daughter

आज ईशा ने कई ख़ूबसूरत तस्वीरें, ख़ासकर केक की शेयर करके अपने ख़ास दिन को सेलिब्रेट किया. उन्होंने सभी को बधाइयों के लिए शुक्रिया भी अदा की. हेमाजी ने हर साल की तरह उनके जन्मदिन पर पूजा-हवन की. उन्हें जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई! वे यूं ही सदा हंसती-मुस्कुराती रहें. वे समझदार बेटी, पत्नी और मां की भूमिका को बख़ूबी निभा रही है.

Esha Deol

भरत तख्तानी से शादी करने के बाद उन्होंने फिल्म से दूरी बना ली है. कभी-कभार मां हेमा मालिनी के साथ स्टेज शो, कृष्णलीला या उनके रामायण डांस बैलेट का हिस्सा बनती रही हैं. ईशा एक समर्पित पत्नी के रूप में अपने वैवाहिक जीवन को एंजॉय कर रही हैं. बेटी राध्या व मियारा के जन्म से ही उनके जीवन में बहार आ गई है. यही वो समय भी है, जब उन्हें अपनी मां हेमा मालिनी की बातों, सीख के मर्म को समझने का मौक़ा मिल रहा है. मां के लिए उनके बच्चे और ख़ासकर बेटी हो, तो काफ़ी मायने रखते है. उनकी पूरी दुनिया उनमें सिमट के रह जाती है. मदरहुड को ईशा ख़ूब एंजॉय कर रही हैं. वे अक्सर सोशल मीडिया पर दोनों बेटियों, पति, परिवार के साथ की ख़ूबसूरत व दिलचस्प तस्वीरें शेयर करती रहती हैं. ईशा ने अपने जीवन को ख़ूबसूरती से संवारा है. फिर चाहे वह बेटी की भूमिका हो, पत्नी की ज़िम्मेदारी हो, मां का रोल हो… उन्होंने हर किरदार को अपने जीवन में बख़ूबी निभाया है और निभा रही हैं.

ईशा से जुड़ी कुछ विशेष बातों के बारे में जानते हैं…

  • ईशा देओल ने अपने फिल्मी करियर की शुरुआत ‘कोई मेरे दिल से पूछे’ से की थी.
  • उसके बाद एक से एक बेहतरीन फिल्में की उनके करियर का मील का पत्थर साबित हुआ फिल्म धूम, जिसमें उनके अभिनय और डांस की ख़ूब तारीफ हुई.
  • ईशा ने अपनी फिल्मों में कई तरह की भूमिकाएं निभाई, पर ज़िंदगी भूमिका में सुपरहिट रहीं.
  • ईशा के पति भरत तख्तानी उन्हें बचपन से पसंद करते थे.
  • दोनों अलग-अलग स्कूलों में पढ़ते थे, पर प्रतियोगिताओं आदि में उनकी अक्सर मुलाकातें होती थीं.
  • उन्हीं दिनों भरत ने एक बार ईशा का हाथ पकड़ लिया था, तब उन्होंने नाराज़ होकर थप्पड़ मार दिया था.
  • काफ़ी सालों बाद दोनों की दोबारा मुलाक़ात हुई, तब रोमांटिक अंदाज़ में भरतजी ने उन्हें कहा कि क्या वे अब उनका हाथ पकड़ सकते हैं, तो उन्होंने हामी भर दी.
  • फिर वे धर्मेंद्र-हेमा मालिनी से मिले और उनकी रज़ामंदी मिलने के बाद हैप्पी एंड यानी शादी हो गई.
  • वैसे ईशा का क्रश सिलवेस्टर स्टैलॉन हैं, जो हॉलीवुड के मशहूर एक्टर रहे हैं उनकी रैंबो, रॉकी सीरीज़ फिल्में सुपरडुपर हिट रही हैं.
  • हाल ही में ‘केकवॉक’ शॉर्ट फिल्म में भी वे दिखी थीं.
  • उन्होंने हेमाजी पर किताब भी लिखी है, यहां उन्होंने अपने लेखनी के हुनर को भी दिखाया है.
  • ईशा की हमेशा से ख़्वाहिश रही थी कि उनका जीवनसाथी उनके पिता धर्मेंद्र की तरह हैंडसम और डैशिंग हो और आख़िरकार भरत तख्तानी के रूप में उन्हें वह मिल गया.
  • ईशा की छोटी बहन अक्सर उनके लिए सरप्राइज पार्टी अरेंज करती रहती हैं.
  • ईशा के बेबी शावर के समय भी उन्होंने एक मज़ेदार पार्टी का आयोजन किया था, तब ईशा ने एक रस्म के दौरान पीछे की तरफ फूल फेंका था. और जो उसे पकड़ लेता है, तो उसकी प्रेग्नेंसी निश्चित मानी जाती है और संजोग से आहना ने पकड़ा था. तब ईशा ने बड़े ही मजेदार ढंग से कहा था कि देखिए अब आगे क्या होता है. वैसे आहना को एक बेटा डेरिअन है.
  • ईशा के साथ आज शाहरुख ख़ान का भी जन्मदिन है. कल रात से ही उनके फेंस का हुजूम उनके घर मन्नत पर मेला लगाए है. शाहरुख ने घर के छत से सभी का प्यार स्वीकारते हुए धन्यवाद कहा व अभिवादन किया.
  • ईशा जया बच्चन को काफ़ी पसंद करती हैं. एक बार उन्होंने कहा था कि जन्म देनेवाली हेमाजी हैं, पर स्क्रीन पर रहीं मेरी मां जया बच्चन का काफ़ी सम्मान करती हूं. ऐसा उन्होंने उनके जन्मदिन की विश करते हुए अपनी भावनाएं व्यक्त की थी.
  • ईशा देओल आज उस मुक़ाम पर है, जहां पर हर एक लड़की होने की इच्छा करती है. वे शादीशुदा जीवन का भरपूर आनंद ले रही हैं. अपने मातृत्व को काफ़ी दुलार-संवार रही हैं. साथ ही लाइमलाइट में भी रहती हैं.
  • ऐसा नहीं है कि मां बनने के बाद उन्होंने अपने अभिनय और नृत्य से प्यार को छोड़ दिए है. वे आज भी सभी के साथ तालमेल बैठाते हुए आगे बढ़ रही हैं. हमारी शुभकामनाएं व ऑल द बेस्ट, वे यूं ही आगे बढ़ती रहें…

विशेष: ईशा के साथ-साथ आज शाहरुख ख़ान, अनु मलिक, रोशनी चोपड़ा, मीता वशिष्ठ, मसाबा गुप्ता, डायना पेंटी, सनाया कपूर का भी जन्मदिन है. सभी को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाइयां!..

Esha Deol
Esha Deol
Esha Deol
Esha Deol
Esha Deol
Esha Deol
Esha Deol
Esha Deol
Esha Deol
Esha Deol


यह भी देखें: रोमांस के बादशाह को जन्मदिन की शुभकामनाएं, देखें उनका रिवाइंड लुक इस वीडियो में (Birthday Special: Watch Rewind Look Of Shahrukh Khan)

अक्षय कुमार ने बेटी नितारा के जन्मदिन पर ख़ूबसूरत पल शेयर किए. पापा की लाडली बेटी की अक्षय ने जन्मदिन पर बगीचे में प्यार करते हुए एक प्यारी सी तस्वीर साझा की. साथ ही एक ख़ूबसूरत मैसेज भी दिया. उनके लिए उनकी बिटिया किसी राजकुमारी से कम नहीं. उनकी ज़िंदगी है वो. उन्हें बेहद ख़ुशी हो रही है कि उनकी प्रिंसेस आठ साल की हो गई…
साल 2020 बहुत कुछ लाया, पर सबसे बड़ी ख़ुशी की बात अक्षय को यह लगी कि इस साल उन्होंने अपने परिवार के साथ काफ़ी बढ़िया समय बिताया. उनके अनुसार, बच्चों को पहली बार मैंने काफ़ी समय दिया… उनके साथ बहुत यादगार लम्हे बिताएं. बेटी नितारा में तो उनकी जान बसती है. उसके जन्मदिन को ख़ास बनाने में उन्होंने कोई कसर बाकी नहीं रखी.
ट्विंकल खन्ना ने भी अपने बुक को पढ़ते हुए और खेलते हुए नितारा की तस्वीरें सोशल मीडिया पर शेयर की और जन्मदिन की बधाई दी. साथ ही उन्होंने यह भी कहा कि मैं नहीं जानती की वो बड़ी होकर क्या बनेगी, पर इतना यक़ीन है कि जो भी करेगी अच्छा करेगी. बच्चे कितनी जल्दी बड़े हो जाते हैं…
ट्विंकल खन्ना अभिनेत्री के साथ-साथ अच्छी लेखिका भी हैं. उनके कॉलम भी अख़बारों में आते हैं. मिसेज़ फनीबोन्स के नाम से वे बहुत बढ़िया लिखती रही हैं. मां के गुण बेटी में अप्रत्यक्ष रूप से आ ही जाते हैं. नितारा को भी पढ़ना-लिखना अच्छा लगता है. अक्सर उसे पढ़ाई करते हुए देखा जाता है और उसकी इस तरह की तस्वीरें ट्विंकल खन्ना सोशल मीडिया अकाउंट पर डालती रहती हैं.
वैसे भी नितारा अपने डैडी की गुड़िया है. पापा की राजकुमारी है. अक्षय कुमार शुरू से ही बेटी को बहुत ज़्यादा प्यार और प्रोटेक्ट करते रहे हैं. पहले तो कोई शायद ही नितारा के चेहरे को देख पाता था. उसकी जो भी तस्वीरें अक्षय के साथ होती थीं, जिसमें नितारा का पूरा चेहरा कभी नहीं दिखाई देता था. अक्षय नहीं पसंद करते थे कि उनके बच्चे लाइमलाइट में आए या उनकी तस्वीरें ली जाए. बच्चों का भी यही हाल है. वे इससे दूर रहना ही पसंद करते हैं. नितारा को फ्लैशलाइट की चमक ठीक नहीं लगती.
एक बार अक्षय कुमार ने भी अपने इंटरव्यू में कहा था कि मैं बच्चों की लाइमलाइट में नहीं लाना चाहता, बल्कि बच्चे भी ख़ुद पसंद नहीं करते. वे अपनी दुनिया में रहना ज़्यादा पसंद करते हैं, जहां पढ़ाई-लिखाई, खेल, उनके शौक बाकी सब चीज़ें हैं.
अक्षय कुमार और ट्विंकल खन्ना की बिटिया नितारा को जन्मदिन की ढेर सारी बधाई. उनकी मासूमियत और परिवार की तस्वीरें देखते हैं. साथ ही पापा अक्षय कुमार के साथ कुछ ख़ास वीडियो पर भी एक नज़र डालते हैं…

Akshay Kumar
Akshay Kumar and his daughter
Akshay Kumar

यह भी पढ़ें: ऐश्वर्या राय बच्चन के 10 बेस्ट डांस नंबर, आपको कौन सा गाना सबसे ज्यादा पसंद है? (10 Best Dance Numbers Of Aishwarya Rai Bachchan)

नील नितिन मुकेश की दो साल की बेटी नुर्वी बेहद प्यारी हैं और जब उन्होंने गणपति के अवसर पर साड़ी पहनी तो aur भी प्यारी लगने लगी. फैंस को भी नुर्वी की ये तस्वीरें बेहद भा रही हैं, क्योंकि वो लग ही रही हैं इतनी क्यूट.
नुर्वी ने पूरे महराष्ट्रीयन पारम्परिक तरीक़े से साड़ी पहनी है. बाल बांधे हैं और फूल भी लगाया है। साथ ही गहने पहनकर शृंगार किया हुआ है.

नील अक्सर नुर्वी की तस्वीरें और वीडियो इंस्टाग्राम पर शेयर करते रहते हैं. किसी में वो डांस करती नज़र आती हैं तो किसी में अपने दादू नितिन मुकेश से लाड़ लड़ाती दिखती हैं. कभी वो पूजा घर में घर की पंडित बन जाती हैं तो कभी चश्मा पहने घूमती हैं.
आप भी देखें उनकी ये क्यूटनेस.

Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi
Neil Nitin Mukesh's Daughter Nurvi

यह भी पढ़ें: फ़ैशन क्वीन निया शर्मा के इन 55+ लुक्स को अपनाकर आप भी लग सकती हैं सुपर स्टाइलिश (The Ultimate Fashion Queen Nia Sharma’s 55+ Stylish Looks)

शिल्पा शेट्टी(Shilpa Shetty) अपनी बेटी समिशा को बेहद लकी मानती हैं. आज उनकी बेटी दो महीने की हो गई है. 15 फरवरी को उसका जन्म हुआ था और आज 15 अप्रैल को वह 2 महीने की हो गई है. शिल्पा ने बेटी के साथ खेलते हुए यह ख़ुशी सेलीब्रेट की. वैसे बेटी के साथ 15 नंबर भी उनके लिए भाग्यशाली रहा है. शिल्पा के अनुसार आज उनके टिकटॉक अकाउंट पर 15 मिलियन फॉलोअर्स भी हो गए हैं. एक तरह से अपनी दुगनी ख़ुशी उन्होंने समिशा के साथ ज़ाहिर की. 

वैसे देखा जाए, तो जब से शिल्पा शेट्टी टिकटॉक पर आई हैं, तब से पूरी तरह से छा गई हैं. आए दिन उनके एक-से-एक मज़ेदार और हंसी से भरपूर वीडियो देखने को मिलते हैं.
इनमें ख़ासकर वे अपने पति राज कुंद्रा और बहन शमिता शेट्टी के साथ ज़बर्दस्त मनोरंजन करती नज़र आती हैं. उन सब की ट्यूनिंग व कॉमेडी देखते ही बनती है. इसमें वे अपने बेटे विवान, परिवार और अन्य कई लोगों को जोड़ लेती हैं.
शिल्पा शेट्टी के इन वीडियो में हास्य का पुट भी गजब का होता है. साथ ही पति-पत्नी की जोड़ी यानी राज और शिल्पा की कॉमेडी के पंच लाजवाब होते हैं.
शिल्पा अपने एक्सरसाइज व कुकिंग क्लास से वैसे ही सबका काफ़ी मार्गदर्शन और मनोरंजन दोनों ही करती रहती हैं. साथ ही समय-समय पर वे कोरोना वायरस, लॉकडाउन अन्य बातों को लेकर भी जागरूकता फैलती रहती हैं.
आज उनकी इस दोहरी ख़ुशी के मौक़े पर हंसी के हंगामे से भरपूर उनके बेहतरीन वीडियो देखते हैं और शिल्पा शेट्टी की ख़ुशी में शामिल होते हैं.

Shilpa Shetty with her new born daughter
https://www.instagram.com/p/B-9moCcB8KC/?igshid=1791vjhhojfgs
https://www.instagram.com/p/B-RshR5BRXP/?igshid=q9a5hkz8kcr0
https://www.instagram.com/p/B8YRIIlB29F/?igshid=1l1q2ba4h3q4u
https://www.instagram.com/p/B-4GkYqhvRA/?igshid=e7a5385pwhod
https://www.instagram.com/p/B-rSWbLBSDr/?igshid=rg372ar7tkmb
https://www.instagram.com/p/B-1QDO9hsvm/?igshid=e5rquci7z0ak
https://www.instagram.com/p/B-zAq4oBxCx/?igshid=1nl986s6cdvjn
https://www.instagram.com/p/B-6SLrEhI5x/?igshid=uryzr837t38e
https://www.instagram.com/p/B-wtLkQh0m6/?igshid=y6hos7aae2xy

Psychology Of Relationships

रिश्तों का मनोविज्ञान (The Psychology Of Relationships)

मेरी बेटी की उम्र 28 साल है. वो नौकरी करती है. पिछले कुछ समय से उसकी शादी की बात चल रही है. कई रिश्ते भी आए, पर उसे कोई पसंद ही नहीं आता. पता नहीं उसके मन में क्या चल रहा है. उससे पूछती हूं, तो कहती है कि सही समय पर, सही लड़का मिल जाएगा, तब कर लूंगी शादी. जल्दबाज़ी में ग़लत निर्णय नहीं लेना चाहती. लेकिन लोग बातें करते हैं, जिससे मैं बहुत परेशान रहती हूं.

– शिल्पा शुक्ला, उत्तर प्रदेश.

आज की जनरेशन शादी देर से ही करती है. उनकी प्राथमिकताएं अब बदल गई हैं. एक तरह से शादी की उम्र क़रीब 30 साल हो गई है. बच्चे पढ़-लिखकर कुछ बनकर ही शादी करने की सोचते हैं. अपनी बेटी का साथ दीजिए और धीरज रखिए. सही समय पर सब ठीक होगा. लोग क्या कहते हैं, उस पर ज़्यादा ध्यान न दें. यह आपकी बेटी की ज़िंदगी का सवाल है. अपनी बेटी पर भरोसा रखें. वो सही समय आने पर सही निर्णय ले लेगी. उसके कारण ज़्यादा परेशान होकर अपनी सेहत और घर का माहौल ख़राब न करें.

यह भी पढ़े: रिश्तों में बदल रहे हैं कमिटमेंट के मायने… (Changing Essence Of Commitments In Relationships Today)

मेरे पिताजी ने वॉलंटरी रिटायरमेंट ले लिया है. अब वे सारा दिन घर पर रहते हैं, लेकिन वो बहुत चिड़चिड़े से हो गए हैं. बात-बात पर बहस और ग़ुस्सा करते हैं. ज़िद्दी हो गए हैं, जिससे घर का माहौल ख़राब रहने लगा है. समझ में नहीं आता कि उन्हें कैसे हैंडल करें, क्योंकि वो बड़े हैं, तो उन्हें कुछ कह भी नहीं सकते.

– राकेश सिन्हा, पटना.

आप उनके मन की स्थिति समझने की कोशिश करें. हो सकता है, उन्हें भी दिनभर घर पर बैठे रहना अच्छा न लगता हो या यह भी हो सकता है कि उन्हें कोई और परेशानी हो, जो वे आप लोगों से कह न पा रहे हों. थोड़ा धीरज से काम लें. उनका विश्‍वास जीतें. उनसे प्यार से पेश आएं. उन्हें
सुबह-शाम वॉक पर ले जाएं. सोशल एक्टिविटीज़, योगा इत्यादि के लिए प्रोत्साहित करें. उन्हें घर के काम की भी ज़िम्मेदारी दें. घर के महत्वपूर्ण निर्णयों में उन्हें शामिल करें. उनकी राय को महत्व दें. उन्हें महसूस न होने दें कि अब वो काम पर नहीं जाते या कुछ करते नहीं हैं. आप सब का प्यार, सम्मान और सहानुभूति उन्हें शांत रहकर कुछ और करने के लिए प्रोत्साहित करेगी.

मेरी बेटी की उम्र 14 साल है. स्कूल जाती है. आजकल उसका स्वभाव कुछ अलग-सा हो गया है. हर समय मोबाइल पर लगी रहती है. कोई बात सुनती नहीं है. पैरेंट्स तो जैसे उसके दुश्मन हैं. डर लगता है, कहीं कोई ग़लत राह न पकड़ ले.
– कोमल सिंह, पानीपत.

इस उम्र में बच्चों का यह व्यवहार स्वाभाविक है. उन्हें परिजनों से ज़्यादा उनके दोस्त अच्छे लगते हैं. उन्हें लगता है पैरेंट्स की सोच पुरानी व दकियानूसी है. बच्चों की ख़ुशी का उन्हें ख़्याल नहीं है… आदि. बेहतर होगा आप भी उनके साथ दोस्तों की तरह पेश आएं. उनके साथ समय बिताएं, उनकी एक्टिविटीज़ में सकारात्मक तौर पर शामिल हों. हंसी-मज़ाक करें. हर बात पर टोकना या लेक्चर देना उन्हें पसंद नहीं आएगा. उनका विश्‍वास जीतें. लेकिन साथ ही उन पर नज़र भी रखें, उनके फ्रेंड सर्कल की जानकारी रखें, पर उन्हें कंट्रोल करने की कोशिश न करें. घर का हल्का-फुल्का दोस्ताना माहौल उन्हें घर से और आपसे बांधे रखेगा.

Zeenat Jahan

ज़ीनत जहान
एडवांस लाइफ कोच व
सायकोलॉजिकल काउंसलर

[email protected]

यह भी पढ़े: लव गेम: पार्टनर से पूछें ये नॉटी सवाल (Love Game: Some Naughty Questions To Ask Your Partner)

आज ऐश्‍वर्या राय बच्चन (Aishwarya Rai Bachchan) के जन्मदिन (Birthday) पर पति अभिषेक बच्चन ने रोम की रोमांटिक वादियों में उन्हें जन्मदिन की बधाई दी. उन्होंने ऐश्‍वर्या की ख़ूबसूरत तस्वीर शेयर करते हुए इटली में उन्हें राजकुमारी कहा. उनके अंदाज़ में हैप्पी बर्थडे प्रिंसिपेसा…

Aishwarya Rai Bachchan

दरअसल, अपने कई प्रोजेक्ट व काम के सिलसिले में ऐश्‍वर्या इटली के रोम में हैं. इस बार वे वहीं पर पति अभिषेक व बेटी आराध्या के साथ अपना जन्मदिन मना रही हैं. इस ख़ास मौ़के पर वे अपने परिवार को भी ख़ूब मिस कर रही हैं.

वैसे तो उनका फिल्मी सफ़र कई उतार-चढ़ाव से गुज़रा, पर उन्होंने कभी हार नहीं मानी. उन्होंने हर फील्ड में अपना सौ प्रतिशत दिया, फिर चाहे वो मॉडलिंग हो, एक्टिंग हो या फिर बिज़नेस ही क्यों न हो.

आइए, आज ऐश्‍वर्या राय बच्चन के जन्मदिन पर उनकी कुछ कही-अनकही बातों को जानते हैं-

* ऐश्‍वर्या का जन्म कर्नाटक के मैंगलूर में 1 नवंबर, 1973 में हुआ था.

* उनकी मां वृंदा राय लेखिका हैं.

* पिता कृष्णराज राय मरीन इंजीनियर थे.

* उनकी मातृभाषा तेलुगू है, पर उन्हें कन्नड़, हिंदी, अंग्रेज़ी, तमिल व मराठी भाषाएं भी अच्छी तरह से आती है.

* उनकी शुरुआती पढ़ाई हैदराबाद में हुई थी.

* फिर उनका परिवार मुंबई आ गया और सांताक्रुज़ के आर्य विद्या मंदिर में उन्होंने अपनी स्कूली शिक्षा पूरी की.

* मुंबई के माटुंगा के डी.जी. रुपारेल कॉलेज से उन्होंने आगे की पढ़ाई की.

* जब वे नौंवी कक्षा में थीं, तभी से उन्होंने मॉडलिंग करना शुरू कर दिया था.

* उनका पहला विज्ञापन केमलिन पेंसिल का था.

* सत्रह साल की कम उम्र में उन्होंने फोर्ड प्रतियोगिता भी जीती थी.

* ऐश्‍वर्या ने कोकाकोला व पेप्सी दोनों के लिए विज्ञापन किए हैं और ऐसा करनेवाली वे एकमात्र भारतीय अदाकारा हैं.

* साल 1994 में वे मिस वर्ल्ड बनी थीं.

* बेइंतहा ख़ूबसूरत ऐश्‍वर्या को मिस वर्ल्ड में वोटिंग के आधार पर साल 2000 व 2010 में विश्‍व की सबसे ख़ूबसूरत शख़्सियत के रूप में चुना गया था.

* उनके फैन्स ने उनके नाम के दुनियाभर में कम से कम सत्रह हज़ार से अधिक इंटरनेट साइट बना रखे हैं, जो अपने आप में रिकॉर्ड है.

* ऐश्‍वर्या पहली भारतीय अभिनेत्री थीं, जिनका मोम का पुतला लंदन के मैडम तुसाद म्यूजियम में साल 2004 में स्थापित किया गया था.

* इसी साल अमेरिका की मशहूर पत्रिका टाइम ने उन्हें विश्‍व की सौ प्रभावशाली शख़्सियत में शामिल किया था.

* 2009 में उन्हें पद्मश्री से भी सम्मानित किया गया था.

* उन्होंने तमिल फिल्म इरुवर से अभिनय की शुरुआत की और हिंदी में और प्यार हो गया उनकी पहली फिल्म थी, जिसमें अक्षय खन्ना उनके हीरो थे. इसके बाद अक्षय के साथ ही उनकी ताल फिल्म सुपर-डुपर हिट रही.

* गुरिंदर चड्ढा की अंग्रेज़ी मूवी प्राइड एंड प्रीजुडिस में उनका एक अलग अंदाज़ ही देखने को मिला.

* ऐश्‍वर्या अमेरिकी शो ओपरा विनफ्रे में आनेवाली पहली भारतीय सेलिब्रिटी थीं.

* उन्होंने हॉलीवुड की मूवी ट्रॉय में ब्रेड पिट के साथ काम करने से मना कर दिया था.

* अभिषेक बच्चन के साथ शादी के बाद उन्होंने फिल्मों में काम करना कम कर दिया और बेटी आराध्या होने के बाद तो और भी कम.

* साल 2010 में गुज़ारिश में उनके अभिनय की ख़ूब तारीफ़ हुई थी, उसके बाद जज़्बा और फन्ने ख़ा में वे दिखाई दी थीं.

* भले ही वे फिल्में कम कर रही हैं, पर अन्य बिज़नेस प्रोजेक्ट्स, मॉडलिंग, असाइंटमेंट से लगातार जुड़ी हुई हैं. इसी सिलसिले में उन्हें अभिषेक-आराध्या के साथ इटली के रोम भी जाना पड़ा. काम के साथ-साथ वे अपना जन्मदिन भी वहीं मना रही हैं.

* साल 2003 में उन्होंने फिल्म दिल का रिश्ता भी प्रोडयूस किया था.

* वे कई ब्यूटी प्रोडक्ट्स की ब्रांड एंबेसडर हैं.

* हाल ही में अपनी मां के साथ मिलकर उन्होंने बैंगलुरू बेस्ट स्टार्टअप में भी इंवेस्ट किया है.

Aishwarya Rai Bachchan Aishwarya Rai BachchanAishwarya Rai Bachchan

Aishwarya Rai BachchanAishwarya Rai BachchanAishwarya Rai Bachchan

Aishwarya Rai Bachchan

Aishwarya Rai Bachchan

Aishwarya Rai BachchanAishwarya Rai BachchanAishwarya Rai Bachchan

Aishwarya Rai Bachchan Aishwarya Rai BachchanAishwarya Rai Bachchan

Aishwarya Rai BachchanAishwarya Rai Bachchan

 

इसमें कोई दो राय नहीं कि ऐश्‍वर्या ने आदर्श बेटी, बहन, पत्नी, बहू व मां के रूप में ख़ुद को बेहतरीन ढंग से संवारा-निखारा है. मेरी सहेली की तरफ़ से उन्हें जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई!

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़ेपूर्व क्रिकेटर फारुख इंजीनियर पर क्यों भड़की अनुष्का शर्मा? कहा- मेरी चुप्पी को कमजोरी मत समझो (Anushka Sharma React On Farokh Engineer Claim, Selectors Serving Her Tea Statement)

टीवी एक्ट्रेस जूही परमार (Juhi Parmar) की बेटी (Daughter) समायरा (Samaira) 6 साल की हो गई. इस अवसर पर जूही ने शानदार बर्थडे पार्टी (Birthday Party) का आयोजन किया. बेटी के जन्मदिन पर जूही की ख़ुशी देखते ही बनती थी. समायरा ने बर्थ डे पर बहुत ही प्यारा गाउन पहन रखा था. वो किसी परी से कम नहीं लग रही थी. जूही ने बर्थडे सेलिब्रेशन के पिक्स सोशल मीडिया पर शेयर करते हुए लिखा कि,” जब मैं अपने ब्लेसिंग्स गिनने लगती हूं तो मेरी प्यारी बेटी तुम सब सबसे ऊपर रहती हो. तुम इस पल का कब से इंतजार कर रही थी और आख़िरकार कल वो रात थी. कल रात के सेलिब्रेशन के क्षण बार-बार मेरी आंखों के सामने आ रहे हैं. प्लीज़ तुम इतनी जल्दी बड़ी मत हो. क्योंकि मुझे तुम्हारी मासूमियत और प्योरिटी बहुत पसंद है.”

Juhi Parmar

Juhi Parmar's Daughter's Birthday

Juhi Parmar's Daughter

जूही ने इस अवसर पर समायरा के नाना-नानी और मौसी के पिक्चर्स शेयर करते हुए उन्हें धन्यवाद कहा और लिखा कि जब मैं शूट पर होती हूं तो आप मेरी बेटी को बहुत प्यार से रखते हैं और मासी के साथ तो समायरा रिश्ता बहुत स्पेशल है. समायरा के बर्थडे को स्पेशल बनाने के लिए धन्यवाद.

Juhi Parmar's Daughter's Birthday

Juhi Parmar's Daughter's Birthday

Juhi Parmar's With Her Daughter

Juhi Parmar

समायरा के पिता सचिन श्रॉफ ने भी उसकी पिक्चर शेयर करते हुए लिखा हैप्पी बर्थडे लव.

Juhi Parmar's Daughter

आपको याद दिला दें कि जूही और सचिन एक-दूसरे से अलग हो चुके हैं. पिछले साल ही दोनों का डायवोर्स हुआ. उसके बाद से समायरा जूही के पास रहती है. सिंगल पैरेंटिंग के बारे में बोलते हुए जूही ने एक इंटरव्यू में कहा था कि यह सच है कि यह आसान नहीं है. मुझे बहुत सी चुनौतियों का सामना करना पड़ता है, लेकिन इसके दो पहलू हैं. दोहरी ज़िम्मेदारी के साथ ही मुझे दोहरा प्यार और अटेंशन भी मिलता है. भगवान ने औरतों को बहुत मजबूत बनाया है. वे हर तरह की परिस्थिति का सामना करने का ज़ज़्बा रखती हैं.

ये भी पढ़ेंः इस नेता के पोते को डेट कर चुकी हैं सारा अली ख़ान (Sara Ali Khan Finally Confirms That She Once Dated Former Maharashtra CM’s Grandson)

 

 

घर-आंगन का शृंगार है बेटियां

रिश्तों का आधार है बेटियां

National Girl Child Day

आज राष्ट्रीय बालिका दिवस यानी नेशनल गर्ल चाइल्ड डे (National Girl Child Day) पर देशभर में बालिकाओं को ख़ूब याद किया जा रहा है. आज के दिन को मनाने का विशेष प्रयोजन लड़कियों से जुड़ी भ्रांतियां, कन्या भ्रूण हत्या को रोकना, बेटियों को लेकर सभी में जागरूकता लाना आदि है. आज हम सभी को समझना होगा कि लड़कियां न केवल हमारा बेहतरीन आज है, बल्कि सुनहरा भविष्य भी हैं.

एकबारगी देखें, तो परवरिश, शिक्षा, खानपान से लेकर सम्मान, अधिकार, सुरक्षा आदि में बालिका शिशु के साथ भेदभाव किया जाता है. यहां तक की इलाज में भी असमानताएं बरती जाती है. इसलिए आज सभी को लड़का-लड़की में भेदभाव न करने और देश में व्याप्त लिंग अनुपात की असमानता को ठीक करने का प्रण लेना चाहिए, क्योंकि यह लिंगानुपात 933:1000 है.

हर बार राष्ट्रीय बालिका दिवस एक थीम को लेकर मनाया जाता रहा है. इस बार की थीम है- उज्जवल कल के लिए लड़कियों का सशक्तिकरण!

इससे जुड़ी ख़ास बातों और सुर्ख़ियों पर नज़र डालते हैं…

* हर साल 24 जनवरी को राष्ट्रीय बालिका दिवस मनाया जाता है.

* इसकी शुरुआत 2009 से की गई.

* इस दिवस को मनाने का मुख्य उद्देश्य-

– बालिका शिशु की भूमिका व महत्व के प्रति सभी को जागरूक करना है.

– देश में बाल लिंगानुपात को दूर करने के लिए काम करना है.

– कोशिश यह रहनी चाहिए कि हर बेटी को समाज में उचित मान-सम्मान मिलें.

– लड़कियों को उनका अधिकार प्राप्त हो.

– बालिका के पालन-पोषण, सेहत, पढ़ाई, अधिकार पर विचार-विमर्श करना और उल्लेखनीय क़दम उठाना.

* इस दिन देशभर में बालिकाओं को लेकर बने क़ानून के बारे में सभी को बताया जाता है.

* बाल-विवाह, घरेलू हिंसा, दहेज प्रताड़ना आदि  को लेकर विचार किया जाता है और सार्थक पहल करने पर निर्णय लिया जाता है.

* आज ही के दिन बालिका शिशु बचाओ के संदेश द्वारा अख़बारों, रेडियो, टीवी आदि जगहों पर सरकार, एनजीओ, गैर-सरकारी संस्थाओं द्वारा प्रचार-प्रसार किया जाता है.

संदेशे…

Smriti Irani

स्मृति ईरानी

राष्ट्रीय बालिका दिवस पर सभी बेटियों को उनके उज्जवल भविष्य हेतु शुभकामनाएं! आइए, संकल्प लें कि हम बेटियों को समान अवसर प्रदान करेंगे एवं उनकी सफलता पर उन्हें प्रोत्साहित करेंगे. बेटी है तो कल है!…

Vasundhara Raje

वसुंधरा राजे

हमारी अनमोल बेटियां के उज्जवल भविष्य की कामना के साथ नेशनल गर्ल चाइल्ड डे की सभी को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं! आइए, सृष्टि की अनुपम उपहार बेटियों के प्रति समाज में व्याप्त भ्रांतियों को जड़ से मिटाते हुए उनके उत्थान व कल्याण का संकल्प लें.

* पिता और पुत्री में एक बात आम होती है कि दोनों ही अपनी गुड़िया को बहुत प्यार करते हैं…

* खिलती हुई कलियां हैं बेटियां, मां-बाप का दर्द समझती हैं बेटियां

घर को रोशन करती हैं बेटियां, लड़के आज हैं, तो आनेवाला कल है बेटियां…

यह भी पढ़े: दोस्ती में बदलता मां-बेटी का रिश्ता (Growing Friendship Between Mother-Daughter)

National Girl Child Day

बालिका दिवस पर ख़ास कविताएं…

बहुत चंचल बहुत ख़ुशनुमा-सी होती हैं बेटियां

नाज़ुक-सा दिल रखती हैं, मासूम-सी होती हैं बेटियां

बात-बात पर रोती हैं, नादान-सी होती हैं बेटियां

रहमत से भरभूर खुदा की नेमत हैं बेटियां

हर घर महक उठता है, जहां मुस्कुराती हैं बेटिया

अजीब-सी तकलीफ़ होती है, जब दूर जाती हैं बेटियां

घर लगता है सूना-सूना पल-पल याद आती हैं बेटियां

ख़ुशी की झलक और हर बाबुल की लाड़ली होती हैं बेटियां

ये हम नहीं कहते ये तो रब कहता है कि जब मैं ख़ुश रहता हूं, जो जन्म लेती हैं बेटियां…

 

National Girl Child Day

फूलों-सी नाज़ुक, चांद-सी उजली मेरी गुड़िया

मेरी तो अपनी एक बस, यही प्यारी-सी दुनिया

सरगम से लहक उठता मेरा आंगन

चलने से उसके, जब बजती पायलिया

जल तरंग-सी छिड़ जाती है

जब तुतलाती बोले, मेरी गुड़िया

गद-गद दिल मेरा हो जाए

बाबा-बाबा कहकर, लिपटे जब गुड़िया

कभी घोड़ा मुझे बनाकर, खुद सवारी करती गुड़िया

बड़ी भली-सी लगती है, जब मिट्टी में सनती गुड़िया

दफ्तर से जब लौटकर आऊं

दौड़कर पानी लाती गुड़िया

कभी जो मैं, उसकी माँ से लड़ जाऊं

ख़ूब डांटती नन्ही-सी गुड़िया

फिर दोनों में सुलह कराती

प्यारी-प्यारी बातों से गुड़िया

मेरी तो वो कमज़ोरी है, मेरी सांसों की डोरी है

प्यारी नन्ही-सी मेरी गुड़िया…

सच में कल, आज और कल का प्यार-स्नेह, दया-ममता, अपनापन व सुनहरा भविष्य हैं बेटियां…

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े: बेटी की शादी का ख़र्च बड़ा हो या पढ़ाई का? (Invest More In Your Daughter’s Education Rather Than Her Wedding)

2017 को बॉलीवुड की शादियों और बच्चों के लिए याद किया जाएगा. विराट और अनुष्का की सीक्रेट शादी के लिए एक और पावर कपल की ख़ुशखबरी के बारे में सुनने में आया है. हम बात कर रहे हैं, बॉलीवुड की महशूर गायिका अलका याज्ञनिक की बेटी सायशा कपूर की, जिन्होंने हाल ही में अपने लॉन्ग टाइम ब्वॉयफ्रेंड अमित देसाई से सगाई की.

Alka Yagnik, Daughter Engagement

आपको बता दें कि अलका याज्ञनिक ने फरवरी 1989 में नीरज कपूर से शादी की थी और उसी साल सायशा का जन्म हुआ. अलका मुंबई में रहती हैं, जबकि नीरज शिलॉन्ग में. इसलिए उनकी बेटी अपनी मां के साथ रहती है. पहले सुनने में आया था कि सायशा इंडियन आयडल फेम राहुल वैद्य को डेट कर चुकी हैं, लेकिन दोनों ने कभी यह बात स्वीकार नहीं की. राहुल ने इस बारे में सफाई देते हुए कहा था कि मैं इन दिनों स्ट्रीक्ड डायट पर हूं. और चूंकि सायशा रेस्टोरेंट इंडस्ट्री से जुड़ी हुईं है इसलिए ये मुझे डायट टिप्स देती हैं और इस सिलसिले में अक्सर हमारी मुलाक़ात होती है.

Alka Yagnik, Daughter Engagement

आपको बता दें  कि 27 साल की सायशा अंधेरी स्थित रेस्त्रां Boveda Bristro की को-ऑनर हैं.  वे इस रेस्त्रां को अपने दो चाइल्डहुड फ्रेंड्स के साथ चलाती हैं. उन्होंने लंदन स्कूल ऑफ मार्केटिंग से एमबीए किया है.  सायशा कई होटल मैनेजमेंट कंपनी से जुड़ चुकी हैं.  बता दें, ग्लैमर की दुनिया से जुड़े रहने के बावजूद सायशा ने इसमें करियर नहीं बनाया.  उन्होंने फिल्म स्कूल में एडमिशन लिया, लेकिन जल्द ही उन्हें समझ आया कि वे एक्टिंग को अपना करियर नहीं बना सकतीं.  सायशा ने मां की राह पर चलते हुए सिंगिंग में भी ट्रेनिंग ली. लेकिन एक दिन की ट्रेनिंग के बाद इसे भी छोड़ दिया था.  वहीं अलका याज्ञनिक ने भी बेटी को मन-मुताबिक करियर चुनने के लिए प्रेरित किया.  फिलहाल, वे मुंबई में होटल मेनेजमेंट फील्ड से जुड़ी हुई हैं.  बाकी स्टार किड्स की तरह सायशा भी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव हैं. देखें सायशा और उनके मंगेतर की और  पिक्स.
Alka Yagnik, Daughter Engagement

 

ये भी पढ़ेंः हैप्पी बर्थडे काका! देखें सुपरस्टार राजेश खन्ना के 10 सुपरहिट गाने

 

 

 

Sex Education Sex Before Marriage

शादी से पहले हर बात की हिदायत, तो सेक्स एजुकेशन से परहेज़ क्यों? (Sex Education: Why We Should Talk About Sex Before Marriage)

ससुराल में जाकर सबका मन जीत लेना… धीरे-धीरे मीठी आवाज़ में सबसे बात करना… ज़ोर से मत हंसना और न ही ऊंची आवाज़ में बात करना… घर के कामकाज में हाथ बंटाना… इस तरह की तमाम हिदायतें उस लड़की को ज़रूर दी जाती हैं, जिसकी शादी होनेवाली होती है… यह हर घर में आम है, लेकिन क्या कभी इस बात पर हम ग़ौर करते हैं कि इतनी हिदायतों के बीच सेक्स को लेकर हम बेटी को या बेटे को कितना एजुकेट करते हैं? नहीं न? क्योंकि इस स्तर पर बात करना तो दूर, हम सोचते भी नहीं. हमें यह ज़रूरी ही नहीं लगता. वैसे भी सेक्स (Sex) को लेकर आज भी हम उतना खुलकर बात नहीं करते. हमारे समाज में आज भी सेक्स को गंदा या ग़लत ही माना जाता है, लेकिन बात जब शादी-ब्याह की हो, तब भी हम इसे ज़रूरी क्यों नहीं मानते? 

ये किस तरह का समाज है?
  • क्या यह समाज का दोगलापन नहीं है कि हमारे यहां शादी को सबसे अधिक महत्व दिया जाता है और शादी का जो सबसे महत्वपूर्ण आधार है, उस पर ही बात करने से परहेज़ भी किया जाता है.
  • शादी के बाद गुड न्यूज़ की सबको जल्दी रहती है, लेकिन उससे पहले सेक्स से जुड़ी ज़रूरी बातें बताना किसी को ज़रूरी नहीं लगता.
  • जनसंख्या तेज़ी से बढ़ रही है यानी सेक्स करने से किसी को परहेज़ नहीं, लेकिन इस पर एजुकेट करना बेहद शर्मनाक माना जाता है.
  • टीवी कमर्शियल्स में कंडोम, कॉन्ट्रासेप्शन या फिर इससे जुड़ी चीज़ें दिखाए जाने पर परिवार के लोग इस कदर शर्मिंदगी महसूस करते हैं, जैसे यह कोई आपराधिक या शर्मनाक बात हो.
क्या होते हैं दुष्परिणाम?
  • सेक्स एजुकेशन की कमी के चलते सेक्स को लेकर कोई जागरूकता हमारे समाज में नहीं है.
  • नए शादीशुदा जोड़े भी उतना ही जान पाते हैं, जितना उनके यार-दोस्त उन्हें बताते-समझाते हैं.
  • किस तरह से सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ से बचाव करना चाहिए, किस तरह से फैमिली प्लानिंग और कॉन्ट्रासेप्शन का इस्तेमाल करना चाहिए, पर्सनल हाइजीन का क्या महत्व है… इस तरह की तमाम बातों पर किसी का ध्यान नहीं जाता है.
  • यही वजह है कि अधिकांश लड़कियां सेक्स को लेकर एक फैंटसी में जीती हैं और सुहागरात को किसी फिल्मी सीन की तरह देखती हैं. लेकिन जब उनका सामना हक़ीक़त से होता है, तो उनके सपने बिखर जाते हैं.
  • बात स़िर्फ लड़कियों की ही नहीं, लड़कों को भी यह सीख नहीं दी जाती कि पहली रात को सेक्स करना ज़रूरी नहीं. सबसे ज़रूरी होता है एक-दूसरे को कंफर्टेबल महसूस कराना, क्योंकि सेक्स एक क्रिया नहीं, भावना है और आपके रिश्ते की नींव का महत्वपूर्ण आधार भी.
  • हमारे यहां दोस्तों की बातें या फिर पोर्नोग्राफी ही सेक्स एजुकेशन का सबसे बड़ा आधार व ज़रिया होती है, जिससे बहुत ही ग़लत जानकारियां हासिल कर कपल्स अपनी-अपनी सोच के साथ एक-दूसरे के क़रीब आते हैं.
  • इसके अलावा अधिकांश लड़कियों को बचपन से यही सिखाया जाता है कि सेक्स बेहद शर्मनाक और गंदी चीज़ होती है, जिससे वो शादी के बाद भी स़िर्फ पति की इच्छा मानकर इस क्रिया को अंजाम देती हैं. वो न तो अपनी चाहतें बयां कर पाती हैं और न ही अपनी सोच. यहां तक कि वो पति को सहयोग भी नहीं दे पातीं, क्योंकि यहां उनके चरित्र से जोड़कर इसे देखा-परखा जाता है.

यह भी पढ़ें: लेडी लक के बहाने महिलाओं को निशाना बनाना कितना सही? 

Sex Education Sex Before Marriage

नो सेक्स एजुकेशन का मतलब नो सेक्स नहीं है…
  • यह तो हम सभी जानते हैं कि सेक्स एजुकेशन नहीं मिलने का मतलब यह नहीं कि व्यक्ति सेक्स नहीं करेगा, लेकिन इसका यह मतलब ज़रूर है कि वो सेक्स को लेकर कम संवेदनशील होगा, कम जानकार होगा और सेक्स के प्रति उसमें भ्रांतियां अधिक होंगी.
  • सेक्स एजुकेशन न होने का मतलब यह भी है कि यौन शोषण के मामले अधिक होंगे.
  • यह मान लेते हैं और शोध भी इसी ओर इशारा करते हैं कि लगभग 70-80% पैरेंट्स सेक्स एजुकेशन के लिहाज़ से भी बच्चों से सेक्स पर बात ही नहीं करते, लेकिन एडल्ट होने के बाद, शादी से पहले तो कम से कम उन्हें इस विषय पर ज़रूर बात करनी चाहिए, ताकि उनकी शादी की नींव मज़बूत हो.
  • बच्ची को यह तो सिखाया जाता है कि पति को ख़ुश रखना ही तेरा फ़र्ज़ है, लेकिन उसे यह नहीं बताया जाता कि अपनी सेक्सुअल हेल्थ के प्रति सतर्कता बरतना भी ज़रूरी है.
  • कॉन्ट्रासेप्शन क्यों और कितना ज़रूरी है, मेडिकल टेस्ट्स कितने ज़रूरी हैं, इस विषय पर पति से बात करना कितना ज़रूरी है… ये तमाम बातें कभी किसी नई-नवेली दुल्हन को नहीं सिखाई जातीं और न ही दूल्हे को भी इस संदर्भ में एजुकेट किया जाता है.
  • उन्हें इस विषय पर बात करने से भी डर लगता है कि कहीं उन्हें चरित्रहीन न समझ लिया जाए या उनके बारे में कोई राय न कायम कर ली जाए.
  • यही वजह है कि सेक्सुअल हाइजीन को लेकर देश की शहरी महिलाएं तक बहुत पिछड़ी हुई हैं.
  • नई-नवेली दुल्हन के वर्जिनिटी टेस्ट को लेकर जितनी जागरूकता हमारा समाज दिखाता है, क्या उतनी ही जागरूकता लड़के की सेक्सुअल एक्टिविटीज़, सेक्सुअल हेल्थ और सेक्सुअल जानकारी के प्रति दर्शाई जाती है?

यह भी पढ़ें: महिला सुरक्षा पर रिपोर्ट: कौन-से राज्य सबसे सुरक्षित, कौन सबसे असुरक्षित? 

प्रोफेशनल की लें मदद
  • यदि पैरेंट्स से सेक्स एजुकेशन नहीं मिली, तो कपल्स को चाहिए प्रोफेशनल की मदद लें.
  • काउंसलर के पास जाएं. प मन में छिपे डर, भ्रांतियों और आशंकाओं पर खुलकर आपस में बात करें.
  • पैरेंट्स की मानें, तो उनका यही तर्क होता है कि हमें तो किसी ने नहीं दी सेक्स एजुकेशन, फिर भी हमारी ज़िंदगी बेहतर है, लेकिन समय के साथ-साथ बहुत कुछ बदला है, आज एक्सपोज़र ज़्यादा है, सेक्स को लेकर सवाल ज़्यादा हैं, डर ज़्यादा हैं, भ्रांतियां ज़्यादा हैं.
  • समय के साथ बदलाव होना ज़रूरी है, हमारी सोच में भी और हमारे तरीक़ों में भी.
  • कपल्स शादी से पहले ख़ुद भी बात कर सकते हैं और उन्हें जो सही लगे, वो ऐक्शन ले सकते हैं, ताकि उनकी शादीशुदा ज़िंदगी बेहतर हो और उनका जीवन ख़ुशहाल. प पैरेंट्स भी यह ख़्याल रखें कि संस्कारों के साथ-साथ सेक्स एजुकेशन भी उतनी ही ज़रूरी है, ताकि आपकी बेटी का जीवन बेहतर हो.
  • दूसरी ओर ससुरालपक्ष को भी जानना ज़रूरी है कि नई दुल्हन से उम्मीदें, अपेक्षाएं करना, उसे ज़िम्मेदरियां देना, उसके कर्त्तव्यों की जानकारी देना तो ठीक है, साथ ही अपने बेटे को बेडरूम एटीकेट्स और सेक्स एटीकेट्स की जानकारी देनी भी उतनी ही ज़रूरी है, क्योंकि यह आख़िर उसकी बेहतरी के लिए ही है.

 

– गीता शर्मा

कौन कहता है कि बेटियां सहारा नहीं बन सकतीं. पूजा श्रीराम बिजारनिया न सिर्फ़ अपने पिता का गौरव हैं, बल्कि अपना लिवर पिता को देकर पूजा ने ये साबित कर दिया है कि बेटियां अब किसी भी तरह से कमज़ोर नहीं हैं. बेटियों को यदि सही माहौल और हौसला मिले, तो वो कामयाबी की बुलंदियों को छू सकती हैं. चिल्ड्रन डे के ख़ास मौ़के पर आइए, हम आपको मिलाते हैं एक ऐसी बेटी से, जिसने न स़िर्फ अपने पिता को नई ज़िंदगी दी है, बल्कि परिवार का हौसला भी बढ़ाया.

Pooja Bijarnia, Donate Her Liver, Save Her Father

पूजा, आपके पापा को क्या बीमारी थी और कैसे आपने उन्हें नई ज़िंदगी दी?
मेरे डैड पिछले तीन सालों से हेल्थ प्रॉब्लम्स झेल रहे हैं. उन्हें लिवर सोराइसिस हुआ था. दरअसल, उनकी बीमारी की शुरुआत जॉडिंस (पीलिया) से हुई थी, जिसके बारे में काफ़ी समय तक पता नहीं चल पाया था. सही डॉक्टर न मिलने के कारण बीमारी बढ़ती चली गई. पहले डैड का शरीर पीला था, फिर एकदम काला पड़ गया. दवाइयों के ओवर डोज़ से वो हर समय जैसे नींद में रहते थे. हम उन्हें उसी हालत में दवाइयां देते जा रहे थे.

आपके पापा की सेहत में सुधार कब और कैसे आया?
हम डैड को जसलोक हॉस्पिटल ले गए. वहां डॉक्टर आभा नागराल की देखरेख में उनकी हालत सुधरने लगी. लेकिन उस समय तक डैड का लिवर डैमेज हो चुका था और लिवर ट्रांसप्लांट के अलावा और कोई रास्ता नहीं था. इस बीच उनके गॉल ब्लेडर और किडनी में भी प्रॉब्लम आने लगी थी, उन्हें डायबिटीज़ भी हो गया था. बार-बार डैड को लेकर नवी मुंबई से जसलोक हॉस्पिटल जाना बहुत मुश्किल हो रहा था इसलिए डॉक्टर आभा ने हमें नवी मुंबई के अपोलो हॉस्पिटल में पापा को ले जाने के लिए कहा. वो वहां की विज़िटिंग फेकल्टी भी हैं इसलिए हमारे लिए ट्रैवलिंग आसान हो गई. पापा का आगे का ट्रीटमेंट वहीं हुआ. फिर जनवरी 2017 में डॉक्टर ने कहा कि अगले दो-तीन महीने में हमें उनका लिवर ट्रांसप्लांट करना होगा. हमने बहुत कोशिश की, लेकिन हमें लिवर नहीं मिल पाया इसलिए हमने फैसला किया कि हम में से ही कोई पापा को लिवर दे देगा. मेरी बहन का लिवर छोटा था इसलिए वो नहीं दे पाई. मेरे लिवर का साइज़ सही था और मैं हर तरह से फिट थी इसलिए मैंने लिवर देने का फैसला किया.

लिवर देते समय आपको डर नहीं लगा?
मुझे तो डर नहीं लगा, लेकिन मेरी मां बहुत डरी हुई थी. उनके पति और बेटी दोनों की ज़िंदगी दांव पर थी. ऐसे केसेस में दोनों लोग बच भी सकते हैं, कोई एक भी बच सकता है या दोनों की जान भी जा सकती है. लेकिन हमारे पास इसके अलावा और कोई चारा नहीं था. आख़िरकार ऑपरेशन सक्सेसफुल रहा और हम दोनों को कोई नुक़सान नहीं हुआ. हमारे डैड चाहे कितने ही बीमार थे, लेकिन हमने कभी हार नहीं मानी और न ही कभी कुछ निगेटिव सोचा. इस बीच इतने पैसे ख़र्च हुए कि हमें अपनी प्रॉपर्टी तक बेचनी पड़ी. हां, टाटा फाउंडेशन, रिलायंस फाउंडेशन, सिद्धिविनायक ट्रस्ट आदि ने हमें फाटनेंशियली बहुत मदद की. हमने इन तीन सालों में भले ही बहुत तकली़फें देखीं, लेकिन पापा के ऑपरेशन के बाद हमारी ज़िंदगी में फिर से ख़ुशियां लौट आई हैं.

यह भी देखें: Children’s Day Special: स्पेशल बच्चों के प्रति कितने सेंसिटिव हैं हम?

Pooja Bijarnia, Donate Her Liver, Save Her Father

यह भी देखें: समझदारी की सेल्फी से सुधारें बिगड़े रिश्तों की तस्वीर


पापा के ऑपरेशन के बाद घर का माहौल कैसा है?

इन तीन सालों में हमने जितना झेला है, वैसा कोई दुश्मन भी न झेले. हां, इस बीच हमारी बॉन्डिंग इतनी बढ़ गई है कि अब हम हर काम साथ मिलकर करते हैं. मैं ऑफिस से सीधे घर आ जाती हूं ताकि अपने पैरेंट्स के साथ समय बिता सकूं. छुट्टी के दिन भी मैं अपने परिवार के साथ ही रहती हूं.

लिवर डोनेट करने से क्या आपकी हेल्थ पर कोई असर होगा?
नहीं, लिवर बहुत जल्दी अपने शेप में फिर से आ जाता है. हां, कुछ रिश्तेदारों ने ये ज़रूर कहा कि अब इसकी शादी कैसे होगी, तो मेरा जवाब ये था कि जिस लड़के को इतनी समझ न हो कि अपने पैरेंट्स के लिए बच्चों को क्या करना चाहिए, उसे मेरा जीवनसाथी बनने का कोई हक़ नहीं है.

अपने परिवार के बारे में बताइए, कैसे माहौल में हुई है आपकी परवरिश?
हम सिकर, राजस्थान के रहनेवाले हैं. डैड ने रोजी-रोटी की तलाश में बहुत पहले ही गांव छोड़ दिया था, लेकिन हमारे काका, मौसी सब गांव में रहते हैं. हम ख़ुशनसीब हैं कि हमारे पैरेंट्स ने हमारी परवरिश बहुत अच्छे माहौल में की है. हम पांच भाई-बहन हैं, चार बहनें और एक भाई. भाई सबसे छोटा है, आप कह सकती हैं कि सोशल प्रेशर में मेरे पैरेंट्स को चार बेटियों तक बेटे का इंतज़ार करना पड़ा, लेकिन उन्होंने हम बहनों की परवरिश में कभी कोई भेदभाव नहीं किया. परिवार, रिश्तेदार कहते थे कि बेटियों पर इतना ख़र्च क्यों करते हो, इन्हें तो एक दिन पराए घर जाना है, लेकिन मेरे माता-पिता ने कभी हमारे लिए ऐसा नहीं सोचा. उन्होंने हमें बेटा-बेटी की तरह नहीं, औलाद की तरह पाला और हमें सारी सुविधाएं दी. रिश्तेदारों का तो ये हाल है कि डैड की बिमारी में मदद करने की बजाय उन्होंने गांव में ये अफवाह फैला दी थी कि अब डैड की बचने की कोई गुंजाइश नहीं है. लेकिन मेरी मां बहुत स्ट्रॉन्ग हैं, मां ने कभी हार नहीं मानी. उन्हें पूरा विश्‍वास था कि डैड ठीक हो जाएंगे.

यह भी देखें: Viral Pics: बच्चन परिवार रॉयल अंदाज़ में, अमिताभ ने शेयर की वेडिंग अल्बम

Pooja Bijarnia, Donate Her Liver, Save Her Father

क्या राजस्थान में आज भी बाल विवाह होते हैं?
हां, राजस्थान में आज भी चोरी-छिपे बाल विवाह होते हैं. लोग बेटियों को जल्दी से जल्दी विदा कर देना चाहते हैं. उनके भविष्य के बारे में ज़रा भी नहीं सोचते. जब हम छुट्टियों में गांव जाते थे, तो लोगों की मानसिकता देखकर दंग रह जाते थे. तब मैं कोई 10 साल की रही होगी, हमारी एक रिश्तेदार मां से कहने लगीं, “लड़की अब बड़ी हो गई है, इसका रिश्ता पक्का कर दो”, जबकि हम बहनों में मैं तीसरे नंबर की हूं. उनकी बात सुनकर मां ने साफ़ मना कर दिया और कहा, “मैं इतनी जल्दी अपनी बेटियों की शादी नहीं कर सकती.”

क्या आपके परिवार पर समाज का प्रेशर नहीं है?
पहले मेरे माता-पिता परिवार या समाज के सामने खुलकर अपनी बात नहीं रख पाते थे, लेकिन अब जब उन्होंने देखा कि मुसीबत के समय कोई काम नहीं आता, हमें अपनी तकलीफ़ ख़ुद ही झलेनी होती है, तो वे अब इस बात को लेकर और स्ट्रॉन्ग हो गए हैं कि बेटियों को आत्मनिर्भर बनाना है, ताकि उन्हें कभी किसी का मुंह न देखना पड़े.

– कमला बडोनी

 

चंकी पांडे, बेटी, अनन्या, क्यूट पिक्चर्स, Cute Pictures, Ananya Pandey

चंकी पांडे की बेटी अनन्या भी बाक़ी स्टार किड्स के साथ सुर्खियों में रहती हैं. अनन्या का चेहरा बेहद ही मासूम है. हाल ही में मुंबई के बांद्रा इलाके में अनन्या को कैजु्अल्स में देखा गया. जैसे ही कैमरे उनकी तरफ़ बढ़े, अनन्या ने प्यारी-सी स्माइल देते हुए पोज़ दिया.
चंकी पांडे, बेटी, अनन्या, क्यूट पिक्चर्स, Cute Pictures, Ananya Pandey

पिंक शॉर्ट्स और व्हाइट स्पेगिटी में अनन्या बेहद ही क्यूट लग रही थीं. जहां सैफ अली खान की बेटी सारा अली खान अपनी पहली फिल्म केदारनाथ की शूटिंग शुरू कर चुकी हैं, वहीं ख़बरें हैं कि श्रीदेवी के बेटी जानवी कपूर सैराट की रीमेक में काम कर सकती हैं. चंकी पांडे, बेटी, अनन्या, क्यूट पिक्चर्स, Cute Pictures, Ananya Pandeyअनन्या का नाम भी इसमें शामिल होने वाला है. सुनने में आया है कि जानवी कपूर करण जौहर की फिल्म स्टूडेंट ऑफ दी ईयर 2 से डेब्यू करने वाली हैं.