Tag Archives: Dev Anand

हैप्पी बर्थडे देव साहब, जानें कुछ बातें, देखें उनके 10 गानें (Remembering Dev Anand On His Birthday)

Dev Anand Birthday songs

हर फिक्र को धुएं में उड़ाने वाले रोमांटिक हीरो देव आनंद का आज जन्मदिन है. सभी के पसंदीदा देव साहब का जन्म 26 सितंबर 1923 को हुआ. देव साहब ने अपने 65 साल करियर में तकरीबन 114 फ़िल्मों में अभिनय किया और अपनी ज़िंदादिली से उन्होंने न सिर्फ अपने फैन्स, बल्कि पूरी फिल्म इंडस्ट्री के दिलों पर राज किया. भले ही देव साहब हमारे बीच नहीं, लेकिन उनकी यादें सबके साथ हैं. 

Dev Anand Birthday songs

आइए, इस मौक़े पर जानते हैं उनके बारे में कुछ बातें और देखते हैं 10 बेहतरीन गाने.

  • देव साहब का असली नाम धर्मदेव पिशोरीमल आनंद था.
  • देव आनंद की पहली कलर फिल्म गाइड थी.
  • 1946 में पहली फिल्म हम एक हैं की शूटिंग के दौरान देव साहब की दोस्ती गुरुदत्त से हुई. दोनों में तय हुआ था कि दोनों में से जो पहले सफल होगा, वो दूसरे की करियर बनाने में मदद करेगा. सफल होने के बाद देव आनंद ने अपनी फिल्म बाज़ी के निर्देशन की ज़िम्मेदारी गुरुदत्त को सौंपी और फिल्म सुपरहिट रही.
  •  फैशन आइकॉन माने जाने वाले देव साहब ने बॉलीवुड में व्हाइट शर्ट और ब्लैक कोट का ट्रेंड शुरू कर दिया था. हर शख़्स उन्हें फॉलो करने लगा था. एक ऐसा भी वक़्त आया जब सार्वजनिक स्थानों पर उनके ब्लैक कोट में जाने पर कोर्ट ने प्रतिबंध लगा दिया गया था, क्योंकि लड़कियां उनके इस लुक की दिवानी होती जा रही थीं.
  • देव आनंद के लिए फिल्मों में करियर बनाना आसान नहीं था. जब वो मुंबई आए थे तब उनके पास केवल 30 रुपए थे. मुंबई में टिके रहने के लिए उन्होंने मिलिट्री सेंसर ऑफिस में लिपिक की नौकरी कर ली, जहां वो सैनिकों की चिट्ठियों को उनके परिवार वालों को पढ़कर सुनाते थे. इसके लिए उन्हें 165 रुपए सैलरी मिलती थी, जिसमें से 45 रुपए वो घर भेजते थे और बाक़ी से महीना गुज़ारते थे.

फिल्म- हम दोनों

फिल्म- तेरे घर के सामने

यह भी पढ़ें: नवरात्र में मां दुर्गा की आराधना करें बॉलीवुड के 11 गरबा के गानों के साथ 

फिल्म- ज्वैलथीफ

फिल्म- प्रेम पुजारी 

यह भी पढ़ें: 67 की हुईं शबाना आज़मी, पहली ही फिल्म में मिला था नेशनल अवॉर्ड, जानें दिलचस्प बातें 

फिल्म- तीन देवियां

फिल्म- सोलवां साल

फिल्म- हरे रामा हरे कृष्णा

फिल्म- जॉनी मेरा नाम

फिल्म- पेइंग गेस्ट

फिल्म- गैम्बलर

 

 

हैप्पी बर्थडे ज़ीनत अमान, बॉलीवुड की ‘लैला’ के टॉप 11 गाने (Happy Birthday Zeenat Aman, Top 11 songs)

ज़ीनत अमान (zeenat Aman) को भला कौन नहीं जानता. बॉलीवुड की सबसे हॉट ऐक्ट्रेस मानी जाती थीं ज़ीनत. 70 के दशक में उन्हें सेक्स सिंबल का ख़िताब भी मिला था. इसी साल ज़ीनत ने मिस एशिया पेसिफिक का ताज भी अपने नाम कर लिया था. जर्मनी से आईं ज़ीनत अमान ने शुरुआती दौर में मीडिया में भी काम किया, लेकिन फिर उन्होंने बॉलीवुड का रुख किया. बॉलीवुड में जगह बनाना ज़ीनत के लिए इतना आसान नहीं था, कुछ फिल्में फ्लॉप होने के बाद उन्होंने जर्मनी लौटने का मन बना लिया था, लेकिन तभी उनकी लाइफ में आया टि्वस्ट और देव आनंद की नज़र उन पर पड़ी, फिर क्या था हरे रामा हरे कृष्णा फिल्म ने उन्हें बना दिया स्टार. उसके बाद आई यादों की बारात, डॉन, सत्यम शिवम सुंदरम जैसी कई फिल्मों ने उन्हें स्टार के तौर पर कायम रखा.

65 साल की हो गई हैं ज़ीनत. मेरी सहेली (MERI SAHELI) की ओर से ज़ीनत को ए वेरी हैप्पी बर्थडे. आइए, इस मौक़े पर आपको दिखाते हैं, बॉलीवुड की इस लैला के टॉप 11 गाने.

फिल्म- कुर्बानी (1980)

फिल्म- हरे रामा हरे कृष्ण (1971)

फिल्म- सत्यम शिवम सुंदरम (1978)

फिल्म- यादों की बारात (1973)

फिल्म- द ग्रेट गैम्ब्लर (1979)

फिल्म- कुर्बानी (1980)

फिल्म- पुकार (1983)

फिल्म- अजनबी (1974)

फिल्म- हीरा पन्ना (1973)

फिल्म- डॉन (1978)

फिल्म- अब्दुल्ला (1980)

 

 

 

हैप्पी बर्थ डे देव साहब…जानें देव आनंद के बारे में 5 बातें (Happy Birthday Dev sahab…5 unknown facts about Dev Anand)

हर फिक्र को धुएं में उड़ाने वाले रोमांटिक हीरो देव आनंद का आज जन्मदिन है. सभी के पसंदीदा देव साहब का जन्म 26 सितंबर 1923 को हुआ. देव साहब ने अपने 65 साल करियर में तकरीबन 114 फ़िल्मों में अभिनय किया और अपनी ज़िंदादिली से उन्होंने न सिर्फ अपने फैन्स, बल्कि पूरी फिल्म इंडस्ट्री के दिलों पर राज किया. भले ही देव साहब हमारे बीच नहीं, लेकिन उनकी यादें सबके साथ हैं. आइए, इस मौक़े पर जानते हैं उनके बारे में कुछ बातें.1

  • देव साहब का असली नाम धर्मदेव पिशोरीमल आनंद था.
  • देव आनंद की पहली कलर फिल्म गाइड थी.
  • 1946 में पहली फिल्म हम एक हैं की शूटिंग के दौरान देव साहब की दोस्ती गुरुदत्त से हुई. दोनों में तय हुआ था कि दोनों में से जो पहले सफल होगा, वो दूसरे की करियर बनाने में मदद करेगा. सफल होने के बाद देव आनंद ने अपनी फिल्म बाज़ी के निर्देशन की ज़िम्मेदारी गुरुदत्त को सौंपी और फिल्म सुपरहिट रही. 
  •  फैशन आइकॉन माने जाने वाले देव साहब ने बॉलीवुड में व्हाइट शर्ट और ब्लैक कोर्ट का ट्रेंड शुरू कर दिया था. हर शख़्स उन्हें फॉलो करने लगा था. एक ऐसा भी वक़्त आया जब सार्वजनिक स्थानों पर उनके ब्लैक कोर्ट में जाने पर कोर्ट ने प्रतिबंध लगा दिया गया था, क्योंकि लड़कियां उनके इस लुक की दिवानी होती जा रही थीं.
  • देव आनंद के लिए फिल्मों में करियर बनाना आसान नहीं था. जब वो मुंबई आए थे तब उनके पास केवल 30 रुपए थे. मुंबई में टिके रहने के लिए उन्होंने मिलिट्री सेंसर ऑफिस में लिपिक की नौकरी कर ली, जहां वो सैनिकों की चिट्ठियों को उनके परिवार वालों को पढ़कर सुनाते थे. इसके लिए उन्हें 165 रुपए सैलरी मिलती थी, जिसमें से 45 रुपए वो घर भेजते थे और बाक़ी से महीना गुज़ारते थे.