kisses On Forehead?)

कैसे हुआ गर्भनिरोधक गोलियों का आविष्कार? (Oral Contraceptives: When Was Birth Control Invented?)

आजकल बर्थ कंट्रोल पिल्स (Birth Control Pills) बहुत कॉमन हो गई हैं. आपने भी कभी न कभी गर्भनिरोधक गोलियों (Contraceptive Pills) का प्रयोग ज़रूर किया होगा. पर क्या आप जानती हैं किगर्भनिरोधक गोलियों का आविष्कार (Invented) किसने किया था? आपको जानकर हैरानी होगी कि गर्भनिरोधक गोलियों का आविष्कार किसी पुरुष ने नहीं, बल्कि एक महिला (Woman) ने किया है. जी हां, आपको यह जानकर ख़ुशी होगी कि बर्थ कंट्रोल पिल्स का आविष्कार मार्गरेट हिगिन्स सेंगर (Margaret Sanger) नामक एक महिला ने किया था. दरअसल, मार्गरेट हिगिन्स सेंगर ख़ुद अपने माता-पिता की ग्यारहवीं संतान थी, इसीलिए शायद उसे गर्भनिरोधक गोलियों की अहमियत अच्छी तरह पता थी. हां, आपको यह जानकर दुख होगा कि बर्थ कंट्रोल क्लीनिक चलाने के आरोप में सन् 1917 में मार्गरेट सेंगर (Margaret Sanger) को जेल की सज़ा हुई थी.

Oral Contraceptives

IVF और गर्भनिरोधक गोलियों का आविष्कारक अमेरिकी बायोलॉजिस्ट और शोधकर्ता ग्रेगोरी गुडविन पिंकस (Gregory Goodwin Pincus) को भी माना जाता है. अमेरिकी बायोलॉजिस्ट और शोधकर्ता ग्रेगोरी गुडविन पिंकस बचपन से ही खोजी स्वभाव के थे, जिसके कारण उन्होंने एक ऐसी कॉट्रासेप्ट‍िव पिल बनाई, जिसकी मदद से महिलाएं गर्भवती होने से बच सकती हैं. ग्रेगोरी की उत्सुकता हार्मोनल चेंज और रिप्रोडक्शन प्रोसेस में होने वाले बदलाव में थी. रिप्रोडक्शन प्रक्रिया को क्या बीच में रोका जा सकता है, क्या गर्भधारण को रोका जा सकता है जैसे सवाल ग्रेगोरी के दिमाग में कौंधते रहते थे. अपने इन्हीं सवालों के जवाब के रूप में ग्रेगोरी गुडविन पिंकस (Gregory Goodwin Pincus) को 1934 में पहली बार इस क्षेत्र में बड़ी कामयाबी मिली, जब खरगोश में विट्रो फर्टिलाइजेशन (IVF) प्रोड्यूस करने में वो कामयाब हुए. ग्रेगोरी ने कम्बाइंड कॉन्ट्रासेप्ट‍िव पिल्स का भी आविष्कार किया.ग्रेगोरी गुडविन पिंकस ने ‘द कंट्रोल ऑफ फर्टिलिटी’ और ‘द एग्स ऑफ मैमल्स’ नाम की किताबें भी लिखीं, जो आज भी इस क्षेत्र में होने वाले शोध में मददगार साबित होती हैं.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: क्या मुझे डायग्नॉस्टिक लैप्रोस्कोपी टेस्ट की ज़रूरत है? (Do I Need Diagnostic Laparoscopy Test?)

 

व्हाइट डिस्चार्ज की समस्या के 5 आसान घरेलू उपाय जानने के लिए देखें वीडियो:

पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या ब्रेस्टफीडिंग के दौरान गर्भनिरोधक की ज़रूरत नहीं पड़ती? (Do I Need Birth Control While Breastfeeding?)

family planning
मैं 29 वर्षीया महिला हूं. पिछले महीने ही मेरी सीज़ेरियन डिलीवरी हुई है. फैमिली प्लानिंग के बारे में सलाह देने के लिए डॉक्टर ने छह हफ़्ते बाद बुलाया है, पर मेरी सहेली का कहना है कि चूंकि मैं ब्रेस्टफीडिंग (breastfeeding) करा रही हूं, तो ऐसे में किसी गर्भनिरोधक की ज़रूरत नहीं पड़ती. क्या यह सच है? कृपया बताएं.
– राधिका तारे, मुंबई.

आपके लिए यह समझना बहुत ज़रूरी है कि आपकी सीज़ेरियन डिलीवरी हुई है और आपके सीज़ेरियन घाव को भरने में समय लगेगा, इसीलिए डॉक्टर ने आपको फैमिली प्लानिंग के लिए बुलाया है. आपके लिए गर्भनिरोधक इस्तेमाल करना बहुत ज़रूरी है, क्योंकि अगर घाव भरने से पहले ही आप प्रेग्नेंट हो गईं, तो कई तरह की कॉम्प्लीकेशन्स हो सकती हैं, जो आपके लिए ठीक नहीं है. आपके बच्चे को भी आपके प्यार, समय और देखभाल की ज़रूरत है, जो तभी संभव है, जब आप 2-3 साल तक प्रेग्नेंसी से बची रहेंगी.

यह भी पढ़ें: क्या गर्भधारण के लिए फॉलिक एसिड की सलाह सही है?

Breast Feeding
मैं 32 वर्षीया महिला हूं. मेरा एक साल का बेटा भी है. मेरे पति विदेश में रहते थे, इसलिए मैंने कभी कोई फैमिली प्लानिंग (Family Planning) नहीं की थी, लेकिन पिछले महीने मेरे पति विदेश से लौटे, तो मैंने कंसीव कर लिया था, पर चूंकि मेरा बेटा बहुत छोटा है, इसलिए मैंने एबॉर्शन करा लिया. अभी मैं एक साल और कंसीव नहीं करना चाहती. कृपया, मुझे फैमिली प्लानिंग की सही सलाह दें.
– कविता गुप्ता, इंदौर.

एबॉर्शन के 10-12 दिनों बाद ही महिलाओं में फर्टिलिटी लौट आती है, इसलिए आपको कोई गर्भनिरोधक विकल्प ज़रूर अपनाना चाहिए. आज मार्केट में कई प्रकार के गर्भनिरोधक मिलते हैं. आपकी मेडिकल हिस्ट्री, सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ की हिस्ट्री आदि देखने के बाद ही आपका डॉक्टर आपको सही सलाह दे पाएगा. इसलिए तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें और अपनी सुविधानुसार सही विकल्प चुनें.

यह भी पढ़ें:  पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या एबॉर्शन के बाद कंसीव करने में समस्या आती है?

ब्रेस्टफीडिंग व गर्भनिरोध का क्या है कनेक्शन?

अगर कोई महिला ब्रेस्टफीड नहीं करती, तो ओव्यूलेशन (फर्टिलिटी) जल्दी शुरू हो जाता है, पर इसका यह भी मतलब नहीं है कि अगर आप बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हैं, तो आप प्रेग्नेंट नहीं हो सकतीं. अगर आप छह महीने तक बच्चे को अपने दूध के अलावा कुछ और नहीं खिलाती-पिलाती हैं, तो हो सकता है ओव्यूलेशन आने में थोड़ा समय लगे. सीज़ेरियन डिलीवरी के बाद यह बहुत ज़रूरी है कि प्रेग्नेंसी के लिए 2-3 साल का अंतर रखा जाए. सीज़ेरियन डिलीवरी के बाद एबॉर्शन कराना सेफ नहीं होता है, इसलिए गर्भनिरोधक का इस्तेमाल ज़रूर करें. ब्रेस्टफीडिंग करानेवाली मांओं के लिए आजकल हार्मोनल कॉन्ट्रासेप्शन भी उपलब्ध है, जिसे आप अपने डॉक्टर की मदद से ले सकती हैं. इसके अलावा कई अन्य विकल्प भी हैं, जिन्हें आप अपनी सुविधानुसार ले सकती हैं.

यह भी पढ़ें: एग्ज़ाम्स के व़क्त पीरियड्स अनियमित क्यों हो जाते हैं?

rajeshree-kumar-167x250

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

 

पर्सनल प्रॉब्लम्स: शादी से पहले गर्भनिरोधक की जानकारी कितनी ज़रूरी है? (Pre Wedding Birth Control Guide For Every Bride)

Birth Control Guide
मैं 22 वर्षीया यूनिवर्सिटी छात्रा हूं. कुछ ही दिनों में मेरी शादी होनेवाली है, इसलिए मैं गर्भनिरोधक के बारे में जानना चाहती हूं. कृपया, मुझे सही गर्भनिरोधक के बारे में बताएं.
– आकृति महाजन, नासिक.

यह बहुत अच्छी बात है कि आप गर्भनिरोधक के बारे में सही जानकारी हासिल करना चाहती हैं. दरअसल, असुरक्षित यौन संबंधों के कारण एचआईवी/एड्स जैसे सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन्स (एसटीआई) का ख़तरा बढ़ जाता है. कुछ एसटीआई महिलाओं के फैलोपियन ट्यूब्स को स्थायी रूप से डैमेज भी कर सकते हैं. इसके अलावा आपको पेल्विक इंफ्लेेमेटरी डिसीज़ भी हो सकती है, जो आगे चलकर इंफर्टिलिटी का कारण बन सकती है. गर्भनिरोधक के साधनों में कंडोम काफ़ी इफेक्टिव माना जाता है और साथ ही यह आपको एसटीआई से भी बचाता है. तिमाही गर्भनिरोधक इंजेक्शन भी हैं, पर वो एसटीआई से सुरक्षा नहीं देते.

यह भी पढ़ें: मुझे हमेशा कमज़ोरी क्यों महसूस होती है?

Birth Control Guide
मेरी शादी को 4 साल हो गए हैं और अब मैं मां बनना चाहती हूं. पर 6 साल पहले आए 2 एपिलेप्टिक सीज़र्स (न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर) के कारण मैं आज भी उसकी दवा ले रही हूं. मुझे डर है कि कहीं इससे मेरे बच्चे में जन्म से ही कोई दोष न आ जाए? क्या अब मुझे वो दवा बंद कर देनी चाहिए? कृपया, मेरी मदद करें.
– गुंजन यादव, कटक.

भले ही आप प्रेग्नेंसी के बारे में सोच रही हैं, पर अपनी दवाई बंद न करें. हालांकि जन्म से ही दोषवाली बात से पूरी तरह इंकार नहीं किया जा सकता, पर इस तरह की महिलाओं पर हुए शोध से पता चला है कि दवा लेते हुए भी उन्होंने स्वस्थ बच्चों को जन्म दिया है. वैसे भी सोनोग्राफी के ज़रिए किसी भी तरह की एब्नॉर्मिलिटी की जांच की जा सकती है.
इसलिए अपनी मर्ज़ी से दवा बंद न करें और कोई भी निर्णय लेने से पहले, जिस डॉक्टर से दवा ले रही हैैं, उनसे सलाह ज़रूर ले लें.

यह भी पढ़ें: क्या डिलीवरी के बाद भी आयरन टैबलेट्स की ज़रूरत होती है?

महिलाओं के लिए ख़ास कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स 

हमारे देश में आज भी बहुत-सी महिलाएं गर्भनिरोधक के बारे में बहुत कम जानती हैं. आइए जानें महिलाओं  के लिए ख़ास कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के बारे में-

कॉम्बिनेशन गोलियां

ज़्यादातर महिलाएं कॉम्बिनेशन गोलियां ही लेती हैं. इसमें एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरॉन होता है, जो फीमेल हार्मोन है. न्यू-जनरेशन और कंवेंशनल पिल्स हैं ये कॉम्बिनेशन टैबलेट्स. क़रीब 99 फ़ीसदी महिलाएं कॉम्बिनेशन गोलियों का ही इस्तेमाल करती हैं.

मिनी पिल्स

मिनी पिल्स में केवल प्रोजेस्टेरॉन हार्मोन होता है. इसे प्रोजेस्टेरॉन- ओनली पिल भी कहा जाता है. 28 गोलियों का एक पैक होता है, जिसमें 21 दिनों की गोलियों में प्रोजेस्टेरॉन हार्मोन होता है और बाकी की 7 गोलियों में कोई हार्मोन नहीं होता. आजकल आख़िरी 7 गोलियों में आयरन होता है, ताकि शरीर में इसकी कमी ना हो.

इमर्जेंसी पिल्स

इमर्जेंसी पिल्स को ममॉर्निंग आफ्टर पिल्सफ भी कहा जाता है. इसकी ख़ासियत ये हैं कि अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए इसे अनसेफ सेक्स के 72 घंटों के भीतर ही लेना चाहिए.

rajeshree-kumar-167x250 
डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]  

 

महिलाओं की ऐसी ही अन्य पर्सनल प्रॉब्लम्स पढ़ें

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies