Tag Archives: diwali

एकता कपूर की दिवाली पार्टी में ग्लैमर का तड़का… देखें पिक्चर्स! (Ekta Kapoor’s Diwali Bash… See Pics)

Ekta Kapoor's Diwali Bash

Ekta Kapoor's Diwali Bash

एकता कपूर की दिवाली पार्टी में ग्लैमर का तड़का… देखें पिक्चर्स! (Ekta Kapoor’s Diwali Bash… See Pics)

एकता कपूर अपनी दिवाली पार्टी (Ekta Kapoor’s Diwali Bash) के लिए काफ़ी फेमस हैं और यही वजह है कि उनकी पार्टी अटेंड करने का मौका कोई भी सेलेब नहीं छोड़ना चाहता. मॉनी रॉय से लेकर दिव्यांका त्रिपाठी और नेहा धूपिया से लेकर करिश्मा तन्ना तक ने इस पार्टी की हॉटनेस बढ़ाने में कोई कसर नहीं छोड़ी. यही नहीं, श्रद्धा कपूर, करन जौहर, शिल्पा शेट्टी भी ख़ासतौर से यह पार्टी अटेंड करने फुल ग्लैमर लुक में नज़र आए. आप भी देखें ये एक्सक्लूसिव पिक्चर्स.

Ekta Kapoor's Diwali Bash

यह भी पढ़ें: जल्द ही शादी करनेवाले हैं अर्जुन-मलाइका, डिनर डेट पर हॉट कपल (Arjun Kapoor And Malaika To Get Married Soon, Went On Dinner Date)

फेस्टिवल फैशन मंत्र (Festival Fashion Mantra)

वो टूटकर न गिरे एक ख़्वाब मेरा, उसे पलकों के दरमियान कैद कर लूं मैं… मेरी आंखों ने जो देखे हैं तेरी मुहब्बत के हसीन सपने, उन्हें अपने लबों पर ताउम्र के लिए सजाकर रख लूं मैं… कभी तू चांद बनकर आ जाना, कभी तू रात बन जाना, कभी बारिश की फुहारों-सी बेपनाह बरस जाना, कभी धूप-सी खिल जाना… और मैं बस तुझे सोचता रहूं… मैं बस तुझे देखता रहूं… यूं ही… ख़ामोशी ओढ़े अपने इश्क़ का इज़हार करता रहूं…

Festival Fashion Mantra

फेस्टिवल फैशन मंत्र

यूं तो हम फेस्टिव सीज़न में ट्रेडिशनल वेयर ही पहनना पसंद करते हैं, लेकिन अब समय बदल रहा है और लोगों का टेस्ट भी. आजकल लोग एक्सपेरिमेंट करना पसंद करते हैं और फेस्टिव सीज़न में भी मॉडर्न लुक चाहते हैं. वैसे भी फेस्टिवल टाइम में हम सभी चाहते हैं कि सबसे अलग लगें, ताकि सबकी नज़रें हम पर ही हों. ऐसे में यहां हम कुछ फैशन ट्रेंड्स और टिप्स बता रहे हैं, जिन्हें आज़माकर आप कुछ अलग लुक क्रिएट कर सकती हैं.

ट्रेडिशनल वेयर कभी नहीं होता आउट ऑफ फैशन

– ट्रेडिशनल वेयर फेस्टिवल की पहली पसंद होता है.

– आप इसे मॉडर्न लुक के साथ पहन सकती हैं.

– आजकल साड़ियों को अलग-अलग तरह से ड्रेप किया जाता है. आप ड्रेपिंग स्टाइल से डिफरेंट लुक क्रिएट कर सकती हैं.

– साड़ी के फैब्रिक से भी फ़र्क़ पड़ता है. फेस्टिवल टाइम ही होता है, जब आप हैवी साड़ियां पहन सकती हैं. बनारसी से लेकर चंदेरी, सिल्क आदि.

–  लहंगा-चोली भी सबको बहुत पसंद होता है, इनमें भी काफ़ी वेरायटी मिल जाएगी.

– लहंगा स्टाइल में फ्लेयर्ड के अलावा फिटेड, फिश कट, ए लाइन लहंगे आदि आप अपनी बॉडी टाइप के अनुसार ट्राई कर सकती हैं.

– चोली में भी आजकल ट्रेंड्स बदल गया है. आप ट्रेंडी टॉप को भी चोली की तरह पहन सकती हैं.

– हाई नेक टॉप, लेसी टॉप, क्रॉप टॉप, ब्लैक कलर टॉप, ब्लिंग या सीक्वेंस का टॉप- इनमें से कुछ भी पेयर कर सकती हैं.

– फ्लोर लेंथ अनारकली ड्रेसेस बेहद ग्लैमरस लगती हैं. वो भी ऑप्शन है.

– आप अगर ड्रेस सिंपल रखना चाहती हैं, तो उसे हैवी दुपट्टे और ज्वेलरी के साथ पेयर करके फेस्टिवल लुक दे सकती हैं.

लहंगा होगा पॉप्युलर

–  लॉन्ग लहंगा टाइप घाघरा फेस्टिवल में इन होंगे. अपने ड्रेस को मुगल और राजस्थानी लुक दें.

– अनारकली इस फेस्टिव सीज़न में भी इन होगा. हां इसका लुक थोड़ा बदल गया है.

– घाघरा पैंट और शरारा भी फेस्टिव सीज़न के लिए परफेक्ट हैं.

–  एसिमेट्रिकल कुर्ता के साथ वाइड सलवार सिलेक्ट करें.

– अनारकली कुर्ता भी ट्राई कर सकती हैं. ये लंबे समय से फैशन में है और इस सीज़न में भी इन रहेगा.

– इसी तरह ब्रोकेड की शॉर्ट जैकेट को पेंसिल स्कर्ट के साथ पहनें.

– स्कर्टटेड ड्रेस, वेरायटी ऑफ पैंट्स, फ्लेयर्ड ट्यूनिक्स, लूज़ पायजामा- इनमें से आप कुछ भी ट्राई कर सकती हैं.

–  कॉटन या सिल्क का प्लेन घाघरा सिलेक्ट करें. इसके हैवी बॉर्डर और लटकन लगवा लें. क्रॉप्ड टॉप के साथ कंबाइन करके पहनें. कम बजट में आपका ख़ूबसूरत फेस्टिव ड्रेस रेडी हो जाएगा.

Festival Fashion Mantra

 

साड़ी है फेवरेट चॉइस

– साड़ी तो ऑलटाइम फेवरेट है ही, इसलिए अपने फेस्टिव वार्डरोब में डिज़ाइनर साड़ी शामिल करें.

– डिफरेंट लुक के लिए साड़ी के साथ वेस्टकोट ट्राई करें. ये ख़ूबसूरत लगता है.

– आजकल कॉलर वाले और बंद गले के ब्लाउजेज़ ट्रेंड में हैं.

– आजकल लहंगा और गाउन साड़ी भी बहुत पॉपुलर है और यंगस्टर्स की पहली पसंद भी.

– डिफरेंट लुक के लिए धोती साड़ी, पैंट साड़ी भी ट्राई कर सकती हैं.

– शॉर्ट कुर्ता के साथ साड़ी पेयर करें. ये भी फेस्टिव सीज़न में आपको डिफरेंट लुक देगा.

यह भी पढ़ें: 10 शेपवेयर्स से मिनटों में छुपाएं मोटापा (10 Types Of Shapewear To Look Slimmer And Attractive)

Festival Fashion Mantra

क्रॉप टॉप्स

–  ब्लिंग में कोई क्रॉप टॉप सिलेक्ट करें या फिर आप प्लेन ब्लैक भी पहन सकती हैं. इन्हें हाई वेस्ट स्कर्ट, लहंगा या फ्लेयर्ड पैंट्स के साथ पेयर करें.

– आप सीक्वेंसवाला या कोई एंब्रायडर्ड टॉप भी पहन सकती हैं. ये आपको परफेक्ट फेस्टिव लुक देगा.

–  अगर आपका टॉप सिंपल है, तो आप लोअर्स के साथ एक्सपेरिमेंट करके फेस्टिव लुक क्रिएट कर सकती हैं.

–  आप सीक्वेंसवाली या शिमरी पैंट या स्कर्ट पहन सकती हैं.

कलर्स इन ट्रेंड

–  सॉफ्ट कलर्स सिलेक्ट करें. ये ट्रेंड में हैं और फेस्टिवल के लिए परफेक्ट चॉइस भी.

–  बेज, ऑफ व्हाइट के साथ गोल्ड वर्क का कॉम्बीनेशन रॉयल लुक देता है.

–  पेस्टल शेड्स भी इस फेस्टिव सीज़न में काफी पॉप्युलर रहेंगे. पेस्टल ग्रीन, पीच, पिंक जैसे सॉफ्ट पेस्टल कलर्स ट्राई करें.

– चाहें तो एक ही कलर के दो शेड को कंबाइन करें. ये लेटेस्ट फैशन मंत्र है.

– ऑफ व्हाइट कलर सिलेक्ट कर रही हैं तो उसके साथ ऑलिव ग्रीन का कॉम्बीनेशन ट्राई करें. ये आपको ट्रेंडी लुक देगा.

– गोल्ड कभी आउट ऑफ फैशन नहीं होता और त्योहारों व स्पेशल ओकेज़न पर रॉयल लुक भी देता है. इसलिए अपने वार्डरोब में इन्हें भी शामिल करें.

फ्रिंजेस का है फैशन

– आजकल फ्रिंजेस काफ़ी इन है. यह बहुत ही अलग लगता है और अपने फेस्टिवल सीज़न को कूल बनाने के लिए आप भी इसे ट्राई कर सकती हैं.

– टॉप्स में या पैंट्स में या लेयर्स, हैंड बैग्स… सभी में फ्रिंजेस उपलब्ध हैं. आपकी चॉइस है कि आपको इसे कैसे पहनना है.

मेश यानी नेट भी है कूल

–  ये लाइटवेट भी होता है और कूल लुक देता है. आप सिंपल प्लेन इनर के ऊपर नेट पहन सकती हैं.

–  नियॉन कलर्स पर भी आप नेट पहनकर डिफरेंट लुक ट्राई कर सकती हैं.

–  मेटालिक इनर्स पर भी आप ब्लैक मेश पहन सकती हैं.

नियॉन ट्राई करें

–  नियॉन कलर्स सिंपल-सी ड्रेस को भी फेस्टिव लुक देते हैं.

–  अगर बहुत ज़्यादा ब्राइट कलर्स पहनने से परहेज़ है, तो स़िर्फ टॉप्स में एक्सपेरिमेंट करें. लाइट लोअर के साथ नियॉन टॉप्स पहनें.

– आप ट्रेडिशनल वेयर में भी इन कलर्स को ट्राई कर सकती हैं.

गॉर्जियस गाउन्स

–  इनकी सबसे बड़ी ख़ूबी यह होती है कि ये कभी भी आउट ऑफ फैशन नहीं होते.

– आप गाउन्स भी पहन सकती हैं.

–  ये हर ओकेज़न पर ग्लैमरस और ख़ूबसूरत ही लगते हैं.

– ट्रेडिशनल लुक के लिए एम्ब्रॉयडरीवाला या कॉटन गाउन पहनकर ट्रेडिशनल हैवी ज्वेलरी पहनें.

– अगर मॉडर्न लुक चाहती हैं, तो शिमरी, सीक्वेंस या मेटालिक गाउन्स ट्राई करें.

बॉडी ज्वेल्स

– ये भले ही आपको थोड़ा एक्स्ट्रा लगे, पर यक़ीन मानें, ये फेस्टिवल लुक में मैजिक क्रिएट कर देंगे. आपके सिंपल से आउटफिट को भी अलग दिखाएंगे.

– अगर आप पूरा नया आउटफिट नहीं लेना चाहतीं, तो बॉडी पर ग्लिटर और स्टोन्स अप्लाई करें. फेस पर भी अपने मेकअप में आप ग्लिटर और ज्वेल ऐड कर सकती हैं.

फेस्टिवल मस्टहैव्स

फेस्टिवल मस्टहैव्स: एम्ब्रॉयडर्ड कुर्तीज़ या टॉप्स, सीक्वेंसवेय, शिमरी आउटफिट्स, लेसी वेयर, साड़ियां, लहंगा-चोली, अनारकली, स्टाइलिश चोली और ट्रेंडी ब्लाउज़ेस, कोर्सेट, अलग-अलग तरह के दुपट्टे, चंकी ज्वेलरी, हील्स और ट्रेडिशनल फ्लैट्स.

– योगिनी भारद्वाज

यह भी पढ़ें: फैशन ब्लंडर्स: क्या आप भी करती हैं ये 5 ग़लतियां? (5 Fashion Blunders You Might Be Making)

 

कैसे मनाएं सेफ दिवाली? (How To Celebrate Happy And Safe Diwali)

Diwali

कैसे मनाएं सेफ दिवाली? (How To Celebrate Happy And Safe Diwali)

दिवाली (Diwali) रोशनी का त्योहार (Festival) है. यह अपने साथ ढेर सारी ख़ुशियां लाती है. हम सभी इस त्योहार को पूरे धूमधाम से उमंग-उत्साह से मनाते है. लेकिन इस रोशनी के पर्व में थोड़ी सावधानी भी बेहद ज़रूरी है यानी फेस्टिवल मनाएं, पर सेफ्टी (Safety) का भी पूरा ख़्याल रखें, विशेषकर पटाखे जलाते समय. यहां पर हम कुछ सेफ्टी रूल्स (Safety Rules) बता रहे हैं.

–    पटाखे जलाते समय पैरों में चप्पल या जूते ज़रूर पहनें. कभी भी नंगे पांव पटाखे न जलाएं.

–    पटाखे हमेशा खुली जगह पर जलाएं यानी कभी भी घर के अंदर या बंद स्थान पर पटाखे ना फोड़ें. पटाखे जलाने के लिए घर के बाहर, छत पर या फिर आंगन भी ठीक है.

–    साथ ही आसपास देख लें कि कहीं कोई आग फैलानेवाली या फ़ौरन आग पकड़नेवाली चीज़ तो नहीं है.

–    बच्चे-बड़े सभी पटाखे जलाते समय आसपास बाल्टी भरकर पानी ज़रूर रखें. साथ ही जलने पर लगनेवाली इमर्जेंसी दवाएं भी

ज़रूर रखें.

–    यदि पटाखे से जल जाएं, तो जले हुए स्थान पर तुरंत पानी के छींटें मारें.

–    हमेशा लाइसेंसधारी और विश्‍वसनीय दुकानों से ही पटाखे ख़रीदें.

ये न करें…

–    कुछ लोग बहादुरी दिखाने के लिए पटाखे हाथ में पकड़कर जलाने की कोशिश करते हैं. ऐसा न करें, क्योंकि ऐसा करने से पटाखों के हाथ में फटने और दुर्घटना होने की संभावना रहती है.

–    पटाखों को दीये या मोमबत्ती के आसपास ना जलाएं.

–    जब आपके आसपास कोई पटाखे जला रहा हो, तो उस समय आप भी पटाखे ना जलाएं.

–   बिजली के तारों के आसपास क्रैकर्स न फोड़ें.

–   यदि किसी पटाखे को जलने में बहुत अधिक समय लग रहा है, तो उसे दोबारा ना जलाएं, बल्कि किसी सेफ जगह पर फेंक दें.

–   आधे जले हुए पटाखों को इधर-उधर ना फेंकें. उसे पानी में डुबोकर फेंक दें.

–    रॉकेट जैसे पटाखे ऐसे समय में बिल्कुल न जलाएं, जब ऊपर किसी तरह की रुकावट जैसे पेड़, बिजली के तार आदि हों.

–   दीपावली पर कॉटन के कपड़े पहनकर ही पटाखों का आनंद लें. ध्यान रहे, रेशमी या फिर नायलॉन के आउटफिट बिल्कुल भी न पहनें.

–    खुली फ्लेम के कारण पटाखे जलाने के लिए माचिस या लाइटर का इस्तेमाल न करें, यह ख़तरनाक हो सकता है.

–    कभी भी छोटे बच्चों के हाथ में कोई पटाखा न दें.

–   यदि आपकी कार है, तो उसे गैराज में रख दें या फिर उसे अच्छी तरह से कवर कर दें.

–   दीपावली पर घर की खिड़कियां बंद ही रखें तो अच्छा है. साथ ही उन पर रेशमी पर्दे न लगाएं, वरना कोई चिंगारी लगने पर तेज़ी से आग फैलने का डर बना रहता है.

–   सभी पटाखों को हमेशा किसी बंद डिब्बे में ही रखें, विशेषकर दिवाली की रात को.

–    क्रैकर्स जलाते समय पैकेट में दिए गए निर्देशों को भी ज़रूर देख लें और उसी के अनुसार पटाखों को जलाएं.

–   बेहतर होगा कि पटाखे जलाते समय फुल स्लीव्स के ड्रेसेस ही पहने जाएं.

–    पटाखों का आनंद लेते समय किसी इमर्जेंसी वाली सिचुएशन के लिए भी तैयार रहें.

–   यदि आप बहुत सारे लोगों के साथ मिलकर पटाखे जला रहे हैं, तो इस बात का ख़्याल रखें कि एक समय में एक ही शख़्स पटाखे जलाए, क्योंकि यदि कई लोग साथ-साथ पटाखे जलाएंगे, तो दुर्घटना होने की संभावना बढ़ जाती है.

–    यदि आपके घर में पालतू जानवर, जैसे- बिल्ली, डॉगी आदि हैं, तो उन्हें पटाखों से दूर ही रखें. बेज़ुबान जानवर दिवाली के दिन शोर-शराबे से बेहद परेशान हो जाते हैं. यदि संभव हो, तो उनके कान में कॉटन डाल दें.

–    भीड़वाली जगह, पतली गलियों या घर के पास में पटाखे न जलाएं.

–    छोटे बच्चों को ख़ुद से पटाखे न जलाने दें. उनके साथ किसी बड़े को ज़रूर रखें.

–    कभी भी पैंट की जेब में पटाखे न रखें.

–    ढीले-ढाले कपड़े पहनकर पटाखे न जलाएं.

–    जहां पर पटाखे रखे हों, वहां पर माचिस की जली तीली या फिर अगरबत्ती आदि न फेंकें.

–    ध्यान रहे, कभी भी पटाखों के साथ कोई एक्साइटमेंट या फिर एक्सपेरिमेंट करने का प्रयास न करें. यह ख़तरनाक हो सकता है.

–    सड़क के कुत्तों या फिर अन्य जानवरों को पटाखों से परेशान न करें.

–   पटाखे जलाते समय पेट्रोल, गैस सिलेंडर, डीज़ल, केरोसिन आदि चीज़ें आसपास न हों, इस बात का ख़्याल रखें.

–   यदि पटाखे जलाते समय जल जाएं, तो तुरंत टूथपेस्ट व बरनॉल लगाएं. आवश्यक लगे, तो डॉक्टर को दिखाएं.

– सावित्री गुप्ता

यह भी पढ़ें: चरणामृत और पंचामृत में क्या अंतर है? (What Is The Difference Between Charanamrit And Panchamrit)

 

फेस्टिवल मेकअप टिप्स (Festival Makeup Tips)

फेस्टिवल मेकअप टिप्स (Festival Makeup Tips)

ख़्वाबों में मिला था अक्सर तुमसे, रू-ब-रू जब देखा, तो पाया… कहते थे जिसे परी या अप्सरा, वो है तेरे ही हुस्न का साया… रंगों-सी ख़ूबसूरत, चांदनी-सी हसीन… संदली ख़ुशबू-सी महकती, रेशम-सी हो तुम नाज़नीन… फेस्टिवल टाइम में आप भी चाहती होंगी कि हर नज़र आप पर ही ठहर जाए, तो ऐसे में यहां बताए गए फेस्टिवल मेकअप (Festival Makeup) से अपना लुक क्रिएट करें और लगें सबसे जुदा, सबसे हसीन.

रेड लिप्स…

 

Festival Makeup Tips

 

–   रेड लिप्स हमेशा ही हॉट और इन रहते हैं.

–   ये ग्लैमरस लुक देते हैं और हर ओकेज़न पर कूल लगते हैं.

–    ईवनिंग लुक के लिए जहां ये हॉट लगते हैं, वहीं डे में आपको इंस्टेंट फ्रेश लुक देते हैं.

–   इस लुक के लिए फेस मेकअप करें. प्राइमर और फाउंडेशन लगाने के बाद ब्लश ऑन करें.

–    आई मेकअप सिंपल रखें. अपर आईलिड पर ब्लैक आईलाइनर अप्लाई करें. चाहें तो विंग्ड लाइनर यूज़ करें.

–    लिप्स पर हॉट चिली रेड कलर अप्लाई करें. एक कोट के बाद टिश्यू से एक्स्ट्रा लिप कलर को हटा दें, फिर से लिप कलर अप्लाई करें. अगर मैट फिनिश पसंद है, तो मैट लिपस्टिक यूज़ करें, पर फेस्टिवल में थोड़ा शाइनी इफेक्ट चाहती हैं, तो ग्लॉसी लिप कलर अप्लाई करें.

–    रेड लिप कलर का शेड आप अपनी स्किन टोन के अनुसार सिलेक्ट कर सकती हैं.

गोल्डन ग्लो

Makeup Tips

–   फेस्टिवल टाइम हो, तो शिमरी लुक और गोल्ड को अवॉइड नहीं किया जा सकता. आप अपने लुक में भी ला सकती हैं यही गोल्डन ग्लो.

–    फेस मेकअप करें. ब्रॉन्ज़र यूज़ करें.

–    शिमरी गोल्ड आईशैडो अप्लाई करें.

–    फेस्टिवल लुक के लिए क्रीमी आईशैडो यूज़ करेंगी, तो बेहतर होगा. चाहें तो अलग से गोल्डन ग्लिटर अप्लाई कर सकती हैं या ग्लिटरी शैडो लगाएं.

–    अपर आईलिड पर ब्लैक आईलाइनर लगाएं. आंखों में काजल और उसके बाद मस्कारा अप्लाई करें.

–    लिप्स को भी गोल्डन टच दें. मेटालिक लिप कलर यूज़ करें.

–    गोल्डन हेयर एक्सेसरीज़ से अपने लुक को कंप्लीट करें.

फ्रूटी कलर्स

Diwali Makeup Tips

–   फेस्टिवल टाइम वैसे भी कलर्स और ग्लो का होता है. यही कलर्स आपके फेस पर आकर ठहर जाएं, तो ग्लो अपने आप आ जाता है.

–    बेसिक फेस मेकअप के बाद आप अपनी आईज़ और लिप्स को कलर्स से हाईलाइट करें.

–    आंखों पर कलरफुल मैट यानी पाउडर आईशैडो अप्लाई करें, जैसे- इनर कॉर्नर पर पिंक या यलो कलर और आउटर पर ऑरेंज या रेड या फिर अपने आउटफिट के अनुसार कलर्स अप्लाई करें.

–    मस्कारा ज़रूर लगाएं.

–   लिप्स पर भी आप दो-तीन शेड्स का कॉम्बीनेशन ट्राई कर सकती हैं.

–   ब्राइट पिंक कलर अप्लाई करें और बीच में गोल्ड लिक्विड लिप कलर लगाकर शिमर अप्लाई करें.

–    लिप कलर्स ग्लिटरी और ग्लॉसी रखें, ताकि फेस्टिवल लुक हाईलाइट हो.

–    स्ट्रेट सिल्की हेयर इस लुक को कॉम्प्लीमेंट करेंगे.

यह भी पढ़ें: दिवाली में 10 ब्यूटी टिप्स से पाएं नया निखार (10 Best Skin Care Tips For Diwali)

सिल्वर लुक, स्मोकी आईज़

Makeup Tips For Diwali

–   फ्रेश और कूल लुक के लिए आप सिल्वर लुक ट्राई कर सकती हैं.

–    आउटफिट सिल्वर और व्हाइट रखें और इसी को कॉम्प्लीमेंट करता हुआ मेकअप करें.

–    बेस फेस मेकअप करें. क्लीन लुक रखें. मैट फिनिश होगा, तो बेहतर रहेगा.

–    आंखों में काजल लगाएं.

–    अब स्मोकी लुक के लिए शिमरी ग्रे ब्लैक आईशैडो अप्लाई करें. स्मजर से स्मज करें. अच्छी तरह ब्लेंड कर लें.

–   अपर आईलिड पर अंदर की तरफ़ डार्क ब्लैक रखें, बाहर की तरफ़ शेड लाइट करती जाएं, ताकि स्मोकी इफेक्ट क्रिएट हो.

–    मस्कारा अप्लाई करें.

–    लिप्स पर लाइट पिंक कलर अप्लाई करें.

–    सिल्वर ईयररिंग्स और हेयर एक्सेसरीज़ से लुक को कंप्लीट करें.

बी नेचुरल

Natural Makeup Tips

–    अगर आपको बहुत ज़्यादा कलर्स या लाउड मेकअप पसंद नहीं, तो आप अपना लुक सिंपल और नेचुरल भी रख सकती हैं.

–    आपका आउटफिट अगर बहुत कलरफुल है, तो बेहतर होगा न्यूड मेकअप ही सिलेक्ट करें.

–   बेसिक फेस मेकअप करें. मैट फिनिश के लिए कॉम्पैक्ट यूज़ करें या लूज़ पाउडर भी लगा सकती हैं.

–    आंखों में ख़ूब सारा काजल लगाएं.

–    मस्कारा अप्लाई करें.

–    चाहें, तो अपर आईलिड पर आईलाइनर लगा सकती हैं.

–    लिप्स पर नेचुरल पिंक, ब्राउन या न्यूड लिप कलर लगाएं. बेहतर होगा मैट फिनिश हो, ताकि लुक नेचुरल लगे.

–   नेचुरल कर्ली हेयर इस लुक को कॉम्प्लीमेंट करेंगे.

– गीता शर्मा

यह भी पढ़ें: सांवली त्वचा के लिए 10 आसान मेकअप टिप्स (10 Essential Makeup Tips For Dark Skin Tones)

दीपावली में विंड चाइम से लाएं घर में सौभाग्य (Wind Chime For Diwali Decoration)

Wind Chime

दीपावली में विंड चाइम से लाएं घर में सौभाग्य (Wind Chime For Diwali Decoration)

दीपावली (Diwali) में घर की सजावट का सामान ख़रीदते समय अपनी शॉपिंग लिस्ट में विंड चाइम (Wind Chime) को ज़रूर शामिल करें. विंड चाइम से घर की ख़ूबसूरती निखरती है और घर में सौभाग्य भी आता है. हां, विंड चाइम ख़रीदते समय कुछ बातों का ध्यान दीपावली में घर की सजावट का सामान ख़रीदते समय अपनी शॉपिंग लिस्ट में विंड चाइम को ज़रूर शामिल करें. विंड चाइम से घर की ख़ूबसूरती निखरती है और घर में सौभाग्य भी आता है. हां, विंड चाइम ख़रीदते समय कुछ बातों का ध्यान ज़रूर रखें.

* मार्केट में कई तरह की भारी, हल्की, बड़ी, छोटी और रंगीन विंड चाइम्स (पवन घंटियां) उपलब्ध हैं, लेकिन आप जब विंड चाइम चुनें, तो खोखली व पतली नलीवाली विंड चाइम ही चुनें. ये हवा में आसानी से लहराकर मधुर आवाज़ करती हैं. यदि आप घर में 6 या 7 रॉडवाली विंड चाइम लगाएंगे, तो इससे घर में संपन्नता आती है.

* धातु से बनी विंड चाइम हमेशा पश्‍चिम या उत्तर-पश्‍चिम दिशा में लगाएं. ये दिशाएं धातुओं की होती हैं, इसलिए इन दिशाओं में विंड चाइम लगाने से भाग्योदय होता है और घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है.

* आप चाहें तो लकड़ी की बनी विंड चाइम भी ख़रीद सकते हैं. लकड़ी, ख़ासतौर से बांस से बनी विंड चाइम्स ईको फ्रेंडली होने के साथ-साथ घर-गृहस्थी के मामले में शुभ मानी जाती हैं. इसे दक्षिण-पूर्व दिशा में लगाना शुभ होता है. लकड़ी या बांस की बनी विंड चाइम में भी रॉड की संख्या बहुत मायने रखती है. इसमें रॉड की संख्या तीन या चार हो तो विंड चाइम शुभ फल प्रदान करती है. इससे घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहती है और हर कार्य निर्बाध रूप से पूरा होता है.

* कांच की बनी विंड चाइम भी घर की शोभा बढ़ा सकती है, लेकिन यह अगर भारी हुई तो मधुर आवाज़ पैदा नहीं करेगी.

* घर में पांच नलियों या पांच घंटियोंवाली विंड चाइम लगाना हर तरह से शुभ माना जाता है. इससे नकारात्मकता समाप्त होती है और शुभ फल की प्राप्ति होती है. इसके अलावा अलग-अलग उद्देश्यों के लिए 4, 7, 9, 11 नलियोंवाली विंड चाइम्स भी घर के लिए शुभ मानी जाती हैं.

यह भी पढ़ें: इस दीवाली पर अपने घर को सजाएं इन 5 रंगोली डिज़ाइन्स से (5 Creative Rangoli Designs To Try This Diwali)

* अगर आप अपना सोया हुआ भाग्य जगाना चाहते हैं, तो 6 या 8 रॉडवाली विंड चाइम घर में लगाएं. ये आपके भाग्योदय की बाधाओं को दूर करेगी और आपकी सोई हुई किस्मत को जगा देगी. फेंशगुई और वास्तु में इनका काफ़ी महत्व है.

* अगर आप 2 या 9 घंटियों या नलियों वाली विंड चाइम लगाना पसंद करते हैं, तो सिरामिक की बनी विंड चाइम लेकर आएं. ये विंड चाइम मान-प्रतिष्ठा और यश प्रदान करती है. इसे घर की दक्षिण-पश्‍चिम दिशा में लगाना शुभ होता है.

* आपसी रिश्तों की परेशानियों को हल करने के लिए भी विंड चाइम आपके लिए सहायक साबित हो सकती है.

* अपने बच्चों को सकारात्मक और क्रिएटिव बनाने के लिए उनके कमरे में भी विंड चाइम ज़रूर लगाएं. इसकी मधुर आवाज़ माहौल को ख़ुशनुमा बनाए रखती है.

* अगर आप अपना सामाजिक दायरा बढ़ाना चाहते हैं, तो सिल्वर कलर की विंड चाइम को घर की पश्‍चिम दिशा में लगाएं. इसमें अगर 7 रॉड लगे हों, तो यह काफ़ी लाभ प्रदान करेगी.

* नाम और पैसे की चाहत हो, तो घर की  उत्तर-पश्‍चिम दिशा में पीले रंग की 6 रॉड वाली विंड चाइम लगाएं.

* आप चाहें तो अलग-अलग कलरवाली रंग-बिरंगी विंड चाइम भी लगा सकते हैं. ये आपके घर का माहौल ख़ुशनुमा बनाए रखेगी और सकारात्मकता के साथ-साथ उत्साह का भी संचार करेगी.

यह भी पढ़ें: हैप्पी मैरिड लाइफ के लिए बेडरूम में रखें ये 6 चीज़ें (6 Things To Keep In Your Bedroom For Marital Bliss)

भाई दूज के पावन अवसर को यूं करें सेलिब्रेट (Bhai Dooj Celebration)

Bhai Dooj Celebration

Bhai Dooj Celebration

भैया दूज
दिवाली के अंतिम दिनों का पांचवां त्योहार भैया दूज है.
  • भाई दूज के दिन विवाहित या अविवाहित बहनों को प्रात: स्नान आदि से निपटकर भाई के स्वागत की तैयारी करनी चाहिए.
  • इस दिन यम की पूजा या भाई के आवभगत का तरीक़ा अलग होता है. इसके अनुसार बहनों को भाई के माथे पर तिलक लगाकर उनकी आरती उतारनी चाहिए और कलावा बांधकर मुंह मीठा करने के लिए उन्हें माखन-मिश्री खिलानी चाहिए.
  • इस विधि के संपन्न होने तक दोनों को व्रती रहना चाहिए.
  • बहनों को शाम के समय यमराज के नाम से चौमुख दीया जलाकर घर के बाहर रखना चाहिए. इस समय आसमान में चील उड़ती दिखाई देने पर बहुत ही शुभ माना जाता है.
  • इस संदर्भ में मान्यता यह है कि बहनें भाई की आयु के लिए जो दुआ मांग रही हैं, उसे यमराज ने क़बूल कर लिया है.यह भी पढ़ें: दिवाली स्पेशल: टॉप 5 रंगोली डिज़ाइन्स से करें ख़ुशियों का स्वागत

      यह भी पढ़ें: मनाएं सेफ और हेल्दी दिवाली

क्या करें?
  • भाई को अपनी विवाहिता बहन के घर अवश्य जाना चाहिए.
  • बहन को अपने भाई का आतिथ्य सत्कार करना चाहिए और तिलक लगाकर उनके उज्ज्वल भविष्य, जीवन, स्वास्थ्य आदि की कामना करनी चाहिए.
क्या न करें?
  •  भाई को अपने घर बहन के आने का इंतज़ार नहीं करना चाहिए, बल्कि उसे ही बहन के घर जाना चाहिए.
  • बहन यमदेव की पूजा तक कुछ भी न खाए-पीए.

– मनीषा कौशिक

(वास्तु-फेंगशुई एक्सपर्ट)

[amazon_link asins=’B013RIQ4K6,B0119PTX48,B01BQ7VTZA,B073S665L9,B0768JHDZ4′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’c52b7f35-b4b2-11e7-a614-a9ff6480c960′]

गोवर्धन पूजा के दिन क्या करें, क्या न करें? (Do’s & Don’ts For Gowardhan Pooja)

Do's & Don'ts For Gowardhan Pooja

दिवाली की अगली सुबह गोवर्धन पूजा (Gowardhan Pooja) होती है. इस दिन गायों की पूजा की जाती है. मान्यता है कि गाय देवी लक्ष्मी का स्वरूप है. भगवान श्रीकृष्ण ने आज ही के दिन इंद्र का मान-मर्दन कर गिरिराज पूजन किया था.

– गायों को सुबह स्नान करवाकर फूल- माला, धूप, चंदन आदि से उनकी पूजा की जाती है. गाय के गोबर से गोवर्धन बनाया जाता है.

– पूजा के बाद गोवर्धनजी की सात परिक्रमाएं उनकी जय-जयकार करते हुए की जाती है.

– गोवर्धनजी गोबर से लेटे हुए पुरुष के रूप में बनाए जाते हैं. इनकी नाभि के स्थान पर एक कटोरी या मिट्टी का दीपक रख दिया जाता है. फिर इसमें दूध, दही, गंगाजल, शहद, बताशे आदि पूजा करते समय डाल दिए जाते हैं और बाद में इसे प्रसाद के रूप में बांट दिया जाता है.

क्या करें?

– गोवर्धन पूजा पूरे विधि-विधान के साथ शुभ मुहूर्त में करें. बेहतर होगा किसी पंडित से पूजा करवाएं.

– पूजा से पहले प्रात:काल तेल मालिश कर स्नान करें.

– घर के बाहर गोवर्धन पर्वत बनाएं. फिर पूजा करें.

क्या न करें?

– गोवर्धन पूजा और अन्नकूट का आयोजन बंद कमरे में न करें.

– गायों की पूजा करते हुए ईष्टदेव या भगवान कृष्ण की पूजा करना न भूलें.

– इस दिन चंद्र का दर्शन न करें.

यह भी पढ़ें: दिवाली के दिन शुभ फल प्राप्ति के लिए क्या करें, कैसे करें?

यह भी पढ़ें: दिवाली स्पेशल: लक्ष्मी जी की आरती

[amazon_link asins=’B015SGDM3W,B01L1IULRG,B072KN419J,B075R4SNKR,B01M09QGJD,B0761KD9C2,B0117P7W3Y,B075S9VHM4′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’9248b982-b4b1-11e7-ba56-ffc1e998b6ed’]

 

दिवाली के दिन शुभ फल प्राप्ति के लिए क्या करें, कैसे करें? (Do’s And Don’ts Of A Prosperous Diwali)

do's and don'ts during diwali
दीपावली में सुख, समृद्धि और देवी लक्ष्मी की कृपा बनी रहे, इसके लिए इन पांच दिनों में आपको कुछ बातों का ध्यान रखना होगा, जैसे- पूजा की विधि, शुभ फल प्राप्ति के लिए क्या करें, किन बातों से बचें आदि. दीपावली के शुभ पर्व की शुरुआत होती है धनतेरस से, इस दिन किस तरह से पूजा-अर्चना करें और किन बातों का ख़्याल रखें, ताकि मां लक्ष्मी की कृपा आप पर बनी रहे, सबसे पहले यही जानते हैं.

नरक चतुर्दशी

यह दूसरे दिन मनाया जानेवाला पर्व है, जिसे छोटी दिवाली भी कहा जाता है. इस दिन की शाम को दीपदान करने की मान्यता है, जो यमराज के लिए किया जाता है.

– इस दिन स्नानादि के बाद मंदिर में भगवान विष्णु और भगवान कृष्ण की पूजा करें.

– रात को घर के सबसे बुज़ुर्ग सदस्य द्वारा एक दीपक जलाकर पूरे घर में घुमाने के बाद उस दीप को घर से बाहर कहीं दूर इस मान्यता और विश्‍वास के साथ रखें कि सभी बुराइयां और हानिकारक शक्तियां घर से बाहर चली जाएं.

– मुख्य द्वार पर दक्षिण दिशा में चावल की ढेरी बनाकर उस पर दीया जलाएं.

– यमराज को अकाल मृत्यु से दूर रखने की प्रार्थनाकरें.

यह भी पढ़ें: दीपावली 2017: मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के 20 अचूक उपाय

दीपावली

धार्मिक व सामाजिक मान्यता के अनुसार पांच दिनों तक हिंदू रीति से उत्सव की तरह मनाया जानेवाला त्योहार है दिवाली.

पूजन सामग्री और विधि

सामग्री: दीपक, कमल के फूल, जावित्री, केसर, रोली, चावल, पान के पांच पत्ते, सुपारी, एक थाली में फल, दूसरी थाली में गुलाब और गेंदा आदि के फूल, दूध, खील-बताशे, नारियल, सिंदूर, सूखे मेवे, मिठाई की भरी थाल, दही, गंगाजल, दूब, अगरबत्ती, आंगन आदि में जलाने के लिए 11 या 21 की संख्या में मिट्टी के दीपक, रूई, कलावा, तांबे का कलश और तांबे के अन्य पात्र, सिक्के तथा रुपए.

विधि: सबसे पहले थाली में या भूमि को शुद्ध करके नवग्रह बनाएं या नवग्रह का यंत्र स्थापित करें. इसके साथ ही एक तांबे या मिट्टी का कलश रखें, जिसमें गंगाजल, दूध, शहद, सुपारी, सिक्के और लौंग वग़ैरह डालें तथा उसे लाल कपड़े से ढंककर एक कच्चे नारियल और कलावे से बांध दें.

– बनाए गए नवग्रह यंत्र के स्थान पर रुपया, सोना या चांदी का सिक्का, देवी लक्ष्मी की मूर्ति और मिट्टी के बने हुए लक्ष्मी, गणेश, सरस्वती, ब्रह्मा, विष्णु, महेश आदि देवी-देवताओं की मूर्तियां या चित्रों से सजाएं.

– यदि कोई धातु की मूर्ति हो, तो उसे साक्षात रूप मानकर दूध, दही और गंगाजल से स्नान कराकर अक्षत-चंदन का शृंगार करें और फल-फूल आदि से सजाएं. इसके दाहिनी ओर घी या तिल का एक पंचमुखी दीपक अवश्य जलाएं.

– घर के किसी मुख्य सदस्य या नित्य पूजा-पाठ करनेवाले व्यक्ति को महालक्ष्मी पूजन के समय तक उपवास रखना चाहिए.

– ध्यान रहे पूजन के लिए उत्तर या पूर्व दिशा में मुख करके बैठें.

– सबसे पहले गणेश और अंबिका का पूजन करें. फिर कलश स्थापन और नवग्रह पूजन के बाद लक्ष्मी समेत दूसरे देवी-देवताओं का पूजन करें.

– इस पूजन के बाद तिजोरी में गणेश तथा लक्ष्मी की मूर्ति रखकर विधिवत पूजा करें. पूजन के स्थान पर चौमुखा दीपक जलाएं तथा पूजा के बाद घर के कोने-कोने में दीपक जलाकर रखें.

– कारोबारियों को अपने कार्यक्षेत्र पर बही-खातों की पूजा करना चाहिए. पूजा के बाद जितनी जैसी श्रद्धा हो, उसके अनुरूप घर के छोटे बच्चों, बहू-बेटियों को रुपया-पैसा या दूसरी वस्तुओं का दान देना चाहिए.

– रात के बारह बजे दुकान की गद्दी की भी विधिपूर्वक पूजा करें. परंपरा के अनुसार दीपावली पूजन के बाद चूने या गेरू में रूई भिगोकर चक्की, चूल्हा, सिल-बट्टा तथा सूप पर तिलक करना चाहिए.

– देवी लक्ष्मी की पूजा के समय उनके मंत्र-ॐ श्रीं हृीं श्रीं महालक्ष्म्यै नम: का लगातार उच्चारण करते रहें.

[amazon_link asins=’B015SGDM3W,B015V0DRSA,B075JDN39F’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’8016cd17-b3e5-11e7-bb70-63f5d5165e59′]

क्या करें?

दीपावली की पूजा किसी योग्य पुजारी से विधि-विधान से संपन्न करवाएं.

– पूजा की तैयारी सूर्योदय से पहले ही नित्यकर्म एवं स्नान आदि से निबटकर कर लें.

– पूजन से पहले घर की अच्छी तरह साफ़-सफ़ाई करें. घर को फूल, आम के पत्ते, रंगोली, रंगीन बल्ब आदि से सजाएं.

– पूजाघर सही तरह से सुसज्जित होना चाहिए. सजावट में विविध रंगों का
इस्तेमाल करें.

– पूजा के क्रम में अच्छी ख़ुशबूदार अगरबत्ती या धूप का इस्तेमाल करें. इनमें गुलाब या चंदन की धूप सबसे बेहतर रहती है.

– घर के प्रवेश द्वार के दोनों ओर दीया जलाएं.

क्या न करें?

– घर में व प्रवेश द्वार पर कहीं भी गंदगी न रहने दें.

– रंगों, फूलों आदि से सजावट करते हुए या रंगोली बनाते समय ध्यान रहे कि काले या गाढ़े भूरे रंग का इस्तेमाल न के बराबर हो.

– पूजा का स्थान घर के दक्षिण, पश्‍चिम या उत्तर की ओर न बनाएं. किसी भी एक देवी या देवता की दो मूर्तियां या तस्वीरें न रखें.

– घर के कोने-कोने में नमक मिश्रित जल का छिड़काव करने के बाद अपना हाथ धोना नहीं भूलें.

– उपहार में चमड़े की बनी वस्तुएं किसी को भी न दें.

यह भी पढ़ें: दिवाली स्पेशल: लक्ष्मी जी की आरती

वास्तु टिप्स

– घर के आंगन, बड़े हॉल या फिर प्रवेश द्वार पर रंगोली बनाएं. उसके बीच में दीपक जलाएं. दीये के मुख को दक्षिण-पूर्व दिशा में रखकर जलाने से सुख-समॄिद्ध बढ़ती है. इसी के साथ मुख्य द्वार पर घर में प्रवेश करते हुए पैरों के
निशान बनाएं.

– घर का उत्तरी भाग धन का प्रतिनिधित्व करता है, अत: लक्ष्मी पूजा इसी हिस्से में की जानी चाहिए.

– पूजाघर में भगवान गणेश को देवी लक्ष्मी के बाईं ओर तथा देवी सरस्वती को लक्ष्मी के दाईं ओर रखना चाहिए. सभी देवी-देवताओं की मूर्तियां या तस्वीरें बैठी हुई अवस्था में होनी चाहिए, जिन्हें उत्तर-पूर्व दिशा की ओर मुख किए हुए
रखना चाहिए.

– पानी का कलश पूर्व या उत्तर दिशा में रखें. पूजा स्थल या पूजा घर में मूर्तियां रखते समयइस बात का ध्यान रखें कि वे किसी भी दरवाज़े के सामने या रास्ते में न पड़ें.

– पूजा स्थल पर पूर्व या उत्तर की दिशा में एक चौड़े बर्तन के पानी में तैरती हुई ताज़ा गुलाब की पंखुड़ियां रखें.

– ॐ या स्वस्तिक के चिह्न को उत्तर या पूर्व दिशा की दीवारों पर ही लगाएं.

– जब घर के बाहर दीये जलाएं, तो इन्हें चार के गुणक के रूप में रखें. प्रत्येक दीया लक्ष्मी, गणेश, कुबेर और इंद्र का प्रतिनिधित्व करता है.

– उपहार के लिए धातु के सामान या कपड़े आदि को उपयुक्त माना गया है. सजावटी वस्तुओं में पेंटिंग, क्रिस्टल बॉल आदि हो सकते हैं.

– घर की सजावट के क्रम में प्रकाश-व्यवस्था घर के मुख्य द्वार की दिशा के अनुरूप होनी चाहिए. यदि मुख्य द्वार उत्तर या उत्तर-पश्‍चिम की ओर हो, तो हरे या पीले रंग की रोशनी का इस्तेमाल करें.

– यदि मुख्य प्रवेश पूर्व की ओर हो, तो पीले रंग की रोशनी का इस्तेमाल करें.

– यदि मुख्य प्रवेश दक्षिण-पूर्व हो, तो लाल रंग की रोशनी का इस्तेमाल करें.

– यदि प्रवेश द्वार दक्षिण या दक्षिण-पश्‍चिम या पश्‍चिम की ओर हो, तो लाल और नीले रंग की रोशनी का उपयोग करना चाहिए. इसी तरह से उत्तर-पूर्व की दिशा में प्रवेश द्वार होने की स्थिति में नीला रंग सही होता है.

 

[amazon_link asins=’B075S9VHM4,B016UEUCES,B075R4SNKR,B01G993L4M’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’a7aec254-b3e5-11e7-b8ea-f504dbc1b8d9′]

गोवर्धन पूजा

दिवाली की अगली सुबह गोवर्धन पूजा होती है. इस दिन गायों की पूजा की जाती है. मान्यता है कि गाय देवी लक्ष्मी का स्वरूप है. भगवान श्रीकृष्ण ने आज ही के दिन इंद्र का मान-मर्दन कर गिरिराज पूजन किया था.

– गायों को सुबह स्नान करवाकर फूल- माला, धूप, चंदन आदि से उनकी पूजा की जाती है. गाय के गोबर से गोवर्धन बनाया जाता है.

– पूजा के बाद गोवर्धनजी की सात परिक्रमाएं उनकी जय-जयकार करते हुए की जाती है.

– गोवर्धनजी गोबर से लेटे हुए पुरुष के रूप में बनाए जाते हैं. इनकी नाभि के स्थान पर एक कटोरी या मिट्टी का दीपक रख दिया जाता है. फिर इसमें दूध, दही, गंगाजल, शहद, बताशे आदि पूजा करते समय डाल दिए जाते हैं और बाद में इसे प्रसाद के रूप में बांट दिया जाता है.

क्या करें?

– गोवर्धन पूजा पूरे विधि-विधान के साथ शुभ मुहूर्त में करें. बेहतर होगा किसी पंडित से पूजा करवाएं.

– पूजा से पहले प्रात:काल तेल मालिश कर स्नान करें.

– घर के बाहर गोवर्धन पर्वत बनाएं. फिर पूजा करें.

क्या न करें?

– गोवर्धन पूजा और अन्नकूट का आयोजन बंद कमरे में न करें.

– गायों की पूजा करते हुए ईष्टदेव या भगवान कृष्ण की पूजा करना न भूलें.

– इस दिन चंद्र का दर्शन न करें.

यह भी पढ़ें: फेस्टिव स्पेशल: रंगोली डिज़ाइन्स

bhaiya-dooj

भैया दूज

दिवाली के अंतिम दिनों का पांचवां त्योहार भैया दूज है.

– भाई दूज के दिन विवाहित या अविवाहित बहनों को प्रात: स्नान आदि से निपटकर भाई के स्वागत की तैयारी करनी चाहिए.

– इस दिन यम की पूजा या भाई के आवभगत का तरीक़ा अलग होता है. इसके अनुसार बहनों को भाई के माथे पर तिलक लगाकर उनकी आरती उतारनी चाहिए और कलावा बांधकर मुंह मीठा करने के लिए उन्हें माखन-मिश्री खिलानी चाहिए. इस विधि के संपन्न होने तक दोनों को व्रती रहना चाहिए.

– बहनों को शाम के समय यमराज के नाम से चौमुख दीया जलाकर घर के बाहर रखना चाहिए. इस समय आसमान में चील उड़ती दिखाई देने पर बहुत ही शुभ माना जाता है. इस संदर्भ में मान्यता यह है कि बहनें भाई की आयु के लिए जो दुआ मांग रही हैं, उसे यमराज ने क़बूल कर लिया है.

क्या करें?

– भाई को अपनी विवाहिता बहन के घर अवश्य जाना चाहिए.

– बहन को अपने भाई का आतिथ्य सत्कार करना चाहिए और तिलक लगाकर उनके उज्ज्वल भविष्य, जीवन, स्वास्थ्य आदि की कामना करनी चाहिए.
क्या न करें?

– भाई को अपने घर बहन के आने का इंतज़ार नहीं करना चाहिए, बल्कि उसे ही बहन के घर जाना चाहिए.

– बहन यमदेव की पूजा तक कुछ भी न खाए-पीए.

– मनीषा कौशिक
(वास्तु-फेंगशुई एक्सपर्ट)

दिवाली स्पेशल: लक्ष्मी जी की आरती (Aarti- Lakshmi Ma)

Aarti godess Lakshmi ji maa

लक्ष्मी जी की आरती (Aarti- Lakshmi Ma)

Aarti godess Lakshmi ji maa

जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता ।
तुमको निशदिन सेवत, हर विष्णु विधाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

ब्रह्माणी रूद्राणी कमला, तू ही है जगमाता ।
सूर्य चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

दुर्गा रूप निरंजन, सुख सम्पति दाता ।
जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि सिद्धि धन पाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

तू ही है पाताल बसन्ती, तू ही है शुभ दाता ।
कर्म प्रभाव प्रकाशक, भवनिधि से त्राता ॥
जय लक्ष्मी माता…

जिस घर थारो वासो, तेहि में गुण आता ।
कर न सके सोई कर ले, मन नहीं धड़काता ॥
जय लक्ष्मी माता…

तुम बिन यज्ञ न होवे, वस्त्र न कोई पाता ।
खान पान को वैभव, सब तुमसे आता ॥
जय लक्ष्मी माता…

शुभ गुण सुंदर मुक्तता, क्षीर निधि जाता ।
रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

आरती लक्ष्मी जी की, जो कोई नर गाता ।
उर आनन्द अति उपजे, पाप उतर जाता ॥
जय लक्ष्मी माता…

स्थिर चर जगत बचावे, शुभ कर्म नर लाता ।
राम प्रताप मैया की शुभ दृष्टि चाहता ॥
जय लक्ष्मी माता…

यह भी पढ़ें: दिवाली के 5 दिन शुभ फल प्राप्ति के लिए क्या करें, कैसे करें?

यह भी पढ़ें: मनाएं सेफ और हेल्दी दिवाली

श्री गणेश जी की आरती 

Aarti lord ganesh ji

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

एक दंत दयावंत चार भुजा धारी।

माथे सिंदूर सोहे मूसे की सवारी ॥

जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा
माता जाकी पार्वती पिता महादेवा

अंधन को आंख देत, कोढ़िन को काया।

बांझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ॥

जय…

हार चढ़े, फूल चढ़े और चढ़े मेवा।

लड्डुअन का भोग लगे संत करें सेवा ॥ जय…

दीनन की लाज रखो, शंभु सुतकारी।

कामना को पूर्ण करो जाऊं बलिहारी॥

जय..

[amazon_link asins=’B075R4SNKR,B01L3MBG1U,B01HA4I4NI’ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’40d22a39-b237-11e7-aad0-b3b17632a053′]

DIY घर पर बनाएं ख़ूबसूरत एक्रेलिक रंगोली (DIY- Easy To Make Decorative Acrylic Rangoli)

Decorative Acrylic Rangoli


सामग्री:
एक्रेलिक डिज़ाइन पीसेस
गोल्डन कुंदन
सिल्वर कुंदन
ग्रीन कुंदन
गोल्डन बॉल चेन
ग्रीन बॉल चेन
फैब्रिक ग्लू
कैंची
गोल्डन रिंग
हाफ गोल्डन मोती

DIY घर पर बनाएं डिज़ाइनर कुंदन दीया
दीपावली 2017: मां लक्ष्मी को प्रसन्न करने के 20 अचूक उपाय

 

विधि:
* सबसे पहले एक्रेलिक रंगोली पीस के गोल हिस्से के किनारों पर फैब्रिक ग्लू लगाएं और उस पर ग्रीन कुंदन चिपकाएं.
* इसी तरह किनारे के डिज़ाइन (देखें चित्र) पर फैब्रिक ग्लू से सिल्वर कुंदन चिपकाएं.
* अब ग्रीन कुंदन के पास गोल्डन बॉल चेन चिपकाएं.
* गोल्डन बॉल चेन के पास ग्रीन बॉल चेन चिपकाएं.
* किनारे के डिज़ाइन पर सिल्वर कुंदन के पास गोल्डन बॉल चेन चिपकाएं.
* फिर गोल हिस्से पर ग्रीन बॉल चेन के पास गोल्डन रिंग चिपकाएं.
* अब गोल्डन रिंग के अंदर हाफ गोल्डन मोती चिपकाएं.

ऐसे ही सारे डिज़ाइन बना लें.

घर पर ख़ूबसूरत एक्रेलिक रंगोली बनाना सीखने के लिए देखें वीडियो:

[amazon_link asins=’B01LYSW8UX,B074DSZ9R2,B01LEYQUK4′ template=’ProductCarousel’ store=’pbc02-21′ marketplace=’IN’ link_id=’ff0476ce-b0d3-11e7-b74d-5563608f13a0′]

भैयादूज स्पेशल: 5 बेस्ट रंगोली डिज़ाइन्स से भरें जीवन में रंग (bhaiyadooj special: 5 best rangoli designs)

bhaiyadooj special
त्योहार का मौसम हमारे जीवन में ख़ुशियों के कई रंग भरता है. जीवन के इन्हीं रंगों से सराबोर हो आप भी अपने घर-आंगन को रंगोली की ख़ूबसूरत डिज़ाइन्स से सजाएं और ख़ुशियों का दिल खोलकर स्वागत कीजिए.

Free-Hand-Rangoli-4

4-Free-Hand-Rangoli

4-11-237x250

8-Free-Hand-Rangoli

4-5

दिवाली स्पेशल: 5 बेस्ट क्रिएटिव रंगोली डिज़ाइन्स (Diwali special: best 5 creative rangoli designs)

ढेरो ख़ुशियां, चहल-पहल और रौनकें लेकर हमारा फेवरेट त्योहार दिवाली एक बार फिर हमें ख़ुशियों से सराबोर करने आ गया है. तो क्यों न इस दिवाली करें कुछ स्पेशल और ख़ास… आज ही आज़माएं ये क्रिएटिव रंगोली डिज़ाइन्स.

rangoli 7

rangoli latest 1

rangoli latest

rangoli latest 2 new

rangoli latest 3