Female Infertility

मां बनना हर औरत का सपना होता है, लेकिन आजकल कई महिलाएं मां नहीं बन पा रही हैं. महिलाओं के मां न बन पाने के कारण जानने के लिए हमने बात की इंटीग्रेटिव न्यूट्रीशनिस्ट एंड हेल्थ कोच नेहा रंगलानी से, उन्होंने हमें इसकी वजहें और उपाय कुछ इस तरह बताए:

सबसे पहले अपने शरीर को समझें
इंटीग्रेटिव न्यूट्रीशनिस्ट एंड हेल्थ कोच नेहा रंगलानी के अनुसार, मां बनने की प्लानिंग करने से पहले महिलाओं को अपने शरीर को समझना चाहिए. हमारी बॉडी बहुत स्मार्ट है, वो जानती है कि शरीर के लिए कब और क्या ज़रूरी है. जब कोई महिला मानसिक या शारीरिक स्ट्रेस में होती है, तो उसका शरीर उसे मां नहीं बनने देता, क्योंकि शरीर जानता है कि अभी वो महिला मां बनने के लिए तैयार नहीं है. ये स्ट्रेस शारीरिक, मानसिक या भावनात्मक, किसी भी तरह का हो सकता है. इस स्ट्रेस के कारण महिला के शरीर में हार्मोनल बदलाव होने लगते हैं, जिसके कारण वो मां नहीं बन पाती.

लाइफस्टाइल है ज़िम्मेदार
महिलाओं के मां न बन पाने के लिए काफ़ी हद तक उनकी लाइफस्टाइल ज़िम्मेदार है. जंक फूड का अधिक सेवन, ओवर ईटिंग, मोटापा, ज़रूरत से ज़्यादा डायटिंग, अचानक वज़न बढ़ना या बहुत ज़्यादा वज़न घटना, एक्सरसाइज़ बिल्कुल न करना या ज़रूरत से ज़्यादा एक्सरसाइज़ करना भी मां बनने में बाधक होते हैं. कई महिलाएं अपने खानपान पर बिल्कुल ध्यान नहीं देतीं, फिर अनाप-शनाप खाकर जब मोटापा बढ़ जाता है, तो क्रैश डायटिंग करना शुरू कर देती हैं. इसी तरह कई महिलाएं या तो बिल्कुल भी एक्सरसाइज़ नहीं करतीं या फिर ज़रूरत से ज़्यादा एक्सरसाइज़ करती हैं. इन सबके चलते शरीर में इतनी तेज़ी हार्मोनल बदलाव होता है कि शरीर का हार्मोनल बैलेंस ही बिगड़ जाता है, इसीलिए मां बनने का मन बनाने से पहले महिलाओं को अपनी लाइफस्टाइल पर भी ध्यान देना चाहिए.

बढ़ रही है पीसीओएस/पीसीओडी की समस्या
आजकल लड़कियों में बहुत कम उम्र में ही पीसीओएस की समस्या देखी जा रही है. इसका कारण उनका ग़लत खानपान और स्ट्रेस है. पीसीओएस/पीसीओडी के कारण महिलाओं में ओवेल्यूशन नहीं होता, उनके शरीर में एग नहीं बन पाते, उनके पीरियड्स रेग्युलर नहीं होते, जिसके कारण वो मां नहीं बन पाती. पीसीओएस/पीसीओडी की समस्या से बचने के लिए महिलाओं को अपने खानपान और लाइफस्टाइल पर ख़ास ध्यान देना चाहिए.

स्ट्रेस से बचना है ज़रूरी
यदि कोई महिला बहुत ज़्यादा स्ट्रेस में है, तो इससे उसके मां बनने में दिक्कत आ सकती है. ये स्ट्रेस किसी भी तरह का हो सकता है, जैसे- यदि आपका जॉब बहुत स्ट्रेसफुल है, तो आपको मां बनने में तकलीफ़ हो सकती है. यदि पति-पत्नी के रिश्ते में तनाव चल रहा है, घर में तनाव चल रहा है, तो इससे भी आपकी फर्टिलिटी प्रभावित हो सकती है. कोई बड़ी बीमारी, दवाइयों का अधिक सेवन, भावनात्मक आघात, फाइनांशियल लॉस जैसे कई कारण, जिनसे आपका स्ट्रेस लेवल और हार्मोनल बैलेंस बिगड़ जाता है, उनके कारण भी फर्टिलिटी में कमी आती है.

सीखें स्ट्रेस से बचने के ट्रिक्स
आजकल लोग बात-बात पर तनावग्रस्त तो हो जाते हैं, लेकिन स्ट्रेस को रिलीज़ करने के लिए कोई प्रयास नहीं करते, ऐसे में तनाव उनके स्वास्थ्य को प्रभावित करने लगता है. यदि आप मां नहीं बन पा रही हैं, तो आपको सबसे पहले अपनी लाइफस्टाइल में सुधार लाना होगा. तनाव से बचने, फिट और हेल्दी रहने के लिए नियमित रूप से योग, मेडिटेशन, एक्सरसाइज़ करना होगा, हेल्दी डायट लेनी होगी, पूरी नींद लेनी होगी. फिर जब आपके शरीर को इस बात की तसल्ली हो जाएगी कि अब आप मां बनने के लिए तैयार हैं, तो आप आसानी से कंसीव कर लेंगी.

सीखें ख़ुद से प्यार करना
कई महिलाओं में कॉन्फिडेंस की इतनी कमी होती है कि वो हर किसी से अपनी तुलना करने लगती हैं और ख़ुद को उससे कमतर समझने लगती हैं. ऐसी महिलाएं ख़ुद को स्वीकार नहीं कर पातीं और आगे चलकर अकेलेपन की शिकार हो जाती हैं. ऐसी महिलाओं को भी मां बनने में दिक्कत होती है इसलिए सबसे पहले ख़ुद से प्यार करना सीखें. इससे आपका शरीर भी पॉज़िटिव रिस्पॉन्ड करेगा और आप मां बन सकेंगी.

यह भी पढ़ें: कैसे दूर करें अपना डिप्रेशन (Natural Treatments For Depression)

महिलाओं के मां न बन पाने की आम वजहें
महिलाओं के मां न बन पाने की वैसे तो कई वजहें हैं, लेकिन आमतौर पर महिलाओं में बढ़ती इंफर्टिलिटी की ये वजहें हैं-

  • मोटापा सौ रोगों का कारण होता है और इंफर्टिलिटी इनमें से एक है. यदि किसी महिला का वज़न ज़रूरत से ज़्यादा है, तो उसे मां बनने में दिक्कत आ सकती है. ऐसे में वज़न घटाकर गर्भधारण किया जा सकता है.
  • अनियमित पीरियड्स के कारण महिलाएं मां नहीं बन पातीं. अनियमित पीरियड्स की कई वजहें हो सकती हैं, जैसे- पीसीओएस/पीसीओडी, ग़लत खानपान, अनियमित लाइफस्टाइल आदि.
  • पेल्विक ट्यूबरक्लोरसिस के कारण कई महिलाएं मां नहीं बन पातीं. पेल्विक ट्यूबरक्लोरसिस होने पर सबसे पहले इसका इलाज करवाना ज़रूरी है.
  • गर्भाशय में गांठ यानी फाइब्रॉयड होने के कारण कई महिलाएं गर्भधारण नहीं कर पातीं. ऐसी स्थिति में कई बार सर्जरी करवाने की भी ज़रूरत पड़ती है.
  • गर्भाशय संबंधी समस्याएं जैसे- गर्भाशय में गांठ, कैंसर, टीबी, छोटा गर्भाशय आदि के कारण भी महिलाएं मां नहीं बन पातीं.
  • फैलोपियन ट्यूब का बंद होना भी गर्भ न ठहरने की एक वजह हो सकता है, इसलिए इसकी जांच भी ज़रूरी है.
  • ल्यूकोरिया, डायबीटीज, अनीमिया आदि के कारण भी महिलाओं में इंफर्टिलिटी की समस्या होती है.
  • कई महिलाओं को यौन संबंध बनाते समय दर्द होता है. इस दर्द की कई वजहें हो सकती हैं, जैसे- सेक्स को लेकर डर, पति-पत्नी में बॉन्डिंग कम होना, फोरप्ले की कमी आदि. इन सबके चलते महिलाएं सेक्स लाइफ को एंजॉय नहीं कर पातीं और उनके मां बनने में दिक्कत आती है.
  • डिप्रेशन, अनिद्रा, अकेलेपन की शिकार महिलाओं को इंफर्टिलिटी की समस्या हो सकती है. ऐसी स्थिति में साइकोलॉजिस्ट से संपर्क किया जा सकता है. उचित काउंसलिंग से कई बार समस्या सुलझ जाती है और कई बार ट्रीटमेंट की भी ज़रूरत पड़ती है.

यह भी पढ़ें: क्या आप अचानक मोटी हो गई हैं? जानें मोटापे का इमोशनल कनेक्शन (Are You Emotionally Overweight? Here Are 10 Easy Ways To Lose Weight Naturally)

मां बनने की प्लानिंग करने से पहले इन बातों पर ध्यान दें-

  • अपनी लाइफस्टाइल पर ख़ास ध्यान दें. स्ट्रेस से बचने की कोशिश करें. जंक फूड से परहेज करें.
  • बहुत जल्दी मोटे या पतले होने की कोशिश न करें, इससे मां बनने में परेशानी हो सकती है.
  • सिगरेट-शराब से दूर रहें.
  • देर रात तक जागना, पूरी नींद न लेना मां बनने में बाधक हो सकता है, इसलिए जल्दी सोने और पर्याप्त नींद लेने की कोशिश करें.
  • मिलावट वाले खाद्य पदार्थों के सेवन से मां बनने में दिक्कत आ सकती है इसलिए अपने भोजन पर ख़ास ध्यान दें.
  • हरी सब्ज़ियां, ताज़े फल, फ्रूट जूस, ड्राइफ्रूट्स, स्प्राउट्स, सलाद आदि का सेवन फर्टिलिटी के फ़ायदेमंद है, इनका सेवन नियमित रूप से करें.
  • यदि आपको कारण समझ नहीं आ रहा है, तो अपने डॉक्टर से संपर्क करें, ज़रूरत हो तो काउंसलर की मदद लें.
    – कमला बडोनी

बांझपन (Female Infertility) से छुटकारा पाने के 5 चमत्कारी घरेलू उपाय अपनाकर आप भी इस समस्या से छुटकारा पा सकती हैं. बांझपन (Female Infertility) के कारण महिलाओं को पर्सनल लाइफ में बहुत परेशानियों का सामना करना पड़ता है. यदि आपको भी बांझपन (Female Infertility) की समस्या है, तो ये 5 घरेलू उपाय आपके बहुत काम आएंगे.

Home Remedies For Female Infertility

बांझपन (Female Infertility) से छुटकारा पाने के उपयोगी घरेलू नुस्ख़े:
* 50 ग्राम गुलकंद में 20 ग्राम सौंफ़ मिलाकर चबाकर खाएंं और ऊपर से 1 गिलास दूध नियमित रूप से पीएं. इससे बांझपन से मुक्ति मिलेगी.
* पलाश का एक पत्ता गाय के दूध में औटाएं और उसे छान कर पीएं. मासिक धर्म के बाद से शुरू करके यह प्रयोग 7 दिनों तक करना चाहिए.
* 5 ग्राम की मात्रा में त्रिफलाघृत सुबह-शाम सेवन करने से गर्भाशय की शुद्धि होती है जिससे स्त्री गर्भधारण करने योग्य हो जाती है.
* मासिक धर्म की शुद्धि के बाद से 1 हफ़्ते तक 2 ग्राम नागकेशर के चूर्ण को दूध से साथ सेवन करना चाहिए.
* पीपल के सूखे फलों का चूर्ण बनाकर रख लें. मासिक धर्म के बाद 5-10 ग्राम चूर्ण खाकर ऊपर से कच्चा दूध पीएं. यह प्रयोग नियमित रूप से 14 दिन तक करें.
* सेमर की जड़ को पीसकर 250 ग्राम पानी में पकाएं और फिर छान लें. मासिक धर्म के बाद चार दिन तक इसका सेवन करें.
* गुप्तांगों की साफ़-सफ़ाई पर ध्यान दें और खाने में जौ, शालि चावल, मूंग का यूष, घी, करेला, सहिजन, परवल, मूली, तिल का तेल आदि ज़रूर शामिल करें.

यह भी पढ़ें: व्हाइट डिस्चार्ज (श्‍वेत प्रदर) की समस्या के 5 आसान घरेलू उपाय

 

बांझपन (Female Infertility) से छुटकारा पाने के 5 चमत्कारी घरेलू उपाय जानने के लिए देखें ये वीडियो: