devotional

Bollywood Devotional Songs

जब भी किसी इंसान पर मुसीबतों का पहाड़ टूट पड़ता है या वो दुःखों से घिर जाता है, तब उसे केवल ऊपरवाले का ख़्याल आता है. अपने दुःखों से पार पाने के लिए भगवान का दरबार ही नज़र आता है. बॉलीवुड ने हमें कई ऐसे भजन और भक्ति गीत दिए हैं, जिन्हें सुनकर और गाकर कुछ क्षणों के लिए हम अपने सारे दुःख भूल जाते हैं और मन में विश्वास की एक नई ज्योति जल उठती है. हमारी भक्ति को शक्ति देनेवाले ऐसे ही बॉलीवुड के टॉप १० भक्ति गीत हम यहां लेकर आए हैं. तो आइए आप भी इन गीतों के ज़रिए अपने आराध्य प्रभु को याद कर लें.

ऐ मालिक तेरे बंदे हम, फिल्म- दो आंखें बारह हाथ

मैं तो आरती उतारूं रे संतोषी माता की, फिल्म- जय संतोषी मां

राम सिया राम सिया राम जय जय राम, फिल्म- गीत जाता चल

यहां-वहां जहां-तहां मत पूछो कहां-कहां, फिल्म- जय संतोषी मां

तूने मुझे बुलाया शेरावालिये, फिल्म- आशा

जय जय नारायण नारायण हरि हरि, फिल्म- हरि दर्शन

गोविन्द बोलो हरी गोपाल बोलो, फिल्म- जॉनी मेरा नाम

पिया हाजी अली, फिल्म- फ़िज़ा

ओ पालनहारे, फिल्म- लगान

देवा श्री गणेशा, फिल्म- अग्निपथ

– अनीता सिंह

नवरात्रि पर विशेष: आरती... मां अम्बे की
नवरात्रि पर विशेष: आरती… मां अम्बे की (Navratri Special: Ma Ambe Ki Aarti)

मां अम्बे की आरती

ॐ जय अम्बे गौरी, मैया जय श्यामा गौरी
तुम को निशदिन ध्यावत हरि ब्रह्मा शिवरी. ॐ जय अम्बे…

मांग सिंदूर विराजत टीको मृगमद को
उज्जवल से दो नैना चन्द्र बदन नीको. ॐ जय अम्बे…

कनक समान कलेवर रक्ताम्बर राजे
रक्त पुष्प दल माला कंठन पर साजे. ॐ जय अम्बे…

केहरि वाहन राजत खड़्ग खप्पर धारी
सुर-नर मुनिजन सेवत तिनके दुखहारी. ॐ जय अम्बे…

कानन कुण्डल शोभित नासग्रे मोती
कोटिक चन्द्र दिवाकर राजत सम ज्योति. ॐ जय अम्बे…

शुम्भ निशुम्भ विडारे महिषासुर धाती
धूम्र विलोचन नैना निशदिन मदमाती. ॐ जय अम्बे…

चण्ड – मुंड संहारे सोणित बीज हरे
मधु कैटभ दोऊ मारे सुर भयहीन करे.ॐ जय अम्बे…

ब्रह्माणी रुद्राणी तुम कमला रानी
आगम निगम बखानी तुम शिव पटरानी. ॐ जय अम्बे…

चौसठ योगिनी मंगल गावत नृत्य करत भैरु
बाजत ताल मृदंगा और बाजत डमरु. ॐ जय अम्बे…

तुम ही जग की माता तुम ही हो भर्ता
भक्तन की दुःख हरता सुख सम्पत्ति कर्ताॐ जय अम्बे…

भुजा चार अति शोभित वर मुद्रा धारी
मन वांछित फ़ल पावत सेवत नर-नारी. ॐ जय अम्बे…

कंचन थार विराजत अगर कपूर बाती
श्रीमालकेतु में राजत कोटि रत्न ज्योति. ॐ जय अम्बे…

श्री अम्बे जी की आरती जो कोई नर गावे
कहत शिवानंद स्वामी सुख संपत्ति पावे. ॐ जय अम्बे…

यह भी पढ़ें: धार्मिक कार्यों में शंख बजाने की परंपरा क्यों है?