Tag Archives: Entertainment

मूवी रिव्यू: मोहल्ला अस्सी/पीहू- दो ख़ूबसूरत प्रस्तुति- एक व्यंग्यात्मक तो दूसरी में मासूम अदाकारी (Movie Review: Mohalla Assi/Pihu- Remarkable Performances And Thought Provoking Scripts)

 

 Mohalla Assi/Pihu
मोहल्ला अस्सी- धर्म, संस्कृति, राजनीति पर करारा व्यंग्य

एक ओर सनी देओल अलग व दमदार अंदाज़ में नज़र आते हैं मोहल्ला अस्सी में, तो वहीं पीहू में दो साल की बच्ची की मासूम अदाकारी बेहद प्रभावित करती है.

हिंदी साहित्यकार काशीनाथ सिंह की काशी का अस्सी पर आधारित मोहल्ला अस्सी फिल्म धर्म, राजनीति, आस्था, परंपरा आदि के माननेवाले को बहुत पसंद आएगी. भारतीय सोच पर भी करारा व्यंग्य किया गया है. वैसे भी जो मज़ा बनारस में वो न पेरिस में है, न फारस में… इसी चरितार्थ करती है फिल्म. निर्माता विनय तिवारी की यह फिल्म चाणक्य सीरियल व पिंजर मूवी फेम डॉ. चंद्रप्रकाश द्विवेदी  के बेहतरीन निर्देशन के कारण बेहद आकर्षक व ख़ास बन गई है. बनारस के निवासी, गंगा नदी, घाट, गली-मोहल्ले, वहां के तौर-तरी़के, लोगों की विचारधारा, राजनीति का प्रभाव, धर्म, कर्मकांड सभी का ख़ूबसूरत चित्रण किया गया है.

कहानी बनारस के मोहल्ला अस्सी की है, जहां पर धर्मराज पांडे यानी सनी देओल ब्राह्मणों की बस्ती में अपनी पत्नी साक्षी तंवर और बच्चों के साथ रहते हैं. वे जजमानों की कुंडली बनाते हैं और संस्कृत भी पढ़ाते हैं. अपने धर्म व उससे जुड़ी अन्य बातों को लेकर वे इतने सख़्त रहते हैं कि अपने मोहल्ले में विदेशी सैलानियों को किराए पर घर रहने के लिए नहीं देते और न ही अन्य लोगों को ऐसा करने देते हैं. उनका मानना है कि विदेशियों के खानपान व आचरण के सब गंदा व अपवित्र हो रहा है. लेकिन हालात करवट बदलते हैं और उन्हें आख़िरकार न चाहते हुए वो सब करना पड़ता है, जिसके वे सख़्त ख़िलाफ़ थे. फिल्म में पप्पू चाय की दुकान भी है, जो किसी संसद से कम नहीं. जहां पर वहां के लोग हर मुद्दे पर गरमागरम बहस करते हैं, फिर चाहे वो राजनीति का हो या फिर कुछ और.

सनी देओल अपनी भाव-भंगिमाएं व प्रभावशाली संवाद अदाएगी से बेहद प्रभावित करते हैं. उनका बख़ूबी साथ देते हैं साक्षी तंवर, रवि किशन, सौरभ शुक्ला, राजेंद्र गुप्ता, मिथलेश चतुर्वेदी, मुकेश तिवारी, सीमा आज़मी, अखिलेंद्र मिश्रा आदि. अमोद भट्ट का संगीत स्तरीय है. विजय कुमार अरोड़ा की सिनेमाटोग्राफी क़ाबिल-ए-तारीफ़ है.

Mohalla Assi/Pihu

Pihu

 

पीहू- नन्हीं बच्ची का कमाल

निर्देशक विनोद कापड़ी की मेहनत, लगन और धैर्य की झलकियां बख़ूबी देखने मिलती है पीहू फिल्म में. आख़िरकार उन्होंने दो साल की बच्ची से कमाल का अभिनय करवाया है. कथा-पटकथा पर भी उन्होंने ख़ूब मेहनत की है. निर्माता सिद्धार्थ रॉय कपूर, रोनी स्क्रूवाला व शिल्पा जिंदल बधाई के पात्र हैं, जो उन्होंने विनोदजी और फिल्म पर अपना विश्‍वास जताया. बकौल विनोदजी यह सच्ची घटना पर आधारित है और इस पर फिल्म बनाना उनके लिए किसी चुनौती से कम न था.

फिल्म की जान है पीहू यानी मायरा विश्‍वकर्मा. उस नन्हीं-सी बच्ची ने अपने बाल सुलभ हरकतों, शरारतों, मस्ती, सादगी, भोलेपन से हर किसी का दिल जीत लेती है.

कहानी बस इतनी है कि पीहू की मां (प्रेरणा विश्‍वकर्मा) का देहांत हो चुका है और उनकी बॉडी के साथ वो मासूम बच्ची घंटों घर के कमरे में अकेले व़क्त बिताती है. उसे नहीं पता कि उसकी मां अब इस दुनिया में नहीं है, वो मासूम उनसे बात करती है, घर में इधर-उधर घूमती है, भूख लगने पर गैस जलाकर रोटी भी सेंकने की कोशिश करती है, घर को अस्त-व्यस्त, उल्टा-पुल्टा कर देती है. सीन दर सीन उत्सुकता, डर, घबराहट, बेचैनी भी बढ़ती जाती है. कम बजट में विनोदजी ने लाजवाब फिल्म बनाई है.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े: Deepveer Wedding: शादी में दीपिका ने ओढ़ी ख़ास चुनरी (Deepika Wore Special Chunni On Wedding)

मूवी रिव्यू- बधाई हो: सचमुच बधाई की पात्र है (Movie Review- Badhai Ho: A Well-Deserving And Applause-Worthy Film)

Badhai Ho

पहली बार किसी अछूते विषय पर मनोरंजन से भरपूर फिल्म बनी है. इसके लिए फिल्म के निर्देशक अमित रविंद्रनाथ शर्मा बधाई के हक़दार है. कौशिक परिवार में तब भूकंप आ जाता है, जब दो युवा बच्चों की मां नीना गुप्ता के दोबारा मां बनने का पता चलता है. बड़ा बेटा नकुल यानी आयुष्मान खुराना अपनी गर्लफ्रेंड सान्या मल्होत्रा के साथ शादी करने की प्लानिंग कर रहा है, उस पर उसके लिए मां के मां बनने की ख़बर किसी सदमे से कम नहीं होती.

कौशिक परिवार के मुखिया गजराज राव ने लाजवाब अभिनय किया है. नीना गुप्ता के साथ उनकी जुगलबंदी देखते ही बनती है. नीनाजी की भाव-भंगिमाएं, प्रतिक्रियाएं, संवाद अदायगी दर्शकों को बांधे रखती है. आयुष्मान खुराना तो हमेशा की तरह ज़बर्दस्त व लाजवाब लगे हैं. इस तरह की भूमिकाओं के साथ वे पूरा न्याय करते हैं. उनकी दादी के रूप में बहुत समय बाद सुरेखा सिकरी को पर्दे पर देखना सुखद लगा. बेटे को लेकर शर्मिंदगी, समाज की आरोप-प्रत्यारोप का डर उन्हें हरदम परेशान करता रहता है. सान्या मल्होत्रा ख़ूबसूरत लगी हैं. कमोबेश हर कलाकार ने अपनी भूमिका को बेहतरीन तरी़के से निभाया है. मेरठ-दिल्लीवाला अंदाज़ फिल्म को और भी मजेदार बना देता है.

निर्माता अमित शर्मा, विनीत जैन, एलेया सेन, हेमंत भंडारी को बहुत-बहुत बधाई, जो उन्होंने इस तरह के अलग सब्जेक्ट पर फिल्म बनाने का निर्णय लिया. तनिष्क बागची, रोचक कोहली, सन्नी बावरा की म्यूज़िक दिल को गुदगुदाती और सुकून देती है. बधाइयां तेनू, मोरनी बनके, नैन ना जोडीं… गीतों को गुरु रंधावा, नेहा कक्कड़, आयुष्मान खुराना, बृजेश शंडल्लय, रोमी, जॉर्डन ने दमदार आवाज़ में अच्छा साथ दिया है. शांतनु श्रीवास्तव, ज्योति कपूर व अक्षत घिल्डियाल ने कहानी पर अच्छी मेहनत की है, जो फिल्म में दिखाई देती है. कह सकते हैं कि बहुत दिनों बाद मनोरंजन से भरपूर एक पारिवारिक फिल्म देखने को मिली.

Namaste England

नमस्ते इंग्लैंड- को दूर से ही सलाम

निर्माता-निर्देशन विपुल अमृतलाल शाह की फिल्म नमस्ते लंदन को दर्शकों ने बेहद पसंद किया था. लेकिन उसी का सीक्वल मानकर चल रहे नमस्ते इंग्लैंड में वो पैनापन देखने को नहीं मिला.

परिणीती चोपड़ा के बड़े ख़्वाब हैं. विदेश में जाकर कुछ करना और बनना चाहती है. अर्जुन कपूर से मुलाक़ात, प्यार, शादी पर बाद में नौकरी को लेकर परिवार का विरोध, परिणीती को विद्रोही बना देता है और वो झूठी शादी करके विदेश चली जाती है. अर्जुन कपूर का अवैध तरी़के से पत्नी को लेने इंग्लैंड जाना और वहां पर अति नाटकीयता का सिलसिला चलता रहता है.

अजुर्न-परिणीता ने अच्छा अभिनय किया है, पर कमज़ोर पटकथा, स्तरीय निर्देशन अधिक प्रभावित नहीं कर पाती है. अन्य कलाकारों में सतीश कौशिक, आदित्य सील, अलंकृता सहाय, अनिल मांगे, मनोज आनंद, अतुल शर्मा, हितेन पटेल, डिजाना डेजानोविक आदि ने अपनी-अपनी भूमिकाएं ठीक से निभाने की कोशिश की है. पंजाब व लंदन के लोकेशन ख़ूबसूरत हैं.

रितेश शाह व सुरेश नायर की कहानी में कोई नयापन नहीं है. इयानिस की सिनेमाट्रोग्राफी आकर्षक है. भरे बाज़ार, धूम धड़ाका, तेरे लिए… गाना पहले से ही सभी को पसंद आ रहे हैं. बादशाह, विशाल ददलानी, पायल देव, अंतरा मित्रा, शाहिद माल्या, आतिफ असलम, अकांखषा भंडारी की आवाज़ ने इन गानों को और भी सुमधुर बना दिया है. प्रोपर पटोला गाने का रिक्रिएशन बढ़िया है. बादशाह, ऋषि रिच, मैननान शाह का संगीत लुभाता है.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े: HBD सनी देओलः पढ़िए उनकी फिल्मों के कुछ शानदार और दमदार डायलॉग्स (Powerful Dialogues Of Sunny Deol)

मूवी रिव्यू: 4 अलग, पर लाजवाब फिल्में… (Movie Review: Fryday, Helicopter Eela, Jalebi, Tumbbad- These Movies Bring An Assortment Of Thrill And Brilliance)

Movie Review
फ्राईडे

साजिद कुरेशी और पीवीआर पिक्चर्स के बैनर तले बनी फ्राईडे फुल टाइमपास मूवी है. अभिषेक डोगरा का कमाल का निर्देशन है. गोविंदा की कमबैक के तौर पर ले सकते हैं. उनकी ग़ज़ब की कॉमेडी है और वरुण शर्मा ने भी उनका अच्छा साथ दिया है. अन्य कलाकारों में बृजेंद्र काला, दिगांगना सूर्यवंशी, प्रभलीन संधू, राजेश शर्मा, संजय मिश्रा ने भी अच्छा साथ दिया है. मनु ऋषि के संवाद बढ़िया है. मीका सिंह, अंकित तिवारी, प्रियंका गोयत, नवराज हंस के गाए गाने मज़ेदार हैं. गोविंदा के फैन के लिए यह फिल्म एक बेहतरीन तोहफ़ा है.

हेलिकॉप्टर ईला

प्रदीप सरकार का बेहतरीन निर्देशन है. आनंद गांधी के गुजराती नाटक बेटा कागड़ो पर आधारित है. इसकी कहानी आनंद गांधी और मितेश शाह ने मिलकर लिखी है.

काजोल सिंगल मदर है औरवो अपने बेटे रिद्धि सेन की अच्छी परवरिश करती है और हरदम उसके ईदगिर्द प्रोटेक्शन के तौर पर रहती है. लेकिन अति तब हो जाती है, जब वो कॉलेज में हरदम उसकी निगरानी करती रहती है. दरअसल, अपनी पढ़ाई पूरी करने के लिए वो बेटे के कॉलेज में ही एडमिशन लेती है. फिल्म वर्किंग व सिंगल मदर के संघर्ष को बख़ूबी बयां करती है. मां-बेटे की बॉन्डिंग, मां का अति सुरक्षात्मक रवैया, इससे बेटे की परेशानी, स्पेस के लिए बेचैन होना… सब कुछ बढ़िया बन पड़ा है. इमोशंस के साथ एक मैसेज भी देती है कि रिश्तों में स्पेस देना भी ज़रूरी है.

बेटे के रूप में रिद्धि सेन ने अपनी पहली फिल्म में प्रभावशाली अभिनय किया है. काजोल तो हमेशा से ही बेजोड़ अदाकारा रही हैं. हर सीन में वे ख़ूबसूरत, आकर्षक व बेहतरीन लगी हैं.

इनके साथ नेहा धूपिया, जाकिर हुसैन, टोटा राय चौधरी ने भी लाजवाब अभिनय किया है. अमित त्रिवेदी व राघव सच्चर का संगीत मधुर है. मम्मा की परछाई, यादों की आलमारी गाना अच्छा बना है. फिल्म में अमिताभ बच्चन, शान, और महेश भट्ट का कैमियो भी है.

 

जलेबी

मुकेश भट्ट की जलेबी वाकई में एक अर्थपूर्ण फिल्म है. पुष्पदीप भारद्वाज का तारीफ़-ए-काबिल निर्देशन है.

एक प्रेमकहानी है. जहां दो प्यार करनेवाले अलग हो जाते हैं. फिर दोनों की ट्रेन में मुलाक़ात होती है, जहां प्रेमी अपनी दूसरी पत्नी व बच्चे के साथ है. यादों का सिलसिला, आपसी जुड़ाव, ग़लती कहां हुई… आदि का सोच का दौर चलता है.

अपनी पहली ही फिल्म में वरुण मित्रा ने शानदार परफॉर्मेंस दिया है. साथ ही रिया चक्रवर्ती, दिगांगना सूर्यवंशी का अभिनय भी बेजोड़ है. यह बंगाली फिल्म प्रकटन की रीमेक है. तनिष्क बागची व जीत गांगुली का संगीत कर्णप्रिय है. गाने ख़ूबसूरत है, विशेषकर पल, तेरे नाम से… अरिजित सिंह, श्रेया घोषाल, ज़ुबिन नौटियाल, जावेद मोहसिन के गाए हर गीत मधुर हैं. कौसर मुनीर की पटकथा सशक्त है.

 

तुंबाड

निर्माता आनंद एल राय व सोहम शाह की तुंबाड फैंटेसी, हॉरर, पीरियड, हिस्टॉरिकल बेस फिल्म है. यह रहस्य, रोमांच व तिलिस्म से भरी सशक्त थ्रिल फिल्म है. सिनेमाटोग्राफी, कॉस्टयूम, आर्ट सब कुछ ख़ूबसूरत हैं.

साल 1920 के दौर की कहानी है, महाराष्ट्र के तुंबाड गांव में तीन पीढ़ियों से रह रहे ब्राह्मण परिवार की है. उनकी जमीदारी थी. वहीं पर वे बरसों से ख़ज़ाने की खोज  करते हैं, पर सफल नहीं हो पाते.

अपनी पहली ही फिल्म में राही अनिल बर्वे ने प्रशंसनीय निर्देशन दिया है. साथ ही सभी कलाकारों- सोहम शाह, हरीश खन्ना, रोजिनी चक्रवर्ती, मोहम्मद समद, ज्योति मालशे, अनीता दाते ने प्रभावशाली अभिनय किया है. रहस्य व रोमांच से भरपूर यह फिल्म दर्शकों को बांधे रखती है.  क्रिएटिव डायरेक्टर आनंद गांधी ने भी फिल्म को ख़ूबसूरत बनाने में पूरा योगदान दिया है. अजय-अतुल व जेस्पर कीड की म्यूज़िक लाजवाब है.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े: शादी के बंधन में बंधे प्रिंस नरुला और युविका देखिए Pic और Video (Marriage Pics Of Prince Narula And Yuvika)

जाह्नवी-अर्जुन पहली बार साथ आएंगे करण के शो में… (Jahnavi-Arjun Kapoor Together In Coffee With Karan…)

Coffee With Karan.

अर्जुन कपूर (Arjun Kapoor) और जाह्नवी कपूर (Jahnavi Kapoor) पहली बार एक साथ स्क्रीन शेयर करेंगे. वे दोनों ‘कॉफी विद करण’ (Coffee With Karan) शो में आ रहे हैं. करण जौहर की इस टॉक शो में हर बार सेलिब्रिटीज़ की जोड़ी नज़र आती है. इस बार भाई-बहन, पति-पत्नी, पिता-बेटी की जोड़ियां नज़र आएंगी, जैसे-अर्जुन कपूर-जाह्नवी कपूर, अनुष्का शर्मा-विराट कोहली, सैफ अली ख़ान-सारा ख़ान. करण जौहर का यह शो कॉफी विद करण, का छठा सीज़न है. इस शो को पहले सीज़न से ही लोग काफ़ी पसंद करते रहे हैं, क्योंकि शो में हर तरह का मसाला होता है- कुछ खट्टी-मीठी अनकही बातें, नोक-झोंक और भी बहुत सारी ऐसी बातें, जो ऑडियंस जानना चाहती हैं. और करण अपने मज़ेदार-लच्छेदार बातों से उन्हें अवगत कराते रहते हैं.
आपकी जानकारी के लिए बता दें कि करण ने ही जाह्नवी कपूर को ‘धड़क’ फिल्म के ज़रिए इंट्रोड्यूस किया था. अब छोटे पर्दे पर भी वे ही उन्हें भाई के साथ इंट्रोड्यूस कर रहे हैं.
जैसा कि हम सभी जानते हैं कि अर्जुन कपूर श्रीदेवी से दूरियां बनाकर ही रखते थे, लेकिन उनके जाने के बाद जिस तरह उन्होंने उनकी दोनों बेटियां- जाह्नवी-ख़ुशी को संभाला, उनका ख़्याल रखा, वो काबिल-ए-तारीफ़ है.
अर्जुन कपूर अपनी बहन अंशुला की तरह ही दोनों बहनें जाह्नवी-ख़ुशी को भी प्यार-स्नेह करते हैं, उनका केयर करते हैं. समय-समय पर हम इसके बारे में देखते-सुनते रहे हैं.

  • Jahnavi And Arjun Kapoor
    अब इस शो के ज़रिए दोनों भाई-बहन के बारे में दर्शकों को बहुत कुुछ जानने-समझनेे को मिलेगा, जैसे- उनके आपसी रिश्ते, बॉन्डिंंग, अपनापन आदि. अब कॉफी विद करण के ज़रिए फुल एंटरटेनमेंट के लिए तैयार हो जाएं!

यह भी पढ़े: तनुश्री दत्ता: आरोप-प्रत्यारोप का दौर… (Tanushree Dutta: The Case Of Indian #Me Too)

नेहा धूपिया के बेबी शॉवर पार्टी में पहुंचे कई बॉलीवुड स्टार्स… देखें तस्वीरें (Neha Dhupia’s Baby Shower Party)

Neha Dhupia

नेहा धूपिया के बेबी शॉवर पार्टी में पहुंचे कई बॉलीवुड स्टार्स… देखें तस्वीरें (Neha Dhupia’s Baby Shower Party)

नेहा धूपिया और अंगद बेदी हैं बेहद excited, क्योंकि उनके घर जल्द ही नन्हा मेहमान आने वाला है… नेहा की बेबी शॉवर पार्टी में बॉलीवुड का जमावड़ा लगा… वहीं नेहा वाइट गाउन में लग रही थीं एकदम प्रिन्सेस… आप भी देखें तस्वीरें

Neha Dhupia

Neha Dhupia

Karan And Jhanvi

Sunil Shetty

Neha Dhupia’s Baby Shower Party

Neha Dhupia’s Baby Shower Party

मूवी रिव्यू- सुई धागा+पटाखा- देसी टच कंप्लीट इंटरटेंमेंट (Movie Review- Sui Dhaga+Patakha: Entertaining With A Dose Of Desi)

इन दिनों देसी अंदाज़ के साथ संदेश व मनोरंजन से भरपूर कई फिल्में बन रही हैं. इसी फेहरिस्त में सुई धागा भी है. अनुष्का शर्मा और वरुण धवन अभिनीत यह फिल्म एक आम इंसान की सीधी-सादी ज़िंदगी और स्व रोज़गार को लेकर संघर्ष को बड़ी ख़ूबसूरती से उकेरती है. मेड इन इंडिया के थीम के साथ भी फिल्म न्याय करती है.

ui Dhaga and Patakha

यशराज बैनर तले मनीष शर्मा द्वारा निर्मित व लिखित यह फिल्म सेल्फ एम्प्लॉयमेंट के प्रति जागरूकता भी पैदा करती है. अनुष्का एवं वरुण ने बेहतरीन अभिनय किया है. दोनों की सादगी, संघर्ष, आपसी प्रेम, देसी लुक व अंदाज़ दिल को छू जाती है. वरुण के पिता के रूप में रघुवीर यादव और मां की भूमिका में आभा परमार ने ग़ज़ब की एक्टिंग की है.

अनु मलिक व एंड्रिया गुएरा का संगीत माहौल व मन को ख़ुशनुमा बना देता है. चाव लगा, खटर-पटर, तू ही अहम्, सब बढ़िया है… गीत कर्णप्रिय हैं. पापोन व रोन्किनी गुप्ता की सुमधुर आवाज़ इसे और भी शानदार बना देती है. सुई धागा मेड इन इंडिया, वाकई में बढ़िया सिनेमा का अनुसरण करती है.

Sui Dhaga and Patakha
पटाखा

विशाल भारद्वाज को चरण सिंह पथिक की कहानी दो बहनें इस कदर पसंद आई कि उन्होंने इस पर पटाखा बना डाली. फिल्म की पटकथा, संगीत, निर्देशन- सभी की ज़िम्मेदारी विशालजी ने ख़ुद ही संभाली है.

टीवा स्टार राधिका मदान इसके ज़रिए फिल्मी दुनिया में प्रवेश कर रही हैं. बड़ी बहन चंपा उ़र्फ बड़की के रूप में उन्होंने अपनी पहली ही फिल्म में ज़बर्दस्त अभिनय किया है. उनका साथ दंगल फेम सान्या मल्होत्रा ने गेंदा कुमारी के रूप में बख़ूबी निभाया है. दो बहनें बचपन से लेकर बड़े होने तक अक्सर लड़ाई-झगड़े करती रहती हैं. उनकी लड़ाई को बढ़ाने और उसमें आग में घी का काम करता है उनका पड़ोसी सुनील ग्रोवर. दोनों बेटियों के पिता के रूप मेंं विजय राज ने कमाल की परफॉर्मेंस दी है. सानंद वर्मा ने उनका अच्छा साथ दिया है.

निर्माताओं की टीम यानी रेखा विशाल भारद्वाज, इशान सक्सेना, अजय कपूर, धीरज वाधवान ने दर्शकों को एक अच्छी फिल्म परोसी है. गुलज़ार साहब के गीत फिल्म को और भी ख़ूबसूरत बना देते हैं. रेखा-विशाल भारद्वाज, सुनिधि चाहौन की आवाज़ की जादूगरी फिल्म को बांधे रखती है.

दोनों ही फिल्में शुद्ध देसी अंदाज़ और मनोरंजन से भरपूर है.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े: तनुश्री दत्ता- नाना पाटेकर विवादः फिल्मी इंडस्ट्री बंटा दो खेमों में, जानें पूरा प्रकरण ( Tanushree Dutta Controversy: All You Need To Know)

जानें किसकी दुल्हन बनेंगी साइना?… (Find Out Who Saina Is Getting Married T0!)

बधाई हो, बैडमिंटन स्टार साइना नेहवाल (Saina Nehwal) शादी (Wedding) के बंधन में बंध रही हैं. वे अपने साथी खिलाड़ी पी. कश्यप (P. Kashyap) के साथ 16 दिसंबर को शादी कर रही हैं. शादी सिंपल व निजी तरी़के से होगी, पर 21 दिसंबर को ग्रैंड रिसेप्शन भी रखा जाएगा. दोनों के परिवारवालों ने इस रिश्ते के लिए हामी भर दी है और बेहद ख़ुश भी हैं.

 

साइना का सफ़र…

* साइना और परुपल्ली कश्यप दोनों ही हैदराबाद के हैं.

* साल 2005 में पुलेला गोपीचंद बैडमिंटन अकादमी में ट्रेनिंग के दौरान दोनों की मुलाक़ात हुई.

* खेल में कश्यप साइना को हमेशा अपना पार्टनर बनाते रहे हैं.

* खेल के अलावा दोनों अक्सर कई मौक़ों पर साथ-साथ देख गए. अभी हाल ही में 8 सितंबर को कश्यप के जन्मदिन पर दोनों ने साथ बिताए लम्होंं को साइना ने अपने सोशल मीडिया पर शेयर किया था.

* बैडमिंटन की नंबर वन प्लेयर रह चुकी साइना फ़िलहाल वर्ल्ड रैंकिंग में दसवें नंबर पर हैं.

* साइना ओलिंपिक में कांस्य पदक के अलावा विश्‍व कप चैंपियनशिप की उपविजेता भी रही हैं और अब तक बीस से भी अधिक पदक अपने नाम कर चुकी हैं.

* पी. कश्यप ने साल 2014 में कॉमनवेल्थ गेम्स में स्वर्ण पदक जीता था. कभी वे छठे नंबर के प्लेयर हुआ करते थे, पर अपनी इंजरी के चलते फ़िलहाल वर्तमान में 57 रैंकिंग पर हैं.

* 28 की शाइना और 32 साल के हुए कश्यप दोनों की जोड़ंी एक परफेक्ट कपल से कम नहीं है.

* साइना की बायोपीक पर फिल्म भी बन रही है, जिसमें श्रद्धा कपूर उनकी भूमिका निभा रही हैं.

* श्रद्धा कपूर इस रोल के लिए कड़ी मेहनत कर रही हैं.

* बैडमिंटन की बारीक़ियां सीखने के साथ-साथ वे साइना के घर पर भी गई थीं.

* बकौल श्रद्धा साइना की मां उषा ने उन्हें पूरी-छोले, खीर, हलवा, फ्रूट मिल्क जूस आदि एक से एक व्यंजन बड़े ही प्यार से खिलाया.

* साइना के रोल के लिए श्रद्धा साइना के घर-परिवार, ट्रेनिंग सेंटर अन्य सभी छोटी-छोटी चीज़ों का गहराई से अध्ययन कर रही हैं.

* भूषण कुमार निर्मित और अमोल गुप्ते के निर्देशन में बन रही साइना की इस फिल्म की शूटिंग के समय साइना नेहवाल के माता-पिता डॉ. हरवीर सिंह और उषा भी शामिल हुई थीं. उन्होंने श्रद्धा कपूर को बधाई और शुभकामनाएं भी दीं.

*  बकौल साइना के उन्होंने अमोलजी को कहा था कि जब तक श्रद्धा उनकी तरह बैडमिंटन खेलना अच्छी तरह से सीख नहीं जाती, तब तक फिल्म की शूटिंग न करें.

* श्रद्धा ने इसके लिए साइना के कोच पी. गोपीचंद, प्रवीण नायर और साइना से भी बाकायदा ट्रेनिंग ली.

यह भी पढ़े: Oh No: शादीशुदा हैं ये 10 मशहूर सेलेब्रिटीज़ (These Celebrities Are Married And We Didn’t Know)

 

दिव्या दत्ता/सपना चौधरी- लाजवाब अदाकारा जिन्होंने इंडस्ट्री में बनाई अपनी अलग पहचान… (Divya Dutta & Sapna Choudhary: Actresses Who Carved A Niche In The Industry)

आज दिव्या दत्ता (Divya Dutta) और सपना चौधरी (Sapna Choudhary) का जन्मदिन (Birthday) है. दोनों ही कलाकारों ने मनोरंजन की दुनिया में अपने बलबूते पर अपनी ख़ास पहचान बनाई है. आइए, दोनों के ज़िंदगी से जुड़े अनछुए पहलुओं के बारे में जानते हैं.

 

Divya Dutta & Sapna Choudhary

दिव्या दत्ता

* दिव्या दत्ता लुधियाना के पंजाबी हिंदू परिवार से हैं.

* उनकी मां डॉ. नलिनी दत्ता गर्वमेंट ऑफिसर थीं. वे अपनी मां के बेहद क़रीब थीं. उन पर उन्होंने मम्मी एंड मां नामक किताब भी लिखी थी.

* जब वे सात साल की थीं, तब उनके पिता का देहांत हो गया था.

* साल 2016 में ऑपरेशन के कारण हुई मेडिकल प्रॉब्लम्स के चलते उनकी मां का देहांत हो गया था.

* बकौल दिव्या उनकी मां बचपन से हमेशा उनके साथ रहीं, इसलिए उनका यूं अचानक चले जाना सदमे से कम न था.

* इस कारण वे डिप्रेशन का शिकार हो गईं. फिर उन्होंने अपना इलाज करवाया.

* इरादा फिल्म के लिए वे राष्ट्रीय पुरस्कार जीत चुकी हैं.

* वीर-ज़ारा, भाग मिल्खा भाग, बदलापुर फिल्मों से उन्हें ख़ास पहचान मिली.

* उन्होंने द वर्ल्ड्स बेस्ट बॉयफ्रेंड नामक किताब भी लिखी है.

* हिंदी के अलावा उन्होंने कई बेहतरीन पंजाबी फिल्में भी की हैं.

* फिल्म गिप्पी के सिंगल मदर की भूमिका के लिए उन्हें अपनी मां से प्रेरणा मिली थी, क्योंकि उनकी मां ने बचपन में ही पिता के देहांत के बाद सिंगल पैरेंट के रूप में उनकी और उनके भाई की परवरिश की थी.

* दिव्या को बचपन से ही एक्टिंग का शौक़ था. मुंबई आने से पहले उन्होंने मॉडलिंग व विज्ञापन भी किए थे.

* साल 1994 में फिल्म इश्क़ में जीना इश्क़ में मरना से उन्होंने अपनी फिल्मी करियर की शुरुआत की थी.

* सलमान ख़ान के साथ वीरगति भी की थी, पर फिल्म चल न पाई.

* धीरे-धीरे दिव्या ने सहायक अभिनेत्री के रूप में काम करना शुरू किया, जिसमें वे सफल रहीं.

* द लास्ट ईयर मूवी से उन्होंने अपना इंटरनेशनल फिल्मी करियर शुरू की. इसमें उनके साथ अमिताभ बच्चन, प्रीति जिंटा, अर्जुन रामपाल थे.

* भाग मिल्खा भाग में मिल्खा सिंह की बहन ईश्री कौर की भूमिका में उन्होंने अपनी ज़बर्दस्त छाप छोड़ी. इसके लिए उन्हें आईफा का बेस्ट सर्पोटिंग एक्ट्रेस का अवॉर्ड भी मिला.

* पंजाबी फिल्म शहीद-ए-मोहब्बत बूटा सिंह से उन्होंने पंजाबी फिल्मी करियर का आगाज़ किया. फिर तो सिलसिला-सा चल पड़ा.

* ख़बरों की माने तो लेफ्टिनेंट कमांडर संदीप शेरिगल से उनके रिश्ते को लेकर सुगबुगाहट होती रही है, पर यह कितना सच है, यह तो वे दोनों ही बेहतर जान सकते हैं.

Divya Dutta & Sapna Choudhary

सपना चौधरी

बहुत कम समय में सपना ने इंटरटेनमेंट वर्ल्ड में अपनी एक अलग पहचान बना ली है. बिग बॉस के पिछले सीज़न में तो वे और भी अधिक लाइमलाइट में आ गई थीं. इस भोजपुरी बिजली को उनके आइटम सॉन्ग के लिए भी लोगों ने ख़ूब पसंद किया. उनके परिवार ने उनका जन्मदिन ख़ूब धूमधाम से मनाया.

* सिंगर व डांसर के रूप में सपना ने बहुत से ज़बर्दस्त स्टेज शोज़ किए हैं.

* रोहतक में जन्मी डांसिंग क्वीन सपना के नाच-गाने का दर्शक ख़ूब लुत्फ़ उठाते हैं. इसी के बलबूते पर उन्होंने भोजपुरी, पंजाबी फिल्मों में अपने जलवे बिखेरे हैं.

* सूट तेरा पतला 2 अलबम में उनका तेरी अंखिंया का यों काजल… को लोगों ने इतना अधिक पसंद किया था कि इसे सत्ताइस करोड़ लोगों ने देखा था.

* नानू की जानू में अभय देओल के साथ तेरे ठुमके… पर तो हर कोई फिदा हो गया था. वीरे दी वेडिंग में भी उनका ग़ज़ब का डांस था.

* भोजपुरी फिल्म बैरी कंगना 2 के मेरे सामने आ के… भी ख़ूब पसंद किया गया.

* पंजाबी की जग्गा जियुंदा में उनकी बिल्लौरी अंख सॉन्ग का ऐसा जादू चला कि अब तक पैतालीस लाख से भी अधिक बार देखा जा सुका है.

* उनके हरियाणवी गाने इंग्लिश मीडियम का नशा दर्शकों के सिर इस कदर चढ़ा कि इसे यूट्यूब पर बारह करोड़ से अधिक व्यूज़ मिले थे.

* अब वे हिंदी फिल्मों में भी दोस्ती के साइड इफेक्ट्स से अपने करियर की शुरुआत कर रही हैं. इसमें उनके साथ विक्रांत आनंद, जुबैर ख़ान, अंजू जाधव भी हैं.

दिव्या दत्ता और सपना चौधरी को जन्मदिन की बहुत-बहुत बधाई!

यह भी पढ़े: Photo Gallery: देखिए तैमूर, इनाया, यश और रूही जौहर की क्यूट व नई पिक्स (See Star Kids Recent And New Pics)

मूवी रिव्यू- दो बेहतरीन विषयों पर बनी सार्थक फिल्म: बत्ती गुल मीटर चालू/मंटो (Meaningful Cinema: Both The Movies Will Stir Your Thoughts)

आमतौर पर लोग फिल्में (Movies) मनोरंजन (Entertainment) के लिए देखना पसंद करते हैं, लेकिन कुछ ऐसे विषय भी होते हैं, जिनके बारे में जानना-समझना भी ज़रूरी होता है.

Meaningful Movies

बत्ती गुल मीटर चालू

बिजली विभाग की ग़लती और भ्रष्टाचार के चलते किस तरह एक आम इंसान को परेशानियों का सामना करना पड़ता है, इसे ही फिल्म में मुख्य रूप से दिखाया गया है. यह उत्तराखंड के टिहरी जिले में रहनेवाले तीन मित्रों- शाहिद, श्रद्धा और दिव्येंदु की कहानी है. दिव्येंदु के प्रिंटिंग प्रेस का हमेशा बेहिसाब बिजली का बिल आता रहता है. वो इससे बेहद परेशान है. कई बार बिजली विभाग के चक्कर लगाने के बावजूद न ही न्याय मिल पाता है और न ही सुनवाई होती है. आख़िरकार तंग आकर वो आत्महत्या कर लेता है. शाहिद दोस्त की मौत से सकते में आ जाता है और उसे न्याय दिलाने की ठानता है और तब शुरू होती है क़ानूनी लड़ाई व संघर्ष. चूंकि फिल्म में शाहिद कपूर वकील बने हुए है, तो वे पूरा ज़ोर लगा देते हैं अपने दोस्त को इंसाफ़ दिलाने के लिए.

श्रद्धा कपूर फैशन डिज़ाइनर हैं. दो दोस्तों के बीच में फंसी एक प्रेमिका, पर उन तीनों की बॉन्डिंग देखने काबिल है. यामी गौतम एडवोकेट की छोटी भूमिका में अपना प्रभाव छोड़ती हैं. कोर्ट के सीन्स दिलचस्प हैं. शाहिद कपूर, श्रद्धा कपूर, यामी गौतम, दिव्येंदु शर्मा सभी कलाकारों ने सहज और उम्दा अभिनय किया है. श्रीनारायण सिंह टॉयलेट- एक प्रेम कथा के बाद एक बार फिर गंभीर विषय पर सटीक प्रहार करते हैं. अनु मलिक व रोचक कोहली का संगीत और संचित-परंपरा के गीत सुमधुर हैं. अंशुमन महाले की सिनेमैटोेग्राफी लाजवाब है. निर्माताओं की टीम भूषण कुमार, कृष्ण कुमार व निशांत पिट्टी ने सार्थक विषय को पर्दे पर लाने की एक ईमानदार कोशिश की है.

मंटो

जब कभी किसी विवादित शख़्स पर फिल्म बनती है, तब हर कोई उसे अपने नज़रिए से तौलने की कोशिश करने लगता है. मंटो भी इससे जुदा नहीं है. निर्देशक नंदिता दास ने फिराक फिल्म के बाद मंटो के ज़रिए अपने निर्देशन को और भी निखारा है. उस पर मंटो की भूमिका में नवाज़ुद्दीन सिद्दीकी का बेमिसाल अभिनय मानो सोने पे सुहागा. मंटो की पत्नी के रूप में रसिका दुग्गल ने भी ग़ज़ब की एक्टिंग की है. वैसे फिल्म में कुछ कमियां हैं, जो मंटो को जानने व समझनेवालों को निराश करेगी.

सआदत हसन मंटो की लेखनी हमेशा विवादों के घेरे में रही, विशेषकर ठंडा गोश्त, खोल दो, टोबा टेक सिंह. उन पर उनकी लेखनी में अश्‍लीलता का भरपूर इस्तेमाल करने का आरोप ज़िंदगीभर रहा, फिर चाहे वो आज़ादी के पहले की बात हो या फिर देश आज़ाद होने पर उनका लाहौर में बस जाना हो. इसी कारण उन पर तमाम तरह के इल्ज़ामात, कोर्ट-कचहरी, अभावभरी ज़िंदगी के उतार-चढ़ाव का दौर सिलसिलेवार चलता रहा. रेसुल पुक्कुटी का संगीत ठीक-ठाक है. साथी कलाकारों में ऋषि कपूर, जावेद अख़्तर, इला अरुण, ताहिर राज भसीन व राजश्री देशपांडे ने अपने छोटे पर महत्वपूर्ण भूमिकाओं के साथ न्याय किया है. निर्माता विक्रांत बत्रा और अजित अंधारे ने मंटो के ज़रिए लोगों तक उनकी शख़्सियत से रू-ब-रू कराने की अच्छी कोशिश की है.

– ऊषा गुप्ता

यह भी पढ़े: इस अंदाज़ में करीना कपूर ने मनाया अपना जन्मदिन, देखिए पार्टी पिक्स (Inside Kareena Kapoor’s Birthday Bash)

जन्मदिन पर विशेष- इस चार्मिंग हीरो पर शबानाजी को था क्रश… (Shabana Azmi Had A Major Crush On This Charming Actor…)

Shabana Azmi Crush

हिंदी सिनेमा जगत मेंं बेहतरीन अदाकारा में से एक हैं शबाना आज़मी (Shabana Azmi). आज उनके जन्मदिन पर उनसे जुड़ी कई दिलचस्प पहलुओं के बारे में जानते हैं.

Shabana Azmi

* शबानाजी अपने सशक्त अभिनय और बहुमुखी क़िरदारों को प्रभावशाली अंदाज़ में निभाए जाने के लिए जानी जाती हैं. तभी तो अपनी पहली ही फिल्म अंकुर में राष्ट्रीय पुरस्कार उन्होंने जीता था.

* उसके बाद तो उन्होंने कई फिल्मों के लिए नेशनल अवॉर्ड्स जीते, जिनमें विशेष तौर पर अर्थ, खंडहर, पार हैं.

* शबानाजी के पिता कैफ़ी आज़मी जाने-माने शायर रहे हैं. उन्हीं से लेखनी का सबक सीखने जावेद अख़्तर शबानाजी के घर आया करते थे, तभी ही दोनों एक-दूसरे के प्रति आकर्षित हुए.

* लेकिन उनका पहला क्रश हैंडसम-चार्मिंग शशि कपूर थे. दरअसल, पृथ्वीराज कपूर कैफ़ी आज़मी के पड़ोस में रहते थे और अपने पिता से मिलने शशि कपूर अक्सर वहां आया करते थे.

* शबानाजी उनकी इस कदर दीवानी थीं कि एक बार तो उन्होंने उनकी फोटो पर शशिजी का आटोग्राफ भी ले लिया.

* वैसे उनकी दिली तमन्ना उनके साथ बहुत काम करने की थी, पर वे एकमात्र फकीरा फिल्म में ही उनके साथ काम कर पाईं.

* शबानाजी अपने बिंदास रोल के लिए भी काफ़ी जानी जाती रही हैं. फिर चाहे फिल्मी करियर की शुरुआती दौर में मंडी फिल्म का बोल्ड सीन हो या फिर समलैंगिकता पर फायर मूवी.

* व्यक्तिगत ज़िंदगी हो या फिल्में शबानाजी ने हर भूमिका के साथ न्याय किया. तभी तो जावेद साहब की पहली पत्नी हनी ईरानी के दोनों बच्चों फरहान अख़्तर और ज़ोया अख़्तर के साथ भी उनके उतने ही मधुर संबंध हैं, जितने जावेदजी के साथ है.

* फिल्मों में पर्दापण उन्होंने श्याम बेनेगल की अंकुर फिल्म से की थी. यह हैदराबाद की एक सच्ची प्रेम कहानी पर आधारित थी. इस फिल्म के लिए उन्हें नेशनल अवॉर्ड मिला, जबकि इस रोल के लिए वे श्याम बेनेगल की पहली पसंद नहीं थीं.

* बहुत कम लोग जानते हैं कि फिल्मों में आने की ख़्वाहिश उन्हें जया बच्चन के कारण हुई. जब उन्होंने जयाजी को फिल्म एंड टेलीविजन इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया की एक फिल्म में देखा था.

* वैसे शबानाजी की मां शौक़त आज़मी रंगमंच की बेहतरीन कलाकार थीं.

* शबानाजी ने लगातार तीन साल तक यानी 1983 से लेकर 1985 तक राष्ट्रीय पुरस्कार अपने नाम किया था. इसके बाद गॉडमदर के लिए भी उन्हें नेशनल अवॉर्ड से सम्मानित किया गया.

* शायद आपको पता न हो कि फिल्म वॉटर के लिए शबानाजी ने अपने बाल भी निकलवाए थे और बिना बाल के वे बेहद ख़ूबसूरत भी लगती थीं. लेकिन कुछ कारणवश फिल्म की कास्ट चेंज हो गई.

* आज 67 की उम्र में भी वे अपनी अदाकारी के दमख़म से अच्छे से अच्छा कलाकार को भी कड़ी चुनौती देती हैं. तभी तो जज़्बा फिल्म में एक तरफ़ उनका निगेटिव शेड था, तो दूसरी तरफ़ ऐश्‍वर्या राय बच्चन और इरफान ख़ान की मंजी अदाकारी.

* शबानाजी पांच बार फिल्मफेयर अवॉर्ड्स के अलावा पद्मश्री व पद्मभूषण से भी सम्मानित हो चुकी हैं.

* अंकुर, मंडी, अर्थ, खंडहर, पार, गॉडमदर, शतरंज के खिलाड़ी, फायर, मकड़ी, जज़्बा में उनके विविधतापूर्ण सशक्त अभिनय नेे हर किसी को प्रभावित किया.

* आज शबानाजी का 68वां जन्मदिन है. मेरी सहेली की तरफ़ से उन्हें मुबारकबाद!… वे यूं ही अभिनय के रंग बिखेरती रहें.

यह भी पढ़े: Shocking: प्रियंका चोपड़ा जूझ रही हैं इस बीमारी से (Priyanka Chopra Is Suffering From This Disease)

प्रधानमंत्रीजी के जन्मदिन पर ख़ास- बधाई देने के साथ मोदीजी की सराहना की सितारों ने… (Bollywood Praises And Congratulates PM Modi)

भारत के प्रधानमंत्री (Prime Minister) हम सबके प्रिय व बहुमुखी व्यक्तित्व के धनी नरेंद्र मोदीजी (Narendra Modi Ji) का आज जन्मदिन (Birthday) है. दिनभर बधाइयों का दौर चलता रहा, जिसमें राष्ट्रपति, उप-राष्ट्रपति, नेता, अभिनेता, कलाकार, बड़े, छोटे, बच्चे आम सभी लोग शामिल थे. सभी ने अपने-अपने तरी़के से उनके प्रति अपने प्यार, मान-सम्मान, गर्व को दर्शाया. इन सब में हमारे फिल्मी सितारे भी कहां पीछे रहनेवाले थे. महानायक अमिताभ बच्चन, अक्षय कुमार, अनुपम खेर से लेकर कंगना रनौत, माधुरी दीक्षित तक सभी ने उन्हें मुबारकबाद दी.

PM Modi

अमिताभ बच्चन

वर्ष नव हर्ष नव जीवन उत्कर्ष नव… हैप्पी बर्थडे पीएम मोदी…

अपने संदेश के साथ अमितजी ने मोदीजी के साथ अपनी कुछ फोटो भी अपलोड कीं.

अनुपम खेर

नरेंद्र मोदीजी जन्मदिन की शुभकामनाएं! ईश्‍वर आपकी भारतमाता से जुड़ी सभी मनोकामनाएं पूरी करें. आप इसी तरह ईमानदारी, सच्चाई, कड़े परिश्रम व सही दृष्टिकोण द्वारा देश का प्रतिनिधित्व करते रहें. आप स्वस्थ व दीर्घायु रहें.

अक्षय कुमार

प्रधानमंत्री को जन्मदिन की बधाई देने के साथ-साथ अक्षय कुमार एक वीडियो भी शेयर किया. इसमें उन्होंने मोदीजी के कार्यों की सराहना की. साथ ही आर्मी परिवार के शहीदों को दिए जानेवाले डोनेशन, सेनेटरी नैपकिन्न, ओडीएफ आदि के बारे में सरकार द्वारा किए जानेवाले उल्लेखनीय कामों की भी प्रशंसा की.

कंगना रनौत

अपने बेबाक़ बयानबाजी के लिए मशहूर अदाकारा कंगना ने भी अपनी फिल्म मणिकर्णिका के रानी लक्ष्मीबाई के गेटअप में ख़ास अंदाज़ में पीएम को विश किया.

माननीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदीजी, जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं! मैं और मेरी टीम (मणिकर्णिका फिल्म) आपकी लंबी उम्र की प्रार्थका करते हैं. साथ ही बेटी बचाव अभियान में की गई आपकी कोशिशों व कार्यों की सराहना करते हैं. भविष्य में भी इसी तरह सफल रहें. जय हिंद!

इन सब के अलावा रजनीकांत, ऋषि कपूर, माधुरी दीक्षित, प्रीति ज़िंटा, मधुर भंडारकर आदि कलाकारों के अलावा हिमा दास, साक्षी मलिक, मानुषी छिल्लर, सौरव गांगुली ने भी बधाइयां दीं. इनके अलावा विरोधी पार्टी के शख़्सियत भी उन्हें बधाई देने में पीछे नहीं रहे.

मोदीजी ने अपना जन्मदिन अपने चुनाव क्षेत्र वाराणसी में बच्चों के बीच सेवा आंदोलन की शुरुआत करके मनाया. कुछ दिन पहले स्वयं श्रम दान करके उन्होंने स्वच्छता अभियान में अपना बहुमूल्य योगदान भी दिया था.

 

जन्मदिन पर विशेष: जानिए नरेंद्र मोदी से जुड़ी ये दिलचस्प बातें! (Happy Birthday: Interesting Facts About Narendra Modi)

बधाई हो, नीना गुप्ता 59 में हुई प्रेग्नेंट? (Badhai Ho! Neena Gupta Pregnant At 59)

टीवी-फिल्मों की मशहूर अदाकारा नीना गुप्ता (Neena Gupta) उनके बिंदास अंदाज़ व साहसिक निर्णय के लिए काफ़ी मशहूर रही हैं. फिर चाहे वो क्रिकेटर विवियन रिचर्ड्स के बच्ची की कुंआरी मां बनना रहा हो.. या फिर सांस टीवी सीरियल में उनका बोल्ड अंदाज़, फिल्मों में उनका बेपरवाह अभिनय.

Neena Gupta

अब वे साठ के क़रीब की उम्र में मां बननेवाली हैं. जी हां, है ना हैरत की बात. अरे, आप तो वाकई में हैरान हो गए. जी वे हक़ीक़त में नहीं, बल्कि बधाई हो फिल्म में उम्र के तीसरे पड़ाव पर मां बन रही हैं.

नीना के अनुसार, फिल्म का विषय दिलचस्प और ट्रीटमेंट बिल्कुल अलग होने के कारण वे इस फिल्म को कर रही हैं. किस तरह युवा बेटे की मां होने के बावजूद जब वे गर्भवती हो जाती हैं, तो घर-परिवार, समाज के व्यंग्य, हास्य, आलोचनाओें का शिकार होने लगती हैं. आयुष्मान खुराना उनके बेटे की भूमिका में है.

बकौल नीना के जब उन्होंने इसकी कहानी सुनी, तो हामी भरने में बिल्कुल देर नहीं लगाई. उन्हें यह रोल बेहद चैलेंजिंग लगा.

मां के प्रेग्नेंट होने के कारण आयुष्मान खुराना और उनकी प्रेमिका सान्या मल्होत्रा की ज़िंदगी में भी कोहराम मच जाता है.

हाल ही में इस फिल्म के ट्रेलर को लोगों ने ख़ूब पसंद किया. निर्देशक अमित शर्मा का निर्देशन भी कुछ कम लाजवाब नहीं है.

नीना, आयुष्मान, सान्या के अलावा सुरेखा सिकरी और नीना के पति के रूप में गजराज राव का मनोरंजन से भरपूर अभिनय कभी हंसाता तो कभी गुदगुदाता है.

यह फिल्म 19 अक्टूबर को रिलीज़ हो रही है.

आइए देखते हैं फिल्म से जुड़े कुछ मज़ेदार दृश्य…

Badhai Ho! Neena Gupta Badhai Ho! Neena Gupta Badhai Ho! Neena Gupta

Neena Gupta In Badhai Ho Neena Gupta

Badhaai Ho

यह भी पढ़े: जानिए 46 की उम्र में अभिनेत्री लिज़ा रे कैसे बनीं मां? (Lisa Ray Becomes A Mother To Twin Babies At 46)