Tag Archives: delhi

अनुष्का की गोद में कौन है ये क्यूट बेबी? (Who Is This Cute Boy With Anushka?)

Cute Boy With Anushka

नई-नवेली दुल्हन अनुष्का (Anushka Sharma) अपने दिल्ली रिसेप्शन (Delhi Reception) में लाल रंग की साड़ी में लग रही थीं बेहद प्यारी, लेकिन ये देखिए ये कौन है जिसके साथ अनुष्का ने ये क्यूट पिक्चर क्लिक करवाया है?
ये है शिखर धवन (Shikhar Dhawan) के सुपुत्र, जो अनुष्का की गोद में चैन की नींद सोये हैं. ये तस्वीर वायरल हो चुकी है और हर किसी को लग रही है बेहद क्यूट…
ग़ौरतलब है कि अनुष्का विराट के दिल्ली रिसेप्शन में कई सेलिब्रिटीज़ शामिल हुए जिनमें प्रमुखतौर पर प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) शामिल हुए. विरूष्का का मुंबई (Mumbai) रिसेप्शन 26 तारीख़ को होगा, जिसमें बॉलीवुड की बड़ी हस्तियां शामिल होंगी

Cute Boy With Anushka

शिखर धवन की वाइफ ने अपने इंस्टाग्राम पेज पर ये क्यूट पोस्ट शेयर की है

❤️❤️❤️

A post shared by Aesha Dhawan (@aesha.dhawan5) on

यह भी पढ़ें: Inside Video: अपने रिसेप्शन पर मुंह में नोट दबाकर नाचीं अनुष्का 

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचे विराट-अनुष्का के ग्रैंड रिसेप्शन में (PM Narendra Modi Attends The Grand Reception Of Virat & Anushka)

PM, Narendra Modi, Grand Reception, Virat, Anushka

 

PM, Narendra Modi, Grand Reception, Virat, Anushka

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पहुंचे विराट-अनुष्का के ग्रैंड रिसेप्शन में (PM Narendra Modi Attends The Grand Reception Of Virat & Anushka)

दिल्ली में चल रहे विराट और अनुष्का के grand reception में प्रधानमंत्रीश्री नरेंद्र मोदी भी शरीक हुए… देखें तस्वीरें

 

यह भी पढ़ें: विराट-अनुष्का के रिसेप्शन की पहली तस्वीरें

Newlywed विरुष्का लौटे हनीमून से, दिल्ली में 21 दिसंबर को होगा ग्रैंड रिसेप्शन, देखें तस्वीरें (Virushka Return To India After Honeymoon)

Virushka, India, After Honeymoon, reception, delhi

Virushka, India, After Honeymoon, reception, delhi

अनुष्का शर्मा और विराट कोहली फिनलैंड से छुट्टियां मनाकर भारत लौट आए हैं. दिल्ली में 21 दिसंबर को दोनों की शादी का पहला रिसेप्शन होना है. ये रिसेप्शन दिल्ली के ताज डिप्लोमैटिक एन्क्लेव में होना है. हनीमून से लौटने के बाद विरुष्का की जो तस्वीरें सोशल मीडिया पर वायरल हो रही है, उसमें अनुष्का पिंक सूट में चूड़ा पहने नज़र आ रही हैं. अनुष्का शादी के बाद की सारी रस्में निभा रही हैं. विराट भी कुर्ता पहने काफ़ी अच्छे लग रहे हैं. विराट की बहन भी साथ बैठी हैं.

Virushka, India, After Honeymoon, reception, delhi

21 दिसंबर को दिल्ली के बाद 26 दिसंबर को मुंबई के सेंट रिजस होटल में दोनों की शादी का दूसरा रिसेप्शन होगा, जहां बॉलीवुड और क्रिकेट वर्ल्ड से जुड़े लोगों को इनवाइट किया गया है.

यह भी पढ़ें: जाह्नवी कपूर ने बताया 5 मिनट में कैसे पाएं सेक्सी एेब्स, देखें वीडियो 

महिला सुरक्षा पर रिपोर्ट: कौन-से राज्य सबसे सुरक्षित, कौन सबसे असुरक्षित? (Women Safety Report: Goa Safest, Delhi, Bihar Vulnerbale)

Women Safety Report india
क्या आप जानते हैं कि महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज़ से देश का कौन-सा राज्य कितना सुरक्षित और कौन सबसे असुरक्षित है? नहीं, तो हम आपको बताते हैं, ये रिपोर्ट. 1 नवंबर, 2017 को महिला एवं बाल विकास मंत्रालय ने प्लान इंडिया की वह रिपोर्ट सार्वजनिक की, जो उन्होंने महिलाओं की सुरक्षा पर सर्वे के आधार पर बनाई है, जिसमें महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज़ से गोवा देश में अव्वल है और दिल्ली, बिहार सबसे बदतर. 

Women Safety Report india

गोवा सबसे सुरक्षित राज्य

रिपोर्ट में इस बात का खुलासा हुआ है कि महिलाओं की सुरक्षा के लिहाज़ से गोवा देश में अव्वल है. इस बात का पता लगाने के लिए जेंडर वल्नरेबिलिटी इंडेक्स यानी जीवीआई का इस्तेमाल किया गया है. राज्यों को 0 से 1 के बीच में नंबर दिए गए यानी जो राज्य 1 नंबर के क़रीब है, वो सबसे सुरक्षित और जो 0 के क़रीब वो सबसे असुरक्षित. इस रिपोर्ट में गोवा का जीवीआई 0.656 है, जो देश के औसत जीवीआई 0.5314 से ज़्यादा है. लोगों की सुरक्षा के मामले में भी गोवा देश का नंबर 1 राज्य है. सुरक्षा के अलावा इसमें शिक्षा, स्वास्थ्य, जीविका कमाने और गरीबी के भी आंकड़े जारी किए गए. गोवा शिक्षा के मामले में पांचवे, स्वास्थ्य में छठे, जीविका कमाने में छठे और गरीबी के मामले में पांचवे नंबर पर है.

केरल दूसरे नंबर पर

महिलाओं की सुरक्षा के मामले में केरल दूसरे नंबर पर है. इसका जीवीआई 0.634 है. रिपोर्ट में इस बात पर भी ज़ोर दिया गया है कि केरल ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में काफ़ी सुधार करके नई ऊंचाइयां छुई हैं. इसके बाद मिज़ोरम, सिक्किम और मणिपुर का नंबर आता है. यानी ग़ौर करें, तो पूर्वोत्तर भारत के ये राज्य राजधानी दिल्ली और मेट्रो शहरों के मुकाबले महिलाओं के लिए काफ़ी सुरक्षित हैं.

राजधानी दिल्ली महिलाओं के लिए असुरक्षित

देश की राजधानी दिल्ली महिलाओं के लिए बेहद असुरक्षित है. 30 राज्यों की इस रिपोर्ट में दिल्ली 28वें नंबर पर है यानी बिहार से स़िर्फ दो पायदान ऊपर. दिल्ली का जीवीआई स्कोर 0.436 है.

बिहार सबसे नीचे

बिहार का नंबर इस लिस्ट में सबसे नीचे है यानी बिहार देश में महिलाओं के लिए सबसे असुरक्षित राज्य है. इसका जीवीआई स्कोर 0.410 है. सुरक्षा के अलावा लड़कियों की शिक्षा व स्वास्थ्य के मामले में भी सबसे पीछे हैं. बिहार को सबसे नीचे रखने का कारण कम उम्र में लड़कियों की शादी और उनका मां बनना है. राज्य के आंकड़ों पर नज़र डालें, तो बिहार में 39 फ़ीसदी लड़कियों की शादी 18 साल से कम उम्र में कर दी जाती है, जिससे वो जल्द ही मां बन जाती हैं और मां और बच्चे दोनों का ही स्वास्थ्य बहुत कमज़ोर होता है. 15-19 साल की उम्र की 12.2 लड़कियां गर्भवती थीं या मां बन चुकी थीं.

इस लिस्ट में जहां झारखंड 27वें नंबर पर है, वहीं उत्तर प्रदेश 29वें नंबर पर. यानी देखा जाए, तो देश के किसी अन्य राज्यों के मुकाबले, बिहार, दिल्ली, उत्तर प्रदेश और झारखंड सबसे असुरक्षित हैं.

यह भी पढ़ें: आज़ाद भारत की आधी आबादी का सच

यह भी पढ़ें: विमेन सेफ्टीः ख़ुद करें अपनी सुरक्षा

9 साल उम्र बढ़ानी है, तो एयर क्वालिटी सुधारनी होगी (Average Life Span Of Delhites Can Increase By 9 Years If Pollution Level Is Reduced)

साल, उम्र बढ़ानी है, एयर क्वालिटी, Average Life Span, Delhites Can Increase, Years, Pollution Level, Reduced

साल, उम्र बढ़ानी है, एयर क्वालिटी, Average Life Span, Delhites Can Increase, Years, Pollution Level, Reduced

दिल्ली के लोगों की उम्र 9 साल तक बढ़ सकती है, अगर वहां की दवा की क्वालिटी में सुधार किया जाए तो. वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइज़ेशन के मानकों को अगर पूरा कर लिया जाए, तो यह संभव है. यह रिसर्च यूनिवर्सिटी ऑफ शिकागो के एनर्जी एंड पॉलिसी इंस्टिट्यूट के एयर क्वालिटी लाइफ इंडेक्स ने की है. उनके मुताबिक़ राष्ट्रीय स्तर पर वायु की गुणवत्ता के लिए अगर विश्व स्वास्थ्य संगठन  के मानकों को पूरा किया जाए, तो भारत में रहने वालों की उम्र चार साल बढ़ सकती है.

वायु प्रदूषण की वजह से कई सांस से संबंधित कई बीमारियां हो रही हैं. इस पर कंट्रोल करने से कई शहरों को फ़ायदा पहुंचेगा. रिसर्च में एयरबोर्न कणों को पीएम 2.5 लेवल पर मापा गया, जिससे ये पता लगाने की कोशिश की गई कि इसकी मात्रा कम होने से लोगों की लाइफ पर क्या असर पड़ेगा. नतीजों में पाया गया कि अगर दिल्ली के एयर में  2.5 लेवल के तहत डब्ल्यूएचओ के सालाना 10 माइक्रोग्राम प्रति क्यूबिक मीटर के मानक को पूरा कर लिया जाए, तो शहर के लोगों की उम्र 9 साल बढ़ जाएगी.

यह भी पढ़ें: गारंटी!!! मात्र एक मिनट में अच्छी नींद की

वायु प्रदूषण स्मोकिंग से भी ज़्यादा ख़तरनाक है. एयर पॉल्यूशन के मामले में दिल्ली की नाम ऊपर है. ऐसे में वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइज़ेशन के मानकों को पूरा करने से दिक़्क़त काफ़ी हद तक कम हो सकती है.

ऐतिहासिक स्थलों की एक झलक (Historical Places trip)

ऐतिहासिक स्थलों की एक झलक

red-fort-delhi
अगस्त माह में अगर आप कहीं घूमने का प्लान बना रहे हैं, तो देश के ऐतिहासिक जगहों की सैर पर निकल सकते हैं. यही वो महीना है जब हम आज़ाद हुए थे. पुनः उस पल को ताज़ा करने के लिए निकल पड़िए कुछ चुनिंदा जगहों पर जिनका हमारी आज़ादी से है गहरा नाता.लॉन्ग हॉलिडे पर फैमिली के साथ छुट्टी बिताने विदेश के टूर पर तो कई बार आप गए होंगे, लेकिन क्या कभी देश के ऐतिहासिक जगहों की सैर की है? अगर नहीं, तो मौक़ा भी है और दस्तूर भी. स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर फैमिली के साथ सैर करें देश के कुछ चुनिंदा ऐतिहासिक जगहों की.

पंजाब

पंजाब भारत के उत्तर-पश्‍चिम में स्थित है. देश की आज़ादी में पंजाब का बहुत योगदान रहा है. पंजाब के सीने में आज भी आज़ादी के ज़ख़्म के निशां देखे जा सकते हैं. ऐतिहासिक दृष्टि से यहां बहुत-सी जगहें हैं, जहां पर आप पूरी फैमिली के साथ घूमने जा सकते हैं.

Jallianwala-Bagh-Dinesh-Bareja-Flickr-Creative-commons

जलियावाला बाग
पंजाब के अमृतसर में ये एक पब्लिक गार्डन है. पूरे साल यहां पर्यटकों की भीड़ लगी रहती है. इस जगह का नाता भी आज़ादी से है. यही वो जगह है, जहां जनरल डायर के एक आदेश पर 20 हज़ार मासूम लोगों को गोलियों से भून दिया गया था. गोलियों के निशान आज भी दीवारों पर मौजूद हैं.

स्वर्ण मंदिर
अमृतसर जाएं और स्वर्ण मंदिर न देखें तो जाना व्यर्थ होगा. सिक्खों का ये पवित्र तीर्थ स्थल है. इस मंदिर को कई बार विदेशी आक्रमणों द्वारा क्षति पहुंची, लेकिन हर बार इसे बनाया गया है. 19वीं शताब्दी में तो अफगान शासकों ने पूरी तरह से इसे नष्ट कर दिया था. यहां पर बारहों महीने सैलानियों का मेला लगा रहता है. दुनियाभर से लोग ख़ासतौर पर इसे देखने आते हैं. तो आप भी इस ऐतिहासिक मंदिर की सैर ज़रूर करें.

यहां भी जाएं
वाघा बॉर्डर
शीश महल
फरीदकोट फोर्ट
पायल फोर्ट
समर पैलेस

गुजरात

देश की आज़ादी का मुख्य स्तंभ महात्मा गांधी का ये जन्म स्थान है. महात्मा गांधी के अलावा ये धरती बहुत से स्वतंत्रता सैनानी की मातृभूमि है. देश की आज़ादी में इस जगह का बहुत योगदान है. एक नज़र गुजरात के चुनिंदा ऐतिहासिक स्थलों पर.

यह भी पढ़ें: सस्ती फ्लाइट टिकट बुक करने के 10 ट्रिक्स

sabarmati-ashram-ahmedabad

साबरमती आश्रम
गुजरात के साबरमती नदी के तट पर महात्मा गांधी द्वारा बनाए इस आश्रम की स्वतंत्रता आंदोलन में अहमभूमिका रही है. यहीं से गांधी जी ने सत्याग्रह आंदोलन शुरू किया था. इसी आश्रम से उन्होंने दांडी यात्रा भी शुरू की, और प्रण लिया कि देश जब तक अंग्रेज़ों के चंगुल से मुक्त नहीं हो जाता तब तक वो यहां लौट कर नहीं आएंगे. साबरमती आश्रम से गांधी जी का जुड़ाव कितना गहरा था इसका अंदाज़ा इसी बात से लगाया जा सकता है कि उन्हें साबरमती के संत की उपाधि ही दे दी गई थी. वो आश्रम में बच्चोेंं को पढ़ाते थे. आज भी आश्रम में गांधी जी के पत्र और अन्य चीज़ें संजोकर रखी हुई हैं. जो भी सैलानी अहमदाबाद आते हैं वो साबरमती आश्रम जाना नहीं भूलते.

लोथल
सिंधु घाटी की सभ्यता में ये एक मॉडर्न शहर था. अहमदाबाद ज़िले के सरगवाला गांव में ये स्थित है. ये दुनिया के पुराने शहरों में से एक है. किस तरह से गुजरात की धरती आपने आंचल में हज़ारों साल के इतिहास को सहेजकर रखा है, इसका जीता-जागता नमूना लोथल है. आज भी ये उसी तरह है. यहां आने के बाद आपको पता चलेगा कि आपने अपने पीछे कितने इतिहास छोड़ रखे हैं.

यहां भी जाएं
सोमनाथ का मंदिर
द्वारकाधीश मंदिर
सरदार सरोवर बांध
जूनागढ़
चंपानेर

red-fort
दिल्ली

देश की राजधानी दिल्ली मुग़लों के समय से लेकर देश के आज़ाद होने तक के कई पलों को अपने दिल में समेटे हुए है. पूरा शहर ही ऐतिहासिक है. क्या देखें? आइए, जानते हैं.

इंडिया गेट
राजपथ पर स्थित इंडिया गेट का निर्माण प्रथम विश्‍व युद्ध और अफगान युद्ध में शहीद हुए 90 हज़ार भारतीय सैनिकों की याद में कराया गया. 160 फिट ऊंचे इंडिया गेट को दिल्ली का पहला दरवाज़ा माना जाता है. सभी शहीद सैनिकों के नाम इस पर अंकित हैं. इसके अंदर अखंड अमर ज्योति जलती रहती है. इसके आस-पास हरे-भरे बाग-बगीचे और प्रसिद्ध बोट क्लब ने इसे पिकनिक के लिए बेहतरीन जगह बना दिया है.

लाल किला
मुग़ल शासक शाहजहां के शासन काल में बना लाल किला भारत ही नहीं, बल्कि पूरे विश्‍व के पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र है. परिवार के साथ इसे ज़रूर देखें. मुग़ल बादशाह द्वारा बनवाए इस किले पर 1857 के स्वतंत्रता संग्राम के बाद अंग्रेज़ों ने कब्ज़ा जमा लिया और छावनी की तरह इसका इस्तेमाल किया, लेकिन देश के आज़ाद होते ही ये किला भारतीय सेना के अधिकार में आ गया. देश के आज़ाद होने के बाद पहली बार देश के पहले प्रधानमंत्री पंडित जवाहरलाल नेहरू ने यहां पर तिरंगा फहराया था. तब से लेकर आज तक ये परंपरा चली आ रही है. हर 15 अगस्त को देश के प्रधानमंत्री यहां तिरंगा फहराते हैं और लोगों को संबोधित करते हैं.

यहां भी जाएं
राजघाट
पुराना किला
कुतुब मिनार
जंतर-मंतर
तालकटोरा गार्डन

यह भी पढ़ें: बजट में करें विदेश की सैर

Kolkata-Victoria-Memorial-to-get-a-makeover
पश्चिम बंगाल

देश का ये राज्य भी प्राचीन और ऐतिहासिक धरोहरों का गढ़ है. कोलकाता यहां की राजधानी है. दिल्ली से पहले भारत की राजधानी होने का गौरव भी कोलकाता को प्राप्त है.

विक्टोरिया मेमोरियल
अंग्रेज़ों के शासन काल में भारत में बहुत-सी इमारतों का निर्माण हुआ. पश्‍चिम बंगाल की राजधानी कोलकाता में विक्टोरिया मेमोरियल इसका बेहतरीन उदाहरण है. स़फेद संगमरमर से बनी ये इमारत बहुत ही ख़ूबसूरत है. इसे महारानी विक्टोरिया की याद में बनाया गया है. इसकी ख़ूबसूरती को देखने के लिए देश-विदेश से पर्यटक आते हैं.

इंडियन म्यूज़ीयम
यह भारत का सबसे पुराना और बड़ा म्यूज़ीयम है. 1814 में इसका निर्माण हुआ. इसमें प्राचीन वस्तुएं, युद्ध सामग्री, पुराने गहने, कंकाल, ममी, जीवाश्म, मुग़ल पेंटिंग आदि का दुर्लभ संग्रह है.

ज़रूर जाएं
वॉरेन हेस्टिंग्स हाउस
गेट ऑफ ओल्ड फोर्ट
एशियाटिक सोसाइटी
हावड़ा ब्रिज
शांतिनिकेतन

इन सब जगहों के अलावा आप झांसी, इलाहाबाद और अंडमान एंड निकोबार की सेलुलर जेल को भी देखने ज़रूर जाएं. ये वही जेल है जहां स्वतंत्रता सेनानियों और क्रांतिकारियों को अंग्रेज़ बंद कर देते थे. इसे काला पानी की सज़ा भी कहते हैं.

– श्वेता सिंह 

ट्रैवल और टूर के ऐसे ही जानकारी और दिलचस्प आर्टिकल्स के लिए यहां क्लिक करें: Travel and Tourism

दिल्ली के 5 स्टार होटल में लगी आग, बाल-बाल बचे धोनी (Dhoni Rescued From Hotel Fire In Delhi)

महेंद्र सिंह धोनी

 महेंद्र सिंह धोनी

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी एक हादसे का शिकार होते-होते बचे. विजय हज़ारे ट्रॉफी के लिए धोनी दिल्ली पहुंचे थे. दिल्ली के द्वारका के एक होटल में सुबह-सुबह आग लग गई. सुबह के समय होटल के गेस्ट आमतौर पर सोए रहते हैं. ऐेसे में आग लगने की घटना बहुत बड़ी साबित हो सकती थी, लेकिन मौ़के पर सभी गेस्ट को बाहर निकाला गया और आग बुझाई गई.

धोनी की टीम झारखंड विजय हज़ारे ट्रॉफी के सेमीफाइनल में जगह बना चुकी है. टीम के कप्तान धोनी पूरी तरह से सुरक्षित हैं. आग लगने की वजह से आज का मैच टाल दिया गया है. वेलकम नाम के इस 5 स्टार होटल के पिछले हिस्से में आग लगी. आग लगने की ख़बर मिलते ही होटल कर्मचारियों ने धोनी को बाहर निकाला. आग लगने की वजह से मैच शनिवार तक के लिए टाल दिया गया है. खिलाड़ियों के कपड़े और किट होटल के रूम में ही रह गए थे.

 महेंद्र सिंह धोनी

इस ख़बर के बाद धोनी की तरफ़ से कोई प्रतिक्रिया अभी तक नहीं आई है.

Raees By Rail: रईस के प्रमोशन के दौरान लाठीचार्ज, मुंबई से दिल्ली ट्रेन से जा रहे थे शाहरुख खान (Shahrukh khan’s Raees rail’ promotion turns tragic after a man dies at Vadodara station)

शाहरुख खान अपनी फिल्मों का प्रमोशन हमेशा कुछ अलग अंदाज़ में करते हैं. इस बार उन्होंने रईस के प्रमोशन के लिए अपनाया ट्रेन का रास्ता, लेकिन ये सफ़र शाहरुख के फैन्स के लिए सुहाना नहीं रहा.

24-1485233886-raees-by-rail-promotion-one-dead-in-vadodara2 (1)दरअसल दिल्ली में रईस की टीम को करना था फिल्म का प्रमोशन, जिसके लिए मुंबई से दिल्ली का सफ़र उन्होंने ट्रेन में करने की सोची. मुंबई सेंट्रल से दिल्ली के लिए सोमवार शाम को उन्होंने अगस्त क्रांति ट्रेन पकड़ी. शाहरुख के साथ निर्देशक राहुल ढोलकिया और प्रोड्युसर रितेश सिधवानी भी थे.srk-4 (1)रास्ते में पड़ने वाले हर स्टेशन पर उनके फैंस की भीड़ उनकी एक झलक पाने के लिए इकठ्ठा थी. लेकिन गुजरात के वडोदरा स्टेशन पर हज़ारों की संख्या में मौजूद फैंस को कंट्रोल करना मुश्किल हो गया. जैसे ही उनकी ट्रेन प्लेटफॉर्म नंबर 6 पर पहुंची फैंस शाहरुख की झलक पाने के लिए एक-दूसरे को ढकेलने लगे. भीड़ को काबू करने के लिए पुलिस को लाठीचार्ज करना पड़ा.

भगदड़ में फरीद खान पठान नाम के एक व्यक्ति की मौत हो गई. फरीद दिल के मरीज़ थे और इसी ट्रेन से सफर करने वाले अपने घर वालों के लिए खाना लेकर गए थे. शाहरुख खान ने फरीद की मौत पर दुख जताया और कहा, “मैं फरीद खान की मौत से बहुत दुखी हूं. वडोदरा में मौजूद क्रिकेटर इरफान पठान और उनके भाई यूसूफ़ पठान से मैंने फरीद खान के परिवार की हर मुमकिन मदद करने के लिए कहा है.”

– प्रियंका सिंह

प्रो कुश्ती लीग सीज़न 2- हो रही है असली दंगल की शुरुआत (Pro Wrestling league season 2- it’s Dangal time)

maxresdefault

राजधानी दिल्ली में शुरू हो चुका है दंगल. दुनियाभर के पहलवानों को एक-साथ देखने का मौक़ा और कुश्ती का दंगल देखना चाहते हैं, तो तैयार हो जाइए.

इस लीग में छह टीमें हिस्सा ले रही हैं और सभी मुकाबले दिल्ली में 19 जनवरी तक चलेंगे. इस बार जयपुर निंजास, मुम्बई महारथी, यूपी दंगल, एनसीआर पंजाब रॉयल्स, हरियाणा हैमर्स और दिल्ली सुल्तांस की टीमों के बीच कड़ा संघर्ष होने की उम्मीद है.

रियो ओलिंपिक में कांस्य पदक जीतनेवाली साक्षी मलिक पर सबकी निगाहें होगीं. देखना होगा कि किस पहलवान की पहलवानी इस बार सब पर भारी पड़ती है. साक्षी मलिक और गीता फोगट की कुश्ती को इस प्रो लीग का चार्म माना जा रहा है. देखना होगा कि दोनों में से कौन किस पर भारी पड़ता है. दोनों ही 58 किग्रा. में एक-दूसरे को टक्कर देंगी.

हम आपको बता दें कि यह प्रो लीग का दूसरा सीज़न है. पहले सीज़न में साक्षी मलिक ने गीता को दंगल में पटखनी दी थी.

निर्भया… दरिंदगी के 4 साल, अब भी नहीं बदले हैं हालात (Nirbhaya case: nothing has changed in 4 years)

Women Safety Tips

women_safety_1364903939_1364903949_540x540-600x350

 

पूरे देश को झकझोर कर रख देनेवाले निर्भया रेप कांड को आज 4 साल पूरे हो गए हैं. 16 दिसंबर 2012 की काली रात को चलती बस में मासूम निर्भया के साथ हुई दरिंदगी ने इंसानियत को शर्मसार कर दिया, मगर दिल दहला देने वाली इस घटना के इतने साल बाद भी क्या महिलाओं की सुरक्षा की दिशा में ठोस प्रयास हुए हैं? क्या महिलाएं अब ख़ुद को सुरक्षित महसूस करती हैं? क्या बिना डर के रात के अंधेरे में वो अकेली कहीं आ-जा सकती हैं? देर रात बेटी के आने पर क्या माता-पिता बेफिक्र रहते हैं? इन सारे सवालों का जवाब ‘नहीं’ है.

कहां हैं आरोपी?
निर्भया रेेप कांड के 6 गुनहगारों में से एक पहले ही सुसाइड कर चुका है और नाबालिग आरोपी 3 साल की मामूली सज़ा के बाद जेल से छूट चुका है. बाकी 4 गुनहगारों की सुनवाई सुप्रीम कोर्ट में हो रही है. चारों ने दिल्ली हाईकोर्ट के मौत की सज़ा के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में अपील की है. 2012 में इस घटना के ख़िलाफ़ पूरा देश एकजुट दिखा था, मगर लगता है अब लोगों की याददाश्त पर समय की धूल जम चुकी है. निर्भया के माता-पिता हर सुनवाई पर कोर्ट के चक्कर लगाते हैं, इस उम्मीद के साथ कि उनकी बेटी को शायद अब इंसाफ मिल पाए.

निर्भाया रेप कांड के बाद सरकार ने ये क़दम उठाए थे
* बलात्कार विरोधी विधेयक पारित करके रेप और गैंगरेप के लिए अधिकतम आजीवन कारावास की सज़ा का प्रावधान किया गया.
* यदि कोई आरोपी दोबारा ऐसा अपराध करता है, तो उसे मृत्युदंड का प्रावधान किया गया.
* चार साल पहले केंद्र ने 1000 करोड़ रुपए से ‘निर्भया फंड’ बनाया था.
* अब यह फंड 4 हजार करोड़ का हो चुका है. पर इसका 10% भी इस्तेमाल नहीं हुआ है.

अपराधियों के मन में सज़ा का ख़ौफ़ पैदा कर पाने में क्यों नाकाम है क़ानून?
स़िर्फ राजधानी दिल्ली ही महिलाओं के लिए असुरक्षित है ऐसा नहीं है, देश के तक़रीबन हर शहर, गांव-कस्बों में महिलाओं/बच्चियों के सेक्सुअल एब्यूज़ की ख़बरें आती रहती हैं और इन अपराधों में अभी तक किसी भी गुनहगार को ऐसी सख़्त सज़ा नहीं मिल पाई है, जो अन्य अपराधियों के लिए सबक बने या जिससे उनके मन में क़ानून का डर पैदा हो. नेशनल क्राइम ब्यूरो के आंकड़ों से साफ़ पता चलता है कि 16 दिसंबर की घटना के बाद भी कुछ बदला नहीं है.

Women Safety Tips

नेशनल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो के आंकड़ों के मुताबिक साल 2015 में भी देश की राजधानी दिल्ली में रोज़ 6 बलात्कार और 15 मोलेस्टेशन के केस दर्ज होते रहे.

NCRB के मुताबिक भारत में हर साल हुए इतने रेप:
2011- 24,206
2012- 24,923
2013- 33,707
2014- 37,000
2015- 34,651

आवाज़ उठाना है ज़रूरी
आमतौर पर महिलाएं ऐसे मामलों में जल्दी आवाज़ नहीं उठा पातीं, वो डरती हैं. ख़ासतौर पर अपने ही घर व रिश्तेदारों द्वारा सेक्सुअली एब्यूज़ होने पर अक्सर उन्हें चुप रहने की सलाह दी जाती है, जो ग़लत है. यदि बेटी मां से कहती है कि फलां चाचा/मामा या व्यक्ति ने मुझे गंदी निगाह से देखा, ग़लत तरी़के से छुआ, कुछ कमेंट किया… तो उससे ये न कहें, ‘छोड़ो न बेटी’, बल्कि उसकी बात को गंभीरता से सुनें और उसे विरोध करना सिखाएं. उसमें इतनी हिम्मत और आत्मविश्‍वास जगाएं कि यदि कोई भीड़ में उसके साथ छेड़खानी करने की कोशिश करे, तो वो चिल्लाकर उसका विरोध कर सके. यदि आज आप एक व्यक्ति द्वारा की गई ग़लत हरकत को बर्दाश्त करती हैं, तो कल को चार और लोगों की हिम्मत बढ़ जाएगी, लेकिन आप यदि उसी वक़्त विरोध करती हैं, तो दोबारा कोई ऐसा करने से पहले 10 बार सोचेगा ज़रूर. अपने ख़िलाफ़ बढ़ती हिंसा को रोकने के लिए बहुत ज़रूरी है कि महिलाएं अपनी चुप्पी तोड़ें.

Women Safety Tips
ख़ुद करें अपनी हिफाज़त
अपनी सुरक्षा सुनिश्‍चित करने के लिए ख़ुद महिलाओं को भी पहल करनी होगी. सेल्फ डिफेंस ट्रेनिंग के साथ ही हर समय अलर्ट व जागरूक भी रहना होगा. अपनी सेफ्टी के लिए इन बातों का ख़्याल रखें.

* सड़क पर चलते समय अपनी ही धुन में न रहें, अपने आसपास की चीज़ों व लोगों पर नज़र रखें.

* अपने परिवार वालों और क़रीबी दोस्तों को इस बात की जानकारी अवश्य दें कि आप कहां और किसके साथ हैं.

* महिलाओं के लिए सेल्फ डिफेंस ट्रेनिंग भी ज़रूरी है.

* कहते हैं, महिलाओं का सिक्स्थ सेंस (छठी इंद्रिय) बहुत स्ट्रॉन्ग होती है. अतः आपको किसी व्यक्ति की हरकत या बातचीत के तरी़के पर यदि किसी  तरह का संदेह होता है, तो उस व्यक्ति से दूर रहें. संभव हो, तो वहां से चली जाएं.

* रास्ते में किसी भी अनजान शख़्स से भले ही वो कितना भी सभ्य दिखे, लिफ्ट लेने की ग़लती न करें.

* रात में रास्ते से कोई भी कैब लेने की बजाय टैक्सी स्टैंड से ही कैब लें. ऑटो भी प्री-पेड बूथ से लें, तो अच्छा रहेगा.

* यदि बस से जाना हो, तो ऐसी बस में न चढ़ें, जिसमें स़िर्फ ड्राइवर व कंडक्टर हों. 4-5 लोग हों तो, भी बस में न चढ़ें. कई बार ये लोग ड्राइवर-कंडक्टर  के दोस्त या जानकार ही होते हैं.

* ऑटो/कैब से जा रही हैं, तो आपको रास्ते की जानकारी होनी चाहिए. जिस इलाके में आपको जाना है, उसके बारे में जान लें और रोड मैप अपने पास  रखें या अपने स्मार्ट फोन में गूगल मैप का इस्तेमाल करें.

* ऑटो या टैक्सी का नंबर अपने मोबाइल में टेक्स्ट के रूप में तैयार रखें. थोड़ी भी गड़बड़ी लगे, तो अपने किसी दोस्त या जानकार को नंबर एसएमएस  कर दें.

* आजकल कई सेफ्टी ऐप्स भी मौजूद हैं, जिसे आप अपने स्मार्टफोन पर डाउलोड करके ख़ुद को प्रोटेक्ट कर सकती हैं. अपने स्मार्टफोन पर ये आप ये  ऐप्स डाउनलोड कर सकती हैं – Safetipin, Raksha – women safety alert, Himmat, Women safety, Smart 24×7, Shake2Safety, bSafe.

Women Safety Tips

कार चलाते समय रहें सावधान

* गाड़ी में सेंट्रल लॉक लगाकर ड्राइव करें. एसी है तो शीशे चढ़ाकर रखें. यदि न हो, तो खिड़की लॉक करके रखें. बस, एक ही शीशा खोलें.

* गाड़ी में तेज़ म्यूज़िक न चलाएं. ड्राइव करते समय फोन पर बात न करें.

* रात के व़क्त बेसमेंट में कार पार्क करने से बचें. वहां मोबाइल काम करना बंद कर सकता है. गाड़ी रोशनी वाली जगह पर पार्क करें.

* यदि सड़क पर अचानक कार ख़राब हो जाए, तो सबसे पहले अपने घरवालों या किसी ऐसे दोस्त/जानकार को फोन करके अपनी स्थिति के बारे में  बताएं, जो पास में रहता हो. तुरंत कार हेल्पलाइन को बुलाएं. ये नंबर हमेशा मोबाइल में होना चाहिए.

* अगर कोई कार या बाइक लगाकर, पेड़ आदि गिराकर या फिर एक्सीडेंट का बहाना बनाकर आपका रास्ता रोक ले, तो घबराकर गाड़ी से उतरें नहीं.  खिड़की-दरवाज़े लॉक करके कार में ही बैठी रहें और पुलिस को कॉल करें. यदि सामने वाला उतरकर आपकी कार की तरफ़ आने लगे, तो जल्दी से  कार रिवर्स करके भगा लें.

हिफ़ाज़त के हथियार
अपने पास हमेशा कुछ ऐसी चीज़ें रखें, जिससे अचानक अपराधी से सामना होने पर आप उस पर हमला करके ख़ुद को बचा सकें.

* हमलावर की आंखों पर डियोड्रेंट स्प्रे करें.

* अपने पास पेपर स्प्रे (मिर्च का स्प्रे) रखें. इसे हमलावर की आंखों पर स्प्रे करें.

* पर्स में नेल फाइलर, नेलकटर, पेपर कटर आदि रखें.

* पर्स भी आपका हथियार बन सकता है. पर्स को घुमाकर कसकर हमलावर के मुंह पर मारें.

* यदि आपने हाई हील सैंडल पहन रखी हैं, तो उनसे हमलावर के चेहरे पर ज़ोर से मारें.

* बेल्ट से भी ज़ोरदार वार किया जा सकता है.

– कंचन सिंह

‘हीरो नंबर 1’ के नाम से गोविंदा ने दिल्ली में खोला रेस्टोरेंट (Govinda launches restaurant ‘Hero No.1’ in Delhi)

Govinda

Govinda

बॉलीवुड के हीरो नंबर 1 यानी गोविंदा ने अब अपनी इस फिल्म के नाम को दे दिया है होटल का रूप. गोविंदा का ये रेस्टोरेंट दिल्ली में है, जिसका उद्घाटन उन्होंने बुधवार को किया. 1997 में रिलीज़ हुई फिल्म हीरो नंबर 1 सुपरहिट थी और ये नाम सुनते ही गोविंदा की याद आ जाती है. ऐसे में इससे अच्छा नाम गोविंदा के रेस्टोरेंट के लिए हो ही नहीं सकता था. ये रेस्टोरेंट पश्चिमी दिल्ली के रजौरी गार्डन में है. इस मौक़े पर उनकी वाइफ सुनीता और बेटी टीना भी मौजूद थीं.

Pictures: दिल्ली में युवी और हेज़ल की ग्रैंड रिसेप्शन पार्टी (Yuvraj singh and Hazel’s grand reception ceremony in Delhi)

चंडीगढ़ और गोवा में शादी रचाने के बाद युवराज सिंह (Yuvraj Singh) ने दिल्ली में रखा एक ग्रैंड रिसेप्शन. युवी और हेज़ल की इस रिसेप्शन में क्रिकेट, राजनीति और बॉलीवुड से जुड़े सेलेब्स शामिल हुए. देखें तस्वीरें.Yuvraj Singh Yuvraj Singh Yuvraj Singh cricketer-yuvraj-singh-and-movie-actress-hazel-keech-reception-in-delhi dhoni (1) harbhajan sehwag (1) - Copy - Copy

Pic ??❤️️? @yuvisofficial @hazelkeechofficial @sachintendulkar #family

A photo posted by Yuvihazel12 (@yuvrajhazelfc) on

Adorable pic @yuvisofficial @hazelkeechofficial #yuvihazel #yuvzel

A photo posted by Yuvihazel12 (@yuvrajhazelfc) on

yuvraj5 - Copy - Copy yuvraj6 (1) - Copy yuvraj7 - Copy yuvraj10