Tag Archives: emotioons

पहला अफेयर: मुहब्बत पर यक़ीन है मुझे (Pahla Affair: Mohabbat Per Yakeen Hai Mujhe)

Pahla Affair, Mohabbat Per Yakeen Hai Mujhe

Pahla Affair, Mohabbat Per Yakeen Hai Mujhe

पहला अफेयर: मुहब्बत पर यक़ीन है मुझे (Pahla Affair: Mohabbat Per Yakeen Hai Mujhe)

मुहब्बत हो जाती है किसी से… आपका दिल इस तरह किसी और का हो जाता है कुछ ही पलों में… वो भी आपको बिना बताए… ऐसे दगा दे जाता है, कभी सोचा ही नहीं था मैंने. मैं तो हमेशा कहा करती थी, “प्यार-व्यार बेकार की बातें हैं. और शादी का तो सवाल ही नहीं उठता.” मेरे विचार सुनकर कभी किसी ने मुझसे प्यार करने की शायद सोची ही नहीं या शायद मैंने कभी किसी के एहसास को महसूस ही नहीं किया.

वैसे तो मैं प्रतीक के प्रति अपनी चाहत को भी नहीं समझ पाई थी. उससे मेरी पहली मुलाक़ात पहले दिन ही ऑफ़िस में हुई. पहली ही नज़र में वो मुझे अपना-सा लगा और मेरी उससे अच्छी दोस्ती हो गई. खाली वक्त में हम अक्सर शेरो-शायरी, राजनीति, फ़िल्में और साहित्य की बातें करते. शादी के बारे में मेरे और उसके विचार बहुत मिलते थे. प्यार पर उसे भी विश्‍वास नहीं था, लेकिन कई लड़कियों के साथ उसका चक्कर था. जब भी मैं उससे पूछती, “जब प्यार पर विश्‍वास ही नहीं है तो प्यार करते क्यों हो?”
तो वो कहता, “अरे, मैं प्यार थोड़े ही करता हूं. वो तो बस, लड़कियों को ये यक़ीन दिलाने के लिए कि प्यार विश्‍वास की चीज़ है ही नहीं, यूं ही थोड़ा टाइम पास कर लेता हूं.” वो मुझसे भी फ्लर्ट करता, पर मैं उसे डांट देती.

मन ही मन मुझे उसका छेड़ना अच्छा लगने लगा था और दूसरी लड़कियों के साथ उसका घूमना-फिरना और बातें करना बुरा. उसे टोकती तो मज़ाकिया लहज़े में कहता, “बुरा लगता है तो तुम प्यार करो मुझे. देखो, सब लड़कियों को छोड़ दूंगा.” ऐसी बातें उसने कई बार कीं, मगर मैंने हर बार मज़ाक में टाल दिया.

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: बहुत देर कर दी…

यह भी पढ़ें: पहला अफेयर: डायट चार्ट 

इधर कुछ दिनों से मैं महसूस करने लगी थी कि एक-दो दिन भी उसे देखे बिना, उससे बात किए बिना मुझे खालीपन-सा लगता. मैं हर किसी से उसके बारे में ही पूछती रहती. मेरी फ्रेंड श्‍वेता ने शायद मेरे मन को पढ़ लिया था. एक दिन उसने कहा, “अदिति, तुझे प्रतीक से प्यार हो गया है…” मैंने तो कभी ख़्वाब में भी नहीं सोचा था कि मुझे भी प्यार होगा किसी से. लेकिन श्‍वेता से बातें करने के बाद मुझे लगा कि सचमुच मुझे प्रतीक से प्यार होने लगा है, लेकिन उससे कैसे कहूं और क्या फ़ायदा उसे कहने का? वो तो हंसेगा मुझ पर. मेरे प्यार का मज़ाक उड़ाएगा. बस, इसी ऊहापोह में 4-5 दिन निकल गए.

इधर प्रतीक भी गायब था पिछले दो दिनों से. मैंने उसके सारे दोस्तों को फ़ोन करके पूछा तो उसके सबसे क़रीबी दोस्त राज ने बताया कि वो तो लॉन्ग लीव पर गया है अपने मम्मी-पापा के पास लंदन और एक पत्र छोड़ गया है मेरे लिए.
मैं फौरन वो पत्र लेने पहुंच गई, पत्र हाथ में आते ही मेरे दिल की धड़कन बढ गई.

प्रिय अदिति,
नहीं जानता था कि यूं मुहब्बत हो जाएगी. दिल्लगी करते-करते सचमुच किसी को दिल दे बैठूंगा, नहीं सोचा था. हां, मैं तुमसे प्यार करता हूं… सच्चा प्यार. कई बार कोशिश की तुम्हें बताने की, लेकिन तुम्हें यक़ीन नहीं दिला सका. अब मुझे प्यार पर विश्‍वास होने लगा है. मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूं. मैं लंदन जा रहा हूं अपने मम्मी-पापा के पास. अगर तुम मेरे प्यार पर यक़ीन कर लो तो लौट आऊंगा छह महीने के बाद, वरना तुम्हारी यादों के सहारे पूरी ज़िंदगी काट लूंगा. फ़ोन करूंगा तुम्हें, तुम्हारा जवाब जानने के लिए. उम्मीद है तुम मेरे प्यार को, मेरी भावनाओं को समझोगी.

पत्र पढ़ते-पढ़ते न जाने कब मेरी आंखों से आंसू निकलने लगे. शायद ये ख़ुशी के आंसू थे, जिससे प्यार पर अविश्‍वास करने की मेरी सोच पूरी तरह धुल गई थी. अब बस, मुझे उसके फ़ोन का बेसब्री से इंतज़ार है. उसके प्यार पर विश्‍वास जो हो गया है मुझे.

– प्रीति तिवारी