cm

रिप्ड जींस को लेकर आजकल विवाद उठ खड़ा हुआ है और इसकी वजह है उत्तराखंड के मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत का वो बयान जिसमें उन्होंने रिप्ड जींस पर कहा था कि ऐसे कपड़े पहननेवाली महिलाएं बच्चों और समाज को क्या संदेश देंगी. ये हमारे समाज को तोड़ने की तरफ़ ले ज़ा रही है और बच्चों को ग़लत उदाहरण पेश करती है जिससे वो ग़लत रास्ते पर चल पड़ते हैं.
मिस बयान के आते है काफ़ी हड़कंप मच गया था और सबसे पहले अमिताभ बच्चन की नातिन नव्या नवेली की प्रतिक्रिया सामने आई थी और फिर एक के बाद एक हर तरफ़ इस बयान की आलोचना होने लगी!

अब कंगना का भी ट्वीट सामने आया है जिसमें उन्होंने रिप्ड जींस पहने अपनी तस्वीरें शेयर कर बताया है कि रिप्ड जींस कैसे पहनते हैं. उन्होंने युवाओं को सलाह दी है और ट्वीट में लिखा है कि अगर आपको रिप्ड जींस पहननी है तो इस बात का ख़याल रखें कि कूलनेस लेवल इन तस्वीरों जैसा हो, ताकि वो आपका स्टाइल लगे न कि आप बेघर भिखारी जैसे नज़र आएं, जिसे घरवालों से इस महीने का खर्च न दिया हो. ज्यादातर युवा आजकल ऐसे ही दिखते हैं.

Kangana Ranaut
Kangana Ranaut
Kangana Ranaut

कंगना के इस ट्वीट पर भी प्रतिक्रिया आ रही है, लोग बॉलीवुड को ही कोस रहे हैं कि उनको भारतीय कल्चर अपनाने में शर्म आती है.
Photo Courtesy: Twitter

यह भी पढ़ें: अपारशक्ति खुराना जल्द ही बनने वाले हैं पापा, पत्नी आकृति हैं प्रेग्नेंट (Aparshakti Khurana To Become Father Soon, wife Aakriti are expecting their first child)

jayalalitha

अन्नाद्रमुक पार्टी का कहना है कि जयललिता (Jayalalitha) की बीमारी व उनके निधन के सदमे में अब तक 77 लोग अपनी जान गंवा चुके हैं. हालांकि केंद्र की एजेंसी की मानें, तो यह आंकड़ा 30 के आसपास है. दरअसल, जयललिता को लोग अपना भगवान मानते थे और उनकी पूजा की जाती थी. यही वजह है कि वो इतनी पॉप्युलर थीं कि लोग अब उनके जाने का ग़म बर्दाश्त नहीं कर पा रहे.
राज्य सरकार ने जान गंवा चुके लोगों के परिवारों के लिए 3 लाख रुपए के मुआवज़े का भी ऐलान किया है. इसके अलावा कुछ लोगों ने ख़ुद को आग लगाने व अपनी उंगली काटने की भी कोशिश की थी, जिन्हें 50 हज़ार का मुआवज़ा दिया जाएगा.

jayalalitha

जयललिता (jayalalitha) आयंगर थीं, इसके बावजूद उनका अंतिम संस्कार आयंगर प्रथा के अनुसार नहीं हुआ. उनका दाह संस्कार न करके उन्हें मरीना बीच पर दफनाया गया. उनके अंतिम संस्कार से जुड़े वरिष्ठ अधिकारी ने जानकारी दी कि दिवंगत मुख्यमंत्री हमारे लिए आयंगर नहीं थीं. वो किसी भी जाति व धर्म से परे थीं. इससे पहले भी पेरियार, अन्ना दुरई व एमजीआर जैसे नेताओं को भी दफनाया ही गया था. इन्हें चंदन व गुलाबजल के साथ दफनाते हैं और दफनाए जाने से इनके समर्थकों को एक स्मारक के तौर पर इन्हें याद रखने में सहायता मिलती है.
इसके अलावा कुछ अन्य वजहें भी बताई जा रही हैं, जिसमें सबसे प्रमुख यह है कि जयललिता का कोई भी क़रीबी रिश्तेदार नहीं था सिवाय उनकी भतीजी दीपा के. ऐसे में उन्हें दफनाए जाने पर किसी को भी आपत्ति नहीं थी. हिंदू समाज में यह भी मान्यता है कि संत, पवित्रजन व 3 साल से कम उम्र के बच्चों का दाह संस्कार न करके उन्हें दफनाया जाता है. उनके चाहनेवाले उन्हें संत व पवित्रता के प्रतीक के रूप में भी देखते थे. यह भी एक वजह मानी जा रही है कि जयललिता को दफनाया गया.

Jayalalitha

  • तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता (Jayalalitha) नहीं रहीं. चेन्नई के अपोलो हॉस्पिटल में ली आखिरी सांस.
  • जयललिता को रविवार को हार्ट अटैक आया था, इसलिए उन्हें सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया था.
  • ग़ौरतलब है कि जयललिता 22 सितंबर से ही अस्पताल में भर्ती थीं.
  • उन्हें बुख़ार, डिहाइड्रेशन और कंजेशन की समस्या के बाद अस्तपताल लाया गया था,  जहाँ सोमवार को उनका निधन हो गया.
  • पूरे राज्य में हाई अलर्ट घोषित किया गया. बड़ी तादाद में पुलिसकर्मी तैनात किये गए.

jayalalitha

चेन्नई के अपोलो अस्पताल में भर्ती जयललिता (Jayalalitha) की सेहत के बारे में अपडेट करते हुए अस्पताल की तरफ़ से यही कहा गया कि दुआ करें. जयललिता को रविवार को हार्ट अटैक आया था, इसलिए अब उन्हें सपोर्ट सिस्टम पर रखा गया है. ग़ौरतलब है कि जयललिता 22 सितंबर से ही अस्पताल में भर्ती हैं. उन्हें बुख़ार, डिहाइड्रेशन और कंजेशन की समस्या के बाद अस्तपताल लाया गया था.
उनके लिए लोगों ने ट्वीट्स करके दुआएं मांग रहे हैं, ताकि वे जल्द स्वस्थ हों.

×