Tag Archives: couples

बेवफ़ाई के बाद कैसे सुधारें रिश्ते को? (Repair Your Relationship After Being Cheated On)

यदि हमसफ़र जीवन के सफ़र में कभी बेवफ़ाई कर जाए, तब क्या करें? दरअसल, रिश्ते (Relationships) मुक़म्मल जीवन जीने का आधार होते हैं और प्यार व विश्‍वास ही इन्हें मज़बूत व टिकाऊ बनाते हैं. लेकिन साथी की बेवफ़ाई से ज़िंदगी रुक तो नहीं जाती! समझदारी इसी में है कि सकारात्मक नज़रिए के साथ बिगड़े रिश्ते को सुधारने की कोशिश की जाए.

Relationship Problems

जो दिल के थे बेहद क़रीब, आज अजनबी-से लगते हैं… थी साथ की जिनसे उम्मीद, बीच राह वे मुड़कर चले गए… अक्सर रिश्ते में धोखा खाने व विश्‍वासघात होने पर पीड़ित व्यक्ति बिखर जाता है, टूट जाता है. जीवनसाथी की बेवफ़ाई के बाद किस तरह अपने रिश्ते को रिवाइव करें और सुधारें, इन्हीं बातों को जानने की कोशिश करते हैं. 

–  सबसे पहले स्वयं का आत्मविश्‍लेषण करें कि आख़िर ग़लती किससे और कहां हुई?

– कोई यूं ही भटक नहीं जाता. पर्याप्त अटेंशन व केयर न मिलने पर अक्सर पार्टनर उसकी कमी दूसरों की नज़रों में ख़ास बनकर पूरी करने की कोशिश करने लगते हैं. यदि ऐसा हुआ हो, तो उन ग़लतियों से सबक लें और आगे बढ़ें.

– यदि आपको लगता है कि जाने-अनजाने में आपने अपने पार्टनर की अनदेखी की है, तो इसे नए सिरे से दुरुस्त करने की कोशिश करें.

– यदि आप अब भी किसी परस्त्री या परपुरुष से जुड़े हैं, तो पहले स्वयं को उससे आज़ाद करें, क्योंकि किसी तीसरे के रहते आप अपने जीवनसाथी से सहज व सच्चाई के साथ दोबारा नहीं जुड़ सकते और न ही अपने दांपत्य जीवन को मज़बूती प्रदान कर सकते हैंे.

– माफ़ी मांगने से न चूकें. कहते हैं, पछतावे के साथ दिल से मांगी हुई माफ़ी पत्थर दिल को भी पिघला देती है. इसलिए जिस पार्टनर ने बेवफ़ाई की है, उसे सच्चाई और पूरी ईमानदारी के साथ अपनी ग़लती को समझते व महसूस करते हुए अपने पार्टनर से माफ़ी मांगनी चाहिए.

– बीती ताहि बिसार दे, आगे की सुधि ले… को अपनाकर हमेशा आगे बढ़ने की कोशिश करते रहना ही जीवन का मूलमंत्र है. माफ़ी के इंतज़ार के बिना अपने रिश्ते को सुधारने की पहल करें.

– पति-पत्नी दोनों को ही अपने टूटते रिश्तों को जोड़ने व जीवनसाथी को दिए गए दर्द-ज़ख़्म से उबरने में उनकी मदद करनी चाहिए.

– ऐसे में प्यार से बढ़कर कोई दवा नहीं. आपका धैर्य और प्यार रिश्तों को सुधारने और ख़ुशगवार बनाने में मदद करेगा.

– कई बार दिल में कोई नाराज़गी, बात या गांठ-सी रह जाती है, जिसे आपसी बातचीत से ही सुलझाया जा सकता है. इसलिए पार्टनर्स हर पहलू पर एक-दूसरे से खुलकर बात करें.

– रिश्तों में विश्‍वास बढ़ाने का सबसे अच्छा तरीक़ा है कि जो बात आपको परेशान कर रही है, उसे छुपाएं नहीं, कह डालें.

– एक-दूसरे के साथ अधिक से अधिक व़क्त बिताएं. इसमें हंसी-मज़ाक और रूठने-मनाने, हल्की-फुल्की खट्टी-मीठी तक़रार को भी शामिल करें. इससे एक-दूसरे के साथ की आदत-सी बनती जाएगी. साथ ही आपसी समझदारी भी बढ़ेगी.

– हाल ही में हुए एक सर्वे के मुताबिक़ पति-पत्नी के बीच बेवफ़ाई व धोखे का प्रतिशत दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा है और इसकी सबसे बड़ी वजह आपसी संवादहीनता और एक-दूसरे को अधिक व़क्त न दे पाना माना गया है.

– बीता हुआ कल वापस नहीं आ सकता, पर आनेवाले कल को ख़ुशहाल तो बनाया ही जा सकता है. इसमें क्षमा करने के साथ प्यार महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है. ध्यान रहे, बेवफ़ाई के बाद घायल हुए रिश्तों को हेल्दी व मज़बूत बनाने के लिए प्यार की नींव रखना बहुत ज़रूरी है.

– मनोवैज्ञानिक कल्याणीजी के अनुसार रिश्ते हमें जीना सिखाते हैं, क्योंकि हमारे वर्तमान और भविष्य का ढांचा रिश्तों की बुनियाद पर ही खड़ा रह सकता है. आप कैसे हैं और कैसे बनेंगे- यह इस बात पर निर्भर करता है कि आपमें रिश्ते निभाने का कितना जज़्बा है.

– उन कारणों का पता लगाने की कोशिश करें, जिसने पार्टनर को बेवफ़ाई करने के लिए मजबूर या फिर प्रेरित किया. कारणों का पता लगने पर उन्हें सुधारने की कोशिश की ही जा सकती है.

यह भी पढ़ें: किस राशिवाले किससे करें विवाह? (Perfect Life Partner According To Your Zodiac Sign)

Relationship Problems

– खोए हुए विश्‍वास को दोबारा हासिल करने के लिए जीवनसाथी के प्रति पूर्ण समर्पण की भावना रखें. इससे जहां साथी का दर्द-तनाव दूर होगा, वहीं आपके रिश्तों को दोबारा प्यार की पटरी पर लाने में सहायक होगा.

– पुरानी ग़लतियों से सबक लें और उन्हें दोहराने की ग़लती न करें.

– यदि ग़लतियों को सुधारने का मौक़ा दिया जाए, तो वही शख़्स आनेवाले कल में आपका सबसे बड़ा वफ़ादार साथी बनता है. इसलिए संकीर्ण विचार न रखते हुए खुले दिल से जीवनसाथी की ग़लती को भुलाकर उसे सुधरने का मौक़ा दें.

– कहते हैं, हर हादसा/घटना एक नया अनुभव दे जाती है, ठीक ऐसे ही बेवफ़ाई के बाद आपको स्वयं को और अपने पार्टनर को समझने में अधिक मदद मिलती है.

– समाजशास्त्री अशोक शुक्ला कहते हैं कि हर रिश्ता एक-दूसरे का समय मांगता है, साथ मांगता है… पति-पत्नी हर रोज़ आधा घंटा, महीने में दो दिन और साल में कम से कम एक हफ़्ते नितांत अकेले में बिताएं.

– अपनी अच्छी यादों को एक-दूसरे के साथ बांटें. कुछ रचनात्मक करने के लिए एक-दूसरे को प्रोत्साहित करें.

– एक-दूसरे की अच्छी बातों, आदतों को डेवलप करने की कोशिश करें. फिर देखिए बेवफ़ाई की बात सपना बन जाएगी और रिश्ते ताउम्र ख़ुशगवार बने रहेंगे.

– साथ गुज़ारा व़क्त आपके रिश्तों में वो एनर्जी भर देगा, जो ज़िंदगीभर मीठी यादें बनकर आपके साथ रहेंगी.

– मैरिज काउंसलर डॉ. राजीवजी के अनुसार, शादी के रिश्ते की हर सालगिरह कहती है कि उस सपने के बारे में सोचो, जो आप दोनों ने साथ मिलकर देखा हैे. उसे पूरा करना है, तो बंधन में बंधे रहना भी ज़रूरी है. इस बात के मर्म को समझने की कोशिश करें.

– एक पुरानी कहावत है कि दुनिया में सैकड़ों आदमी मिलकर कोई भी मकान बना सकते हैं, पर उसे घर बनाने के लिए एक नारी की ही ज़रूरत होती है. अतः नारी का सम्मान करें.

– ध्यान रहे, रिश्तों में रिस्पेक्ट ज़रूरी हैे, पर आपस में अहंकार न आने दें.

– यदि आप अपने साथी की भावनात्मक ज़रूरतों को सही मौ़के पर पूरा करते हैं, तो आपके रिश्तों में आकर्षण हमेशा बना रहेगा.

  संतुलित सेक्स लाइफ ज़रूरी है

वैवाहिक रिश्तों को बचाए और बनाए रखने के लिए बैलेंस सेक्स लाइफ ज़रूरी है. आप अपने साथी को लेकर क्या सोचते हैं, कैसा व्यवहार करते हैं, उसके प्रति कितने ईमानदार हैं, कब उसकी मानते हैं और कब अपनी मनमर्ज़ी थोपते हैं? इन सबका सीधा असर रिश्तों पर पड़ता है. आंकड़े बताते हैं कि 10 में से 4 रिश्ते सेक्सुअल रिलेशन में कड़वाहट के कारण बिगड़ते हैं. यदि आप ऐसा नहीं चाहते, तो संयमित रहें, ईमानदार बनें और अपने जीवनसाथी के तन को कम मन को ज़्यादा तवज्जो दें.

बेवफ़ाई निश्‍चित रूप से दूसरे जीवनसाथी के लिए चुनौतीपूर्ण स्थिति होती है. लेकिन समस्या है, तो उसका समाधान भी ज़रूर होता है. माना बेवफ़ाई जैसी चोट से उबरने में व़क्त लगता है, पर ईमानदारी से की गई कोशिश जल्द ही इससे उबरने में मदद करती है. इंसान ग़लतियों का पुतला है, जीवनसाथी की इस पहली ग़लती को आख़िरी ग़लती मानकर क्षमा कर दें और एक नई शुरुआत करें.

– मूरत पन्नालाल गुप्ता

यह भी पढ़ें:  मायके की तरह ससुराल में भी अपनाएं लव डोज़ फॉर्मूला (Love Dose Formula For Happy Married Life)

रिश्ते में बर्दाश्त न करें ये 10 बातें (10 Things Never Adjust In A Relationship)

Relationship Goals
रिश्ते में बर्दाश्त न करें ये 10 बातें (10 Things Never Adjust In A Relationship)
माना रिश्ते का मतलब ही होता है एक-दूसरे के साथ एडजेस्ट करना और कुछ बातों को बर्दाश्त भी करना. अपनों से प्यार बनाए रखने के लिए भी यह ज़रूरी है. लेकिन कभी-कभार बात स्वाभिमान की आ जाती है और एक हद से बाहर चली जाती है, तो कुछ बातें हैं, जिन्हें बर्दाश्त नहीं करने में ही समझदारी है, वरना पार्टनर आपको कैज़ुअली लेने लगेगा और आपका सम्मान भी नहीं करेगा. कौन-सी हैं ये बातें, आपके लिए जानना ज़रूरी है.

1. एब्यूज़

यह ज़रूरी नहीं कि एब्यूज़ यानी शोषण स़िर्फ शारीरिक ही होता है. यह कई स्तर पर हो सकता है, मौखिक, भावनात्मक, मानसिक, आर्थिक आदि. यदि आपको यह महसूस हो रहा है कि रिश्ते में आपका शोषण हो रहा है, पार्टनर या कोई भी आपको भावनात्मक स्तर पर सपोर्ट नहीं कर रहा, मानसिक यातनाएं दी जा रही हैं, बेवजह गाली-गलौज की जा रही है या आर्थिक स्तर पर परेशान किया जा रहा है, तो बर्दाश्त करने से बेहतर होगा बात करें. अपने हक़ के लिए आवाज़ उठाएं और सामनेवाले को समझाएं कि वो जाने-अंजाने ग़लत कर रहा है.

2. वॉयलेंस

डोमेस्टिक वॉयलेंस वैसे भी अपराध है, फिर भी महिलाएं रिश्ते को बचाए रखने के लिए इसे बर्दाश्त करती हैं. लोगों से इसे छिपाती भी हैं, लेकिन एक स्तर पर जाकर यह सामनेवाली की आदत हो जाती है कि हर छोटी-बड़ी बात पर वो आप पर हाथ उठाना अपना हक़ समझने लगता है. बेहतर होगा देर होने से पहले सतर्क और सजग हो जाएं. हिंसा की किसी भी रिश्ते में कोई जगह नहीं है. यही बात पुरुषों पर भी लागू होती है, क्योंकि कई पुरुष भी रिश्ते में हिंसा व प्रताड़ना के शिकार होते हैं, उन्हें भी यह डर लगता है कि समाज उनकी बात पर भरोसा नहीं करेगा, लेकिन बेहतर होगा आप भी अपने हक़ के लिए लड़ें और ग़लत बातों को बर्दाश्त न करें.

3. डिसरिस्पेक्ट

आपसे उम्मीद की जाती है कि आप अपने पार्टनर को इज़्ज़त दें, लेकिन बदले में आपको सम्मान व समान दर्जा नहीं मिलता, तो तकलीफ़ होना लाज़िमी है. हो सकता है, अंजाने में ऐसा हो रहा हो, तो सही रास्ता यही है कि अपने पार्टनर से इस बारे में बात करें, ताकि वो आपके पक्ष को समझ सके और आपको कैज़ुअली न ले. लोगों व रिश्तेदारों के सामने उल्टा-सीधा न कहे. आपको सम्मान व समान दर्जा दे.

4. ग़ैरज़िम्मेदारी

भले ही यह छोटी-सी बात लग रही हो, लेकिन इसके परिणाम रिश्ते के लिए भी गंभीर हो सकते हैं. यदि एक पार्टनर भी ग़ैरज़िम्मेदार है, तो इसकी सज़ा पूरे परिवार को भुगतनी पड़ती है. ग़ैरज़िम्मेदाराना व्यवहार हर जगह तकलीफ़ देता है और दूसरों का वर्कलोड भी बढ़ा देता है. धीरे-धीरे दूसरे पार्टनर को इस व्यवहार से खीझ होने लगती है और रिश्तों में दूरियां आने लगती हैं. कोशिश करें अपने पार्टनर को समझाने की. बेहतर होगा काम व ज़िम्मेदारियां बांट लें, ताकि वो टाल न सके. बीच-बीच में ड्यूटीज़ बदल लें, जिससे बोरियत भी न हो.

5. इग्नोरेंस

आपकी बातों को तवज्जो न देना, महत्वपूर्ण निर्णयों में आपकी राय ही न लेना, आपके कुछ भी कहने पर बात को इग्नोर कर देना या यह कह देना कि तुमको क्या पता इस बारे में… यदि आप यह शुरू से ही बर्दाश्त करते आ रहे हैं, तो संभल जाइए, क्योंकि आगे चलकर आपको अपना अस्तित्व ही रिश्ते में महत्वहीन लगने लगेगा. आपको पार्टनर से बात करनी होगी कि आप इग्नोर्ड फील करते/करती हैं. न स़िर्फ बातें, बल्कि आपकी प्रेज़ेंस को भी यदि इग्नोर किया जाता है, आपको समय नहीं दिया जाता, आपके सुख-दुख के बारे में जानने की कोई ज़रूरत नहीं समझता, तो बर्दाश्त करने की बजाय बात करें.

यह भी पढ़ें: 10 झूठ पति-पत्नी एक दूसरे से बोलते हैं

Relationship

6. ज़बर्दस्ती

यह ज़बर्दस्ती किसी भी मामले में हो सकती है और अगर यह सेक्स में है, तब तो आपको और भी सतर्क हो जाना चाहिए. रिश्ते में दोनों की भावनाओं और इच्छाओं का सम्मान बेहद ज़रूरी है. यदि आप अपने पार्टनर का सम्मान करते हैं, तो पार्टनर से भी उम्मीद करते होंगे, वो भी उतना ही सम्मान आपको दे. लेकिन जब ऐसा नहीं होता और एक ही पार्टनर हमेशा अपनी इच्छाएं थोपता चला जाता है, तो यह ज़बर्दस्ती घुटन पैदा करती है. घुटने से बेहतर है कम्यूनिकेट करें.

7. अननेचुरल सेक्स

सेक्स हर शादी का अहम् अंग होता है, लेकिन कुछ पुरुष अपने पार्टनर पर अननेचुरल सेक्स के लिए दबाव डालते हैं. दरअसल, वो पोर्न फिल्मों को अपना आदर्श मानते हैं और अपने पार्टनर से उसी तरह के प्रदर्शन की चाह रखते हैं. भारत में एनल सेक्स और ओरल सेक्स ग़ैरक़ानूनी है और अगर आपका पार्टनर कंफर्टेबल नहीं है, तो उस पर दबाव न डालना ही बेहतर होगा. सेक्स में दोनों का सहज रहना ज़रूरी है. यदि कोई समस्या है, तो विशेषज्ञ की राय ली जा सकती है, आप काउंसलर के पास भी जाकर अपनी सेक्स लाइफ को बेहतर बनाने के तरी़के जान सकते हैं.

8. इमोशनल ब्लैक मेलिंग

कई महिलाओं की आदत होती है कि वो अपनी बात मनवाने के लिए इमोशनल ब्लैक मेलिंग का सहारा लेती हैं. वो या तो बच्चों को हथियार बनाती हैं या फिर सेक्स के समय पति पर दबाव डालती हैं. पति न माने, तो सेक्स से मना कर देती हैं. इस तरह की बातें आपको थोड़े समय के लिए भले ही फ़ायदा पहुंचाती हों, पर आगे चलकर आपके रिश्ते को कमज़ोर बनाती हैं.

9. दूसरों की दख़लअंदाज़ी

अक्सर ऐसा होता है कि हम अपने पार्टनर पर भरोसा न करके कई बार दूसरों पर ज़्यादा भरोसा करते हैं. उनसे सलाह-मशविरा लेते हैं और अपने सीक्रेट्स और पर्सनल बातें भी उनसे शेयर कर लेते हैं. जबकि कई बार दूसरे भी बेवजह अपनी राय देने चले आते हैं. बेहतर होगा कि अपनी निजी बातों को निजी ही रहने दिया जाए. दूसरों का हस्तक्षेप कई बार परिस्थितियों को और भी जटिल कर देता है. अगर कोई समस्या है या आपसी मतभेद है, तो ख़ुद ही आगे बढ़कर पार्टनर से बात करें, न कि किसी अन्य व्यक्ति के पास अपनी समस्या लेकर जाएं.

10. बेईमानी/एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर/शक

रिश्ते का दूसरा नाम ही लॉयल्टी है. ऐसे में बेईमानी बर्दाश्त कैसे की जा सकती है. हां, कभी कोई भूल हो जाए या इंसान भटक जाए, तो माफ़ कर देना ही एकमात्र रास्ता होता है, लेकिन यदि कोई आपके भरोसे का नाजायज़ फ़ायदा उठाता रहे और आप आंखें मूंद लें यह सोचकर कि रिश्ता टूट जाएगा, तो यह ख़ुद के साथ बेईमानी होगी. बेहतर होगा किसी निर्णय पर पहुंचे. बात करें, समस्या का हल निकालें, लेकिन ख़ुद को न ठगें. वरना पार्टनर आपको हल्के में लेगा. उसकी यह सोच बन जाएगी कि मैं चाहे जो भी करूं, उसे बर्दाश्त कर लिया जाएगा, क्योंकि मेरे बिना उसका गुज़ारा नहीं हो सकेगा. बेहतर होगा, पार्टनर के इस भ्रम को तोड़ें और ख़ुद को भी भ्रमित होने से रोकें. इसी तरह से शक्की पार्टनर के साथ रहना भी बेहद तकलीफ़देह होता है. हर बात पर शक, टोका-टाकी करना रिश्ते में चिड़चिड़ापन पैदा कर देता है. शक करने से बेहतर है कि अपने मन के वहम को बात करके दूर कर लें.

– विजयलक्ष्मी

यह भी पढ़ें: मायके की तरह ससुराल में भी अपनाएं लव डोज़ फॉर्मूला

शादी के बाद किन सेलिब्रेटी कपल्स का है ये पहला वैलेंटाइन डे? (7 Celebrity couples celebrating their first valentine together)

FotorCreated

2016 ग्लैमर वर्ल्ड के लिए वेडिंग ईयर रहा, छोटे से लेकर बड़े परदे तक कई मशहूर सितारे शादी के बंधन में बंधें. वैसे तो वैलेंटाइन डे हर प्यार करने वालों के लिए स्पेशल होता है, मगर न्यूली मैरिड कपल्स के लिए ये कुछ ज़्यादा ही ख़ास हो जाता है. चलिए वैलेंटाइन वीक में आपको बताते हैं कि किन सेलिब्रेटी कपल्स का है ये पहला वैलेंटाइन डे.

 

_8c811b56-ed0a-11e6-b62a-376882c41036

नील नितिन मुकेश-रुक्मणि
वैलेंटाइन डे से कुछ ही दिन पहले 9 फरवरी को शादी के बंधन में बधें रॉयल कपल नील और रुक्मणि के लिए इस बार का वैलेंटाइन बहुत ख़ास होगा. प्यार के मौसम में अपने प्यार को पाने के एहसास से बढ़कर ख़ुशी की बात और क्या हो सकती है.

yuvi-and-hazel_1+2-1_647_040616071600

हेजेल कीच-युवराज सिंह
2016 के आख़िर में ग्रैंड वेडिंग सेरेमनी में शादी के बंधन में बंधन वाली हेजल कीच और युवराज सिंह के लिए भी 14 फरवरी बेहद स्पेशल होने वाली है. हेजल और युवराज की स्टाइलिश जोड़ी भी सोशल मीडिया पर अक्सर छाई रहती है.

preity-zinta-marriage-759

प्रीति जिंटा-जेने गुडइनफ
2016 में सीक्रेटली शादी करके सबको चौंकाने वाली प्रीति ज़िंटा का ये शादी के बाद का पहला वैलेंटाइन है. ज़ाहिर है प्रीति और उनके पति जेने गुडइनफ के लिए ये वैलेंटाइन बहुत ख़ास रहेगा. वैसे फिलहाल डिंपल गर्ल प्रीति ज़िंटा इंडिया में हैं और अपना पहला वैलेंटाइन डे यहीं सेलिब्रेट करेगी.

urmila-new-pic
उर्मिला मातोंडकर-मोहसिन अख़्तर
प्रीति ज़िंटा की तरह ही रंगीला गर्ल उर्मिला मातोंडकर ने भी मार्च 2016 में गुपचुप तरी़के से शादी करके सबको हैरत में डाल दिया था. उर्मिला ने कश्मीरी बिज़नेसमैन और मॉडल मोहसिन अख़्तर से शादी की है. शादी के बाद उनका भी ये पहला वैलेंटाइन है, तो ज़ाहिर है बहुत ख़ास होगा.

694132
बिपाशा बसु-करण सिंह ग्रोवर
2016 में बॉलीवुड में जिस शादी की सबसे ज़्यादा चर्चा रही वो है बिपाशा बसु और करण सिंह ग्रोवर की शादी. शादी से लेकर हनीमून, वेकेंशन और अपने वर्कआउट तक की फोटोज़ सोशल मीडिया पर शेयर करके ये कपल अपने फैन्स को अक्सर सरप्राइज़ देते रहते हैं. फोटोज़ में दोनों की केमेस्ट्री गज़ब की लगती है. ये हॉट कपल भी पहली बार प्यार के इस दिन को साथ सेलिब्रेट करेंगे, उम्मीद है उनके फैन्स को वैलेंटाइन के दिन कुछ बेहद ख़ूबसूरत तस्वीरें देखने को मिलेंगी.

722182
अमृता राव-आरजे अनमोल

विवाह गर्ल अमृता राव ने भी पिछले साल ही अपने सात साल पुराने रिश्ते को सात फेऱों के बंधन बदल दिया. उन्होंने आरजे अनमोल से शादी की है. इस क्यूट कपल के लिए भी वैलेंटाइन बहुत स्पेशल रहेगा.


lisa-haydon-wedding.jpg.image.784.410
लीसा हेडन-डीनो लालवानी

पिछले साल शादी करने वाली एक्ट्रेस लीसा हेडेन और डीनो लालवानी के लिए तो ये वैलेंटाइन बहुत ख़ास होने वाला है. जी हां, लीसा हेडन जल्द ही मां बनने वाली है, ऐसे में उनके लिए वैलेंटाइन डे डबल सेलिब्रेशन का मौक़ा है.

– कंचन सिंह

6 Interesting टाइप्स के कपल्सः जानें आप कैसे कपल हैं? (6 Interesting Types of Couples: What Type of Couple are You?)

types of couples

हर कपल्स में कोई न कोई ख़ास बात होती है और अपनी इसी ख़ासियत के लिए ही वे पहचाने जाते हैं. किसी को परफेक्ट कपल्स (types of couples) से नवाज़ा जाता है, तो कोई ड्रामेबाज़ी में अव्वल होता है. आप भी तो जानना चाहेंगे कि आप किस तरह के कपल हैं, तो देर किस बात की? आइए, आप भी जानें कि कैसे कपल्स हैं आप?

types of couples

1. पैरेंटिंग कपल्स

इस तरह के कपल्स में पति-पत्नी में से कोई एक पैरेंट्स (अभिभावक) की तरह व्यवहार करता है.
– पति चाहता है कि पत्नी मां की तरह उसकी देखभाल करे.
– अच्छा खाना खिलाए.
– उसकी सारी ज़रूरतों का ध्यान रखे.
– मां की तरह वात्सल्य दे.
– कई बार पत्नी भी इसी तरह की इच्छा रखती है और पति में अपने पिता को देखती है.
– वो चाहती है कि पति, पिता की तरह उससे स्नेह भरा व्यवहार करे.
– उसकी मुसीबतों से रक्षा करे और केयर करे.
समस्याः बात यदि इतनी-सी हो, तो ज़्यादा मुश्किल नहीं आती और एक हेल्दी रिलेशनशिप चलती रहती है, लेकिन जब अपेक्षाएं बढ़ जाती हैं, तब रिलेशनशिप में दरार पड़ सकती है.
कारणः सुधा के पैरेंट्स ओवर प्रोटेक्टिव थे और उससे बेहद प्यार करते थे. सुधा चाहती थी कि उसके पति रोज़ सुबह उठने के बाद उसके गालों पर किस करें, क्योंकि उसके पिता भी ऐसा ही करते थे. कुछ समय तक तो सब ठीक चलता रहा, मगर बाद में पति को इससे चिढ़ होने लगी और यही बात उनके आपसी झगड़े की वजह बन गई. इस तरह के व्यवहार का गहरा संबंध व्यक्ति के बचपन से जुड़ा होता है.

2. पेंडुलम कपल्स

ये कपल्स कभी एक-दूसरे की केयर, तो कभी उपेक्षा करते हैं यानी पेंडुलम की तरह कभी इस तरफ़, तो कभी उस तरफ़. इनका मूड बदलता रहता है, कभी प्यार, तो कभी उपेक्षा.
– इस तरह के कपल्स में एक पार्टनर दूसरे का बहुत ज़्यादा ख़्याल रखता है, जबकि दूसरा पार्टनर उसके द्वारा की जानेवाली केयर पर ध्यान नहीं देता.
– फिर कभी दूसरा पार्टनर केयर करने लगता है, तो पहला पार्टनर उपेक्षा करता है.
– इनकी रिलेशनशिप एक पहेली बनी रहती है.
समस्याः रवि अपनी पत्नी को ख़ुुश करने के लिए रोज़ सुबह चाय बनाता था, लेकिन पत्नी इन सबके प्रति उदासीन रहती थी. जब पत्नी कभी अपना प्यार दर्शाने के लिए रवि के लिए कुछ करती, तब रवि उसकी ओर ध्यान न देता. इस तरह के कपल्स शादीशुदा होने के बावजूद अपना पसंदीदा पार्टनर ढूंढ़ते रहते हैं, जिस कारण हमेशा एक तरह के अपराध भाव से भी ग्रस्त रहते हैं.
कारणः इस तरह की संभावनाएं अक्सर उन कपल्स में पाई जाती है, जो मानसिक रूप से एक-दूसरे के अनुरूप नहीं होते. इसका एक कारण दोनों का अलग-अलग कल्चरल बैकग्राउंड होना भी हो सकता है. ये बात दोनों अच्छी तरह जानते हैं कि वे ङ्गमेड फॉर इच अदरफ नहीं हैं, पर वे एक-दूसरे को कह नहीं पाते.

यह भी पढ़ें: लड़कियों के 15 दिलचस्प झूठ
3. इनसिक्योर कपल्स

इस तरह के कपल्स में एक पार्टनर का आत्मविश्‍वास इतना कम होता है कि वे दूसरे पार्टनर को आत्मविश्‍वास के मामले में बहुत ऊंचाई पर रखते हैं.
– ये कोई भी काम या निर्णय लेने के लिए अपने पार्टनर पर निर्भर रहते हैं.
– ये दूसरे पार्टनर को अपना आदर्श मानते हैं.
– इन्हें ख़ुद से ज़्यादा अपने पार्टनर पर विश्‍वास होता है.
समस्याः इनकी ख़ुद के बारे में बहुत ही नकारात्मक व ग़लत धारणाएं होती हैं, इसीलिए दूसरा पार्टनर हमेशा इन पर हावी रहता है और हमेशा पहले पार्टनर को उनकी कमियों की याद दिलाता रहता है. इससे ये ख़ुद को असुरक्षित महसूस करते हैं.
कारणः वैसे ये इस सच्चाई को जानते हैं कि दूसरा पार्टनर भले ही ख़ुद को बढ़ा-चढ़ाकर पेश कर रहा हो, लेकिन वो भी परफेक्ट नहीं है. उसमें भी कमियां हैं, पर साथ ही ये भी सोचते हैं कि ख़ुद अकेले तो ये कुछ कर नहीं पाते और इससे बेहतर पार्टनर इन्हें मिल ही नहीं सकता था, इसलिए दांपत्य जीवन की गाड़ी चलती रहती है.

4. परफेक्ट कपल्स

परफेक्ट कपल्स एक-दूसरे की हर बात का पूरा ख़्याल रखते हैं और लोगों के सामने आदर्श जोड़े का उदाहरण पेश करते हैं.
– इस तरह के कपल्स एक-दूसरे के प्यार में इस तरह डूबे रहते हैं कि इनकी घनिष्ठता दूसरों के दिल में जलन और डर पैदा
करती है.
– ये लोगों से हमेशा अपने पार्टनर की तारीफ़ ही करते रहते हैं.
– ये हर वो काम करते हैं, जिससे लोग इन्हें परफेक्ट कपल्स समझें.
– ये कपल्स पार्टियों या फंक्शन में एक-दूसरे की पसंद और मैच करते हुए कपड़े पहनते हैं.
– ये हर छोटी-छोटी बात पर अपने पार्टनर को कॉम्पलीमेंट देना नहीं भूलते.
समस्याः इस तरह के रिश्ते में संभावना होती है कि एक पार्टनर बॉसगिरी नेचर का हो और दूसरा सहनशील या दब्बू प्रवृत्ति का हो, लेकिन ये कपल्स अपनी रिलेशनशिप में कुछ ग़लत होने की बात से हमेशा इंकार करते हैं.
कारणः इन्हें देखकर लोगों को भले ही ङ्गपरफेक्ट कपलफ का भ्रम हो, लेकिन हो सकता है कि अंदर की स्थिति इतनी अच्छी न हो और शायद उसे छुपाने के लिए ये ङ्गहैप्पी मैरिजफ का दिखावा कर रहे हों.

5. ड्रामेबाज़ कपल्स

इस तरह के कपल्स छोटी-छोटी बातों पर भी बहस करने से बाज़ नहीं आते. साथ ही एक-दूसरे की कमियों को हमेशा लोगों के सामने उजागर करने से भी नहीं चूकते.
– इसमें दोनों कपल्स में परिपक्वता की कमी होती है.
– इन्हें पार्टनर की भावनाओं की क़दर नहीं होती.
– ये कपल्स अक्सर बेवजह बहस करते रहते हैं.
समस्याः कई बार ये कपल्स सार्वजनिक स्थानों पर आपस में कलह करना शुरू कर देते हैं. जब तक दोनों एक-दूसरे से वाद-विवाद न कर लें, इन्हें चैन नहीं आता. दोस्तों-रिश्तेदारों के सामने झगड़ा होने पर ये पारिवारिक मुद्दों के साथ-साथ सेक्स लाइफ पर भी कटाक्ष करने से गुरेज़ नहीं करते.
कारणः इसका कारण शायद यह हो सकता है कि एक या दोनों पार्टनर अपने माता-पिता को लड़ते-झगड़ते देखते हुए ही बड़े हुए हों. इनकी रिलेशनशिप हेल्दी न होने के कारण ये ख़ुद को असुरक्षित महसूस करते हैं. ये हमेशा एक-दूसरे को कंट्रोल करने की कोशिश में लगे रहते हैं. ये साथ-साथ इसलिए रहते हैं कि या तो इन्हें आर्थिक फ़ायदा हो रहा हो या तलाक़ लेने में कोई बड़ी अड़चन हो.

यह भी पढ़ें: अपने रिश्ते को बनाएं पॉल्यूशन फ्री!
6. मैच्योर कपल्स

ये स्थिर व प्रतिष्ठित कपल्स होते हैं. इन्हें एक-दूसरे को केवल आदर देना ही नहीं आता, बल्कि एक-दूसरे को स्पेस और प्राइवेसी देना भी आता है.
– इस तरह के कपल्स अपने पार्टनर की अच्छाइयों व बुराइयों को अच्छी तरह समझते हैं.
– ये रिलेशनशिप में होनेवाले उतार-चढ़ाव को भी सहजता से स्वीकार करते हैं.
– इस तरह के कपल्स सार्वजनिक जगहों पर अपनी समस्याओं की कभी भी चर्चा नहीं करते.
– ये पार्टनर्स एक-दूसरे पर हावी होने की बजाय खुलकर लोगों से बातचीत का लुत्फ़ उठाते हैं.
समस्याः कभी-कभी ज़रूरत से ज़्यादा मैच्योरिटी इनके रिश्ते को नीरस बना देती है. इन कपल्स में विवाहित जोड़ों के बीच होनेवाली मीठी नोंक-झोंक कम ही देखने को मिलती है.
कारणः अपने रिश्ते को हेल्दी बनाने के लिए ये हावी होना, ईर्ष्या व अन्य समस्याओं को दूर ही रखते हैं. ये एक-दूसरे को अच्छी तरह से समझ व जानकर एक-दूसरे की इच्छाओं व भावनाओं का सम्मान करते हुए एक हेल्दी मैरिज लाइफ जीते हैं.

यह भी पढ़ें: हेल्दी रिलेशनशिप के लिए छोड़ें भावनाओं की ‘कंजूसी’

Official Statement! विराट ने अनुष्का के साथ सगाई की ख़बरों पर लगाया फुलस्टॉप, कहा ‘हम सगाई नहीं कर रहे हैं’ (we aren’t getting engaged- Virat Kohali)

Virat Kohli

”हम सगाई नहीं कर रहे हैं”, विराट ने सोशल मीडिया पर ये लाइन लिखकर सब कुछ क्लियर कर दिया है और सभी अफवाहों पर फुलस्टॉप लगा दिया है.Virat Kohli

दरअसल, गुरुवार से ही सोशल मीडिया पर विराट-अनुष्का की सगाई की ख़बरें वायरल हो रही थीं कि दोनों 1 जनवरी को सगाई करने वाले हैं और इस सगाई में अमिताभ बच्चन, अनिल अंबानी और टीना अंबानी शामिल होने वाले हैं. लेकिन विराट ने इन ख़बरों को अफवाह बताते हुए टि्वटर पर लिखा, ”हम सगाई नहीं कर रहे हैं और अगर करेंगे तो हम इस बात को नहीं छुपाएंगे. सिंपल…”

विराट कोहली ने यह भी लिखा है, ”कुछ चैनल्स ग़लत खबरें फैला कर आपको कन्फ्यूज़ करने की कोशिश कर रहे हैं. हम इस कन्फ्यूज़न को दूर करते हैं.”

दरअसल, अनुष्का और विराट दोनों 24 दिसंबर से ऋषिकेश के आनंदा स्पा एंड रिज़ॉर्ट्स में ठहरे हुए हैं और मंगलवार को उन्होंने हरिद्वार में एक पूजा भी करवाई थी और वहां के मुख्य गुरु के साथ फोटो भी खिंचवाई थी, जो सोशल मीडिया पर ख़ूब सुर्खियां बटोरने लगी. जिसके बाद दोनों की सगाई की ख़बरें आने लगी.Virat Kohli

अनुष्का-विराट की सगाई की अफ़वाह, तब और तेज़ हो गई, जब अमिताभ बच्चन और अंबानी परिवार से अनिल अंबानी और टीना अंबानी भी देहरादून एयरपोर्ट पहुंचे और आंनदा होटल के लिए रवाना हुए.

ख़ैर, अब इन सारी बातों पर लगाम लगाते हुए ख़ुद विराट ने इस कंफ्युज़न को दूर कर दिया है.

– प्रियंका सिंह 

5 स्मार्ट होम डेकोरेशन टिप्स न्यूली मैरिड कपल्स के लिए (5 smart home decoration tips for newly wed couples)

home decoration

नया रिश्ता, नई शुरुआत और नया घर… शादी के बाद आए इस बदलाव के बीच अपने ड्रीम होम को सजाना कोई आसान काम नहीं है. पति-पत्नी की पसंद एक जैसी हो ये ज़रूरी नहीं. ऐसे में कॉमन कलर से लेकर डेकोर एक्सेसरीज़ सिलेक्ट करना बहुत मुश्किल हो जाता है. एक पार्टनर को लाइट कलर पसंद आता है, तो दूसरे को डार्क शेड. कई कपल्स ऐसे भी होते हैं जिन्हें समझ नहीं आता कि होम डेकोरेशन की शुरुआत कैसे की जाए? आपकी परेशानी दूर करने के लिए मेरी सहेली लेकर आई है होम डेकोर से जुड़ी गाइडलाइन.

 

पहले बजट तय करें
आजकल घर सजाना काफ़ी महंगा सौदा है, इसलिए पहले दोनों मिलकर ये देख लें कि आपका बजट कितना है? क्या इतने बजट में पूरे घर को सजाया जा सकता है? यदि नहीं, तो घर के उस ख़ास हिस्से को डेकोरेट करें, जहां आप दोनों ज़्यादा समय बिताते हैं. बेहतर होगा कि आप अपने बेडरूम को अपने हिसाब से सजाएं, लेकिन ध्यान रहे कि इसमें पार्टनर की पसंद भी शामिल हो, जैसे यदि कलर आपकी पसंद का है, तो डेकोर एक्सेसरीज़ पार्टनर की पसंद की रखें.

 

shutterstock_393407563

कॉमन कलर स्कीम सिलेक्ट करें
यदि आप पूरे घर को सजाने की सोच रहे हैं, तो पहले दोनों मिलकर कोई कॉमन कलर स्कीम सिलेक्ट करें. हो सकता है कि दोनों को अलग-अलग शेड पसंद आएं, ऐसे में आप बीच का रास्ता निकालते हुए दोनों कलर को मिक्स करके यूज़ कर सकते हैं. इन दिनों घर की एक दीवार डार्क और बाकी लाइट कलर से पेंट करवाने का ट्रेंड है, लेकिन कलर कॉम्बिनेशन करने से पहले एक्सपर्ट की सलाह अवश्य ले लें.

 

shutterstock_9161470
सोच-समझकर सिलेक्ट करें फर्नीचर
यदि आप घर को विंटेज लुक देना चाहते हैं, तो वुडन बेस्ड फर्नीचर आपके लिए बेस्ट है. यदि मॉडर्न लुक देना चाहते हैं, तो आयरन फर्नीचर का चुनाव करें. आजकल मार्केट में अलग-अलग मटीरियल और डिज़ाइन के ढेरों फर्नीचर हैं. आप अपने कमरे के साइज़ और बजट को देखते हुए अपने लिए बेस्ट फर्नीचर चुनें. फर्नीचर ख़रीदने से पहले अपने लिविंग रूम व बेडरूम का साइज़ ज़रूर ध्यान में रखें.

 

rsz_shutterstock_166695401

ड्रीम होम का लुक
आप अपने आशियाने को ट्रेडिशनल और कंटेम्प्रेरी लुक देने की बजाय दोनों को मिक्स एंड मैच भी कर सकती हैं. आजकल मार्केट में कई ऐसी दुकानें हैं जहां होम डेकोर से जुड़ी ऐसी चीज़ें आसानी से मिल जाती हैं. रग्स और आरामदायक चेयर हर घर की ज़रूरत हैं इसलिए इन्हें ख़रीदना न भूलें.

 

75 Alexan

बेडरूम को दें स्पेशल फील
न्यूली मैरिड कपल्स के लिए उनका बेडरूम बहुत ख़ास होता है. कलर, परदे और बेडशीट से लेकर डेकोर एक्सेसरीज़ तक सब कुछ यहां ख़ास होना चाहिए ताकि जब आप बेडरूम में आएं, तो स्पेशल फील करें. बेडरूम में अपनी कोई रोमांटिक फोटो लगाना न भूलें.

 

shutterstock_129844916

परदा है परदा
परदा सिलेक्ट करने के लिए आपको ज़्यादा टाइम और एनर्जी वेस्ट करने की ज़रूरत नहीं है. अपने घर की कलर स्कीम से मैच करता परदा ख़रीदें. यदि दीवारों पर लाइट कलर है, तो डार्क कलर का परदा चुनें और यदि दीवार पर डार्क शेड है, तो परदे का कलर लाइट रखें.

– कंचन सिंह