diwali 2020

पूरे देश के साथ ही पूरा बॉलीवुड भी दीवाली सेलिब्रेट कर रहा है. बॉलीवुड एक्ट्र्स ने भी अपने इन- हाउस दिवाली लुक्स सोशल मीडिया पर शेयर किये हैं, जहां सभी बेहद खूबसूरत दिख रहे हैं. कियारा आडवाणी, शिल्पा शेट्टी से लेकर अनुष्का, नोरा फतेह, कटरीना तक सभी परफेक्ट दीवाली मूड में नज़र आ रहे हैं. आइये देखें इस बार दीवाली में किस स्टार ने क्या पहना.

मलाइका अरोरा
मलाइका ने इस बार दिवाली लुक के लिए अनामिका खन्ना का रेड लहंगा और हैवी चोली सेलेक्ट की थी, साथ में हैवी ज्वैलरी लुक में वो हमेशा की तरह स्टनिंग लग रही थीं. ये फ़ोटो शेयर करते हुए उन्होंने अपने फैन्स को दीवाली की शुभकामनाएं भी दीं और लिखा, दीवाली और धनतेरस के अवसर पर कामना करती हूँ कि आप सबके घर लक्ष्मी का वास हो और कोरोना का नाश हो.

Malaika Arora
Malaika Arora
Malaika Arora



नोरा फतह अली
दिवाली के खास मौके पर नोरा फतेही का यह इंडियन लुक लोगों को खूब पसन्द आ रहा है. अपनी इन तस्वीरों को साझा करते हुए उन्होंने लिखा, “आप सभी को शुभकामनाएं…” लहंगे, बालों में गजरा, गले में हार और हाथ में दीया लिए नोरा फतेही दीवाली लुक में काफी खूबसूरत लग रही हैं.

Nora Fatehi
Nora Fatehi
Nora Fatehi
Nora Fatehi


शिल्पा शेट्टी
शिल्पा शेट्टी ने डिज़ाइनर अनिता डोंगरे का डिज़ाइन किया ट्रेडीशनल आउटफिट सेलेक्ट किया. और खूबसूरत स्माइल के साथ ये फ़ोटो शेयर करते हुए फैंस को दीवाली विश किया.

Shilpa shetty
Shilpa shetty



कियारा आडवाणी
कुछ ऐसा था कियारा आडवाणी का दिवाली लुक. पिंक एथनिक लहंगा, ज्वेलरी और बालों में कर्ल… कियारा के इस खूबसूरत दीवाली लुक ने सबका दिल जीत लिया है.

Kiara Advani
Kiara Advani
Kiara Advani



कटरीना कैफ
दीवाली लुक के लिए कटरीना ने फूशिया पिंक रंग की साड़ी पहनी थी और इस साड़ी में वो कमाल को लग रही थी. सोशल मीडिया पर अपने दीवाली लुक की फ़ोटो शेयर करते हुए कटरीना ने अपने फैन्स के लिए लिखा, ‘प्यार और शुभकामनाएं.’

Katrina Kaif



अनुष्का शर्मा
अनुष्का दीवाली पर ऑफ व्हाइट कलर के बेहद खूबसूरत सलवार कमीज में बेबी बंप फ्लॉन्ट करती नज़र आईं. इस सिंपल से सूट को उन्होंने हेवी ईयरिंग्स के साथ कंबाइन किया था और बहुत ही एलिगेंट लग रही थीं.

Anushka Sharma
Anushka Sharma
Anushka Sharma



कंगना रनौत
कंगना ने दीवाली पर ट्रेडिशनल लुक में अपनी बेहद खूबसूरत फ़ोटो शेयर करते हुए लिखा, “दीपावली के दिन महालक्ष्मी घर आती है, हमारे घर भी देवी आ रही है. आज हमारी भाभी पहली बार अपने घर आ रही है, इस रस्म को अंदरेरा कहते हैं. सबको दीपावली की शुभकामनाएं.”

Kangana Ranaut
Kangana Ranaut



बिपाशा बसु
बिपाशा ने इस बार दीवाली पर येलो ट्रेडिशनल ड्रेस में फोटोज शेयर कीं. लव बर्ड्स करण सिंह ग्रोवर और बिपाशा का ये दीवाली लुक भी लोगों को काफी पसंद आ रहा है.

Bipasha Basu
Bipasha Basu



कार्तिक आर्यन
कार्तिक आर्यन का नया हेयर लुक इन दिनों उनके फैन्स को खूब पसंद आ रहा है. इसके अलावा दीवाली पर उनका ये पारंपरिक अंदाज़ भी फैंस बहुत पसंद कर रहे हैं. दीवाली विश करते हुए उन्होंने अपनी बहन के साथ भी कुछ फोटोज शेयर की हैं और लिखा, ‘दीवाली आ गई, अब सब ठीक हो जाएगा, हैप्पी दीवाली!!’

Karthik aryan
Karthik aryan
Karthik aryan



सलमान खान
बॉलीवुड के सल्लू भी दीवाली पर रेड रंग के कुर्ते में नज़र आये. उन्होंने भी फ़ोटो शेयर करके खास अंदाज में अपने फैंस को दीवाली विश किया, साथ ही सेफ रहने की अपील भी की.

Salman Khan



सारा अली खान
सारा दीवाली पर पर्पल येलो कलर कॉम्बिनेशन में हैवी सलवार चूड़ीदार में नज़र आईं और साथ में हैवी ईयरिंग्स और राजस्थानी मोजड़ी उनके लुक को और भी स्टनिंग बना रहे हैं.

Sara Ali Khan
Sara Ali Khan



जान्हवी कपूर
दिवाली पूजा के लिए जाह्नवी कपूर का ट्रेडिशनल अंदाज नजर आया. येलो साड़ी में जाह्नवी कपूर स्टनिंग लग रही हैं.

Janhvi Kapoor
Janhvi Kapoor

हिंदुओं के त्योहारों में दीपावली का विशेष महत्व है. दीपावली का अर्थ है दीप की अवनी अर्थात पंक्ति का त्योहार. दिवाली 5 दिनों का त्योहार होता है, जो धनतेरस से शुरू होकर नरक चतुर्दशी, लक्ष्मी पूजन, गोवर्धन, अन्नकूट पूजा और भैया दूज तक रहता है. इन सभी दिनों में किस दिन किस तरह से पूजा की जाए, जिससे घर में सुख-समृद्धि और धन लाभ हो, इसके बारे में डॉ. मधुराज वास्तु गुरु ने हमें विस्तारपूर्वक जानकारी दी. वेबसाइट: https://www.madhurajvastuguru.com/

इस दीपावली इन उपायों से महालक्ष्मी देंगी आपके घर पर दस्तक…
इस दीपावली पर कुछ उपाय आपके जीवन में मां लक्ष्मी का आगमन ला सकता है. उसके पहले मां लक्ष्मी के अर्थ को जानना ज़रूरी है. ऐसा क्यों है कि महालक्ष्मी की कृपा हर एक पर नहीं होती, मगर जिस पर होती है, उस पर भरपूर होती है.
इस पर डॉ. मधुराज कहते हैं कि ऐसा इसलिए घटित होता है कि जब हम मां लक्ष्मी की बात करते हैं, तो उनके नाम में ही गहरा अर्थ छुपा हुआ है. लक्ष्मी यानी लक्ष्य पर मेहनत करना ही आपको लक्ष्मी के समीप ले जाता है. इसका तात्पर्य यह है कि आपके घर में लक्ष्मी का आगमन तभी होता है, जब आप अपने जीवन में लक्ष्य पर मेहनत करें.

diwali2020

दीपावली के दिन मां लक्ष्मी का आगमन होता है ऐसा क्यों कहा गया?..
दीपावली के दिन जो मान्यताएं हैं, उनके आधार पर दीपावली आनेवाली होती है, तो सबसे पहले घरों की सफ़ाई शुरू हो जाती है. यानी आप अपने घर को शुद्ध करना शुरू कर देते हैं. अपने घर-भवन को शुद्ध एवं साफ़ करना यानी अपने मनस को शुद्ध एवं साफ़ करना. मन को शुद्ध करना यानी आपके ज़िंदगी से भवन के तल पर, मन के तल पर, मनस के तल पर और शरीर के तल पर गंदगी साफ़ होना.

वास्तु के अनुसार, आपका घर आपका निर्माण करता है…
इसका क्या अर्थ है.. पहला नियम स्वच्छता है. अगर हम उसे हर दिन पालन करते हैं, तो हर दिन दीपावली है. दीपावली के दिन महालक्ष्मी का आना यानी लक्ष्यों पर मेहनत करना और वह वो व्यक्ति कर सकता है, जिसका माइंडसेट हो कि उसे चाहिए क्या? यानी आपको यह पता होना चाहिए कि आपको जीवन में क्या चाहिए. यदि किसी व्यक्ति का मन ही स्थिर ना हो और ना ही इस बात के लिए माइंडसेट हो कि उसे चाहिए क्या, तो भला उस पर मां लक्ष्मी कैसे प्रसन्न हो सकती हैं?
लक्ष्मीजी अपनी कृपा उसी पर करती हैं, जो व्यक्ति अपने ज़िंदगी में एक लक्ष्य लेकर चलता है और उस लक्ष्य को पाने के लिए उस पर मेहनत करता है. लक्ष्मी का आगमन दीपावली पर इसलिए होता है, क्योंकि जब आप अपने घर को स्वच्छ करते हैं, तो आपका मन-मस्तिष्क भी स्वच्छ होता है. स्वच्छ दिमाग़ के साथ जब आप काम करते हैं, तो आप सही लोगों के साथ जुड़ते हैं और जीवन में ऐसी एनर्जी पैदा करते हैं, जो आपके जीवन में प्रगति का कारक होता है.

यहां पर वास्तु गुरु डॉ. मधुराज जी कुछ सरल उपाय भी बता रहे हैं, जिसे दिवाली पर करने के बाद महालक्ष्मी की कृपा आप पर बन सकती है, मगर इसका यह अर्थ नहीं है कि आप कर्म करना छोड़कर केवल उपाय करें, इसके साथ आपको कर्म यानी काम भी निरंतर करते रहना है.

धनतेरस

  • एक चांदी का चौकोर टुकड़ा जिस पर स्वास्तिक बना हो, उसे किसी भी सुनार, ज्वेलरी की दुकान से ख़रीदकर ले आए. वज़न आपके अनुसार कुछ भी हो सकता है.
  • कुबेर यंत्र और कुबेर की मूर्ति ख़रीदना अत्यंत शुभ होता है और इस दिन उनकी पूजा करना विशेष लाभकारी होता है.
  • अपने घर के उत्तर दिशा में एक चांदी के कलश में गंगाजल भरकर रखें.
  • 5 गोमती चक्र, 3 पीली कौड़ी ख़रीदना अत्यंत लाभकारी होता है आज के दिन.
  • साबुत धनिया एवं कमलगट्टे की माला अवश्य ख़रीदें. आज के दिन इससे विशेष लाभ होता है.

नरक चतुर्दशी (छोटी दीपावली)
इस दिन भगवान श्रीकृष्ण ने नरकासुर का वध किया था और सोलह हज़ार कन्याओं का उद्धार किया था.

diwali2020
  • इस दिन यमराज के लिए दीपदान किया जाता है.
  • शाम के समय घर के बड़े-बुज़ुर्गों द्वारा दीप जलाना चाहिए.
  • इस दीये में एक तांबे का सिक्का, एक पीली कौड़ी और तिल का तेल का इस्तेमाल करना चाहिए.
  • जब दीपक ठंडा हो जाए, तो उसमें रखी इस कौड़ी और तांबे के सिक्के को अपने धन रखने की जगह या तिजोरी में रख दें.

दीपावली- प्रकाश पर्व

  • इस दिन पूरे घर की साफ़-सफ़ाई करें.
  • पूरे घर में नमक के पानी से पोंछा लगाए.
  • पूरे घर को सुगंधित द्रव्य से सुगंधित करें. जैसे-
    उत्तर-पूर्व दिशा में तुलसी के इत्र से
    दक्षिण-पूर्व दिशा में गुलाब के इत्र से
    दक्षिण-पश्चिम दिशा में लेवेंडर के इत्र से
    उत्तर-पश्चिम दिशा में लेमन ग्रास के इत्र से
    सुगंधित करें.
    इसके लिए आप एरोमा डिफ्यूजर या रूम फ्रेशनर या धूप अगरबत्ती का इस्तेमाल कर सकते हैं.
  • घर के मुख्यद्वार पर रंगोली से सजावट करें एवं तोरण का प्रयोग करें, मगर वास्तु अनुसार दिशा के हिसाब से रंगों का चयन करें, जैसे-
    पूर्व दिशा में हरे रंग का प्रयोग करें.
    पश्चिम दिशा में सफ़ेद रंग का प्रयोग करें.
    दक्षिण दिशा में लाल रंग का प्रयोग करें.
    उत्तर दिशा में नीले रंग का प्रयोग करें.
  • पूजा के लिए गणेशजी की मूर्ति लेते समय जिस मूर्ति में गणेश भगवान की सूंड उनके बाएं हाथ की तरफ़ हो, वही लें. साथ ही लक्ष्मीजी की बैठी हुई मूर्ति ले.
    *मंगल कलश की स्थापना करें. इसके लिए एक लोटे में चांदी का सिक्का, हल्दी, कुमकुम, चावल और फूल डालकर उसके ऊपर नारियल रखकर घर के ईशान कोण में रखें.
  • एक चांदी के प्लेट में पांच गोमती चक्र, तीन पीली कौड़ी और एक छोटा मोती शंख रखकर उसकी पूजा करें.
  • चांदी का चौकोर टुकड़ा, जिसमे स्वास्तिक बना है जो आप धनतेरस पर लाए हैं, उसे दीपावली के दिन 14-11-2020 को दोपहर के समय 3:16 बजे यानी तीन बजकर सोलह मिनट पर अपने घर, फ्लैट, बंगला आदि के उत्तर पूर्व (नॉर्थ ईस्ट) एरिया में यानी ईशान कोण में रखें.
    अगर व्यावसायिक स्थान या दुकान, फैक्ट्री में रखना हो, तो इस चौकोर चांदी के टुकड़े को उस स्थान के दक्षिण पूर्व (साउथ ईस्ट) एरिया यानी अग्नि कोण में रखें.
  • एक महालक्ष्मी का कमल पर बैठे हुए चित्र को ब्राउन में फ्रेम कराकर घर या प्रतिष्ठान के पूर्व की दिशा में लगाएं. इससे वर्षभर मां लक्ष्मी की कृपा आप पर बनी रहेगी.
diwali2020

गोवर्धन एवं अन्नकूट
इस दिन गोवर्धन पूजा की जाती है. भगवान श्रीकृष्ण ने इंद्र के क्रोध से ब्रजवासियों की रक्षा करने के लिए गोवर्धन पर्वत उठाया था. इसी दिन काशी में विशेष रूप से मां अन्नपूर्णा का अन्नकूट भी मनाया जाता है.

  • इस दिन मां अन्नपूर्णा की पूजा-अर्चना करने का विशेष विधान है, जिससे सालभर मां अन्नपूर्णा की कृपा-आशीर्वाद आप पर बनी रहती है और धन-धान्य की वृद्धि होती है.
  • इस दिन शाम को इंद्रजाल की भी पूजा-अर्चना की जाती है. इंद्रजाल एक तरह का जड़ी होता है, जो समुद्र से प्राप्त होता है.
  • भैया दूज के बाद इस इंद्रजाल को फ्रेम कराकर अपने घर या ऑफिस के दक्षिण दीवार पर लगा दें.

भैया दूज
इस दिन बहनों को अपने भाई के मस्तक पर अंगूठे से रोली का टीका लगाना चाहिए, जिससे उनकी सुख-समृद्धि में वृद्धि हो.

  • रोली से तिलक लगाने के बाद उस पर अक्षत यानी चावल अवश्य लगाएं.
  • भाई की कपूर से आरती नौ बार क्लॉक वाइज घुमाकर अवश्य करें.
  • भाई भी बहन को अपने क्षमताअनुसार उपहार प्रदान करें.

दीपावली का मास्टर स्ट्रोक…
इस वर्ष भाग्यांक के अनुसार अपने धन, तिजोरी या पर्स, बटुआ को निम्नलिखित दिशा में रखने से महालक्ष्मी का आशीर्वाद वर्षभर बना रहे.

  • भाग्यांक 1 वाले उत्तर पश्चिम (North West) दिशा में अपना पर्स-तिजोरी रखें.
  • भाग्यांक 2 और 3 वाले पूर्व (East) दिशा में पर्स-तिजोरी रखें.
  • भाग्यांक 4 वाले उत्तर दिशा में पर्स-तिजोरी रखें.
    *? भाग्यांक 5 वाले दक्षिण-पूर्व दिशा में पर्स-तिजोरी रखें.
    *भाग्यांक 6 वाले उत्तर दिशा में पर्स-तिजोरी रखें.
  • भाग्यांक 7 वाले पश्चिम दिशा में अपना पर्स-तिजोरी रखें.
  • भाग्यांक 8 वाले दक्षिण पश्चिम दिशा में पर्स-तिजोरी रखें.
  • भाग्यांक 9 वाले पूर्व दिशा में पर्स-तिजोरी रखें.

यहां पर आपको पूजा-विधि के नियमों के बारे में भी हम संक्षेप में जानकारी दे रहे हैं. जानिए घर पर पूजा करने की सही विधि और उससे संबंधित नियम.
अपने परिवार में सुख और समृद्धि प्राप्त करने के लिए देवी-देवताओ की पूजा करने की परंपरा वर्षों से निरंतर चली आ रही है. आज भी हम इस परंपरा को निभाते आ रहे है. भगवान की पूजा द्वारा हमारी सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती है. परन्तु हम सभी को पूजा करने से पूर्व कुछ ख़ास नियमों का पालन करना चाहिए, तभी हमें पूर्ण फल प्राप्त होगा!
हम आज आपको यहां पर ऐसे 30 नियम बताने जा रहे, जो सामान्य पूजन में भी आवश्यक है तथा इन्हें अपनाकर आप पूजा से होनेवाले शुभ फल पूर्ण रूप से प्राप्त कर सकते हैं.

diwali2020
Madhuraj Vastuguru
  1. शिव, दुर्गा, विष्णु, गणेश और सूर्यदेव ये पंचदेव कहलाते है. इनकी पूजा हर कार्यो में अनिवार्य रूप से की जानी चाहिए. प्रतिदिन पूजा करते समय इन पांच देवों का ध्यान करना चाहिए. ऐसा करने से घर में लक्ष्मी का वास होता तथा समृद्धि आती है.
  2. प्लास्टिक की बोतल में या किसी अन्य धातु के अपवित्र बर्तन में गंगाजल नहीं रखना चाहिए. लोहे अथवा एल्युमिनियम के बर्तन अपवित्र धातु की श्रेणियों में आते हैं. गंगाजल को रखने के लिए तांबे का बर्तन उत्तम तथा पवित्र माना जाता है.
  3. यदि घर में भगवान शिव, गणेश और भैरवजी की मूर्ति हो या आप मंदिर में इन तीनो देवताओं की पूजा करते हैं, तो ध्यान रहे की इन तीनों देवों पर तुलसी ना चढ़ाए, अन्यथा पूजा का उल्टा प्रभाव पड़ता है.
  4. मां दुर्गा की पूजा के समय उन्हें दुर्वा ना चढ़ाए, क्योंकि यह भगवान गणेश को विशेष प्रकार से चढ़ाई जाती है.
  5. सूर्य देव को शंख से अर्घ्य नहीं देना चाहिए.
  6. तुलसी का पत्ता बिना स्नान किए नहीं तोड़ना चाहिए, क्योकि शास्त्रों में बताया गया है कि यदि कोई व्यक्ति बिना नहाए ही तुलसी के पत्तों को तोड़ता है, तो पूजा के समय तुलसी के ऐसे पत्ते भगवान द्वारा स्वीकार नहीं किए जाते.
  7. शास्त्रों के अनुसार, दिन में दो बार देवी-देवताओं के पूजन का विधान है. वैसे नियमानुसार सुबह पांच बजे से छह बजे तक के ब्रह्म मुहूर्त में पूजन और आरती होनी चाहिए. यदि आपके लिए यह समय अनूकूल नही है, तो इसके बाद प्रातः छह बजे से आठ बजे तक का समय पूजन अवश्य होना चाहिए. इस पूजन के बाद भगवान को विश्राम करवाना चाहिए. इसके बाद शाम को पुनः पूजन और आरती होनी चाहिए.
    रात को छह बजे से आठ बजे (ऋतु अनुसार यह समय बदल जाता है.) शयन आरती करनी चाहिए. जिन घरों में नियमित रूप से दो बार पूजन होता है, वहां देवी-देवताओं का निवास माना जाता है. ऐसे घरों में धन-धान्य की कोई भी कमी नहीं होती.
  8. स्त्रियों व पुरुषों द्वारा अपवित्र अवस्था में शंख नहीं बजाना चाहिए. यदि इस नियम का पालन नहीं किया जाए, तो घर में बसी लक्ष्मी रूठ जाती है तथा उस घर से चली जाती है.
  9. देवी-देवताओं की मूर्ति के सामने कभी भी पीठ करके नहीं बैठना चाहिए.
  10. केतकी का पुष्प शिवलिंग पर अर्पित नहीं करना चाहिए.
  11. भगवान से कोई भी मनोकामना मांगने के बाद उसकी सफलता के लिए दक्षिणा अवश्य चढ़ानी चाहिए. दक्षिणा चढ़ाते समय अपने दोषों को छोड़ने का संकल्प लेना चाहिए. जितने शीघ्र आप अपने उन दोषों को छोड़ेगे आपकी मनोकामनाएं उतनी शीघ्र ही पूरी होगी.
  12. विशेष शुभ कार्यो में भगवान गणेश को चढ़ने वाला दूर्वा को कभी भी रविवार को नहीं तोड़ना चाहिए.
  13. यदि आप मां लक्ष्मी को शीघ्र प्रसन्न करना चाहते हैं, तो उन्हें रोज़ कमल का पुष्प अर्पित करें. कमल के फूल को पांच दिनों तक लगातार जल चढ़कर पुनः अर्पित कर सकते है.
  14. शास्त्रों के अनुसार, भगवान शिव के शिवलिंग पर चढ़नेवाला बिल्व-पत्र को तीन दिन तक बासी नहीं माना जाता, अतः हम इन बिल्लव पत्रों पर जल छिड़ककर उन्हें पुनः शिवलिंग पर चढ़ा सकते है.
  15. तुलसी के वृक्ष से टूटे हुए तुलसी के पत्तों को बासी नहीं माना जाता, अतः बासी तुलसी पत्तों पर जल छिड़ककर पुनः प्रयोग में ला सकते है.
  16. आमतौर पर फूलों को हाथों में रखकर हाथों से भगवान को अर्पित किया जाता है. ऐसा नहीं करना चाहिए. फूल चढ़ाने के लिए फूलों को किसी पवित्र पात्र में रखना चाहिए और इसी पात्र में से लेकर देवी-देवताओं को अर्पित करना चाहिए.
  17. तांबे के बर्तन में चंदन, घिसा हुआ चंदन या चंदन का पानी नहीं रखना चाहिए, ऐसा करना शास्त्रों के अनुसार, अपवित्र माना गया है.
  18. कभी भी दीपक से दीपक को ना जलाए, क्योकि ऐसा करनेवाला व्यक्ति रोग से ग्रसित हो जाता है.
  19. रविवार और बुधवार को पीपल के वृक्ष में जल अर्पित नहीं करना चाहिए.
  20. पूजा हमेशा पूर्व की ओर या उत्तर की ओर मुख करके की जानी चाहिए. पूजा करने का उत्तम समय प्रातः काल छह बजे से आठ बजे तक का होता है.
  21. पूजा करते समय आसन के लिए ध्यान रखें कि बैठने का आसन ऊनी होगा, तो श्रेष्ठ रहेगा.
  22. घर में मंदिर में सुबह और शाम दीपक अवश्य जलाए. एक दीपक घी का और एक दीपक तेल का जलाना चाहिए.
  23. भगवान की पूजन का कार्य और आरती पूर्ण होने के पश्चात उसी स्थान पर 3 परिक्रमा अवश्य करनी चाहिए.
  24. रविवार, एकादशी, द्वादशी, संक्रान्ति तथा संध्या काल में तुलसी के पत्ते नहीं तोड़ना चाहिए.
  25. भगवान की आरती करते समय निम्न बातें ध्यान रखनी चाहिए. भगवान के चरणों की आरती चार बार करनी चाहिए. इसके बाद क्रमश: उनके नाभि की आरती दो बार तथा उनके मुख की आरती एक या तीन बार करनी चाहिए. इस प्रकार भगवान के समस्त अंगों की सात बार आरती होनी चाहिए.
  26. पूजाघर में मूर्तियां 1, 3, 5, 7, 9,11 इंच तक की होनी चाहिए. इससे बड़ी नहीं तथा खड़े हुए गणेशजी, सरस्वतीजी, लक्ष्मीजी की मूर्तियां घर में नहीं होनी चाहिए.
  27. घर में कभी भी गणेश या देवी की प्रतिमा तीन, शिवलिंग दो, शालिग्राम दो, सूर्य प्रतिमा दो, गोमती चक्र दो की संख्या में कदापि न रखें.
  28. अपने मंदिर में सिर्फ़ प्रतिष्ठित मूर्ति ही रखें. उपहार, कांच, लकड़ी एवं फायबर की मूर्तियां न रखें. खण्डित, जली-कटी फोटो और टूटा कांच तुरंत हटा दें. शास्त्रों के अनुसार खंडित मूर्तियों की पूजा वर्जित की गई है. जो भी मूर्ति खंडित हो जाती है, उसे पूजा के स्थल से हटा देना चाहिए और किसी पवित्र बहती नदी में प्रवाहित कर देना चाहिए . खंडित मूर्तियों की पूजा अशुभ मानी गई है . इस संबंध में यह बात ध्यान रखने योग्य है कि सिर्फ शिवलिंग कभी भी, किसी भी अवस्था में खंडित नहीं माना जाता है .
  29. घर में मंदिर के ऊपर भगवान की पुस्तकें, वस्त्र एवं आभूषण न रखे. मंदिर में पर्दा रखना आवश्यक है. अपने स्वर्गीय पितरो आदि की तस्वीरें भी मंदिर में ना रखें. उन्हें घर के नैऋत्य कोण में स्थापित करना चाहिए.
  30. हमेशा भगवान की परिक्रमा इस अनुसार करें- विष्णु की चार, गणेश की तीन, सूर्य देव की सात, दुर्गा की एक एवं शिव की आधी परिक्रमा कर सकते है.

ऊषा गुप्ता

diwali 2020

यह भी पढ़ें: राशि के अनुसार ऐसे करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न (How To Pray To Goddess Lakshmi According To Your Zodiac Sign)

दिवाली 2020 की शुरुआत हो गई है. सभी लोग दिवाली की तैयारियां कर रहे हैं. दिवाली में किस दिन क्या पूजा करें, पूजा का शुभ मुहूर्त क्या है, ये हर कोई जानना चाहता है. धनतेरस पूजा, लक्ष्मी पूजा, गोवर्धन पूजा, भाई दूज के शुभ मुहूर्त और पूजा विधि बता रही हैं एस्ट्रो-टैरो एक्सपर्ट व न्यूमरोलॉजिस्ट मनीषा कौशिक.

Dhanteras

13 नवम्बर 2020: ये हैं धनतेरस पूजा के शुभ मुहूर्त

धनतेरस का त्यौहार कुबेर देव जी, गणेश जी व माँ लक्ष्मी जी से सम्बन्ध रखता है. इस दिन कुबेर देव जी, गणेश जी व माँ लक्ष्मी जी की पूजा करने
से घर में सुख व संपन्नता आती है.
त्रयोदशी प्रारम्भ – सूर्यउदय से
त्रयोदशी समापन – 5:57 बजे
व्यावसायिक पूजा मुहूर्त
लाभ मुहूर्त – 08:07 से 9:27
अमृत मुहूर्त – 09:28 से 10:48
शुभ मुहूर्त – 12:10 से 1:29
खरीदारी के चौघाडिया मुहूर्त:
शुभ मुहूर्त – 12:10 से 1:29
लाभ मुहूर्त – 11:44 से 12:26

सांय काल में शुभ मुहूर्त
प्रदोषकाल में दीपदान व कुबेर पूजन करना शुभ रहता है.
दिल्ली में सूर्यास्त समय – सायं 5:26
प्रदोष काल का समय – 5:38 से 8:15
स्थिर लग्न / वृषभ लग्न – 5:32 से 7:28
पूजा का शुभ समय – 5:24 से 5:59

यह भी पढ़ें: राशि के अनुसार ऐसे करें मां लक्ष्मी को प्रसन्न (How To Pray To Goddess Lakshmi According To Your Zodiac Sign)

14 नवंबर 2020: दिवाली पूजा (लक्ष्मी पूजा) का शुभ मुहूर्त
कार्तिक अमावस्या प्रारम्भ: 14 नवंबर 2:18
कार्तिक अमावस्या समापन: 15 नवंबर 10:37
व्यावसायिक पूजा मुहूर्त
पूजा मुहूर्त – 2:51 से 4:11
लक्ष्मी पूजा मुहूर्त
लक्ष्मी पूजा: 5:30 से 7:25
प्रदोष काल: 5:26 से 8:08
वृषभ काल: 5:30 से 7:26
लाभ चौघड़िया सर्वोत्तम मुहूर्त: 5:30 से 7:07
निशीथ काल
निशीथ काल: 8:08 से 10:51
निशीथ काल शुभ चौघड़िया: 8:48 से 10:30
निशीथ काल अमृत चौघड़िया: 10:30 से 12:12
महानिशीथ काल मुहूर्त
लक्ष्मी पूजा मुहूर्त: 11:39 से 12:32
महानिशीथ काल: 10:51 से 25:33
सिंह काल: 12:03 से 26:19

दिवाली पूजा के लिए निम्नलिखित चार समय का बहुत अधिक महत्व
है:

  1. प्रदोष काल
  2. स्थिर लगन
  3. निशीथ काल
  4. महानिशीथ काल
    यदि ऊपर दिए गए कालों में स्थिर लगन के साथ शुभ चौघड़िया भी आ जाए अर्थात (काल समय+स्थिर लगन+शुभ चौघड़िया) तो, सभी समय की गणनाओं को ध्यान में रखते हुए लक्ष्मी पूजा उसी समय में करें. किसी कारणवश इस समय में पूजा न कर पाएं तो अन्य दिए गए समय में पूजा अवश्य करें.

यह भी पढ़ें: पूजा करते समय दीया बुझ जाने को अशुभ क्यों माना जाता है? जानें दीया बुझ जाने के शुभ-अशुभ संकेत (Why The Lamp Extinguished While Worshiping Is Inauspicious)

15 नवंबर 2020 गोवर्धन पूजा मुहूर्त
प्रतिपदा तिथि प्रारम्भ – 15 नवंबर 2020, 10:37 AM
प्रतिपदा तिथि समापन – 16 नवंबर 2020, 7:06 AM
गोवर्धन पूजा प्रातःकाल मुहूर्त – 6:44 AM से 8:55 AM
गोवर्धन पूजा सायंकाल मुहूर्त – 03:27 PM से 05:38 PM

16 नवंबर 2020 भाई दूज मुहूर्त
द्वितीय तिथि प्रारम्भ – 16, नवंबर 07:06 AM
द्वितीय तिथि समापन – 17, नवंबर 03:57 AM
भाई दूज टीका मुहूर्त – 01:16 PM से 03:27 PM
सर्वोत्तम तिलक मुहूर्त – 02:51 PM से 03:27 PM

दिवाली के दिन आपके घर का हर कोना, हर दरो-दीवार ख़ुशियों के रंग से जगमगाते रहें, इसीलिए हम लेकर आए हैं कंप्लीट क्लीनिंग गाइड. यहां हमने लिविंग रूम से लेकर, किचन, बेडरूम व बाथरूम के ईज़ी क्लीनिंग टिप्स बताए हैं. तो क्यों न आप भी इन्हें आज़माकर अपने घर ख़ुशियों का स्वागत करें.

Diwali Home Cleaning Tips

लिविंग रूम
1) सफ़ाई की शुरुआत डस्टिंग से करें. दीवारों पर लगे फोटोफ्रेम्स और आर्टवर्क को मुलायम कपड़े से साफ़ कर लें. दीवारों के दाग़-धब्बों को छुड़ाने के लिए गुनगुने पानी में 1/4 टीस्पून डिटर्जेंट डालकर कपड़े से क्लीन कर लें.
2) व्हाइट विनेगर मल्टीपर्पज़ क्लीनर है. वुडन फर्नीचर को साफ़ करने के लिए एक कप पानी में तीन टेबलस्पून विनेगर मिलाकर कपड़े से फर्नीचर साफ़ करें.
3) फर्नीचर को पॉलिश करने के लिए समान मात्रा में विनेगर और ऑलिव ऑयल को मिलाएं. उसमें कुछ बूंदें नींबू के रस की डालकर सोल्यूशन तैयार करें. कपड़े में डुबोकर फर्नीचर को पॉलिश करें.
4) पीतल के डेकोरेटिव पीसेस को इमली के पेस्ट से साफ़ करें, उनकी चमक लौट आएगी.
5) ग्लास की खिड़कियां, टेबल, डेकोरेटिव आइटम्स या फिर मिरर को साफ़ करने के लिए चार कप पानी में दो टीस्पून चाय की पत्ती डालकर उबालें. ठंडा होने पर इसे स्प्रे बॉटल में भरकर ग्लास पर स्प्रे करें और पुराने अख़बार से पोंछकर साफ़ करें.
6) समान मात्रा में व्हाइट विनेगर और पानी को मिलाकर स्प्रे बॉटल में भर लें. ग्लास पर स्प्रे करके पुराने अख़बार से पोंछें, ग्लास चमक उठेगा.
7) सोफासेट कवर को गुनगुने पानी में डालकर धोएं. घर को फेस्टिव लुक देने के लिए नया कवर भी लगा सकते हैं.
8) पंखों, लाइट्स और इलेक्ट्रिक स्विचेज़ को अनदेखा न करें. डिटर्जेंट पानी के घोल सेे साफ़ करें. बाद में साफ़ कपड़े से पोछें.
9) इलेक्ट्रॉनिक आइटम्स, जैसे- कंप्यूटर, टीवी, म्यूज़िक सिस्टम आदि को मुलायम कपड़े से साफ़ करें. आप चाहें, तो कंप्रेस्ड एयर कैन भी इस्तेमाल कर सकते हैं.
10) एक बाल्टी पानी में फ्लोर क्लीनर या नमक मिलाकर फ़र्श साफ़ करें. सफ़ाई के साथ-साथ यह घर की निगेटिव एनर्जी भी दूर करता है.

Diwali Home Cleaning Tips

किचन
11) एक-एक करके रैक के सभी डिब्बों को निकालकर बाहर रखें. उसमें से एक्सपायर्ड और ग़ैरज़रूरी चीज़ें फेंक दें.
12) विनेगर में कपड़ा डुबोकर किचन प्लेटफॉर्म साफ़ करें. सफ़ाई के साथ-साथ कीटाणु भी ख़त्म हो जाते हैं.
13) गुलाबजल में नींबू की कुछ बूंदें मिलाकर किचन प्लेटफॉर्म साफ़ करने से सफ़ाई के साथ-साथ अच्छी ख़ुशबू भी आती है.
14) टाइल्स के दाग़-धब्बों को छुड़ाने के लिए तारपीन के तेल में नमक मिलाकर साफ़ करें.
15) टाइल्स पर ब्लीचिंग पाउडर लगाकर रातभर छोड़ दें. सुबह कपड़े से रगड़कर साफ़ कर लें, टाइल्स चमक उठेंगी.
16) किचन की टाइल्स पर पड़े दाग़-धब्बों को छुड़ाने के लिए 2 कप गरम पानी में 2 कप व्हाइट विनेगर मिलाकर दाग़वाली जगह पर डालकर आधे घंटे के लिए छोड़ दें. फिर ब्रश से रगड़कर साफ़ कर लें.
17) किचन की सिंक अगर जाम हो गई हो, तो नमक और बेकिंग सोडा समान मात्रा में लेकर सिंक की छेद में डाल दें. थोड़ी देर बाद 1 टीस्पून डिटर्जेंट डालें. 15 मिनट बाद गरम पानी की तेज़ धार डालें और फिर ठंडा पानी डालें. सिंक बिल्कुल साफ़ हो जाएगी.
18) रोज़ाना सिंक की सफ़ाई के लिए बेकिंग सोडा छिड़ककर नींबू के छिलके से रगड़कर साफ़ करें.
19) फ्रिज को साफ़ करने के लिए बेकिंग सोडा से बेहतरीन कुछ भी नहीं. गुनगुने पानी में बेकिंग सोडा डालकर पूरे फ्रिज को अंदर-बाहर से साफ़ करें. सफ़ाई के बाद फ्रिज के कोने में एक छोटे डिब्बे में बेकिंग सोडा डालकर रख दें, ताकि फ्रिज से महक न आए.
20) 1 लीटर पानी में आधा कप विनेगर मिलाकर सोल्यूशन बनाएं. इसमें कपड़ा डुबोकर पूरा फ्रिज क्लीन करें. फ्रिज क्लीनिंग का यह एक बढ़िया सोल्यूशन है.
21) अवन/माइक्रोवेव को साफ़ करने के लिए एक नींबू को काटकर उसमें रख दें और रातभर अवन का दरवाज़ा खुला छोड़ दें. सुबह 5 मिनट के लिए ऑन करें और ठंडा करके क्लीन करें. सारी गंदगी और महक निकल जाएगी.
22) 3 ग्लास पानी में 1 टीस्पून नींबू का रस और 1 टीस्पून बेकिंग सोडा मिलाएं. इससे माइक्रोवेव की सफ़ाई करें.
24) गैस स्टोव के दाग़-धब्बों को छुड़ाने के लिए साबुन-पानी से साफ़ कर लें.
25) गैस के बर्नर और नॉब को साफ़ करने के लिए गरम पानी में डिटर्जेंट मिलाकर ब्रश की मदद से क्लीन करें.
26)एक्ज़ॉस्ट फैन और चिमनी के ग्रीसी दाग़ों के लिए डिटर्जेंट-पानीवाले सोल्यूशन में थोड़ा-सा नींबू का रस मिलाएं. इससे ये अच्छी तरह साफ़ हो जाएंगे.
27) कैबिनेट्स पर पड़े तेल के ज़िद्दी दाग़ों को साफ़ करने के लिए विनेगर बेस्ट ऑप्शन है. अगर दाग़ हल्के हैं, तो विनेगर में थोड़ा पानी मिलाएं, वरना स़िर्फ विनेगर इस्तेमाल करें.

यह भी पढ़ें: यूं करें मेहमान नवाज़ी… 25+ आकर्षक लिविंग रूम डेकोर आइडियाज़! (25+ Best Living Room Decoration Ideas)

Diwali Home Cleaning Tips

बाथरूम और टॉयलेट
28) टॉयलेट-बाथरूम में रैक्स पर रखी सभी चीज़ों को उतारकर छांट लें. उनमें से एक्सपायर्ड/ग़ैरज़रूरी चीज़ें हटा दें और काम की चीज़ों को करीने से सजाकर रखें.
29) टॉयलेट पॉट को क्लीन करने के लिए टॉयलेट क्लीनर की बजाय आप एंटासिड का इस्तेमाल भी कर सकते हैं. दो-तीन एंटासिड की गोलियां पॉट में डालकर 15 मिनट रखें, फिर ब्रश से क्लीन कर दें.
30) सॉफ्ट ड्रिंक्स भी टॉयलेट पॉट को क्लीन करने के लिए बेहतरीन क्लीनर का काम करती हैं. कोला फ्लेवर की सॉफ्ट ड्रिंक डालकर थोड़ी देर बाद क्लीन कर लें.
31) टाइल्स को साफ़ करने के लिए दो कप पानी में दो टेबलस्पून बेकिंग सोडा मिलाकर टाइल्स पर छिड़कें. थोड़ी देर बाद ब्रश से रगड़कर साफ़ कर दें.
32) वॉश बेसिन को चमकाने में भी बेकिंग सोडा आपकी मदद करेगा. बेसिन पर सोडा छिड़ककर 10 मिनट रहने दें. ब्रश से रगड़कर साफ़ कर दें.
33) ब्रश होल्डर, सोप होल्डर और बाकी चीज़ों को भी ब्रश की मदद से अच्छी तरह साफ़ करें.

Diwali Home Cleaning Tips

बेडरूम
34) स्टोरेजवाला बेड है, तो उसके भीतर की सभी चीज़ें निकालकर ग़ैरज़रूरी सामान निकाल दें. कपड़े से पोंछकर क्लीन करें.
35) खिड़कियों के परदे निकालकर ग्रिल को साबुन-पानीवाले सोल्यूशन से साफ़ करें.
36) परदों, बेडशीट्स, चादर और रज़ाई-गद्दों के कवर्स निकालकर गरम पानी में डालकर धो लें.
37) बेड को जर्म फ्री रखने के लिए बेड कवर और पिलो कवर को निकालकर मैट्रेस व पिलो को दोनों ओर से वैक्यूम क्लीनर से साफ़ करें.
38) फर्श साफ़ करने से पहले सीलिंग और फैन की सफ़ाई करें.

Diwali Home Cleaning Tips

वॉर्डरोब क्लीनिंग टिप्स
39) वॉर्डरोब के सारे कपड़े निकालकर बाहर रखें और उन्हें तीन हिस्सों में बांटें. एक जिन्हें रखना है, दूसरा जो निकाल देने हैं और तीसरा जिनकी ऱफू या ऑल्टरेशन वगैरह करानी है.
40) आलमारी की धूल-मिट्टी और कोनों को साफ़ करने के लिए कपड़े पर थोड़ा-सा व्हाइट विनेगर छिड़ककर क्लीन करें.
41) कपड़ों को आप कलर्स के मुताबिक़ भी अरेंज कर सकते हैं. लड़कियां इंडियन, वेस्टर्न और इनरवेयर्स के मुताबिक़ कपड़े ऑर्गेनाइज़ करके रखें और लड़के फॉर्मल और कैजुअल के अनुसार रखें.
42) हैवी कपड़ों को पैक करके ट्रंक में रख दें. उसमें नेपथ्लीन बॉल्स ज़रूर डालें.

Diwali Home Cleaning Tips

फर्नीचर क्लीनिंग सोल्यूशन
अगर फर्नीचर ख़रीदने के लिए अभी आपके पास पर्याप्त बजट नहीं है, तो परेशान होने की ज़रूरत नहीं है, क्योंकि हम यहां कुछ ऐसे नेचुरल क्लीनर्स के बारे में बता रहे हैं, जिन्हें आप घर पर ही आसान तरीके बना सकते हैं और चुटकी में अपने पुराने फर्नीचर को दे सकते हैं नया लुक.

यह भी पढ़ें: होम डेकोर: 55+ इनोवेटिव बेडरूम आइडियाज़, यूं सजाएं अपने सपनों का जहां! (55+ Innovative Bedroom Decorating Ideas)

लेदर फर्नीचर क्लीनिंग सोल्यूशन
43) लेदर फर्नीचर पर लगे दाग़ को छुड़ाने के लिए वहां पर टूथपेस्ट लगाएं. 5 मिनट बाद गीले कपड़े से पोंछ दें. दाग़ तुरंत साफ़ हो जाएगा.
44) स्पिरिट (रबिंग अल्कोहल) और पानी को समान मात्रा में मिलाकर स्प्रे बॉटल में डालें. लेदर फर्नीचर पर स्प्रे करके कपड़े से पोंछ दें.
45) लेदर फर्नीचर पर पड़े दाग़ को निकालने के लिए नींबू का रस और टैटार क्रीम (बाज़ार में आसानी से उपलब्ध) को समान मात्रा में मिलाएं. इस पेस्ट को दाग़ पर लगाकर कपड़े से साफ़ करें. अगर दाग़ नहीं निकलता है, तो 4-5 घंटे बाद दोबारा इस पेस्ट को लगाएं.
46) आधा कप व्हाइट विनेगर, 1 कप अलसी का तेल या ऑलिव ऑयल मिलाकर सोल्यूशन बनाएं और लेदर फर्नीचर को साफ़ करें.
47) 1 कप वोडका, 1/4 कप विनेगर और 3-4 बूंदें ऑलिव ऑयल की मिलाकर स्प्रे बॉटल में भरें. अच्छी तरह से हिलाएं. फर्नीचर को साफ़ करें.
48) लेदर फर्नीचर पर पड़े दाग़ को निकालने के लिए नींबू का रस या विनेगर का इस्तेमाल करें.
49) अगर लेदर फर्नीचर पर चिकनाईवाले दाग़ हैं, तो एक कप पानी में थोड़ा-सा बेबी शैंपू डालकर झाग बनाएं. इसमें कपड़े को डुबोकर दाग़ साफ़ करें और तुरंत सूखे कपड़े से पोंछ दें.

होममेड लेदर फर्नीचर पॉलिश
लेदर फर्नीचर पर पॉलिश करना चाहते हैं, तो पेट्रोलियम जेली, ऑलिव ऑयल या फ्लैक्स सीड ऑयल से करें. ऑलिव ऑयल और फ्लैक्स सीड ऑयल प्राकृतिक तौर पर लेदर की चमक बनाए रखते हैं.

Diwali Home Cleaning Tips

वुडन फर्नीचर क्लीनिंग सोल्यूशन
50) सोल्यूशन बनाने के लिए एक कप पानी में 3 टेबलस्पून व्हाइट विगेनर मिलाएं. इस सोल्यूशन को बॉटल में भरकर रखें. सूती कपड़े को इसमें डुबोकर वुडन फर्नीचर को साफ़ करें.
51) एक-एक कप पानी और विनेगर को मिलाएं. इसमें एक टेबलस्पून ऑलिव ऑयल मिलाकर स्प्रे बॉटल में भरें. इस सोल्यूशन को सीधे फर्नीचर पर स्प्रे करके माइक्रोफाइबर क्लॉथ से साफ़ करें.
52) 2 ग्लास गरम पानी में 1 टीस्पून ऑलिव ऑयल और आधे नींबू का रस मिलाकर जार में भरकर रखें. इस सोल्यूशन से फर्नीचर को साफ़ करें.
53) वुडन फर्नीचर पर पड़े पानी और गरम चीज़ को रखने से पड़े निशान को मिटाने के लिए वहां पर थोड़ी-सी मेयोनीज़ लगाकर 5-6 घंटे या रातभर रखें. बाद में गीले कपड़े से पोंछ दें. फर्नीचर थोड़ी देर में चमकने लगेगा.
54) स्प्रे बॉटल में आधा कप व्हाइट विनेगर, 1/4 कप ऑलिव ऑयल, 1 टेबलस्पून नींबू का रस और 20 बूंदें लैवेंडर एसेंशियल ऑयल मिलाकर शेक करें. सूती कपड़े पर लगाकर फर्नीचर को क्लीन करें.
55) 2 ग्लास पानी में 2 टीस्पून नमक मिलाकर वुडन फर्नीचर साफ़ करें. फिर सूखे कपड़े से पोंछ दें.
56) फर्नीचर पर लगे दाग़-धब्बों को निकालने के लिए ऑलिव ऑयल या नींबू के छिलके से रब करें.
57) तारपीन के तेल में सिरका मिलाकर फर्नीचर को साफ़ करें. इससे फर्नीचर में दीमक नहीं लगती.

यह भी पढ़ें: इन 11 टिप्स से करें ख़ूबसूरत और महंगी पेंटिंग की केयर (11 Tips to Care For Expensive Paintings)

Diwali Home Cleaning Tips

वुडन फर्नीचर पॉलिश
58) वुडन फर्नीचर के लिए 1 कप एक्स्ट्रा वर्जिन ऑलिव ऑयल में आधा कप नींबू का रस मिलाकर जार में भरकर रखें. नरम व सूती कपड़े को इस सोल्यूशन में डुबोकर वुडन फर्नीचर पर पॉलिश करें.
59) 1 नींबू का रस, 1 टीस्पून ऑलिव ऑयल और 4-5 बूंदें पानी की मिलाकर घोल बनाएं. इसे माइक्रोफाइबर क्लॉथ पर लगाकर फर्नीचर पर पॉलिश करें.
60) 1 कप ऑलिव ऑयल में 1/4 कप व्हाइट विनेगर मिलाकर स्प्रे बॉटल में भरें. सूती कपड़े पर डालकर फर्नीचर को पॉलिश करें.
61) फर्नीचर पर पॉलिश करने के लिए 10 बूंदें लेमन एसेंशियल ऑयल, 1/4-1/4 कप विनेगर और ऑलिव ऑयल को स्प्रे बॉटल में डालकर रखें. हर बार इस्तेमाल करने से पहले उसे शेक कर लें.
62) स्प्रे बॉटल में 1 कप पानी, आधा व्हाइट विनेगर, 20 बूंदें लेमन एसेंशियल ऑयल डालकर शेक करें. कपड़े से फर्नीचर पर लगाकर पॉलिश करें.
63) अगर पुराने फर्नीचर की चमक फीकी पड़ गई है, तो 2 ग्लास पानी में 2 टी बैग डालकर उबाल लें. 1 ग्लास रह जाने पर आंच से उतार लें. ठंडा होने पर माइक्रोफाइबर क्लॉथ को इसमें डिप करके वुडन फर्नीचर पर पॉलिश करें.
64) पुराने फर्नीचर की चमक वापस लाने के लिए उस पर थोड़ी-सी पेट्रोलियम जेली लगाकर हल्के हाथों से रब करें. अगर फर्नीचर की स्थिति बहुत ख़राब है, तो पेट्रोलियम जेली को 2-3 घंटे तक लगाकर ऐसे ही छोड़ दें. बाद में सॉफ्ट कपड़े से साफ़ करें.

Diwali Home Cleaning Tips

10 नेचुरल क्लीनर से करें घर की सफाई
साफ़-सफ़ाई के लिए हमेशा बाज़ार में मिलने वाले सॉल्युशन्स और डिटर्जेंट पर निर्भर रहने की बजाय आप घर में ही मौजूद चीज़ों का इस्तेमाल कर सकती हैं.

1) नींबू
नींबू में पाया जाने वाला सिट्रिक एसिड नेचुरल ब्लीच का काम करता है. इससे कई तरह के दाग़ छुड़ाए जा सकते हैं.

  • यदि तांबे के बर्तन में गैस या स्टोव के इस्तेमाल से कालिख लग गई है तो नींबू और नमक मिलाकर रगड़ें तांबा चमक जाएगा.
  • आपके प्लास्टिक के टिफिन में तेल के दाग़ लगे हैं और बदबू आ रही है तो टिफिन को नींबू के रस में रातभर डुबोकर रखें और अगले दिन बेकिंग सोडा से साफ़ कर लें.
  • नींबू के रस में नमक और साबुन का घोल मिलाकर किचन सिंक की सफ़ाई की जा सकती है.
  • दरवाज़े, ख़िड़कियों पर लगे स़फेद पानी के दाग़ को आप नींबू से साफ़ कर सकती हैं.

2) नमक
नमक न सिर्फ़ खाने का स्वाद बढ़ाता है, बल्कि क्लींज़िंग एजेंट का काम भी करता है.

  • बाथरूम, बाथटब या टॉयलेट सीट पर पीले दाग़ पड़ गए हैं, तो उसे नमक और तारपीन के तेल से छुड़ाया जा सकता है.
  • लोहे के बर्तन में लगे दाग़ छुड़ाने के लिए नमक में गरम पानी मिलाकर पेस्ट बनाएं और इससे बर्तन साफ़ करें.
  • यदि जींस ज़्यादा गंदी है तो एक बाल्टी पानी में एक चम्मच नमक डालकर जींस को 10-15 मिनट के लिए रखें. इससे जींस का कलर भी नहीं जाएगा.
  • कारपेट पर यदि दाग़ लग गया है, तो दाग़ वाली जगह पर नमक छिड़कें और गीले कपड़े से रगड़कर पोंछ दें.

3) बेकिंग सोडा
खाना बनाने में इस्तेमाल होने वाला बेकिंग सोडा सफ़ाई के भी काम आता है.

  • माइक्रोवेव के अंदर के दाग़-धब्बे साफ़ करने के लिए बेकिंग सोडा में नींबू का रस मिलाकर स्क्रब करें.
  • किचन स्लैब जहां आप खाना बनाती हैं वहां जमी चिकनाई और गंदगी को साफ़ करने के लिए उस जगह पर गुनगुने पानी में सोडा मिलाकर डालें. 10 मिनट बाद स्क्रब से साफ़ कर लें.
  • जले बर्तन को साफ़ करने के लिए साबुन मिले पानी में बेकिंग सोडा मिलाएं. इस घोल को जले बर्तन में डालकर रातभर छोड़ दें. सुबह रगड़कर धो लें, बर्तन चमक जाएंगे.
  • कारपेट साफ़ करने के लिए पूरे कारपेट पर थोड़ी मात्रा में सोडा छिड़कें और वैक्यूम क्लीनर से साफ़ कर लें. कारपेट से बदबू चली जाएगी.
  • गरम पानी में सोडा और साबुन का घोल मिलाकर सिंक और बेसिन की सफ़ाई करें.

4) आलू
आलू न स़िर्फ खाने में वैरायटी लाता है, बल्कि साफ़-सफ़ाई के काम भी आता है.

  • आलू की स्लाइस काटकर जंग लगे सामान पर घिसें, ये जंग को काटकर उसे बिल्कुल साफ़ कर देगा.
  • आलू की स्लाइस काटकर कांच पर रगड़ने से कांच साफ़ हो जाता है.
  • चांदी साफ़ करने के लिए जिस पानी में आलू उबाला गया है उसमें गहने या बर्तन को 20 मिनट तक रखें. चांदी चमक जाएगी.
  • यदि घर में कांच का कोई सामान नीचे गिरकर टूट जाए, तो कांच के बड़े टुकड़े उठा लीजिए और बारीक़ टुकड़े बटोरने के लिए आलू की स्लाइस काटकर उस जगह पर रगड़ें जहां सामान गिरा है, इससे कांच के टुकड़े आलू में फंस जाएंगे.

5) इमली
इमली का इस्तेमाल भी खाने के साथ ही सफ़ाई के काम के लिए भी होता है.

  • चांदी के अलावा अन्य मेटल ज्वेलरी जिसे साबुन से साफ़ करना मुश्किल होता है, उसे इमली से साफ़ किया जा सकता है. इमली मिले पानी में ज्वेलरी डाल दीजिए सारी गंदगी निकल जाएगी.
  • पीतल और तांबे के बर्तन और अन्य उपकरणों को इमली के गूदे से साफ़ करें.
  • जंग लगे हुए मेटल के नल पर इमली का गूदा रगड़ें, नल साफ़ हो जाएगा.
  • किचन की चिमनी को इमली के पानी से साफ़ करें.

6) पुराने अख़बार
पुराने अख़बार को बेकार समझकर यदि आप रद्दी में बेच देती हैं, तो अब से ऐसा मत कीजिए, क्योंकि अख़बार से कांच साफ़ करने के साथ ही आप इसे कई और कामों में इस्तेमाल कर सकती हैं.

  • कांच के बर्तन और अन्य सामान की सफ़ाई पेपर से करें. इसके लिए पेपर को पानी में भिगोएं और उससे सफ़ाई करें.
  • यदि आपके जूते गीले हैं या डेस्क पर पानी/चाय गिर गई है तो उसे सुखाने के लिए पेपर का इस्तेमाल करें. पेपर पानी को जल्दी सोख लेता है.
  • हरी सब्ज़ियों को ताज़ा रखने के लिए उन्हें पेपर में लपेटकर रखें.

7) विनेगर
चाइनीज़ व्यंजनों में इस्तेमाल होने वाला विनेगर यानी सिरका भी बड़े काम की चीज़ है.

  • सिरके के घोल में कपड़ा डुबोकर बाथरूम की टाइल्स और गंदी खिड़कियों को आसानी से साफ़ किया जा सकता है.
  • 1/4 कप विनेगर और 1 कप पानी को माइक्रोवेव प्रूफ बाउल में भरकर 5 मिनट हाई माइक्रो करें. विनेगर और पानी के भाप से माइक्रोवेव से आ रही दुर्गंध दूर हो जाएगी और दाग़-धब्बे हल्के हो जाएंगे.

8) टूथपेस्ट ट्रिक्स
सुबह-सुबह दांतों को साफ़ करने वाला टूथपेस्ट किचन की सफ़ाई के काम भी आता है.

  • किचन की दीवारों को साफ़ करने के लिए आप टूथपेस्ट का इस्तेमाल कर सकती हैं.
  • गीले कपड़े में टूथपेस्ट लगाएं और उससे दीवार को रगड़ें. चिकनाई लगी दीवार झट से साफ़ हो जाएगी
  • विनेगर और पानी के मिश्रण के ठंडा होने पर इसमें कपड़ा या स्पंज डुबोकर माइक्रोवेव सरफेस, डोर और बाकी हिस्सों को साफ़ करें.

9) बोरेक्स
बोरेक्स से आप किचन को मिनटों में चमका सकती हैं.

  • 1 कप बोरेक्स में 1/4 कप नींबू का रस मिलाएं और पेस्ट तैयार करें. अब इस पेस्ट से प्लेटफॉर्म, स्लैब, फर्श आदि साफ़ करें.

10) हाइड्रोजन पैराक्साइड
किचन प्लेटफॉर्म और टाइल्स को साफ़ करने के लिए आप हाइड्रोजन पैराक्साइड यूज़ कर सकती हैं.

  • सबसे पहले फर्श/प्लेटफॉर्म पर हाइड्रोजन पैराक्साइड की कुछ बूंदें स्प्रे करें और फिर साफ़ कपड़े से पोंछें.
  • इससे ज़िद्दी से ज़िद्दी दाग़ भी आसानी से निकल जाएगा.