Tag Archives: easy tips

नवरात्र स्पेशल: 10 सरल उपाय नवरात्र में पूरी करते हैं मनचाही मुराद (Navratri 2017: 10 Special Tips For Navratri Puja)

Special Tips, Navratri Puja

ऐसी मान्यता है कि नवरात्र के लिए किए गए उपाय जल्दी ही शुभ फल प्रदान करते हैं. धन, संतान, प्रमोशन, विवाह, रुके हुए कार्य… कई मनोकामनाएं इन 9 दिनों में किए गए उपायों से पूरी हो सकती हैं. अगर आपके मन में भी कोई मनोकामना है, तो पं. राजेंद्र जी के बताए गए उपायों से आपकी मनोकामना अवश्य पूरी होगी.

नवरात्र में मां दुर्गा की कृपा प्राप्ति के लिए 10 सरल उपाय: देखें वीडियो


* कर्जमुक्ति के लिए करें ये उपाय
यदि लाख कोशिशों के बाद भी आपका कर्ज से पीछा नहीं छूट रहा, तो नवरात्र में सूर्य डूबने के पश्‍चात 21 गुलाब के फूल, सवा किलो साबूत लाल मसूर लाल कपड़े में बांधकर माता के सामने रखकर घी का दीपक जलाकर रोज़ाना 108 बार ये मंत्र पढ़ें- ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे
पूजा समाप्त होने के बाद अपने ऊपर सात बार उतारें व किसी को भी दान कर दें. माता से कर्ज मुक्ति की प्रार्थना करें. ऐसा करने से आपको अवश्य कर्ज से मुक्ति मिलेगी.

यह भी पढ़ें: नवरात्र स्पेशल: किस राशि वाले किस देवी की पूजा करें

 

* मनोकामना पूरी करने के लिए करें ये उपाय
पूरे नौ दिन अखंड दीपक व घट के सामने बैठकर सिद्ध कुजिका स्त्रोत का पाठ करें. हर दिन एक-एक गुलाब का फूल बढ़ाते जाएं. नौवें दिन नौ गुलाब अर्पण कर मां से प्रार्थना करें. ऐसा करने से मनोकामना पूरी होती है.

Special Tips, Navratri Puja

* विवाह के लिए करें ये उपाय
अर्गला स्तोत्र व कीलकम् का पाठ रोज़ाना माता के सामने करें व हलवा का भोग चढ़ाकर एक कमल का पुष्प अर्पण करें. ऐसा करने से आपकी विवाह की चाहत पूरी हो जाएगी. श्रद्धा और विश्‍वास से प्रार्थना करने से मनोकामना ज़रूर पूरी होती है.

यह भी पढ़ें: नवरात्र स्पेशल: किस दिन क्या भोग लगाएं 

* धनवृद्धि के लिए करें ये उपाय
पूरी नवरात्रि में लाल आसन पर बैठकर संध्याकाल में जो जातक विष्णु सहस्रनाम तथा ललिता सहस्रनाम का पाठ करता है और रोज़ाना एक कमल का पुष्प माता को अर्पण करता है. सात्विक रहता है, आचरण ठीक रखता है, कलह नहीं करता… ये सारे पालन करते हुए ऊपर दिया उपाय जो भी जातक करता है, मां उस पर प्रसन्न होकर धन वर्षा अवश्य करती है और उसके कष्टों को हरती है.

यह भी पढ़ें: नवरात्रि स्पेशल- आज करें देवी शैलपुत्री की पूजा

 

8 अमेजिंग! डायट टिप्स फॉर वेट लॉस (8 Amazing! Diet Tip For Weight Loss)

Diet Tip For Weight Loss

बढ़ते वज़न से लगभग हर दूसरा व्यक्ति परेशान है, लेकिन कभी समय की कमी, तो कभी व्यस्तता और थकान के कारण हम वेटलॉस के लिए कुछ एक्स्ट्रा नहीं कर पाते. पर अगर रात को सोने से पहले कुछ आसान से नुस्ख़ें आज़माएं (Diet Tip For Weight Loss), तो न स़िर्फ बढ़ते वज़न को कंट्रोल कर सकते हैं, बल्कि वज़न को कम करके फिट भी रह सकते हैं.

पुदीना
पुदीने की ख़ुशबू से भूख कम लगती है और यह कैलोरीज़ बर्न करने में भी मदद करता है, इसलिए रात के खाने में पुदीने का इस्तेमाल करें. साथ ही मिंट की ख़ुशबूवाली कैंडल बेडरूम में जलाएं व तकिए पर मिंट
ऑयल लगाएं.

ग्रीन टी
रात को सोने से पहले ग्रीन टी पीने से शरीर का मेटाबॉलिज़्म बढ़ता है. मेटाबॉलिज़्म बढ़ने से शरीर रात को भी कैलोरीज़ बर्न करने की प्रक्रिया को धीमा नहीं होने देता, जिससे शरीर में एक्स्ट्रा फैट्स नहीं बनते.

Diet Tip For Weight Loss

दूध

रोज़ाना रात को सोने से पहले एक ग्लास गुनगुना दूध ज़रूर पीएं. दूध में मौजूद कैल्शियम और प्रोटीन से पाचन बेहतर होता है. साथ ही इसमें मौजूद पोषक तत्वों से नींद अच्छी आती है और वज़न भी नियंत्रण में रहता है. इसके अलावा आपके दांत और हड्डियां भी मज़बूत होते हैं.

कालीमिर्च
कालीमिर्च में फैट बर्निंग प्रॉपर्टीज़ होती हैं, जो एक्स्ट्रा कैलोरीज़ को बर्न करने में हमारी मदद कर सकती हैं. साथ ही यह मेटाबॉलिज़्म भी बढ़ाता है, जिससे रात में भी कैलोरीज़ बर्न होती हैं. कालीमिर्च शरीर में हाइड्रोक्लोरिक एसिड की मात्रा बढ़ाता है, जिससे पाचन क्रिया बेहतर रहती है. रात के खाने में कालीमिर्च शामिल करें, ताकि रात को भी वज़न घटाने की प्रक्रिया जारी रहे.

हरी मिर्च
एक शोध में यह बात साबित हो चुकी है कि हरी मिर्च खाने से वज़न कम करने में मदद मिलती है. इसमें मौजूद रासायनिक तत्व शरीर में फैट बर्निंग प्रक्रिया को तेज़ करते हैं, जिससे पेट का फैट तेज़ी से कम होता है.

यह भी पढ़ें: 5 हाई कैलोरी फूड्स, जो वेट लॉस के लिए हैं ज़रूरी

अमीनो एसिड
अमीनो एसिड से भरपूर डायट वेटलॉस में काफ़ी फ़ायदेमंद साबित होती है. डिनर में आप अमीनो एसिड के गुणों से भरपूर चीज़ें, जैसे- फिश, चिकन, अंडे, दालें, नट्स आदि को शामिल करें. अमीनो एसिड से सुकूनभरी नींद आती है, जिससे आपकी बॉडी अच्छी तरह रिकवर भी करती है और वज़न भी कम करती है.

प्रोटीन शेक लें
रात के खाने के बाद प्रोटीन शेक लें और डिनर में भी प्रोटीन की मात्रा बढ़ा दें. दरअसल, प्रोटीन हैवी होता है, जिसे पचाने के लिए बॉडी को रात को एक्स्ट्रा फैट्स बर्न करने पड़ते हैं. इससे शरीर का मेटाबॉलिक रेट सुबह भी हाई रहता है, जिससे वज़न कम करने में मदद मिलती है.

यह भी पढ़ें: स्वादिष्ट स्मूदी वेट लॉस के लिए

                                                                                                  – शैलेंद्र सिंह

मोटापा घटाने के आसान ट्रिक्स(Workout Tricks To Lose Weight)

मोटापा घटाने के आसान ट्रिक्स

हममें से ज़्यादातर लोगों के लिए मोटापा घटाना(loosing Fat) एक बहुत बड़ी चुनौती होती है. अधिकतर लोग इस चुनौती को पूरा नहीं कर पाते. वास्तव में वज़न का कम होना दो चीज़ों पर निर्भर करता है-एक है आपकी डायट और दूसरा आपका वर्कआउट(Workout) का तरीक़ा. अगर आप खानेपीने पर ध्यान रखने के साथ-साथ सही तरी़के से एक्सरसाइज़ करेंगी तो निश्‍चित तौर पर आपको उसका परिणाम मिलेगा. हम आपको कुछ ऐसे ही वर्कआउट सीक्रेट्स बता रहे हैं, जिनकी मदद से आप कम समय में मोटापे से मुक्ति पा सकती हैं.

Workout Tricks To Lose Weight

एक्सरसाइज शुरू करने से पहले वॉर्मअप करें
वर्कआउट सेशन शुरू करने से पहले वॉर्मअप करना बेहद ज़रूरी होता है. इससे शरीर के साथ-साथ मांसपेशियों में भी रक्त का प्रवाह बढ़ता है और हमारे शरीर को कठिन एक्सरसाइज़ेज़ के लिए एडजस्ट होने का समय मिलता है, जिससे चोट लगने का ख़तरा कम होता है. वर्कआउट से पहले 10 से 15 मिनट का वॉर्मअप सेशन न स़िर्फ आपको जिम के बाद भी ऐक्टिव रहने में मदद करेगा, बल्कि ऐसा करने से आप ज़्यादा कैलोरीज़ भी बर्न करेंगी. वॉर्मअप के लिए 5 मिनट जॉगिंग, 5 मिनट हाई नी मार्चिंग व 5 मिनट स्ट्रेचिंग करें.

सुबह के समय वर्कआउट करें
अगर आप वज़न कम करने को लेकर बेहद गंभीर हैं तो सुबह के समय वर्कआउट करना शुरू कर दीजिए. ऐसा करने से आपका मेटाबॉलिज़्म बढ़ेगा, फलस्वरूप आपकी ऊर्जा बढ़ेगी और आप ज़्यादा कैलोरीज़ बर्न करेंगी. वर्ष 2010 में जनरल ऑफ फि़िजयोलॉजी में छपे एक अध्ययन के अनुसार, सुबह खाली पेट एक्सरसाइज़ करने में शरीर की ग्लूकोज़ टॉलरेंस व इन्सुलिन सेंसिविटी बढ़ती है. यदि आपको फटाफट वज़न कम करना है तो सुबह थोड़ा जल्दी उठकर कम से कम 20 मिनट एक्सरसाइज़ कीजिए.

रूटीन में विविधता लाइए
यदि आप अच्छे परिणाम चाहती हैं तो अपनी एक्सरसाइज़ रूटीन में विविधता लाइए. यदि आप रोज़ाना एक ही तरह का एक्सरसाइज़ करेंगी तो आपके शरीर को उसकी आदत हो जाएगी और आप कम कैलोरीज़ बर्न करेंगी. अलग-अलग तरह के व्यायाम करने से बोरियत भी नहीं होती है. एक पऱफेक्ट वर्कआउट प्लान में पांच तरी़के के एक्सरसाइज़ेज़-ऐरोबिक्स, स्ट्रेथ ट्रेनिंग, कोर एक्सरसाइज़, बैलेंस ट्रेनिंग व स्ट्रेचिंग शामिल होना चाहिए.

वेट ट्रेनिंग करें

Workout Tricks To Lose Weight
वज़न कम करने के लिए आपको वेट लिफ्टिंग करनी ही पड़ेगी. यह फैट बर्न करने के साथ-साथ मसल्स बिल्डिंग में भी मदद करेगी. जितने मसल्स डेवलप होंगे. आपकी बॉडी उतनी ज़्यादा कैलोरीज़ बर्न करेगी. हम आपको बता दें कि मसल्स टिशूज़ को मैंटेन करने के लिए ज़्यादा कैलोरीज़ की ज़रूरत होती है. इसके अलावा वेट ट्रेनिंग मसल्स व बॉडी को शेप में रखने में भी मदद करती है और साथ ही पेट की चर्बी भी घटाती है. अतः हफ़्ते में दो से तीन दिन आधा घंटा वेट ट्रेनिंग पर्याप्त है.

वर्कआउट्स को ब्रेक करें
वर्ष 2011 में क्लीनिकल फिजियोलॉजी एंड फंक्शनल इमेजिंग में छपे एक अध्ययन के अनुसार, 10 मिनट के तीन छोटे-छोटे सेशन्स 30 मिनट के सिंगल सेशन से ज़्यादा प्रभावकारी होते हैं. इसलिए अगर आपके पास समय की कमी है और आप एक साथ आधा-एक घंटा एक्सरसाइज़ नहीं कर पातीं तो 10-10 मिनट के तीन से पांच सेशन्स कीजिए. सुबह 10 मिनट के लिए कार्डियो, दोपहर में 10 मिनट ब्रिस्क वॉक व रात में 10 मिनट स्ट्रेथ ट्रेनिंग कीजिए.

वीकएंड में आलस न करें
हालांकि आपको हफ़्ते में एक से दो दिन वर्कआउट से ब्रेक लेने की आज़ादी है, लेकिन इसका यह मतलब नहीं है कि आप आलसी की तरह दिनभर ऐसे ही पड़े रहें. अगर आप वज़न कम करने को लेकर गंभीर हैं तो वीकएंड में भी ऐक्टिव रहने की कोशिश करें. इसके कई तरी़के हैं, जैसे-परिवारवालों के साथ स्वििंमंग या साइकलिंग के लिए जाएं या थोड़े-बहुत घर के काम करें. बागवानी करने से भी कैलोरीज़ बर्न होती हैं. इसी प्रकार यदि आप छुट्टियां मनाने बाहर जा रही हैं तो होटल के जिम को फायदा उठाएं.

ये भी पढ़े :8 हफ़्तों में वज़न घटाएं- नज़र आएं स्लिम-ट्रिम

म्यूज़िक सुनें
म्यूज़िक सुनते हुए वर्कआउट करने की कोशिश कीजिए, इससे आपको न स़िर्फ थोड़े कठिन वर्कआउट भी कर लेंगी, बल्कि वर्कआउट व म्यूज़िक दोनों को एन्जॉय करेंगी. लाउड व फास्ट म्यूज़िक परफॉमेंस को बेहतर बनाने में मदद करती है. वर्ष 2009 में ब्रूनल यूनिवर्सिटी द्वारा संचालित एक स्टडी में म्यूज़िक व
कार्डियोवैस्कुल एक्सरसाइज़ेज़ के बीच संबंध को हाईलाइट किया गया है.

ग्रुप में एक्सरसाइज़ करें

Workout Tricks To Lose Weight
ग्रुप में एक्सरसाइज़ करने के बहुत-से फायदे होते हैं. सबसे पहले तो यह आपके मोटिवेशन लेवल को हाई रखता है. यदि आपके साथ कोई और एक्सरसाइज़ करने वाला होगा तो आपको सुबह उठकर जिम जाने की प्रेरणा मिलेगी और आपको बोरियत भी नहीं होगी. जब आप देखेंगी कि आप ज़्यादा उम्र का व्यक्ति किसी एक्सरसाइ़ज को ज़्यादा बेहतर तरी़के से या आसानी से कर रहा है तो आप भी उसे करने के लिए प्रेरित होंगी. इससे आपका फिटनेस भी बढ़ेगा.

ये भी पढ़े : 7 दिनों में पाएं फ्लैट टमी

हर बीमारी का आयुर्वेदिक उपचार  उपाय जानने के लिए इंस्टॉल करे मेरी सहेली आयुर्वेदिक होम रेमेडीज़ ऐप

रिलेशनशिप हेल्पलाइनः कैसे जोड़ें लव कनेक्शन?(Relationship helpline)

Relationship Tips

हेल्दी रिलेशनशिप आपकी ज़िंदगी को बेहतर बनाता है… आपकी सेहत, दिलोदिमाग़ के लिए टॉनिक का काम करता है, लेकिन इसके लिए रिश्तों को हैंडल करने का तरीक़ा सीखना होगा. कहीं कुछ दुविधा हो तो मेरी सहेली की ये रिलेशनशिप हेल्पलाइन (Relationship helpline) आपकी मदद करेगी, जो ले आई है रिश्तों को बेहतर बनाने के ढेरों ईज़ी टिप्स.

Relationship helpline

न करें ये ग़लतियां

– रिश्ते में बंधते ही एक-दूसरे को बदलने की मुहिम न छेड़ दें. ये सोच बदल दें कि अब पार्टनर को आपके अनुसार ही चलना होगा. इससे मन-मुटाव बढ़ सकता है.

– अगर पार्टनर को थोड़ा बदलना चाहती भी हैं, जो उनके हित में हो, तो इसकी शुरुआत आलोचना से न करें. उन्हें प्यार से समझाएं. साथ ही एक ही रात में बदलाव की उम्मीद न करें.
– इस दुनिया में कोई भी परफेक्ट नहीं होता. इसलिए अपने पार्टनर से भी परफेक्शन की उम्मीद न करें. ध्यान रखें कि दूसरों को उनकी कमियों के साथ स्वीकारना ही सच्चा प्यार है.
– रिश्ते में कम्युनिकेशन गैप न आने दें. रिश्तों में ख़ामोशी आप दोनों के रिश्ते के लिए ख़ामोश दुश्मन की तरह है. इसलिए हर हाल में कम्युनिकेशन बनाए रखें.
– ऐसे कई मुद्दे हो सकते हैं, जिस पर आप दोनों के विचार नहीं मिलेंगे. ऐसे मुद्दों पर अनावश्यक बहस करने या अपनी बात मनवाने की ज़िद करने से बचें. इससे रिश्ते में बेवजह स्ट्रेस बढ़ता है.
– समय की कमी का रोना न रोएं. अगर आपको लगता है कि आपके बिज़ी शेड्यूल की वजह से रिश्ते प्रभावित हो रहे हैं, तो फ़ौरन कोई सोल्यूशन निकालें और रिश्ते को समय देने की कोशिश करें.
– हर बात पर टोकें नहीं, न ही मीनमेख निकालें. खाना अच्छा नहीं बना, तुम तो कोई काम ढंग से नहीं करते, चलते कैसे हो, खाते कैसे हो, मेरी कोई बात नहीं सुनते… हमेशा शिकायतें ही न करें. इससे रिश्तों में चिढ़ बढ़ती है.
– हर व़क्त मोबाइल, टीवी या सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर ही बिज़ी न रहें, न फैमिली को अनदेखा करें. हर हाल में बैलेंस बनाए रखें, तभी रिश्तों में भी बैलेंस बना रहेगा.

जोड़ें लव कनेक्शन: कुछ ईज़ी टिप्स

– एक-दूसरे को कमियों-ख़ूबियों के साथ स्वीकार करें.
– ध्यान रखें कि आप जो भी समय साथ बिता रहे हैं, वो क्वांटिटी टाइम न हो, बल्कि क्वालिटी टाइम हो.
– रिश्तों के बीच ईगो न आने दें. इससे रिश्तों में दूरियां आते देर नहीं लगती.
– ज़िम्मेदारियां लेने से घबराएं नहीं और उन्हें पूरी ईमानदारी के साथ निभाएं. बेहतर होगा कि अपनी ज़िम्मेदारियां बांट लें. अगर एक ही पार्टनर पर ज़्यादा ज़िम्मेदारियां होंगी, तो फ्रस्ट्रेशन बढ़ेगा और ये फ्रस्ट्रेशन रिश्ते में भी नज़र आएगा.
– शेयरिंग रिश्ते को मज़बूत बनाती है. अपनी भावनाएं, अपने आइडियाज़, विचार शेयर करें, लेकिन इस बात का ध्यान रखें कि शेयरिंग के नाम पर स़िर्फ शिकायतें ही करने न बैठ जाएं. इससे रिश्ते में कड़वाहट और खीझ बढ़ती है.
– छोटी-छोटी ख़ुशियां बांटना भी सीखें. ज़िंदगी के हर पल को एंजॉय करें. किसी बड़ी ख़ुशी के इंतज़ार में न बैठे रहें. ज़िंदगी की हर छोटी-बड़ी ख़ुशियों का लुत्फ़ उठाएं.
– पार्टनर की कोई बात अच्छी लगने पर उनकी तारीफ़ करें. उन्हें कॉम्प्लीमेंट देेंं.
– चाहे घर के छोटे-मोटे काम हों या बच्चों की पढ़ाई- हर काम में एक-दूसरे को कोऑपरेट करें, ख़ासकर वर्किंग कपल्स के लिए तो ये बेहद ज़रूरी है. इससे सामंजस्य बढ़ता है और आपसी रिश्ता मज़बूत होता है.
– नो सेक्स की स्थिति न आने दें. ये रिश्ते के लिए ख़तरनाक हो सकता है.
– पति-पत्नी के बीच भी शिष्टाचार ज़रूरी है. इसलिए बातचीत में हमेशा शिष्टाचार बनाए रखें.

लड़ाई-झगड़े को केयरफुली हैंडल करें

– छोटे-मोटे झगड़े और मतभेद तो हर पति-पत्नी में होते ही हैं, लेकिन ग़ुस्से में इतना आपा न खो दें कि आपके मुंह से बुरे शब्द निकल जाएं.
– लड़ाई-झगड़े या रूठने-मनाने को बात मनवाने के हथियार के तौर पर इस्तेमाल न करें. ध्यान रखें, पार्टनर को कंट्रोल करना प्यार नहीं है. ऐसा करने से आप दोनों में दूरियां ही बढ़ेंगी.
– हर बार पार्टनर से ही झुकने की अपेक्षा न करें. एक बार आप भी झुककर देखें. सारे झगड़े मिनटों में सुलझ जाएंगे.
– अगर ज़्यादा स्ट्रेस में हों, तो पार्टनर पर चिल्लाकर या उनसे झगड़कर स्ट्रेस रिलीज़ करने को आदत न बनाएं. अपना स्ट्रेस कम करने के लिए पार्टनर को स्ट्रेस देना किसी भी हाल में आपके रिश्ते के लिए ठीक नहीं.

हर फैसले साथ लें

– ये सच है कि शादी के बाद भी आपकी अपनी ज़िंदगी होती है, कुछ ़फैसले आपके अपने होते हैं, फिर भी ऐसे ़फैसले, जिसका असर दोनों पर पड़ता हो, उन्हें अकेले न लें.
– जैसे नौकरी बदलना, लोन लेना या किसी बड़ी चीज़ की ख़रीददारी- इनफैसलों में अपने पार्टनर को भी शामिल करें.
– इसी तरह बच्चे की पढ़ाई, शादी या परिवार से संबंधित फैसले भी मिलकर ही लें.
– अगर किसी फैसले में पार्टनर आपकी सलाह चाहता है और आप उस फैसले से सहमत न हों, तो उसे बहस का मुद्दा न बनाएं. ख़ुशी-ख़ुशी हर फैसले में शामिल हों.
– ज़िंदगी में उतार-चढ़ाव तो आते ही रहते हैं. फाइनेंशियल या फैमिली प्रॉब्लम भी आ सकती है, ऐसी स्थितियों में एक
साथ मिलकर सोल्यूशन निकालने की कोशिश करें.
– सबसे ज़रूरी बात- लाइफ है तो प्रॉब्लम्स आएंगी ही, रिश्तों में भी और जीवन में भी. इन प्रॉब्लम्स का सोल्यूशन निकालने का तरीक़ा आपको सीखना होगा. और इसके लिए आप दोनों को टीम की तरह काम करना होगा यानी मिल-जुलकर सोल्यूशन निकालना होगा, तभी रिश्ता मज़बूत होगा.

रखें इन छोटी बातों का ख़्याल

– कॉम्प्रोमाइज़ करना भी सीखें. कई स्थितियों में सहनशीलता भी ज़रूरी होती है. इसलिए सहनशीलता न खोएं.
– पार्टनर की कुछ आदतों और ग़लतियों को अपनाना भी सीखें.
– हर हाल में पार्टनर पर विश्‍वास बनाए रखें. उसकी इच्छाओं का सम्मान करें.
– कोई भी पार्टनर ख़ुद को सुपीरियर बताने की कोशिश न करे.
– परिवार के प्रति ज़िम्मेदार बनें. हर वादे को दिल से निभाएं.
– पार्टनर के लक्ष्य को पूरा सपोर्ट करें. ज़िंदगी में आगे बढ़ने के लिए उसे प्रोत्साहित करें.
– पार्टनर की फैमिली या फ्रेंड्स के प्रति उपेक्षित रवैया न अपनाएं. उन्हें उचित सम्मान दें.

– श्रेया तिवारी

ये 7 राशियां होती हैं मोस्ट रोमांटिक (7 Most Romantic Zodiac Signs)

रिंकल फ्री स्किन के बेस्ट ट्रिक्स

2

– गालों व आंखों के चारों ओर की झुर्रियां मिटाने के लिए रात को दूध की मलाई में बारीक़ आटा मिलाकर पेस्ट बना लें. इसे चेहरे पर लगाकर 15 मिनट बाद गीले हाथों से चेहरे को ख़ूब मलें व सारा आटा रगड़कर हटा लें. इसके बाद चेहरा ठंडे पानी से धो लें. इससे चेहरे को झुर्रियां दूर हो जाती हैं.

– पके हुए पपीते के टुकड़े को मसलकर चेहरे पर लगाएं. कुछ देर बाद स्नान कर लें. कुछ दिन लगातार ऐसा करने से चेहरे की झुर्रियां कम हो जाती हैं. साथ दाग़-धब्बे, मुंहासे मिटकर चेहरे की रंगत बढ़ जाती है.

– आंखों के छोर की रेखाएं दूर करने के लिए खीरे के टुकड़े काटकर आंखों पर लगाकर कुछ देर लेट जाएं. इसे रोज़ एक बार कुछ हफ़्ते तक करें. इससे झुर्रियां दूर हो जाती हैं.

– झुर्रियां दूर करने के लिए अंकुरित चने व मूंग को सुबह व शाम खाएं. इनमें विटामिन ई होता है, जो झुर्रियां मिटाने व त्वचा को जवां बनाए रखने में मदद करता है.

– एक पका केला, एक टेबलस्पून शहद व एक कप दही- तीनों को मिलाकर गाढ़ा पेस्ट बना लें. इस पेस्ट को चेहरे व गर्दन पर लगाएं. दस मिनट बाद चेहरे को धो लें. इसे हफ़्ते में तीन दिन तक करें.

– एक टेबलस्पून शहद में एक टीस्पून दालचीनी पाउडर मिलाकर चेहरे पर लगाएं. फिर थोड़ी देर बाद ठंडे पानी में थोड़ा-सा स़फेद सिरका
मिलाकर चेहरे को धो लें.

– एक टेबलस्पून कॉफी पाउडर, एक टीस्पून दूध व एक टीस्पून शहद- तीनों को फेंटकर पेस्ट बना लें. इसे चेहरे पर लगाकर 10 मिनट बाद चेहरा धो लें. ये चेहरे पर निखार लाने के साथ बारीक़ रेखाओं को भी छुपा देता है. इसे हफ़्ते में दो दिन लगाएं.

– कुछ हफ़्ते तक रोज़ शाम को गाजर का रस पीएं.

– यदि आप गालों पर नींबू का रस लगाकर, नींबू निचोड़ छिलके कुछ दिन रगड़ें, तो गाल झुर्रियां दूर होने लगती हैं.

– आधा टीस्पून दूध की ठंडी मलाई में 4-5 बूंदें नींबू के रस मिलाकर झुर्रियों पर सोते समय लगाएं.

– गुनगुने पानी से चेहरा अच्छी तरह से धोएं और बाद में टॉवेल से पोंछकर साफ़ कर लें. इसके बाद चेहरे पर मलाई लगाकर तब तक रगड़ते रहे, जब तक क क्रीम घुलकर त्वचा में रम न जाए. फिर आधे घंटे बाद स्नान कर लें. ध्यान रहे, चेहरे को पानी से धोएं और साबुन का इस्तेमाल न करें. इसे 15-20 दिन तक रोज़ करने से झुर्रियां दूर हो जाती हैं व चेहरे के दाग़-धब्बे भी मिट जाते हैं.

– मलाई का इस्तेमाल करने के बाद यदि चेहरे पर धीरे-धीरे ऑलिव ऑयल से मसाज करें, तो चेहरे पर और भी चमक आ जाती है.

– स्नान से पहले पपीते का पल्प गर्दन पर रगड़ेें. इससे त्वचा की गंदगी-झुर्रियां दूर हो जाएगी.

– आंवला व संतरा रिंकल फ्री स्किन के लिए काफ़ी फ़ायदेमंद है. इसमें एंटीऑक्सीडेंट व विटामिन सी प्रचुर मात्रा में होता है, जो एंज़िंग की प्रक्रिया को धीमा कर देता है, जिससे त्वचा जवां व खिली-खिली नज़र आती है.

dreamstime-xl-22091174

झुर्रियों को दूर करने के लिए एक्सरसाइज़ व योग

– ई और ओ बोलते हुए एक बार चेहरे को फैलाएं और फिर सिकोड़े.

– ई उच्चारण के साथ ऐसा पोज़ बनाएं मानो आप मुस्कुराने जा रही हैं. कुछ समय इसी पोज़ में रहने के बाद होंठों को आगे की तरफ़ बढ़ाते हुए ऐसा करें मानो आप सीटी बजाना चाह रहे हैं. इससे गालों की अच्छी एक्सरसाइज़ होती है. गाल ख़ूबसूरत होते हैं व झुर्रियां नहीं होती हैं. इसे एक बार में 15 से 20 बार करें और दिन में 3 बार करें.

– मुंह से फूंक मारते हुए गाल फुलाएं व पेट चिपका लें. अब नाक से सांस लें. यह प्रक्रिया 15 से 20 बार करें और दिन में तीन बार करें.

– सिंहासन योगासन से चेहरे की झुर्रियों को प्रभावशाली तरी़के से दूर किया जा सकता है.

– अपनी कमर व गला को सीधे रखते हुए वज्रासन में घुटनों के बल बैठकर घुटने थोड़े फैला दें. दोनों हथेलियां भीतर की ओर रखते हुए घुटनों के बीच ज़मीन पर जमा लें. उंगलियों को फैला लें. मुंह को जितना खोला जा सके, उतना खोलते हुए जीभ को अधिक से अधिक बाहर निकालते हुए आंखें खुली रखें व गले को तानते हुए सिंह की तरह अपना उग्र रूप बनाएं.

– इस आसन के अभ्यास से कंठ और मुंह के स्नायु में खिंचाव आता है, जिससे मुंह और आंखों के आसपास की झुर्रियां दूर हो जाती हैं.

– माथे की झुर्रियां को दूर करने के लिए हथेली की मदद से माथे को पीछे की ओर जहां से बालों की सीमा शुरू होती है, मसाज करें. यदि माथे पर कोई रेखा हो, तो कुछ दिन लगातार करने से दूर हो जाती है.

– चेहरे को साफ़ किए बिना कभी मसाज न करें. जिस तरफ़ झुर्रियां पड़ती हो, उसके ठीक विपरीत दिशा में उंगलियों के पोरों पर गुनगुने ऑलिव ऑयल की कुछ बूंदें लगाकर मसाज करें. मसाज करते समय या तेल लगाते समय माथे को दोनों हथेलियों से धीरे-धीरे ऊपर की ओर व कनपटी की ओर उंगलियां ले जाते हुए रगड़ें और चेहरे की त्वचा को ऊपर की ओर रब करते हुए हथेलियों को कानों और सिर की ओर ले जाएं. गालों को नीचे से कनपटी की दिशा की ऊपर की ओर व कनपटी की तरफ़ ले जाएं.

1

इन बातों का भी रखें ख़्याल

– सन एक्सपोज़र अवॉइड करें.

– सनस्क्रीन का इस्तेमाल करें.

– प्रदूषित वातावरण में न जाएं या फिर ख़ुद को प्रोटेक्ट करके जाएं.

– मॉइश्‍चराइज़र का इस्तेमाल करें.

– रेग्युलर एक्सरसाइज़ करें.

– न्यूट्रीशियस डायट लें.

– ठंडा पानी ढीली त्वचा में कसाव लाने व रक्तसंचार को ठीक करने के लिए प्रभावशाली है.

– चेहरा धोने के बाद उसे कभी भी टॉवेल से न पोंछें, बल्कि हथेलियों से थपथपाकर चेहरे का पानी सुखाएं.

– ऐसा करने से पानी का कुछ भाग त्वचा के अंदर चला जाता है, जिससे चेहरे की ताज़गी व ख़ूबसूरती बनी रहती है और चेहरे पर झुर्रियां नहीं पड़ती हैं.

– हमेशा ख़ुश व तनावमुक्त रहें, इससे त्वचा ख़ूबसूरत बनी रहती है.

– ऊषा गुप्ता

पेन रिलीफ होम रेमेडीज़ (Pain Relief Home Remedy)

Back pain_quick relief_home remedies

backpain,home remedies

कमर-पीठदर्द

यह दर्द अमूमन सभी को होता है. बैठने-उठने के ग़लत तरी़के और व्यायाम की कमी के कारण ज़्यादातर लोगों को कमरदर्द और पीठदर्द होता है. महिलाओं में इस दर्द का मुख्य कारण माहवारी होता है.
अदरक: अदरक में दर्द निवारक गुण होते हैं, जो किसी भी तरह के दर्द को दूर कर सकते हैं. इसे किचन का छोटा डॉक्टर कहना ग़लत नहीं होगा.
– अदरक को पीसकर दर्दवाली जगह पर लगाएं.
– अदरक को टुकड़ों में काटकर आधे घंटे तक पानी में उबालें. पानी को निथारकर शहद मिलाकर पीएं.
बेसिल लीव्सः यह एक तरह का हर्ब है, जो किसी भी सब्ज़ी की दुकान में आसानी से मिल जाता है.
– एक कप पानी में 8-10 बेसिल की पत्तियां और एक चुटकी नमक डालकर तब तक उबालें, जब तक कि वह आधा न रह जाए. अगर दर्द कम हो, तो दिन में एक बार और अगर ज़्यादा हो तो, दिन में दो बार पीएं.
खसखस: यह कमरदर्द और पीठदर्द में जादुई कमाल करता है. इसमें मौजूद तत्व दर्द को तुरंत कम करते हैं.
– 100 ग्राम खसखस को थोड़ी-सी मिश्री के साथ पीस लें. इस मिश्रण को 2 टीस्पून की मात्रा में रोज़ाना दो बार लें और उसके बाद एक ग्लास गर्म दूध पीएं.
लहसुन: अपने औषधीय गुणों के कारण यह हमेशा से ही हमारे भोजन का अभिन्न अंग रहा है, इसलिए दवा के रूप में यह काफ़ी
लाभदायक माना जाता है. इसमें मौजूद एंटीबायोटिक हमें कई बीमारियों से भी बचाता है.
– सुबह उठकर खाली पेट लहसुन की दो कलियां खाएं.
– आप लहसुन के तेल से मालिश भी कर सकते हैं.
मालिश: अपने डॉक्टर से सलाह लेकर आप हर्बल या आयुर्वेदिक तेल से मालिश कर सकते हैं. इसके लिए आप नीलगिरी, बादाम, तिल, सरसों या नारियल के तेल का इस्तेमाल कर सकते हैं.

एक्स्ट्रा रेमेडीज़– 100 ग्राम अजवायन पाउडर में 100 ग्राम गुड़ मिलाकर रख लें. सुबह-शाम 1-1 टीस्पून की मात्रा में इसका सेवन करने से कमरदर्द दूर होता है.
– 5 खजूर को पानी में उबालकर उसमें आधा टीस्पून मेथी पाउडर मिलाकर पीने से कमरदर्द में आराम मिलता है.

घुटनों का दर्द

अगर घुटनों में दर्द उठे, तो हमारा उठना- बैठना और चलना सब कुछ मुश्किल हो जाता है. ऐसे में कुछ घरेलू उपाय आपको ज़रूर आराम देंगे.
विनेगर: इसके अम्लीय गुणों के कारण यह घुटनों के जोड़ों पर जमा होनेवाले टॉक्सिन को कम करता है और जोड़ों के ल्यूब्रिकेंट को बरक़रार रखता है.

– दो टीस्पून एप्पल साइडर विनेगर को दो कप पानी में मिलाकर रखें. थोड़े-थोड़े समय के अंतराल पर इस मिश्रण का एक-एक घूंट दिनभर पीते रहें.
– पानी में 2 कप विनेगर मिलाकर स्नान करें.
– विनेगर और जैतून के तेल को मिलाकर मालिश करें.
हल्दीः हल्दी में कुरक्यूमिन नामक तत्व पाया जाता है, जो एंटी ऑक्सिडेंट होने के साथ-साथ दर्दनिवारक भी होता है. हाल ही में नेशनल सेंटर फॉर कांप्लीमेंटरी एंड ऑल्टरनेटिव मेडिसीन की एक रिपोर्ट में कहा गया है कि हल्दी गठिया रोग होने से रोकती है, जो घुटनों के दर्द का मुख्य कारण है.
– आधा टीस्पून पिसी हुई अदरक और हल्दी को पानी में 10 मिनट तक उबालें और फिर पानी छान लें. इस पानी में शहद
मिलाकर पीएं.
– एक ग्लास पानी में हल्दी को उबालकर पीएं.
नींबूः नींबू में मौजूद सिट्रिक एसिड हमारे शरीर में यूरिक एसिड को बढ़ने नहीं देता, जिससे गठिया का ख़तरा काफ़ी कम हो जाता है.
– एक कपड़े में 4-5 नींबू के टुकड़े बांधकर, उसे गर्म तिल के तेल में थोड़ी देर डुबोकर रखें, फिर उस तेल को घुटनों पर लगाएं.
एक्स्ट्रा रेमेडीज़ – राई को पीसकर घुटनों पर उसका लेप करें. तुरंत आराम मिलेगा.
– अजवायन को पानी में उबालकर उसकी भाप घुटनों पर लेने से दर्द से तुरंत राहत मिलती है.
– लहसुन को पीसकर दर्दवाली जगह पर लगाने से तुरंत राहत मिलती है, पर याद रहे, इसे ज़्यादा देर तक न रहने दें, वरना फफोले आ सकते हैं.

जोड़ों का दर्द या गठिया

आर्थराइटिस या गठिया में जोड़ों में दर्द और सूजन आ जाती है. इससे छुटकारा पाने के लिए आप कुछ आसान से उपाय अपना सकते हैं.
सेंधा नमक: यह मैग्नीशियम का बहुत अच्छा स्रोत है. इससे हमारे शरीर में पीएच का संतुलन बना रहता है.
– आधे कप गुनगुने पानी में सेंधा नमक और नींबू का रस समान मात्रा में मिलाकर सुबह-शाम 1-1 चम्मच पीएं.
– सेंधा नमक को गुनगुने पानी में डालकर नहाएं.
दालचीनीः दालचीनी में कई दर्दनिवारक गुण होते हैं. इसके साथ ही यह कई शारीरिक समस्याओं से भी राहत
दिलाता है .
– एक चम्मच दालचीनी पाउडर और एक चम्मच शहद को एक कप गर्म पानी में मिलाकर सुबह खाली पेट लें.
– दालचीनी पाउडर और शहद मिलाकर पेस्ट बना लें. इससे जोड़ों पर मालिश करें.
इन सभी घरेलू उपायों के साथ यह ज़रूर ध्यान में रखें कि यह सभी दर्द आधुनिक जीवनशैली में व्यायाम की कमी और उठने-बैठने व चलने की ग़लत मुद्राओं के कारण होते हैं, इसलिए व्यायाम ज़रूर करें और स्वस्थ रहें. अगर दर्द ज़्यादा हो, तो डॉक्टर से ज़रूर मिलें.
एक्स्ट्रा रेमेडीज़– गठिया रोग में नीम के तेल की मालिश काफ़ी लाभदायक होती है.
– लहसुन की दो कलियां कूटकर तिल के तेल में डालकर गर्म करें. इससे जोड़ों पर मालिश करें. यह बहुत फ़ायदेमंद
उपाय है.
– 2 टीस्पून एरंडी के तेल में थोड़ी-सी सोंठ मिलाकर काढ़ा बनाएं. रोज़ाना सुबह पीएं, जल्द आराम लगेगा.
– सर्दियों में जब दर्द सताए, तो पानी में 2 टेबलस्पून अजवायन और एक टेबलस्पून नमक मिलाकर उबालें. भगोने के ऊपर जाली रखकर कपड़ा रखें और उसी से सेंक करें. फौरन आराम मिलेगा.
– सरसों के तेल में अजवायन और लहसुन गर्म करके दर्दवाले भाग पर मालिश करें, तुरंत राहत मिलेगी.

                                                                                                                                                        – विजया कठाले निबंधे