dhaakad

dhakaad_sm_fb_650_112316103057 (1)आमिर की छोरियां वाक़ई छोरों से कम ना हैं. आमिर की छोरियां तो धाकड़ हैं. अखाड़े में लड़कों को उठा-उठाकर पटक रही हैं. दंगल फिल्म का दूसरा गाना रिलीज़ हो गया है, जो पहले गाने हानिकारक बापू… की ही तरह काफ़ी दमदार है. पहले गाने में आमिर अपनी दोनों बेटियों को पहलवानी की ट्रेनिंग करवाते नज़र आए थे, जबकि इस गाने में उस ट्रेनिंग का असर नज़र आ रहा है. गाने के बीच-बीच में कई इंट्रेस्टिंग डायलॉग्स भी सुनने को मिलेंगे, जैसे बस, छोरी समझ के न लड़ियो… इस गाने को लिखा है अमित भट्टाचार्या ने, गाया है रफ़्तार ने और इसे कंपोज़ किया है प्रीतम ने. आप भी देखें दंगल का ये दमदार गाना.