Tag Archives: cleaning tips

40 + स्मार्ट एंड ईज़ी किचन सोल्यूशन्स(40+ Smart Kitchen Solutions)

लाइफ को ईज़ी बनाना है तो किचन की कुछ ज़िम्मेदारियों का भी आसान तरीका अपनाना होगा. किचन क्लीनिग, मैनेजमेंट से लेकर कुकिंग के ईज़ी व स्मार्ट ऑप्शन सोचने होंगे. किसी गाइडेंस की ज़रूरत है तो मेरी सहेली तो है ही आपके साथ, जो आपके लिए लाई है स्मार्ट किचन सोल्यूशन्स

 

 

अगर खाना बच गया हो

अगर रोटी बच जाए

  1. रोटियों को क्रिस्पी होने तक तल लें. इस पर तीखी-मीठी चटनी, चाट मसाला, दही डालकर रोटी चाट बनाकर सर्व करें.
  2. रोटियों को तल लें. नमक, लालमिर्च पाउडर, अमचूर छिड़ककर मसाला रोटी बना लें.
  3. अगर आलू की सब्ज़ी और रोटी दोनों बच गई हो तो रोटियों को बटर लगाकर अच्छी तरह सेंक लें. इस पर आलू वाली सब्ज़ी, बारीक़ कटा प्याज़ और पत्तागोभी फैलाकर फ्रैंकी की तरह सर्व कर सकती हैं.
  4. इसी तरह रोटियों पर पिज़्ज़ा सॉस, शिमला मिर्च, प्याज़ के लच्छे और चीज़ बुरककर बेक कर लें. टेस्टी रोटी पिज़्ज़ा तैयार हो जाएगा.

अगर पका हुआ चावल बच जाए

  1. आप चाइनीज़ फ्राइड राइस बना सकती हैं.
  2. चावल में अदरक-हरी मिर्च का पेस्ट, नमक, हल्दी व लाल मिर्च पाउडर, गेहूं का आटा मिलाकर आटा गूंध लें. गरम-गरम राइस परांठा बनाकर परोसें.
  3. चावल में अदरक-हरी मिर्च का पेस्ट, भुनी व पिसी हुई मूंगफली, उबला हुआ आलू और कॉर्नफ्लोर मिलाकर टिकिया का आकार देकर तल लें. स्वादिष्ट राइस क्रिस्पीज़ तैयार है.

अगर सब्ज़ी बच जाए

  1. मिक्स सब्ज़ी बच गई हो तो उसमें प्याज़, टमाटर, पावभाजी मसाला और बटर मिलाकर पावभाजी बना सकती हैं.
  2. अगर हरी मटर की सब्ज़ी बच गई हो तो उसका पानी अच्छी तरह सुखा लें. इसमें सारे मसाले मिलाकर स्टफिंग तैयार करें. गेहूं के आटे में इसे स्टफ करके मटर पूरियां तल लें.
  3. इसी तरह आलू, पत्तागोभी या मेथी की सब्ज़ियों से टेस्टी परांठे बनाए जा सकते हैं.
  4. आलू की सब्ज़ी से टोस्ट सैंडविच बनाकर क्विक स्नैक्स तैयार किया जा सकता है.

ये भी पढें: जानें गैस बनने की असली वजहें और उससे बचने के असरदार उपाय

ईज़ी किचन टिप्स

  1. पूरियां ज़्यादा क्रिस्पी बनानी हों तो आटे में एक-एक टीस्पून रवा और चावल का आटा मिलाएं.
  2. प्याज़ को गैस स्टोव के पास काटें या काटने से पहले उसे थोड़ी देर फ्रिज में रखें. इससे प्याज़ आंखों में लगेगा नहीं.
  3. अगर टमाटर बहुत ज़्यादा पक गए हों तो एकदम ठंडे पानी में थोड़ा-सा नमक मिलाकर इसमें टमाटर को डुबोकर रातभर रख दें. अगले दिन टमाटर फिर से फ्रेश लगने लगेंगे.
  4. हमेशा बड़े आकार के और पतली स्किन वाले नींबू ख़रीदें. ये ज़्यादा जूसी होते हैं.
  5. दूध उबलकर गिरे नहीं, इसके लिए बर्तन के किनारे पर थोड़ा-सा बटर रब कर दें. इससे जब दूध उबलकर ऊपर आएगा तो बाहर गिरेगा नहीं.
  6. स्वीटकॉर्न का यलो कलर बरकरार रखने के लिए उबालने के बाद आंच से उतारने के पहले उसमें थोड़ा नींबू का रस मिला दें.
  7. नींबू का रस निकालने से पहले उसे 20 मिनट तक गरम पानी में डुबोकर रखें. रस ज़्यादा निकलेगा.
  8. चाशनी बनाते समय उसमें थोड़ा-सा नींबू का रस मिला दें. शक्कर में कोई इम्प्योरिटी होगी तो ऊपर इकट्ठी हो जाएगी, जिसे आप चम्मच से हटा सकते हैं. ऐसा करने से चाशनी टेस्टी भी बनती है.
  9. रोटियां बेलते समय सूखे आटे के तौर पर चावल के आटे का इस्तेमाल करें. रोटियां ज़्यादा सॉफ्ट बनेंगी.
  10. केक या पुडिंग में अगर किशमिश या ड्राई फ्रूट्स मिलाना हो तोघोल में उन्हें डालते से पहले थोड़े-से सूखे आटे से कोट कर दें. इससे बेकिंग के समय वे घोल में डूबेंगे नहीं.
  11. दाल पकाते समय उसमें थोड़े-से मेथीदाने भी मिला दें. इससे एसिडिटी- गैस की समस्या भी नहीं होगी और दाल टेस्टी भी बनेगी.
  12. अगर ब्रेड, बन या पाव बच गए हों तो उसमें हरी मिर्च, अदरक, प्याज़, नमक, पानी आदि मिलाकर घोल बना लें और पकौड़े तल लें.
  13. अगर आप ग्रेवी में दही मिला रही हैं तो नमक आख़िर में मिलाएं. इससे दही फटेगा नहीं.
  14. अगर सब्ज़ियां फ्रेश न लग रही हों तो ठंडे पानी में नींबू का रस मिलाकर इसमें सब्ज़ियों को थोड़ी देर डुबोकर रखें. सब्ज़ियां दोबारा फ्रेश लगने लगेंगी.
  15. खीर बनाना हो तो दूध उबलने के बाद आंच धीमी कर दें और 8 का शेप बनाते हुए लकड़ी के चम्मच से लगातार चलाएं. इसके अलावा शक्कर हमेशा आख़िर में मिलाएं. इससे खीर का चावल जल्दी पकेगा. शक्कर पहले ही मिला देने से चावल पकने में देर लगेगी.
  16. कोई डिश में बटर में बनाना हो तो बटर के साथ थोड़ा तेल भी मिला दें. इससे बटर जलेगा नहीं.

ये भी पढें: साउथ इंडियन ब्रेकफास्ट: लेमन सेंवईं

क्लीनिंग टिप्स

  1. यदि फर्श पर तेल, घी या दूध गिर जाए तो उस पर सूखा आटा छिड़ककर अख़बार से साफ़ करें. चिकनाई और धब्बे निकल जाएंगे.
  2. अगर खाना बनाते समय बर्तन बुरी तरह जल जाए तो उसमें थोड़ा-सा डिटर्जेंट और पानी डालकर उबालें. बर्तन आसानी से साफ़ हो जाएगा.
  3. गैस या किचन प्लेटफॉर्म की सफाई के लिए पुराने मोजों का इस्तेमाल करें. इससे क्लीनिंग तो बेहतर होगी ही, स्क्रैचेज़ भी नहीं पड़ेंगे.
  4. किचन के वॉशबेसिन पर लगे दाग-धब्बों को दूर करने के लिए नींबू को विनेगर में डुबोकर बेसिन पर रगड़ें.
  5. अगर सिंक जाम हो जाए तो नमक और सोडा को बराबर मात्रा में मिलाकर सिंक के छेद में डाल दें. थोड़ा-सा डिटर्जेंट पाउडर डालें. आधे घंटे बाद उबला हुआ तेज़ी से डालें. सिंक का जाम खुल जाएगा.
  6. क्रॉकरी को इस्तेमाल के बाद तुरंत धोकर रखें, वरना इस पर लगे दाग निकल नहीं पाते.
  7. क्रॉकरी क्लीन करने के लिए लिक्विड सोप में थोड़ा नमक भी मिला लें. क्रॉकरी चमक उठेगी.
  8. क्रॉकरी को साफ़ करने के लिए स्पंज का इस्तेमाल करें. इससे स्क्रैच नहीं पड़ेंगे.
  9. स्टेनलेस स्टील के बर्तनों पर लगे दाग़ हटाने के लिए प्याज़ के रस में विनेगर मिलाकर इससे बर्तन साफ करें. दाग़ निकल जाएंगे.

 

किचन मैनेजमेंट टिप्स

  1. नमक, शक्कर, दाल, मसाले आदि रोज़ाना इस्तेमाल होनेवाली चीज़ों को ट्रांस्परेंट जार में रखें, ताकि उसे ढूंढने में टाइम बर्बाद न हो.
  2. इसी तरह रोज़ाना काम आनेवाली चीज़ों जैसे नमक, मिर्च, मसाले आदि को प्लेटफॉर्म के आसपास ही ऊपर रैक पर रखें, बाकी चीज़ों को रैक या कैबिनेट में रखें.
  3. रोज़ाना इस्तेमाल होनेवाले अप्लायंसेस जैसे मिक्सर, टोस्टर आदि को काउंटर पर ही रखें. जबकि कभी-कभार इस्तेमाल होनेवाले अप्लायंसेस को कैबिनेट में रखें, ताकि आपका किचन भीड़भाड़ भरा न लगे.
  4. छोटी-छोटी चीज़ें जैसे चम्मच,फोक, किचन नैपकिन आदि को बास्केट या कंटेनर मेें रखें, ताकि किचन बिखरा हुआ न लगे.
  5. महंगी और स्टाइलिश क्रॉकरी, जिन्हें आपने स्पेशल ओकेज़न के लिए रखा है, को भी कैबिनेट में रखें, ताकि वे सुरक्षित रहें.
  6. मिक्सर-टोस्टर आदि ऐसी जगह पर रखें, जहां स्विच पास में हो. इससे इनका यूज़ आसान हो जाएगा.

[amazon_link asins=’B0716FBV67,B06XH1T3M6,B01K4SNXXS’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’fc6d3545-01af-11e8-a34c-c3c7da01b365′]

 

 

रिलेशनशिप क्लीनिंग टिप्स

किसी भी चीज़ को टिकाऊ और व्यवस्थित रखने के लिए समय-समय पर उसकी साफ़-सफ़ाई ज़रूरी होती है. हमारे रिश्ते भी ऐसे ही होते हैं, अगर उन्हें भी टिकाऊ बनाना है, तो समय-समय पर उन्हें भी क्लीनिंग की ज़रूरत पड़ती है. अपने रिलेशनशिप में से तमाम बुरी आदतें, नकारात्मक भावनाएं दूर करके उन्हें क्लीन करें और अपने रिश्ते को बनाएं परफेक्ट.

2

ईगो: किसी भी रिश्ते की मज़बूती के लिए बहुत ज़रूरी है ईगो को बीच में न आने दिया जाए, लेकिन  हम अपने अहम् को इतना महत्व देते हैं कि अधिकतर रिश्ते इसी के भेंट चढ़ जाते हैं.

–  ईगो को इतना बड़ा बना लेते हैं कि उसके सामने रिश्ते छोटे लगने लगते हैं.

– छोेटी-छोटी बातों को अपने स्वाभिमान का विषय बनाकर अपनों से ही उलझ पड़ते हैं.

– बहुत ज़रूरी है कि अपने रिश्ते में से ईगो को क्लीन किया जाए, ताकि आपका रिश्ता रहे लॉन्ग लास्टिंग.

ईर्ष्या: अपने रिश्ते को सेफ रखने के लिए बहुत ज़रूरी है कि ईर्ष्या को मन में न पनपने दें. चाहे कोई भी रिश्ता हो, ईर्ष्या अगर दिल में घर कर जाए, तो क़रीबी रिश्ते को भी ख़त्म कर सकती है.

– अपनी भावनाएं सकारात्मक रखें.

– नकारात्मक विचार मन से निकाल दें.

– यदि किसी में कोई कमी या कमज़ोरी भी है, तो भी उसके गुणों पर ध्यान दें.

– किसी की सफलता पर ईर्ष्या करने से नकारात्मक ऊर्जा बढ़ती है. बेहतर होगा कि इस दुर्गुण को अपने रिश्ते से क्लीन करें, प्रशंसा करना सीखें और रिश्ते को पॉज़िटिव बनाएं.

 

2

कम्यूनिकेशन गैप: अक्सर हमें एहसास ही नहीं हो पाता और हमारे बीच मौन पसर जाता है. अंजाने में ही हम अपने रिश्ते के प्रति इतने कैज़ुअल होते चले जाते हैं कि आपस में बातचीत करना हमारी प्राथमिकता में रहता ही नहीं.

– बेहतर होगा कि कम्यूनिकेशन गैप को क्लीन करें और आपस में बात और शेयरिंग का सिलसिला जारी रखें.

–  न स़िर्फ अपने सुख-दुख, बल्कि छोटी-छोटी बातें भी शेयर करने का अलग ही सुख होता है. इससे रिश्ते मज़बूत बनते हैं.

ठंडापन: रिश्ते में ठंडापन और उदासीनता ख़तरे की निशानी है. अगर आपका रिश्ता भी इसी स्थिति से गुज़र रहा है, तो अलर्ट हो जाएं और इसे अपने रिलेशनशिप से दूर करें.

–  रोमांटिक पलों को एंजॉय करें और ऐसे पलों को ज़रूर चुराएं, जो आप दोनों को क़रीब लाएं.

–  सरप्राइज़ दें, डेट्स प्लान करें.

–  कुछ नया करें, ताकि एक्साइटमेंट बना रहे.

1

सेक्स के प्रति अरुचि: सेक्स एक बेहद महत्वपूर्ण हिस्सा होता है. इसे नज़रअंदाज़ करना रिश्ते के लिए ख़तरनाक हो सकता है.समय के साथ-साथ सेक्स के प्रति अरुचि होने लगती है, जिससे रिश्ता उबाऊ होने लगता है.

– एक-दूसरे के प्रति आकर्षण बना रहे, इसका प्रयास जारी रखें.

– अपनी फिटनेस व पर्सनल हाइजीन का ख़्याल भी रखें.

–  पार्टनर को कॉम्प्लीमेंट्स दें. रोमांटिक बातें करें.

– बेडरूम का डेकोर भी रोमांटिक ही रखें. बीच-बीच में डेकोर बदलते रहें, ताकि नीरसता न आए.

झूठ और अविश्‍वास: अपने रिश्ते को झूठ और अविश्‍वास जैसी चीज़ों से बचाएं. विश्‍वास की बुनियाद पर ही रिश्ते खड़े होते हैं.

– बेहतर होगा कि ऐसी नौबत न आए कि आपको झूठ बोलना पड़े.

– कोई भी बात हो, अपने पार्टनर से ज़रूर शेयर करें, क्योंकि बातें छिपाने पर ग़लतफ़हमियां बढ़ती हैं.

–  ग़लतफ़हमियां बढ़ने पर अविश्‍वास भी बढ़ता है, जिससे रिलेशनशिप में और उलझनें बढ़ने लगती हैं.

शक: अपने पार्टनर पर विश्‍वास करें. बात-बात पर या बेवजह शक करना या बहुत अधिक रोक-टोक व सवाल-जवाब करना सही नहीं. इससे पार्टनर को लगेगा कि आपको उन पर भरोसा नहीं.

– शक करने की कोई बड़ी वजह हो, तो बेहतर होगा कि आपस में बातचीत करके मसला हल करें.

– बेवजह मन में कड़वाहट पाले रखने से आपके स्वभाव व आपके रिश्ते पर नकारात्मक असर ही होगा.

– भरोसा करना सीखें. इससे रिश्तों में अपनापन और प्यार बढ़ता है और सामनेवाला भी आप पर भरोसा करके ख़ुद को सहज महसूस करता है.

3

अत्यधिक अपेक्षाएं: अपेक्षाएं स्वाभाविक हैं, लेकिन अत्यधिक अपेक्षाएं स़िर्फ दुख और निराशा ही देती हैं. ख़ुद को, अपने रिश्ते को इस कसौटी पर हमेशा परखें कि आपने क्या और कितनी अपेक्षाएं पाली हुई हैं.

–  अपने साधनों और एक-दूसरे के स्वभाव को जानने के बाद कुछ बदलाव आपको करने ही होंगे.

–  यह अपेक्षा करना कि सब कुछ आपके मन मुताबिक़ ही होगा, सही नहीं.

–  रिश्तों में त्याग व समर्पण करना ही पड़ता है, तभी वे टिकते हैं.

–  समय-समय पर अपने रिश्ते का विश्‍लेषण ज़रूर करें और नकारात्मक चीज़ों को बाहर करके रिश्ते को क्लीन करें.

रिश्ते को समय न देना: समय के साथ-साथ हम अपने रिश्ते को बहुत ही कैज़ुअली लेने लगते हैं. अपने प्रोफेशन से लेकर दोस्तों तक को हम समय देते हैं, लेकिन धीरे-धीरे अपने रिश्ते को ही समय देना भूल जाते हैं.

– यह ग़लती कभी न करें. आपके अपनों को सबसे ज़्यादा आपके समय की ही ज़रूरत होती है.

–  समय निकालकर उन्हें ख़ुश करें और उन्हें स्पेशल फील करवाएं.

ज़िद व ग़ुस्सा: हर बात पर ज़िद करना या ग़ुस्सा होना ठीक नहीं है. अगर आप ऐसा करते हैं, तो संभल जाइए.

– ज़िद व ग़ुस्सा जैसी भावनाएं अच्छे से अच्छे रिश्ते को तोड़ सकती हैं.

– अपने रिश्ते को बचाए रखने के लिए आपको इन भावनाओं पर नियंत्रण करना ही होगा.

ताने देना: कुछ लोगों की आदत होती है बात-बात पर ताने देने की. कभी लड़ाई-झगड़े के दौरान, तो कभी मज़ाक के नाम पर भले ही आप ताने देते हों, लेकिन आपकी कही बातें सामनेवाले को तकलीफ़ दे सकती हैं.

– अपने चाहनेवालों का सम्मान करें. उन्हें सबके सामने नीचा दिखाने से बचें.

– जाने-अंजाने अगर आपमें यह आदत है, तो इसे समय रहते ठीक कर लें, वरना आपके रिश्ते पर यह भारी पड़ सकती है.

– विजयलक्ष्मी