coronavirus in india

कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए अब कई सेलिब्रिटीज़ आगे आ रहे हैं और हर संभव मदद कर रहे हैं. अक्षय कुमार के बाद अब उनकी वाइफ ट्विंकल खन्ना भी कोरोना पीड़ितों की सहायता के लिए आगे आई हैं. ट्विंकल ऐसे करेंगी ऑक्सीजन की कमी को दूर…

Akshay Kumar and Twinkle Khanna

कोरोना के कहर से इस समय पूरा देश जूझ रहा है. देशभर में कई शहरों में हॉस्पिटल में बेड, इंजेक्शन, ऑक्सीजन आदि की भारी किल्ल्त हो रही है. ऑक्सीजन की कमी के चलते कुछ अस्पतालों ने शिकायत तक दर्ज की है. ऐसे में कई बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ अपनी नैतिक ज़िम्मेदारी निभाते हुए कोरोना पीड़ितों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं और हर मुमकिन मदद कर रहे हैं.

Akshay Kumar and Twinkle Khanna

बॉलीवुड स्टार अक्षय कुमार के बाद अब उनकी वाइफ ट्विंकल खन्ना भी कोरोना पीड़ितों की सहायता के लिए आगे आई हैं. ट्विंकल खन्ना ने देश में ऑक्सीजन की कमी को देखते हुए ऑक्सीजन कंसंट्रेटर दान करने का फैसला किया है, लेकिन इसके वितरण के लिए उन्हें एक कुशल पंजीकृत एनजीओ की ज़रूरत है. इस जरूरत को पूरा करने के लिए ट्विंकल खन्ना ने ट्विटर पर लोगों से मदद मांगी है. ट्विंकल ने ट्विटर पर लिखा है, ‘कृपया, मुझे वेरिफाइड, भरोसेमंद और पंजीकृत एनजीओ के बारे में जानकारी दीजिए, जो 100 ऑक्सीजन कंसंट्रेटर्स (प्रति मिनट 4 लीटर ऑक्सीजन की आपूर्ति करने वाले) बांटने में सहायता कर सके. ये कंसंट्रेटर्स सीधे यूके से उन तक पहुंचाए जाएंगे.’

यह भी पढ़ें: Video: कोरोना काल में सलमान खान ने बढ़ाया मदद का हाथ, फ्रंटलाइन वर्कर्स को पहुंचाए खाने के पैकेट (Salman Khan Extended a Helping Hand in Corona Crisis, Food Packets Delivered to Frontline Workers)

ट्विंकल खन्ना के इस ट्वीट पर कई लोग कमेंट करके इस नेक काम के लिए उनकी तारीफ कर रहे हैं. ट्विंकल खन्ना से पहले अक्षय कुमार ने कोरोना पीड़ितों के लिए खाने, दवाओं और ऑक्सीजन का इंतज़ाम करने के लिए गौतम गंभीर फाउंडेशन को एक करोड़ रुपये की मदद की थी और गौतम ने ट्विटर के ज़रिए जानकारी देते हुए अक्षय कुमार का शुक्रिया अदा किया था.

यह भी पढ़ें: कोरोना संक्रमित मरीज़ों के लिए लखनऊ और पटना में गुरमीत चौधरी खोलेंगे आधुनिक सुविधाओं से लैस अस्पताल (Actor Gurmeet Chaudhary To Open Ultra Modern Hospitals For Corona Patients In Lucknow And Patna)

कोरोना के कहर से देश को बचाने के लिए सेलिब्रिटीज़ की तरह ही हम सब को भी जरूरतमंदों की मदद के लिए आगे आना चाहिए, तभी हम सब मिलकर कोरोना को आसानी से हरा सकेंगे.

कोरोना वायरस से बचने के लिए मास्क. दो गज की दूरी और सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना बेहद जरूरी है. इसके साथ ही 10 घरेलू उपाय करके आप कोरोना वायरस से आसानी से बच सकते हैं.

COVID-19 Home Remedies

कोरोना के कहर से पूरा देश दहशत में हैं. स्थिति बहुत भयावह होती जा रही है. अस्पतालों में आईसीयू में जगह नहीं है, ऑक्सीजन की कमी के कारण अफरातफरी का माहौल है. ऐसे में जहां तक हो सके खुद को कोरोना से बचाए रखने की कोशिश बेहद जरूरी है. हम आपको 10 ऐसे घरेलू उपाय बता रहे हैं, जो आपको कोरोना वायरस से बचा सकते हैं. आप भी ये उपाय जरूर करें, ताकि आप खुद को और अपने परिवार को कोरोना से बचा सकें.

COVID-19 Home Remedies

1) विटामिन-सी युक्त फल, जैसे संतरा, मौसमी, नींबू, आंवला आदि का नियमित रूप से सेवन करें.

2) रोज़ाना नियमित रूप से योग, प्राणायाम और सूर्य नमस्कार करें. इससे आपका श्‍वसनतंत्र और फेफड़े मजबूत होंगे. इसके साथ ही रोज़ एक घंटे धूप सेंकें.

3) कपूर, लौंग, इलाइची और जावित्री को पीसकर अपने साथ रखें और समय-समय पर इस मिश्रण को सूंघते रहें.

4) बासी खाना खाने से बचें. ताज़ा और गरम भोजन ही खाएं.

5) फ्रिज का पानी पीने के बजाय गरम पानी पीएं.

यह भी पढ़ें: मंदिर, मस्जिद के साथ ही कोरोना से जंग में मदद के लिए आगे आए ये सामाजिक संस्थान, आप मदद के लिए यहां संपर्क कर सकते हैं (Along With Religious Bodies Lots Of Social Organizations Coming Forward To Help In The War Against The Corona, Emergency Helpline Numbers For Covid Patients)

COVID-19 Home Remedies

6) बाज़ार में बिकनेवाली अनहेल्दी और खुली जगहों पर बिकनेवाली चीज़ें न खाएं.

7) दिन में दो बार भाप लें. भाप लेते समय नाक और मुंह के रास्ते भाप को अंदर जाने दें. इससे वायरस आपके फेफड़ों तक नहीं पहुंच सकेगा.

8) नमक मिले गरम पानी से गरारे करें. इससे वायरस आपके फेफड़ों तक नहीं पहुंच सकेगाा.

9) तुलसी, लौंग, अदरक और हल्दी वाला दूध पीएं.

10) हर्बल टी पीने से कोरोना से बचाव होता है इसलिए रोज़ हर्बल टी जरूर पीएं. इसके लिए एक लीटर पानी में कुछ तुलसी के पत्ते डालकर अच्छी तरह उबालें. जब पानी एक चौथाई रह जाए, तब इसमें एक चुटकी काली मिर्च पाउडर, थोड़ा-सा गुड़ और एक चम्मच नींबू रस डालकर उबालें. इस हर्बल टी को दिन में एक या दो बार पीएं.

कोरोना काल में जहां लोग घर से निकलने से डर रहे हैं, ऐसे में छत्तीसगढ़ की 5 महीने की प्रेग्नेंट DSP शिल्पा साहू कोरोना काल में भी कर रही हैं ड्यूटी, सड़क पर उतरकर लोगों को दे रही हैं मास्क पहनने की हिदायत.

DSP Shilpa Sahu

जो लोग फ़र्ज़ को धर्म समझते हैं, उनके सामने हर कठिनाई आसान हो जाती है. 5 महीने की प्रेग्नेंट DSP शिल्पा साहू कोरोना काल में भी चिलचिलाती धूप में अपना फ़र्ज़ निभा रही हैं और सड़क पर उतरकर लोगों को मास्क पहनने की हिदायत दे रही हैं

हाथ में लाठी लिए छत्तीसगढ़ के दंतेवाड़ा जिले की डीएसपी शिल्पा साहू चिलचिलाती धूप में सड़क पर उतरकर बेवजह घर से निकलने वालों को समझाती हैं कि ऐसा न करें, ऐसा करने से आप संक्रमित हो सकते हैं. जो लोग सीधी तरह बात नहीं मानते, शिल्पा साहू उनके चालान भी काटती हैं. बहादुरी की मिसाल शिल्पा साहू का ये जज़्बा देखकर लोग दांतों तले उंगली दबा लेते हैं.

कोरोना काल में जहां लोग अपने घर की औरतों को बाहर नहीं निकलने देते, ऐसे में 5 महीने की प्रेग्नेंट DSP शिल्पा साहू कोरोना काल में भी चिलचिलाती धूप में अपना फ़र्ज़ निभा रही हैं. DSP शिल्पा साहू लोगों से कहती हैं कि कोरोना वायरस से बचाव के लिए फेस मास्क लगाना, सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करना और सैनिटाइजेशन करना बहुत जरूरी है. डीएसपी शिल्पा साहू लोगों से कहती हैं कि हम सड़क पर इसलिए हैं, ताकि इलाके में कानून व्यवस्था बनी रहे. वो लोगों को अपने घरों में सुरक्षित रहने के लिए कहती हैं और बेवजह घर से बाहर न निकलने की हिदायत देती हैं.

यह भी पढ़ें: कोरोना से संक्रमित डॉक्टर ने फेसबुक पर लिखा, शायद ये आखिरी गुड़ मॉर्निंग हो, 36 घंटे बाद दुनिया को कहा अलविदा (Mumbai Doctor Dies Of Covid 19 After Saying Goodbye On Facebook)

DSP शिल्पा साहू के काम और साहस की तारीफ़ करते हुए छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने कहा कि उन्होंने समाज के सामने एक अच्छा उदाहरण प्रस्तुत किया है. दंतेवाड़ा की डीएसपी शिल्पा साहू से हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए और अपने आसपास के लोगों को कोरोना से बचाव के लिए जागरूक करना चाहिए. यदि हम सब मिलकर अपनी ज़िम्मेदारी निभाएंगे, तो कोरोना को जरूर हरा पाएंगे. आप सब भी स्वस्थ और सुरक्षित रहें.

कोरोना के कहर से पूरा देश दहशत में हैं. आम लोगों के साथ ही डॉक्टर, नर्स और स्वास्थ्यकर्मी, पुलिस भी अब तेज़ी से कोरोना की चपेट में आ रहे हैं. मुंबई के सेवरी टीबी अस्पताल की 51 साल की सीनियर डॉक्टर मनीषा जाधव की भी कोरोना से मौत हो गई. कोरोना से संक्रमित डॉक्टर मनीषा जाधव ने फेसबुक पर लिखा, शायद ये आखिरी गुड़ मॉर्निंग हो और इसके 36 घंटे बाद उन्होंने दुनिया को अलविदा कह दिया.

Manisha Jadhav

डॉक्टर मनीषा जाधव ने फेसबुक पर लिखा ये इमोशनल पोस्ट
मुंबई के सेवरी टीबी अस्पताल की 51 साल की सीनियर डॉक्टर मनीषा जाधव का फेसबुक पर लिखा हुआ इमोशनल पोस्ट पढ़कर हज़ारों लोगों की आंखें नम हो रही हैं. डॉक्टर मनीषा जाधव ने रविवार को फेसबुक पर पोस्ट करते हुए अपनी स्थिति के बारे में बता दिया था.

Manisha Jadhav

डॉक्टर मनीषा जाधव ने रविवार को फेसबुक पर लिखा, ‘हो सकता है ये आखिरी गुड मॉर्निंग हो. हो सकता है मैं इस प्लेटफॉर्म पर अब आपसे फिर न मिलूं. सब अपना ध्यान रखें. शरीर मर जाता है. आत्मा नहीं मरती. आत्मा अमर है.’ बता दें कि रविवार को फेसबुक पर यह पोस्ट लिखने के 36 घंटे बात मंगलवार को डॉक्टर मनीषा जाधव ने कोविड-19 की वजह से दम तोड़ दिया.

Manisha Jadhav

महाराष्ट्र में तेज़ी से बढ़ रहे है कोरोना के केसेस
डॉक्टर मनीषा जाधव टीबी के इलाज की स्पेशलिस्ट थीं और सेवरी टीबी अस्पताल में नौकरी करती थीं. डॉक्टर मनीषा जाधव का ये फेसबुक पोस्ट पढ़कर लोग अपने आंसुओं को रोक नहीं पा रहे हैं. लोगों की जान बचाने वाले डॉक्टर अब कोरोना के कारण अपनी जान गवां रहे हैं. इस समय देशभर में सबसे ज्यादा कोरोना के केसेस महाराष्ट्र में हैं और ये स्थिति ज्यादा भयावह होती जा रही है. इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के मुताबिक, महाराष्ट्र में 18,000 डॉक्टर कोरोना की चपेट में आ गए हैं, वहीं 168 डॉक्टरों की मौत हो गई है.

Covid Vaccine

डॉ. तृप्ति गिलाडा ने नम आंखों से लोगों से की ये अपील
यदि आपने अभी तक मुंबई की डॉ तृप्ति गिलाडा का वायरल वीडियो नहीं देखा है, तो आपको बता दें कि डॉ तृप्ति गिलाडा ने नम आंखों से बताया कि स्थिति बहुत भयावह होती जा रही है. मुंबई के अस्पतालों में आईसीयू में जगह नहीं है, हम लोगों ने इससे पहले ऐसी स्थिति नहीं देखी है. इस भयानक स्थिति में हम खुद को असहाय महसूस कर रहे हैं. धीरे-धीरे कई राज्यों और शहरों की हालत बहुत खराब होती जा रही है. उन्होंने अपने आंसुओं को रोकने की कोशिश करते हुए भावुक होकर कहा, ”ऐसे हालात में हम सभी डॉक्टरों में भी कहीं ना कहीं इमोशनल ब्रेकडाउन की स्थिति हो रही है. कृपया आप सब अपना ध्यान रखें और खुद को सुरक्षित रखें.”

यह भी पढ़ें: मंदिर, मस्जिद के साथ ही कोरोना से जंग में मदद के लिए आगे आए ये सामाजिक संस्थान, आप मदद के लिए यहां संपर्क कर सकते हैं (Along With Religious Bodies Lots Of Social Organizations Coming Forward To Help In The War Against The Corona, Emergency Helpline Numbers For Covid Patients)

कृपया आप सभी कोरोना को हल्के में न लें और कोरोना के सभी नियमों का पालन करते हुए सुरक्षित रहें.

कॉन्ट्रोवर्सी क्वीन कंगना रनौत ने एक बार सोशल मीडिया पर ट्वीट करके अपने मन की भड़ास निकाली है. कोरोना के बढ़ते मामले पर एक बार फिर कंगना ने खुलकर आवाज़ उठाई है. कंगना ने आखिर क्यों कहा, ‘शांत हो जाओ मूर्खों’?

Kangana Ranaut

देशभर में कोरोना के मामले तेज़ी से बढ़ रहे हैं, जिसके चलते लोगों के मन में डर और तनाव बढ़ता जा रहा है. हॉस्पिटल में बेड, दवाइयां, ऑक्सीजन, यहां तक कि वैक्सीन की भी कमी होने लगी है. देशभर में कोरोना के मामले इतनी तेज़ी से बढ़ रहे हैं कि अस्पतालों के अलावा कई सामाजिक संस्थान भी आम लोगों की मदद के लिए आगे आ रहे हैं. कई मंदिर, मस्जिद, गुरूद्वारे, वेडिंग हॉल आदि को कोविड केयर सेंटर में परिवर्तित कर दिया गया है. इसके बावजूद देशभर में अफरातफरी का माहौल है. लोगों के डर और हताशा को देखते हुए बॉलीवुड क्वीन कंगना रनौत ने ट्वीट कर लोगों पर अपना गुस्सा जाहिर किया है. आखिर कंगना को लोगों से क्या शिकायत है?

Kangana Ranaut

कॉन्ट्रोवर्सी क्वीन कंगना रनौत की ये खासियत है कि वो किसी से नहीं डरती और हर मुद्दे पर बेबाक होकर बोलती हैं. इस बार कंगना रनौत ने सोशल मीडिया पर कोरोना वायरस से त्रस्त लोगों पर अपना गुस्सा जाहिर किया है और इसके लिए उन्हें खुद जिम्मेदार ठहराया है. कंगना रनौत ने ट्वीट करके लोगों पर अपना गुस्सा जाहिर किया है. कंगना ट्वीट करके लिखा है, ‘मौजूदा हालात से जो भी नाराज, हताश और त्रस्त है, वो खुद इसका हकदार है और इसके लिए जिम्मेदार भी है. अगर सूरज ने न चमकने का फैसला किया, तो इसका उसे आपको कोई स्पष्टीकरण नहीं देना चाहिए. ये धरती माता जिसने आपको पोषित किया, यही अचानक आपकी दुश्मन हो गई, वह आपको स्पष्टीकरण नहीं देना चाहती. शांत हो जाओ मूर्खों.’

कंगना रनौत के इस ट्वीट पर कई लोगों ने कमेंट्स किए हैं. वैसे भी कंगना के ट्वीट होते ही ऐसे हैं कि लोग खुद को कमेंट करने से रोक नहीं पाते. कंगना रनौत ने कुछ समय बाद एक और ट्वीट किया. अपने इस ट्वीट में में कंगना ने लिखा, ‘पृथ्वी आपके लिए अपनी धुरी पर नहीं चलती, सूरज आपकी मूर्ख मुद्रा के लिए नहीं चमकता. माइक्रोकॉस्म में भी ये पृथ्वी एक परमाणु की तरह है, जो इस विशाल ब्रह्मांड में आपके जीवन की चिंता करता है? चाहे हमें ज़िंदगी मिले या मौत, सिर्फ वाजिब भावनाओं के लिए आभार है, बैठ जाओमूर्खों.’

कंगना रनौत के ट्वीट एक बार फिर सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे हैं. कंगना अपनी भड़ास के माध्यम से लोगों को सचेत करने की कोशिश कर रही हैं कि प्रकृति के इशारे को समझो. आप आज जो भुगत रहे हैं, इसके लिए आप खुद ही ज़िम्मेदार हैं. क्या वाकई हमने पृथ्वी और प्रकृति के साथ अति की है. हमें जो संसाधन पृथ्वी और प्रकृति ने दिए, क्या हमने उनका सही उपयोग किया? ये सवाल हम सभी को खुद से जरूर पूछना चाहिए.

देशभर में कोरोना का कहर लोगों के मन में दहशत पैदा कर रहा है. खासकर देश की आर्थिक राजधानी मुंबई में कोरोना के केसेस इतनी तेजी से बढ़ रहे हैं कि अस्पतालों में बेड खाली नहीं हैं. कोरोना के बढ़ते केसेस को देखते हुए अब मंदिर, मस्जिद के साथ ही कई सामाजिक संस्थान कोरोना से जंग में मदद के लिए आगे आए हैं. ये तमाम लोग निस्वार्थ भाव से मानवता का धर्म का निर्वाह कर रहे हैं.

Helpline Numbers For Covid Patients
  • मुंबई के नेहरू सेंटर के हॉल को कोविड केयर सेंटर में परिवर्तित कर दिया गया है. यहां पर मरीजों के लिए ऑक्सीजन की सुविधा भी उपलब्ध है.
  • मुंबई के खार जिमखाना को कोविड केयर सेंटर में परिवर्तित कर दिया गया है.
  • इसी तरह मुंबई में कई वेडिंग हॉल को भी कोविड केयर सेंटर में परिवर्तित कर दिया गया है.
  • मुंबई के श्री स्वामी नारायण मंदिर ने परिसर को कोविड अस्पताल में बदल दिया है.
  • नोएडा के सेक्टर 18 में स्थित गुरुद्वारा साहिब ने तय किया है कि उन लोगों तक मुफ्त में खाना पहुंचाया जाएगा, जो कोरोना से पीड़ित और घर पर खाना नहीं पका सकते.
  • वडोदरा में स्वामीनारायण मंदिर में 500 बेड की सुविधा की गई.
  • वडोदरा की जहांगीरपुरा मस्जिद को कोविड सेंटर में तब्दील कर दिया गया है. इस मस्जिद में करीब 50 बेड ऑक्सीजन के साथ उपलब्ध हैं.
Helpline Numbers For Covid Patients

लॉकडाउन में सामाजिक सस्थाओं ने लोगों की सेवा में बहुत बड़ी भूमिका निभाई है. कोरोना काल में कई सामाजिक संस्थान गरीबों को भोजन, मास्क आदि मुफ्त बांट रहे हैं. साथ ही मेडिकल सुविधाएं भी मुहैया करा रहे हैं. मानवता के लिए ये योगदान बहुत बड़ा है.

Helpline Numbers For Covid Patients

कोरोना काल में सोशल मीडिया के माध्यम से मिल रही है मदद
कोरोना काल में सोशल मीडिया पर एक तरफ जहां डर और नफरत का माहौल पैदा किया जा रहा है, वहीं कई लोग मदद के लिए सोशल मीडिया का प्रयोग कर रहे हैं. हम यहां पार्ट सोशल मीडिया की कुछ ऐसी पोस्ट शेयर कर रहे हैं, जो आपके काम आ सकती हैं. कोरोना के इलाज के लिए आप इन हेल्पलाइन नंबर्स पर संपर्क कर सकते हैं.

Helpline Numbers For Covid Patients

यदि आप महाराष्ट्र में रहते हैं और आपके किसी करीबी को कोरोना से बचाव के लिए मदद की जरूरत है, तो ये ट्वीट आपके काम आ सकता है.

मुंबई में बेड की जानकारी तलाश रहे हैं, तो आपको आदित्य ठाकरे के इस ट्वीट से जानकारी मिल सकती है.

दिल्ली में मेडिकल हेल्प के लिए आप यहां सम्पर्क कर सकते हैं.

दिल्ली में प्लाज़्मा के लिए आप यहां सम्पर्क कर सकते हैं.

इस ट्वीट में आपको देश के अलग-अलग राज्यों के लिए मदद मिल सकती है.

महामारी के इस कठिन दौर में ये सभी धार्मिक स्थल और सामाजिक संस्थान ये संदेश दे रहे हैं कि मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं होता. आप भी अपनी क्षमतानुसार कोरोना के मरीजों की सहायता अवश्य करें. इसी तरह ही हम सब मिलकर कोरोना को हराकर देश और मानवता को जीता सकते हैं.

यह भी पढ़ें: COVID-19 Updates: 18 साल से अधिक आयुवाले लोगों को लगेगी 1 मई से कोरोना वैक्सीन (Everyone Above 18 Years Of Age To Get Corona Vaccine From 1st May)

कोरोना वायरस से पूरा देश जंग लड़ रहा है, ऐसे में धार्मिक स्थल भी इस जंग में मदद के लिए आगे आ रहे हैं. बता दें कि मुंबई के श्री स्वामी नारायण मंदिर ने परिसर को कोविड अस्पताल में बदल दिया है. इन मंदिरों की इमारतों में देश के सभी धर्मों के लोगों के अलावा दूसरे देशों के नागरिकों का भी इलाज किया जा रहा है.

Religious Bodies

कोरोना के प्रकोप देशभर में रोगियों की संख्या तेज़ी से बढ़ रही है, मरीजों की बढ़ती संख्या के चलते बीएमसी के प्रमुख अस्पतालों में बेड मिलना एक बड़ी चुनौती बनती जा रही है, ऐसे में धार्मिक स्थल अपनी नैतिक ज़िम्मेदारी को समझते हुए मानव कल्याण के लिए आगे आ रहे हैं. महामारी के इस कठिन दौर में ये सभी धार्मिक स्थल ये संदेश दे रहे हैं कि मानवता से बड़ा कोई धर्म नहीं होता.

Covid Hospital

कोरोना वायरस के खिलाफ जंग में मदद के लिए देशभर से कई धार्मिक स्थल आगे आ रहे हैं. इसी कड़ी में हाल ही में नोएडा के सेक्टर 18 में स्थित गुरुद्वारा साहिब ने तय किया है कि उन लोगों तक मुफ्त में खाना पहुंचाया जाएगा, जो कोरोना से पीड़ित और घर पर खाना नहीं पका सकते. इसी तरह वडोदरा में स्वामीनारायण मंदिर में 500 बेड की सुविधा की गई.

Covid Hospital

मंदिरों की तरह ही देशभर में मस्जिदों की तरफ से भी मदद के लिए हाथ आगे बढ़ रहे हैं. ख़बरों के अनुसार, वडोदरा की जहांगीरपुरा मस्जिद को मुस्लिम समुदाय के लोगों ने कोविड सेंटर में तब्दील कर दिया गया है. इस मस्जिद में करीब 50 बेड ऑक्सीजन के साथ उपलब्ध हैं. स्वामीनारायण मंदिर और जहांगीरपुरा मस्जिद के अलावा दारुल उलूम में भी कोरोना संक्रमितों की मदद के लिए 120 बेड का इंतजाम किया गया है.

Covid Hospital

महामारी से इस मुश्किल समय में जब पूरा देश कोरोना से जंग लड़ रहा है, ऐसे में देशभर में धार्मिक स्थलों का इस भारी तादाद में मदद के लिए आगे आना इस बात की तसल्ली देना है कि हमारे सभी धार्मिक स्थल मानवता को ही सबसे बड़ा धर्म समझते हुए बिना कोई भेदभाव किए आम जन मानस की मदद के लिए भारी तादाद में आगे आ रहे हैं.

भारत के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का लाभ आप कैसे उठा सकते हैं? कोरोना वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें? आपको कोरोना वैक्सीनेशन का लाभ कब और कैसे मिल सकता है, इसकी पूरी जानकारी हम आपको दे रहे हैं. ये है कोरोना वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन का सही तरीका…

Register For Corona Vaccination In India

सरकार ने ज्यादातर राज्यों में कोविड-19 वैक्सीनेशन के लिए ड्राई रन शुरू कर दिया है. जल्द ही देश की आबादी के एक बड़े हिस्से को अपना पहला कोरोना वैक्सीनेशन मिल जाएगा. वैक्सीन सेंटर्स में इसकी इसकी व्यवस्था की तैयारियां जोरों पर हैं. अगले एक या दो हफ्ते के भीतर देशव्यापी वैक्सीनेशन का काम शुरू हो सकता है. देश में अबतक दो वैक्सीन को मंजूरी मिली है, दोनों ही वैक्सीन भारत में ही मैन्युफैक्चर की गई हैं. इसमें सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की कोविशील्ड जो ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की सहायता से बनी है और दूसरी भारत बायोटैक की कोवैक्सीन.

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डॉ. हर्षवर्धन ने हाल ही में ट्वीट करके की ये घोषणा…

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने हाल ही में ट्वीट करके ये घोषणा की है कि सभी राज्यों में पहले चरण में प्रायोरिटी ग्रुप को कोविड-19 वैक्सीनेशन मुफ्त दिया जाएगा. केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने कहा, “मैं लोगों से अपील करता हूं कि COVID-19 वैक्सीन की सुरक्षा और प्रभावकारिता के बारे में अफवाहों से गुमराह न हों. वैक्सीन को मंजूरी देने से पहले हम किसी भी प्रोटोकॉल पर समझौता नहीं करेंगे.” हर्षवर्धन ने कहा कि देश को पोलियो प्रतिरक्षण अभियान शुरू करने पर भी वैक्सीन की हिचकिचाहट एक मुद्दा था, लेकिन हमें इसकी सफलता को याद रखना चाहिए. “

भारत में कोरोना वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें?
भारत के सबसे बड़े टीकाकरण अभियान का लाभ आप कैसे उठा सकते हैं और कोरोना वैक्सीनेशन के लिए रजिस्ट्रेशन कैसे करें, इसकी पूरी जानकारी हम आपको दे रहे हैं, ताकि आप भी इसका उचित लाभ उठा सकें.

  • भारत सरकार ने शुरुआत में 30 करोड़ लोगों को प्राथमिक सूची में रखा है. इनमें भी सबसे पहले हेल्थवर्कर, सुरक्षाकर्मी, अन्य कोरोना वॉरियर्स, 50 वर्ष से अधिक उम्र और गंभीर बीमारी वाले लोग शामिल हैं. यहां पर ये बात स्पष्ट कर दें कि सबसे पहले ये वैक्सीन हेल्थवर्कर, सुरक्षाकर्मी व अन्य कोरोना वॉरियर्स को दी जाएगी, उनके परिवार वालों को नहीं. ऐसे में उनके परिवारवालों को अभी ये वैक्सीन नहीं दी जाएगी.
  • वैक्सीन का टीका लगाने के लिए जिलों, कस्बों, गावों में मौजूद सरकारी अस्पतालों या अन्य स्थानों पर सेंटर्स बनाए जा रहे हैं. जहां पर नियमित रूप से जानकारी देकर कोरोना वैक्सीन का टीका लगाया जाएगा. आपको सेंटर पर जाकर टीका लगवाना होगा.
  • भारत सरकार ने को-विन मोबाइल एप्लीकेशन बनाया है जो वैक्सीनेशन शुरू होने पर मौजूद होगा. इसके अलावा जिस व्यक्ति को वैक्सीन का डोज दिया जाएगा, उसे पहले ही फोन पर मैसेज आ जाएगा. अगर आपको वैक्सीन का डोज मिलना है तो आपके फोन पर तारीख, वक्त और जगह की जानकारी खुद ही आएगी.
  • आपको वैक्सीन लगवानी है या नहीं, ये आपकी इच्छा पर निर्भर है. इसके लिए किसी के साथ जबरदस्ती नहीं की जा सकती है. हालांकि, कोरोना का संकट जिस तरह से बरकरार है ऐसे में एक्सपर्ट भी वैक्सीन के शॉट लेने की सलाह दे रहे हैं. जहां तक वैक्सीन के साइड इफेक्ट्स की बात है, तो सरकार का कहना है कि तमाम नियमों का पालन करने के बाद ही वैक्सीन को मंजूरी दी गई है. सतर्कता पूरी तरह बरती गई है, इसके बाद भी हर वैक्सीन से जुड़े कुछ साइड इफेक्ट्स होते हैं. सभी राज्यों से इसको लेकर तैयारी बरतने को कहा गया है.
  • जिन लोगों को शुरुआती चरणों में वैक्सीन मिल रही है, उनकी लिस्ट जारी की जाएगी. इसी के आधार पर सभी को अपना रजिस्ट्रेशन करवाना होगा. इसके लिए आपके पास पहले ही फोन पर मैसेज आ जाएगा.
  • वैक्सीन का डोज लगवाने के लिए रजिस्ट्रेशन करवाना जरूरी है. और उसके लिए सेंटर पर जाकर आपको अपने जरूरी कागज दिखाने होंगे, उसके आधार पर ही आपको वैक्सीन दी जाएगी. वैक्सीन के लिए रजिस्ट्रेशन के लिए ड्राइविंग लाइसेंस/वोटर आईडी कार्ड/पैन कार्ड/आधार कार्ड/पासपोर्ट, बैंक खाते की पासबुक, मनरेगा कार्ड, स्वास्थ्य मंत्रालय का हेल्थ आईडी कार्ड में से किसी भी डॉक्यूमेंट की सहायता से रजिस्ट्रेशन करवाया जा सकता है.
  • भारत में वैक्सीन मुफ्त मिलेगी या फिर नहीं, अभी इसकी तस्वीर साफ नहीं है. हाल ही में स्वास्थ्य मंत्री का बयान था कि पूरे देश में वैक्सीन मुफ्त मिलेगी, फिर बाद में उन्होंने कहा कि शुरुआती चरण में स्वास्थ्यकर्मियों को ये मुफ्त दी जाएगी. इसके अलावा अलग-अलग राज्य सरकारें अपने हिसाब से नियम तय कर रही हैं. ऐसे में वैक्सीन मुफ्त होगी या नहीं, इस पर अभी देशव्यापी फैसला नहीं है.
Register For Corona Vaccination In India
  • जब आप वैक्सीन सेंटर में ये वैक्सीन लगवाएं, तो कुछ देर तक आपको वहीं पर आराम करना चाहिए. करीब आधा घंटा आप वहां ही आराम करें, इस दौरान आपको कोई दिक्कत आती है तो तुरंत डॉक्टर या वहां मौजूद अधिकारी से संपर्क करें.
  • भारत में वैक्सीन की कुल दो डोज दी जाएंगी. पहली और दूसरी डोज के बीच कुल 28 दिनों का अंतर रहेगा. यानी आपको दो बार वैक्सीन सेंटर पर जाना होगा. वैज्ञानिकों का कहना है कि सभी को वैक्सीन की पूरी डोज लेनी चाहिए. अगर आप पहला डोज़ लगवाते हैं, तो आपको दूसरा डोज़ भी लगवाना चाहिए, ताकि कोरोना का इलाज पूरा हो और आपकी इम्युनिटी बन सके. बता दें कि एंटीबॉडी बनने के बाद ही कोरोना से लड़ाई मजबूत होती है. लेकिन ये शरीर में कोरोना वैक्सीन के दोनों डोज़ मिलने के कुछ दिनों बाद ही मिलती है. इसके साथ ही पहली डोज और दूसरी डोज के अंतर के दौरान आपको सतर्क रहना होगा और अभी तक जिन कोरोना गाइडलाइन्स का पालन कर रहे हैं उसे ही मानना होगा. अगर लापरवाही बरती गई, तो वैक्सीन का असर कम ही होगा. ऐसे में मास्क, दो गज दूरी और बार-बार हाथ धोना तब भी जरूरी ही होगा.
  • एक बात का ध्यान जरूर रखें, कोरोना का वैक्सीन लगाने के बाद भी आपको नियमों का पालन पहले की तरह ही करना होगा. ऐसा बिल्कुल नहीं है कि वैक्सीन लगने के बाद आप पूरी तरह सुरक्षित हो जाएंगे. हालांकि, वैक्सीन आपको काफी हद तक प्रोटक्शन देगी. लेकिन फिर भी आपको पूरी तरह सतर्क रहना होगा. कोविड गाइडलाइन्स का पालन करना होगा ताकि आप खुद को सुरक्षित रख सकें. मास्क, दो गज दूरी और हाथ धोना लगातार करना चाहिए.
  • ये वैक्सीन फिलहाल खुले बाज़ार में नहीं मिलेगी. अभी वैक्सीन को आपात इस्तेमाल के लिए ही मंजूरी मिली है. जब वैक्सीन का काम शुरू होगा, उसके बाद ड्रग रेगुलेटर की ओर से हर हफ्ते डेटा निकाला जाएगा जिसके आधार पर आगे की तैयारी होगी.

भारत में कोरोना वैक्सीनेशन की शुरुआत पूरे देश ले लिए बहुत ही ख़ुशी की खबर है, लेकिन इसका ये मतलब नहीं है कि कोरोना का ख़तरा पूरी तरह से टल गया है. कोरोना वैक्सीनेशन के बाद भी सभी को सुरक्षा नियमों का पालन करना होगा. मास्क, दो गज दूरी और हाथ धोना लगातार जारी रखना होगा, तभी हम सब मिलकर कोरोना को हरा सकते हैं.

कोरोना ने जहां पूरे संसार की रफ़्तार को धीमा कर दिया वहीं मानव जाति पर भी यह एक बड़ा संकट है यह कहना ग़लत नहीं होगा, ऐसे में सभी को इंतज़ार है तो बस वैक्सीन का. इसकी कोशिशें भी हो रही हैं और उम्मीद है कि जल्द ही वैक्सीन के रूप में हमारे पास कोरोना को हराने का हथियार होगा.

कई देशों में वैक्सीन के निर्माण का काम तेज़ी से चल रहा है और ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी भी इस ओर तेज़ी से कदम बढ़ा रही है और भारत में सिरम इंस्टिट्यूट और आईसीएमआर के साथ मिलकर एक सशक्त वैक्सीन- ‘कोविशील्ड’ के निर्माण की दिशा में वो काफ़ी आगे बढ़ चुकी है क्योंकि उसने ह्यूमन वैक्सिनेशन भी लगभग पूरा कर लिया है और अब वो इसके असर और प्रभाव पर नज़र बनाए हुए है.
ह्यूमन ट्रायल के लिए कुल भारत में 1600 वॉलंटियर्स की ज़रूरत थी और केईएम में 100, जिसमें से एक हैं महाराष्ट्र के नामी डॉक्टर सुरेश सुंदर जिनसे हमारी इस प्रक्रिया को लेकर बात हुई और हमें इस विषय को बेहतर तरीक़े से समझने में मदद मिली.

COVID-19 Vaccine

इतने महत्वपूर्ण मिशन के लिए वॉलंटियर बनने की क्या शर्तें और मानक होते हैं?

मैं भी डॉक्टर हूं तो ज़ाहिर है हमारा संपर्क और बातचीत होती रहती है इस तरह की कोशिशों से जुड़े लोगों से, इसीलिए मुझे भी अवसर मिला कि मैं इस अच्छे काम का हिस्सा बनूं.

आप कैसे इस मिशन से जुड़े?

आप एडल्ट हों और पूरी तरह हेल्दी हों. आपको कोरोना ना हुआ हो और आप मानसिक रूप से भी मज़बूत हों. पहले स्टेप में स्क्रीनिंग होती है जिसमें आपका हेल्थ चेकअप, कोविड टेस्टिंग वैग़ैरह होता है और दूसरा स्टेप होता है काउन्सलिंग का जिसमें आपको पूरी प्रक्रिया की गंभीरता और साइडइफ़ेक्ट्स की संभावनाओं के बारे में मानसिक रूप से तैयार किया जाता है.

इसके रिस्क फ़ैक्टर्स के बारे में कुछ बताइए?

चूंकी यह पूरी तरह नई वैक्सीन है तो इसके बारे में हमें ज़्यादा कुछ पता नहीं होता, ऐसे में इसके साइडइफ़ेक्ट्स भी कई तरह के हो सकते हैं, जैसे- मसल वीकनेस, किसी तरह की कमज़ोरी और यहां तक कि जान को भी ख़तरा हो सकता है.

Dr. Suresh Sundar

ऐसे में आप और आपके परिवार वाले कैसे तैयार हुए?

मेरी पत्नी भी डॉक्टर हैं और मैं भी तो ज़ाहिर है ये वैक्सीन कितनी ज़रूरी है आज हमारे पूरे देश, दुनिया और समाज के लिए हम समझ सकते हैं. यह गर्व की बात है कि मुझे मौक़ा मिला इस तरह के कार्य का हिस्सा बनने का. चूंकी वैक्सीन को बिना ट्रायल के बाज़ार में उतारा नहीं जा सकता तो यह प्रक्रिया बेहद ज़रूरी हो जाती है.

COVID-19 Vaccine


मेरे परिजनों और दोस्तों ने मुझे हौसला दिया और यह भी कहना चाहूंगा कि प्रोफ़ेसर डॉक्टर गोगटे और केईएम डीन डॉक्टर देशमुख जिस तरह के प्रयास कर रहे हैं इस वैक्सीन के निर्माण व ट्रायल में वो क़ाबिले तारीफ़ है.

आपने अपना ट्रायल पूरा कर लिया?

मुझे 2 शॉट्स वैक्सीन के लग चुके हैं और नियम के मुताबिक़ 28 दिनों के अंतराल पर इसे लगाया जाता है. दो ही बार इसे इंजेक्ट किया जाता है और उसके बाद 5 महीनों तक मॉनिटर किया जाता है कि हमें किसी तरह के कॉम्प्लिकेशन्स या साइडइफ़ेक्ट तो नहीं हो रहे.
यह ट्रायल 5 महीनों तक चलता रहेगा और अभी तक वॉलंटियर्स को वैक्सिनेशन का काम पूरा हुआ है.

COVID-19 Vaccine

अब तक तो मैं पूरी तरह स्वस्थ हूं और उम्मीद है कि यह वैक्सीन जल्द ही मानकों पर खरी उतरेगी और लोगों तक पहुंचेगी!

लेकिन तब तक सभी ध्यान रखें, सुरक्षित रहें, मास्क सही तरह से मुंह और नाक ढंककर पहनें, सोशल डिसटैंसिंग का पालन करें और स्वच्छता का पूरा ख़्याल रखें, सतर्क रहें!

यह भी पढ़ें: हेल्थ अलर्ट: ब्रेस्ट कैंसर- जानें कारण, लक्षण और उपाय… (Health alert: Breast Cancer- Causes, Symptoms And Remedies)

बॉलिवुड एक्टर अर्जुन कपूर के बाद अब मलाइका अरोड़ा का भी कोरोना टेस्ट पॉजिटिव आया है. मलाइका अरोड़ा की बहन अमृता अरोड़ा ने इस बात की जानकारी दी है. कुछ देर पहले अर्जुन कपूर ने इंस्टाग्राम पर इस बात की जानकारी दी थी कि वो कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं.

Malaika Arora and Arjun Kapoor

अर्जुन ने लिखा है कि डॉक्टर्स की सलाह पर वो होम क्वारंटीन हैं. अर्जुन का कोरोना केस एसिमिट्रिक है यानी उन्हें कोई लक्षण नहीं हैं. अर्जुन कपूर की पोस्ट पर जाह्नवी कपूर, सिद्धांत कपूर, हर्षवर्धन कपूर, मुकेश छाबड़ा, आयशा श्रॉफ, कृति सैनन आदि सेलिब्रिटीज़ ने उनके अच्छे स्वास्थ्य की कामना की है.

View this post on Instagram

🙏🏽

A post shared by Arjun Kapoor (@arjunkapoor) on

अर्जुन कपूर के बाद मलाइका अब अरोड़ा का कोरोना टेस्ट भी पॉजिटिव आया है. बता दें कि मलाइका के शो ‘इंडियाज बेस्ट डांसर्स’ के सेट से 7 से 8 लोगों में कोरोना पॉजिटिव मिलने की खबरें आई थीं.

यह भी पढ़ें: रोमांटिक सीन करते समय खुद पर काबू नहीं रख पाए ये 8 बॉलीवुड स्टार, एक ने तो हद पार कर दी (8 Bollywood Actors Who Lost Control While Shooting Intimate Scenes)

इन बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ के घर पर भी मिले हैं कोरोना पॉजिटिव के मामले
कोरोनावायरस से पूरी दुनिया लड़ रही है और बॉलीवुड इंडस्ट्री भी इससे अछूती नहीं है. बॉलीवुड इंडस्ट्री के कई सेलिब्रिटीज़ भी कोविड-19 का सामना कर चुके हैं. इन बॉलीवुड सेलिब्रिटीज़ के घर पर भी मिले हैं कोरोना पॉजिटिव के मामले:

  • बिग बी अमिताभ बच्चन, अभिषेक बच्चन, ऐश्वर्या राय, आराध्या बच्चन भी कोविड पॉजिटिव पाए गए और इलाज के लिए उन्हें हॉस्पिटल जाना पड़ा.
  • म्यूजिक डायरेक्टर वाजिद खान का इस संक्रमण से निधन हो गया है.
  • ‘ये रिश्ता क्या कहलाता है’ फेम अभिनेत्री और रीवा की राजकुमारी मोहिना कुमारी भी कोरोना की चपेट में आ चुकी हैं. मोहिना कुमारी ही नहीं उनके फैमिली के चार और सदस्य भी कोरोना पॉजिटिव पाए गए गए हैं, जिनमें मोहिना के अलावा उनके ससुर और कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज, मोहिना के पति सुयश, जेठानी आराध्या और उनके पांच साल के बेटे श्रेयांश शामिल हैं.
  • रॉक ऑन, वो लम्हे, एयर लिफ्ट फिल्मों के एक्टर पूरब कोहली का पूरा परिवार कोरोना से संक्रमित हुए थे.
  • चेन्नई एक्सप्रेस और रा वन जैसी फिल्मों को प्रोड्यूस करनेवाले प्रोड्यूसर करीम मोरानी की बेटी शज़ा मोरानी कोरोना से संक्रमित हो गई हैं.
  • बोनी कपूर के घर काम करने वाला भी Covid-19 पॉजिटिव पाया गया था.
  • अभिनेता आमिर खान ने भी खुलासा किया था कि उनके सात घरेलू स्टाफ सदस्यों ने कोरोनावायरस के लिए सकारात्मक परीक्षण किया गया था.
  • अभिनेता कुणाल कोहली की चाची और वरुण धवन की चाची का भी वायरस के कारण निधन हो गया.

नीम के ओषधीय गुण हम सभी जानते हैं. यही वजह है कि अब नीम को कोरोना के इलाज में इस्तेमाल की दिशा में कामकिया जा रहा है. 

ऑल इंडिया इंस्टीट्यूट ऑफ आयुर्वेद (AIIA) ने निसर्ग हर्ब्स कंपनी के साथ मिलकर एक समझौता किया है. अब ये दोनोंसंस्थाएं मिलकर ये परीक्षण करेंगी कि नीम कोरोना वायरस से लड़ने में कितना कारगर है और उसके ज़रिए कोरोनासंक्रमण से किस हद तक लड़ा जा सकता है.

ये परीक्षण फरीदाबाद के ESIC अस्पताल में किया जाएगा. इस परीक्षण का नेतृत्व AIIA की निदेशक डॉ. तनुजा नेसारीकरेंगी. वो इस परीक्षण की मुख्य परीक्षणकर्ता हैं. इस परीक्षण में डॉ. तनुजा के साथ साथ ESIC अस्पताल के डॉ. असीमसेन भी होंगे. 

इस पूरे परीक्षण के कुल 6 डॉक्टर्स की टीम बनाई गई है.

ये टीम 250 लोगों पर रिसर्च करेगी कि नीम आख़िर किस हद तक कोरोना को रोकने में कारगर होगा. यह प्रयोग 28 दिनों तक चलेगा. इसमें आधे लोगों को निसर्ग का नीम कैप्सूल दिया जाएगा और बाक़ी को प्लेसिबो. इस दौरान ट्रायल में शामिल लोगों के नाक एवं मुंह से सैंपल लेकर कोरोना जांच की जाएगी. अगर कोईपाजिटिव पाया जाता है, तो संबंधित व्यक्ति के शरीर में कोरोना वायरस के प्रभाव की जांच की जाएगी.

ह्यूमन ट्रायल के पहले चरण की शुरुआत 7 अगस्त से हो चुकी है. 

निसर्ग बायोटेक के संस्थापक और सीईओ गिरीश सोमन ने कहा कि उन्हें भरोसा है कि उनकी ये दवा कोरोना की रोकथाममें असरदार एंटी वायरल दवा साबित होगी.

आयुष मंत्रालय का भी मानना है कि नीम कोरोना के इलाज में कारगार साबित हो सकता है. इसके चलते नीम पर शोधकरने का फैसला लिया गया है. नीम में एंटीबायोटिक तत्व काफी मात्रा में होते हैं. 

नीम में मौजूद होते हैं 76 तरह के एंज़ाइम्स व 136 से अधिक अन्य कंपाउंड होते हैं. नीम के पत्तों में एंटी−बैक्टीरियल गुण होते हैं जो कई तरह के रोगों से लड़ने में कारगर है. नीम का काढ़ा रोग प्रतिरोधक शक्ति का विकास करता है. नीम मलेरिया का बुख़ार उतारने में भी लाभकारी है. शुगर के मरीज़ों के लिए भी रामबाण है नीम. अल्सर से लड़ने में भी यह कारगर है. ऐसे में उम्मीद है कि नीम कोरोना को भी मात दे दे. 

इसके अलावा भी नीम से कोरोना के इलाज को लेकर अन्य कई शोध भी चल रहे हैं. कामयाबी मिली तो जल्द ही भारत सेकोरोना का ख़ात्मा होगा.

यह भी पढ़ें: वेटलॉस के 40+ इफेक्टिव होम रेमेडीज (40+ Effective Home Remedies For Quick Weight Loss)

कोरोना वायरस से जब पूरी दुनिया जूझ रही थी और सब लोग घरों में लॉकडाउन थे, तब बॉलीवुड एक्टर सोनू सूद हजारों लोगों की मदद कर रहे थे. कोरोना काल में सोनू सूद मुसीबत में फंसे लोगों के लिए मसीहा बनकर सामने आए और उनकी मदद की. सोनू सूद ने हज़ारों प्रवासी मज़दूरों को उनके घरों तक पहुंचाने का नेक काम किया, जिससे आम जनता उनकी कायल हो गई. अब सोनू सूद अब किसान की मदद के लिए आगे आए हैं और उन्होंने मदद का ऐलान भी कर दिया. है.

Sonu Sood

सोनू सूद ने बेटियों से खेत जुतवा रहे किसान की मदद का ऐलान किया है
इन दिनों सोशल मीडिया पर एक किसान और उसके परिवार का एक वीडियो बहुत तेजी से वायरल हो रहा है. इस वीडियो में एक किसान अपनी दो बेटियों को बैल की जगह रखकर उनसे खेत जुतवा रहा है. वीडियो देखकर साफ पता चल रहा है कि पैसे की तंगी के कारण ये परिवार बैल नहीं खरीद पा रहा होगा, इसीलिए मजबूरन बेटियों को बैल की जगह रखकर उनसे खेत जुतवाया जा रहा है. बता दें कि किसान का ये वीडियो आंध्र प्रदेश का है. इस वीडियो को देखकर किसी का भी दिल पसीज जाएगा. ऐसे में सोनू सूद की नज़र इस वीडियो पर पड़ी और उन्होंने वीडियो देखने के बाद तुरंत किसान के परिवार की मदद करने का फैसला किया. सोनू सूद ने इस वीडियो पर ट्वीट के जरिए प्रतिक्रिया दी है और किसान परिवार को दो बैल देने की बात कही है.

सोनू सूद ने अपने ट्वीट में लिखा है, ‘कल सुबह से दो बैल इसके खेत जोतेंगे. इन बच्चियों को पढ़ने दें. किसान हमारे देश का गौरव हैं, उनकी रक्षा करें.’
सोनू सूद का ये ट्वीट सोशल मीडिया पर तेजी से वायरल हो रहा है. सोनू सूद के इस फैसले से उनके फैन्स बहुत खुश हैं और उनके ट्वीट पर अपनी प्रतिक्रिया दे रहे हैं.

यह भी पढ़ें: कंगना रनौत ने सुशांत सिंह राजपूत का वीडियो शेयर कर करीना कपूर पर ऐसे निशाना साधा (Kangana Ranaut Take An Indirect Dig At Kareena Kapoor)

जैसा कि सोनू सूद ने प्रॉमिस किया था, उन्होंने अपना वादा पूरा किया और किसान के लिए ट्रैक्टर भिजवा दिया. सोनू सूद ने ट्वीट करके इसकी जानकारी दी है. सोनू ने अपने ट्वीट में कहा है, इस परिवार के लिए बैल की बजाय ट्रैक्टर सही है.

सोनू सूद ने एक और मदद ये भी की है
सोनू सूद ने हाल ही में माउंटेनमैन के नाम से पहचाने जाने वाले दशरथ मांझी के परिवार के लिए भी मदद का हाथ आगे बढ़ाया. इस मदद की शुरुआत ऐसे हुई. दरअसल ट्विटर पर एक फैन ने सोनू सूद को टैग करते हुए एक अखबार की कटिंग के साथ दशरथ मांझी के परिवार की मदद के लिए गुहार लगाई थी. सोनू सूद ने इस ट्वीट का जवाब देते हुए कहा, ‘आज से तंगी ख़त्म. आज ही हो जाएगा भाई.’ सोनू का ये ट्वीट भी बहुत तेजी से वायरल हुआ. और हर किसी ने सोनू की तारीफ की.

बॉलीवुड और टॉलीवुड फिल्मों में विलेन का किरदार निभानेवाले सोनू सूद इस महामारी की मुसीबत में फंसे लोगों के लिए रियल हीरो बनकर उभरे हैं. बता दें कि पिछले के महीनों में सोनू सूद ने उत्तर प्रदेश, बिहार, असम, तमिलनाडु और देहरादून के लोगों को कभी बस, कभी ट्रेन, तो कभी फ्लाइट के ज़रिए उनके घरों तक पहुंचने में मदद की है. मुसीबत की इस घड़ी में वो ऐसे लोगों के लिए किसी मसीहा से कम नहीं हैं.

यह भी पढ़ें: सोनू सूद एक बार फिर बने मसीहा, किर्गिस्तान में फंसे स्टूडेंट्स के लिए कर रहे हैं चार्टर फ्लाइट्स का इंतज़ाम (Bollywood Actor Sonu Sood Arranges Charter Flights For Indian Students In Kyrgyzstan)

×