Tag Archives: Diana Penty

Movie Review: दर्शकों को खूब हंसा रही है ‘हैप्पी’ तो ‘जीनियस’ का नहीं चला जादू (Happy Phirr Bhag Jayegi and Genius Movie Review)

आज फिल्मी फ्राइडे है और सोनाक्षी सिन्हा की हैप्पी फिर भाग जाएगी (Happy Phirr Bhag Jayegi) के साथ फिल्म गदर-एक प्रेमकथा में सनी देओल के बेटे का किरदार निभा चुके उत्कर्ष शर्मा की फिल्म जीनियस (Genius) रिलीज़ हुई है. बता दें कि फिल्म हैप्पी फिर भाग जाएगी साल 2016 में आई फिल्म हैप्पी भाग जाएगी का सिक्वल है, जबकि गदर के डायरेक्टर अनिल शर्मा ने अपने बेटे उत्कर्ष शर्मा को लीड रोल में लेकर फिल्म जीनियस को डायरेक्ट किया है. बॉक्स ऑफिस पर रिलीज़ हुई ये दोनों फिल्में दर्शकों को पसंद आ रही हैं या उन्हें निराश कर रही है, चलिए जानते हैं.

Happy Phirr Bhag Jayegi and Genius Movie

मूवी- हैप्पी फिर भाग जायेगी

डायरेक्टर- मुदस्सर अज़ीज़

स्टार कास्ट- सोनाक्षी सिन्हा, जिम्मी शेरगिल, पीयूष मिश्रा, डेंजिल स्मिथ, डायना पेंटी, अली फ़ज़ल

रेटिंग- 3/5

Happy Phirr Bhag Jayegi

कहानी-

साल 2016 में आई डायरेक्टर मुदस्सर अज़ीज़ की फिल्म हैप्पी भाग जाएगी के बाद, उन्होंने एक बार फिर नई स्क्रिप्ट के साथ हैप्पी फिर भाग जाएगी फिल्म बनाई है. पिछली फिल्म में हैप्पी पाकिस्तान भाग जाती हैं, लेकिन इसके सीक्वल में दो-दो हैप्पी हैं जो चीन का सफर तय करती दिखाई देंगी. फिल्म की कहानी की शुरुआत चीन जा रही प्रोफेसर हरप्रीत कौर (सोनाक्षी सिन्हा) यानी हैप्पी और उनके पति गुड्डू (अली फज़ल) से शुरू होती है. इसी बीच दूसरी हरप्रीत कौर (डायना पेंटी) ऊर्फ हैप्पी भी एक स्टेज शो के लिए चीन के सफर पर निकल जाती हैं.

एयरपोर्ट पर कुछ चीनी किडनैपर दूसरी हैप्पी (डायना पेंटी) को किडनैप करने के लिए आते हैं, लेकिन एक जैसे नाम की वजह से वो पहली हैप्पी (सोनाक्षी सिन्हा) को ग़लती से किडनैप कर लेते हैं. कहानी में पवन सिंह बग्गा (जिम्मी शेरगिल) और पाकिस्तान के अफसर अफरीदी (पीयूष मिश्रा) भी हैप्पी की तलाश में चीन जाते हैं. इस बार फिल्म में मौजूद दोनों हैप्पी को किन-किन परिस्थितियों का सामना करना पड़ता है, यह सब जानने के लिए आपको फिल्म देखनी पड़ेगी.

एक्टिंग- 

इस फिल्म में समय-समय पर आने वाले कॉमेडी के पंच दर्शकों को हंसा-हंसाकर लोटपोट कर सकते हैं. बात करें इस फिल्म के सितारों की तो सोनाक्षी सिन्हा ने अपने किरदार को बखूबी निभाया है. हिंदी-पंजाबी में अपनी डायलॉग डिलीवरी से सोनाक्षी अमृतसर की हरप्रीत कौर को पर्दे पर जीवंत करती दिखाई देती हैं. वहीं जिम्मी शेरगिल और पीयूष मिश्रा के बीच नोकझोंक और कॉमेडी के पंचेस दर्शकों को काफ़ी हंसाते हैं. जस्सी गिल, डायना पेंटी और अली फज़ल जैसे कलाकारों की मौजूदगी इस फिल्म को और भी दिलचस्प बनाती है.

डायरेक्शन-

स्क्रिप्टिंग में डायरेक्टर मुदस्सर अज़ीज़ की मेहनत साफ़ दिखाई देती है. फिल्म की कहानी और उसे पर्दे पर दिखाने का तरीक़ा भी कमाल का है. फिल्म का डायरेक्शन, सिनेमेटोग्राफी और लोकेशंस काफ़ी बढ़िया हैं. फिल्म भले ही चीन पर बेस्ड हो, लेकिन पूरी फिल्म दर्शकों को बेहद ख़ूबसूरती से पटियाला, अमृतसर, दिल्ली, कश्मीर और पाकिस्तान से भी जोड़कर रखती है. फिल्म के राइटर और डायरेक्टर मुदस्सर अज़ीज़ ने पूरी फिल्म में दमदार डायलॉग से भारत-पाकिस्तान और चीन के बीच की पूरी तनातनी पर व्यंग्य भी किया है जो दर्शकों को बहुत हंसाते हैं.

Genius Movie

मूवी- जीनियस

डायरेक्टर- अनिल शर्मा

स्टार कास्ट- उत्कर्ष शर्मा, इशिता चौहान, नवाज़ुद्दीन सिद्दिकी, मिथुन चक्रवर्ती

रेटिंग- 2/5 

कहानी- 

गदर- एक प्रेम कथा, अपने और वीर जैसी फिल्में बनाने वाले डायरेक्टर अनिल शर्मा ने इस बार अपने बेटे उत्कर्ष शर्मा को लीड रोल में लेकर फिल्म जीनियस बनाई है. इस फिल्म की कहानी मथुरा के रहने वाले वासुदेव शास्त्री (उत्कर्ष शर्मा) से शुरू होती है, जो पढ़ाई पूरी करने के बाद भारतीय सुरक्षा एजेंसी रॉ के लिए काम करता है. इसमें नंदिनी (इशिता चौहान) उनकी प्रेमिका का किरदार निभा रही हैं. जब वासुदेव रॉ के लिए काम करते हैं, उसी दौरान उनकी मुलाक़ात दोबारा उनके कॉलेज का प्यार रह चुकीं नंदिनी से होती है. फिल्म की कहानी में दिलचस्प मोड़ तब आता है, जब नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी की एंट्री होती है. ऐसे में वासुदेव के सामने मुश्किल तब आती है जब उसे अपने प्यार या देश की रक्षा में से किसी एक को चुनना पड़ता है. हालांकि पूरी फिल्म के दौरान कई ट्विस्ट और टर्न आते हैं, जिन्हें जानने के लिए आपको सिनेमाघरों का रूख़ करना पड़ेगा.

एक्टिंग-

फिल्म गदर-एक प्रेम कथा में सनी देओल के बेटे का किरदार निभा चुके उत्कर्ष शर्मा इस फिल्म में मुख्य भूमिका निभा रहे हैं. हालांकि उन्होंने फिल्म में अच्छा काम किया है, लेकिन उन्हें अभी एक्टिंग में और निखार लाने की ज़रूरत है. जबकि नवाजुद्दीन सिद्दीकी ने हर बार की तरह इस बार भी अच्छी एक्टिंग की है, बावजूद इसके फिल्म की कमज़ोर कहानी और स्क्रीनप्ले के कारण जीनियस दर्शकों पर अपनी छाप छोड़ने में नाकाम होती दिखाई दे रही है.

डायरेक्शन-

इस दौर के हिसाब से फिल्म की कहानी काफ़ी कमज़ोर है और जिस तरह से इसका डायरेक्शन किया गया है उसमें कोई नयापन नहीं दिखाई दे रहा है. कहानी को पर्दे पर उतारने का तरीक़ा भी काफ़ी पुराना लगता है और इसके क्लाइमेक्स में भी कोई नयापन दिखाई नहीं देता है. वहीं मिथुन चक्रवर्ती जैसे कलाकारों का भी सही तरीक़े से इस्तेमाल इस फिल्म में नहीं किया गया है.

ग़ौरतलब है कि पहले से ही बॉक्स ऑफिस पर जॉन अब्राहम की सत्यमेव जयते, अक्षय कुमार की गोल्ड चल रही है. इसी बीच हैप्पी फिर भाग जाएगी की एंट्री दर्शकों को हंसाने में क़ामयाब होती दिख रही है, ऐसे हालात में जीनियस का जादू दर्शकों पर चल पाना थोड़ा मुश्किल लगता है. अब यह आपको तय करना है कि इस वीकेंड परिवार के साथ आप कौन सी फिल्म देखना पसंद करेंगे.

यह भी पढ़ें: Movie Review: ज़बर्दस्त एक्शन, दमदार डायलॉग्स और सस्पेंस से भरपूर है सत्यमेव जयते (Movie Review Satyameva Jayate)

 

Happy Bhag Jayegi:-पब्लिक रिव्यू- हैप्पी भाग जाएगी

डायना पेंटी, अभय देओल, जिम्मी शेरगिल और अली फज़ल स्टारर फिल्म हैप्पी भाग जाएगी(Happy Bhag Jayegi) थिएटर्स में दर्शक जुटाने में कामयाब रही है. फिल्म देखने के बाद पब्लिक का रिव्यू देखकर इस फिल्म की स्टारकास्ट ज़रूर हैप्पी हो जाएगी. देखिए ये वीडियो.

Abhay Deol, Diana penti, Jimmy Shergill and Ali will be part phazal starrer film Happy Bhag Jayegi managed to mobilize the viewer into movie theaters. After watching the movie public’s review of the film to see starkast sure happy. See these videos.

FILM REVIEW- ‘हैप्पी भाग जाएगी’ है हैप्पी फिल्म

इस शुक्रवार बॉक्स ऑफिस पर एक ही फिल्म रिलीज़ हुई है. पिछले हफ़्ते रिलीज़ हुई ‘रुस्तम’ और ‘मोहनजोदारो’ अब भी थिएटर्स में अच्छी कमाई कर रहे हैं, ऐसे में ‘हैप्पी भाग जाएगी’ को भी ठीक-ठाक ओपनिंग मिली है.1हैप्पी भाग जाएगी को इस साल की ख़ुशमिजाज़ फिल्म कहा जा सकता है, क्योंकि इस साल जो भी फिल्म रिलीज़ हुई हैं वो सीरियस टाइप की रही हैं. ऐसे में ये फिल्म आपके मूड को फ्रेश कर देगी.2फिल्म की कहानी शुरू होती है अमृतसर से जहां हैप्पी यानी डायना पेंटी की शादी की तैयारियां चल रही होती हैं. हैप्पी की शादी होने वाली होती है कॉर्पोरेटर बग्गा यानी जिम्मी शेरगिल से, लेकिन हैप्पी अपनी ही शादी से भाग जाती है, क्योंकि उसे गुड्डू यानी अली फज़ल से प्यार है. पर भागने के चक्कर में हैप्पी पहुंच जाती है पाकिस्तान. दरअसल, लाहौर के बिलाल अहमद (अभय देओल) अपने अब्बा के साथ एक डेलिगेशन में अमृतसर आते है, उसी जगह हैप्पी भी पहुंच जाती है और फलों की टोकरी में छुप जाती है. ये फलों की टोकरी पहुंचती है पाकिस्तान, जहां बिलाल हैप्पी को देखकर दंग रह जाता है. अब जैसा कि फिल्मों में होता है, बिलाल को प्यार हो जाता है हैप्पी से, जबकि बिलाल की मंगतेर भी है. अभय की मंगेतर का किरदार फिल्म में निभा रही हैं पाकिस्तानी ऐक्ट्रेस मोमल शेख, जिन्होंने अच्छा काम किया है. दिल में क्रिकेटर बनने की चाहत, लेकिन अब्बा के प्रेशर की वजह से पॉलिटिक्स में बने रहने की मजबूरी दिखाने में अभय देओल कामयाब रहे हैं.3वैसे इस फिल्म की यूएसपी यही है कि फिल्म में भारत और पाकिस्तान के बीच के दूसरे गंभीर मुद्दों को दिखाने की बजाय कहानी को फिल्म के किरदारों के इर्द-गिर्द रखा है और बड़े ही रोचक तरीक़े से इसे दिखाया गया है.

डायना का किरदार आपको जब वी मेट की गीत की याद दिलाएगा, लेकिन करीना कपूर जैसी ऐक्टिंग की उम्मीद डायना से नहीं की जा सकती है, फिर भी कॉकटेल के बाद डायना की ये वापसी मज़ेदार है. तेज़-तर्रार पंजाबी लड़की के किरदार में डायना अच्छी लग रही हैं.

फिल्म का फर्स्ट हार्फ मज़ेदार है, लेकिन सेंकड हार्फ में फिल्म की गति थोड़ी धीमी हो जाती है.4फिल्म के राइटर और डायरेक्टर मुद्दसर अजीज ने फिल्म को एंटरटेनिंग बनाने में कोई कमी नहीं रखी है. फिल्म में कई ऐसे डायलॉग्स हैं, जो आपको याद रह जाएंगे.

जिम्मी शेरगिल का किरदार उनके तनु वेड्स मनु के किरदार की याद दिलाएगा. अली फज़ल को भी जितना रोल दिया गया है, उसमें वो ठीक लगे हैं. पीयूष मिश्रा पुलिस ऑफिसर के किरदार में जंच रहे हैं.

जहां तक बात है फिल्म के संगीत की, तो फिल्म में ऐसे कई सीन्स हैं, जहां डायलॉग्स के बदले गानों का इस्तेमाल बख़ूबी किया गया है. म्यूज़िक डायरेक्टर सोहेल सेन ने जो बैकग्राउंड स्कोर दिया है, वो काबिले तारीफ़ है. सौरभ गोस्वामी की सिनेमैटोग्राफी की तारीफ़ के बगैर ये रिव्यू पूरा नहीं होगा, उन्होंने बेहद ही ख़ूबसूरती और कन्विंसिंग मैनर में पाकिस्तान को दर्शाने की कोशिश की है.

कुल मिलाकर हैप्पी भाग जाएगी फिल्म के लिए हम यही कह सकते हैं कि अगर आपके पास वक़्त है और आप हंसने के मूड में हैं, तो इस फिल्म को एक बार देखने में कोई हर्ज़ नहीं है.