dharmendra

धर्मेंद फिल्मों से भले ही दूर हों, लेकिन सोशल मीडिया पर अपने फैन्स के साथ बेहद एक्टिव रहते हैं. आज उन्होंने सभी को एक ख़ुशख़बरी दी कि वे गरम धरम ढाबा की कामयाबी के बाद एक और रेस्टॉरेंट ओपन करने जा रहे हैं. इसका शुभारंभ प्यारभरे दिन यानी वेलेंटाइन डे को होगा.

He-Man

ही-मैन नाम का यह ढाबा करनाल हाईवे पर स्थित है. 14 फरवरी के दिन सुबह साढ़े दस बजे इसका उद्धाटन होगा. उनके अनुसार, खेतों से सीधे भोजन के टेबल की परिकल्पना वाले इस रेस्टॉरेंट की सबसे बड़ी ख़ासियत लज़ीज़ भोजन है. अब गरम धरम ढाबा के बाद ही-मैन होटल के स्वाद का भी लुत्फ़ उठाने का मौक़ा मिलेगा.

इन दिनों छोटे पर्दे पर भी धरमजी को काफ़ी देखा गया. वे इंडियन आइडियल के कई एपिसोड में दिखाई दिए. कभी आशा पारेख के साथ बीते कल में खो जाते, तो कभी अपनी फिल्मों के गानों पर ख़ुशी से उनकी आंखें भर आतीं. वे शो के कंटेस्टेंट बच्चों की हौसलाअफ़जाई भी ख़ूब करते.

He-Man

वैसे धरमजी अपने फार्म हाउस पर अपना अधिक समय बिताते हैं. वहां से वे अक्सर खेत, ख़ूबसूरत घर, जिम, अपनी कही-अनकही बातें, यादों को शेयर करते रहते हैं. उनका प्यार सभी के लिए उमड़ता रहता है.

अपने गांव, खेती, फार्म हाउस से जुड़े ख़ास मौक़ों को वे शेयर करते समय दिल को छू जानेवाले बातें भी करते हैं. कभी वे खेती करते दिखते, तो कभी पोते को घर में वर्कआउट करते सराहते, अपनों के साथ ख़ुशी के पल बांटते, तो कभी अपने खेत की उगी सब्ज़ियों व फलों को देख बच्चों जैसे उत्साहित हो जाते. उन्होंने अपनी बेटी ईशा को भी खेतों की फल व सब्ज़ियां भेजी थीं.

dharmendra and esha deol

पिता की तरह उनकी बेटी ईशा देओल भी समय-समय पर कुछ-न-कुछ नया करती रहती हैं. अब उन्होंने लेखनी की तरफ़ एक कदम बढ़ाया है. अपनी किताब अम्मा मिया के ज़रिए उन्होंने मां बननेवाली महिलाओं को ख़ूबसूरत तोहफ़ा दिया है. इस बुक में गर्भवती महिलाओं के प्रेग्नेसी के सफ़र, बच्चों से जुड़ी हर छोटी-सी-छोटी जानकारी, कहानियां, सलाह, रेसिपीज़ यानी हर वो चीज़ जो एक मां बननेवाली महिला को ज़रूरत होती है शामिल की है. उनके ख़ुद के अनुभवों को भी साझा किया है.

View this post on Instagram

Pre-order link in my bio As I make my foray into writing with my first book AMMA MIA!!! It’s on a subject that is very close to my heart—parenting. They say becoming a mother is one of the most beautiful experiences a woman goes through, and with the grace of God, I’m glad to have experienced it twice over. Raising my two daughters—Radhya and Miraya—is nothing short of an adventure and through the book I want to share with new mothers the exciting and overwhelming joyride I’ve been on since becoming a first-time mom and all the tears, laughter and drama that comes along with it. #ammamia is a book from one mother to another and I hope the book acts as a best friend and guide for all new mommies out there. I’m ecstatic to be a part of the @penguinindia Penguin family and have my daughters to thank for turning me into an author as well! My heartfelt thanks to Jaya aunty ( bachchan) for writing such a wonderful foreword for my debut book ! @subisamuel thank you for the fantastic book cover ! #ammamia #parenting #lifehacks #motherhood #firstbook #eshadeol #babyfood #recipes #radhyatakhtani #mirayatakhtani outfits by @pinkishaarora

A post shared by Esha Deol (@imeshadeol) on

इसका मुखपृष्ठ भी बेहद आकर्षक है, जिसमें ईशा अपनी दोनो बेटियों के साथ ख़ूबसूरत अंदाज़ में बैठी हैं. इस किताब की प्रस्तावना अभिनेत्री जया बच्चन ने लिखी है. ईशा ने सभी मांओं के लिए इस बुक को एक सहेली यानी अच्छा साथी बताया है. कलाकारों ने भी उन्हें इस सेकंड इनिंग की बधाइयां दीं. इसमें टॉप पर तुषार कपूर रहे. अर्जुन रामपाल ने भी बधाई देते हुए इसे अपने सोशल मीडिया पर शेयर किया. हमारी तरफ़ से भी धरमजी और ईशा देओल को ढेर सारी बधाइयां. क्यों न धर्मेंद्रजी की खेत, फार्म हाउस, ढाबे की कहानी को तस्वीरों के ज़रिए देखा जाए और उन पलों का साक्षी बना जाए.

dharmendra

dharmendra dharmendra dharmendra dharmendra dharmendra

dharmendra dharmendra dharmendra dharmendra

यह भी पढ़ेअपनी रिसेप्शन पार्टी में काम्या पंजाबी ने जमकर लगाए ठुमके, देखें पिक्स व वीडियोज़ (Kamya Panjabi Wedding Reception: Just-Married Kamya And Shalabh Dance To Dhol Beats With Son Ishaan )

हिंदी (Hindi) हमारी आन-बान-शान है. देश की आज़ादी से लेकर आपसी लगाव और एकता में भी हिंदी ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है. दिलों को जोड़ने में हिंदी फिल्मों (Hindi Films) का भी बहुत योगदान रहा है. देश-विदेश यानी एक तरह से पूरी दुनिया को हिंदी फिल्मों ने एक सूत्र में बांधा है.

Hindi Diwas Special

हमारे हिंदी फिल्मों के सितारों को विश्‍वभर में प्यार-अपनापन मिला है. फिर चाहे वो अमिताभ बच्चन हो, रितिक रोशन, अक्षय कुमार, शाहरुख, आमिर, सलमान ही क्यों न हो. फिल्मों ने भी हिंदी के प्रचार-प्रसार में अहम् भूमिका निभाई है. हिंदी की सरलता, चुटीली शैली और हास्य व्यंग्य ने भी सभी का ख़ूब मनोरंजन किया है. आइए, ऐसे ही कुछ फिल्मों पर एक नज़र डालते हैं…

Hindi Diwas Special

* अमिताभ-जया बच्चन, धर्मेंद्र, शर्मिला टैगोर, ओमप्रकाश अभिनीत ‘चुपके-चुपके’ फिल्म आज भी हिंदी के मज़ेदार प्रयोग के कारण सभी को ख़ूब हंसाती है. फिल्म में धर्मेंद का शुद्ध हिंदी वार्तालाप सुन हर कोई हंसी से लोटपोट हो जाता है. साथ ही ओमप्रकाशजी की प्रतिक्रियाएं सोने पे सुहागा का काम करती हैं.

Hindi Diwas Special

* अमोल पालेकर-उत्पल दत्त की हास-परिहास से भरपूर ‘गोलमाल’ ने हर दौर में दर्शकों को हंसने के मौक़े दिए हैं. इसमें भी अन्य साथी कलाकारों ओमप्रकाश, बिंदिया गोस्वामी, दीना पाठक, युनुस परवेज ने भी भरपूर साथ दिया. फिल्म में हिंदी के महत्व के साथ-साथ इसकी उपेक्षा की ओर भी लोगों का ध्यान आकर्षित किया गया.

Hindi Diwas Special

* अक्षय कुमार की ‘नमस्ते लंदन’ में तो भारत देश के महत्व, हिंदी पर गौरव, हिंदी भाषा, हमारी संस्कृति, सभ्यता को बेहतरीन ढंग से महिमामंडित किया गया. फिल्म के एक दृश्य में तो अक्षय कुमार भारत की आन, परिवेश, महत्व की अपनी हिंदी में कही गई बात को लंदन में अंग्रेज़ों को कैटरीना कैफ के ज़रिए अंग्रेज़ी में जतला कर उन्हें करारा जवाब देते हैं.

Hindi Medium

* हिदी मीडियम फिल्म ने तो हिंदी के प्रति हमारे सौतेले व्यवहार पर ही हास्य के रूप में ही सही सशक्त व्यंग्य किया है. इसमें इरफान ख़ान व सबा कमर ने उम्दा अभिनय के ज़रिए दर्शकों का भरपूर मनोरंजन किया.

Hindi Diwas Special

साल १९१८ में महात्मा गांधीजी ने हिंदी साहित्य सम्मेलन में हिंदी भाषा को राष्ट्रभाषा बनाने पर ज़ोर दिया था. उन्होंने इसे जनमानस की भाषा भी कहा था. आख़िरकार फिर १४ सितंबर, १९४९ के दिन हिंदी को राजभाषा का दर्जा मिल. तब से हर साल यह दिन ‘हिंदी दिवस’ के रूप में मनाया जाता है.

हिंदी है हम!…

कल रात यानी 24 दिसंबर को कॉमेडी किंग कपिल शर्मा (Kapil Sharma) और उनकी पत्नी (Wife) गिन्नी चतरथ (Ginni Chatrath) ने इंडस्ट्री फ्रेंड्स के लिए मुंबई में शानदार रिसेप्शन पार्टी (Reception Party) का आयोजन किया, जिसमें बॉलीवुड और टीवी जगत के दिग्गज शामिल हुए. इस ख़ास अवसर पर कपिल शर्मा ने ब्लैक कलर का बंदगला सूट और गिन्नी ने पेस्टल ब्लू कलर का शिमरी गाउन पहन रखा था. आपको याद दिला दें कि  कपिल और गिन्नी ने इसी महीने जालंधर में शादी की थी. पंजाब में दो रिसेप्शन करने के बाद उन्होंने कल ग्लैमर वर्ल्ड से जुड़े फ्रेंड्स के लिए पार्टी का आयोजन किया. जिसमें बड़े और छोटे पर्दे के सितारों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया.  इस रिसेप्शन में दीपिका पादुकोण, रणवीर सिंह, करण जौहर, कार्तिक आर्यन, कृति सेनन, रेखा, अनिल कपूर, फराह खान, सोनू सूद, रवीना टंडन, धर्मेंद्र, जीतेंद्र, सोहेल खान, सलीम खान, टेनिस स्टार साइना नेहवाल और अन्य सेलेब्स भी यहां मौजूद रहे.

पार्टी के होस्ट कपिल शर्मा और उनकी पत्नी गिन्नी

Kapil And Ginni Reception

पार्टी के प्रमुख आकर्षण दीपिका पादुकोण और रणवीर सिंह

Kapil And Ginni Reception

एवरग्रीन स्टार्स धर्मेन्द्र और जितेन्द्र

Kapil And Ginni Reception

अमीषा पटेल

Kapil And Ginni Reception

अर्चना पूरन सिंह और उनके पति परमीत सेठी 

Kapil And Ginni Reception

भारती सिंह अपने पति के साथ

Kapil And Ginni Reception

दिव्या दत्ता

Kapil And Ginni Reception

फरहा ख़ान सोनू सूद और अपारशक्ति खुराना के साथ

Kapil And Ginni Reception

गुरमीत चौधरी  अपनी पत्नी देबलीना के साथ

Kapil And Ginni Reception

जयभानुशाली अपनी पत्नी के साथ

Kapil And Ginni Reception

करण जौहर

Kapil And Ginni Reception

कार्तिक आर्यन

Kapil And Ginni Reception

कीकू शारदा अपनी पत्नी के साथ

Kapil And Ginni Reception

कृष्णा अभिषेक अपनी पत्नी और बच्चों के साथ

Kapil And Ginni Reception

राहुल महाजन अपनी पत्नी के साथ 

Kapil And Ginni Reception

टीवी स्टार रश्मि देसाई

Kapil And Ginni Reception

मशहूर डायरेक्टर विशाल भारद्वाज और उनकी पत्नी 

Kapil And Ginni Reception

बॉलीवुड एक्ट्रेस उर्वशी रौतेला

Kapil And Ginni Reception

टेनिस प्लेयर सायना नेहवाल

Kapil And Ginni Reception

रवीना टंडन और उनके पति

Kapil And Ginni Reception

रेखा और कृति सन

Kapil And Ginni Reception

सलमान के पिता सलीम और उनके भाई सोहेल ख़ान

Kapil And Ginni Reception

वरीना हुसैन 

Kapil And Ginni Reception

ये भी पढ़ेंः 2018 में ये फिल्में हुईं बुरी तरह फ्लॉप (Check Out The Biggest Flops Of 2018)

 

 

पैरेंटिंग एक बहुत बड़ी ज़िम्मेदारी होती है, ख़ासतौर से टीनएजर्स को संभालना सचमुच में एक बड़ी चुनौती है. बच्चे जब बड़े हो रहे होते हैं, तो न स़िर्फ बच्चे बदलाव के दौर से गुज़रते हैं, बल्कि पैरेंट्स के मन में भी बहुत कुछ चलता रहता है. जब वो देखते हैं कि बच्चे उनसे ज़्यादा दोस्तों के साथ व़क्त बिता रहे हैं, उनका कम्युनिकेशन भी कम हो रहा है, तो पैरेंट्स भी सोच में पड़ जाते हैं. यह कंफ्यूज़न दोनों जगह होता है.


इसी कंफ्यूज़न के चलते बच्चे और पैरेंट्स में कुछ अलग-सी भावनाएं कभी-कभार पनपने लगती हैं. पैरेंट्स को लगता है कि बच्चा कहीं भटक न जाए, हमसे दूर न हो जाए, वहीं बच्चों को लगता है कि पैरेंट्स उन्हें समझने की कोशिश ही नहीं करते. ऐसे में कभी बेहिसाब प्यार, कभी ईर्ष्या, कभी असुरक्षा की भावना और भी न जाने क्या-क्या मन में घर करने लगती है. यही वो समय होता है, जब पैरेंट्स को धैर्य रखना चाहिए और मैच्योरिटी से काम लेना चाहिए.
मैं अपना अनुभव बताती हूं, जब मेरी बच्चियां मेरे होते हुए किसी और के साथ समय बितातीं, तो मन आहत होता… कभी उन्हें किसी और के साथ जुड़ता देख जलन भी होती… तो कभी उनकी कामयाबी में ख़ुशी के साथ-साथ कई तरह की आशंकाएं भी पनपतीं… पैरेंटिंग आसान नहीं होती, बहुत कुछ असहज होते हुए भी आपको सहजता दिखानी पड़ती है. भले ही मन में अपनों के दूर हो जाने का डर पनपता हो, लेकिन मेरा अनुभव यही कहता है कि अपने कभी दूर होते ही नहीं, वो लौटकर ज़रूर आते हैं…

यह भी पढ़ें: हेमा मालिनी… मां बनना औरत के लिए फख़्र की बात होती है 

दरअसल, ग्लोबलाइज़ेशन के इस दौर में एक्सपोज़र इतना ज़्यादा है कि टीनएजर्स को संभालना थोड़ा मुश्किल हो जाता है. हां, मैं भी गुज़री हूं इस अनुभव से, लेकिन इस अनुभव से मैंने जाना कि कुछ समय के लिए बच्चे भले ही भटक या बहक जाएं, लेकिन वो हमसे दूर कभी नहीं जाते. यदि हमारे घर के संस्कार सही हैं, तो बच्चे बाहर की दुनिया से इन्फ्लूएंस नहीं होते. वो कुछ समय के लिए यदि चकाचौंध की गिरफ़्त में आ भी जाएं, तो हमारे संस्कार उन्हें फिर सही राह पर ले आते हैं… इसलिए बच्चों को सही परवरिश और सही संस्कार देना बहुत ज़रूरी है. दोस्तों के साथ पार्टी, मौज-मस्ती ये सब एक उम्र तक होता है, फिर बच्चे हमारी तरह ही एक नॉर्मल लाइफ जीने लगते हैं. आप उन्हें जितना रोकेंगे, वो उतने ही रिबेलियस बन जाएंगे. विद्रोह पर उतर आएंगे, इसलिए उन्हें उनका स्पेस देना ही पड़ता है. आप अपने टीनएजर्स पर बहुत ज़्यादा रोक-टोक नहीं लगा सकते, उन्हें बहुत ज़्यादा डांट भी नहीं सकते, क्योंकि उस व़क्त उन्हें आपकी बातें उपदेश लगती हैं, उस समय पैरेंट्स को बहुत बैलेंस होकर चलना पड़ता है. लेकिन जब वो इस उम्र से बाहर निकल जाते हैं, तो फिर सब कुछ नॉर्मल हो जाता है. बच्चों को भी महसूस होता है कि उनका व्यवहार सही नहीं था. फिर वो ख़ुद को बदल देते हैं और पैरेंट्स के लिए भी लाइफ आसान हो जाती है.
यह एक छोटा-सा दौर होता है, जो समय के साथ गुज़र जाता है, हां, ज़रूरी है कि इस दौर में आप ख़ुद को संतुलित रखें और बच्चों को मैच्योरिटी के साथ हैंडल करें.

यह भी पढ़ें: हेमा मालिनी… हां, सपने पूरे होते हैं…! देखें वीडियो

बॉलीवुड के ऐक्शन किंग और ही मैन कहे जाने वाले धरम पाजी (Dharam Paji) यानी कि धर्मेंद्र (Dharmendra) हो गए हैं 82 साल के. लेकिन उनकी फिटनेस देखकर कौन कहेगा कि वो 82 साल के हो गए हैं. धर्मेंद्र का एक आम इंसान से सुपरस्टार बनने का सफ़र बेहद ही रोचक रहा है.Happy birthday Dharmendraउनका जन्म 8 दिसंबर, 1935 को पंजाब में हुआ था. गांव में ही उन्होंने पढ़ाई गांव के ही स्कूल से की थी. उनका पूरा नाम धरम सिंह देओल (Dharam Singh Deol) है. उनकी पहली शादी तब हो गई थी, जब वो केवल 19 साल के थे. फिल्मों में काम करने से पहले धर्मेंद्र रेलवे में क्लर्क थे और उन्हें सवा सौ रुपए सैलरी मिलती थी.

फिल्मफेयर का टैलेंट अवॉर्ड जीतकर धर्मेंद्र मुंबई आ गए और फिल्मों में स्ट्रगल करने लगे. विवाहित होने की वजह से उन्हें फिल्में मिलने में काफ़ी दिक़्कते आईं, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी. धर्मेन्द्र की पहली फिल्म थी दिल भी तेरा हम भी तेरे, आपको जानकर आश्चर्य होगा कि फिल्म के प्रीमियर पर धर्मेन्द्र को किसी ने नहीं पहचाना और ग़ुस्से में वो ट्रेन से घर चले गए थे. फिल्म अनपढ़ और बंदिनी से उन्हें पहचान मिली. फिल्मों में शुरुआत में उनकी छवि एक रोमांटिक हीरो की थी, लेकिन फूल और पत्थर, धरम वीर, चरस, आज़ाद और शोले ने उन्हें एक्शन हीरो बना दिया. आज भी धरम पाजी का अंदाज़ उनके फैन्स पसंद करते हैं. फिल्मों में उनकी दूसरी पारी को भी पसंद किया गया.

मेरी सहेली (Meri Saheli) की ओर से धर्मेंद्र को ढेरों शुभकामनाएं.

गरम-धरम कहे जाने वाले धरम पाजी के डायलॉग्स बोलने का अंदाज़ दमदार और डांस की अदा अलग थी. आइए, उनके जन्मदिन के मौक़े पर देखते हैं उनके 10 फेमस गाने.

फिल्म- लोफर

https://www.youtube.com/watch?v=8SXXGD1_rTU

फिल्म- ब्लैकमेल

यह भी पढ़ें: Unseen Pics: मनीष मल्होत्रा की बर्थडे पार्टी में दिखा फिल्मी जलवा 

फिल्म- बहारें फिर भी आएंगी

https://www.youtube.com/watch?v=GQblX2TmEZI

फिल्म- प्रतिजा

फिल्म- शालीमार

फिल्म- दोस्त

https://www.youtube.com/watch?v=tLaYQzGntdw

फिल्म- मेरा गांव मेरा देश

https://www.youtube.com/watch?v=oK3E-YXEIXE

फिल्म- जुगनू

https://www.youtube.com/watch?v=TPopE3_ycjM

फिल्म- चरस

फिल्म- शोले

बॉलीवुड के ऐक्शन किंग और ही मैन कहे जाने वाले धरम पाजी यानी कि धर्मेंद्र हो गए हैं 81 साल के. लेकिन उनकी फिटनेस देखकर कौन कहेगा कि वो 81 साल के हो गए हैं. धर्मेंद्र का एक आम इंसान से सुपर स्टार बनने का सफ़र बेहद ही रोचक रहा है. Dharmendraउनका जन्म 8 दिसंबर, 1935 को पंजाब में हुआ था. गांव में ही उन्होंने पढ़ाई गांव के ही स्कूल से की थी. उनका पूरा नाम धरम सिंह देयोल है. उनकी पहली शादी तब हो गई थी जब वो केवल 19 साल के थे. फिल्मों में काम करने से पहले धर्मेंद्र रेलवे में क्लर्क थे और उन्हें सवा सौ रुपए सैलरी मिलती थी.

फिल्मफेयर का टैलेंट अवॉर्ड जीतकर धर्मेंद्र मुंबई आ गए और फिल्मों में स्ट्रगल करने लगे. विवाहित होने की वजह से उन्हें फिल्में मिलने में काफ़ी दिक़्कते आईं, लेकिन उन्होंने हार नहीं मानी. धर्मेन्द्र की पहली फिल्म थी दिल भी तेरा हम भी तेरे, आपको जानकर आश्चर्य होगा कि फिल्म के प्रीमियर पर धर्मेन्द्र को किसी ने नहीं पहचाना और ग़ुस्से में वो ट्रेन से घर चले गए थे. फिल्म अनपढ़ और बंदिनी से उन्हें पहचान मिली. फिल्मों में शुरुआत में उनकी छवि एक रोमांटिक हीरो की थी, लेकिन फूल और पत्थर, धरम वीर, चरस, आज़ाद और शोले ने उन्हें एक्शन हीरो बना दिया. आज भी धरम पाजी का अंदाज़ उनके फैन्स पसंद करते हैं. फिल्मों में उनकी दूसरी पारी को भी पसंद किया गया.

मेरी सहेली (Meri Saheli) की ओर से धर्मेंद्र को ढेरों शुभकामनाएं.

गरम-धरम कहे जाने वाले धरम पाजी के डायलॉग्स बोलने का अंदाज़ दमदार और डांस की अदा अलग थी. आइए, उनके जन्मदिन के मौक़े पर देखते हैं उनके 10 फेमस गाने.

फिल्म- लोफर

https://www.youtube.com/watch?v=8SXXGD1_rTU

फिल्म- ब्लैकमेल

फिल्म- बहारें फिर भी आएंगी

https://www.youtube.com/watch?v=GQblX2TmEZI

फिल्म- प्रतिजा

फिल्म- शालीमार

फिल्म- दोस्त

https://www.youtube.com/watch?v=tLaYQzGntdw

फिल्म- मेरा गांव मेरा देश

https://www.youtube.com/watch?v=oK3E-YXEIXE

फिल्म- जुगनू

https://www.youtube.com/watch?v=TPopE3_ycjM

फिल्म- चरस

फिल्म- शोले

https://www.youtube.com/watch?v=3hb_a0wmRxM

होली का हुड़दंग बिना बॉलीवुड के गानों के भला कैसे पूरा हो सकता है. रंग, भांग की मस्ती और मीठी छेड़छाड़ इन सबसे भरपूर गाने जब भी बजते हैं, होली का मज़ा दोगुना हो जाता है. आइए, आपको दिखाते हैं बॉलीवुड के टॉप 5 होली के गाने.

फिल्म- ये जवानी है दिवानी (2013)
फिल्म में रणबीर कपूर और दीपिका पादुकोण का गाना बलम पिचकारी…काफ़ी हिट रहा.

फिल्म- सिलसिला (1981)
अमिताभ बच्चन, रेखा और जया बच्चन स्टारर इस फिल्म का रंग बरसे…गाने के बगैर तो होली अधूरी है. जब तक ये गाना न बजे तब तक होली का रंग नहीं जमता.

फिल्म- कटी पतंग (1970)
आज ना छोड़ेंगे बस हमजोली…खेलेंगे हम होली…राजेश खन्ना और आशा पारेख स्टारर इस गाने में होली का हुड़दंग ख़ूब नज़र आया.

फिल्म- मशाल (1984)
ओ होली आई…होली आई…देखो होली आई रे…दिलीप कुमार, वहीदा रहमान, अनिल कपूर और रती अग्निहोत्री ने इस गाने में जमकर होली खेली है. होली के मौक़े के लिए ये गाना भी एकदम परफेक्ट है.

फिल्म- शोले (1975)
होली के दिन दिल खिल जाते हैं, रंगों में रंग मिल जाते हैं…गिले शिक़वे भूल के दोस्तों, दुश्मन भी गले मिल जाते हैं…बिग बी, धर्मेंद्र, जया बच्चन और हेमा मालिनी स्टारर सुपरहिट फिल्म शोले का ये गाना होली की मस्ती को और बढ़ा देता है.