family planning

शादी से पहले होनेवाले कपल को तरह-तरह की हिदायतें दी जाती हैं. ट्रेनिंग दी जाती है. नए माहौल में एडजेस्ट होने से लेकर खाना पकाने तक और ससुराल में सबका मन जीत लेने से लेकर पार्टनर को काबू में करने तक के गुरुमंत्र दिए जाते हैं. जिसकी समझ में जो आता है, वो वही स्पेशल टिप देकर चला जाता है. लेकिन इन सबके बीच एक बात जो अक्सर नज़रअंदाज़ कर दी जाती है, वो है फैमिली प्लानिंग की बात.

Family Planning

क्यों नहीं की जाती फैमिली प्लानिंग की बात?

–     दरअसल हमारे समाज में शादी का दूसरा मतलब ही होता है बच्चे. जी हां, शादी होते ही हर कोई गुड न्यूज़ सुनना चाहता है, ऐसे में फैमिली प्लानिंग के बारे में भला कौन सोचे?

–     शादी के बाद यदि एक साल के अंदर गुड न्यूज़ नहीं मिलती, तो लोग बातें बनाने लगते हैं, क्योंकि हम मदरहुड को बहुत ही ग्लोरिफाई करते हैं.

–     मां बनना ही जैसे एक स्त्री की ज़िंदगी का सबसे बड़ा उद्देश्य है, उसके बिना उसके अस्तित्व का कोई महत्व ही नहीं.

–     अक्सर पैरेंट्स अपने बच्चों के मन यह बात डाल देते हैं कि बेहतर होगा कंट्रासेप्शन यूज़ न किया जाए और पहला बच्चा जितना जल्दी हो जाए, उतना अच्छा होगा.

–     अक्सर बच्चे को लोग शादी व रिश्ते की सिक्योरिटी मान लेते हैं, यह भी वजह है कि शादी के बाद गुड न्यूज़ का ही इंतज़ार करते हैं.

क्यों ज़रूरी है फैमिली प्लानिंग?

–     आजकल बिज़ी शेड्यूल के चलते बहुत-सी प्राथमिकताएं बदल रही हैं. इनका असर शादी व फैमिली प्लानिंग पर भी पड़ा है. ऐसे में अनचाहा गर्भ यानी एक्सिडेंटल प्रेग्नेंसी बहुत से ़फैसले बदलने को मजबूर कर सकती है.

–     इन फैसलों में करियर से लेकर फाइनेंशियल प्लानिंग तक शामिल है.

–    पहला बच्चा कब चाहते हैं, दूसरा बच्चा यदि चाहते हैं, तो कितने अंतराल के बाद… बच्चा होने पर किस तरह से ज़िंदगी बदलेगी, ज़िम्मेदारियां बढ़ेंगी, ख़र्चे बढ़ेंगे, काम बढ़ेगा… इन सब पर चर्चा ज़रूरी है.

–     बच्चे की ज़िम्मेदारी व उससे जुड़े काम कपल किस तरह से आपस में बांटेंगे, करियर को किस तरह से मैनेज करेंगे… इन तमाम बातों पर चर्चा बेहद ज़रूरी है.

कब करें फैमिली प्लानिंग की चर्चा?

अब सवाल यह है कि इन बातों पर चर्चा कब करनी चाहिए?

–    ज़ाहिर-सी बात है, ये तमाम बातें कपल को शादी से पहले ही कर लेनी चाहिए.

–     दोनों के क्या विचार हैं, किसकी कितनी सहमति है, यह जानना बेहद ज़रूरी है, ताकि बाद में विवाद न हो.

–     इसी प्लानिंग का एक बड़ा हिस्सा है- कंट्रासेप्शन. किस तरह का कंट्रासेप्शन यूज़ करना है, किसे यूज़ करना है, कब तक यूज़ करना है आदि बातें कपल्स पहले ही डिसाइड कर लें, वरना एक्सिडेंटल प्रेग्नेंसी बहुत से प्लान्स चेंज करवा सकती है.

–     कंट्रासेप्शन यदि फेल हुआ, तो एक्सिडेंटल प्रेग्नेंसी के लिए मानसिक रूप से तैयार रहना होगा. आपका करियर व फाइनांस बहुत हद तक इससे प्रभावित होगा, तो उस पर भी चर्चा ज़रूरी है.

–     आप चाहें तो काउंसलर के पास जाकर भी सलाह ले सकते हैं.

–     लेकिन ज़रूरी है कि शादी से पहले ही इन सब बातों को लेकर आप क्लीयर हो जाएं, ताकि बाद में एक-दूसरे पर टीका-टिप्पणी या आरोप न लगें.

यह भी पढ़े: शादी से पहले दिमाग़ में आनेवाले 10 क्रेज़ी सवाल (10 Crazy Things Which May Bother You Before Marriage)

Family Planning Tips
बेझिझक बात करना है ज़रूरी

–     अक्सर कपल शादी से पहले इन बातों को जान-बूझकर भी अवॉइड करते हैं, क्योंकि उन्हें झिझक होती है.

–     उन्हें यह भी लगता है कि कहीं इतनी-सी बात को लेकर बनता रिश्ता टूट न जाए.

–     लड़कियों में भी हिचक होती है, क्योंकि उन्हें लगता है कि पार्टनर यह न समझे कि वो मर्यादा के बाहर जाकर बात कर रही है.

–     लेकिन बेहतर यही होगा कि आप हिचकिचाहट छोड़कर अपनी सारी शंकाएं दूर कर लें, ताकि बाद में यह महसूस न हो कि काश! पहले ही बात कर ली होती.

–     इससे आपको अपने होनेवाले पार्टनर की परिपक्वता, सोच-समझ व मानसिकता का भी अंदाज़ा हो जाएगा.

–     वो कितना सुलझा हुआ है, उसका थॉट प्रोसेस कितना क्लीयर है, यह आपको पता चल जाएगा.

बदलाव के लिए रहें तैयार

–     आप दोनों को इस बात पर भी चर्चा करनी होगी कि आप दोनों की ही ज़िंदगी बच्चा होने के बाद बहुत ज़्यादा बदल जाएगी.

–     एक तरफ़ ख़ुशख़बरी होगी, पर दूसरी तरफ़ ज़िम्मेदारियां भी.

–     उसी के अनुसार ख़र्च बढ़ेंगे, तो किस तरह से पहले से ही कितना अमाउंट इंवेस्ट करना है, ताकि बच्चा होने पर आपकी फाइनेंशियल हालत स्थिर रहे, उसकी प्लानिंग भी ज़रूरी है.

–     बच्चे के लिए कौन-कौन से प्लान्स लेने हैं, इसकी जानकारी ज़रूरी है.

–     स़िर्फ आर्थिक तौर पर ही नहीं, मानसिक व शारीरिक तौर पर भी बदलाव होंगे.

–     हल्का डिप्रेशन, शरीर में बदलाव, लाइफस्टाइल में बदलाव- इन सब पर भी चर्चा ज़रूरी है.

–     आपकी सेक्स लाइफ भी बदलेगी, जिसे लेकर हो सकता है आपसी तनाव हो जाए, तो यहां यदि आप पहले ही चर्चा करके एक-दूसरे के मन को जान लेंगे, परिपक्वता को परख लेंगे, तो भविष्य की चुनौतियों का सामना बेहतर तरी़के से कर पाएंगे.

–     बच्चा होने पर देर रात तक जागना, उसकी पूरी देखभाल करना शरीर व मन को थका सकता है और यह तनाव भी दे सकता है, जिससे आपस में विवाद भी हो सकते हैं.

–     करियर में बदलाव भी होगा. हो सकता है किसी एक को नौकरी छोड़नी भी पड़े या पार्ट टाइम काम करना पड़े, तो वो किस तरह से मैनेज होगा.

–     बच्चा होने के कितने समय बाद फिर से करियर को महत्व देना है, किस तरह से बच्चे की परवरिश करनी है, ये तमाम बातें छोटी लगती हैं, लेकिन आपके रिश्ते के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं.

समय ने मानसिकता भी बदल दी है…

यह सच है कि स्त्री को ही प्रकृति ने गर्भधारण का दायित्व दिया है. ऐसे में कंसीव करने के बाद यह सोचना कि यह कोई बड़ी मुसीबत है या यह बच्चा आपकी ही ज़िम्मेदारी नहीं है आदि ग़लत है. यह सच है कि बच्चा दोनों की ज़िम्मेदारी है, लेकिन स्त्री की शारीरिक संरचना व प्रकृति द्वारा प्रदत्त दायित्व के चलते उसकी ज़िम्मेदारी थोड़ी अलग व अधिक हो ही जाती है. निशांक व रिया ने फैमिली प्लानिंग नहीं की थी और न ही उस पर चर्चा की थी. नतीजा- शादी के एक साल के अंदर ही उनको बच्चा हो गया, लेकिन यह बच्चा रिया को बोझ लगने लगा, क्योंकि वो बात-बात पर निशांक से शिकायत करती कि बच्चा दोनों का है, तो तुम तो मज़े से ऑफिस चले जाते हो और मुझे इतना कुछ सहना पड़ता है. जबकि रिया वर्किंग नहीं थी, बावजूद इसके उसे यह अपेक्षा रहती थी कि यदि वो रात में जागकर बच्चे की नैप्पी बदल रही है, तो निशांक को भी यह करना होगा. प्रेग्नेंसी के बाद रिया में शारीरिक बदलाव भी आ गए थे, जिसको लेकर वो डिप्रेशन में रहने लगी थी. निशांक के अलावा रिया के जाननेवाले व सहेलियां भी उसे समझाती थीं कि यह नेचुरल है और समय के साथ सब नॉर्मल हो जाएगा, इसलिए रिया को बदले हालातों को स्वीकारना होगा, वो भी ख़ुशी-ख़ुशी. लेकिन रिया कुछ समझने को तैयार ही नहीं थी. उसे लगता था उसकी आज़ादी छिन गई, उसकी आउटिंग व पार्टीज़ बंद हो गईं, वो मोटी हो गई… जिसका असर दोनों के रिश्ते के साथ-साथ घर में आए नए मेहमान पर भी पड़ रहा था. एक्सिडेंटल प्रेग्नेंसी पर यदि रिया व निशांक ने पहले चर्चा की होती या फिर पहले से ही उन्होंने फैमिली प्लानिंग की चर्चा की होती, तो परिस्थितियां बेहतर होतीं.

इसके अलावा बेहतर होगा कि आज की जेनरेशन भी यह सच्चाई स्वीकारे कि प्रकृति ने स्त्री-पुरुष को अलग-अलग बनाया है और उसे कोई भी बदल नहीं सकता. बेहतर होगा कि अपने बच्चे का ख़ुशी-ख़ुशी स्वागत करें, ताकि वो सकारात्मक माहौल में पल-बढ़ सके.

ज़रूरत महसूस हो, तो काउंसलर की मदद भी ले सकते हैं या घर के बड़े-बज़ुर्गों का मार्गदर्शन लें.

– ब्रह्मानंद शर्मा

यह भी पढ़े: रिश्तों में बदल रहे हैं कमिटमेंट के मायने… (Changing Essence Of Commitments In Relationships Today)

150 Kids Recipes

150 Kids Recipes

Rs.30

Deshi Videshi Receipe (E-Book)

Rs.30

Hair Style (E-Book)

Rs.30
मैं 23 वर्षीय स्त्री हूं. छह माह पूर्व ही मेरा विवाह हुआ है. हम अगले दो सालों तक बच्चा नहीं चाहते, इसलिए कंडोम (Condom) इस्तेमाल करते हैं. लेकिन मुझे इससे असहजता महसूस होती है और दर्द भी होता है. किसी ने मुझे बताया कि कंडोम या उसके जेल से मुझे एलर्जी (Allergic) हो सकती है. क्या वाकई मुझे इससे एलर्जी हो रही है? कृपया मेरी समस्या का समाधान बताएं.
– श्रेया मल्होत्रा, कानपुर.

आपको कंडोम के रबर या फिर इसके जेल से एलर्जी होने की संभावना है. चूंकि अभी आपकी उम्र भी काफ़ी कम है और अगले दो साल तक आप परिवार बढ़ाना नहीं चाहतीं, तो ऐसे में आप गर्भनिरोधक दवाइयों का इस्तेमाल कर सकती हैं. बेहतर होगा कि आप किसी गायनाकोलॉजिस्ट से संपर्क करें, जो आपको बताएंगे कि आपके लिए कौन–सा गर्भनिरोधक उपयुक्त होगा.

यह भी पढ़ें: Personal Problems: दो साल में सिर्फ दो बार पीरियड्स आए (Reasons For Irregular Periods)

Condoms Allergic

मैं 20 साल की हूं. मेरी समस्या यह है कि अन्य लड़कियों की तुलना में मेरे स्तन बहुत छोटे हैं. मैंने कई ऐसे विज्ञापन पढ़े हैं, जो बिना किसी सर्जरी के स्तन का आकार बढ़ाने का दावा करते हैं. मेरी जल्दी ही शादी होनेवाली है. मैं उन इलाजों और उनके साइड इ़फेक्ट्स के बारे में जानना चाहती हूं.
– राखी लड्ढा, बिजनौर.

ये सच है कि ब्रेस्ट एनलार्जमेंट के लिए आए दिन विज्ञापन प्रकाशित होते रहते हैं, लेकिन उनकी सच्चाई के बारे में कुछ भी कहना मुश्किल है. अगर आप चाहें तो एक्सरसाइज़ करके अपने स्तनों का आकार बढ़ा सकती हैं. इसके लिए आप जिम ज्वाइन कर सकती हैं और इंस्ट्रक्टर को अपना उद्ददेश्य बता दें. इसके अलावा आप गर्भनिरोधक गोलियों का इस्तेमाल भी कर सकती हैं. ये न सिर्फ़ स्तनों का आकार बढ़ाएंगी, बल्कि अनचाहे गर्भ से भी सुरक्षित रखेंगी. वैसे सबसे अच्छा तरीका है-ब्रेस्ट इम्प्लांट, जिसमें 40,000 से 80,000 रुपए ख़र्च आता है. वैसे मेरा मानना है कि ये सब दिमागी फ़ितूर है. अगर आप अपने शरीर के बारे में पॉज़िटिव सोच रखें तो ब्रेस्ट का साइज़ कोई मायने नहीं रखता.

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: सेक्स के दौरान वेजाइनल ब्लीडिंग के क्या कारण हो सकते हैं? (Causes Of Vaginal Bleeding During Sex)

 Dr. Rajshree Kumar

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा ऐप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

150 Kids Recipes

150 Kids Recipes

Rs.30

Deshi Videshi Receipe (E-Book)

Rs.30

Hair Style (E-Book)

Rs.30

छोटे पर्दे के शो ‘जमाई राजा’ के फेम एक्टर रवि दुबे (Ravi Dubey) अपने करियर के बेहतरीन दौर से गुज़र रहे हैं और उनकी शादीशुदा ज़िंदगी भी मज़े से कट रही है. बता दें कि टीवी के इस जमाई राजा ने साल 2013 में एक्ट्रेस सरगुन मेहता से शादी की थी. दोनों की शादी को 5 साल हो गए हैं, लेकिन अभी तक दोनों ने बच्चे को लेकर कोई प्लानिंग नहीं की है. शादी के 5 साल बाद भी आख़िर रवि और सरगुन पैरेंट्स क्यों नहीं बनना चाहते, चलिए जानते हैं.

दरअसल, 34 वर्षीय रवि दुबे की मानें तो वो अपनी पत्नी से बेहद प्यार करते हैं, लेकिन फैमिली प्लानिंग के लिए वो अभी तैयार नहीं है. रवि का मानना है कि फिलहाल उनके और उनकी पत्नी के करियर का यह बेहतरीन दौर चल रहा है, यही वजह है कि वो अभी फैमिली प्लानिंग नहीं करना चाहते.  एक दफा रवि ने कहा था कि उन्हें बच्चों से बेहद प्यार है और वो पापा भी बनना चाहते हैं, लेकिन करियर के पीक पर वो ये नहीं चाहते कि उनकी पत्नी सरगुन बायलॉजिकल पेन से गुज़रें.

गौरतलब है कि ’12/24 करोल बाग’ सीरियल के सेट से दोनों की प्रेम कहानी शुरू हुई थी. 5 फरवरी 2013 को रवि ने ‘नच बलिए 5’ में सरगुन को प्रपोज़ किया था और दोनों शादी के बंधन में बंध गए. फिलहाल रवि ‘सबसे स्मार्ट कौन’ नाम के एक नए गेम शो में बिज़ी हैं, जो जल्द ही पर्दे पर आने वाला है, जबकि सरगुन आख़िरी बार पिछले साल ‘एंटरटेनमेंट की रात’ में नज़र आई थीं.

यह भी पढ़ें: ये है मोहब्बतें के रमन भल्ला रियल लाइफ में बनने वाले हैं पापा

भारतीय क्रिकेट टीम के युवा कप्तान विराट कोहली (Virat Kohli) और बॉलीवुड की मशहूर अभिनेत्री अनुष्का शर्मा (Anushka Sharma) ने पिछले साल दिसंबर में एक-दूसरे के साथ सात फेरे लिए. हालांकि शादी और हनीमून मनाने के बाद दोनों अपने-अपने काम में व्यस्त हो गए, लेकिन उनकी फैमिली प्लानिंग को लेकर चर्चा हो रही है. इसी बीच विराट ने कहा कि वो अनुष्का के साथ अपने परिवार को आगे बढ़ाना चाहते हैं, वो पापा बनना चाहते हैं लेकिन उनकी एक शर्त है.

दरअसल, आईपीएल के दौरान एक इंटरव्यू में विराट कोहली ने पत्नी अनुष्का और अपनी फैमिली प्लानिंग को लेकर कई सारी बातें कही.  उन्होंने कहा कि मेरा अपना परिवार है, अपनी ज़िंदगी है और अनुष्का के साथ मेरे अपने बच्चे भी होंगे, लेकिन मैं चाहता हूं की जब मेरे बच्चे हो, तो मैं उनके साथ समय बिताऊं. मैं चाहता हूं कि करियर से जुड़ी बातें घर पर न हो. जब मेरे बच्चे होंगे तब मेरी ट्रॉफियां, मेरे अचीवमेंट्स कुछ भी मेरे घर पर न रहें, ताकि मेरे बच्चों को सेलिब्रिटी के घर का एहसास न हो.

इसके साथ ही उन्होंने यह भी ख़ुलासा किया कि वो करियर के शुरुआती दौर में काफ़ी एग्रेसिव हुआ करते थे, लेकिन अनुष्का के ज़िंदगी में आने के बाद उनके भीतर कई सारे सकारात्मक बदलाव आए हैं. अनुष्का बहुत ही धार्मिक है और मैंने ऐसे कई सारे बदलाव महसूस किए हैं जो पहले कभी नहीं किए थे. उन्होंने बताया कि वो भले ही क्रिकेट के मैदान में कप्तान हैं, लेकिन घर में अनुष्का ही उनकी कप्तान हैं.

यह भी पढ़ें: अनुष्का शर्मा के बर्थडे पर पति विराट ने दिया यह ख़ास तोहफा

 

 

150 Kids Recipes

150 Kids Recipes

Rs.30

Deshi Videshi Receipe (E-Book)

Rs.30

Hair Style (E-Book)

Rs.30
मेरी उम्र 27 साल है और रेग्युलर एक्सरसाइज़ व डायटिंग के बावजूद मेरा वज़न बढ़ रहा है. मेरे बाल बहुत झड़ गए हैं और पीरियड्स भी अनियमित हो गए हैं. साथ ही मुझे बहुत ज़्यादा ठंड भी लगती है. डॉक्टर ने पॉलिसिस्टिक ओवेरियन डिसीज़ की जांच के लिए टेस्ट भी करवाया, पर रिपोर्ट्स नॉर्मल आईं. अब उन्हें थायरॉइड की आशंका है और वे मेरा ब्लड टेस्ट कराना चाहते हैं, लेकिन क्या यह थायरॉइड हो सकता है?
– वानी त्रिवेदी, बीकानेर.

थायरॉइड ग्लैंड हमारे गले में स्थित सबसे बड़ा एंडोक्राइन ग्लैंड है, जो थायरॉइड हार्मोंस- टी3 और टी4 का निर्माण करता है. आपके द्वारा बताए गए लक्षणों को देखकर लगता है कि आपको हाइपोथायरॉइडिज़्म है. इसे कंफर्म करने का तरीक़ा स़िर्फ ब्लड टेस्ट ही है, तभी आपके टी3 और टी4 हार्मोंस के लेवल्स का पता चल पाएगा. इसके बाद ही डॉक्टर आपको दवाइयों आदि के बारे में बता पाएंगे.

 
हमारे दो बच्चे हैं और हम तीसरा बच्चा नहीं चाहते, इसलिए स्थायी नसबंदी करवाना चाहते हैं. मेरे पति को ऑपरेशन करवाना चाहिए या मुझे? कृपया, मार्गदर्शन करें.
– सान्वी सोलंकी, नासिक.

पुरुषों में स्थायी नसबंदी को वैसेक्टॉमी कहते हैं. आजकल तो बिना किसी कट के यह विधि होती है. यह बहुत ही आसान तरीक़ा है और इसमें हॉस्पिटल में भर्ती होने की ज़रूरत भी नहीं होती और बहुत कम समय भी लगता है. महिलाओं के लिए लैप्रोस्कोप की मदद से लैप्रोस्कोपिक एब्डॉमिनल ट्यूबल लिगेशन किया जाता है, जिसे मिनी लैप्रोटॉमी कहते हैं. इसमें महिला को 3 सेंटीमीटर का चीरा लगाना पड़ता है. दोनों में आपको एक दिन के लिए हॉस्पिटल में रुकना पड़ता है. यह एक आसान, सुरक्षित और प्रभावशाली विधि है. अपनी व अपने पति की मेडिकल कंडीशन के मुताबिक़ अपने डॉक्टर से सलाह लेकर ही कोई फैसला लें.

 

यह भी पढ़ें: कंडोम के इस्तेमाल से प्राइवेट पार्ट में खुजली व जलन क्यों होती है?

यह भी पढ़ें: पर्सनल प्रॉब्लम्स: गर्भधारण नहीं कर पा रही हूं, क्या मुझमें कोई प्रॉब्लम है?

 

 डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

मेरी उम्र 34 और मेरे पति की 36 है. हमारा 7 साल का एक बेटा है. दूसरे बच्चे के लिए हमें क्या एहतियात बरतनी चाहिए?
– अदिती श्रीवास्तव, मेरठ.

अगर आप दूसरे बच्चे के बारे में सोच रही हैं, तो बिल्कुल भी देर न करें, क्योंकि जल्द ही आप 35 की होनेवाली हैं. अगर आप किसी तरह के प्रीकॉशन्स ले रही हैं, तो तुरंत बंद कर दें और फॉलिक एसिड टैबलेट्स लेना शुरू कर दें. अगर आपको डायबिटीज़, ब्लड प्रेशर या थायरॉइड जैसी कोई समस्या है, तो सबसे पहले किसी अच्छे डॉक्टर से मिलकर तसल्ली कर लें कि आपका शरीर गर्भधारण के लिए तैयार है. अगर नेचुरल तरी़के से आप 3-6 महीने के भीतर गर्भधारण करने में असक्षम हैं, तो आपको किसी गाइनाकोलॉजिस्ट से मिलना होगा.

पर्सनल प्रॉब्लम्स: दूसरे बच्चे के लिए क्या एहतियात बरतनी चाहिए? (Second Baby Planning & Precaution Tips)
मैं 24 साल की युवती हूं. पीरियड्स के दौरान मुझे व्हाइट डिस्चार्ज होता है, जिससे बदबू आती है और खुजली भी होती है. मुझे क्या करना चाहिए?
– धरा पंडित, श्रीनगर.

पीरियड्स के दौरान व्हाइट डिस्चार्ज दिखना मुश्किल है. हो सकता है, सैनिटरी पैड्स के कारण जलन व खुजली हो रही हो. खुजली और वेजाइनल डिस्चार्ज का कारण वेजाइना में बैक्टीरियल या फंगल इंफेक्शन हो सकता है. इसके लिए गाइनाकोलॉजिस्ट आपको 3-6 दिनों के लिए वेजाइनल टैबलेट्स, एंटी फंगल मेडिसिन्स, एंटी बायोटिक्स या कोई क्रीम दे सकते हैं. ध्यान रहे कि हमेशा कॉटन की अंडरवेयर्स ही पहनें और मेडिकेटेड पेरिनियल वॉशेज़ (प्राइवेट पार्ट के लिए इस्तेमाल होनेवाले लिक्विड वॉशेज़) से दूर रहें.

 

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

 

हाल ही मेरी शादी हुई है. गर्भनिरोध के लिए हम कंडोम का इस्तेमाल करते हैं, पर जब भी हम कंडोम इस्तेमाल करते हैं, मेरे प्राइवेट पार्ट्स एकदम लाल हो जाते हैं और उनमें खुजली व जलन होती है. मैं क्या करूं?
– प्रिया मल्होत्रा, नोएडा.

आपकी बातों से लग रहा है कि आप लैटेक्स एलर्जी से परेशान हैं, जिससे कंडोम बनता है. लैटेक्स रबड़ के पेड़ से बननेवाला एक प्राकृतिक व फ्लेक्सिबल रबड़ होता है. कुछ लोगों को इसके कारण एलर्जी हो सकती है, पर अगर यह बार-बार हो रहा है, तो नुक़सानदेह भी हो सकता है. जिन्हें केला, अनन्नास, पीच, कीवी, अंगूर, पपीता, एवोकैडो, स्ट्रॉबेरी, काजू, गेहूं आदि से एलर्जी होती है, उन्हें लैटेक्स एलर्जी की संभावना अधिक होती है. तुरंत अपने डॉक्टर से मिलें, ताकि वो आपकी सही जांच कर सकें. फैमिली प्लानिंग के लिए कोई और उपाय अपनाएं.

यह भी पढ़ें: शारीरिक संबंध के बाद १-२ दिन तक ब्लीडिंग क्यों होती है?

Condoms Cause Itching. Burning Sensation

मैं 17 वर्षीया कॉलेज स्टूडेंट हूं. हाल ही मैंने नोटिस किया कि मेरे दोनों ब्रेस्ट में निप्पल्स नहीं हैं. मेरे पैरेंट्स ने कभी मुझे इस बारे में नहीं बताया और जब मैंने उन्हें इस बारे में बताया, तो उन्होंने कहा कि सब नॉर्मल है, पर मैं नॉर्मल महसूस नहीं कर रही हूं. कृपया, मेरी मदद करें.
– रश्मि तोमर, अजमेर.

दोनों ब्रेस्ट्स में या एक ब्रेस्ट में निप्पल का न होना या एरोओला यानी निप्पल के आसपास के गहरे रंग की त्वचा का न होना अदेलिया कहलाता है. यह एक दुर्लभ बीमारी है, जो जन्मजात होती है. आनुवांशिक बीमारियां, क्रोमोज़ोमल डिफेक्ट्स या प्रोजेरिया (फिल्म ङ्गपाफ में दिखाई गई बीमारी) इसके कारण हो सकते हैं. हालांकि कॉस्मेटिक सर्जरी की मदद से निप्पल्स तो बनवाए जा सकते हैं, पर वो सामान्य निप्पल्स की तरह काम नहीं कर पाएंगे.

यह भी पढ़ें: क्या कंसीव करने की संभावना को जानने के लिए कोई टेस्ट है?

यह भी पढ़ें: बार-बार वेजाइनल इंफेक्शन क्यों होता है?

 

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies
मैं 29 वर्षीया महिला हूं. पिछले महीने ही मेरी सीज़ेरियन डिलीवरी हुई है. फैमिली प्लानिंग के बारे में सलाह देने के लिए डॉक्टर ने छह हफ़्ते बाद बुलाया है, पर मेरी सहेली का कहना है कि चूंकि मैं ब्रेस्टफीडिंग (breastfeeding) करा रही हूं, तो ऐसे में किसी गर्भनिरोधक की ज़रूरत नहीं पड़ती. क्या यह सच है? कृपया बताएं.
– राधिका तारे, मुंबई.

आपके लिए यह समझना बहुत ज़रूरी है कि आपकी सीज़ेरियन डिलीवरी हुई है और आपके सीज़ेरियन घाव को भरने में समय लगेगा, इसीलिए डॉक्टर ने आपको फैमिली प्लानिंग के लिए बुलाया है. आपके लिए गर्भनिरोधक इस्तेमाल करना बहुत ज़रूरी है, क्योंकि अगर घाव भरने से पहले ही आप प्रेग्नेंट हो गईं, तो कई तरह की कॉम्प्लीकेशन्स हो सकती हैं, जो आपके लिए ठीक नहीं है. आपके बच्चे को भी आपके प्यार, समय और देखभाल की ज़रूरत है, जो तभी संभव है, जब आप 2-3 साल तक प्रेग्नेंसी से बची रहेंगी.

यह भी पढ़ें: क्या गर्भधारण के लिए फॉलिक एसिड की सलाह सही है?

Breast Feeding
मैं 32 वर्षीया महिला हूं. मेरा एक साल का बेटा भी है. मेरे पति विदेश में रहते थे, इसलिए मैंने कभी कोई फैमिली प्लानिंग (Family Planning) नहीं की थी, लेकिन पिछले महीने मेरे पति विदेश से लौटे, तो मैंने कंसीव कर लिया था, पर चूंकि मेरा बेटा बहुत छोटा है, इसलिए मैंने एबॉर्शन करा लिया. अभी मैं एक साल और कंसीव नहीं करना चाहती. कृपया, मुझे फैमिली प्लानिंग की सही सलाह दें.
– कविता गुप्ता, इंदौर.

एबॉर्शन के 10-12 दिनों बाद ही महिलाओं में फर्टिलिटी लौट आती है, इसलिए आपको कोई गर्भनिरोधक विकल्प ज़रूर अपनाना चाहिए. आज मार्केट में कई प्रकार के गर्भनिरोधक मिलते हैं. आपकी मेडिकल हिस्ट्री, सेक्सुअली ट्रांसमिटेड डिसीज़ की हिस्ट्री आदि देखने के बाद ही आपका डॉक्टर आपको सही सलाह दे पाएगा. इसलिए तुरंत अपने डॉक्टर से संपर्क करें और अपनी सुविधानुसार सही विकल्प चुनें.

यह भी पढ़ें:  पर्सनल प्रॉब्लम्स: क्या एबॉर्शन के बाद कंसीव करने में समस्या आती है?

ब्रेस्टफीडिंग व गर्भनिरोध का क्या है कनेक्शन?

अगर कोई महिला ब्रेस्टफीड नहीं करती, तो ओव्यूलेशन (फर्टिलिटी) जल्दी शुरू हो जाता है, पर इसका यह भी मतलब नहीं है कि अगर आप बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हैं, तो आप प्रेग्नेंट नहीं हो सकतीं. अगर आप छह महीने तक बच्चे को अपने दूध के अलावा कुछ और नहीं खिलाती-पिलाती हैं, तो हो सकता है ओव्यूलेशन आने में थोड़ा समय लगे. सीज़ेरियन डिलीवरी के बाद यह बहुत ज़रूरी है कि प्रेग्नेंसी के लिए 2-3 साल का अंतर रखा जाए. सीज़ेरियन डिलीवरी के बाद एबॉर्शन कराना सेफ नहीं होता है, इसलिए गर्भनिरोधक का इस्तेमाल ज़रूर करें. ब्रेस्टफीडिंग करानेवाली मांओं के लिए आजकल हार्मोनल कॉन्ट्रासेप्शन भी उपलब्ध है, जिसे आप अपने डॉक्टर की मदद से ले सकती हैं. इसके अलावा कई अन्य विकल्प भी हैं, जिन्हें आप अपनी सुविधानुसार ले सकती हैं.

यह भी पढ़ें: एग्ज़ाम्स के व़क्त पीरियड्स अनियमित क्यों हो जाते हैं?

rajeshree-kumar-167x250

डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

 

 

150 Kids Recipes

150 Kids Recipes

Rs.30

Deshi Videshi Receipe (E-Book)

Rs.30

Hair Style (E-Book)

Rs.30

मैं 37 वर्षीया महिला हूं. पहले बच्चे की डिलीवरी के बाद फैमिली प्लानिंग के लिए मैंने गर्भनिरोधक गोलियां (Contraceptive Pills) लेनी शुरू की थीं. पिछले पांच सालों से मैं गोलियां ले रही हूं. हाल ही में मेरी एक सहेली ने बताया कि मुझे छह महीने के लिए गोलियां बंद कर देनी चाहिए, उसके बाद फिर शुरू करनी चाहिए. क्या वो सही कह रही है? कृपया, सही सलाह दें. 

– रंजना श्रीवास्तव, गुवाहाटी.

अगर गर्भनिरोधक गोलियां (Contraceptive Pills) आपको नुक़सान नहीं कर रही हैं और इसके रिज़ल्ट्स से आप पूरी तरह संतुष्ट हैं, तो बेशक आप गोलियां लेना जारी रख सकती हैं. अभी तक ऐसा कोई मेडिकल एविडेंस नहीं मिला है, जिससे यह साबित हो कि आपको छह महीने का गैप देना होगा. जब तक आप फैमिली प्लानिंग की सर्जरी नहीं करा लेतीं या मेनोपॉज़ नहीं होता, तब तक आपको गोलियां लेते रहना चाहिए. वैसे आपको सालाना हेल्थ चेकअप करवाते रहना चाहिए. इसमें पेल्विक एक्ज़ामिनेशन भी ज़रूर करवाएं.

यह भी पढ़ें: क्या गर्भाशय का न होना मुमकिन है?

Contraceptive Pills

मैं 16 वर्षीया स्कूल गर्ल हूं. बचपन से ही मेरे दाएं ब्रेस्ट का निप्पल नहीं है. जब डॉक्टर से मिले थे, तो उन्होंने कहा था कि प्यूबर्टी के बाद हार्मोनल बदलावों के कारण निप्पल अपने आप आ जाएगा, लेकिन अभी तक ऐसा नहीं हुआ है. मुझे समझ में नहीं आ रहा कि क्या करना चाहिए? कृपया, मेरी मदद करें.

– स्मिता शेठ, गांधीनगर.

सबसे पहले तो आप घबराएं नहीं. ब्रेस्ट्स में निप्पल का न होना एक दुर्लभ विकार है, जिसे अथीलिया कहते हैं. यह महिला या पुरुष किसी को भी हो सकता है. सबसे पहले आप किसी सर्जन को मिलें. वो आपका चेकअप करके देखेंगे कि आपको कोई और जन्मजात विसंगतियां तो नहीं. उसके बाद ही वो ज़रूरी इलाज की सलाह दे पाएंगे.

यह भी पढ़ें:क्या प्रेग्नेंसी के दौरान ब्रेस्ट कैंसर हो सकता है?

कहीं आप भी गर्भनिरोधक गोलियां लेना भूल तो नहीं जातीं?

  • गर्भनिरोधक गोलियां हमेशा जिस दिन पीरियड्स ख़त्म होते हैं, उसके अगले दिन से शुरू करें.
  • गर्भनिरोधक गोलियां एक तरह का हार्मोन ट्रीटमेंट है, इसलिए डॉक्टर्स इसे रोज़ाना एक ही समय पर लेने की सलाह देते हैं. आप अपनी इच्छानुसार कोई भी समय चुन सकती हैं.
  • बहुत-सी महिलाओं को यह ग़लतफ़हमी रहती है कि गर्भनिरोधक गोलियां लेने से किसी और तरह के प्रोटेक्शन की ज़रूरत नहीं पड़ती, पर ऐसा है नहीं. ये गोलियां आपको प्रेग्नेंट होने से बचाती हैं, पर सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन्स के ख़तरे से नहीं बचा सकतीं.
  • गोलियों को आसानी से याद रखने के लिए समय निश्‍चित करें, सुबह नाश्ते के व़क्त या रात को खाने के बाद या फिर खाना बनाते व़क्त आदि. आप चाहें, तो मोबाइल में अलार्म या रिमांइडर लगाकर रखें.
  • आजकल ऐसे कई रिमाइंडर ऐप्स मौजूद हैं, जिन्हें आप अपनी सहूलियत के मुताबिक़ इस्तेमाल कर सकती हैं.
  • अगर किसी दिन गोली लेना भूल जाती हैं, तो अगले दिन दो गोली ले लें और उसके बाद का रूटीन नॉर्मल रखें.
rajeshree-kumar-167x250 
डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected] 

 

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies

महिलाओं की ऐसी ही अन्य पर्सनल प्रॉब्लम्स पढ़ें

150 Kids Recipes

150 Kids Recipes

Rs.30

Deshi Videshi Receipe (E-Book)

Rs.30

Hair Style (E-Book)

Rs.30
मैं 22 वर्षीया यूनिवर्सिटी छात्रा हूं. कुछ ही दिनों में मेरी शादी होनेवाली है, इसलिए मैं गर्भनिरोधक के बारे में जानना चाहती हूं. कृपया, मुझे सही गर्भनिरोधक के बारे में बताएं.
– आकृति महाजन, नासिक.

यह बहुत अच्छी बात है कि आप गर्भनिरोधक के बारे में सही जानकारी हासिल करना चाहती हैं. दरअसल, असुरक्षित यौन संबंधों के कारण एचआईवी/एड्स जैसे सेक्सुअली ट्रांसमिटेड इंफेक्शन्स (एसटीआई) का ख़तरा बढ़ जाता है. कुछ एसटीआई महिलाओं के फैलोपियन ट्यूब्स को स्थायी रूप से डैमेज भी कर सकते हैं. इसके अलावा आपको पेल्विक इंफ्लेेमेटरी डिसीज़ भी हो सकती है, जो आगे चलकर इंफर्टिलिटी का कारण बन सकती है. गर्भनिरोधक के साधनों में कंडोम काफ़ी इफेक्टिव माना जाता है और साथ ही यह आपको एसटीआई से भी बचाता है. तिमाही गर्भनिरोधक इंजेक्शन भी हैं, पर वो एसटीआई से सुरक्षा नहीं देते.

यह भी पढ़ें: मुझे हमेशा कमज़ोरी क्यों महसूस होती है?

Birth Control Guide
मेरी शादी को 4 साल हो गए हैं और अब मैं मां बनना चाहती हूं. पर 6 साल पहले आए 2 एपिलेप्टिक सीज़र्स (न्यूरोलॉजिकल डिसऑर्डर) के कारण मैं आज भी उसकी दवा ले रही हूं. मुझे डर है कि कहीं इससे मेरे बच्चे में जन्म से ही कोई दोष न आ जाए? क्या अब मुझे वो दवा बंद कर देनी चाहिए? कृपया, मेरी मदद करें.
– गुंजन यादव, कटक.

भले ही आप प्रेग्नेंसी के बारे में सोच रही हैं, पर अपनी दवाई बंद न करें. हालांकि जन्म से ही दोषवाली बात से पूरी तरह इंकार नहीं किया जा सकता, पर इस तरह की महिलाओं पर हुए शोध से पता चला है कि दवा लेते हुए भी उन्होंने स्वस्थ बच्चों को जन्म दिया है. वैसे भी सोनोग्राफी के ज़रिए किसी भी तरह की एब्नॉर्मिलिटी की जांच की जा सकती है.
इसलिए अपनी मर्ज़ी से दवा बंद न करें और कोई भी निर्णय लेने से पहले, जिस डॉक्टर से दवा ले रही हैैं, उनसे सलाह ज़रूर ले लें.

यह भी पढ़ें: क्या डिलीवरी के बाद भी आयरन टैबलेट्स की ज़रूरत होती है?

महिलाओं के लिए ख़ास कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स 

हमारे देश में आज भी बहुत-सी महिलाएं गर्भनिरोधक के बारे में बहुत कम जानती हैं. आइए जानें महिलाओं  के लिए ख़ास कॉन्ट्रासेप्टिव पिल्स के बारे में-

कॉम्बिनेशन गोलियां

ज़्यादातर महिलाएं कॉम्बिनेशन गोलियां ही लेती हैं. इसमें एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरॉन होता है, जो फीमेल हार्मोन है. न्यू-जनरेशन और कंवेंशनल पिल्स हैं ये कॉम्बिनेशन टैबलेट्स. क़रीब 99 फ़ीसदी महिलाएं कॉम्बिनेशन गोलियों का ही इस्तेमाल करती हैं.

मिनी पिल्स

मिनी पिल्स में केवल प्रोजेस्टेरॉन हार्मोन होता है. इसे प्रोजेस्टेरॉन- ओनली पिल भी कहा जाता है. 28 गोलियों का एक पैक होता है, जिसमें 21 दिनों की गोलियों में प्रोजेस्टेरॉन हार्मोन होता है और बाकी की 7 गोलियों में कोई हार्मोन नहीं होता. आजकल आख़िरी 7 गोलियों में आयरन होता है, ताकि शरीर में इसकी कमी ना हो.

इमर्जेंसी पिल्स

इमर्जेंसी पिल्स को ममॉर्निंग आफ्टर पिल्सफ भी कहा जाता है. इसकी ख़ासियत ये हैं कि अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए इसे अनसेफ सेक्स के 72 घंटों के भीतर ही लेना चाहिए.

rajeshree-kumar-167x250 
डॉ. राजश्री कुमार
स्त्रीरोग व कैंसर विशेषज्ञ
[email protected]  

 

महिलाओं की ऐसी ही अन्य पर्सनल प्रॉब्लम्स पढ़ें

 

हेल्थ से जुड़ी और जानकारी के लिए हमारा एेप इंस्टॉल करें: Ayurvedic Home Remedies