Tag Archives: commitment

रिश्तों में बदल रहे हैं कमिटमेंट के मायने… (Changing Essence Of Commitments In Relationships Today)

कभी वो ख़्वाब हो जाता है, कभी हक़ीक़त… कभी चाहत बन जाता है, कभी इबादत… मुहब्बत नाम है उसका, इश्क़ अंजाम है उसका… पर व़क्त के साथ-साथ वो कुछ-कुछ बदल जाता है… ताउम्र का साथ है यूं तो, पर अब वो क़समें नहीं हैं, चल रहे हैं हाथों में डाले हाथ, पर अब वो रस्में नहीं हैं…

Relationships Tips

व़क्त के साथ-साथ बहुत कुछ बदलता है, जीवन के प्रति नज़रिया, हमारा दृष्टिकोण, चीज़ों और लोगों को परखना हो या फिर रिश्तों को… हर बात के मायने समय के साथ बदल जाते हैं और आज की तारीख़ में, जहां समाज में इतना सब कुछ बदल रहा है, तो इसका सबसे ज़्यादा असर हमारे रिश्तों पर ही पड़ा है.

हम अक्सर कहते हैं कि रिश्तों में वो पहले जैसी बात नहीं. लेकिन सच तो यह है कि बदले हम हैं, रिश्ते नहीं. दरअसल, रिश्ते तो वही हैं, लेकिन हमारा नज़रिया उनके प्रति अब पहले जैसा नहीं रहा. यही वजह है कि रिश्तों में जो सबसे अहम् कड़ी होती थी- कमिटमेंट, उसके भी मायने बदल गए हैं. कैसे? आइए जानें.

जन्म-जन्मांतर का साथ, पुरानी हो गई अब ये बात: पहले सात फेरों को हम इस जन्म का ही नहीं, सात जन्मों का बंधन मान लेते थे. लेकिन अब यह सोच पुरानी हो चुकी है. रिश्तों को भी हम कैज़ुअली लेने लगे हैं. निभ गया तो ठीक, वरना रास्ते अलग. शादी जैसे रिश्ते की गंभीरता को भी हमने खो दिया है.

प्रैक्टिकल अप्रोच

रिश्तों को लेकर हम सभी काफ़ी इमोशनल होते हैं, लेकिन अब लोग इनके प्रति भी प्रैक्टिकल अप्रोच रखने लगे हैं. बात-बात पर न तो अब भावुक होते हैं और न ही हर चीज़ में इमोशनल फैक्टर ढूंढ़ते हैं. पार्टनर का खाने पर इंतज़ार करना, उसके साथ ही मूवी देखने जाना या उसकी पसंद को ध्यान में रखते हुए कपड़े पहनना… ये तमाम बातें आज की तारीख़ में आपको इमोशनल फूल ही साबित करती हैं.

स्पेस देना

अब लोग स्पेस के नाम पर थोड़ी-बहुत चीटिंग भी कर लेते हैं. इसमें उनको कोई बुराई नज़र नहीं आती. न तो एक-दूसरे को हर बात बतानी होती है, न ही एक-दूसरे के पासवर्ड्स पता होने ज़रूरी हैं. एक पार्टनर को लगता है कि अगर मैंने अपने पार्टनर की पर्सनल लाइफ में ज़्यादा दख़लअंदाज़ी की, तो वो भी करेगा. इसलिए सेफ यही है कि न तो एक-दूसरे के मैसेज चेक करें और न ही एक-दूसरे का सोशल मीडिया अकाउंट.

कम्यूनिकेशन का तरीक़ा बदल गया है

अब साथ बैठकर डिनर के टेबल पर रोज़ की दिनचर्या डिसकस नहीं होती, पति एक कमरे में लैपटॉप पर रहता है, पत्नी टीवी के सामने अपने मोबाइल पर व्यस्त रहती है. हैरानी की बात नहीं है कि एक ही घर में एक-दूसरे को सोशल मीडिया पर ही मैसेज भेजकर बातें कर लेते हैं. फेस-टु-फेस कम्यूनिकेशन लगभग ख़त्म होता जा रहा है. फोन और मैसेजेस ही सबसे बड़ा ज़रिया हैं.

शादी अब ज़रूरी नहीं

पहले अगर दो लोग प्यार करते थे, तो ज़ाहिर है उनकी मंज़िल शादी ही होती थी, लेकिन अब शादी के बारे में शायद बहुत बाद में सोचा जाता है, प्यार भी जब तक है, तब तक ठीक है, मनमुटाव हुआ, तो आसानी से लोग रास्ता बदल देते हैं. दूसरी ओर, लड़कियां भी अब शादी का कमिटमेंट रिश्तों में नहीं ढूंढ़तीं. दरअसल, सभी लोग एक्सपेरिमेंट करते हैं, अगर कामयाबी मिली, तो शादी भी हो ही जाएगी और यदि नहीं, तो ग़लत रिश्ते में बंधने से बच जाएंगे, इसी सोच के साथ आगे बढ़ते हैं.

फ्लर्टिंग से अब परहेज़ नहीं

अगर पार्टनर को पता है कि उसका पार्टनर अपनी कलीग या ऑनलाइन दोस्तों से फ्लर्ट करता है, तब भी वो इसे ग़लत नहीं मानती. इसे रोज़मर्रा की ज़िंदगी का हिस्सा समझकर लाइट मोड पर नज़रअंदाज़ कर देती है, क्योंकि इतनी-सी बात के लिए रिश्ते में अनबन को जगह क्यों देना. लोगों की सोच बदल रही है, उन्हें लगता है कि फ्लर्टिंग में कोई बुराई नहीं, यह स्ट्रेस को कम करने का मात्र एक तरीक़ा है, जो आपको रिफ्रेश कर देती है.

यह भी पढ़े: शादी से पहले दिमाग़ में आनेवाले 10 क्रेज़ी सवाल (10 Crazy Things Which May Bother You Before Marriage)

Relationships Goals
परफेक्शन अब ज़रूरी नहीं

शुरू से ही हमारे समाज में पार्टनर को लेकर यही सोच बनी हुई है कि वो हर लिहाज़ से परफेक्ट होना चाहिए, उसमें कोई बुराई या ऐब नहीं होना चाहिए, लेकिन अब ऐसा नहीं है. लोग न तो एक-दूसरे को बदलने की सोचते हैं और न ही उस तरह से जज करते हैं. अगर पार्टनर में कोई कमी भी है, तो उसे अपना लेते हैं, क्योंकि दुनिया में कोई भी परफेक्ट नहीं होता.

हमेशा साथ-साथ नहीं हैं

हर निर्णय पार्टनर से पूछकर ही करना, हर चीज़ और हर बात शेयर ही करना, मूवी, डिनर, पार्टीज़ साथ करना… नहीं, अब ऐसा नहीं है. पहले ये तमाम बातें कमिटमेंट का हिस्सा थीं, पर अब नहीं. अब दोनों वर्किंग होते हैं और वर्किंग न भी हो, तो अपनी सुविधा व समयानुसार ही चीज़ें प्लान करते हैं, जिसमें ज़रूरी नहीं कि वो दोनों हमेशा साथ ही रहें. कभी अपने फ्रेंड्स के साथ, तो कभी कलीग्स के साथ पार्टनर्स अपना वीकेंड, हॉलीडेज़ या बाकी फन एक्टिविटीज़ प्लान कर लेते हैं. इसमें दोनों ही कंफर्टेबल फील करते हैं और बुरा नहीं मानते. उन्हें यह ज़्यादा आसान लगता है, क्योंकि हमेशा एक-दूसरे के सिर पर सवार रहने से बेहतर उन्हें लगता है कि एक-दूसरे को पर्सनल स्पेस दिया जाए.

इस बदलाव के क्या मायने हैं?

क्या ये बदलाव सही है या ग़लत? ये तो बहस का मुद्दा है, क्योंकि एक तरफ़ जहां प्रैक्टिकल होने के चक्कर में भावनाएं ख़त्म हो रही हैं, वहीं रिश्ते टूटने का दर्द भी कम होने लगा है अब लोगों को. फ्लर्टिंग, एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर्स, डिजिटल रिश्ते, बढ़ते तलाक़ आदि इस बदलाव के ही साइड इफेक्ट्स हैं. लेकिन इस बदलाव को रोका नहीं जा सकता, पर हां, निजी तौर पर हर कोई यह प्रयास कर सकता है कि हम अपने रिश्तों में ईमानदार रहें, क्योंकि रिश्तों का दूसरा नाम ही बंधन और अनुशासन होता है. यदि आपको यह अनुशासन और बंधन पसंद नहीं, तो बेहतर होगा कि रिश्तों में बंधें ही नहीं. आज़ाद रहें, अकेले रहें… क्योंकि इस तरह के रिश्ते ही साथी होते हुए भी अकेलेपन को और बढ़ाते हैं. यही वजह है कि आज हर कोई साथी के होते हुए भी कहीं-न-कहीं ख़ुद को अकेला पाता है.

ज़िंदगी के किसी मोड़ पर तो आकर ठहरना होता ही है, लेकिन यह ठहराव अब रिश्तों में नहीं नज़र आता, ऐसे में आप उस मोड़ पर नितांत अकेले रह जाते हैं, जहां सबसे ज़्यादा आपको प्यार, अपनेपन और साथ की ज़रूरत
होती है.

बेहतर होगा कि रिश्तों में समय, कम्यूनिकेशन, कमिटमेंट और प्यार इंवेस्ट करें, ताकि आपका रिलेशनशिप बैंक बैलेंस कभी खाली न हो.

– विजयलक्ष्मी

यह भी पढ़े: घर को मकां बनाते चले गए… रिश्ते छूटते चले गए… (Home And Family- How To Move From Conflict To Harmony)

पहला अफेयर: कैसा तेरा प्यार…? (Pahla Affair: Kaisa Tera Pyar)

Pyar Ki Kahani

पहला अफेयर: कैसा तेरा प्यार…? (Pahla Affair: Kaisa Tera Pyar)

वो नज़रों से प्यार करना तेरा, पर प्यार के साथ-साथ हर बात पर तक़रार करना तेरा… तेरी शरारतों से ही नहीं, तेरी बदतमीज़ियों से भी इश्क़-सा हो गया था मुझे. हसीन था मुहब्बत का वो मंज़र. चाहत से लबरेज़ वो दिन-रात… सब बेहद ख़ुशगवार था. लेकिन कहीं न कहीं कुछ तो कमी थी… मैं भी जानती थी, तुम भी जानते थे कि हम चाहते हुए भी अभी दो से एक नहीं हो सकते… हमें इंतज़ार करना होगा. वजह! न तुम्हारे पास कोई जॉब था, न ऐसा बैकग्राउंड कि हमारे परिवारवाले तैयार हो सकें. तुमने अपनी एजुकेशन भी तो पूरी नहीं की थी… उस पर तुम्हारा ज़िंदगी को जीने का अलग ही अंदाज़. बेपरवाह-सा रवैया…

“मैं न बीते कल में विश्‍वास करता हूं, न आनेवाले कल की कल्पना… मैं आज में, यथार्थ में जीता हूं और आज का सच यही है कि हम साथ हैं. फ्यूचर किसने देखा है… क्या पता कल क्या हो? उसके लिए हम आज को नहीं खो सकते…”

रौशन ये तुम्हारा नज़रिया हो सकता है, पर मेरा नहीं. मुझे फिक्र होती है आनेवाले कल की. हमारे रिश्ते के भविष्य की…

“स्मिता, तुम प्यार करती हो न मुझसे, तो कुछ न कुछ हो ही जाएगा. बस तुम साथ मत छोड़ना, वरना टूट जाऊंगा मैं… ”

पर कहीं न कहीं तो मैं टूटती जा रही थी… तुम स़िर्फ बातें ही करते हो… न कुछ करने की कोशिश है, न किसी बात को गंभीरता से लेते हो. अपने तरी़के से हर चीज़ करनी है, अपनी मर्ज़ी से ही बात करनी है… अजीब रवैया था यह.

शायद जो बदतमीज़ियां पहले मुझे तुम्हारी ओर आकर्षित करती थीं, वही अब मुझे तुमसे दूर करती जा रही थीं… हर रोज़, हर पल मन में सवाल, दुविधाएं बढ़ रही थीं… क्या तुम्हारी ज़िंदगी में और भी है कोई? क्या तुम मुझे लेकर गंभीर ही नहीं… क्या तुम स़िर्फ अपना व़क्त गुज़ार रहे हो… पता नहीं क्या-क्या और किस-किस तरह के ख़्याल!

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: धुंध के पार (Pahla Affair: Dhundh Ke Paar)

उस पर गौरव ने इस दुविधा को और बढ़ा दिया… “स्मिता मैं तुम्हारा अच्छा दोस्त हूं, तुम्हारा बुरा तो नहीं चाहूंगा, तुमने आख़िर उस रौशन में क्या देखा? वो किसी भी तरह से तुम्हारे लायक नहीं, वो स़िर्फ टाइमपास कर रहा है. क्यों अपना व़क्त, अपनी ज़िंदगी उसके पीछे बर्बाद कर रही हो. तुम जैसी न जाने कितनी होंगी उसकी लाइफ में. वैसे भी तुम कहती हो न कि दिनभर ऑनलाइन रहता है… क्या कभी तुमने पूछा है कि किससे बात करता है? क्या बात करता है? क्यों बात करता है? होश में आओ… ”

गौरव की बातों पर गंभीरता से ग़ौर किया, तो लगा सच तो कह रहा है. रौशन की तरफ़ से मुझे कभी यह महसूस नहीं हुआ कि उसे बहुत ज़्यादा मेरी ज़रूरत है अपनी ज़िंदगी में, शायद मैं अकेले ही, अपनी तरफ़ से इस रिश्ते को निभाए जा रही थी.

ज़रूरी नहीं कि हर समय भावनाओं में बहकर ही निर्णय लिए जाएं, कभी-कभी बहुत ज़रूरी होता है अपने स्वाभिमान के लिए कठोर निर्णय लेकर आगे बढ़ा जाए. वरना ज़िंदगी वहीं उलझकर रह जाएगी.

मैंने रौशन से बात की… “हम कब शादी करेंगे?”

“अरे स्मिता, बस थोड़ा इंतज़ार करो. जिस दिन तुम्हारे लायक हो जाऊंगा, बारात लेकर सीधे तुम्हारे घर आऊंगा…”

“…लेकिन तुम कोशिश करोगे, तभी तो किसी लायक बनोगे. तुम तो इसी ज़िंदगी में ख़ुश हो. तुमको लग रहा है, जो जैसा चल रहा है, चलने दिया जाए.”

“हां, तो इस ज़िंदगी में भी क्या बुरा है…”

तुम जिस तरह से हल्के अंदाज़ में जवाब दे रहे थे, मैं समझ गई थी कि गौरव कहीं न कहीं सही था अपनी जगह… ज़रूरी नहीं कि असल ज़िंदगी में आपको फिल्मी हीरो की तरह परफेक्ट पार्टनर ही मिले, हम अक्सर धोखा खा जाते हैं. लोगों को पहचानने में. अगर ग़लती हो गई, तो बेहतर है समय रहते उसे सुधार लिया जाए. शायद मुझसे भी ग़लती हुई थी रौशन को पहचानने में. इस ग़लती को सुधारना ज़रूरी थी.

मैंने उसे मैसेज किया- तुम मेरी ज़िंदगी का अहम् हिस्सा हो, पर मुझे कभी यह महसूस क्यों नहीं हुआ कि मैं भी तुम्हारी ज़िंदगी में उतनी ही अहमियत रखती हूं?

मेरे दोस्त, यहां तक कि मेरे घरवाले भी जानते हैं हमारे रिश्ते के बारे में, लेकिन मुझे आजतक न तुम्हारे दोस्तों के बारे में पता है, न घरवालों के बारे में… और तुम बड़ी-बड़ी बातें करते हो… मुझे नहीं लगता हमारा रिश्ता आगे बढ़ सकता है…
मुझे लगा, शायद इस बात से तो तुम्हें फ़र्क पड़ेगा… लेकिन नहीं, तुमने इसे भी बेहद हल्के अंदाज़ में लिया और तुम्हारी तरफ़ से कभी कोई कोशिश नहीं हुई मुझे रोकनी की…

जानती हूं, तुम आगे बढ़ चुके हो, पर मैंने तो सच्चे दिल से तुमसे प्यार किया था, मैं कैसे आगे बढ़ सकती थी… वहीं खड़ी हूं, उसी मोड़ पर… संभाल रही हूं ख़ुद को… पता नहीं किस उम्मीद में जी रही हूं… हम भले ही बड़ी-बड़ी बातें करते हैं कि प्रैक्टिकल होकर सोचना चाहिए, पर मैं नहीं हूं प्रैक्टिकल… प्यार और रिश्तों में कैसे कोई प्रैक्टिकल हो सकता है… पता है, लोग खेल जाते हैं दिलों से, लेकिन अपना बस नहीं इन भावनाओं पर… हां, अब इतना समझ चुकी कि तुम्हारे इंतज़ार से कुछे हासिल नहीं होगा, बस आगे बढ़ना ही एकमात्र रास्ता है… उसी रास्ते पर चलने की कोशिश में हूं, भले ही अभी लड़खड़ा रही हूं, पर धीरे-धीरे सीख जाऊंगी… संभल जाऊंगी… तुम्हारे बिना जीना सीख जाऊंगी…!

– गीता शर्मा

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: मैसेजवाला लड़का… (Pahla Affair: Messagewala Ladka)

प्यार, सेक्स, कमिटमेंट… कितना बदला रिश्ता! (Love, Sex, Commitment- Changing Concepts Of Relationship)

एक लफ़्ज़, जिसकी पाकीज़गी को शिद्दत से महसूस किया जाता था… प्यार! एक एहसास, जिसे मुहब्बत के ख़ूबसूरत स्वरूप के रूप में साकार किया जाता था… सेक्स! एक अनकहा साथ, जिसे ताउम्र ही नहीं, सात जन्मों का बंधन कहा जाता था… कमिटमेंट! लेकिन समय के साथ और बदलते परिवेश ने इन तमाम शब्दों की परिकल्पना और हक़ीक़त को पूरी तरह से बदल डाला है. आज के संदर्भ में प्यार का मतलब आकर्षण! आज की तारीख़ में सेक्स का मतलब शारीरिक भूख! आज के युग में कमिटमेंट का मतलबमहज़ बेव़कूफ़ी!

Relationship

बदलते समाज की बदलती तस्वीर...

जी हां, यही सच्चाई है कि रिश्तों को सार्थक व पूर्ण करते इन तीनों शब्दों का अर्थ आज पूरी तरह बदल चुका है. बीते व़क्त की बात करें, तो काफ़ी कुछ सहज था. सबके काम व ज़िम्मेदारियां भी बंटी हुई थीं. रिश्तों को लेकर भी मर्यादा व अनुशासन था. प्यार को पवित्र अर्थों में देखा जाता था. जिससे प्यार किया, उसके साथ ही सेक्स करने की बात सोची जाती थी और उसी के साथ शादी के बंधन में बंधकर ज़िंदगीभर उस रिश्ते को प्यार से निभाने का संकल्प भी लिया जाता था.

लेकिन आज ऐसा नहीं है. प्यार को लोग महज़ आकर्षण समझते हैं, जो तब तक ही निभाया जाता है, जब तक कि यह आकर्षण एक-दूसरे के प्रति बरक़रार रहता है. सेक्स के लिए भी अब कमिटेड रिश्ते में बंधने की ज़रूरत नहीं है. सेक्स तो शरीर की डिमांड है, जब ज़रूरत हो, तब कर लो. अगर पार्टनर साथ नहीं है, तो जो मन को भा जाए, उसके साथ कर लो. यही हाल कमिटमेंट का है कि रिश्ते तो बनाते हैं लोग, पर नो गारंटीवाले रिश्ते. कब तक चलेंगे, कह नहीं सकते.

इन रिश्तों और शब्दों के मायने बदलने के कई कारण हैं…

–     हमारा समाज बदल चुका है और उसी के साथ लोगों की सोच भी.

–     अब लोग कमिटमेंट करना ही नहीं चाहते, क्योंकि उन्हें ख़ुद नहीं पता होता कि रिश्ता कब तक चलेगा और कितना टिकेगा.

–     लाइफ फास्ट हो गई है और इस बदलती लाइफस्टाइल का सबसे ज़्यादा असर हमारे रिश्तों पर ही पड़ रहा है.

–     पहले एक-दूसरे के लिए पार्टनर्स एडजेस्टमेंट्स करते थे, अपनी चाहतों को छोड़कर पार्टनर की ख़्वाहिश को पूरा करने की कोशिशें करते थे. उसके सपनों में ही अपने ख़्वाबों को साकार होता देखते थे… और यह सब वो ख़ुशी-ख़ुशी करते थे.

–     वहीं अब सभी लोग सेल्फ सेंटर्ड होते जा रहे हैं. अपनी ख़ुशी, अपने सपने, अपनी ख़्वाहिशें… भले ही वो रिश्ते में भी हों, पर वहां भी अपनी-अपनी अलग ज़िंदगी ही जी रहे होते हैं.

–     स्पेस के नाम पर एक तय दूरी बनाए रखते हैं. कोई किसी के फोन को, ईमेल को या लैपटॉप को खोल नहीं सकता.

–     एक-दूसरे के पासवर्ड्स नहीं पता होते. एक-दूसरे के सोशल मीडिया अकाउंट्स के बारे में ज़्यादा कुछ नहीं पता होता.

–     ऐसे में कमिटमेंट और प्यार की जगह ही कहां बचती है.

–     रही सेक्स की बात, तो अब सेक्स को लेकर भी बहुत कैज़ुअल हो गए हैं. आजकल ज़रूरी नहीं कि पार्टनर के साथ ही सेक्स हो.

–     ज़रूरी नहीं कि शादी के बाद ही सेक्स हो.

–     क्योंकि शादी तक कौन इंतज़ार करे और क्या पता शादी कब और किससे हो?

यह भी पढ़ें: कंडोम न इस्तेमाल करने के बहाने, आपका बहाना क्या है? (Ridiculous Excuses By Men For Not Using Condoms)

Couple Goals

–     ऐसे में सेक्स के एहसास से अछूता क्यों रहा जाए?

–     एक्सपोज़र इतना बढ़ गया है कि आजकल सब कुछ आसानी से उपलब्ध है.

–     बच्चों की परवरिश के तौर-तरी़के भी बदल गए हैं.

–     पैरेंट्स की सोच बदल गई है, तो भला संस्कार भी पहले जैसे कैसे रहेंगे, उनमें भी बदलाव लाज़िमी है.

–     फ्री सेक्स का कॉन्सेप्ट आज की जेनरेशन को ज़्यादा सुविधाजनक लगता है, जिसमें न प्यार की भावनाओं का पहरा और न ही कमिटमेंट का बंधन.

–     भावनाएं और कमिटमेंट में बहनेवालों को आज की तारीख़ में बेव़कूफ़ समझा जाता है और इनसे परे जो लोग हैं, उन्हें स्मार्ट कहा जाता है.

–     ऐसा नहीं है कि स़िर्फ लड़के ही ऐसी सोच रखते हैं, लड़कियां भी इसी तरह की सोच को तवज्जो देती हैं.

–     वो भी प्रैक्टिकल होने और लाइफ के प्रति प्रैक्टिकल अप्रोच रखने में ही ज़्यादा विश्‍वास करती हैं.

–     उनके लिए भी करियर और पैसा, प्यार और कमिटमेंट से ज़्यादा महत्वपूर्ण है. वो रिश्तों में भी भावनाएं नहीं अपनी सुविधाएं ढूंढ़ती हैं.

–     अपनी मर्ज़ी से जीने का शग़ल, न कोई कमिटमेंट, न कोई स्ट्रगल… हां, स्ट्रगल अगर करियर और पैसों के लिए हो, तो कोई बात नहीं, पर रिश्तों के लिए यह वेस्ट ऑफ टाइम है.

–     रिश्ता निभे तो ठीक, वरना उसे लंबे समय तक ढोना समझदारी नहीं.

–     पर रिश्ता निभाने के लिए दोनों ही तरफ़ से कोई अतिरिक्त प्रयास की गुंजाइश आज नहीं है.

–     पहले लड़कियां यह प्रयास करती थीं और आज भी कुछ लोग हैं, जो पूरी तरह प्रैक्टिकल नहीं हुए हैं, पर अब जब लड़कियों के भी प्रयास कम हो गए, तो रिश्तों से प्यार और कमिटमेंट गायब हो गया.

–     लड़कों की ओर से न पहले प्रयास होते थे और न आज ही कोशिशें होती हैं.

–     तो प्यार और कमिटमेंट के बिना अब स़िर्फ सेक्स ही रह गया है, वो भी जब मूड हो और जिसके साथ मूड हो.

–     एक ही पार्टनर के साथ अब सेक्स उबाऊ लगने लगा है. लोग अपनी लाइफ में स्पाइस ऐड करने के लिए शादी के बाहर भी सेक्स करने से परहेज़ नहीं करते.

–     शादी में तो वैसे भी एक्साइटमेंट नहीं रह गया. कुछ समय बाद सब कुछ रूटीन लगने लगता है और फिर उस पर डबल इंकम नो सेक्स का बढ़ता कॉन्सेप्ट, क्योंकि पार्टनर के साथ सेक्स के लिए न टाइम है, न एनर्जी.

–     ऐसे में जब सेक्स का मन हो, तो जो मिले उसके साथ कर लो.

–     ऐसा भी है कि पहले समाज का एक डर और परिवार का बंधन भी था, जो लोगों को मनमानी से रोकता था. यही अनुशासन कहलाता था.

–     पर आज यह डर भी ख़त्म होता जा रहा है, क्योंकि घर, परिवार, पैरेंट्स और समाज ने भी इस बदलाव को कुछ हद तक स्वीकार कर लिया है.

–     यूं भी हर कोई आत्मनिर्भर है, तो वो किसी भी रोक-टोक को अनुशासन न समझकर अपनी निजी ज़िंदगी में दख़लअंदाज़ी मानते हैं.

–     सभी का यही कहना होता है कि यह उनकी ज़िंदगी है, चाहे जैसे जीएं.

–     सोशल मीडिया ने भी बहुत हद तक इन रिश्तों और शब्दों के मायनों को बदलने में भूमिका निभाई है. लोग ऑफिस के बाद अब सबसे ज़्यादा यहीं बिज़ी रहते हैं और यहीं सुकून तलाशते हैं. जहां डिजिटल वर्ल्ड और फेक रिश्ते उन्हें ज़्यादा आकर्षित करते हैं. ऐसे में रियल वर्ल्ड के रिश्ते बोरिंग लगने लगते हैं और वहां प्यार और कमिटमेंट की जगह कम ही रह जाती है.

–     ऐसे में प्यार, सेक्स और कमिटमेंट का यह बदलता स्वरूप कुछ समय तक तो यूं ही रहनेवाला है.

यह स्वरूप अब भले ही सुविधाजनक लग रहा होगा, पर भविष्य में इसका ख़ामियाज़ा तो सभी को भुगतना पड़ेगा. जहां कहने को अपना कोई नहीं होगा, ऐसा कोई शख़्स कहीं नज़र नहीं आएगा, जिसके कंधे पर सुकून से सिर रखकर अपने ग़म भुला सकें. व्यावसायिक और ज़िंदगी की चुनौतियों के बीच कभी न कभी तो यह एहसास होगा ही कि कोई ऐसा हो, जिसे अपना कह सकें. जिसके साथ प्यार भी हो, कमिटमेंट भी और सेक्स भी उसी के साथ हो, क्योंकि प्यार और रिश्ते का सही मायनों में भी यही अर्थ होता है, बाकी सब व्यर्थ और अनर्थ ही है.

– ब्रह्मानंद शर्मा

यह भी पढ़ें: जानें वो 10 कारण जो आपको ऑर्गैज़्म से वंचित रख रहे हैं? (10 Reasons You’re Not Having An Orgasm)

यह भी पढ़ें: माथे पर क्यों किस करते हैं पार्टनर्स? (What It Means When Partner Kisses On Forehead?)

प्यार, सेक्स और कमिटमेंट… कितना बदला रिश्ता? (Why Our Relationship Changes Over Time?)

Why Our Relationship Changes Over Time

समाज जितनी तेज़ी से बदल रहा है, उतनी ही तेज़ी से प्यार, सेक्स और कमिटमेंट की परिभाषा व अहमियत भी बदल रही है. नई पीढ़ी संबंधों के अर्थ को पुनः परिभाषित कर रही है. इस दौर में जब इंस्टेंट कॉफी, फास्ट फूड, फेसबुक, ट्विटर और नेट चैट एक ट्रेंड व इन-थिंग बन गया है, प्यार का अर्थ बदला है और उसके साथ ही सेक्स व कमिटमेंट को लेकर भी धारणाएं बदली हैं.  सेक्स को प्यार माना जा रहा है और कमिटमेंट को बंधन. विपरीत सेक्स के प्रति आकर्षण बरक़रार है, पर आज का युगल कमिटमेंट से डरता है. आज प्यार में सेक्स घुल गया है और जब रिश्तों में प्यार न हो, तो कमिटमेंट का सवाल ही नहीं उठता है. प्यार शॉर्ट एंड स्वीट और लिव-इन के चारों ओर चक्कर लगा रहा है.

आज सामाजिक संबंधों के साथ-साथ परिवार के आत्मीय रिश्तों से जुड़े सरोकार भी बहुत कमज़ोर पड़ रहे हैं. हर जगह स्वार्थ पसर गया है. परिवार के आत्मीय संबंधों पर चोट करनेवाली तमाम घटनाएं आज देखने में आ रही हैं.

Why Our Relationship Changes Over Time
शॉर्टकट रिश्तों में भी

प्यार, रिश्ते और अपनापन जैसी भावनाओं पर स्वार्थ और शारीरिक आकर्षण हावी हो गया है. कमिटमेंट अब लोगों को बंधन लगता है, ऐसे में ज़िम्मेदारियां निभाना भी बोझ लगता है. हर कोई अपनी तरह से जीने का नारा लगाता हुआ लगता है. रिश्तों में भी शॉर्टकट अपनाया जाने लगा है. मिलो, बैठो कुछ पल और फिर एक दूरी बना लो. हर कोई अपनी एक स्पेस की चाह में अपनों से ही दूर होता जा रहा है. आज रिश्ता चीन के उस उत्पाद की तरह हो गया है, जो सस्ता तो है, पर टिकाऊ है या नहीं, इसका पता नहीं.

वर्तमान समय में रिश्तों की अहमियत इतनी बदल चुकी है कि कोई भी व्यक्ति, चाहे अपनी व्यस्तता के कारण हो या निजी स्वार्थवश, बस रिश्तों को निभाने की बजाय उसे ढो रहा है.

समाजशास्त्री नेहा बजाज मानती हैं कि यह बबलगम प्यार का दौर है और इसमें युवा लड़का और लड़की दोनों ही की सोच एक जैसी है. जिस तरह आप बबलगम चबाते रहते हैं और जब मन भर जाता है, तब उसे थूक देते हैं, उसी तरह प्यार भी हो गया है. इसलिए आज के युग में कमिटमेंट का स़िर्फयही मतलब रह गया है कि फिल्में जाओ, पब और पार्टी में जाओ और अच्छे दोस्तों की तरह चिलआउट करो. इस बदलते दृष्टिकोण या व्यवहार का मुख्य कारण व्यक्तिगत स्वतंत्रता है, क्योंकि कोई भी अपनी आज़ादी नहीं खोना चाहता.

कमिटमेंट से डरने लगे हैं लोग

रिश्ते बनाना तो आसान है, मगर निभाना मुश्किल है, क्योंकि निभाने के लिए चाहिए होता है कमिटमेंट. पर आजकल लोग रिश्तों को स़िर्फ सोशल मीडिया से ही निभा रहे हैं.

आज बिना किसी ज़िम्मेदारीवाले संबंध आसान और आरामदायक होते जा रहे हैं. दीर्घकालीन संबंध बोरिंग लगने लगे हैं. विडंबना तो यह है कि आज रिश्तों में न तो कोई उम्मीद रख रहा है, न ही आश्‍वस्त कर पा रहा है कि हम हैं तुम्हारे साथ. कमिटमेंट बदलते हैं, लोग बदल जाते हैं और किसी को भी इससे शिकायत नहीं होती. दीर्घकालीन संबंध तेज़ी से इतिहास का हिस्सा बनते जा रहे हैं. युवा कमिटमेंट से बहुत अधिक डरे और सहमे हुए हैं और जब अफेयर गंभीर होने लगे, तो उन्हें परेशानी होने लगती है. उन्हें लगता है कि परंपरागत और ओल्ड फैशंड अफेयर का मतलब ग़ुलामी और स्वतंत्रता खो देना है.

यह भी पढ़ें: बिगड़ती लाइफस्टाइल कहीं बिगाड़ न दे आपकी सेक्सुअल लाइफ? 

हालांकि अभी भी ऐसा वर्ग है, जो प्यार को महत्वपूर्ण मानता है और सेक्स को मर्यादित दृष्टि से देखता है व कमिटमेंट करने को भी तत्पर है. सारे रिश्ते बबलगम की तरह नहीं हो गए हैं. आज भी लोग प्रेम को गंभीरता से लेते हैं. उनके लिए सबसे महत्वपूर्ण बात है सही साथी की तलाश. और तलाश ख़त्म होने पर जब उनका आपसी तालमेल बैठता जाता है, तो फिर पीछे मुड़कर देखने की कोई आवश्यकता नहीं होती.

Why Our Relationship Changes Over Time

निजी स्वार्थ बढ़ रहा है

वर्तमान की इस तेज़ी से भागती ज़िंदगी के मद्देनज़र अब यह बहस चल पड़ी है कि क्या सामाजिक रिश्तों में अभी और कड़वाहट बढ़ेगी? क्या भविष्य में विवाह और परिवार का सामाजिक-वैधानिक ढांचा बच पाएगा? क्या बच्चों को परिवार का वात्सल्य, संवेदनाओं का एहसास, मूल्यों तथा संस्कारों की सीख मिल पाएगी? क्या भविष्य के भारतीय समाज में एकल परिवार के साथ में लिव-इन जैसे संबंध ही जीवन की सच्चाई बनकर उभरेंगे?

छोटे-छोटे निजी स्वार्थों को लेकर रिश्तों में व्यापक बदलाव देखने को मिल रहा है. आज हर रिश्ता एक तनाव के दौर से गुज़र रहा है. वह चाहे माता-पिता का हो या पति-पत्नी का, भाई-बहन, दोस्त या अधिकारी व कर्मचारी का. इन सभी रिश्तों के बीच ठंडापन पनप रहा है.

संवादहीनता और व्यस्तता की वजह से प्यार रिश्तों के बीच से सरक रहा है और सेक्स मात्र रूटीन बनकर रह गया है. स्त्री-पुरुष दोनों आर्थिक रूप से सक्षम हैं, इसलिए अपनी-अपनी व्यक्तिगत स्वतंत्रता की बात करते हुए कमिटमेंट से बचना चाहते हैं. अपने साथी से पहले जो भी बात कहनी होती थी, वह या तो साथ बैठकर एक-दूसरे से कही जाती थी या फोन पर बातचीत करके. आज इसकी जगह ले ली है व्हाट्सऐप ने. आप मैसेज छोड़ देते हैं. कई बार सामनेवाला पढ़ नहीं पाता और फिर झगड़ा होना तय होता है. कहीं से घूमकर आने के बाद पहले जहां मिल-जुलकर फोटो देखने का मज़ा लेते थे, वहीं आज फेसबुक पर एक-दूसरे की फोटो देखी जाती है.

यह भी पढ़ें: Amazing! सेक्स पावर बढ़ाने के 25 चमत्कारी फॉर्मूले

रिलेशनशिप में प्यार कम, लस्ट (वासना) ज़्यादा होता है. अगर आपका रिश्ता प्यार पर नहीं, वासना पर टिका है, तो वह रिश्ता ज़्यादा दिनों तक नहीं रहता. आमतौर पर रिश्ते टूटने की वजह भी यही बन रहा है. रिश्ते में फिज़िकल कनेक्शन ज़रूर बनता है, लेकिन भावनात्मक रूप से जुड़ाव देखने को नहीं मिलता. तो किस तरह का रिश्ता है यह? केवल आकर्षण या प्यार या फिर केवल लस्ट?

प्रोफेशनल होते रिश्ते

आजकल उन रिश्तों को ज़्यादा अहमियत दी जाती है, जो प्रोफेशनल होते हैं, क्योंकि वो हमारे फ़ायदे के होते हैं. रिश्तों में भी अब हम फ़ायदा-नुक़सान ही देखते हैं. जो कामयाब है, रसूखवाले हैं, पैसेवाले हैं, उनसे संबंध रखने में ही फ़ायदा है. इसके चलते कुछ रिश्ते ऐसे ही ख़त्म हो जाते हैं. हम अब उन रिश्तों को ही अहमियत देते हैं, जिनसे बिज़नेस में और लाइफ में भी ज़्यादा से ज़्यादा फ़ायदा हो. युवापीढ़ी प्रैक्टिकल और कैलकुलेटिव हो गई है. ऐसे में रिश्तों की अहमियत घटना स्वाभाविक ही है.

कमिटमेंट करने के लिए या प्यार निभाने के लिए सच्चाई व ईमानदारी की ज़रूरत होती है. अपने साथी की भावनाओं को समझने की ज़रूरत होती है. सेक्स को प्यार के साथ जोड़ने और रिश्ते में कमिटमेंट के जुड़ने से रिश्ता टिका रहता है. प्लास्टिक के फूलों की ख़ुशबू के साथ कृत्रिम ज़िंदगी जीने से अच्छा है कि प्यार और विश्‍वास के ताज़ा फूलों से रिश्तों को सजा लिया जाए.

– सुमन बाजपेयी

पहचानें रिश्तों की लक्ष्मण रेखा (Earn to respect relationship and commitment)

relationship management

इंसानी ज़िंदगी में रिश्तों (Earn to respect relationship and commitment) की अहमियत से हम सभी वाक़िफ़ हैं, लेकिन शायद हम इस बात को कम ही समझते हैं कि हर रिश्ते की एक मर्यादा, एक लक्ष्मण रेखा होती है. इस लक्ष्मण रेखा को पार करते ही रिश्तों में दरारें आने का ख़तरा बनने लगता है, लेकिन दूसरी तरफ़ यदि इस रेखा को हम दीवार बनाने की भूल करते हैं, तो भी रिश्तों का बचना मुश्किल हो जाता है. ऐसे में सबसे बड़ा सवाल है कि कैसे पहचानें अपने रिश्तों की लक्ष्मण रेखा को?

Earn to respect relationship and commitment

सम्मान: किसी भी रिश्ते के गहरे होने की पहली शर्त होती है सम्मान. स़िर्फ पति-पत्नी ही नहीं, तमाम रिश्तों से लेकर यारी-दोस्ती तक में एक-दूसरे के प्रति सम्मान बेहद अहम् है. हंसी-मज़ाक के दौरान भी यदि हम हद से आगे बढ़ जाते हैं, तो सामनेवाले को ठेस पहुंचती है. ऐसे में यह बात समझना ज़रूरी है कि हर चीज़ की हद होती है. अपने दायरों को लांघते ही जैसे ही हम हदों को पार कर जाते हैं, तो वहां सम्मान ख़त्म हो जाता है और रिश्तों पर नकारात्मक प्रभाव पड़ता है.

अपनी सीमा ख़ुद निर्धारित करें: हम स्वयं इस बात को बेहतर समझते और जानते हैं कि किस रिश्ते की सीमा क्या है और कहां आकर हमें रुकना है. जिस वक़्त हम ये जानकर भी अपनी सीमा रेखा लांघते हैं, तब समस्या शुरू हो जाती है. अगर पति-पत्नी भी एक-दूसरे को हर बात पर टोकें और मज़ाक उड़ाएं, तो एक स्टेज पर आकर उन्हें एक-दूसरे से खीझ होने लगेगी और वो शिकायत करने लगेंगे कि अब उनके बीच वो सम्मान नहीं रहा.

मज़ाक करने और मज़ाक उड़ाने के बीच के अंतर को समझें: बहुत-से लोगों की आदत होती है कि वो बात-बात पर ताने मारते हैं और फिर कहते हैं कि हम मज़ाक कर रहे थे, पर जब यही मज़ाक कोई दूसरा उनके साथ करे, तो उन्हें बुरा लग जाता है. मज़ाक करने का अर्थ होता है कि दूसरों के चेहरे पर हंसी-मुस्कुराहट आए, न कि उन्हें आहत किया जाए. अक्सर यार-दोस्तों की महफ़िल में लोग एक-दूसरे से शरारत करते हैं, पर इस शरारत में यह ध्यान ज़रूर रखें कि कहीं किसी का दिल न दुखा दें आप.

मर्यादा बनाए रखने का यह मतलब नहीं कि कम्यूनिकेट ही न करें: अगर हमें बार-बार अपनी टोकने की आदत के बारे में कोई एहसास करवाए, तो हम अक्सर उस आदत को बदलने की बजाय यह तर्क देते हैं कि अगर तुम्हें मेरी बातें पसंद नहीं, तो बेहतर है हम बात ही न करें. यह अप्रोच बेहद ग़लत व नकारात्मक है. इससे रिश्तों में दीवारें पैदा होती हैं. अच्छा होगा कि आप बातचीत बंद न करें, बल्कि आपसी बातचीत को हेल्दी और पॉज़ीटिव बनाएं.

शब्दों का चयन सही करें: अपनों से बात करते वक़्त हम अक्सर अपने शब्दों के चयन पर ध्यान नहीं देते. हम यह सोचते हैं कि अपनों के साथ क्या औपचारिकता करना और इसी सोच के चलते हम अक्सर लक्ष्मण रेखा भूल जाते हैं. चाहे अपने हों या अन्य लोग, तमीज़ से, प्यार से बात करेंगे, तो सभी को अच्छा ही लगेगा. अपनों के साथ तो और भी सतर्क रहना चाहिए, क्योंकि हमारे द्वारा कहा गया कोई भी कटु शब्द उन्हें ज़्यादा हर्ट कर सकता है, जिससे मन-मुटाव हो सकता है.

अपने निर्णय सब पर न थोपें: अगर आपने कोई निर्णय लिया है, तो सबकी राय और सहमति भी ले लें. अपना निर्णय सुना देना या अपनी ही मर्ज़ी सब पर थोपना भी रिश्तों की मर्यादा का उल्लंघन करना ही है. जिस बात से सब लोग सहमत न हों, उस पर दोबारा विचार करें या फिर सबको अपनी निर्णय की वजह बताकर कोशिश करें कि उन्हें आपके निर्णय से कोई आपत्ति न हो.

हर बात, हर चीज़ पर हक़ न जमाएं: बच्चे हैं, तो माता-पिता की हर चीज़ पर हक़ समझते हैं, भाई-बहन भी यही सोचते हैं कि हम एक-दूसरे की सारी चीज़ पर हक़ जमा सकते हैं और पति-पत्नी तो यह मानकर ही चलते हैं कि हमारी कोई चीज़ पर्सनल नहीं हो सकती. ऐसे में पर्सनल स्पेस खो जाती है और एक समय ऐसा आता ही है, जब हमें लगता है कि सामनेवाला अपनी सीमा रेखा लांघ रहा है. हर रिश्ते में स्पेस की ज़रूरत होती ही है और जब वो नहीं मिलती, तो घुटन होने लगती है और रिश्तों में दरार आने का डर बन जाता है.

किसी के निजी जीवन में बेवजह दख़लअंदाज़ी न करें: हम जब एक साथ रहते हैं, तो किसी का भी लेटर हो, ईमेल हो या फोन पर मैसेज हो, तो उसकी ग़ैरहाज़िरी में भी फौरन पढ़ने लगते हैं. यह व्यवहार ग़लत है. शिष्टता के चलते हमें ऐसा नहीं करना चाहिए, बल्कि सामनेवाले के आने का इंतज़ार करना चाहिए. उसके बाद वो ख़ुद-ब-ख़ुद बता ही देगा कि किसका पत्र या मेल है. अगर न भी बताए, तो इसका यह अर्थ नहीं कि आप उसे शक़ की निगाह से देखें. सबका निजी जीवन होता है, कुछ बातें ऐसी होती ही हैं, जो वो शायद इस वक़्त किसी से शेयर नहीं करना चाहता और आगे चलकर सही वक़्त आने पर करे. हर बात आपको जाननी ही है और सामनेवाला आपको बताए ही, यह कोई ज़रूरी नहीं.

अपने मन मुताबिक़ किसी को बदलने या व्यवहार करने को न कहें: आप अगर घर के मुखिया भी हैं, तो भी अपनी इच्छानुसार सबको व्यवहार करने की ज़िद न करें. हां, अगर कोई ग़लती कर रहा है, तो आपकी ज़िम्मेदारी है कि आप उसे सही रास्ता दिखाएं, लेकिन तानाशाही रवैया अपनाकर सब पर एक ही नियम लागू करने का अर्थ है कि आप अपनी उम्र, अपने ओहदे और अपने रिश्ते का नाजायज़ फ़ायदा उठा रहे हैं.

हमेशा आप ही सही होते हैं, यह सोच न बना लें: आप जो सोचते हैं, आप जो चाहते हैं और आप जो उम्मीदें रखते हैं, वो ही सही हैं और यदि कोई आपसे अलग सोच रखे, तो वो इंसान ही ग़लत है, ऐसी बात मन में न पालें. हर शख़्स का अपना अलग व्यक्तित्व होता है, उसे स्वीकार करें, उसका सम्मान करें. जिस तरह आप औरों से उम्मीद रखते हैं, दूसरे भी आपसे ठीक वैसे ही व्यवहार की आशा रखते हैं. आप जिस तरह हर्ट होते हैं, दूसरे भी हो सकते हैं. हर किसी की अपनी सोच व राय हो सकती है, जिसका हमें सम्मान करना ही चाहिए, वरना रिश्ते टूटते देर नहीं लगती.

स्वार्थी न बनें: रिश्तों में लक्ष्मण रेखा तभी पार होती है, जब हम स्वार्थी बन जाते हैं. स़िर्फ हम ही हम हैं, दूसरों को अपना जीवन अपनी तरह से जीने का कोई हक़ नहीं, यह अप्रोच नकारात्मक होती है. सबकी मर्ज़ी का ख़्याल करें और सकारात्मक सोच बनाएं, तभी आप अपने रिश्तों को शिद्दत से निभा सकते हैं.

अपनी ग़लती मानें: जब भी आप ग़लत हों, तो फ़ौरन उसे मान लें. ईगो पालकर रिश्तों को ताक पर न रखें. अपनी ग़लती के लिए किसी और को ज़िम्मेदार न ठहराएं. अक्सर हम अपनी ग़लतियां दूसरों पर थोप देते हैं और उन्हें ही इसका कारण बताकर ख़ुद को बचाने की सोचते हैं. जब सामनेवाला अपनी सफ़ाई देता है, तो हम नाराज़ हो जाते हैं कि तुम हमारा साथ नहीं दे रहे या ग़लती क्या स़िर्फ मेरी थी, जैसी बातें करने लगते हैं. यह ग़लत उम्मीद लगाना अपनी लक्ष्मण रेखा न पहचानने जैसा ही है.

Earn to respect relationship and commitment

रिश्तों में सम्मान का अर्थ क्या है?
हम रिश्तों को सम्मान दे रहे हैं या नहीं, इसे इन कसौटी पर परखें-

  •  अगर हम किसी बात पर असहमत हैं, पर हम अपनी ही बात और राय को महत्व देकर सामनेवाले को सुनना ही न चाहें और उससे भी यह उम्मीद रखें कि वो हमारी ही सुने, तो यह उसके सम्मान को आहत करेगा.
  •  अपने रिश्तेदारों या पार्टनर को सामाजिक समारोहों में या अन्य लोगों के सामने डांटते हैं या उनका मज़ाक उड़ाते हैं.
  •  हर बात पर टोकना या बात-बात पर नाराज़ हो जाना.
  •  सामनेवाले की भावनाओं के प्रति असंवेदनशील होकर उन्हें महत्व न देना.
  •  हर वक़्त स़िर्फ अपनी ज़रूरतों के बारे में ही सोचना.
  •  किसी की भी राय को महत्व न देकर मनमानी करना.
  •  अपनी सुविधानुसार नियम बदलना और दूसरों से भी अपनी सुविधानुसार ही व्यवहार करने की उम्मीद करना.
  •  सबसे मज़ाक करना, लेकिन जब कोई आपसे मज़ाक करे, तो बुरा मान जाना.
  •  हर छोटी-छोटी बात पर सफ़ाई मांगना.
  •  सामनेवाले की स्थिति को समझे बग़ैर या समझने की कोशिश किए बिना ही बात-बात पर नाराज़ हो जाना.
  •  सबसे यह उम्मीद रखना कि वो स़िर्फ आपका ही ख़्याल रखे और आपकी हर बात पर हां में हां मिलाए.
  •  विचार अलग होने पर दूसरों के विचारों को ग़लत व महत्वहीन समझना.

– कमलेश शर्मा