Corona Virus

मुक्ति भवन, तितली, अमेज़ॉन प्राइम वीडियो के ‘मेड इन हेवन’ और कंगना रनौत-राजकुमार राव की फिल्म “जजमेंटल  है क्या’ जैसी कई फिल्मों में अपनी एक्टिंग का जलवा बिखेर चुके प्रतिभावान अभिनेता ललित बहल का कोरोना की वजह से निधन हो गया है. पिछले कई दिनों से वे कोरोना की गिरफ्त में थे. दिल्ली के अस्पताल में एक्टर ने अंतिम सांस ली. इस बात की जानकारी उनके डायरेक्टर बेटे कनु बहल ने दी.

फिल्म इंडस्ट्री से आने वाली बुरी खबरें थमने का नाम नहीं ले रही हैं. बीते कल बॉलीवुड के मशहूर म्यूजिक डायरेक्टर श्रवण राठौड़ और एक्टर अमित मिस्त्री  के निधन के बाद  आज इंडस्ट्री  ने एक और एक्टर-डायरेक्टर ललित बहल को दिया है. अनेक फिल्मों में काम कर चुके ललित का दिल्ली के सरिता विहार स्थित अपोलो अस्पताल में निधन हो गया. 71 वर्षीय ललित कोरोना से संक्रमित थे. बीते शुक्रवार को उन्होंने अस्पताल में अंतिम सांस ली.

Lalit Behl

सूत्रों के अनुसार, एक्टर ललित बहल के बेटे फिल्म मेकर कनु बहल ने एक वेब पोर्टल के साथ बातचीत करते हुए कहा, “आज उनका देहांत हो गया है. 2 सप्ताह से उन्हें सांस लेने में तकलीफ हो रही थी, जिसके बाद उनका Covid-19 टेस्ट कराया, तो वह कोरोना संक्रमित निकले। उन्हें अस्पताल में भर्ती कराने के बाद मालूम हुआ कि उनके फेफड़े बुरी तरह से संक्रमित हो चुके हैं. वे पहले से हार्ट संबंधी बीमारियों से  ग्रस्त थे, जिसकी वजह से कम्प्लीकेशंस और बढ़ गई थीं. वे दिल्ली के अपोलो अस्पताल में भर्ती थे.

Lalit Behl

कनु बहल ने यह भी बताया कि उनकी मम्मी भी कोरोना पॉजिटिव थीं और उनका इलाज एक दूसरे अस्पताल में चल रहा था. हालांकि अब वे काफी ठीक हैं. उनकी कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई हैं. उन्हें अस्पताल से आज ही छुट्टी मिली है.”

अभिनेता ललित बहल के निधन की ऑनलाइन सूचना मिलने के बाद तुरंत कई सेलेब्रिटीज़ ने सोशल मीडिया पर अपनी संवेदनाएं व्यक्त की. एक्टर रणवीर शौरी ने ट्वीट किया, “इस खबर को पढ़ने के बाद टूट गया हूं. बहुत सारी हैं यादें हैँ. वे बहुतस्नेही और बुद्धिमान थे.मैंने उनसे बहुत कुछ सीखा. परिवार को @KanuBehl के प्रति हार्दिक संवेदना.”

एक्टर आदिल हुसैन ने भी ट्विटर पर संवेदनाएं व्यक्त की हैं. ट्वीट करते हुए आदिल  ने लिखा, ” मेरे सबसे प्रिय और बेहद सम्मानीय को-स्टार ललित बहलजी के निधन से मैं बहुत दुखी हूं. उन्होंने @मुक्तिभवन में बहुत उम्दा तरीके से मेरे पिता का किरदार निभाया था. मुझे एक बार फिर ऐसा लग रहा है, जैसे मैंने अपने पिता को खो दिया  है. प्रिय कनु, मुझे आपकी इस क्षति को लेकर बेहद अफसोस है!”

Lalit Behl

बता  दें कि ललित  बहल  ने अपने करियर की शुरुआत  स्टेज से की थी. उन्होंने अपनी कॉलेज की पढाई पंजाब से की थी. इसी दौरान उन्होंने अपने दोस्तों के साथ मिलकर एक थिएटर ग्रुप बनाया था. उन्होंने कई नाटकों के निर्देशन के अलावा अनेकों नाटकों और सीरियलों में भी एक्टिंग की है. ललित बहल ने कई सीरियलों का लेखन और निर्देशक भी किया. साथ ही उन्होंने अलग-अलग चैनलों के लिए सीरियलों और टेली फिल्मों का निर्माण भी किया था.

 और भी पढ़ें: देवों के देव महादेव’ फेम एक्टर मोहित रैना कोरोना संक्रमित होने के बाद हुए हॉस्पिटलाइज्ड (‘Devon Ke Dev Mahadev’ Fame Actor Mohit Raina Hospitalised After Testing Positive For COVID-19)

कोरोना के चलते पूरी मुंबई ही नहीं बल्कि महाराष्ट्र में सख़्त लॉकडाउन लगाया का चुका है, साथ ही कर्फ़्यू भी जिसके चलते धारा 144 लागू कर दी गई है. इसी बीच एक ऐसी घटना घटी कि मुंबई पुलिस की चर्चा सब जगह होने लगी.

Mumbai Police

दरअसल एक युवक ने लॉकडाउन में अपनी गर्ल फ़्रेंड से मिलने की इच्छा जताई और मुंबई पुलिस से ट्विटर पर पूछा कि मुझे किस तरह का स्टिकर यानी पास इस्तेमाल करना होगा बाहर जाकर अपनी गर्लफ़्रेंड से मिलने के लिए? मैं उसे बेहद मिस करता हूं!

Mumbai Police

युवक की इस गुज़ारिश का जवाब मुंबई पुलिस ने इस तरह दिया- हम समझ सकते हैं कि ये आपके लिए ज़रूरी है लेकिन दुर्भाग्यवश ये हमारी ज़रूरी और आपातकालीन सेवाओं की श्रेणी में नहीं है! दूरियाँ दिलों को और क़रीब लाती हैं और वर्तमान में आपको स्वस्थ रखेगी. हम आप दोनों के जीवनभर के साथ की कामना करते हैं. यह सिर्फ एक फेज है. #StayHomeStaySafe

मुंबई पुलिस के इस जवाब ने लोगों का दिल जीत लिया है और वो उनकी और उनके काम की भी प्रशंसा कर रहे हैं.

Mumbai Police
Mumbai Police

मुंबई पुलिस ने हाल ही में वाहनों के लिए लाल, हरे और नारंगी रंग के तीन स्टिकर जारी किए हैं, जिसमें लाल स्टिकर स्वास्थ्य कर्मियों, सेवाओं और एम्बुलेंस के लिए है, महानगरपालिका, और बिजली, पानी, मीडिया जैसी आवश्यक सेवाओं के लिए नारंगी स्टिकर और किराने, सब्जियां आदि सेवाओं के लिए हरा स्टिकर जारी किया है इसीलिए उस युवक ने सवाल किया कि उसे कौन से रंग का स्टिकर इस्तेमाल करना होगा अपनी गर्लफ़्रेंड से मिलने के लिए!

Mumbai Police
Mumbai Police

बहरहाल मुंबई पुलिस का ये जवाब काफ़ी वायरल हो चुका है और सबकी वाहवाही बटोर रहा है!

Mumbai Police
Mumbai Police
Mumbai Police

Photo Courtesy: Twitter (All Photos)

यह भी पढ़ें: 5 महीने की प्रेग्नेंट DSP शिल्पा साहू कोरोना काल में भी कर रही हैं ड्यूटी, सड़क पर उतरकर लोगों को दे रही हैं मास्क पहनने की हिदायत (Five Month Pregnant DSP Shilpa Sahu Regulates Traffic, Asks People To Follow Covid Norms)

कोरोना के कहर से पूरा देश दहशत में हैं. आम लोगों के साथ ही डॉक्टर, नर्स और स्वास्थ्यकर्मी, पुलिस भी अब तेज़ी से कोरोना की चपेट में आ रहे हैं. मुंबई के सेवरी टीबी अस्पताल की 51 साल की सीनियर डॉक्टर मनीषा जाधव की भी कोरोना से मौत हो गई. कोरोना से संक्रमित डॉक्टर मनीषा जाधव ने फेसबुक पर लिखा, शायद ये आखिरी गुड़ मॉर्निंग हो और इसके 36 घंटे बाद उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया.

Manisha Jadhav

डॉक्टर मनीषा जाधव ने फेसबुक पर लिखा ये इमोशनल पोस्ट
मुंबई के सेवरी टीबी अस्पताल की 51 साल की सीनियर डॉक्टर मनीषा जाधव का फेसबुक पर लिखा हुआ इमोशनल पोस्ट पढ़कर हज़ारों लोगों की आंखें नम हो रही हैं. डॉक्टर मनीषा जाधव ने रविवार को फेसबुक पर पोस्ट करते हुए अपनी स्थिति के बारे में बता दिया था.

Manisha Jadhav

डॉक्टर मनीषा जाधव ने रविवार को फेसबुक पर लिखा, ‘हो सकता है ये आखिरी गुड मॉर्निंग हो. हो सकता है मैं इस प्लेटफॉर्म पर अब आपसे फिर न मिलूं. सब अपना ध्यान रखें. शरीर मर जाता है. आत्मा नहीं मरती. आत्मा अमर है.’ बता दें कि रविवार को फेसबुक पर यह पोस्ट लिखने के 36 घंटे बात मंगलवार को डॉक्टर मनीषा जाधव ने कोविड-19 की वजह से दम तोड़ दिया.

Manisha Jadhav

महाराष्ट्र में तेज़ी से बढ़ रहे है कोरोना के केसेस
डॉक्टर मनीषा जाधव टीबी के इलाज की स्पेशलिस्ट थीं और सेवरी टीबी अस्पताल में नौकरी करती थीं. डॉक्टर मनीषा जाधव का ये फेसबुक पोस्ट पढ़कर लोग अपने आंसुओं को रोक नहीं पा रहे हैं. लोगों की जान बचाने वाले डॉक्टर अब कोरोना के कारण अपनी जान गवां रहे हैं. इस समय देशभर में सबसे ज्यादा कोरोना के केसेस महाराष्ट्र में हैं और ये स्थिति ज्यादा भयावह होती जा रही है. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के मुताबिक, महाराष्ट्र में 18,000 डॉक्टर कोरोना की चपेट में आ गए हैं, वहीं 168 डॉक्टरों की मौत हो गई है.

Covid Vaccine

डॉ. तृप्ति गिलाडा ने नम आंखों से लोगों से की ये अपील
यदि आपने अभी तक मुंबई की डॉ तृप्ति गिलाडा का वायरल वीडियो नहीं देखा है, तो आपको बता दें कि डॉ तृप्ति गिलाडा ने नम आंखों से बताया कि स्थिति बहुत भयावह होती जा रही है. मुंबई के अस्पतालों में आईसीयू में जगह नहीं है, हम लोगों ने इससे पहले ऐसी स्थिति नहीं देखी है. इस भयानक स्थिति में हम खुद को असहाय महसूस कर रहे हैं. धीरे-धीरे कई राज्यों और शहरों की हालत बहुत खराब होती जा रही है. उन्होंने अपने आंसुओं को रोकने की कोशिश करते हुए भावुक होकर कहा, ”ऐसे हालात में हम सभी डॉक्टरों में भी कहीं ना कहीं इमोशनल ब्रेकडाउन की स्थिति हो रही है. कृपया आप सब अपना ध्यान रखें और खुद को सुरक्षित रखें.”

यह भी पढ़ें: मंदिर, मस्जिद के साथ ही कोरोना से जंग में मदद के लिए आगे आए ये सामाजिक संस्थान, आप मदद के लिए यहां संपर्क कर सकते हैं (Along With Religious Bodies Lots Of Social Organizations Coming Forward To Help In The War Against The Corona, Emergency Helpline Numbers For Covid Patients)

कृपया आप सभी कोरोना को हल्के में न लें और कोरोना के सभी नियमों का पालन करते हुए सुरक्षित रहें.

देशभर में कोरोना का कहर लोगों के मन में दहशत पैदा कर रहा है. खासकर देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में कोरोना के केसेस इतनी तेजी से बढ़ रहे हैं कि अस्पतालों में बेड खाली नहीं हैं. कोरोना के बढ़ते केसेस को देखते हुए अब मंदिर, मस्जिद के साथ ही कई सामाजिक संस्थान कोरोना से जंग में मदद के लिए आगे आए हैं. ये तमाम लोग निस्वार्थ भाव से मानवता का धर्म का निर्वाह कर रहे हैं.

Helpline Numbers For Covid Patients
  • मुंबई के नेहरू सेंटर के हॉल को कोविड केयर सेंटर में परिवर्तित कर दिया गया है. यहां पर मरीजों के लिए ऑक्सीजन की सुविधा भी उपलब्ध है.
  • मुंबई के खार जिमखाना को कोविड केयर सेंटर में परिवर्तित कर दिया गया है.
  • इसी तरह मुंबई में कई वेडिंग हॉल को भी कोविड केयर सेंटर में परिवर्तित कर दिया गया है.
  • मुंबई के श्री स्वामी नारायण मंदिर ने परिसर को कोविड अस्पताल में बदल दिया है.
  • नोएडा के सेक्टर 18 में स्थित गुरुद्वारा साहिब ने तय किया है कि उन लोगों तक मुफ्त में खाना पहुंचाया जाएगा, जो कोरोना से पीड़ित और घर पर खाना नहीं पका सकते.
  • वडोदरा में स्वामीनारायण मंदिर में 500 बेड की सुविधा की गई.
  • वडोदरा की जहांगीरपुरा मस्जिद को कोविड सेंटर में तब्दील कर दिया गया है. इस मस्जिद में करीब 50 बेड ऑक्सीजन के साथ उपलब्ध हैं.
Helpline Numbers For Covid Patients

लॉकडाउन में सामाजिक सस्थाओं ने लोगों की सेवा में बहुत बड़ी भूमिका निभाई है. कोरोना काल में कई सामाजिक संस्थान गरीबों को भोजन, मास्क आदि मुफ्त बांट रहे हैं. साथ ही मेडिकल सुविधाएं भी मुहैया करा रहे हैं. मानवता के लिए ये योगदान बहुत बड़ा है.

Helpline Numbers For Covid Patients

कोरोना काल में सोशल मीडिया के माध्यम से मिल रही है मदद
कोरोना काल में सोशल मीडिया पर एक तरफ जहां डर और नफरत का माहौल पैदा किया जा रहा है, वहीं कई लोग मदद के लिए सोशल मीडिया का प्रयोग कर रहे हैं. हम यहां पार्ट सोशल मीडिया की कुछ ऐसी पोस्ट शेयर कर रहे हैं, जो आपके काम आ सकती हैं. कोरोना के इलाज के लिए आप इन हेल्पलाइन नंबर्स पर संपर्क कर सकते हैं.

Helpline Numbers For Covid Patients

यदि आप महाराष्ट्र में रहते हैं और आपके किसी करीबी को कोरोना से बचाव के लिए मदद की जरूरत है, तो ये ट्वीट आपके काम आ सकता है.

मुंबई में बेड की जानकारी तलाश रहे हैं, तो आपको आदित्य ठाकरे के इस ट्वीट से जानकारी मिल सकती है.

दिल्ली में मेडिकल हेल्प के लिए आप यहां सम्पर्क कर सकते हैं.

दिल्ली में प्लाज़्मा के लिए आप यहां सम्पर्क कर सकते हैं.

इस ट्वीट में आपको देश के अलग-अलग राज्यों के लिए मदद मिल सकती है.

महामारी के इस कठिन दौर में ये सभी धार्मिक स्थल और सामाजिक संस्थान ये संदेश दे रहे हैं कि मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं होता. आप भी अपनी क्षमतानुसार कोरोना के मरीजों की सहायता अवश्य करें. इसी तरह ही हम सब मिलकर कोरोना को हराकर देश और मानवता को जीता सकते हैं.

यह भी पढ़ें: COVID-19 Updates: 18 साल से अधिक आयुवाले लोगों को लगेगी 1 मई से कोरोना वैक्सीन (Everyone Above 18 Years Of Age To Get Corona Vaccine From 1st May)

कोरोना की सेकंड वेव बेहद खतरनाक साबित हो रही है. रोज़ाना पॉजिटिव मरीजों की संख्या बढ़ती ही जा रही है. सरकारी हॉस्पिटल्स में बेड्स अवेलबल नहीं हैं और प्राइवेट हॉस्पिटल में इलाज का खर्च लाखों में आ रहा है. ऐसे में एक बार फिर लोगों को हेल्थ इंश्योरेंस का महत्व समझ में आ रहा है और लोग जानना चाह रहे हैं कि क्या उनकी मौजूदा हेल्थ पॉलिसी कोविड के इलाज को कवर करती है या इसके लिए उन्हें अलग पॉलिसी लेनी होगी. आइए जानते हैं इस पर एक नज़र.

Covid Specific Health Insurance Schemes

– वैसे तो आपके पास कोई हेल्थ इंश्योरेंस है तो कोई भी इंश्योरेंस कंपनी कोविड के इलाज के लिए क्लेम देने से मना नहीं कर सकती.

– IRDAI ने पिछले साल अप्रैल में ही निर्देश दिया था कि सभी हेल्थ इंश्योरेंस कम्पनियों के तहत कोविड-19 के इलाज को भी कवर किया जाएगा.

– आमतौर पर 24 घंटे से ज्यादा के लिए होस्पिटलाइज़ होने पर हेल्थ इंश्योरेंस कंपनियां इलाज का खर्च देती हैं, कोविड के केस में भी आपको ये सुविधा मिलेगी.

– लेकिन अगर आपने कैंसर, हॉर्ट रोग, क्रिटिकल इलनेस कवर जैसी खास स्कीम वाली पॉलिसी ली है तो ऐसी ज़्यादातर पॉलिसी में कोविड-19 का इलाज कवर नहीं होता. 

– ऐसे में आपकी मौजूदा इंश्योरेंस पॉलिसी कोरोना के इलाज के लिए काफी नहीं हो सकती.

Covid Specific Health Insurance Schemes


– कोविड पीरियड में कई कंपनियां सिर्फ कोविड-19 से जुड़ी पॉलिसी लेकर आई हैं. इन पॉलिसीज में ग्रेस पीरियड सिर्फ 15 दिन का होता है.

– ये पॉलि​सियां दो तरह की हैं-कोरोना कवच और कोराना रक्षक पॉलिसी. इसके तहत आप 2-4 हजार रुपये के एकमुश्त प्रीमियम भरकर लाखों रुपये का बीमा कवर पा सकते हैं.

– कोरोना कवच कोविड-19 स्टैण्डर्ड शॉर्ट टर्म की पॉलिसी है, जिसके तहत कोरोना का ट्रीटमेंट किया जाता है. इसमें इंश्योरेंस की रकम 50 हजार रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक ही होती है और चूंकि ये शॉर्ट टर्म पालिसी है तो ये 3.5 महीने से 9.5 महीने तक के लिए ली जा सकती है. इसके लिए आपको सिंगल प्रीमियम भरना होता है.

– कोरोना रक्षक एक फिक्स्ड इंश्योरेंस प्लान है. इस प्लान के तहत कोविड-19 का उपचार करा रहे व्यक्ति को इंश्योरेंस कंपनी एक फिक्स्ड राशि देती है, जो 50 हजार से 2.5 लाख तक हो सकती है. यह भी सिंगल प्रीमियम वाली पॉलिसी है और ये भी शॉर्ट टर्म प्लान है, जिसकी अवधि 3.5 सेप 9.5 महीने के लिए होती है. 

– कोरोना को कवर करने वाली कुछ प्रमुख इंश्योरेंस कंपनियां हैं – HDFC एर्गो, ICICI लोम्बार्ड, रेलिगेयर, फ्यूचर जेनराली, मैक्स बुपा, इडलवाइस, आदित्य बिड़ला, और भारती अक्सा.

– इन इंश्योरेंस कंपनियों ने कोविड-19-स्पेसिफिक हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम्स लॉन्च की हैं.

– इन प्लान्स का बेनिफिट यह है कि इनका प्रीमियम बहुत कम है और इन्हें लेने के लिए किसी प्री-मेडिकल टेस्ट की ज़रूरत नहीं है. इन प्लान्स को सीधे पेमेंट पोर्टल्स के मोबाइल ऐप्स से खरीदा जा सकता है.

– इन कंपनियों के वेबसाइट पर जाकर आप इनके कोविड-19-स्पेसिफिक हेल्थ इंश्योरेंस स्कीम्स की जानकारी ले सकते हैं.


इन बातों का रखें ध्यान

Covid Specific Health Insurance Schemes


– सबसे पहले तो ये तय करें कि आप हेल्‍थ इंश्‍योरेंस पॉलिसी क्यों ले रहे हैं.

– अगर आप कोरोना के लिए पॉलिसी ले रहे हैं, तो कुछ बातें पहले ही जान लें.

– पता करें कि आप जो हेल्थ पॉलिसी ले रहे हैं, उसमें कोरोना का कवर है या नहीं. 

– अगर आप अभी बीमा ले रहे हैं तो इस बात का भी ध्यान रखें कि कई बीमा पॉलिसीज़ में कवर शुरू करने में कम से कम 30 दिन का ग्रेस पीरियड होता है. इस दौरान आपको इंश्योरेंस का लाभ नहीं मिलता.

– कोरोना कवच और कोरोना रक्षक पॉलिसी में ये ग्रेस पीरियड सिर्फ 15 दिन का होता है. इसलिए अगर कोरोना के लिए हेल्थ इंश्योरेंस का बेनिफिट लेने की सोच रहे हैं तो कोविड पॉलिसीज ही लें.





ब्रेन स्ट्रोक से ठीक हुए आशिक़ी एक्टर राहुल रॉय और उनका परिवार भी अब कोरोना की चपेट में आ गया है, राहुल इससे काफ़ी हैरान हैं क्योंकि वो लंबे समय से क्वारेंटीन हैं. उन्होंने अपने इंस्टाग्राम पर लंबी पोस्ट शेयर कर अपनी कोविड स्टोरी शेयर की है. राहुल हैरान हैं और वो समझ नहीं पा रहे हैं कि बिना घर से बाहर गए और लोगों से बिना संपर्क में आए, बिना बातचीत किए उनकी रिपोर्ट पॉज़िटिव कैसे आई!

Rahul Roy

राहुल लिखते हैं-

मेरा फ्लोर 27 मार्च को सील कर दिया गया था, क्योंकि मेरे पड़ोसी का कोविड टेस्ट पॉज़िटिव आया था, इसलिए एहतियातन कदम उठाते हुए हमें भी 14 दिनों के लिए घर में ही बंद कर दिया गया. मेरा परिवार और मैं 11 अप्रैल को दिल्ली जानेवाले थे, इसलिए हमने 7 अप्रैल को RTPCR टेस्ट कराया, जिसकी रिपोर्ट 10 अप्रैल को आयी और रिपोर्ट से पता चला कि मेरा पूरा परिवार रोमीर सेन और प्रियंका रॉय कोविड पॉज़िटिव हैं.

हमें कोविड के कोई भी लक्षण नहीं थे और उसी दिन हमें पता चला कि बीएमसी हमारी पूरी सोसाइटी में टेस्ट कर रही है, तो हमने एक बार फिर एंटीजन टेस्ट करवाया, जिसमें हम नेगेटिव पाए गए. हमने इसलिए RTPCR टेस्ट के लिए एक बार फिर सैंपल भेजे, लेकिन उसकी रिपोर्ट अभी तक मुझे मिली नहीं.

Rahul Roy

बीएमसी ने हमसे आइसोलेशन फॉर्म साइन करवाए, हमारे घर को सैनिटाइज़ किया और डॉक्टर द्वारा भी कई तरह के सवाल किए गए, जैसे- मेरा फैमिली बिज़नेस क्या है? हमारा ऑफ़िस कहां है? कहां-कहां ट्रैवल किया… हाहा पता नहीं इन सवालों का क्या कनेक्शन था. उन्होंने मुझे हॉस्पिटलाइज़ होने की सलाह दी, लेकिन मैंने उन्हें बताया कि हमें किसी भी तरह के कोई लक्षण नहीं. इस पर उन्होंने मुझे सलाह दी कि नियमित रूप से ऑक्सीजन का स्तर जांच करें और एक चार्ट बनाएं, साथ ही दवा लेते रहने की भी हिदायत दी. ब्रेन स्ट्रोक का इलाज करवाने के बाद से ही मैं दवाएं ले रहा हूं.

Rahul Roy

मैं जानता हूं और मुझे पता है कि कोविड है पर मैं ये समझ नहीं पा रहा कि बिना घर से बाहर गए, बिना लोगों के संपर्क में आए, बिना लोगों से बिना बातचीए किए, बिना वॉक पे गए हम पॉज़िटिव कैसे हैं? हम लोग तीन महीनों से घर से बाहर नहीं निकले और बिनी किसी लक्षण के हमारी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव आई गई! मेरी बहन तो योगिनी है और वो ब्रीदिंग एक्सपर्ट है. वो प्राचीन तरीक़ों से ब्रीदिंग प्रैक्टिस करती है और तीन महीनों से वो बिना घर से बाहर गए पॉज़िटिव कैसे है? इन सवालों का जवाब मैं कभी नहीं दे पाऊंगा. अब 14 दिन का दूसरा क्वारेंटीन पीरियड खत्म होने का इंतज़ार है और फिर से टेस्ट कराना है.

Rahul Roy

आप सभी को कहना चाहूंगा कि मास्क पहनें, हाथ धोएं और स्वच्छता का ख़्याल रखें. उम्मीद करता हूं कि आपमें से कोई भी वायरस की चपेट के ना आए, घर में रहें, सुरक्षित रहें! मैं भी आशा करता हूं कि जल्द ही हमारी रिपोर्ट निगेटिव आएगी, आप सभी को ढेर सारा प्यार!

Photo Courtesy: Instagram (All Photos)

यह भी पढ़ें: क्या आपने देखी हैं सुशांत सिंह राजपूत का रोल प्ले करनेवाले सचिन तिवारी की फोटोज? लगते हैं सुशांत के कार्बन कॉपी(Have You Seen Photos Of Sushant Singh Rajput’s Lookalike, Who Is playing Sushant Singh In His Biopic)

बॉलीवुड से बुरी खबरें आने का सिलसिला थम ही नहीं रहा. कल किरण खेर के ब्लड कैंसर होने और बप्पी लहरी के कोरोना पॉजिटिव होने की खबर के बाद अब खबर आ रही है कि आलिया भट्ट भी कोरोना वायरस की चपेट में आ गई हैं. उनकी कोविड -19 रिपोर्ट पॉजिटिव आई हैं.

Alia Bhatt

इस बात की जानकारी खुद आलिया भट्ट ने इंस्टाग्राम स्टोरी पर फैन्स से शेयर की है. आलिया ने बताया है कि वह कोरोना पॉजिटिव हो गई हैं और खुद को होम क्वॉरंटीन कर लिया है. अपनी इंस्टाग्राम स्टोरी के ज़रिए उन्होंने बताया कि वो डॉक्टर के सारे निर्देशों का पालन कर रही हैं और कोरोना से जुड़े सभी नियमों का पालन करते हुए होम आइसोलेट हो चुकी हैं. इसके अलावा एक्ट्रेस ने उन सभी का शुक्रिया अदा भी किया है, जो उनके जल्दी ठीक होने के लिए प्रार्थना कर रहे हैं.

बता दें कि आलिया भट्ट से पहले उनके बॉयफ्रेंड रणबीर कपूर कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे. इसके अलावा आलिया की चर्चित फिल्म ‘गंगूबाई काठियावाड़ी’ के डायरेक्टर संजय लीला भंसाली भी कुछ हफ्ता पहले कोरोना से संक्रंमित हो गए थे. तभी आलिया के कोरोना संक्रमित होने का अंदेशा किया जा रहा था. लेकिन उस समय आलिया की कोरोना रिपोर्ट नेगेटिव आई थी.

Alia Bhatt

बता दें कि रणबीर कपूर की कोरोना टेस्ट रिपोर्ट निगेटिव आ चुकी है और वो अपने काम पर वापस लौट चुके हैं. रणबीर कपूर और आलिया भट्ट गुरुवार की शाम को अपने डबिंग सेशन के बाद साथ-साथ दिखाई दिए थे. ऐसे में कहा जा रहा है रणबीर कपूर को भी एहतियात बरतने की ज़रूरत है.

Alia Bhatt and Ranbir

बता दें कि आलिया भट्ट से पहले मिलिंद सोमन, आमिर खान, आर माधवन, रणबीर कपूर, मनोज बाजपेयी, कार्तिक आर्यन, सिद्धांत चतुर्वेदी, तारा सुतारिया, रमेश तौरानी, बप्पी लाहिरी और सतीश कौशिक सहित तमाम सेलेब्स कोरोना वायरस का शिकार बन चुके हैं.


कपूर फैमिली से एक बार फिर चिंता बढ़ाने वाली खबर आ रही है. बताया जा रहा है एक्टर रणबीर कपूर बीमार हैं और मां नीतू कपूर के बाद वह भी कोरोना वायरस के चपेट में आ गए हैं. रणबीर फिलहाल क्वारंटाइन में हैं और रेस्ट कर रहे हैं. 

Ranbir Kapoor

अपने कमबैक को लेकर तैयारियों में बिजी हैं रणबीर

बता दें कि रणबीर कपूर इन दिनों अपने कमबैक को लेकर तैयारियों में लगे हुए हैं. हाल ही में वो आलिया भट्ट के साथ अपनी आगामी फिल्म ‘ब्रह्मस्त्र’ के सेट पर स्पॉट हुए थे, लेकिन इसी बीच खबर आ रही है कि रणबीर कपूर को कोरोना हो गया है और इस खबर की पुष्टि उनके अंकल रणधीर कपूर ने की है.


अंकल रणधीर कपूर ने बताई सच्चाई

Ranbir Kapoor

रणबीर के बीमार होने की पुष्टि उनके अंकल रणधीर कपूर ने की है. रणधीर कपूर ने कहा कि हां रणबीर बीमार हैं. लेकिन मुझे ये नहीं पता कि असल में क्या हुआ है, क्योंकि फ़िलहाल मैं शहर से बाहर हूं. लेकिन मुझे पता चला है कि रणबीर की तबियत ठीक नहीं है और वो फ़िलहाल क्वारंटाइन में हैं और रेस्ट कर रहे हैं. रणबीर के कोरोना से संक्रमित होने की खबर मिलते ही उनके फैंस चिंता में आ गए हैं. सोशल मीडिया पर भी यह खबर तेजी से वायरल हो रही है.

हाल ही में दिल्ली से शूटिंग करके लौटे थे रणबीर

Ranbir Kapoor

रणबीर कपूर हाल ही में एक विज्ञापन के शूट के लिए दिल्ली गए थे और शूटिंग पूरी करके मुंबई लौट आए थे. मुंबई आने के बाद उन्होंने गर्लफ्रेंड आलिया भट्ट के साथ भी एक ऐड की शूटिंग की. बताया जा रहा है कि इसके बाद ही उनकी तबियत ठीक नहीं लग रही थी और टेस्ट करवाने पर रणबीर को कोरोना पॉजिटिव होने का पता चला और उन्होंने खुद को क्वारंटीन कर लिया.

मां नीतू को भी हुआ था कोरोना

Ranbir Kapoor and His Mother

बता दें कि पिछले साल दिसंबर नें रणबीर की मां नीतू कपूर भी कोरोना का शिकार हो गई थीं. ‘जुग जुग जियो’ फिल्म की शूटिंग के लिए चंडीगढ़ गई थीं जहां वो शूटिंग के दौरान वह कोरोना वायरस की चपेट में आ गई थी, जिसके बाद उन्हें एंबुलेंस से मुंबई लाया गया था.

भारत के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का लाभ आप कैसे उठा सकते हैं? कोरोना वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें? आपको कोरोना वैक्सीनेशन का लाभ कब और कैसे मिल सकता है, इसकी पूरी जानकारी हम आपको दे रहे हैं. ये है कोरोना वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन का सही तरीका…

Register For Corona Vaccination In India

सरकार ने ज्यादातर राज्यों में कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए ड्राई रन शुरू कर दिया है. जल्द ही देश की आबादी के एक बड़े हिस्से को अपना पहला कोरोना वैक्सीनेशन मिल जाएगा. वैक्सीन सेंटर्स में इसकी इसकी व्यवस्था की तैयारियां जोरों पर हैं. अगले एक या दो हफ्ते के भीतर देशव्यापी वैक्सीनेशन का काम शुरू हो सकता है. देश में अबतक दो वैक्सीन को मंजूरी मिली है, दोनों ही वैक्सीन भारत में ही मैन्युफैक्चर की गई हैं. इसमें सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड जो ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की सहायता से बनी है और दूसरी भारत बायोटैक की कोवैक्सीन.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने हाल ही में ट्वीट करके की ये घोषणा…

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने हाल ही में ट्वीट करके ये घोषणा की है कि सभी राज्यों में पहले चरण में प्रायोरिटी ग्रुप को कोविड-19 वैक्सीनेशन मुफ्त दिया जाएगा. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा, “मैं लोगों से अपील करता हूं कि COVID-19 वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभावकारिता के बारे में अफवाहों से गुमराह न हों. वैक्सीन को मंजूरी देने से पहले हम किसी भी प्रोटोकॉल पर समझौता नहीं करेंगे.” हर्षवर्धन ने कहा कि देश को पोलियो प्रतिरक्षण अभियान शुरू करने पर भी वैक्सीन की हिचकिचाहट एक मुद्दा था, लेकिन हमें इसकी सफलता को याद रखना चाहिए. “

भारत में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें?
भारत के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का लाभ आप कैसे उठा सकते हैं और कोरोना वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें, इसकी पूरी जानकारी हम आपको दे रहे हैं, ताकि आप भी इसका उचित लाभ उठा सकें.

  • भारत सरकार ने शुरुआत में 30 करोड़ लोगों को प्राथमिक सूची में रखा है. इनमें भी सबसे पहले हेल्थवर्कर, सुरक्षाकर्मी, अन्य कोरोना वॉरियर्स, 50 वर्ष से अधिक उम्र और गंभीर बीमारी वाले लोग शामिल हैं. यहां पर ये बात स्पष्ट कर दें कि सबसे पहले ये वैक्सीन हेल्थवर्कर, सुरक्षाकर्मी व अन्य कोरोना वॉरियर्स को दी जाएगी, उनके परिवार वालों को नहीं. ऐसे में उनके परिवारवालों को अभी ये वैक्सीन नहीं दी जाएगी.
  • वैक्सीन का टीका लगाने के लिए जिलों, कस्बों, गावों में मौजूद सरकारी अस्पतालों या अन्य स्थानों पर सेंटर्स बनाए जा रहे हैं. जहां पर नियमित रूप से जानकारी देकर कोरोना वैक्सीन का टीका लगाया जाएगा. आपको सेंटर पर जाकर टीका लगवाना होगा.
  • भारत सरकार ने को-विन मोबाइल एप्लीकेशन बनाया है जो वैक्सीनेशन शुरू होने पर मौजूद होगा. इसके अलावा जिस व्यक्ति को वैक्सीन का डोज दिया जाएगा, उसे पहले ही फोन पर मैसेज आ जाएगा. अगर आपको वैक्सीन का डोज मिलना है तो आपके फोन पर तारीख, वक्त और जगह की जानकारी खुद ही आएगी.
  • आपको वैक्सीन लगवानी है या नहीं, ये आपकी इच्छा पर निर्भर है. इसके लिए किसी के साथ जबरदस्ती नहीं की जा सकती है. हालांकि, कोरोना का संकट जिस तरह से बरकरार है ऐसे में एक्सपर्ट भी वैक्सीन के शॉट लेने की सलाह दे रहे हैं. जहां तक वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स की बात है, तो सरकार का कहना है कि तमाम नियमों का पालन करने के बाद ही वैक्सीन को मंजूरी दी गई है. सतर्कता पूरी तरह बरती गई है, इसके बाद भी हर वैक्सीन से जुड़े कुछ साइड इफेक्ट्स होते हैं. सभी राज्यों से इसको लेकर तैयारी बरतने को कहा गया है.
  • जिन लोगों को शुरुआती चरणों में वैक्सीन मिल रही है, उनकी लिस्ट जारी की जाएगी. इसी के आधार पर सभी को अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. इसके लिए आपके पास पहले ही फोन पर मैसेज आ जाएगा.
  • वैक्सीन का डोज लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है. और उसके लिए सेंटर पर जाकर आपको अपने जरूरी कागज दिखाने होंगे, उसके आधार पर ही आपको वैक्सीन दी जाएगी. वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन के लिए ड्राइविंग लाइसेंस/वोटर आईडी कार्ड/पैन कार्ड/आधार कार्ड/पासपोर्ट, बैंक खाते की पासबुक, मनरेगा कार्ड, स्वास्थ्य मंत्रालय का हेल्थ आईडी कार्ड में से किसी भी डॉक्यूमेंट की सहायता से रजिस्ट्रेशन करवाया जा सकता है.
  • भारत में वैक्सीन मुफ्त मिलेगी या फिर नहीं, अभी इसकी तस्वीर साफ नहीं है. हाल ही में स्वास्थ्य मंत्री का बयान था कि पूरे देश में वैक्सीन मुफ्त मिलेगी, फिर बाद में उन्होंने कहा कि शुरुआती चरण में स्वास्थ्यकर्मियों को ये मुफ्त दी जाएगी. इसके अलावा अलग-अलग राज्य सरकारें अपने हिसाब से नियम तय कर रही हैं. ऐसे में वैक्सीन मुफ्त होगी या नहीं, इस पर अभी देशव्यापी फैसला नहीं है.
Register For Corona Vaccination In India
  • जब आप वैक्सीन सेंटर में ये वैक्सीन लगवाएं, तो कुछ देर तक आपको वहीं पर आराम करना चाहिए. करीब आधा घंटा आप वहां ही आराम करें, इस दौरान आपको कोई दिक्कत आती है तो तुरंत डॉक्टर या वहां मौजूद अधिकारी से संपर्क करें.
  • भारत में वैक्सीन की कुल दो डोज दी जाएंगी. पहली और दूसरी डोज के बीच कुल 28 दिनों का अंतर रहेगा. यानी आपको दो बार वैक्सीन सेंटर पर जाना होगा. वैज्ञानिकों का कहना है कि सभी को वैक्सीन की पूरी डोज लेनी चाहिए. अगर आप पहला डोज़ लगवाते हैं, तो आपको दूसरा डोज़ भी लगवाना चाहिए, ताकि कोरोना का इलाज पूरा हो और आपकी इम्युनिटी बन सके. बता दें कि एंटीबॉडी बनने के बाद ही कोरोना से लड़ाई मजबूत होती है. लेकिन ये शरीर में कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज़ मिलने के कुछ दिनों बाद ही मिलती है. इसके साथ ही पहली डोज और दूसरी डोज के अंतर के दौरान आपको सतर्क रहना होगा और अभी तक जिन कोरोना गाइडलाइन्स का पालन कर रहे हैं उसे ही मानना होगा. अगर लापरवाही बरती गई, तो वैक्सीन का असर कम ही होगा. ऐसे में मास्क, दो गज दूरी और बार-बार हाथ धोना तब भी जरूरी ही होगा.
  • एक बात का ध्यान जरूर रखें, कोरोना का वैक्सीन लगाने के बाद भी आपको नियमों का पालन पहले की तरह ही करना होगा. ऐसा बिल्कुल नहीं है कि वैक्सीन लगने के बाद आप पूरी तरह सुरक्षित हो जाएंगे. हालांकि, वैक्सीन आपको काफी हद तक प्रोटक्शन देगी. लेकिन फिर भी आपको पूरी तरह सतर्क रहना होगा. कोविड गाइडलाइन्स का पालन करना होगा ताकि आप खुद को सुरक्षित रख सकें. मास्क, दो गज दूरी और हाथ धोना लगातार करना चाहिए.
  • ये वैक्सीन फिलहाल खुले बाज़ार में नहीं मिलेगी. अभी वैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए ही मंजूरी मिली है. जब वैक्सीन का काम शुरू होगा, उसके बाद ड्रग रेगुलेटर की ओर से हर हफ्ते डेटा निकाला जाएगा जिसके आधार पर आगे की तैयारी होगी.

भारत में कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत पूरे देश ले लिए बहुत ही ख़ुशी की खबर है, लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि कोरोना का ख़तरा पूरी तरह से टल गया है. कोरोना वैक्सीनेशन के बाद भी सभी को सुरक्षा नियमों का पालन करना होगा. मास्क, दो गज दूरी और हाथ धोना लगातार जारी रखना होगा, तभी हम सब मिलकर कोरोना को हरा सकते हैं.

शरद मल्होत्रा टीवी की दुनिया का जानामाना नाम हैं और उनके फैंस भी उनसे बहुत प्यार करते हैं लेकिन खबर यह आई हेर कि शरद को कोरोना हो गया है, हालाँकि उनके लक्षण हल्के ही हैं और उनकी पत्नी निगेटिव हैं.

Sharad Malhotra

दरअसल शरद के दोस्त विकास कलंत्री और उनकी पत्नी प्रियंका भी कोरोना की चपेट में आ गए हैं और टेस्ट से ठीक पहले वो शरद और उनकी पत्नी से मिले थे जिसके बाद शरद और उनकी पत्नी को भी टेस्ट कराना पड़ा. शरद फ़िलहाल घर पर ही हैं यानी होम क्वारेंटीन हैं और उन्होंने अपने कोरोना से संक्रमित होने की खबर खुद फैंस को दी.

शरद फ़िलहाल नागिन 5 में लीड विलेन का रोल प्ले कर रहे हैं और उनके इस नए निगेटिव अवतार को लोग बेहद पसंद भी कर रहे हैं. सब दुआ कर रहे हैं कि नागिन का यह चील जल्द ठीक हो और पर्दे पर रोमांस को एक अलग ही लेवल पर लेके जाए.

यह भी पढ़ें: आख़िर क्यों मौनी रॉय को सोशल मीडिया पर लोग कहते हैं प्लास्टिक दीदी… अक्सर होती हैं ट्रोल! (Fans troll Mouni Roy For Plastic Surgeries, Call Her Plastic Shop)

कोरोना वायरस का कहर पूरा देश झेल रहा है, लेकिन मुंबई में कोरोना के मामले थमने का नाम नहीं ले रहे हैं. अब खबर आई है कि बोनी कपूर के घर काम करने वाला Covid-19 पॉजिटिव पाया गया है. इस बात को लेकर सब डरे हुए हैं कि कहीं बोनी कपूर की फैमिली भी कोरोना की चपेट में तो नहीं आ गई है. फिलहाल बोनी कपूर के घर काम करने वाला क्वारनटीन में है, लेकिन बोनी कपूर के परिवार को लेकर चिंता बढ़ गई है.

Boney Kapoor with his daughters Janhvi Kapoor, Khushi Kapoor

बोनी कपूर के घर काम करने वाला हुआ क्वारनटीन
ख़बरों के अनुसार, प्रोड्यूसर बोनी कपूर के लोखंडवाला स्थित ग्रीन एकर्स वाले घर पर काम करने वाला एक शख्स को कोरोना पॉजिटिव पाया गया है. बोनी कपूर के घर काम करने वाला जब Covid-19 पॉजिटिव पाया गया, तो जांच की रिपोर्ट सामने आने के बाद उन्होंने सोसायटी अथॉरिटीज को सूचित किया, जिसके बाद सोसायटी ने इसकी जानकारी बीएमसी को दी. इसके बाद तुरंत बीएमसी और स्टेट गवर्मेंट अथॉरिटीज सक्रिय हो गईं और मरीज़ को क्वारनटीन सेंटर ले जाया गया.

यह भी पढ़ें: ‘ससुराल सिमर का’ सीरियल के एक्टर आशीष रॉय ICU में भर्ती, इलाज के लिए नहीं हैं पैसे, लगाई मदद की गुहार (‘Sasural Simar Ka’ Actor Ashiesh Roy Admitted To ICU, Has No Money For Treatment)

घर काम करने वाला Covid-19 पॉजिटिव पाए जाने पर बोनी कपूर ने कहा ये-
बोनी कपूर के घर पर काम करने वाले 23 वर्षीय चरण साहू को शनिवार की शाम से अच्छा महसूस नहीं हो रहा था. उसकी तबीयत ठीक नहीं थी, इसलिए बोनी कपूर ने उसे टेस्ट के लिए भेजा और उसे आइसोलेसन में रखा. जब जांच की रिपोर्ट सामने आई, तो बोनी कपूर ने तुरंत सोसायटी अथॉरिटीज को सूचित किया, जिसके बाद बीएमसी को इसकी जानकारी दी गई. इसके बाद तुरंत ही चरण साहू को क्वारनटीन सेंटर ले जाया गया. इस पूरी खबर पर स्टेटमेंट जारी करते हुए बोनी कपूर ने इस बारे में बताया, “मैं, मेरे बच्चे और घर पर मौजूद मेरा बाकी स्टाफ सब पूरी तरह से ठीक हैं, हम में से किसी में भी इसके लक्षण नहीं हैं. जब से लॉकडाउन शुरू हुआ है, तब से हम अपने घर से बाहर तक नहीं निकले हैं.” बोनी कपूर ने कहा, “तत्काल रिस्पॉन्स के लिए हम महाराष्ट्र सरकार और बीएमसी के शुक्रगुजार हैं. हम बहुत संजीदगी से बीएमसी और मेडिकल टीम द्वारा दिए जा रहे निर्देशों का पालन कर रहे हैं. हम आश्वस्त हैं कि चरण भी जल्द ही ठीक होकर वापस घर पर हमारे पास आ जाएगा.”

आप भी पढ़िए बोनी कपूर द्वारा जारी ये मैसेज:

यदा क्रूर ग्रहों वक्री अतिचार तु सौमयक:
पीड़ा व्याधि भयं तत्र दुर्भिक्षम राज्य विग्रहम

कहते हैं, कोई पापी ग्रह वक्री हो जाए तो और पापी हो जाता है. 11 मई 2020 को शनि देव वक्री होकर 29 सितंबर 2020 को मार्गी होंगे. ये चार महीने शनि देव अपने स्वभाव को और उग्र करेंगे. बता दें कि मई महीने में शनि, गुरु और शुक्र ग्रह वक्री होने जा रहे हैं. ये ग्रह चाल भारत के लिए कैसी होगी? क्या इस ग्रह दशा में कोरोना वायरस का अंत होगा? क्या भारत बनेगा सुपर पावर? 11 मई 2020 को जब शनि देव वक्री होंगे, तो इसका क्या परिणाम होगा, इसके बारे में जानने के लिए हमने ज्योतिष शिरोमणि पंडित राजेंद्र जी से बात की. पंडित राजेंद्र जी के अनुसार, शनि देव के वक्री होने से होंगे ये परिणाम.

Shani Vakri

11 मई 2020 को जब शनि देव वक्री होंगे, तो इसका क्या परिणाम होगा? किन 5 राशियों पर पड़ेगा इसका अशुभ प्रभाव
बता दें कि 11 मई 2020 को शनि देव वक्री होकर 29 सितंबर 2020 को मार्गी होंगे. ये चार महीने शनि देव अपने स्वभाव को और उग्र करेंगे. मई महीने में शनि, गुरु और शुक्र ग्रह वक्री होने जा रहे हैं. 14 मई से गुरु के वक्री होने से देश में अराजकता का माहौल बन सकता है. केंद्रीय एवं राज्य सरकारों को उपद्रव, हिंसा, आंदोलन आदि का सामना करना पड़ सकता है. साथ ही जनता में अशांति भी देखने को मिल सकती है. शनि के वक्री होने से राजनीतिक टकराव बढ़ेंगे, मंहगाई बढ़ेगी, देश में असंतोष और असुरक्षा का माहौल बनेगा. साथ ही कहीं-कहीं प्राकृतिक आपदा जैसे बाढ़, भूकंप आदि की संभावना भी है. बता दें कि पूरे वर्ष शनि देव अपने शत्रु रवि के नक्षत्र उत्तराषाढ़ा में रहने वाले हैं, जिसके कारण देश में हालात को पूरी तरह से ठीक होने में समय लगेगा. शनि के वक्री होने का सबसे ज़्यादा असर उन लोगों पर पड़ेगा, जिनकी राशि पर शनि की साढ़ेसाती या ढैय्या चल रही है. इस समय धनु, मकर और कुंभ राशियों पर शनि की साढ़ेसाती चल रही है. साथ ही मिथुन और तुला राशि पर शनि की ढैय्या चल रही है. ऐसी स्थिति में शनि के वक्री होने का अशुभ प्रभाव इन पांच राशियों पर सबसे ज़्यादा पड़ेगा.

कब होगा कोरोना वायरस का अंत?
भारतीयों का ढांचा शनि के अधीन होने के कारण ही हम अन्य देशों के मुकाबले करोना वायरस से बहुत कम मात्रा में संक्रमित हुए हैं. शनि देव अनुसाशन और न्याय के लिए जाने जाते हैं इसलिए हम भारतीय यदि अनुसाशन का पालन करेंगे, तो कोरोना वायरस से बहुत ज़्यादा प्रभावित नहीं होंगे. 14 मई 2020 से गुरु के वक्री होने से इस वायरस का प्रभाव कम होने लगेगा. फिर 30 जून 2020 को गुरु वक्री अवस्था में फिर से धनु राशि में प्रवेश करेंगे और 20 नवंबर तक वहां रहेंगे. ऐसे में ये संभावना है कि मई से सितंबर के बीच वायरस की काफी रोकथाम हो जाएगी. हां, लेकिन हम पहले जैसा जीवन वर्ष 2021 में ही जी सकेंगे. 2020 में हमें अपनी ज़िंदगी को पटरी पर लाने के लिए बहुत मेहनत और जद्दोज़ेहर करनी पड़ेगी. हमारे देश के लिए आने वाला समय बहुत अच्छा है और इसके लिए हम सभी देशवासियों को बहुत मेहनत करनी होगी, तभी हम अपने देश को सुपर पावर बना सकते हैं. शनि देव जब से मकर राशि में आए हैं तब से नियम, क़ानून, भौतिक लोभ आदि के प्रति लोगों का नज़रिया बदलने लगा है. लोग भौतिक सुख के परे जीवन के सच्चे सुख और जीवन के सही अर्थ को समझने लगे हैं. अतः हम भारतीयों को घबराने की कोई ज़रूरत नहीं है. यदि हम सब ख़ुद को कर्म की भट्टी में तपाएंगे, तो ये बात निश्चित है कि हमारा आनेवाला भविष्य सोने से निखर जाएगा. कड़ी मेहनत और योग, ध्यान, सत्संग के मार्ग पर चलकर ही हम अपनी अलग पहचान बना सकते हैं और भारत को सुपर पावर बना सकते हैं.

Coronavirus

यह भी पढ़ें: ज्योतिष के अनुसार ये करेंगे तो बच सकते हैं कोरोना वायरस के प्रकोप से (When Will Coronavirus End In India And Across Globe? What Astrologers Predict?)

क्या अगले पांच सालों में भारत बनेगा सुपर पावर?
यदि हम आनेवाले समय की बात करें, तो गुरु ग्रह पूरे दो वर्ष तक निर्बल है, लेकिन शनि ग्रह पूरे पांच वर्ष तक बलवान है और ये हम भारतीयों के लिए अच्छी ख़बर है. भारतीयों का ढांचा शनि के अधीन होने से एक बात हो पक्की है कि आने वाले समय में भारत में रोज़गार में बढ़ोत्तरी देखने को मिलेगी. देश में आने वाले समय में निवेश बढ़ेगा, जिसके कारण अगले पांच सालों में भारत सुपर पावर बनेगा. आने वाले पांच सालों में शनि देव सभी भारतीयों को भौतिक मोह से ऊपर ले आएंगे. सभी देशवासियों को कर्म की भट्टी में तपना और सोना बनकर निखरना सिखाएंगे. भारतीयों की कड़ी मेहनत के कारण ही आनेवाले पांच सालों में देश सुपर पॉवर बनने वाला है.

आने वाले समय में चीन की स्थिति क्या होगी?
गुरु ग्रह चीन का प्रतिनिधित्व करता है और अगले पूरे दो वर्ष तक गुरु ग्रह निर्बल है, इसके कारण अगले दो वर्षों में चीन को बदनामी, निवेश में कमी, युद्ध का संकट जैसी स्थितियों का सामना करना पडेगा. कहना गलत नहीं होगा कि आने वाला समय चीन पर बहुत भारी रहने वाला है, चीन को कहीं से भी राहत नहीं मिलेगी, उसे हर तरफ से मुसीबतों का सामना करना पडेगा.

गुरु की शरण में जाकर ही जीवन सफल होता है
पांच तत्व के ऊपर है छठा तत्व और वो है गुरुतत्व, जो सबसे ऊपर है, उनका ध्यान, उनके चरणो में पूर्ण समर्पण ही हमारे तन-मन और आत्मा को पवित्र बनाता है और हमारे जीवन को सुरक्षा प्रदान करता है. इसीलिए कहते हैं-
गुरु की महिमा कोई ना जाने
ना ही पंडित ना ही सयाने

यह भी पढ़ें: वार्षिक राशिफल 2020: जानें कैसा रहेगा वर्ष 2020 आपके लिए (Yearly Horoscope 2020: Astrology 2020)

वक्री शनि देव को प्रसन्न करने के लिए करें ये उपाय
* प्रत्येक शनिवार के दिन शनि देव की उपासना करें और हो सके तो शनि देव का उपवास भी रखें. * शनिवार के दिन काले कुत्ते, गाय या कौवे को रोटी खिलाएं.
* प्रत्येक शनिवार के दिन शाम को पीपल के वृक्ष में जल चढ़ाएं और सरसों के तेल का दीपक जलाएं.
* शनिवार के दिन दान करें. रोगियों की सेवा करें. बुज़ुर्गों की सेवा करें. ज़रूरतमंदों को अन्न-वस्त्र का दान करें.
* प्रत्येक शनिवार के दिन शनि के बीज मंत्र ‘ॐ प्रां प्रीं प्रौं सः शनैश्चराय नमः’ का 108 बार जाप करें.
* शनिवार के दिन हनुमानजी की भी पूजा करें.
* शनिवार के दिन उड़द की दाल से बनी वस्तुओं, तेल से बनी वस्तुओं का भोग लगाएं और इनका दान करें.
* अनुसाशन में रहें, झूठ न बोलें, बेईमानी न करें. शनि देव न्याय के देवता हैं. यदि आप न्याय के साथ रहेंगे, तो शनि देव कभी आपका नुक़सान नहीं होने देंगे.
– कमला बडोनी

×