Tag Archives: champion

Congratulations: सिंधु बनीं चैम्पियन… (PV Sindhu Creates History, Win Maiden B.W.F. World Tour)

PV Sindhu
पीवी सिंधु (PV Sindhu) ने रचा इतिहास. जी हां, चीन के ग्वांग्झू में बी.डब्ल्यू.एफ. वर्ल्ड टूर फाइनल्स प्रतियोगिता के महिला सिंगल्स फाइनल में उन्होंने जापान की नोज़ोमी ओकुहारा को २१-१९, २१-१७ से हराकर बैडमिंटन वर्ल्ड टूर खिताब जीत लिया है. साथ ही इस प्रतियोगिता में गोल्ड जीतनेवाली वे पहली भारतीय बैडमिंटन महिला खिलाड़ी बन गई हैं. चैम्पियन सिंधु को बहुत-बहुत बधाई!

पुसरला वेंकट सिंधु ने जापान की नोज़ोमी ओकुहारा को हराकर अपने ३०० जीत हासिल की. इस साल पांच बार खिताबी फाइनल में हारने के बाद सिंधु की फाइनल में यह पहली खिताबी जीत है.
फाइनल में ६२ मिनट तक चले मुकाबले में शुरुआत से ही सिंधु ने गेम पर अपनी पकड़ बना ली थी. वे पहले गेम में १४-६ से आगे थीं, तब नोज़ोमी ने ज़बर्दस्त वापसी करते हुए १० अंक जीतकर १६-१६ पर स्कोर ला दिया. लेकिन सिंधु ने अपना पूरा दमख़म दिखाते हुए २१-१९ से पहला गेम जीत लिया और फिर २१-१७ से दूसरा गेम जीतकर अपने खिताबी जीत के सूखे को ख़त्म किया.
वैसे २०१८ साल उनके लिए यादगार रहा है, क्योंकि इस साल उन्होंने ४५ सिंगल जीते हैं. विश्व नंबर छह की सिंधु ने विश्व नंबर पांच की नोज़ोमी को बीडब्ल्यूएफ वर्ल्ड टूर फाइनल्स में हराकर गोल्ड मेडल जीतकर एक नया कीर्तिमान भी बनाया है. अब तक दोनों के बीच ११ मुकाबले हुए हैं, जिनमें महज तीन में सिंधु ने जीत हासिल की है. वैसे फाइनल तक पहुंचना और जीत हासिल करने का सफ़र सिंधु के लिए इतना आसान न था.
इस प्रतियोगिता के अपने पहले मैच में उन्होंने जापान की अकाने यामागुची को हराया, इसके बाद विश्व की नंबर वन खिलाड़ी चीनी ताइपे की ताई जू यिंग को हराकर अपने कई हिसाब बराबर किए, क्योंकि अब तक दोनों के बीच हुए सात मुकाबलों में सिंधु लगातार छह बार हारी थीं, अब जाकर इस टूर्नामेंट में जीत हासिल कर पाईं. इसके बाद अमेरिका की बेइवेन झेंग को हराकर सेमीफाइनल में पहुंचीं और वहां पर थाइलैंड की रत्चानोक इंतेनान को हराया. इसके बाद फाइनल में नोज़ोमी को सीधे सेटों में हराकर इतिहास रच दिया.

शानदार उपलब्धियां
* रियो ओलिंपिक में एकल खिताब में सिल्वर मेडल जीतनेवाली पहली भारतीय महिला खिलाड़ी.
* साल २०१६ में चीन ओपन जीती.
* पद्मश्री, राजीव गांधी खेल रत्न आदि पुरस्कारों से सम्मानित.
* साल २०१८ के फोर्ब्स इंडिया सेलिब्रिटी १०० की सूची में १८ महिलाओं में से एक सिंधु रही हैं. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अब तक उन्होंने बेहतरीन प्रदर्शन किया है.

* विश्व चैंपियनशिप, कॉमनवेल्थ गेम्स, एशियाई खेल, थाइलैंड ओपन व इंडिया ओपन में सिल्वर मेडल जीत चुकी हैं.
* दस सबसे अधिक कमाई करनेवाले स्पोर्ट्स खिलाड़ियों में से एक हैं पीवी सिंधु.
* उन्होंने आज १६ दिसंबर, रविवार को वर्ल्ड टूर फाइनल्स जीतकर पहली भारतीय शटलर द्वारा यह उपलब्धि हासिल करने का रिकॉर्ड भी अपने नाम कर लिया.

अपडेट
* वर्ल्ड टूर फाइनल्स इसके पहले सुपर सीरीज़ फाइनल के नाम से जाना जाता था.
* इस प्रतियोगिता में विश्व के आठ टॉप प्लेयर हिस्सा लेते हैं.
* अब तक भारतीय शाइनिंग स्टार साइना नेहवाल ने इसमें सात बार हिस्सा लिया है और साल २०११ में उपविजेता रही थीं.
* इसके अलावा साल २००९ में मिक्स डबल्स में ज्वाला गट्टा-वी दीजू की जोड़ी उपविजेता रही थी.
* पीवी सिंधु लगातार तीन बार से इस प्रतियोगिता में भाग ले रही हैं.

“आपको पूर्ण भागीदारी व प्रतिबद्धता के साथ चीज़ें करनी चाहिए. जब भी मैं फाइनल में हारी थी, तो कुछ समय के लिए उदास ज़रूर हुई थी, लेकिन मुझे कभी नहीं लगा कि खेल मेरे लिए खत्म हो गया है, क्योंकि यह एक विकल्प नहीं है. याद रहे जीत के लिए ख़ुद पर विश्वास बेहद ज़रूरी है…” – पी. वी. सिंधु

– ऊषा गुप्ता

जन्मदिन मुबारक सुशील कुमार (Happy Birthday Sushil Kumar)

Wrestler Sushil Kumar

sushil-kumar

जन्मदिन मुबारक सुशील कुमार (Happy Birthday Sushil Kumar)
  • मज़बूत इरादे और अपने पेशे की इबादत आपको ज़िंदगी में उस मुकाम पर पहुंचा देती है, जहां सभी आपका नाम अदब से लेते हैं और ऐसा ही मुकाम हासिल किया है पहलवान सुशील कुमार ने.
  • ऐसा सितारा जिस धरती पर जन्म लेता है, वो धरती ख़ुद को धन्य समझती है.
  • हम धन्य हैं कि भारत का यह सुपूत भारत का नाम पूरे विश्‍व में रोशन कर रहा है.
  • सुशील कुमार को उनके जन्मदिन पर मेरी सहेली की ओर से बहुत-बहुत शुभकामनाएं! (happy birthday)
  • भारत को ओलिंपिक्स में दो बार मेडल दिला चुके सुशील कुमार साधारण परिवार में जन्मे थे, लेकिन उन्होंने अपनी शख़्सियत को साधारण नहीं रहने दिया.
  • ओलिंपिक्स में अपने ब्रॉन्ज़ मेडल को सिल्वर में तब्दील करनेवाले सुशील आज वर्ल्ड रेसलिंग में जाना-माना नाम हैं.
  • अर्जुन अवॉर्ड, राजीव गांधी खेल रत्न और पद्म श्री से सम्मानित सुशील अब अपनी एकेडमी के ज़रिए देश के लिए अच्छे पहलवानों को तराशने के काम में लगे हुए हैं.

दे दना दन… रिंग के किंग विजेंदर सिंह- एक्सक्लूसिव और हॉट! (Interaction with Superhit Boxer vijender singh)

vijender singh

मंज़िलें छोटी लगने लगती हैं जब सपने बड़े हो जाते हैं, मुश्किलें गौण हो जाती हैं जब नज़रें आसमान पर होती हैं… जब हथेली में सूरज को कैद कर लेने का हुनर हो और ख़्वाहिशों को अपने क़दमों पर झुका लेने का जिगर, तो हमें समझ जाना चाहिए कि सामने बस एक ही शख़्स है… विजेंदर… विजेंदर और स़िर्फ विजेंदर! पलकों पर सितारों का चमकना और आंखों में चांद का खिलना आसान-सा लगता है और सारी उपमाएं, सारी तारी़फें बेतुकी-सी लगने लगती हैं… इस देसी बॉय के हॉट एंड हिट अंदाज़ के सामने. शब्द बिखर जाते हैं… वक़्त सिमट जाता है और हम बस देखते रह जाते हैं इस टैलेंटेड बॉक्सर के सुपरहिट पंचेज़ को, जिनका जवाब उनका मुकाबला कर रहे विरोधी के पास भी नहीं होता.

vijender singh

विजेंदर के देसी मुक्कों में कितना दम है, ये तो चेका जैसे खूंख़ार बॉक्सर को मात्र चंद मिनटों में चारों खाने चित्त करके ही उन्होंने दुनिया को दिखा दिया था …बड़बोले चेका को घर का रास्ता दिखा चुके विजेंदर ख़ुद क्या कहते हैं और क्या सोचते हैं बॉक्सिंग और उसके फ्यूचर के बारे में आइए विजेंदर (vijender singh) से ही जानते हैं इस दिलचस्प मुलाक़ात में…

vijender singh

सबसे पहले Congratulations आपकी इस बड़ी जीत के लिए और अपने टाइटल (डब्लूबीओ एशिया-पेसिफिक सुपर मिडलवेट) को डिफेंड करने के लिए.
थैंक यू वैरी मच! सच कहूं तो मैं स़िर्फ जीता हूं, इस जीत को बड़ा तो मेरे देशवासियों और आप सबने बनाया है… जो भी स्पोर्ट्स को प्यार करता है, गेम की क़द्र करता है उन सभी को दिल से शुक्रिया कहना चाहता हूं. सबने सपोर्ट किया, हौसला दिया और उनकी दुआओं ने मुझे विनर बनाया.

बॉक्सिंग का फ्यूचर कितना ब्राइट है इंडिया में?
बहुत ही ज़्यादा ब्राइट है… लोग गेम को समझते हैं, इतना प्यार देते हैं, ऐसे में प्लेयर्स को भी बेहतर करने की प्रेरणा मिलती है. इंडिया में भी अब लोग इस स्पोर्ट्स के महत्व को समझने लगे हैं और उसे गंभीरता से भी लेने लगे हैं.

vijender singh

पिछली बार के मुकाबले इस बार लोगों का और भी अच्छा रेस्पॉन्स मिला… तो अपने फैंस को कुछ कहना चाहेंगे?
सभी को थैंक्स कहूंगा और आगे भी इसी तरह प्यार देते रहें… मुझमें और गेम में विश्‍वास जताते रहें… उनको निराश नहीं होने देंगे हम.

जो युवा बॉक्सिंग को करियर के तौर पर देखते हैं उनको क्या राय देना चाहेंगे?
मेहनत के अलावा आगे बढ़ने का कोई रास्ता या शर्त नहीं है… इसलिए चाहे कोई भी स्पोर्ट्स हो या ज़िन्दगी में आप जो भी करना चाहें, एकमात्र ऑप्शन है तो स़िर्फ और स़िर्फ मेहनत ही है.

vijender singh

अपनी फिटनेस और डायट के लिए क्या ख़ास करते हैं?
जमकर प्रैक्टिस करता हूं. बिना प्रैक्टिस और मेहनत के रिज़ल्ट नहीं मिलता, तो सबसे ज़रूरी है कि इनको नज़रअंदाज़ न करें. डायट में मैं प्रोटीन लेता हूं, क्योंकि फिटनेस बनाए रखने के लिए वो बहुत ज़रूरी है… इसलिए उसे अपने डायट का हिस्सा ज़रूर बनाता हूं.

आप सब विदेशी प्लेयर्स के साथ भी खेलते हैं… उनकी तकनीक और फिटनेस हमसे कितनी बेहतर होती है या क्या कुछ फर्क होता है उनमें और हमारी अप्रोच में?
हम उनसे अच्छे और बेहतर हैं… ये सब स़िर्फ कहने की बात है कि उनका फिटनेस लेवल या टेकनीक हमसे बेहतर होती है, जबकि इसमें कोई सच्चाई नहीं है. हमको ख़ुद को कभी भी कम नहीं आकना चाहिए. ख़ुद पर भरोसा रखेंगे, तो बेहतर परफॉर्म करेंगे.

vijender singh

अन्य गेम्स के मुकाबले बॉक्सिंग को कहां देखते हैं जहां तक सुविधाओं और पैसों की भी बात करें तो ?
बॉक्सिंग काफी आगे है, न पैसों की कमी है, न सुविधाओं की… न टैलेंट की कमी है और न ही जज़्बे की… हम तैयार हैं दुनिया की नज़रों में नज़रें डालकर बात करने के लिए…
पैसों की भी बात करे, तो वर्ल्ड का हाइयेस्ट पेड प्लेयर भी एक बॉक्सर ही है, तो इसी से अंदाज़ा लगा लीजिए कि बॉक्सिंग का लेवल कितना ऊंचा है और लोग इसे कितनी गंभीरता से लेते हैं.

बात करें आपकी हॉबीज़ की तो गेम से हटकर क्या करना भाता है…?
खूब सोना … हां, ये सच है, मुझे सोना बहुत पसंद है और जब भी समय मिलता है, मैं जमकर सोता हूं.

फ्री टाइम में और क्या करना पसंद करते हैं जब सोते नहीं हैं तो ?
आई लव म्यूज़िक. म्यूज़िक का मैं बहुत शौक़ीन हूं. वो एक थेरेपी की तरह काम करता है… मन-मस्तिष्क को सुकून देता है… गीत हों, ग़ज़ल हों, पंजाबी सॉन्ग्स हों… सब सुनता हूं.

21zakia12

घर से दूर जब होते हैं, तो क्या सबसे ज़्यादा मिस करते हैं?
विदेश में होता हूं, तो अपने देश को मिस करता हूं. अपनी मिट्टी… अपना मुल्क तो सभी को याद आता है…

दोबारा आपको रिंग में कब देख पाएंगे?
मार्च या अप्रैल तक. दूसरे टाइटल्स पर भी हमारी नज़र है कि वो भी हमारे देश के नाम हों, तो तैयारी चल रही है और उम्मीद है बहुत जल्द आप सब मुझे फिर से रिंग में देखेंगे.

शुक्रिया इतने बिज़ी शेड्यूल में भी हमें अपना समय देने के लिए.
थैंक यू.

– गीता शर्मा