Tag Archives: breakfast

मोटापे और डायबिटीज़ से बचना है तो ज़रूर करें नाश्ता (Breakfast: The Most Important Meal Of The Day)

सेहत का ख़्याल रखना आज की तारीख़ में एक चुनौती है, लेकिन आप कितने भी व्यस्त हों नाश्ता ज़रूर करें क्योंकि यह ना सिर्फ़ आपको फिट रखता है बल्कि मोटापा भी कम करता है. जी हां, आख़िर क्यों ज़रूरी है नाश्ता, आइए जानें-

  • ये दिनभर की ऊर्जा प्रदान करता है.
  • एसिडिटी से राहत दिलाता है क्योंकि रातभर सोने के बाद अगर आप सुबह भी कुछ नहीं खायेंगे तो ऐसिड बनने लगती है, जो काफ़ी तकलीफ़ देती है.
  • यह आपको मधुमेह के ख़तरे से बचाता है. शोध बताते हैं कि जो लोग नाश्ता करते हैं उन्हें मधुमेह का ख़तरा नाश्ता ना करनेवालों की तुलना में कम रहता है.
  • यह आपको मोटापे से बचाता है. जो लोग नाश्ता नहीं करते उनकी वेस्ट लाइन नाश्ता करने वालों की तुलना में अधिक होती है.
  • आप भले ही लंच ठीक से ना करें लेकिन नाश्ता अच्छी तरह और हेल्दी करेंगे तो फ़ैट्स से बचेंगे.
  • दिनभर ऐक्टिव और एनर्जेटिक रहते हैं. जो लोग नाश्ता करते हैं उनका एनर्जी लेवल अधिक होता है और वो दिनभर ऐक्टिव बने रहते हैं.
  • पाचन तंत्र संतुलित रहता है.
  • फ़ोकस करने की क्षमता बेहतर होती है.
  • क्रेविंग से बचाता है. जो लोग नाश्ता नहीं करते उन्हें दिनभर में मीठा खाने की, जंक फ़ूड की और चाय आदि की तलब ज़्यादा लगती है, जिससे वो अधिक कैलरीज़ का सेवन कर लेते हैं और मोटापे का शिकार होने लगते हैं.
  • पौष्टिक नाश्ता आपका दिनभर संतुष्ट रखता है और आप पॉज़िटिव व अच्छा महसूस करते हो.
  • यह ध्यान रहे के नाश्ता पौष्टिक होना ज़रूरी है- फल, ड्राई फ़्रूट्स, दलिया, उपमा, पोहा, कॉर्नफ़्लेक्स, दूध, फ़्रूट जूस, अंकुरित अनाज,दालें, अंडा, पराठे, दही आदि.
  • नाश्ता बोरिंग ना हो इसके लिए रोज़ एक जैसा नाश्ता ना बनायें.
  • कुछ इक्स्पेरिमेंट करते रहें, कभी सैंडविच, कभी पराँठे, कभी अंडा तो कभी इडली, डोसा ट्राई करें.

फिटनेस का मतलब वेटलॉस या पतला होना नहीं होता… रुजुता दिवेकर का फिटनेस मंत्र! (Theme- fitness is simple and uncomplicated- The Fitness Project by Rujuta Diwekar)

Rujuta Diwekar

फिटनेस का मतलब वेटलॉस या पतला होना नहीं होता… रुजुता दिवेकर का फिटनेस मंत्र! (Theme- fitness is simple and uncomplicated- The Fitness Project by Rujuta Diwekar)

– फिटनेस बेहद सिंपल है, इसमें आपको क्रांतिकारी डायट प्लान या वर्कआउट्स करने की ज़रूरत ही नहीं.
– दरअसल फिटनेस का मतलब ही लोग ग़लत समझते हैं. फिटनेस का अर्थ पतला हो जाना या वेटलॉस नहीं होता.
– फिटनेस वो होती है, जो आपकी रोज़मर्रा की ज़िंदगी को प्रभावित करती है, उस पर असर डालती है, जैसे- आपका एनर्जी लेवल, नींद की क्वालिटी, पाचन शक्ति आदि.
– रुजुता दिवेकर ने अपने 12 हफ़्तों के फिटनेस प्रोजेक्ट को जब लॉन्च किया था, तो उन्हें बहुत ही ज़्यादा लोगों का समर्थन मिला.
– लोगों को इससे बेहद लाभ भी मिला. उनके इंचेज़ कम हुए और वो अधिक फिट महसूस करने लगे.
पहला हफ़्ता- गाइडलाइन 1- कैसे शुरुआत करें?
– अपने दिन की शुरुआत एक केले से करें या किसी भी फ्रेश फ्रूट से या फिर आप भिगोए हुए बादाम या किशमिश भी ले सकते हैं. चाय-कॉफी से अपना दिन शुरू न करें.
– हां, 10-15 मिनट बाद आप चाय-कॉफी ले सकते हैं.
– यह उठने के 20 मिनट के भीतर ही खा लें और अगर आपको थायरॉइड है, तो गोली लेने के बाद यह मील लें.

यह भी पढ़ें: आर्ट ऑफ ईटिंग राइट: सही खाना और कैलोरीज़ गिनना एक-दूसरे के विपरीत है- रुजुता दिवेकर (Indian Food Wisdom And The Art Of Eating Right By Rujuta Diwekar)

– केला दरअसल उनके लिए सही होता है, जिन्हें या तो पाचन संबंधी समस्या होती है या फिर खाने के बाद कुछ मीठा खाने का मन होता है. बेहतर होगा ताज़ा लोकल वेरायटी का केला लें. हफ़्ते में 2-3 बार ख़रीदें और उन्हें प्लास्टिक बैग की बजाय कपड़े के थैले में लाएं.
– 7-8 भीगी हुई किशमिश केसर के एक या दो स्ट्रैंड के साथ खाएं, यदि आप लो एनर्जी महसूस करते हैं या आपको पीएमएस की बहुत अधिक समस्या है.
– 4-6 भिगोए व छीले हुए बादाम उनके लिए, जिन्हें डायबिटीज़, पीसीओडी, नींद की समस्या, लो फर्टिलिटी है. पीसीओडी की समस्या है, तो पीरियड्स से 10 दिन पहले किशमिशवाले प्लान पर आ जाएं.
– सुबह के इस मील के बाद आप 15-20 मिनट योगा या वर्कआउट कर सकते हैं.
– अगर वर्कआउट नहीं करते, तो इसके बाद एक घंटे के भीतर ही नाश्ता कर सकते हैं.
– सुबह जो पानी पीते हैं, उसे प्लेन ही रखें, उसमें कुछ भी न मिलाएं.
यह पहले हफ़्ते के लिए गाइडलाइन है, उसके बाद हम धीरे-धीरे एक-एक हफ़्तों की गाइडलाइन पर बात करेंगे.

इस फिटनेस प्रोजेक्ट को बेहतर समझने के लिए देखें यह वीडियो

Start your day with banana/ dry fruits

‘The fitness project 2018’ – an open participation public health project – Week 1 guideline#RDfitnessproject2018

Posted by Rujuta Diwekar on Tuesday, 2 January 2018

सौजन्य: https://www.rujutadiwekar.com

बचें इन 10 मॉर्निंग मिस्टेक्स से (Most Common Morning Mistakes to Avoid)

Common Morning Mistakes

कहते हैं, अगर सुबह की शुरुआत अच्छी हो, तो दिन अच्छा गुज़रता है, लेकिन अगर शुरुआत ही ग़लत हो, तो उसके परिणाम तो ग़लत ही होंगे ना! अमूमन हर व्यक्ति सुबह-सुबह ऐसी कई ग़लतियां करता है, जिसका सीधा असर उसकी हेल्थ पर पड़ता है. ये मॉर्निंग मिस्टेक्स (Morning Mistakes) न स़िर्फ हमारा दिन ख़राब कर सकती हैं, बल्कि लंबे समय तक इनका दोहराव हमें कई हेल्थ प्रॉब्लम्स भी दे सकता है.

Morning Mistakes

 

  1. झटके से उठकर काम में लग जाना

दिन की शुरुआत धीरे-धीरे व शांति से करनी चाहिए. आंख खुलने पर थोड़ी देर रिलैक्स रहें, फिर दाईं करवट लेकर उठ जाएं. दाईं करवट लेकर उठने से सुप्त अवस्था में शिथिल पड़ी ऊर्जा का पूरे शरीर में बेहतर संचार होता है. यह शरीर में ऊर्जा के संचार को संतुलित करता है. आराम से उठकर कुछ देर लंबी व गहरी सांसें लें, अगर प्यास लगी हो, तो एक ग्लास पानी पीएं.

 

  1. स्ट्रेचिंग न करना

सोते व़क्त हमारे शरीर की मांसपेशियां, ख़ासतौर से रीढ़ की हड्डी सख़्त हो जाती है, जिसे सामान्य करने के लिए सोकर उठने पर शरीर को स्ट्रेच करें. अंगड़ाई लें. तीन-चार बार शरीर को स्ट्रेच करें और बांहें फैलाकर सुबह की पॉज़िटिव एनर्जी को ख़ुद में महसूस करें. ऐसा करने से दिनभर शरीर में चुस्ती-स्फूर्ति बनी रहती है.

 

  1. नींबू पानी की जगह चाय पीना

हेल्थ व फिटनेस एक्सपर्ट्स के मुताबिक़, ज़्यादातर लोग सुबह चाय पीने की मॉर्निंग मिस्टेक करते हैं. बहुत से लोगों को बेड टी की आदत होती है, जो उनकी हेल्थ के लिए सही नहीं. खाली पेट चाय कभी न पीएं. अपने दिन की शुरुआत हमेशा नींबू पानी से करें, क्योंकि यह शरीर से टॉक्सिन निकालकर आपके मेटाबॉलिज़्म व इम्यून सिस्टम को मज़बूत बनाता है. इसके बाद अगर आप चाहें, तो ग्रीन टी पीएं.

 

  1. ब्रेकफास्ट न करना

ब्रेकफास्ट न करना डायबिटीज़, मोटापा और रोग प्रतिरोधक क्षमता की कमी कारण बनता है. हॉर्वर्ड स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ के मुताबिक़ ब्रेकफास्ट न करने से हमारे शरीर पर अतिरिक्त तनाव पड़ता है. दरअसल, रात के खाने और सुबह के ब्रेकफास्ट के बीच लंबा गैप होता है, जिससे ब्लड शुगर लेवल कम होता है. अगर सोकर उठने के एक घंटे के अंदर हम कुछ नहीं खाते, तो ब्लड शुगर का स्तर और गिर जाता है, जिससे सुस्ती महसूस होती है. इसके अलावा ज़्यादातर लोग चाय-बिस्किट से दिन की शुरुआत करते हैं, जबकि आपको भिगोए हुए बादाम, होल व्हीट ब्रेड, रोटी या किसी फल से अपने दिन की शुरुआत करनी चाहिए.

 

  1. आंखें खोलते ही मोबाइल चेक करना

सुबह-सुबह नींद खुलने पर बहुत से लोगों का हाथ सबसे पहले अपने मोबाइल फोन को ढूंढ़ता है. आंखें मलते हुए ज़रूरी ईमेल्स या मैसेजेस चेक करने से आपको स्ट्रेस हो सकता है, जो आपका पूरा दिन ख़राब कर सकता है. सुबह-सुबह का तनाव आपकी सेहत के लिए ठीक नहीं, इसलिए सोकर उठने के तुरंत बाद ही ईमेल्स चेक न करें.

 

  1. एक्सरसाइज़ न करना

न्यूट्रीशन, एक्सरसाइज़, पॉज़िटिव सोच और आराम हमारी सेहत के चार स्तंभ हैं. अगर इनमें से एक भी कमज़ोर रहा, तो हेल्थ प्रॉब्लम्स होना लाज़मी है. हर रोज़ सुबह हमें आधा घंटा एक्सरसाइज़ के लिए देना चाहिए. मॉर्निंग वॉक, योग, प्राणायाम आदि को अपने रूटीन में शामिल करें.

 

  1. मुस्कुराने में कंजूसी करना

आपकी मुस्कान आपकी सेहत को और बेहतर बनाती है, यही वजह है कि सुबह-सुबह आपको बहुत से लाफ्टर क्लब देखने को मिल जाएंगे. सुबह-सुबह हंसने-मुस्कुराने से आपका इम्यून सिस्टम मज़बूत होता है, हार्ट बीट सामान्य रहती है और ब्लड प्रेशर कंट्रोल में रहता है, इसलिए मुस्कुराने में कंजूसी न करें और खुलकर हंसें-मुस्कुराएं.

 

  1. रोज़ाना एक ही एक्सरसाइज़ करना

ज़्यादातर लोग यह मॉर्निंग मिस्टेक करते हैं. शरीर के एक हिस्से को फोकस करके एक ही एक्सरसाइज़ को रोज़ाना दोहराते हैं, जिससे उस हिस्से पर एक्स्ट्रा प्रेशर पड़ता है, जो ठीक नहीं है. हफ़्ते में 2 दिन साइकलिंग, तीन दिन वर्कआउट और दो दिन किसी स्पोर्ट्स को दिया जा सकता है. इससे न स़िर्फ आपके रूटीन में बदलाव आता है, बल्कि आपका मेटाबॉलिज़्म भी मज़बूत होता है.

 

  1. चिड़चिड़ेपन और ग़ुस्से में रहना

सुबह-सुबह उठते ही दिन में करनेवाले कामों को याद करके उन पर ग़ुस्सा होने या अपनेरूटीन को कोसने से आपकी हेल्थ अच्छी नहीं होती, बल्कि आप अपनी सेहत को ख़ुद नुक़सान पहुंचाते हैं. ग़ुस्सा और चिड़चिड़ापन पॉज़िटिव एनर्जी को ब्लॉक करता है, जिससे आप नेगेटिव एनर्जी से घिरे रहते हैं और वो किसी की सेहत के लिए ठीक नहीं. माना कि आजकल सभी को उठकर दिनभर के काम याद आते हैं, पर उन विचारों को कंट्रोल करना आपके ही हाथ में है. ख़ुद को ख़ुश रखें और स्वस्थ रहें.

 

  1. एक दिन पहले प्लानिंग न करना

आजकल सभी की ज़िंदगी भागदौड़ भरी हो गई है, ऐसे में मिनट दर मिनट नपा-तुला होता है. इसमें ज़रा-सा भी फेरबदल आपको बेवजह का तनाव दे देता है और आप झल्लाने-चिढ़ने लगते हैं, जिससे आपके हार्ट पर प्रेशर पड़ता है और आप अपनी ही सेहत के साथ खिलवाड़ करते हैं. इसलिए अगले दिन की सारी तैयारी रात को ही करके रखें, चाहे वो कपड़े, खाना या काम की कोई तैयारी हो. इससे सारे काम आसानी और सहजता से पूरे हो जाएंगे और आप दिनभर ख़ुश व उत्साहित भी रहेंगे.

 

आज़माएं ये मॉर्निंग मैजिक ट्रिक्स

–    रोज़ सुबह उठकर सबसे पहले ईश्‍वर को सभी चीज़ों के लिए धन्यवाद कहें.

–    बिस्तर से उठकर आईना देखें और ख़ुद को देखकर मुस्कुराएं. आपके चेहरे की ये मुस्कान दिनभर आपके साथ रहेगी.

–    आईने में देखकर ख़ुद से कहें कि आज आपका दिन बहुत अच्छा होगा.

–    खाली पेट एक ग्लास गुनगुना पानी पीएं. यह आपके बॉडी से टॉक्सिन्स को बाहर निकालने में मदद करता है.

–   नित्य क्रिया से निपटकर योग या एक्सरसाइज़ करें. अगर मुमकिन हो, तोे वॉक पर चले जाएं या साइकलिंग करें. यह आपके एनर्जी लेवल को बूस्ट करता है.

–    चाय-कॉफी की बजाय नींबू पानी और हैवी ब्रेकफास्ट करें.

–    पूरे दिन के कामों की लिस्ट देखकर प्राथमिकता के अनुसार काम सेट करें.

–   समय के अनुसार काम करें. अगर कभी देर हो जाती है, तो बेवजह स्ट्रेस न लें, क्योंकि आपके स्ट्रेस लेने से चीज़ें बेहतर नहीं हो जाएंगी.

–    कभी-कभी हम ट्रैफिक में फंस जाते हैं, तब भी बेचैन होते रहते हैं. उस व़क्त की बेचैनी और तनाव का असर आपकी सेहत पर ही पड़ेगा, इसलिए शांत रहें.

–    ज़रूरी नहीं कि चीज़ें और हालात हमेशा आपके अनुसार ही हों. ऐसे में संयम बहुत ज़रूरी है. संयम और शांति से काम करनेवाले हमेशा ख़ुशहाल और संतुष्ट रहते हैं.

–    ये मॉर्निंग मैजिक ट्रिक्स आपके दिन को एक अच्छी शुरुआत देंगे.

–    तो आज से ही इन छोटी-छोटी मॉर्निंग मिस्टेक्स से बचें और हेल्दी व फिट रहें.

 

– अनीता सिंह