chant

मंत्रों का असर मंदिरों में और अधिक बढ़ जाता है…

मंत्रों को यदि मंदिरों में जपा व सुना जाए, तो उनका प्रभाव काफ़ी अधिक होता है, क्योंकि मंदिर गुंबदाकार से शब्द जब टकराकर वापस आते हैं, तो मन-मस्तिष्क में नई ऊर्जा भर देते हैं. मंदिर का गुंबदाकार उनके प्रभाव को कई गुना बढ़ा देता है. यही वजह है कि मंदिरों के आकर को भी वैज्ञानिक तरीक़े से गढ़ा जाता है.

जितना हंसेंगे, उतना हेल्दी रहेंगे…

Hindu Traditions

रिसर्च बताते हैं कि जो लोग ज़्यादा हंसते हैं, वो शारीरिक व मानसिक तकलीफ़ों को बेहतर तरी़के से टैकल व टॉलरेट कर सकते हैं. हंसने से सकारात्मकता बढ़ती है, ऊर्जा बढ़ती है और फेफड़े मज़बूत बनते हैं. शुद्ध हवा बेहतर तरीक़े से शरीर में जाती है और मस्तिष्क भी बेहतर तरीक़े से काम करता है.

गेंदे के फूलों को क्यों माना जाता है शुभ?

पूजा-अर्चना में गेंदे के फूलों का उपयोग होता है. घर के बाहर बंदनवार में भी इनका प्रयोग होता है, क्योंकि ये वातावरण को शुद्ध करते हैं. नकारात्मक ऊर्जा, बैक्टिरिया आदि को दूर करके सकारात्मक ऊर्जा फैलाते हैं.

Hindu Traditions

बांझपन दूर करता है गायत्री मंत्र

गायत्री मंत्र का नियमित जाप करके बांझपन को दूर किया जा सकता है. गर्भवती महिलाएं मंत्र का जाप करके सुंदर और तंदुरुस्त बच्चा पा सकती हैं. गायत्री मंत्र के जाप से पैदा होने वाला बच्चा असाधारण प्रतिभा का धनी होता है. किसी दंपत्ति को संतान प्राप्त करने में कठिनाई आ रही हो या संतान से दुखी हो अथवा संतान रोगग्रस्त हो, तो प्रात: पति-पत्नी एक साथ सफ़ेद वस्त्र धारण कर गायत्री मंत्र का जप करें. इससे बांझपन दूर होता है और संतान सुख मिलता है. गायत्री मंत्र के जो अक्षर व शब्द हैं, वो शरीर के विभिन्न हिस्सों को प्रभावित करते हैं. मंत्र जाप के समय हर अक्षर शरीर के विभिन्न भागों व ग्लांड को उत्तेजित करता है, हमारे शरीर में 7 चक्र होते हैं, जिनमें 72 हज़ार नाड़ियों होती हैं. ये नाड़ियां सुप्त अवस्था में रहती हैं, गायत्री मंत्र में शब्दों का संयोजन इस तरह से है कि ये उन सुप्त नाड़ियों को उत्तेजित कर देता है, जिससे संतान प्राप्ति ही नहीं और भी कई रोगों में लाभ मिलता है.

Hindu Traditions
Jai-Maa-Vaibhav-Laxmi
जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता ।
तुमको निशदिन सेवत, हर विष्णु विधाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

ब्रह्माणी रूद्राणी कमला, तू ही है जगमाता ।
सूर्य चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

दुर्गा रूप निरंजन, सुख सम्पति दाता ।
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि सिद्धि धन पाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

तू ही है पाताल बसन्ती, तू ही है शुभ दाता ।
कर्म प्रभाव प्रकाशक, भवनिधि से त्राता ॥
जय लक्ष्मी माता…

जिस घर थारो वासो, तेहि में गुण आता ।
कर न सके सोई कर ले, मन नहीं धड़काता ॥
जय लक्ष्मी माता…

तुम बिन यज्ञ न होवे, वस्त्र न कोई पाता ।
खान पान को वैभव, सब तुमसे आता ॥
जय लक्ष्मी माता…

शुभ गुण सुंदर मुक्तता, क्षीर निधि जाता ।
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

आरती लक्ष्मी जी की, जो कोई नर गाता ।
उर आनन्द अति उपजे, पाप उतर जाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

स्थिर चर जगत बचावे, शुभ कर्म नर लाता ।
राम प्रताप मैया की शुभ दृष्टि चाहता ॥
जय लक्ष्मी माता…