fat

ज़रीन खान ने जब साल 2010 में फ़िल्म इंडस्ट्री में कदम रखा था, तो हर जगह ये बात सुर्खियाँ बन गई थीं क्योंकि उनकीतुलना कैटरीना कैफ़ से होने लगी थी. सभी कहते थे ये तो कैटरीना की हमशक्ल है. लेकिन जैसे-जैसे समय बीता तो बातज़रीन के शरीर और वज़न पर आ गई. ज़रीन को मोटीरीना या फ़ैटरीना कहा जाने लगा. वर्ना सलमान खान जैसे सुपर स्टारके साथ लॉन्च होने के बाद और अपने काम के लिए सराहे जाने के बाद भी आख़िर क्यों ज़रीन खान को वो मुक़ाम नहींमिल सका जिसकी वो हक़दार थीं.

ज़रीन ने एक वेब पोर्टल को दिए इंटरव्यू में अपना दर्द साझा किया, वो बोलीं- वीर में मुझे वज़न बढ़ाना था क्योंकि वोबीती सदी की कहानी पर आधारित थी और मुझे उस समय की रानी की भूमिका अदा करनी थी. लेकिन मेरे काम पर ध्यानदेने की बजाय लोग मेरे शरीर और वज़न पर ध्यान देने लगे. मुझे ना तो अच्छे रोल्स ऑफ़र हुए ना ही किसी ने मेरे काम केबारे में कुछ ज़्यादा कहा और लिखा. यहां तक कि इवेंट्स में भी जाने पर मेरे बारे में कुछ अच्छा नहीं लिखा जाता था. बहुतनेगटिविटी फैलाई गई. मुझे फ़ैटरीना कहा जाता था.

Zareen Khan

इन बातों ने ज़ाहिर है मुझे प्रभावित किया और मैंने अपने शरीर पर काम करना शुरू किया. मेरा बॉडी स्ट्रक्चर वाइड है औरमैं अपनी बोंस को कट ऑफ़ नहीं कर सकती. लेकिन 40 किलो वज़न कम करने के बाद भी लोग सिर्फ़ बुरी बातें ही लिखतेथे. मैं मानसिक रूप से काफ़ी परेशान थी, लेकिन फिर मैं समझ गई कि ये फ़ितरत है जो नहीं बदलेगी, मैं चाहे खुद कोकितना ही टॉर्चर कर लूं, कितनी ही एक्सरसाइज़ कर लूं, लोग वहीं के वहीं अटके रहेंगे. यही बात मेरा संबल बनी और मैंनेखुद को टूटने नहीं दिया. मैंने यही सोचा कि क्यों किसी के कहने पर मैं अपनी तुलना किसी और से करूं

यह भी पढ़ें: शादी के बाद वेडिंग पार्टी में भी रिया कपूर ने चुना वाइट गाउन, न मांग में सिंदूर, न गले में मंगलसूत्र, पर दिखीं परियों-सी हसीन, रिया ने लिखा- मैं हूं हैप्पी दुल्हन! (Rhea Kapoor Looks Elegant & Mesmerising In Her Wedding Party Gown, See Pictures)

दरअसल यहां कोई आपको आपका टैलेंट दिखाने का मौक़ा ही नहीं देना चाहता, ये एक ख़तरनाक सर्कल है. लोग आपकोजज करने लगते हैं और फिर एक ही तरह के रोल्स मिलने लगते हैं. 

Zareen Khan

उस वक़्त मीडिया ने ही मेरी ऐसी छवि बना डाली कि मैं कैट की हमशकल हूं और इसी तुलना ने मेरा करियर ख़राब करदिया. मैं आज तक उस छवि से बाहर नहीं आ पाई. किसी की हमशकल होना भला कौन पसंद करेगा लेकिन लोग ऐसे हैंकि जो उन्हें बताया जाता है उसी पर भरोसा करने लगते हैं और उस वक़्त ना तो मुझे मीडिया से इतना बात करने का मौक़ामिला था और ना ही सोशल मीडिया इतना आगे था कि मैं ये छवि तोड़ पाती, बस लोग मुझे दूसरी कैटरीना समझकरअपनी अपेक्षाएं करने लगे और मुझे गंभीर रोल मिले ही नहीं.

मैं नहीं जानती मेरी तुलना कैटरीना से कब और कहां से शुरू हुई लेकिन इस बात ने मुझे सुर्खियों में ला दिया पर मुझे येतुलना पसंद नहीं, मेरे लिए ये नुक़सान दायक ही साबित हुई. मुझे काफ़ी समय तक काम भी नहीं मिला और जो मिलाउसके लिए भी काफ़ी संघर्ष करना पड़ा. लेकिन मैं मानसिक रूप आस मज़बूत हूं और इसीलिए मैंने अपनी आलोचनाओंको खुद पर हावी नहीं होने दिया.

Photo Courtesy: Instagram

यह भी पढ़ें: ‘कुंडली भाग्य’ फेम धीरज धूपर और पत्नी विन्नी अरोड़ा लेह में एन्जॉय कर रहे हैं वेकेशन, खूबसूरत फोटोज़ हुईं वायरल (‘Kundali Bhagya’ Fame Dheeraj Dhoopar and Wife Vinny Arora Are Enjoying Vacation in Leh, Beautiful Photos Goes Viral)

अक्सर मोटापे (Obesity) से बचने के चक्कर में लोग ऐसी आदतें अपना लेते हैं, जो मोटापा कम करने की बजाय बढ़ा देती हैं. भूखे रहना, ठीक से खाना न खाना, फैट्स अवॉइड करना, लो फैटवाली चीज़ें खाना आदि ऐसी आदतें हैं, जो अनजाने में ही आपका मोटापा बढ़ा रही हैं. तो सावधान हो जाइए और इन आदतों (Habits) से बचने की कोशिश कीजिए.

Habits That Make You Fat

1. ब्रेकफास्ट न करना

ज़्यादातर लोग यह ग़लती करते हैं. ब्रेकफास्ट न करने से शरीर का मेटाबॉलिज़्म धीमा हो जाता है, जिससे दोपहर के बाद आप ओवर ईटिंग करना शुरू कर देते हैं. रिसर्च में यह बात साबित हो चुकी है कि जो लोग ब्रेकफास्ट नहीं करते, वो बाकी लोगों के मुक़ाबले 5 गुना तेज़ी से मोटापे के शिकार होते हैं.

2. नींद कम लेना या ज़्यादा

वेक फॉरेस्ट यूनिवर्सिटी के रिसर्चर्स के अनुसार, अगर आप 5 घंटे या उससे कम नींद लेते हैं या फिर 8 घंटे से ज़्यादा सोते हैं, तो बाकी लोगों के मुक़ाबले आपका बेली फैट ढाई गुना तेज़ी से बढ़ेगा.

3. बहुत तेज़ी से खाना

अगर आप खाना देखते ही कंट्रोल नहीं कर पाते और जल्दी-जल्दी खाना खा लेते हैं, तो आप अन्य लोगों के मुक़ाबले ज़्यादा ओवरईटिंग करते हैं. दरअसल, हमारे ब्रेन को यह सिग्नल देने में कि पेट भर गया है 20 मिनट लगते हैं, इसलिए 10 मिनट में खाना ख़त्म न करें, बल्कि धीरे-धीरे चबा-चबाकर 20 मिनट तक खाएं. इससे आप ओवरईटिंग से बच जाएंगे.

4. लो फैटवाली चीज़ें खाना

वेट लॉस करने के लिए ज़्यादातर लोग लो फैटवाली चीज़ें खाना शुरू कर देते हैं, पर उन्हें यह जानकर हैरानी होगी कि कुछ कैलोरीज़ बचाने के चक्कर में वो ज़्यादा कैलोरीज़ खा लेते हैं. दरअसल, लो फैट प्रोडक्ट्स में मैन्युफैक्चरर्स फैट को शक्कर और दूसरे फैट्स से रिप्लेस करते हैं. ज़्यादा शक्कर के कारण आपको तुरंत भूख लग जाती है, जिससे आप आमतौर से डबल खा लेते हैं.

5. रोज़ाना सॉफ्ट ड्रिंक का सेवन

आपको शायद मालूम नहीं होगा कि एक सॉफ्ट ड्रिंक या सोडा में 11-15 ग्राम तक शक्कर होती है. सैन एंटोनियो के रिसर्चर्स ने इस बात का खुलासा किया है कि जो लोग रोज़ाना एक या दो सोडा पीते हैं, बाकी लोगों के मुक़ाबले उनका बेली फैट पांच गुना तेज़ी से बढ़ता है.

6. बहुत ज़्यादा टीवी देखना

जो लोग ज़्यादा टीवी देखते हैं, वो बाकी लोगों के मुक़ाबले ज़्यादा स्नैक्स खाते हैं. फैटी और फ्राइड ये स्नैक्स चुपके-चुपके आपका वज़न बढ़ाते हैं और आपका ध्यान भी नहीं जाता.

7. प्लास्टिक की बॉटल से पानी पीना

इस ओर शायद ही आपने ध्यान दिया हो कि आपकी प्लास्टिक की वॉटर बॉटल कई बीमारियों के साथ-साथ मोटापा भी दे सकती है. प्लास्टिक बॉटल्स में मौजूद बीपीए इसे बढ़ावा देते हैं, इसलिए जल्द से जल्द अपनी प्लास्टिक की वॉटर बॉटल को स्टेनलेस स्टील या तांबे से रिप्लेस करें.

8. छोटी-छोटी बातों पर स्ट्रेस

स्ट्रेस होने पर अक्सर लोगों को अनहेल्दी चीज़ें खाने की क्रेविंग होती है. इस चक्कर में वे ओवरईटिंग कर लेते हैं. इसे स्ट्रेस ईटिंग कहते हैं. स्ट्रेस ईटिंग कब आपकी आदत में शुमार हो जाता है, आपको पता भी नहीं चलता और आप मोटापे के शिकार हो जाते हैं.

यह भी पढ़ें:  पीरियड्स देरी से आने के क्या कारण हो सकते हैं? (What Could Be The Reasons For Delayed Periods?)

Habits That Make You Fat

9. बड़ी प्लेट में खाना

एक स्टडी में यह पाया गया कि अगर ऑप्शन दिया जाए, तो 98.6% लोग खाने के लिए बड़ी प्लेट उठाते हैं. बड़ी प्लेट यानी ज़्यादा खाना और ज़्यादा कैलोरीज़ यानी कुल मिलाकर आपका बढ़ता मोटापा. कोशिश करें कि छोटी प्लेट में खाएं, चाहें, तो दोबारा ले लें, पर बड़ी प्लेट अवॉइड करें.

10. पर्याप्त पानी न पीना

पर्याप्त पानी पीने से हमारे बॉडी के सभी फंक्शन्स सुचारु रूप से चलते रहते हैं, पर कम पानी पीने से इनमें समस्या आती है. जब शरीर में पानी की कमी होती है, तो उसकी जगह बॉडी फैट लेने लगता है, जो मोटापे का कारण बनता है.

11. एक्सरसाइज़ न करना

अगर आप सही तरी़के से डायट नहीं फॉलो कर पा रहे हैं, तो कम से कम हफ़्ते में 5 दिन रोज़ाना 45 मिनट तक एक्सरसाइज़ करें. अगर आप यह भी नहीं करेंगे, तो रोज़ाना की एक्स्ट्रा कैलोरीज़ से बढ़नेवाले मोटापे के लिए किसी को दोष नहीं दे पाएंगे.

12. हेल्दी फैट्स से भी दूरी

मोटापे से बचने के लिए बहुत से लोग फैट्स से एकदम दूर रहते हैं, जबकि फ्लैक्स सीड्स और ड्रायफ्रूट्स से मिलनेवाले फैट्स न स़िर्फ हेल्दी होते हैं, बल्कि स्लिम बने रहने में भी आपकी मदद करते हैं, इसलिए अपने रोज़ाना के डायट में हेल्दी फैट्स को शामिल करें.

13. नमक को अनदेखा करना

रिसर्च में यह बात सामने आई है कि बहुत से लोग ज़रूरत से ज़्यादा क़रीब 50% अधिक नमक का सेवन रोज़ाना करते हैं. पैक्ड फूड, प्रोसेस्ड फूड और वेफर्स जैसे स्नैक्स में सोडियम की मात्रा बहुत अधिक होती है. नमक हमारे शरीर में न स़िर्फ वॉटर रिटेंशन बढ़ाता है, बल्कि मोटापे को भी बढ़ाता है.

14. न्यूट्रीशन लेबल न देखना

मार्केट में कुछ भी ख़रीदते व़क्त हम पैकेट के आगे देखते हैं, कभी पलटकर पैकेट के पीछे नहीं देखते, वरना हमें पता चल जाए कि उस प्रोडक्ट में कितनी शक्कर, कितना सोडियम, कितना फैट और कितनी कैलोरीज़ हैं. अगली बार कोई भी स्नैक्स का पैकेट ख़रीदें, तो उसमें मौजूद शक्कर, कैलोरीज़ की मात्रा यकीनन आपको चौंका देगी. आपने सोचा भी नहीं होगा कि अनजाने में आपने कितनी कैलोरीज़ का ओवरडोज़ कर लिया.

15. खाने के तुरंत बाद सो जाना

ज़्यादातर लोग खाना खाते ही बिस्तर पर लुढ़क जाते हैं, जबकि डॉक्टर्स भी कहते हैं कि खाने के 2 घंटे बाद सोएं. इससे हमारे शरीर को खाने को पचाने के लिए समय मिल जाता है, लेकिन ऐसा न करने से हम ख़ुद अपना ही नुक़सान कर बैठते हैं.

– सुनीता सिंह

यह भी पढ़ें: वेट लॉस टिप ऑफ द डे: 7 परफेक्ट वेट लॉस प्रोटीन शेक्स (Weight Loss Tip Of The Day: 7 Perfect Weight Loss Protein Shakes)

फिट रहने के लिए हम क्या नहीं करते- योगा, एक्सरसाइज़, हेल्दी डायट… लेकिन तमाम कोशिशों के बावजूद यदि वज़न कम नहीं हो रहा, बल्कि बढ़ता ही जा रहा है, तो अपनी कुछ आदतों पर ध्यान दें, क्योंकि कुछ बुरी आदतें भी मोटापा बढ़ाती हैं.

weight loss
1. टीवी देखते हुए खाना

यदि आप भी ऐसा करती हैं, तो आप कितना और क्या खा रही हैं? इस बात पर आपका ध्यान नहीं रहता, जिसके कारण अक्सर आप ज़्यादा खा लेती हैं और वज़न बढ़ जाता है.
नुक़सान
– एक दिन में दो घंटे से ज़्यादा टीवी देखने से मोटापा बढ़ने की संभावना 20 प्रतिशत बढ़ जाती है.
– टीवी पर लगातार रोने-धोने वाले सीरियल्स देखने से हार्ट और ब्लड प्रेशर से संबंधित समस्याएं भी हो सकती हैं.
क्या करें?
टीवी देखते समय बीच-बीच में जॉगिंग, स्ट्रेचिंग, ब्रीदिंग एक्सरसाइज़ आदि करने से मोटापा घटाया जा सकता है.

2. लंबे समय तक भूखे रहना

जल्दी-जल्दी में घर से निकलते वक़्त कई बार हम भूखे पेट ही निकल जाते हैं. घर पर रहकर भी कई बार हम लंबे समय तक भूखे रहते हैं. ऐसे में लंबे अंतराल के कारण शरीर में पोषक तत्वों की कमी हो जाती है.
नुक़सान
– शरीर में ब्लड शुगर की मात्रा कम होने की संभावना बढ़ जाती है.
– ब्रेन को सही समय पर ग्लूकोज़ न मिलने के कारण स्वभाव चिड़चिड़ा हो जाता है.
– लंबे समय तक खाली पेट रहने के बाद ढेर सारा खाना खाने से एसिडिटी, आलस्य आदि की शिकायत भी हो सकती है.
क्या करें?
समय पर भोजन करें और एक निश्‍चित डायट लें.

3. जल्दी-जल्दी खाना

खाने को बिना चबाए या जल्दी-जल्दी खाने से भी मोटापा बढ़ने की संभावना रहती है. ऐसा करने से पेट तक यह मैसेज नहीं पहुंच पाता कि आप क्या खा रही हैं? इससे पाचन क्रिया प्रभावित होती है. इसके अलावा पेट भर गया है या नहीं? इसकी सूचना भी दिमाग़ तक देर से पहुंचती है और आप ज़रूरत से ज़्यादा खा लेती हैं.
नुक़सान
– पाचन शक्ति कमज़ोर हो जाती है.
– पेट दर्द की शिकायत भी हो सकती है.
क्या करें?
भूख के अनुसार सीमित मात्रा में खाएं. खाना खाते समय कोई और काम न करें. अगर थोड़ी देर बाद फिर भूख लगे तो फल या हेल्दी स्नैक्स खा सकती हैं.

4. ब्रेकफास्ट न करना

रात के भोजन और ब्रेकफास्ट के बीच 8 से 12 घंटों का अंतराल दिमाग़ और मसल्स को कमज़ोर कर देता है. ऐसे में सुबह का नाश्ता न करना या स़िर्फ एक कप चाय या कॉफी पीना मोटापा बढ़ाता है.
नुक़सान
– पाचन शक्ति कमज़ोर हो जाती है.
– कैलोरीज़ घटने की बजाय बढ़ जाती हैं.
– ऐसा करने से आप ऐनेमिक भी हो सकती हैं.
– शरीर में एनर्जी कम हो जाती है.
क्या करें?
हेल्दी ब्रेकफास्ट ज़रूर लें. दिनभर के अन्य भोजन की तुलना में ब्रेकफास्ट में हेल्दी चीज़ों की मात्रा ज़्यादा रखें.

5. पर्याप्त नींद न लेना

रात को देर से सोना और सुबह जल्दी उठ जाना भी मोटापे का कारण है.
नुक़सान
– रात को खाया गया खाना पचता नहीं है.
– इंसोम्निया (अनिद्रा) की शिकार हो सकती हैं.
– शरीर का एनर्जी लेवल कम हो जाता है.
– दिमाग़ विचलित होने के कारण डिप्रेशन भी हो सकता है.
क्या करें?
अपना हर काम सही समय पर करने की कोशिश करें, ताकि आप समय पर सो और उठ सकें. प्रतिदिन 7-8 घंटे की नींद ज़रूर लें.

6. फास्ट फूड का सेवन

मोटापा बढ़ने का यह भी एक मुख्य कारण है. फास्ट फूड में कैलोरीज़ की मात्रा बहुत ज़्यादा होने के कारण इनका सेवन करने से मोटापा बढ़ता है.
नुक़सान
– हार्ट संबंधित बीमारियां हो सकती हैं.
– डायबिटीज़ होने का डर रहता है.
क्या करें?
हफ़्ते में स़िर्फ एक बार फास्ट फूड खाएं और एक्स्ट्रा चीज़ का सेवन न करें. तले हुए फास्ट फूड की बजाय रोस्टेड या बेक्ड फास्ट फूड खाएं.

7. खाना खाने के तुरंत बाद सो जाना

रात को भोजन देर से करना, ज़्यादा मात्रा में खाना व खाने के तुरंत बाद सो जाना भी मोटापे का एक कारण है. ऐसा करने से भोजन पच नहीं पाता और शरीर में फैट बढ़ता है.
नुक़सान
– खाना ठीक से न पचने के कारण गैस की शिकायत हो सकती है.
– तोंद निकलने लगती है.
क्या करें?
खाना खाने के बाद थोड़ा टहलना खाने को पचाने में मदद करता है. खाने के बाद हल्की-फुल्की एक्सरसाइज़ करना भी फायदेमंद है.

8. तनाव में ज़्यादा खाना

मानसिक रूप से परेशान होने पर ज़्यादा खाना खाकर अपने ग़ुस्से को ज़ाहिर करना भी मोटापा बढ़ाता है.
नुक़सान
– हाई कोलेस्ट्रॉल, हाई ब्लड प्रेशर और गैस्ट्रोएनटाइटिस होने की संभावना बढ़ जाती है.
क्या करें?
तनाव की स्थिति में ज़्यादा खाना खाकर ग़ुस्सा निकालने से अच्छा है वही ग़ुस्सा एक्सरसाइज़ करके निकाला जाए.

9. अल्कोहल (शराब) का सेवन

कभी-कभी हेल्दी डायट लेने और एक्सरसाइज़ करने के बावजूद वज़न घटने की बजाय बढ़ जाता है. इसका एक कारण हाई कैलोरीज़ युक्त अल्कोहल का सेवन हो सकता है.
नुक़सान
– लिवर में इंफेक्शन हो सकता है.
– हार्ट अटैक भी हो सकता है.
– ब्रेन से संबंधित बीमारियां हो सकती हैं.
क्या करें?
अल्कोहल का सेवन न करें.

10. दिनभर बैठकर काम करना

ऑफिस में लगातार बैठकर काम करने से भी वज़न बढ़ता है.
नुक़सान
– शरीर में फैट की मात्रा बढ़ जाती है.
– डायबिटीज़ होने की संभावना बढ़ जाती है.
– हृदय संबंधी रोग हो सकते हैं.
– ज़्यादा वज़न के कारण बैक बोन कमज़ोर हो सकती है.
क्या करें?
काम के बीच में 2-3 बार कॉफी या बाथरूम जाने के बहाने उठकर अपने शरीर को रिलैक्स करें. लिफ्ट की बजाय सीढ़ियों का इस्तेमाल करें और फोन पर बात करते समय वॉक करें.

×