Tag Archives: chemistry

लव बाइट से जुड़ी से 5 दिलचस्प बातें नहीं जानते होंगे आप (5 Surprising Facts About Love Bites You Didn’t Know)

लव बाइट (Love Bite) या हिक्की (Hickey) आपके पैशनेट लव (Passionate Love) की पहचान है. यह आपके और आपके पार्टनर के रोमानी पलों का गवाह है. यह दुनिया को आपकी केमिस्ट्री से रू-ब-रू कराता है. हालांकि ऐसे बहुत से लोग हैं, जो अपनी प्राइवेट लाइफ को पब्लिक करना पसंद नहीं करते, इसलिए लव बाइट को हमेशा छिपाते हैं. जबकि लव बाइट के लिए आपको इतना बुरा महसूस करने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि यह आपके और आपके पार्टनर के प्यार और रोमांच की निशानी है. लव बाइट से जुड़ी कुछ ऐसी ही दिलचस्प बातें हम यहां साझा कर रहे हैं, जो आपने पहले कभी नहीं सुनी हों.

Facts About Love Bites

कैसे बनती है लव बाइट या हिक्की?

हमारी गर्दन, छाती, कंधे और जांघ के भीतरी हिस्से बहुत संवेदनशील होते हैं. इन जगहों पर अगर ज़रूरत से ज़्यादा दबाव डाला गया, तो वहां निशान बन जाता है. कारण वहां मौजूद रक्त कोशिकाओं का प्रभावित होना. तो अब आप समझ गए होंगे कि लव बाइट या हिक्की बनने का कारण है उस स्थान की रक्त कोशिकाओं का प्रभावित होना. हालांकि इसमें डरनेवाली कोई बात नहीं, फिर भी लव बाइट देते समय आपको ध्यान रखना चाहिए, वरना निशाद ज़्यादा गहरा होने से पार्टनर को प्रॉब्लम भी हो सकती है.

कैसे दें परफेक्ट लव बाइट?

परफेक्ट लव बाइट देने के लिए आपको थोड़ा एफर्ट लेना होना. सबसे पहले फोरप्ले से अपने पार्टनर को उत्तेजित करें. इस बीच यह डिसाइड कर लें कि लव बाइट कहां देनी है. अगर आप दोनों इसे छुपाना चाहते हैं, तो छाती और कंधे पर ट्राई करें, लेकिन अगर आपको इसमें कोई हिचकिचाहट नहीं, तो गर्दन बेस्ट ऑप्शन है. जब आपको लगे कि पार्टनर परफेक्ट मूड में है, तभी होंठों को ‘ओ’ की तरह बना लें और त्वचा को धीरे-धीरे सक करें. ज़्यादातर मामलों में 30 सेकंड्स के भीतर लव बाइट दिखने लगती है, पर कुछ लोगों को दो मिनट भी लग सकता है.

लव बाइट से जुड़ी दिलचस्प बातें

1. दो हफ़्ते तक रह सकता है लव बाइट

आपको जानकर हैरानी होगी कि आपका लव बाइट दो हफ़्ते तक आपके प्यार का इज़हार कर सकता है. लव बाइट पर हुए रिसर्च में यह बात सामने आई है कि कितनी इंटेन्सिटी के साथ लव बाइट लिया गया है और पार्टनर की हेल्थ कैसी है, इन दो बातों पर यह निर्भर करता है कि कितने दिन तक लव बाइट दिखेगा.

2. आयरन की कमीवालों को जल्दी मिलता है लव बाइट

अगर हल्का सा दबाव या खरोंच लगने पर ही आपकी नीली या काली पड़ जाती है, तो आपके शरीर में रेड ब्लड सेल्स, व्हाइट ब्लड सेल्स और प्लैटलेट की कमी हो सकती है. यही कारण है कि बाकी लोगों के मुकाबले आयरन की कमीवालों को लव बाइट जल्दी मिल सकता है.

3. कामसूत्र में विशेष वर्णन

अगर आपको लगता है कि लव बाइट आज के ज़माने की बात है, तो आपको बता दें कि इसका ज़िक्र वात्स्यायनजी ने कामसूत्र में भी किया है. इतना ही नहीं उन्होंने आठ तरह के लव बाइट्स के बारे में विस्तार से बताया है.

4. इसका इंस्टेट इलाज नहीं

लव बाइट को छिपाने के लिए ज़्यादातर लोग तुरंत ब़र्फ का इस्तेमाल करते हैं, पर इसका असर होने में भी समय लगता है. इसका तुरंत कोई इलाज नहीं है, क्योंकि यह त्वचा के ऊपरी हिस्से की बजाय भीतर मौजूद होता है, इसलिए इसे सामान्य होने में उतना ही समय लगता है कि जितना किसी और चोट या घाव को.

5. इसके सपने देखना बिगड़े रिश्ते की निशानी है

अगर आपको भी लव बाइट के सपने आते हैं या फिर आप हर व़क्त इसी के बारे में सोचते रहते हैं, तो इसमें कुछ भी रोमांटिक नहीं, बल्कि यह आपकी मानसिक दशा को दर्शाता है, जिसका कारण है आपकी ख़राब रिलेशनशिप है. या फिर यह आपके दिल और दिमाग़ की लड़ाई भी हो सकती है. अब सपनों पर भला किसका ज़ोर है, पर रिश्तों पर तो है. अगर आपको भी ऐसे सपने आते हैं, तो एक बार फिर अपने रिश्ते पर ग़ौर करें कि कहीं आपसे तो कोई चूक नहीं हो रही.

– अनीता सिंह

यह भी पढ़ें: सेक्सुअल पावर बढ़ाने की अमेज़िंग किचन रेमेडीज़ (Amazing Kitchen Remedies To Increase Sexual Stamina)

यह भी पढ़ें: पहली बार सेक्सुअल रिलेशन से पहले जानें ये 10 बातें (10 Things To Know Before Having Sex For The First Time)

पहचानें अपने रिलेशनशिप की केमेस्ट्री ( Compatibility and Chemistry in Relationships )

Relationship chemistry

Relationship chemistry
रिश्ते के समीकरणों में जहां ग़ुस्से और झगड़े का तीखापन है, तो वहीं एक-दूसरे की परवाह की मिठास भी है. यदि इसमें मतभेदों की कड़वाहट है, तो शरारतों का चटपटापन भी है. कभी-कभी रिश्ते द्वेष की आग से जब कुछ ज़्यादा गर्म हो जाते हैं, तो साथी के छुअन की ठंडक उसे ठंडा कर देती है. पर जनाब क्या आप जानते हैं कि इस तरह के रिश्ते वहीं परिपक्व होते हैं, जहां पति-पत्नी के बीच की केमेस्ट्री यानी तालमेल अच्छा होता है. अब आप पूछेंगे कि पति-पत्नी क्या तत्व या यौगिक हैं, जो उनकी केमिस्ट्री होगी. तो जवाब है, जी हां, पति-पत्नी रिश्ते के तत्व भी हैं और यौगिक भी.
क्या होती है रिश्तों की केमेस्ट्री?
कैसा लगता है आपको, जब आपका साथी भीड़ में सड़क पार करते समय आपका हाथ झट से थाम लेता है? कैसा लगता है आपको, जब आपके दुख के समय आपका साथी आपकी पीठ को सहलाते हुए बिना कुछ कहे आपको सांत्वना देता है? ज़रा सोचिए किसी दिन आपको ऑफिस से आने में देर हो जाए, थकी-हारी आप घर लौटें और पति ने रात का सारा खाना बना लिया हो… ये सभी और इनके जैसे कई और पल रिश्ते के सबसे मधुर पल होते हैं. इस आपसी तालमेल और समझदारी को हम केमेस्ट्री कहते हैं, जिसमें कोई एक-दूसरे से कोई भी न ही कुछ मांगता है और न बोलता है, बस, आंखों ही आंखों में सारी बातें हो जाती हैं.
क्यों ज़रूरी है रिश्ते में तालमेल?
अच्छ तालमेल होना सुखी वैवाहिक जीवन का आधार हो सकता है. रिश्ते में तालमेल की ज़रूरत शादी के कुछ सालों के बाद ज़्यादा पड़ती है, क्योंकि तब शादी में प्यार की जगह कई तरह की ज़िम्मेदारियां ले लेती हैं.
पति-पत्नी एक-दूसरे को उतना समय नहीं दे पाते या यूं कहें कि शादी के कुछ सालों के बाद प्यार का रूपांतर ही केमेस्ट्री में हो जाता है. और यही बात आपके समय के साथ बूढ़े हो रहे रिश्ते को तरोताज़ा और जवां बनाती है. कहने का तात्पर्य यह है कि स़िर्फ प्यार के आधार पर रिश्तों को जीवित रखना मुश्किल है, लंबी रेस के लिए सही तालमेल का होना ज़रूरी है.
कैसे पहचानें अपने रिश्ते को?
क्या आप सेल्फी हैं?
सेल्फी का अर्थ है ख़ुद की ही तस्वीरें उतारनेवाला. क्या आप ख़ुद की तस्वीरों में ही गुम रहते हैं? इसका मतलब क्या आप ख़ुद के काम, कपड़ों, पसंद-नापसंद, परेशानियों या ख़ुशियों के अलावा कुछ सोच नहीं पाते. तो सचेत हो जाइए, आपका रिश्ता ख़तरे में है. बेहतर रिश्ते के लिए ख़ुद के खोल से बाहर निकलना ज़रूरी होता है.
क्या आप डाउटिंग थॉमस हैं?
क्या आप किसी शक के चलते अक्सर अपने पति का मोबाइल चेक करती हैं या आप अपनी पत्नी के किसी पुरुष सहकर्मी के साथ बात करने पर या घर आने पर रातभर सो नहीं पाते. तो इसका मतलब साफ़ है कि दोनों ही परिस्थितियों में आपका रिश्ता कमज़ोर है.
मन की बात
यदि आपके रिश्ते में कोई अपेक्षाएं नहीं हैं और फिर भी आप ख़ुश हैं, तो इसका अर्थ यह है कि आप एक-दूसरे की अपेक्षाओं को बिना कहे ही पूरा कर रहे हैं. इसे ही अपने साथी के मन की बात को पहचानना कहते हैं. अपने साथी के ख़ुशी-ग़म और ज़रूरतों को बिना कहे समझ लेना भी एक कला है. यह कला यदि आपको आ गई, तो यह अच्छी बात है.
निर्भरता
जीवन की छोटी-मोटी ज़रूरतों के लिए अपने साथी पर निर्भर रहने में कोई बुराई नहीं है. इससे जीवन में एक-दूसरे की ज़रूरत और ज़िम्मेदारी बनी रहती है. यदि आप एक-दूसरे पर निर्भर हैं, तभी आप एक-दूसरे को समझने की कोशिश करेंगे. यह निर्भरता आर्थिक, भावनात्मक या किसी भी अन्य तरह की हो सकती है.
पास भी, दूर भी
आजकल पति-पत्नी को साथ बिताने के लिए उतना समय नहीं मिलता, उस पर डिस्टेंस मैरिजेस का बोझ भी है. ऐसे में अगर दूर रहकर भी आपके साथी के पास होने का एहसास बना हुआ है, तो यह अच्छा है.
अच्छी केमेस्ट्री के लिए कुछ मज़ेदार, पर कारगर एक्सरसाइज़
* महीने में एक बार अपने साथी के साथ अकेले बैठें और उससे अपने बारे में ऐसी 5 चीज़ें पूछें, जो उसे पसंद-नापसंद हैं. उन्हें आप लिख लें और किसी भी बात का बुरा न मानें. फिर उसे भी ऐसा करने
को कहें.अब अपनी लिखी हुई चीज़ों पर काम करें.
* कोई ऐसी एक्टिविटी करें, जिसमें आपसी तालमेल की ज़रूरत हो, जैसे- कोई खेल, डबल्स टेनिस या पार्टनरशिप में कैरम या तो डांस, जैसे- सालसा आदि.
* यदि यह सब भी मुमकिन ना हो, तो घर के काम अकेले करने की जगह साथ
मिलकर करें.
अक्सर यह देखा गया है कि अपेक्षाएं रिश्तों को कमज़ोर बना देती हैं. अपेक्षाएं रखना बुरी बात नहीं है, बशर्ते वे वास्तविकता के धरातल पर हों.

– विजया कठाले निबंधे

रोज़ाना चेक करें अपनी लाइफ का हैप्पीनेस मीटर (Check Your Daily Happiness Meter)